Since: 23-09-2009

Latest News :
47वें चीफ जस्टिस बने जस्टिस बोबडे.   राफेल पर राहुल के खिलाफ बीजेपी का प्रदर्शन.   दाऊद इब्राहिम दो सम्बन्ध सुधार लो.   कश्मीर मुद्दे पर यूनेस्को में पाक को करारा जवाब.   चीन में दिखी इंसानी चेहरे वाली मछली.   सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में दो आतंकी किए ढेर.   बालक छत्रावास की बड़ी लापरवाही आई सामने.   शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने ऐप का होगा इस्तेमाल.   ट्राले से टकराई कार,हादसे में 5 की मौत.   पुलिस ने नहीं की महिला की सुनवाई.   राहुल गाँधी के खिलाफ बीजेपी सड़क पर.   ट्रैफिक कंट्रोल का शुभी जैन का अपना अंदाज.   महिला कमांडोज में ढहाया नक्सली स्मारक.   अभिनेत्री माया साहू पर एसिड अटैक.   पुलिस कैंप खुलने का ग्रामीणों ने किया विरोध.   तस्करों से दो दुर्लभ पैंगोलिन जब्त,एक की मौत.   दस नक्सलवादियों ने किया आत्मसमर्पण.   किसानों के समर्थन में कांग्रेसियों का प्रदर्शन.  
कैलाश विजयवर्गीय 25 को हाजिर हों
kaelash vijayvargiy

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और महू विधायक कैलाश विजयवर्गीय को  हाई कोर्ट में उपस्थित होकर चुनाव याचिका में बयान देना थे, लेकिन वे नहीं आए। उनकी ओर से आवेदन देकर कहा गया कि उन्हें संसद सत्र में शामिल होना है इसलिए एक महीने का समय दिया जाए। आवेदन खारिज करते हुए कोर्ट ने आदेश दिया कि वे 25 नवंबर को अनिवार्य रूप से कोर्ट के समक्ष उपस्थित होकर बयान दर्ज कराएं। ऐसा नहीं किया तो कोर्ट उनका सुनवाई का अधिकार समाप्त कर सकती है।

विजयवर्गीय के खिलाफ यह चुनाव याचिका अंतरसिंह दरबार ने दायर की है। उनकी ओर से पैरवी एडवोकेट रविंद्रसिंह छाबड़ा और विभोर खंडेलवाल कर रहे हैं। याचिका में याचिकाकर्ता की ओर से गवाही पूरी हो चुकी है। अब विजयवर्गीय के बयान होना है। पिछली सुनवाई पर भी वे अनुपस्थित रहे थे। याचिका में विजयवर्गीय पर आरोप लगाए हैं कि उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान आचार संहिता का उलंघन किया है। उनका निर्वाचन शून्य घोषित किया जाए। याचिकाकर्ता ने अपने समर्थन में दो दर्जन से ज्यादा गवाहों के बयान दर्ज कराए हैं।

पिछली सुनवाई पर विजयवर्गीय ने आवेदन देकर दो महीने का समय मांगा था। कहा था कि यूपी चुनाव में व्यस्त रहेंगे कि वजह से वे कोर्ट में उपस्थित नहीं हो सकेंगे। कोर्ट ने आवेदन खारिज करते हुए गुरुवार की सुनवाई तय की थी।

विजयवर्गीय ने गुरुवार आवेदन देकर संसद सत्र में शामिल होने के नाम पर एक महीने का समय मांगा था। याचिकाकर्ता के वकील ने इसका विरोध किया और कहा कि दोनों आवेदन में विरोधाभासी बातें हैं। कभी चुनाव में व्यस्तता के नाम पर तो कभी संसद सत्र में शामिल होने के नाम पर समय मांगा जा रहा है। कोर्ट ने विजयवर्गीय को 25 नवंबर को अनिवार्य रूप से उपस्थित होने के आदेश दिए।

विजयवर्गीय के अनुपस्थिति रहने की वजह से कोर्ट अगली सुनवाई पर उनकी ओर से साक्ष्य समाप्त कर सकती है। ऐसा होता है तो विजयवर्गीय इस आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जा सकते हैं। ऐसी स्थिति में चुनाव याचिका की सुनवाई लंबित होगी और इसका फायदा विजयवर्गीय को मिलेगा।

 

MadhyaBharat 18 November 2016

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 1567
  • Last 7 days : 29428
  • Last 30 days : 109017


All Rights Reserved ©2019 MadhyaBharat News.