Since: 23-09-2009

  Latest News :
कर्नाटक विधानसभा उपचुनाव के नतीजे घोषित.   हैण्डलूम एक्सपोर्ट कार्पोरेशन ने भुगतान रोका.   यूपी में 218 फास्ट ट्रैक कोर्ट को मंजूरी.   पीड़ित परिवार को मिले 25 लाख, बहन को नौकरी.   दुष्कर्मियों को तेलंगाना के मंत्री की चेतावनी.   एनकाउंटर से हुई पुलिस की कॉलर ऊंची.   धरने पर बैठे पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान.   नवविवाहिता को जलाकर मारने के आरोपी फरार .   प्रशासन ने तोड़ा विवादों में रहा पत्रकार भवन.   सजा देने में मध्यप्रदेश देश में आगे.   आरक्षण के खिलाफ सपाक्स ने किया बंद.   जीतू सोनी के एक और बंगले पर तोड़फोड़.   युवक ने किया सरेआम महिला पर हँसिये से हमला.   दुष्कर्मी को पीटने कोर्ट परिसर में दौड़ीं महिलाएं.   ITBP जवान ने साथी पर की फायरिंग 6 की मौत.   नक्सली DKMS अध्यक्ष सन्ना हेमला हुआ सरेंडर.   मनोज मंडावी विधानसभा उपाध्यक्ष निर्वाचित.   गांजे की तस्करी का अनोखा तरीका.  
डकैती में शामिल आईपीएस देवांगन को नौकरी से निकाला
ips rajkumar devangan

 

19 साल पहले बाराद्वार डकैती कांड में संलिप्त रहने के आरोप में भारतीय पुलिस सेवा 1992 बैच के अधिकारी राजकुमार देवांगन को बुधवार को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी गई। उनसे 11 साल 6 महीने 13 दिन पहले नौकरी छीन ली गई। किसी दागी आईपीएस पर देश की यह सबसे बड़ी कार्रवाई बताई जा रही है। गृह विभाग के प्रमुख सचिव बीवीआर सुब्रमण्यम ने केंद्रीय गृह मंत्रालय के आदेश के बाद यह कार्रवाई की।

आईजी होमगार्ड देवांगन के केस की विभागीय जांच डीजी होमगार्ड गिरधारी नायक कर रहे थे। हाल ही में नायक ने जांच रिपोर्ट केंद्रीय गृह मंत्रालय को सौंपी थी। 1998 में अविभाजित मध्यप्रदेश के बाराद्वार (जांजगीर) में 65 लाख रुपए की डकैती हुई। शिक्षकों के वेतन की रकम हेडमास्टर से रास्ते में कुछ लोगों ने लूट ली। इसमें से कुछ पैसा बाराद्वार के थानेदार नरेंद्र मिश्रा के घर से बरामद हुआ।

मिश्रा कुछ महीने जेल में रहे तो उन्होंने एसपी देवांगन पर भी डकैती में संलिप्त होने का इशारा किया। इसके बाद सरकार ने देवांगन को सस्पेंड कर दिया। महकमे ने 14 साल बाद 2012 में चार्जशीट इश्यू की। देवांगन के जवाब से संतुष्ट न होने पर सरकार ने विभागीय जांच की अनुशंसा की। उन्हें पुलिस मुख्यालय से हटाकर आईजी होमगार्ड नियुक्त किया गया था।

पीएचक्यू के आला अधिकारियों के मुताबिक देवांगन पर यूएन मिशन में पदस्थापना के दौरान देश की छवि खराब करने का मामला भी था। आरोप था कि शांति सेना में कोसोवो-बोस्निया में उन्होंने आर्थिक अनियमितता की। वे तय समय-सीमा से ज्यादा रुके। लाखों रु. के आईएसडी कॉल किए और जब लौटे तो संस्थान का कुछ सामान भी साथ ले आए। शिकायत मिलने पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने देवांगन के कार्यकाल की जांच करवाई।

सुब्रमण्यम ने बताया कि देवांगन को ऑल इंडिया सर्विस डेट कम रिटायरमेंट बेनिफिट (डीसीआरबी) 1958 के नियम 16(3) के प्रावधानों के तहत जनहित में सेवानिवृत्ति दी है। राज्य सरकार ने इसका आदेश बुध्ावार को जारी कर दिया। डीसीआरबी के तहत हुई कार्रवाई में देवांगन पेंशन और अन्य सुविधाओं के हकदार नहीं रहेंगे। केंद्र के आदेशानुसार देवांगन को 3 महीने का वेतन भत्ता दिया जाएगा।

7 जनवरी को आईपीएस की डीपीसी में राज्य सरकार ने देवांगन की बैच के दो अफसरों पवनदेव और अरुणदेव गौतम को पदोन्न्त कर एडीजी बनाया है। डकैती प्रकरण के चलते देवांगन का प्रमोशन रोका गया था।

डीजी जेल और डकैती कांड के जांच अधिकारी गिरधारी नायक ने कहा बाराद्वार डकैती की जांच दो साल पहले मुझे मिली थी, अभी यह पूरी नहीं हुई है अंतिम गवाह का बयान दर्ज करना बाकी है। मुझे नहीं पता केंद्र सरकार ने देवांगन को किस प्रकरण में नौकरी से निकाला है।

 

MadhyaBharat 12 January 2017

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 5754
  • Last 7 days : 42782
  • Last 30 days : 128061


All Rights Reserved ©2019 MadhyaBharat News.