Since: 23-09-2009

  Latest News :
डकैत बबुली को पुलिस ने नहीं उसके साथी ने ही मारा.   लड़ाकू विमान तेजस में उड़े रक्षामंत्री राजनाथ सिंह.   अयोध्या मसले पर 18 अक्टूबर तक पूरी हो सुनवाई.   क्या अब मुख्यमंत्री कमलनाथ जायेंगे जेल.   बालाकोट में सीजफायर का किया उल्लंघन.   अठावले की पकिस्तान को नसीहत .   मंत्री श्री शर्मा ने सफाई दिवस पर लगाई झाड़ू.   संत हिरदाराम जी की कुटिया में जनसंपर्क मंत्री श्री शर्मा ने लिया आशीर्वाद.   मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ द्वारा जबलपुर में पोषण आहार प्रदर्शनी का अवलोकन.   प्रदेश में चिकित्सा क्षेत्र में उच्च-स्तरीय सुविधाएँ विकसित की जाएंगी.   भाजपा ने दिया कांग्रेस भगाओ प्रदेश बचाओ का नारा.   शिक्षिकाओ ने DPC के खिलाफ थाने में दर्ज कराई शिकायत.   छत्तीसगढ़ के स्कूल शिक्षा मंत्री का बेतुका बयान.   गौठान में गायों की मौत के बाद शुरू हुई सियासत.   युवाओं को नशे से बचाने के लिए अभियान.   केएसके बिजली उत्पादक कंपनी में ताला.   अपनी ही सरकार के खिलाफ उद्योग मंत्री लखमा.   बस्तर मे बाहरी नक्सलियों का जमावाडा.  
तेन्दुए के शिकारी , खाल के साथ पकड़े गए
तेन्दुए के शिकारी

वन विभाग की टाइगर स्ट्राइक फोर्स ने देवास जिले के कुसमानिया गाँव से तेन्दुए की खाल के साथ दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। विभाग को मिली सूचना के आधार पर होशंगाबाद और इंदौर की क्षेत्रीय स्ट्राइक फोर्स ने संयुक्त रूप से कार्यवाही करते हुए खाल के साथ आरोपी हरिओम तंवर और जीवन आदिवासी को गिरफ्तार किया। एक आरोपी फरार है जिसकी तलाश जारी है।

वन्य-प्राणी अपराध की जानकारी इन नम्बरों पर दें

प्रधान प्रमुख वन संरक्षक (वन्य-प्राणी) श्री जितेन्द्र अग्रवाल ने लोगों से अपील की है कि यदि उन्हें किसी प्रकार के वन्य-प्राणी अपराध की जानकारी मिलती है, तो कृपया अविलम्ब दूरभाष क्रमांक- 9424792414, 9424792115, 9424792324 और 9424797031 से 41 तक किसी एक नम्बर पर सूचना दें।

प्रदेश में वन्य-प्राणी अपराध पर नियंत्रण रखने के लिये भोपाल में एक राज्य स्तरीय टाइगर स्ट्राइक फोर्स और होशंगाबाद, इंदौर, सागर, जबलपुर तथा सतना में 5 क्षेत्रीय स्ट्राइक फोर्स कार्यरत हैं। विगत वर्षों में इन दलों ने प्रदेश और देश के कई राज्यों में जाकर अन्तर्राष्ट्रीय-राष्ट्रीय स्तर के तस्करों को गिरफ्तार करने के साथ उनके नेटवर्क को नष्ट करने में अभूतपूर्व सफलता प्राप्त की है। अब इस दल के पास वन्य-प्राणी अपराध से संबंधित गुप्त सूचनाएँ प्राप्त होती रहती हैं जिनकी पुष्टि के बाद ये छापामार कर कार्यवाही करते हैं।

 

MadhyaBharat 7 April 2017

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 4610
  • Last 7 days : 21056
  • Last 30 days : 91930


All Rights Reserved ©2019 MadhyaBharat News.