Since: 23-09-2009

  Latest News :
उपराष्ट्रपति ने खारिज किया CJI के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव.   राजस्थान भाजपा के 500 से ज्यादा कार्यकर्ता शामिल थे भारत बंद में .   मैं 15 मिनट बोला तो पीएम संसद में खड़े नहीं हो पाएंगेः राहुल गांधी.   एटीएम खाली , सरकार बयान - नकदी की कोई कमी नहीं.   कठुआ रेप मर्डर केस: सुप्रीम कोर्ट का जम्मू-कश्मीर सरकार को नोटिस.   PM मोदी बोले -उन्नाव-कठुआ रेप घटनाओं से पूरा देश शर्मशार .   लोकसभा अध्यक्ष बोलीं -महिलाओं के विरुद्ध अपराधों को रोकने के लिये सभी समाज एकजुट हों .   सभी समुदाय युवाओं को कैरियर और शिक्षा संबंधी परामर्श दें :मुख्यमंत्री चौहान.   भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष बने राकेश .   कई बड़े लोग जाति के नाम पर झगड़ा करवाना चाहते हैं : सीएम शिवराज.   सिंधिया ने की विभागीय कार्यों की समीक्षा.   किसानों ने भी नहीं सोचा, वह भी सरकार ने किया और करेगी:शिवराज.   मारे गए 16 नक्सलियों में से 10 की पहचान हुई.   पोलावरम बांध से घट जाएगा छत्तीसगढ़ का क्षेत्रफल.   सिम्स से MBBS छात्रा तीन दिन से लापता.   ट्रेन की चपेट में आए चार हाथियों की मौत.   बस्तर में मोदी करेंगे सौगातों की बारिश.   फैकल्टी की कमी से जगदलपुर मेडिकल कॉलेज की मान्यता को खतरा.  

देश की खबरें

मध्यप्रदेश की खबरें

छत्तीसगढ़ की खबरें

बैलेंस और पेनाल्टी घटा सकता है एसबीआई
sbi

 

देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक ने कहा है कि वह बचत खाते में मिनिमम बैलेंस की राशि और इस नियम के उल्लंघन पर लगने वाली पेनाल्टी में संशोधन करने के बारे में विचार कर रहा है। खाते में न्यूनतम मासिक औसत बैलेंस कम होने पर ग्राहकों पर जुर्माना लगाकर 1771 करोड़ रुपये की कमाई करने की चौतरफा आलोचना होने के कारण बैंक इस नियम में संशोधन करने को मजबूर हुआ है।

भारतीय स्टेट बैंक के बचत खाताधारकों की संख्या करीब 40 करोड़ है। उसने अप्रैल 2017 में मिनिमम मासिक बैलेंस चार्ज पांच साल के बाद दुबारा लगाया था। बैंक ने शहरों की शाखाओं में बैंक खाते में 5000 रुपये और ग्रामीण क्षेत्रों में 1000 रुपये न्यूनतम बैलेंस का नियम लागू किया था। खाते में राशि कम होने पर बैंक चार्ज लगाता है। वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक इस नियम को लागू करने से बैंक ने अप्रैल से नवंबर के बीच 1771.67 करोड़ रुपये की कमाई की जो उसके दूसरी तिमाही के शुद्ध मुनाफे से भी ज्यादा है।

बैंक के मैनेजिंग डायरेक्टर (रिटेल व डिजिटल बैंकिंग) पी. के. गुप्ता ने संवाददाताओं को बताया कि मासिक औसत बैलेंस की समीक्षा हमारे लिए निरंतर प्रक्रिया है। अप्रैल में हमने इसे लागू किया था। इसके बाद अक्टूबर में इसमें कुछ कमी की गई थी। हम इसकी दुबारा समीक्षा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ग्राहकों और आम लोगों से मिले फीडबैक के आधार पर बैंक न्यूनतम बैलेंस और उस पर लगने वाली पेनाल्टी की विस्तृत समीक्षा कर रहा है। जल्दी ही हम इसकी घोषणा करेंगे। इस समय शहरों में न्यूनतम बैलेंस 3000 रुपये है। बैलेंस कम होने पर पेनाल्टी 30 से 50 रुपये (कर अतिरिक्त) लगती है। अर्धशहरी क्षेत्रों के लिए 2000 रुपये और ग्र्रामीण क्षेत्र की शाखाओं के लिए 1000 रुपये न्यूनतम बैलेंस है और इस पर जुर्माना 20 से 40 रुपये के बीच लगता है। पहले उसने जुर्माना 50 से 100 रुपये से वसूला जा रहा था। अक्टूबर में बैलेंस और जुर्माने में कटौती की गई थी।

न्यूनतम बैलेंस और इस पर जुर्माने का बचाव करते हुए बैंक ने कहा था कि उसे शहरों में 3000 रुपये मासिक बैलेंस रहने पर हर महीने सिर्फ छह रुपये और गांवों में 1000 रुपये बैलेंस रहने पर सिर्फ दो रुपये की आय होती है। यह राशि उसके द्वारा दी जा रही सेवाओं की लागत की तुलना में बहुत कम है।

 

 

MadhyaBharat 6 January 2018

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 2842
  • Last 7 days : 18353
  • Last 30 days : 71082

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

All Rights Reserved ©2018 MadhyaBharat News.