Since: 23-09-2009

  Latest News :
भारतीय चौकियों पर पाक की गोलियां, जवान समेत 3 की मौत.   मध्यप्रदेश की नई राज्यपाल होंगी आनंदीबेन पटेल.   रो रो कर बोले तोगड़िया मेरी आवाज दबाने की साजिश .   राहुल अपने संसदीय क्षेत्र के विकास पर ध्यान दें : योगी.   पद्मावत देखने यूपी जाइए.   CJI से मिले पीएम के प्रमुख सचिव.   नगरीय निकाय चुनाव में बीजेपी कांग्रेस में हुआ कड़ा मुकाबला .   आईपीएस सर्विस मीट की रंगारंग सांस्कृतिक संध्या.   पुलिस जनसेवा के लिये है :शिवराज .   मुख्यमंत्री चौहान से निवेशकों की मुलाकात.   सपना चौधरी के शो में पथराव.   डॉ. मिश्र मिले जर्नलिस्ट यूनियन के पदाधिकारी.   बच्ची को नोंचकर मार डाला कुत्तों ने .   तुमला में हाथी का उत्पात .   विश्व को भारत पर भरोसा : मोहन भागवत.   आदिवासियों ने कहा नेता हाजिर हों .   रायपुर में हो रेलवे क्लेम ट्रिब्यूनल का गठन.   प्लास्टिक फैक्टरी में भीषण आग.  

देश की खबरें

मध्यप्रदेश की खबरें

छत्तीसगढ़ की खबरें

CJI से मिले पीएम के प्रमुख सचिव
CJI से मिले पीएम के प्रमुख सचिव

 

सुप्रीम कोर्ट के चार जजों द्वारा फ्रेस कॉन्फ्रेस कर न्यायपालिका की स्थिति को लेकर उठाए गए सवालों के बाद अब इस मुद्दे को सुलझाने की कोशिशें तेज हो गई हैं। खबरों के अनुसार पीएम मोदी के प्रमुख सचिव ने चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा से उनके आवास पर मुलाकात की है वहीं बार एसोसिएशन ने भी बैठक बुलाई है।

खबरों के अनुसार एसोसिएशन इस प्रेस कॉन्फ्रेंस को लेकर बैठक करेगा और इसके बाद मीडिया को संबोधित भी किया जा सकता है। वहीं चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा भी सुप्रीम कोर्ट के जजों से मुलाकात कर अपना पक्ष रख सकते हैं। माना जा रहा है कि आज की इन कवायदों के बाद विवाद सुलझ सकता है।

जजों के मतभेद का मामला जल्‍द सुलझ जाएगा: अटॉर्नी जनरल

अटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल ने समाचार एजेंसी को बताया कि सुप्रीम कोर्ट के जजों से जुड़ा मामला कल सुलझा लिया जाएगा। उन्होंने कहा, 'आज की प्रेस कांफ्रेस को टाला जा सकता था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के सभी जजों के पास अपार अनुभव और जानकारी है। मुझे पूरा यकीन है की इस पूरे मसले को कल सुलझा लिया जाएगा।'

बता दें कि एक अभूतपूर्व घटना में शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ न्यायाधीशों ने मुख्य न्यायाधीश (सीजेआइ) दीपक मिश्रा के खिलाफ सार्वजनिक मोर्चा खोल दिया। आगाह किया कि संस्थान में सब कुछ ठीक नहीं है। स्थिति नहीं बदली तो संस्थान के साथ साथ लोकतंत्र भी खतरे में है। मीडिया के सामने आने के न्यायाधीशों के चौंकाने वाले फैसले ने न सिर्फ आंतरिक कलह को खोलकर सामने रख दिया है, बल्कि कानूनविदों को भी खेमे में बांट दिया।

MadhyaBharat 13 January 2018

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 2842
  • Last 7 days : 18353
  • Last 30 days : 71082

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

All Rights Reserved ©2018 MadhyaBharat News.