Since: 23-09-2009

  Latest News :
राघव दुबे ने पाया 10वां स्थान.   अनुशासन में रहकर काम करेंगी साध्वी पीएम मोदी को बताया किसान हितैषी.   दो भारतीयों गेंदबाजों को पीछे छोड़ा, मलिंगा टॉप 5 गेंदबाजों में शामिल.   मानसून का इंतजार केरल में देरी .   दिल्ली की महिलाओं को केजरीवाल का तोहफा .   कई शहरों में तेज आंधी, बारिश के साथ ओले गिरे .   व्यापम में आठ मामलों की जांच फिर से .   रमजान पर निकाली गई सबसे छोटी कुरान .   मंत्री बोले फॉल्ट के कारण गुल हो रही है बिजली .   कम्प्यूटर बाबा बोले नर्मदा पर राजनीति न हो .   समय से पहले प्रहलाद पटेल पूरा करेंगे हर काम.   रेत खदान पर छापा, 50 डंपर, दो पोकलेन और एक जेसीबी जब्त.   बुजुर्ग की नसीहत से नाराज ग्रामीण ने कर दी हत्या.   बिजली कटौती के बाद गिरी इंजीनियरों पर गाज.   प्रेमी की लाश मिली नाले में , सामने हैं प्रेमिका का घर .   मुख्य सचिव को रोकना , पड़ा थानेदार को महंगा .   मौसम ने ली करवट, बिलासपुर में बारिश.   सरकारी कर्मचारियों का होगा मुफ्त इलाज.  
खण्डवा मेडिकल कॉलेज का लोकार्पण
khandava

मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना का लाभ अब उन विद्यार्थियों को भी मिलेगा, जिन्होंने सीबीएसई सिलेबस के तहत बारहवीं में 80 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं। खंडवा में  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यह घोषणा करते हुए कहा कि पूर्व में 85 प्रतिशत की सीमा को घटाकर 80 प्रतिशत कर दिया जाएगा। श्री चौहान ने खंडवा में 500 बिस्तर के अत्याधुनिक अस्पताल खोलने की भी घोषणा की। श्री चौहान ने खंडवा में 200 करोड़ रुपए लागत के मेडिकल कॉलेज भवन का लोकार्पण करते हुए कॉलेज में बीएससी नर्सिंग कॉलेज खोलने की घोषणा की।

10 वर्षो में 2500 मेडिकल सीट बढ़ी

खण्डवा में प्रदेश का दसवां मेडिकल कॉलेज आज से प्रारंभ हो गया है। वर्ष 1946 में प्रदेश में पहला मेडिकल कॉलेज ग्वालियर में खुला। वर्ष 1963 तक कुल 5 मेडिकल कॉलेज बड़े शहरों में खोले गये। इसके बाद 45 वर्षों के लंबे अंतराल में कोई भी मेडिकल कॉलेज प्रदेश में नहीं खुला। वर्ष 2009 में सागर में छठवाँ मेडिकल कॉलेज खुला और अब वर्ष 2018 में एक वर्ष में ही 4 नये मेडिकल कॉलेज खण्डवा, विदिशा, दतिया और रतलाम में खोले जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री की जन-स्वास्थ्य के प्रति संवेदना एवं प्रबल संकल्प शक्ति के फलस्वरूप तीन और मेडिकल कॉलेज वर्ष 2019 में सिवनी, छतरपुर तथ सतना में खोलने की स्वीकृति प्रदान की गई हैं।

वर्ष 1946 से 1963 तक एमबीबीएस की मात्र 600 सीटें होती थीं, जो विगत 10 वर्ष में ही बढ़कर 4 गुना से भी अधिक अर्थात् 2500 सीटें हो जायेगी। यही नहीं, इस वर्ष 2018 में एक ही कैलेण्डर वर्ष में 4 नये मेडिकल कॉलेज एक साथ खुलना मध्यप्रदेश के इतिहास में एक स्वर्णिय अध्याय हैं। अब प्रदेश में प्रतिवर्ष 2500 डाक्टर तैयार होंगे।

श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में वर्ष 1964 के बाद से कोई मेडिकल कॉलेज नहीं खोला गया था। सरकार ने आधारभूत संरचना उपलब्ध करवाते हुए नवीन मेडिकल कॉलेज खोले। इससे प्रदेश में डॉक्टरों की कमी दूर होगी। उन्होंने खंडवा मेडिकल कॉलेज के शुभारंभ पर निमाड़वासियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि यह मेडिकल कालेज इस सत्र से प्रारंभ हो गया है।

मुख्यमंत्री ने छात्र सौरभ पटेल और छात्रा प्रीति मिश्रा को मौके पर ही मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना से लाभांवित किया। उन्होंने मेडिकल कॉलेज भवन निर्माण के लिए स्वीकृत 200 करोड़ के अतिरिक्त विभिन्न उपकरणों और आवश्यक सामग्री के लिए 300 करोड़ देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने मेडिकल के सभी नव-प्रवेशित विद्यार्थियों को अपनी ओर से हनुमंतिया टूर करवाने के निर्देश स्थानीय प्रशासन को दिए।

कार्यक्रम में स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. कुंवर विजय शाह, विधायक श्री देवेंद्र वर्मा और सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान ने भी विचार व्यक्त किये। इस मौके पर राज्य सभा सांसद श्री प्रभात झा, विधायक श्रीमती योगिता बोरकर और आयुक्त चिकित्सा शिक्षा श्री शिवशेखर शुक्ला उपस्थित थे।

 

MadhyaBharat 7 September 2018

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 2183
  • Last 7 days : 12598
  • Last 30 days : 39041


All Rights Reserved ©2019 MadhyaBharat News.