Since: 23-09-2009

  Latest News :
PM मोदी ने छत्तीसगढ़ पुलिस ऑनलाइन व्यवस्था की प्रशंसा की.   कंगना:निर्भया के दरिंदों को चौराहे पर फांसी दी जाए.   मोदी सरकार को बजट से पहले एक और झटका .   CAA पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट का इंकार.   हत्या कर महिला और पुरुष को घर में जलाया.   CAA पर अब कांग्रेस में मचा घमासान.   कलेक्टर पर टिप्पणी को लेकर कर्मचारी संघ हड़ताल पर.   पुलिस ने चलाया अवैध शराब कारोबार के विरुद्ध अभियान.   बंदूक के साये में हो रही बिजली बिल की वसूली.   ऐंटी माफिया अभियान के तहत दो जगहों पर कारवाई.   सत्ता के नशे में चूर मंत्री कमलेश्वर पटेल.   पानी की टंकी पर चढ़ा छात्र.   उद्योगपति प्रवीण सोमानी को छुड़ाया गया.   मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई बजट पर बैठक.   छात्रों को पीएम का संबोधन लाइव दिखाया गाया.   मकान से जिंदा कारतूस और मैगजीन मिले.   मंत्री की चापलूसी में प्रशासन ने की सारी हदें पार .   नगर पालिका अध्यक्ष के पद ग्रहण कार्यक्रम मे हंगामा.  
3 महीने में धंसने लगी फ्लाय ओवर की दीवार

घटिया निर्माण का जीता जगता सबूत है ब्रिज 

 

नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया के अधिकारियों और निर्माण कंपनी की मिलीभगत के चलते सात महीने पहले बनकर तैयार हुए भोपाल  के सिंगारचोली  फ्लायओवर ब्रिज की हालत पहली बारिश में ही जर्जर सी हो गई है  लालघाटी से एयरपोर्ट जाने वाली लेन के हिस्से में फ्लायओवर की सड़क धंसने लगी है, ब्रिज में पानी के कारण सीट ने मटेरियल को छोड़ दिया है  जिससे इसकी प्रीकास्टेड वाली फट रही है  

बीते तीन  दिनों से हो रही तेज बारिश के चलते सिंगारचोली ब्रिज पर पानी भर गया था   ब्रिज के नीचे सर्विस लेन भी पानी में डूबी रही   रहवासियों ने जब ब्रिज के आसपास पड़ताल की तो ब्रिज के कई हिस्सों से पानी का रिसाव मिला   लोगों ने देखा की  ब्रिज की प्रिकास्टेड वाल टूटने की कगार पर पहुंच गई  तब  इसकी जानकारी एन एच ए आई के अधिकारियों को दी तो उन्होंने ब्रिज से तत्काल यातायात बंद कराया  बड़े हादसे की आशंका को देखते हुए अधिकारीयों ने यह कदम उठाया   स्थानीय लोगों का आरोप है कि शिकायतों के बावजूद ब्रिज के निर्माण में हो रहे भ्रष्टाचार पर ध्यान नहीं दिया गया, इससे अब लोगों की जान पर बन आई है   ब्रिज निर्माण की घटिया गुणवत्ता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि गीला होने के बाद सीमेंट व मटेरियल हाथ लगाने से झड़ रहा है   यही कारण है कि पत्थर की सिल्लियों के जोड़ सिर्फ दो दिनों की बारिश में ही ढीले हो गए  ब्रिज निर्माण में लापरवाही का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि बेस के मटेरियल को सेट करने के लिए लोहे की जिन सेंटिंग को लगाया गया था उन्हें अब तक नहीं निकाला गया  ब्रिज के नीचे निकलने वाले रास्ते के ठीक ऊपर यह सेंटिंग लगी हुई थी  लेक पर्ल गार्डन से एयरपोर्ट की ओर ब्रिज का हिस्सा कई जगह से टूटा दिखाई दिया  ब्रिज के दोनों ही ओर की दीवारों के टुकड़े गिर गए हैं  राष्ट्रीय राजमार्ग 12 पर बने इस फ्लायओवर से रोजाना करीब 1 लाख वाहन गुजरते हैं  इसके आसपास 20 कॉलोनियों में डेढ़ लाख से अधिक लोग भी रहते हैं  

 

MadhyaBharat 31 July 2019

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 4700
  • Last 7 days : 27162
  • Last 30 days : 136738


All Rights Reserved ©2020 MadhyaBharat News.