Since: 23-09-2009

  Latest News :
प्रदूषण के मुद्दे पर लोकसभा में हुआ हंगामा .   संसद में गूंजा बिलासपुर हवाई सेवा का मुद्दा.   47वें चीफ जस्टिस बने जस्टिस बोबडे.   राफेल पर राहुल के खिलाफ बीजेपी का प्रदर्शन.   दाऊद इब्राहिम दो सम्बन्ध सुधार लो.   कश्मीर मुद्दे पर यूनेस्को में पाक को करारा जवाब.   भोपाल के पास नूरगंज में 2 महीने में 11 मौत.   जनसुनवाई के दौरान युवक ने खुद को लगाई आग.   महुआ का पेड़ बना पुलिस प्रशासन की गले की हड्डी.   पार्किंग कर्मचारियों पर चाकू से हमला.   ये एसएसपी तो गाना भी गाती हैं .   बालक छत्रावास की बड़ी लापरवाही आई सामने.   महिला कमांडोज में ढहाया नक्सली स्मारक.   अभिनेत्री माया साहू पर एसिड अटैक.   पुलिस कैंप खुलने का ग्रामीणों ने किया विरोध.   तस्करों से दो दुर्लभ पैंगोलिन जब्त,एक की मौत.   दस नक्सलवादियों ने किया आत्मसमर्पण.   किसानों के समर्थन में कांग्रेसियों का प्रदर्शन.  
कांग्रेस ने बोला केंद्र सरकार पर हमला

देश को इकोनॉमिक इमरजेंसी में धकेला

 

रिजर्व बैंक द्वारा सरकार को भारी सरप्लस राशि देने के निर्णय की तीखी आलोचना करते हुए कांग्रेस ने कहा कि मोदी सरकार ने देश को आर्थिक आपातकाल में धकेल दिया है |  कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा कि सरकार के दबाव में रिजर्व बैंक ने अपनी सीमा क्रॉस की है और इसका परिणाम भयावह हो सकता है. |  कांग्रेस ने अर्थव्यवस्था के हालात पर एक हफ्ते के भीतर श्वेतपत्र लाने की मांग की है |  

आर्थिक मोर्चे पर मोदी सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस ने तैयारी शुरू कर दी है | आनंद शर्मा ने कहा, 'रिजर्व बैंक के समूचे सरप्लस को एक बार में ही सरकार को देने का निर्णय लिया गया है |   इसमें पिछले एक साल की रिजर्व बैंक की आय भी शामिल है |   बेरोजगारी चरम पर है |   देश का निर्यात पांच साल पहले के स्तर पर है, सरकार के पास निवेश करने को पैसा नहीं, बैंकों के पास कर्ज देने को रकम नहीं |   ऐसे में रिजर्व बैंक ने ऐसा निर्णय लिया जो खतरे की घंटी है |  रिजर्व बैंक के बोर्ड ने सरकार के दबाव में यह निर्णय लिया है | कांग्रेस ने आर्थिक हालातों पर श्वेतपत्र लाने की मांग की है  | 

आनंद शर्मा ने कहा कि रिजर्व बैंक ने कॉन्टिजेंसी फंड की सीमा में बदलाव करने का निर्णय लिया है |  ये आपातकाल के लिए था, जब 2008 में मंदी आई थी तो हमारे पास इस तरह का पर्याप्त फंड होने से देश को संभाला जा सका था |   उन्होंने कहा, 'तमाम कमेटियों ने पहले कॉन्टिजेंसी फंड 8 से 12 फीसदी रखने को कहा था, लेकिन रिजर्व बैंक ने इसे घटाकर 6.4 फीसदी तक कर दिया था. अब इसे घटाकर 5.5 फीसदी कर दिया गया है|   इसे डेंजर मार्क से नीचे लाया गया है | उन्होंने कहा, 'रघुराम राजन सहित सहित सभी पूर्व गवर्नर ने इसका विरोध किया था |   डॉ. सुब्बाराव, डॉ. रेड्डी, डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने इसको विनाशकारी बताया था |   दुनिया में जब कोई बहुत बड़ा संकट आता है, तब ऐसा किया जाता है, अर्जेंटीना ने हाल में ऐसा किया था तो वहां की अर्थव्यवस्था तबाह हो गई |  इस निर्णय के विनाशकारी प्रभाव होंगे  | 

 

MadhyaBharat 27 August 2019

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 1567
  • Last 7 days : 29428
  • Last 30 days : 109017


All Rights Reserved ©2019 MadhyaBharat News.