Since: 23-09-2009

Latest News :
संसद में गूंजा बिलासपुर हवाई सेवा का मुद्दा.   47वें चीफ जस्टिस बने जस्टिस बोबडे.   राफेल पर राहुल के खिलाफ बीजेपी का प्रदर्शन.   दाऊद इब्राहिम दो सम्बन्ध सुधार लो.   कश्मीर मुद्दे पर यूनेस्को में पाक को करारा जवाब.   चीन में दिखी इंसानी चेहरे वाली मछली.   पार्किंग कर्मचारियों पर चाकू से हमला.   ये एसएसपी तो गाना भी गाती हैं .   बालक छत्रावास की बड़ी लापरवाही आई सामने.   शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने ऐप का होगा इस्तेमाल.   ट्राले से टकराई कार,हादसे में 5 की मौत.   पुलिस ने नहीं की महिला की सुनवाई.   महिला कमांडोज में ढहाया नक्सली स्मारक.   अभिनेत्री माया साहू पर एसिड अटैक.   पुलिस कैंप खुलने का ग्रामीणों ने किया विरोध.   तस्करों से दो दुर्लभ पैंगोलिन जब्त,एक की मौत.   दस नक्सलवादियों ने किया आत्मसमर्पण.   किसानों के समर्थन में कांग्रेसियों का प्रदर्शन.  
अंतर्राष्‍ट्रीय बाजार में भारतीय बॉस्केट के कच्चे तेल की कीमत घटी
अंतर्राष्‍ट्रीय बाजार में भारतीय बॉस्केट के कच्चे तेल की कीमत घटी
पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के अंतर्गत पेट्रोलियम नियोजन और विश्‍लेषण प्रकोष्‍ठ (पीपीएसी) द्वारा आज संगणित/प्रकाशित सूचना के अनुसार भारतीय बॉस्‍केट के लिए कच्‍चे तेल की अंतर्राष्‍ट्रीय कीमत 01.07.2014 को मामूली घटकर 109.55 अमरीकी डॉलर प्रति बैरल हो गई। यह पिछले कारोबारी दिवस 30.06.2014 की कीमत 109.75 अमरीकी डॉलर प्रति बैरल से कम है। रुपये के संदर्भ में कच्‍चे तेल की कीमत 01.07.2014 को घटकर 6588.34 रुपये प्रति बैरल हो गई, जबकि 30.06.2014 को यह 6594.88 रुपये प्रति बैरल थी। रुपया 30.06.2014 के 60.09 रुपये प्रति अमरीकी डॉलर की तुलना में 01.07.2014 को कमजोर होकर 60.14 रुपये प्रति अमरीकी डॉलर पर बंद हुआ। भारत मर्राकेश समझौते को समर्थन देने वाला पहला देश बना नेत्रहीनों, दृष्टि बाधित व्यक्तियों के लिए प्रकाशित पुस्तकों/कार्यों तक पहुंच सुलभ कराने में मदद से जुड़े मर्राकेश समझौते को समर्थन देने वाला पहला देश बन गया है। अभी तक विश्व बौद्धिक संपदा संगठन (डब्ल्यूआईपीओ) के 79 सदस्य देशों ने इस समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। 20 देशों द्वारा इस समझौते को समर्थन दिए जाने के बाद मर्राकेश समझौता लागू हो जाएगा। संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत के स्थायी प्रतिनिधि श्री दिलीप सिन्हा ने डब्ल्यूआईपीओ के मुख्यालय में एससीसीआर (कॉपीराइट एवं संबंधित अधिकारों पर स्थायी समिति) के 28वें सत्र के दौरान आयोजित एक समारोह में डब्ल्यूआईपीओ के महानिदेशक श्री फ्रांसिस गुर्रे को समर्थन पत्र सुपुर्द किया। मार्क्‍समैनशिप प्रशिक्षण प्रणाली भारतीय सेना में शामिल सीएसआईआर- नेशनल ऐरो स्‍पेस लेबोरेट्रीज (सीएसआईआर-एनएएल), बेंगलुरू द्वारा गोली के प्रभाव की सटीक स्थिति का पता लगाने के लिए तथा वास्‍तविक समय फीडबैक देने के द़ृष्टिगत सुनिश्चित मार्क्‍समैनशिप दक्षता के लिए विकसित की गई ध्‍वनि (पहचान एवं अकाष्टिक एन-वेब पहचान) नामक स्‍टेट ऑफ दी आर्ट टार्गेट प्रशिक्षण प्रणाली को भारतीय सेना में शामिल किए जाने की वैधता एवं इसका अनुमोदन कर दिया गया है। बेंगलुरू, सिकंदराबाद तथा इन्‍फैंट्री स्कूल, महू में सेना की रेंजों में कड़े क्षेत्रीय परीक्षणों के उपरांत इस ध्‍वनि प्रणाली को भारतीय सेना को औपचारिक रूप से सौंप दिया गया है ।
MadhyaBharat

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 1567
  • Last 7 days : 29428
  • Last 30 days : 109017
All Rights Reserved ©2019 MadhyaBharat News.