Since: 23-09-2009

  Latest News :
राफेल पर राहुल के खिलाफ बीजेपी का प्रदर्शन.   दाऊद इब्राहिम दो सम्बन्ध सुधार लो.   कश्मीर मुद्दे पर यूनेस्को में पाक को करारा जवाब.   चीन में दिखी इंसानी चेहरे वाली मछली.   सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में दो आतंकी किए ढेर.   पूर्व चुनाव आयुक्त टीएन शेषन का निधन.   जो काम पीएम मोदी नहीं कर पाए वो सुप्रीम कोर्ट ने किया.   अंतरराष्ट्रीय मधुमेह दिवस पर योग शिविर.   पौधारोपण में हुआ है व्यापक घोटाला.   गोडसे को किया हिन्दूमहासभा ने नमन.   बस हादसा 4 की मौत, दो दर्जन से अधिक घायल.   कमलनाथ के राज में गाना गाते नेताजी.   पुलिस कैंप खुलने का ग्रामीणों ने किया विरोध.   तस्करों से दो दुर्लभ पैंगोलिन जब्त,एक की मौत.   दस नक्सलवादियों ने किया आत्मसमर्पण.   किसानों के समर्थन में कांग्रेसियों का प्रदर्शन.   कांग्रेस के खतरनाक विधायक हैं संतराम.   केंद्र छत्तीसगढ़ सरकार को बदनाम कर रहा है .  
बेटे महाआर्यमन संग ज्योतिरादित्य ने किया शमी पूजन

राजसी परम्परा के अनुसार सिंधिया ने मनाया दशहरा

 

पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने परंपरागत शमी पूजन किया  | उनके साथ उनके पुत्र महाआर्यमन भी  परंपरागत  राजसी परिधानों में  नजर आये   इसके बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने राजघराने की तलवार से शमी के पेड़ को छुआ और मौजूद मराठा सरदार परिवार के लोगों ने पेड़ के पत्तों को  सोने के प्रतीक के तौर पर लूटा  |  इसके बाद इन पत्तों को एकत्रित करके सिंधिया को वापस किया  |   इन्हें लेकर ज्योतिरादित्य  सिंधिया गोरखी देवघर पहुंचे और पूजा-अर्चना की  |  सिंधिया राजवंश में यह परंपारा बीते करीब 200 सालों से  चली आ रही है  | 

पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया राजसी वेशभूषा में अपने बेटे के साथ आज शाम शमी पूजन के लिये मांढरे की माता के पास दशहरा प्रांगण पहुंचे   ...  इस अवसर पर सिंधिया राजघराने के सरदार और सिपहसाल रहे प्रमुख लोग भी मौजूद थे   | सिंधिया ने उनसे मुलाकात की तत्पश्चात सिंधिया राजवंश की धार्मिक मान्यताओं और रीति रिवाजों  के अनुसार उनके राज पुरोहितों ने विधिविधान से शमी पूजन कराया और उसके बाद श्री सिंधिया ने तलवार से शमी के वृक्ष को छुआ और इस तरह शमी पूजन की विधि सम्पूर्ण हुई | 

सिंधिया राजवंश के पुरोहितों ने बताया कि यह सिंधिया राजाओं  की  सैकड़ो साल पुरानी परंपरा है जब राजा कोई युद्ध जीत कर आते थे तो शमी पूजन करते थे     जिससे उनको युद्ध मे  विजय  होने का आशीर्वाद मिलता था |  वही जानकार लोगो का कहना था कि शमी वृक्ष जीत औऱ संपन्नता का धोतक है दशहरे पर पूजा के बाद तलवार से शमी वृक्ष को छुआ कर उसकी पत्तियां बाटी जाती हैं  | और अच्छे सुखमय जीवन की कामना की जाती है जिससे हर कार्य मे सफलता हाथ लगती है | 

 

 

MadhyaBharat 10 October 2019

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 1412
  • Last 7 days : 26708
  • Last 30 days : 107828


All Rights Reserved ©2019 MadhyaBharat News.