Since: 23-09-2009

  Latest News :
चीन में दिखी इंसानी चेहरे वाली मछली.   सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में दो आतंकी किए ढेर.   पूर्व चुनाव आयुक्त टीएन शेषन का निधन.   बांदीपोरा में सुरक्षा बलों ने 2 आतंकियों को मार गिराया.   राजनाथ बोले -अब यूनिफॉर्मसिविल कोड का समय.   गुंडागर्दी को लेकर कोंग्रेसी आईजी से मिले.   गांधी परिवार की SPG सुरक्षा पर जनहित याचिका.   नर्मदा नदी में लाखों लोगों ने किया स्नान.   "बहुलक:दि पॉलीमर" को अंतराष्ट्रीय उत्सव में पुरस्कार.   सरेआम स्मैकची हिस्ट्रीशीटर की हत्या.   बैंडबाजे के साथ निकली बछड़े की बारात.   कमलनाथ का दंडवत करने वाला मंत्री.   तस्करों से दो दुर्लभ पैंगोलिन जब्त,एक की मौत.   दस नक्सलवादियों ने किया आत्मसमर्पण.   किसानों के समर्थन में कांग्रेसियों का प्रदर्शन.   कांग्रेस के खतरनाक विधायक हैं संतराम.   केंद्र छत्तीसगढ़ सरकार को बदनाम कर रहा है .   3 लाख के इनामी नक्सली ने किया आत्मसमर्पण.  
बाँध निर्माण के विरोध में ग्रामीण

बांध बनने से कई गाँव आएंगे डूब में  

 

बाँध निर्माण के विरोध में कई गांव के रहवासियों ने कलेक्टर  से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा  |   ग्रामीणों का कहना है की बिना जानकारी के बाँध निर्माण परियोजना का टेंडर जारी किया गया है  | मप्र में आदिवासियों को अंधेरे में रखकर एक और बांध की तैयारी की  जा रही  |  जो नियम विरुद्ध है  |   कई गाँव और जंगल  बांध निर्माण की इस  परियोजना से डूब क्षेत्र में आ रहे है  | 

मध्यप्रदेश में नर्मदा घाटी में प्रस्तावित 29 बड़ी बांध परियोजनाओं में  |  मोरंड एवं गंजाल संयुक्त सिंचाई परियोजना निर्माण के लिए |  नियमों का उल्लंघन किया जा रहा है |  सरकार ने इसके लिए टेंडर निकाल दिया है  |  और  डूब क्षेत्र के ग्रामीणों को पूरी जानकारी नहीं दी जा रही है |  जानकारी नही देने व टेंडर जारी करने के विरोध में  |  हरदा जिले के डूब में आने बाले  गाँव  बोथी, कायरी,डोमरा, महुखाल के सैकड़ो लोग परियोजना की विस्तृत जानकारी माँगने व टेंडर निरस्त करवाने  कलेक्टर कार्यालय पहुँचे | ग्रामीणों का  ज्ञापन लेने जब एसडीएम आए तो  ग्रामीण कलेक्टर से मिलने के लिए अड़ गए   | लगभग 3 घंटे तक कलेक्ट्रेट गेट के सामने नारेवाजी करते रहे |  तब जा के कही  कलेक्टर खुद मिलने आए  | और आस्वासन दिया कि एक हफ्ते के अंदर संबंधित परियोजना की विस्तृत जानकारी मंगवाकर ग्रामीणों को दी जाएगी  | 

 वही जिंदगी बचाओ अभियान की शमारुख धारा ने  बताया कि  | इस परियोजना में अभी तक न तो पर्यावरणीय मंजूरी मिली है  | और न ही फारेस्ट क्लियरेंस  |  फिर भी  नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण द्वारा बांध निर्माण के लिए 1808 करोड़ का टेन्डर जारी कर   |  कानून का  उल्लंघन किया गया है   |  इस परियोजना से हरदा, होशंगाबाद एवं बैतूल ज़िले में 2371.14 हेक्टेयर का घना जंगल डुबाया जा रहा है  | जबकि इतने बड़े पैमाने पर  वन भूमि को खत्म करने के लिए फारेस्ट क्लियरेंस लेना अनिवार्य है |  मध्यप्रदेश में  में आदिवासियों को अंधेरे में रखकर एक और बांध की तैयारी की जा रही है   | 

 

 

 

 

MadhyaBharat 17 October 2019

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 1412
  • Last 7 days : 26708
  • Last 30 days : 107828


All Rights Reserved ©2019 MadhyaBharat News.