Since: 23-09-2009

  Latest News :
चीन में दिखी इंसानी चेहरे वाली मछली.   सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में दो आतंकी किए ढेर.   पूर्व चुनाव आयुक्त टीएन शेषन का निधन.   बांदीपोरा में सुरक्षा बलों ने 2 आतंकियों को मार गिराया.   राजनाथ बोले -अब यूनिफॉर्मसिविल कोड का समय.   गुंडागर्दी को लेकर कोंग्रेसी आईजी से मिले.   गांधी परिवार की SPG सुरक्षा पर जनहित याचिका.   नर्मदा नदी में लाखों लोगों ने किया स्नान.   "बहुलक:दि पॉलीमर" को अंतराष्ट्रीय उत्सव में पुरस्कार.   सरेआम स्मैकची हिस्ट्रीशीटर की हत्या.   बैंडबाजे के साथ निकली बछड़े की बारात.   कमलनाथ का दंडवत करने वाला मंत्री.   तस्करों से दो दुर्लभ पैंगोलिन जब्त,एक की मौत.   दस नक्सलवादियों ने किया आत्मसमर्पण.   किसानों के समर्थन में कांग्रेसियों का प्रदर्शन.   कांग्रेस के खतरनाक विधायक हैं संतराम.   केंद्र छत्तीसगढ़ सरकार को बदनाम कर रहा है .   3 लाख के इनामी नक्सली ने किया आत्मसमर्पण.  
जुगाड़ की नाव से कर रहे हैं नदी पार

नहीं जागा प्रशासन, दुर्घटना का है इंतज़ार

 

हरदा में आजादी के बहत्तर साल बाद भी माचक नदी पर  पुल का निर्माण नहीं  होने से  | ग्रामीण और  स्कूली बच्चे  जुगाड़ की नाव से पुल  पार  करने को मजबूर हैं |  सरकार की अनदेखी के चलते  | दो विधानसभाओं को जोड़ने वाली इस नदी में अब तक पुल का नर्माण नहीं किया गया है  | ऐसा लगता है की सरकार और प्रशासन किसी बड़ी घटना के इंतज़ार में है  | 

मध्यप्रदेश के हरदा जिले  की सबसे बड़ी नदी कहलाने  वाली  माचक नदी पर  आजादी के बाद से आज तक पुल का निर्माण नही हुआ है  |  कई सरकारें आई और गईं   | लेकिन पुल के निर्माण के लिए किसी ने पहल नहीं की |  पहल की तो बस झूठे वादों की  |   इस नदी से रोजाना  सैकड़ो  राहगीरो के साथ साथ  दर्जनों  से अधिक स्कूली बच्चे भी आना जाना करते हैं | जुगाड़ की नाव से माचक नदी पार कर बच्चे रोज मगरधा पढ़ने आते हैं  |  राहगीर तो जैसे  तैसे नदी पर कर लेते है  |  पर बच्चे जुगाड़ की नाव से नदी पर करने को मजबूर है  | इतना ही नहीं  यह नदी दो विधानसभाओ को जोड़ती है   |  नदी के एक तरफ हरदा विधानसभा लगती है |  तो दूसरी और टिमरनी विधानसभा  | और  शायद यही इस नदी का कसूर है |   कि यह दो विधानसभा के बीच मे है "| 

शासन द्वारा बच्चों को नदी पर करवाने के लिए नाव भी मुहैया कराई गई  |   परंतु नाव भी 15 दिन से ज्यादा नही चल पाई  |  और  क्षतिग्रस्त  हो गई  | जुगाड़ की नाव  किसी भी दिन बच्चों की जान के लिए मुसीबत का सबब बन सकती है  |  इसके अलावा ग्रामीण भी इसी जुगाड़ की नाव से वाहन सहित गांव पहुंचते हैं  |  प्रशासन की अनदेखी के चलते यहाँ कभी भी  बड़ी दुर्घटना घटित हो सकती है  | 

 

 

MadhyaBharat 4 November 2019

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 1412
  • Last 7 days : 26708
  • Last 30 days : 107828


All Rights Reserved ©2019 MadhyaBharat News.