Since: 23-09-2009

  Latest News :
राहुल गाँधी :किसानों का कर्ज माफ होकर रहेगा.   RBI का अलर्ट अभी और बिगड़ेंगे आर्थिक हालात.   कर्नाटक विधानसभा उपचुनाव के नतीजे घोषित.   हैण्डलूम एक्सपोर्ट कार्पोरेशन ने भुगतान रोका.   यूपी में 218 फास्ट ट्रैक कोर्ट को मंजूरी.   पीड़ित परिवार को मिले 25 लाख, बहन को नौकरी.   नहीं खत्म हुआ यूरिया का संकट,किसान परेशान .   फिर बीजेपी जिलाध्यक्ष बने वीरेंद्र गोयल.   किसानों के लिए टमाटर घाटे का सौदा.   नागरिकता बिल पास होने मनाई खुशियां.   डिप्टी रेंजर और वन रक्षक पर हमला.   खरगोन में हुई अनूठी शादी नहीं हुए सात फेरे.   दो युवतियों की जघन्य हत्या .   किसानो ने किया सीएम भूपेश बघेल का पुतला दहन.   युवक ने किया सरेआम महिला पर हँसिये से हमला.   दुष्कर्मी को पीटने कोर्ट परिसर में दौड़ीं महिलाएं.   ITBP जवान ने साथी पर की फायरिंग 6 की मौत.   नक्सली DKMS अध्यक्ष सन्ना हेमला हुआ सरेंडर.  
21 दिसंबर को होंगे नगरीय निकाय चुनाव
 Urban Body Elections

नगरीय निकाय चुनाव के नतीजे 24 को

मतपत्रों के जरिये होगा मतदान

 

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार बनने के ठीक एक साल बाद नगरीय निकाय के चुनाव होने जा रहे हैं  |  नगरीय निकाय चुनाव के लिए मतदान 21 दिसंबर को होगा और 24 दिसम्बर को मतदान के बाद नतीजे आ जायेंगे  |  यह चुनाव बीजेपी और कांग्रेस के लिए किसी शक्ति परीक्षण से कम नहीं होगा  | 

छत्तीसगढ़ राज्य निर्वाचन आयुक्त आयुक्त ठाकुर राम सिंह ने प्रदेश में नगरीय निकाय चुनावों की घोषणा कर दी  |  पूरे प्रदेश में एक ही चरण में 21 दिसंबर को निकाय चुनाव के लिए मतदान होगा  |  24 दिसंबर को मतगणना होगी  | इस घोषणा के साथ ही छत्तीसगढ़ में आचार संहिता लागू हो गई है  |  30 नवंबर को नोटिफिकेशन जारी होगा, इसी के साथ  चुनाव नामांकन प्रक्रिया शुरू हो जाएगी  |   6 दिसंबर को इसकी नामांकन की अंतिम तारीख रहेगी  |  7 दिसंबर को नामांकन की स्क्रूटनी होगी | 9 दिसंबर तक उम्मीदवार नाम वापस ले सकते हैं  |  21 दिसंबर को सुबह 8 से शाम 5 बजे तक मतदान होगा  |  नक्सल प्रभावित इलाकों कोंडागांव, दंतेवाड़ा, कांकेर, बीजापुर, सुकमा में सुबह 7 से 3 बजे तक मतदान होगा  |  राज्य में कुल 169 नगरीय निकायों में से कुल 155 निकायों में चुनाव होना है जिनमें 10 निगर निगम शामिल हैं।  इस बार नगर निगमों में महापौर का चुनाव अप्रत्यक्ष प्रणाली से होने वाला है  |  यानी निगम में जीत कर आने वाले पार्षद अपने बीच से ही महापौर का चुनाव करेंगे  | इस वर्ष नगरीय निकाय चुनावों में लंबे अरसे के बाद ईवीएम की बजाए मतपत्रों की पुरानी प्रणाली से मतदान होगा  |  इस प्रक्रिया में लंबा समय लगता है और लंबे अरसे के बाद एक बार फिर इस तरह चुनाव होना अपने आप में रोचक होगा  | 

 

MadhyaBharat 26 November 2019

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 5596
  • Last 7 days : 32148
  • Last 30 days : 146931


All Rights Reserved ©2019 MadhyaBharat News.