Since: 23-09-2009

  Latest News :
वर्चस्व के लिए कांग्रेस के नेता आपस में भिड़े.   बरेली को आखिर मिल गया अपना झुमका.   शाहहिं बाग़ पर सुप्रीम कोर्ट की दो टूक .   दिल्ली Exit Poll में कांग्रेस के बुरे हाल.   पद्मश्री से सम्मानित गिरिराज किशोर का निधन.   डंडामार पर बोले मोदी- मेरे पास जनता का कवच.   लक्ष्मण सिंह ने कहा कंप्यूटर बाबा फर्जी.   हाथों में आकाश उठाएं धरती बाधे पांव में.   स्वच्छता अभियान कोडिनेटर नीलम तिवारी गिरफ्तार.   सिंधिया समर्थकों ने भी खोला मोर्चा.   राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका पर कार्यक्रम.   वन विभाग जहाँ मुर्दे भी करते हैं हस्ताक्षर.   अस्पताल से छह दिन का बच्चा चोरी.   जवानों ने बरामद किया प्रेशर आईईडी बम.   अस्तित्व में आया गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिला.   CM भूपेश ने बच्चों से कहा डर छोड़कर साहसी बनें.   अबूझमाड़ पीस हाफ मैराथन का किया गया आयोजन.   छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा.  
मनोज मुकुंद नरवाने भारतीय सेना के नए प्रमुख
 MANOJ MUKUND NARAVANE

आतंक विरोधी ऑपरेशंस का है लंबा अनुभव

 

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज मुकुंद नरवाने भारतीय सेना के नए प्रमुख होंगे  |  नरवाने वर्तमान सेना प्रमुख बिपिन रावत की जगह लेंगे जो 31 दिसंबर को रिटायर हो रहे हैं  |  नरवाने अगले तीन साल तक भारतीय सेना की कमान संभालेंगे  |  नरवाने सेना के उप प्रमुख हैं और उन्हें पाक और चीन से लगी भारत की संवेदनशील सीमाओं पर काम करने का लंबा अनुभव है  | 

इस साल सितंबर में सेना का उप प्रमुख पद संभालने से पहले लेफ्टिनेंट जनरल मनोज मुकुंद नरवाने सेना की पूर्वी कमान का नेतृत्व कर रहे थे  |  सेना की यह कमान चीन से लगती  चार हजार किलोमीटर लंबी सीमा की सुरक्षा करती है  | नरवाने की नियुक्ति ऐसे समय हो रही है, जब आतंकी गतिविधियों के जरिये पाकिस्तान की भड़काऊ कार्रवाई से दोनों देशों के बीच तनावपूर्ण संबंध हैं | मराठी परिवार जन्में नरवाने ने अपनी शुरुआती शिक्षा पुणे के जनाना प्रबोधिनी प्रशाला से पूरी की  | इसके बाद वे पुणे के ही नेशनल डिफेंस एकेडमी के पासआउट रहे  | इसके अलावा वो सैन्य अकादमी देहरादून के भी एलुमनाई है।  लेफ्टिनेंट जनरल नरवाने जून 1980 में सातवीं सिख लाइट इन्फैंट्री में कमीशन हुए थे  | नरवाने ने अपनी 37 साल की सेवा में वे कई कमानों में काम किया है जिसमें उनके पास जम्मू-कश्मीर और पूर्वोत्तर में आतंकरोधी कार्रवाइयों का लंबा अनुभव है  | जम्मू-कश्मीर में अपने बटालियन के सफल संचालन के लिए तो उनको सेना मेडल से भी सम्मानित किया जा चुका है  |  इसके अलावा नरवाने ने उन्होंने श्रीलंका में शांति रक्षक बल में काम किया है  | वे म्यांमार स्थित भारतीय दूतावास में रक्षा अताशे भी रहे हैं  | 

 

MadhyaBharat 17 December 2019

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 5826
  • Last 7 days : 36624
  • Last 30 days : 155508


All Rights Reserved ©2020 MadhyaBharat News.