Since: 23-09-2009

  Latest News :
वर्चस्व के लिए कांग्रेस के नेता आपस में भिड़े.   बरेली को आखिर मिल गया अपना झुमका.   शाहहिं बाग़ पर सुप्रीम कोर्ट की दो टूक .   दिल्ली Exit Poll में कांग्रेस के बुरे हाल.   पद्मश्री से सम्मानित गिरिराज किशोर का निधन.   डंडामार पर बोले मोदी- मेरे पास जनता का कवच.   लक्ष्मण सिंह ने कहा कंप्यूटर बाबा फर्जी.   हाथों में आकाश उठाएं धरती बाधे पांव में.   स्वच्छता अभियान कोडिनेटर नीलम तिवारी गिरफ्तार.   सिंधिया समर्थकों ने भी खोला मोर्चा.   राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका पर कार्यक्रम.   वन विभाग जहाँ मुर्दे भी करते हैं हस्ताक्षर.   अस्पताल से छह दिन का बच्चा चोरी.   जवानों ने बरामद किया प्रेशर आईईडी बम.   अस्तित्व में आया गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिला.   CM भूपेश ने बच्चों से कहा डर छोड़कर साहसी बनें.   अबूझमाड़ पीस हाफ मैराथन का किया गया आयोजन.   छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा.  
जमीन के अंदर समाधि पांच दिन बाद निकाली लाश

18 दिसंबर 2015 को जब पहली बार ली थी समाधि

 

समाधि लगाने के चक्कर में एक युवक की जान चली गई  | इस युवक ने 108 घंटे के लिए जमीन के भीतर  समाधि लगाईं थी  |  लेकिन समय पूरा होने पर युवक की लाश सामने आईं |  यह घटना छत्तीसगढ़ के महासमुंद की है  | 

जमीन में एक गढ्ढा खोदकर उसमे 108 घंटे की समाधि लगाना एक युवक को भारी पड़ गया और उसकी मौत हो गई |  चमन नाम का ये युवक पांच साल से  खतरनाक समाधि ले रहा था  | इसने पहले साल 24 घंटा, दूसरे साल 48 घंटा, तीसरे साल 72 घंटा, चौथे साल 96 घंटा की समाधि ली  | इसे पहले भी  चार बार बेहोशी की हालत में गड्ढे से निकाला गया  |  चमन पांचवी बार 108 घंटे की समाधि पर चार फुट गहरे गड्ढे में जा बैठा, फिर वापस जिंदा नहीं लौटा  इस युवक ने 16 दिसंबर की सुबह आठ बजे समाधि  लगाईं |  पांच दिन बाद 20 दिसंबर को दोपहर 12 बजे जब उसे समाधि स्थल से बाहर निकाला तो वह कथित तौर पर बेहोश था | उसे  बाहर निकालकर निजी अस्पताल में ले गए, जहां से जिला अस्पताल महासमुंद रेफर किया गया  | जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया  |  इस युवक के  जबकि समाधि लेने वाला वीडियो भी सोशल मीडिया पर  वायरल हो रहा है  | इस सब की जानकारी प्रशासन को भी थी  |  लेकिन किसी ने इस मामले में कोई पहल नहीं की  | चमनदास जोशी  वर्ष-2015 से इस तरह खतरनाक ढंग से समाधि ले रहा था

 पिछले  साल पुलिस के कुछ जवानों ने मौके पर पहुंचकर उसे समाधि लेने से मना किया  |  फिर भी वह नहीं माना और धार्मिक आस्था से जोड़ते हुए सतनाम पंथ का पुजारी और बाबा गुरूघासीदास की प्रेरणा बताकर  उसने समाधी ले ली  | पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया  |  जहां उसके भक्तों ने उसी समाधि वाले गड्ढे में दफना कर अंतिम संस्कार किया  | 

 

MadhyaBharat 22 December 2019

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 5826
  • Last 7 days : 36624
  • Last 30 days : 155508


All Rights Reserved ©2020 MadhyaBharat News.