Since: 23-09-2009

  Latest News :
वर्चस्व के लिए कांग्रेस के नेता आपस में भिड़े.   बरेली को आखिर मिल गया अपना झुमका.   शाहहिं बाग़ पर सुप्रीम कोर्ट की दो टूक .   दिल्ली Exit Poll में कांग्रेस के बुरे हाल.   पद्मश्री से सम्मानित गिरिराज किशोर का निधन.   डंडामार पर बोले मोदी- मेरे पास जनता का कवच.   लक्ष्मण सिंह ने कहा कंप्यूटर बाबा फर्जी.   हाथों में आकाश उठाएं धरती बाधे पांव में.   स्वच्छता अभियान कोडिनेटर नीलम तिवारी गिरफ्तार.   सिंधिया समर्थकों ने भी खोला मोर्चा.   राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका पर कार्यक्रम.   वन विभाग जहाँ मुर्दे भी करते हैं हस्ताक्षर.   अस्पताल से छह दिन का बच्चा चोरी.   जवानों ने बरामद किया प्रेशर आईईडी बम.   अस्तित्व में आया गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिला.   CM भूपेश ने बच्चों से कहा डर छोड़कर साहसी बनें.   अबूझमाड़ पीस हाफ मैराथन का किया गया आयोजन.   छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा.  
एमपी यूपी हरियाणा समेत सात राज्यों को मिलेगा लाभ
 Atal Bhujal Yojana

सात राज्यों  के 78 जिलों को पानी पानी करने का प्रयास

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अटल भूजल योजना शुरू की इससे मध्यप्रदेश सहित सात राज्यों के अठत्तर जिलों के आठ हजार तीन सौ पचास गावों को सीधा लाभ मिलेगा  | इस योजना में छ हजार करोड़ रूपये खर्च किये जाएंगे | 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली  के विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में अटल भूजल योजना की शुरुआत की  | एक दिन पहले ही पीएम मोदी की अध्यक्षता में हुए केंद्रीय कैबिनेट ने 6,000 करोड़ रुपए की इस योजना को मंजूरी दे  है  | इस योजना का उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्र में भूजल प्रबंधन को बढ़ावा देना है  |  कुल मिलाकर 7 राज्यों के 8,350 गांवों को इसका लाभ मिलेगा  |  इन राज्यों में उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, हरियाणा, गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान और कर्नाटक शामिल हैं  | साथ ही इससे किसानों की आमदनी दोगुनी करने में भी मदद करेगी | .अटल भूजल योजना पांच साल के लिए है |  इसी कार्यक्रम में पीएम मोदी ने ऐलान किया कि रोहतांग दर्रे के नीचे बनने वाली सामरिक महत्व की सुरंग को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर किया गया है |  इस सुरंग को बनाने का निर्णय तीन जून, 2000 को लिया गया था, तब वाजपेयी प्रधानमंत्री थे | 

सरकार का उद्देश्य 2020-21 से 2024-25 तक गांवों में भूजल का प्रबंधन करना है |  6,000 करोड़ की इस योजना की आधी रकम वर्ल्ड बैंक से कर्ज के रूप में होगी, जिसे केंद्र सरकार अदा करेगी  |  शेष आधी राशि सामान्य बजट में केंद्रीय मदद के तौर पर उपलब्ध कराई जाएगी |  योजना पर दो तरह से काम होगा  | पहला - राज्यों में भूजल प्रबंधन के लिए व्यवस्था को मजबूत करना, नेटवर्क की निगरानी करना और जल उपभोक्ता संगठनों को तैयार करना है   दूसरा - भूजल प्रबंधन का बेहतर अभ्यास, जल संरक्षण योजना, मौजूदा योजनाओं में प्रंबधन को लागू करना तथा मांग प्रंबधन के अभ्यास को स्वीकार करना है  | 

 

MadhyaBharat 25 December 2019

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 5826
  • Last 7 days : 36624
  • Last 30 days : 155508


All Rights Reserved ©2020 MadhyaBharat News.