Since: 23-09-2009

Latest News :
राफेल डील हमारे लिए बूस्टर डोज : वायुसेना चीफ.   नरेंद्र सिंह तोमर की तबीतय बिगड़ी, एम्स में भर्ती.   राम और रोटी के सहारे कांग्रेस .   डीजल-पेट्रोल के दाम में फिर लगी आग.   अयोध्या केस की सुनवाई 29 अक्टूबर से रोज होगी.   कर्नाटक में कम हुए डीजल-पेट्रोल के दाम.   कुरीतियों को समाप्त करने में योगदान करें महिला स्व-सहायता समूह.   गरीबों के बकाया बिजली बिल के माफ हुए 5200 करोड़ :चौहान.   ग्रामीण महिलाओं से संवाद के प्रयास जरूरी : जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र.   ग्रामीण महिलाओं से संवाद के प्रयास जरूरी : जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र.   जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने किया विशेषांक का विमोचन.   भोपाल में सब रजिस्ट्रार अशोक को घूस लेते लोकायुक्त पुलिस ने पकड़ा .   सुकमा मुठभेड़ में तीन नक्सली मरे ,नारायणपुर में तीन का समर्पण .   पखांजूर में शुरू होगा नया कृषि महाविद्यालय.   रमन सरकार नक्सलियों को लेकर उदार हुई .   दिग्विजय सिंह बोले -अजीत जोगी के कारण मप्र में हारे थे.   100 करोड़ का लिया लोन, और नहीं चुकाया एक पैसा भी .   प्रेशर बम की चपेट में आने से दो ग्रामीणों की मौत.  
किसी भी प्रदेश से कम कीमत पर नहीं हो प्रदेश में धान की खरीदी
किसी भी प्रदेश से कम कीमत पर नहीं हो प्रदेश में धान की खरीदी
50 करोड़ रुपये तक वार्षिक धान खरीदी कर मुक्त मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि ऐसे प्रयास किये जाये जिससे प्रदेश में बासमती धान की खरीदी देश के अन्य प्रदेशों के न्यूनतम मूल्य से कम पर नहीं हो। किसानों के हितों के संरक्षण में ही सबका हित है। श्री चौहान बासमती की अन्तर्राष्ट्रीय मांग में आयी कमी से उत्पन्न मंदी के इस दौर में धान खरीदी के बारे में आज व्यापारियों तथा मिलर प्रतिनिधियों की बैठक को संबोधित कर रहे थे।श्री चौहान ने निर्देशित किया कि बासमती उत्पादक सभी राज्यों की बड़ी मंडियों के बासमती धान के भाव प्रतिदिन प्रदेश की धान मंडियों में प्रदर्शित किये जाये।बैठक में बताया गया कि शासन ने निर्णय लिया है कि राज्य में पैदा होने वाली ऐसी बासमती धान को 31 मार्च तक मंडी फीस से पूर्ण छूट रहेगी, जिसकी बिक्री किसानों द्वारा मंडियों में की जाती है तथा जिसका उपयोग बासमती चावल बनाने के लिये प्रदेश की धान मिलों में होता है अथवा प्रदेश से बाहर ले जाने के लिये किया जाता है।मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों और व्यापारियों के सहयोग के लिए सभी जरूरी उपाय सरकार ने किये हैं। बैठक में तय किया गया कि 10 करोड़ रूपये से अधिक की वार्षिक धान खरीदी पर लगने वाले कर की न्यूनतम सीमा को बढ़ाकर 50 करोड़ रूपये कर दिया जाय। इस निर्णय से अब वर्ष में 50 करोड़ रूपये से अधिक की खरीदी करने वाले व्यापारी को ही टैक्स देना होगा। इसके साथ ही धान की भंडारण दरों को भी समायोजित करने का निर्णय लिया गया। इससे प्र-संस्करण कर्ता और क्रेता दोनों को ही दिक्कत नहीं रहेगी।बैठक में बताया गया कि राज्य सरकार प्रदेश के बासमती की यूरोप में ब्रांडिंग और मार्केटिंग की भी पहल करेगी।बैठक में कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन, खाद्य-नागरिक आपूर्ति मंत्री विजय शाह, मुख्य सचिव अंटोनी डिसा, अपर मुख्य सचिव कृषि आर.के. स्वाई, बासमती के व्यापारी एवं मिलर उपस्थित थे।
MadhyaBharat

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 1517
  • Last 7 days : 10238
  • Last 30 days : 36982
All Rights Reserved ©2018 MadhyaBharat News.