Since: 23-09-2009

  Latest News :
मोटेरा में दिखी ट्रंप-मोदी की दोस्ती.   वर्चस्व के लिए कांग्रेस के नेता आपस में भिड़े.   बरेली को आखिर मिल गया अपना झुमका.   शाहहिं बाग़ पर सुप्रीम कोर्ट की दो टूक .   दिल्ली Exit Poll में कांग्रेस के बुरे हाल.   पद्मश्री से सम्मानित गिरिराज किशोर का निधन.   जमकर थिरके गुना सांसद केपी यादव.   बिगड़ा मौसम का मिजाज तेज बारिश के साथ गिरे ओले.   प्रेमी जोड़े को साथ ग्रामीणों ने की बेरहमी पिटाई.   नही रुक रही हर्ष फायरिंग,जान से हो रहा है खिलवाड़.   कमलनाथ के मंत्री सज्जन वर्मा ने बयान किया सच.   लक्ष्मण सिंह ने कहा कंप्यूटर बाबा फर्जी.   अस्पताल से छह दिन का बच्चा चोरी.   जवानों ने बरामद किया प्रेशर आईईडी बम.   अस्तित्व में आया गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिला.   CM भूपेश ने बच्चों से कहा डर छोड़कर साहसी बनें.   अबूझमाड़ पीस हाफ मैराथन का किया गया आयोजन.   छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा.  
गोपाल भार्गव :कमलनात सरकार की वादाखिलाफी का जश्न

प्रदेश की जनता है हलाकान नाचने वाले सरकारी मेहमान

 

 कर्ज में डूबी कमलनाथ सरकार का आयोजन  | आईफा अवार्ड  | कमलनाथ की कार्यप्रणाली पर कई सवाल खड़े कर रहा हैं  | सोशल मीडिया पर इस आयोजन को लेकर कमलनाथ पर तंज कसे जा रहे हैं | वही आईफा अवार्ड के ग्लैमर और कर्ज में डूबे मध्यप्रदेश पर सियासत उबाल पर आ गई हैं   नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने तो यहाँ तक कह दिया की  | कमलनाथ सरकार के निकम्मेपन, नाकारापन और वादाखिलाफी का जश्न है आईफा अवार्ड  | प्रदेश की जनता  है हलाकान और नाचने गाने वाले बनेगे सरकारी मेहमान  | 

 

 नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि मध्यप्रदेश की धरती पर दलितों आदिवासियों पर अत्याचार हो रहे है |  किसान कर्जमाफी के इंतजार में आत्महत्या कर रहे है   | युवा हताशा और अवसाद का शिकार हो रहे हैं  | कन्याएं अपनी गृहस्थी बसाने के लिए उपहार राशि का इंतजार कर रहीं है  |  संबल योजना के हितग्राही कफन सहायत  | मृत्यु सहायता की आशा में रोज बैंको से खाली हाथ लौट रहे है | खाली खजाने का हवाला देकर कमलनाथ सरकार गरीबों की योजनाओं को बंद कर रही है  | वहीं दूसरी ओर आईफा अवार्ड के नाम पर सरकार अपनी वाहवाही में लगी हुई है |  उन्होंने कहा कि यह आईफा अवार्ड प्रदेश की जनता के पैसो से हो रहा हैं  |  कमलनाथ सरकार के नाकारापन, वादाखिलाफी और दलित और आदिवासियों पर बढते अत्याचारों का जश्न है |  उन्होंने कहा कि गरीबों की चिंता करने की बजाय कमलनाथ सरकार फिल्म सितारों की आवभगत में लगी हैं  | प्रदेश की जनता हलाकान और नाचने गाने वाले सरकारी मेहमान बनेंगे |  उन्होंने कहा कि सरकार में बैठे लोगों को आईफा अवार्ड जैसे नाच गाने का शौक है  | तो बड़े शहरों में जाकर अपने पैसों से अपने शौक पूरे करे |  जनता की गाढ़ी कमाई ऐसे आयोजनों पर खर्च करना जनता का अपमान है |  जिसे प्रदेश की जनता बर्दाश्त नहीं करेगी | 

नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि  |  एक तरफ सरकार खाली खजाने का रोना रो रही है  | तत्कालीन भाजपा सरकार पर दोषारोपण कर रही है कि खजाना खाली छोड़ा है | लेकिन फिजूल खर्ची के लिए सरकार के पास पैसा कहां से आ रहा है  |  पता चला है कि सरकार आईफा अवार्ड पर करीब 58 करोड़ रूपए की राशि खर्च करने जा रही है  |  यह राशि और भी ज्यादा हो सकती है |  इसकी तैयारियों के लिए सरकारी मशीनरी को लगाया गया है  |  लेकिन प्रदेश की कमल नाथ सरकार एक साल बीत जाने के बाद भी किसानों का कर्जमाफ नहीं कर सकी है  |  उन्होंने कहा कि सरकार ने वृद्धजनों के लिए जिलों की निराश्रित निधि के 750 करोड भी अन्यत्र खर्च कर दिए |  अतिथि शिक्षक पिछले 53 दिन से धरने पर बैठे है  |  उन्हें नौकरी से निकाला जा रहा है  | और दूसरी तरफ सरकार का यह तर्क की आईफा से रोजगार बढेगा  |  यह हास्यास्पद है।

 

MadhyaBharat 4 February 2020

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 6029
  • Last 7 days : 39091
  • Last 30 days : 155603


All Rights Reserved ©2020 MadhyaBharat News.