Since: 23-09-2009

Latest News :
दिवाली में सिर्फ दो घंटे फोड़ पाएंगे पटाखे.   दुनिया का सबसे लंबा पुल चीन में .   राफेल डील हमारे लिए बूस्टर डोज : वायुसेना चीफ.   नरेंद्र सिंह तोमर की तबीतय बिगड़ी, एम्स में भर्ती.   राम और रोटी के सहारे कांग्रेस .   डीजल-पेट्रोल के दाम में फिर लगी आग.   कमजोर विधायकों के भाजपा काटेगी टिकट.   डिजियाना की स्‍कार्पियो से 60 लाख रुपए जब्‍त.   पेड़ न्यूज़ के सबसे ज्यादा मामले बालाघाट में .   कुरीतियों को समाप्त करने में योगदान करें महिला स्व-सहायता समूह.   गरीबों के बकाया बिजली बिल के माफ हुए 5200 करोड़ :चौहान.   ग्रामीण महिलाओं से संवाद के प्रयास जरूरी : जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र.   साक्षर इलाकों के नामांकन-पत्र ज्यादा होते हैं खारिज.   गिर सकता है 20 फीसद सराफा कारोबार.   सुकमा मुठभेड़ में तीन नक्सली मरे ,नारायणपुर में तीन का समर्पण .   पखांजूर में शुरू होगा नया कृषि महाविद्यालय.   रमन सरकार नक्सलियों को लेकर उदार हुई .   दिग्विजय सिंह बोले -अजीत जोगी के कारण मप्र में हारे थे.  
प्रदेश को तबाह किया शिवराज सरकार ने
aap mp

 

आप नेता आलोक अग्रवाल का आरोप 

 

 

 

आज आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य व प्रदेश संयोजक  अलोक अग्रवाल ने रायसेन में भाजपा विधायक रामकिशन पटेल के चचेरे भाई कुबेर सिंह की अस्पताल में उपचार न मिल पाने से हुई मृत्यु पर दुख व्यक्त करते हुए कहा है कि पूरे प्रदेश को ही तबाह करके रख दिया है शिवराज सरकार ने। पूरे प्रदेश की व्यवस्था चरमरा चुकी है।  स्वस्थ्य, शिक्षा जैसी बुनियादी जरूरतों को तिलांजलि दे कर पता नहीं कौन सा विकास कर रही है ये शिवराज सरकार ? 

 

आम आदमी की जरूरतो को भगवान भरोसे छोड़ दिया गया है। पूरे प्रदेश में अस्पताल की अव्यवस्थाओ का आलम ये है कि सतना में एक नवजात शिशु के शव  को अस्पताल के अंदर से कुत्ता उठा कर ले गया, कुछ दिन पूर्व कटनी अस्पताल में डॉक्टर्स की मीटिंग चलती रही थी और बाहर सड़क पर खुले में एक प्रसूता ने नवजात को जन्म दिया। अभी कुछ दिन पूर्व दमोह में कलेक्टर की माँ ऐसी ही अव्यवस्था का शिकार बनी। आज भोपाल में अस्पताल से लाश ही चोरी हो गई, कुछ दिन पूर्व शिवराज की खुद की विधान सभा बुधनी में उपचार न मिलने से तंग होकर माँ ने बच्चे के साथ आत्म हत्या कर ली थी।

 

श्री अग्रवाल ने शिवराज सरकार की कार्यशैली पर ही बड़ा सवाल खड़ा करते हुए कहा कि जब शहरी इलाकों में, खुद उनके विधानसभा क्षेत्र में और ऊँचे ओहदे के लोगों के साथ ऐसी दुर्घटनाएं हो रही हैं तो सोचने वाली बात है कि सुदूर ग्रामीण इलाको तक फैले इस मध्यप्रदेश में और कितनी भयावह स्थिति होगी। ये सरकार इतना कुछ हो जाने के बाद भी सो रही है, कुछ विशेष कदम उठाने के बजाय अनावश्यक कार्यों में उलझी हुई है। प्रदेश की आम जनता स्वास्थ्य, शिक्षा जैसी उनकी बुनियादी जरूरतों पर शिवराज सरकार की उदासीनता को देख रही है इसका जवाब 2018 में जरूर देगी।

MadhyaBharat 5 August 2016

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 2387
  • Last 7 days : 13058
  • Last 30 days : 36819

Advertisement

All Rights Reserved ©2018 MadhyaBharat News.