Since: 23-09-2009

Latest News :
दिवाली में सिर्फ दो घंटे फोड़ पाएंगे पटाखे.   दुनिया का सबसे लंबा पुल चीन में .   राफेल डील हमारे लिए बूस्टर डोज : वायुसेना चीफ.   नरेंद्र सिंह तोमर की तबीतय बिगड़ी, एम्स में भर्ती.   राम और रोटी के सहारे कांग्रेस .   डीजल-पेट्रोल के दाम में फिर लगी आग.   कमजोर विधायकों के भाजपा काटेगी टिकट.   डिजियाना की स्‍कार्पियो से 60 लाख रुपए जब्‍त.   पेड़ न्यूज़ के सबसे ज्यादा मामले बालाघाट में .   कुरीतियों को समाप्त करने में योगदान करें महिला स्व-सहायता समूह.   गरीबों के बकाया बिजली बिल के माफ हुए 5200 करोड़ :चौहान.   ग्रामीण महिलाओं से संवाद के प्रयास जरूरी : जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र.   साक्षर इलाकों के नामांकन-पत्र ज्यादा होते हैं खारिज.   गिर सकता है 20 फीसद सराफा कारोबार.   सुकमा मुठभेड़ में तीन नक्सली मरे ,नारायणपुर में तीन का समर्पण .   पखांजूर में शुरू होगा नया कृषि महाविद्यालय.   रमन सरकार नक्सलियों को लेकर उदार हुई .   दिग्विजय सिंह बोले -अजीत जोगी के कारण मप्र में हारे थे.  
कोंग्रेस बोली -भाजपा की कलह सतह पर
sushil anand shukla

 

 

छत्तीसगढ़ भाजपा कोर ग्रुप से वरिष्ठ आदिवासी नेता नन्द कुमार साय और सात बार के वरिष्ठतम सांसद रमेश बैस को बाहर किये जाने पर मचे बवाल पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा की किसे कोर ग्रुप में रखना है किसे नही यह भारतीय जनता पार्टी का अंदरुनी मामला है लेकिन कोर ग्रुप से साय और बैस का नाम हटाये जाने से भाजपा की  अंदरुनी कलह सतह पर आ गई है।

 

कांग्रेस  प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा भाजपा में सत्ता में बैठे नेता  भाजपा के प्रदेश के अन्य नेताओ को हाशिये में डालने के सुनियोजित प्रयास में लगे हैं और इसमे उन्हें  सफलता भी मिल रही है। पहले नन्द कुमार साय को राज्यसभा की टिकिट कटवाई गयी ।रमेश बैस को वरिष्ठता के बावजूद केंन्द्रीय मंत्रीमण्डल में लिए  जाने से रोका गया ।अब इन दोनो नेताओ को कोर ग्रुप से अलग कर पूरी तरह से राज्य के राजनैतिक परिदृश्य से हटाने की साजिश रची जा रही है। 

 

उन्होंने कहा राज्य की भाजपा सरकार  तीसरे कार्य काल में अपनी अकर्मण्यता ,भ्र्ष्टाचार ,बेलगाम नौकरशाही और जनविरोधी निर्णयो के कारण अलोकप्रियता के चरम पर पहुँच गयी है।मुख्यमंत्री रमन सिंह और उनके सहयोगियों को यह लगने लगा है की कही ऐसा न हो उनकी अलोकप्रियता के कारण भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व राज्य में नेत्रित्व परिवर्तन न कर दे इस सम्भावित स्थिति से बचने के लिए राज्य भाजपा में वैकल्पिक नेतृत्व को रोकने के लिए रमेश बैस और नन्द कुमार साय जैसे नेताओ को हाशिये में डाला जा रहा ।इन दोनों नेताओ के बाद अन्य प्रभाव शाली भाजपा नेताओ के  जो राज्य में वर्तमान नेतृत्व को चुनौती दे सकते है उनके भी पर कतरने की पूरी रणनीति सत्ता को कब्जाए बैठे भाजपा नेताओ ने कर रही है।

   

MadhyaBharat 20 August 2016

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 1697
  • Last 7 days : 5125
  • Last 30 days : 33629


All Rights Reserved ©2018 MadhyaBharat News.