Since: 23-09-2009

Latest News :
47वें चीफ जस्टिस बने जस्टिस बोबडे.   राफेल पर राहुल के खिलाफ बीजेपी का प्रदर्शन.   दाऊद इब्राहिम दो सम्बन्ध सुधार लो.   कश्मीर मुद्दे पर यूनेस्को में पाक को करारा जवाब.   चीन में दिखी इंसानी चेहरे वाली मछली.   सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में दो आतंकी किए ढेर.   बालक छत्रावास की बड़ी लापरवाही आई सामने.   शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने ऐप का होगा इस्तेमाल.   ट्राले से टकराई कार,हादसे में 5 की मौत.   पुलिस ने नहीं की महिला की सुनवाई.   राहुल गाँधी के खिलाफ बीजेपी सड़क पर.   ट्रैफिक कंट्रोल का शुभी जैन का अपना अंदाज.   महिला कमांडोज में ढहाया नक्सली स्मारक.   अभिनेत्री माया साहू पर एसिड अटैक.   पुलिस कैंप खुलने का ग्रामीणों ने किया विरोध.   तस्करों से दो दुर्लभ पैंगोलिन जब्त,एक की मौत.   दस नक्सलवादियों ने किया आत्मसमर्पण.   किसानों के समर्थन में कांग्रेसियों का प्रदर्शन.  
एमपी में डेंटल कॉलेजों की 722 सीटें खाली
एमपी में डेंटल कॉलेजों की 722 सीटें खाली

 

मध्यप्रदेश के निजी डेंटल कॉलेजों में इस साल 722 सीटें खाली रह गई हैं। अब इन सीटों के भरने के आसार नहीं हैं। पहली बार इतनी सीटें खाली बचीं हैं। अनरिजर्व कैटेगरी सीटें भी खाली रह गई हैं। पिछले साल तक निजी कॉलेजों में बीडीएस की करीब 400 सीटें ही बचती थीं। प्रदेश के 14 डेंटल कॉलेजों में बीडीएस की 1340 सीटें हैं।

चिकित्सा शिक्षा संचालनालय के अधिकारियों ने बताया कि इस साल पांच नए डेंटल कॉलेजों को मान्यता मिल गई। इसके अलावा दाखिले के लिए न्यूनतम अंक भी इस साल कम कर दिए गए थे। पिछले साल तक रिजर्व कैटेगरी के लिए 40 फीसदी व अनरिजर्व कैटेगरी के लिए 50 फीसदी अंक जरूरी होते थे। इसका असर यह हुआ कि बीडीएस में दाखिला लेने वाले उम्मीदवारों ने एमबीबीएस में प्रवेश ले लिया। शनिवार को दो छात्रों ने निजी कॉलेजों में ज्यादा फीस लेने की शिकायत भी की है।

भोपाल के जीएमसी में सरकारी और निजी मेडिकल/डेंटल कॉलेजों के लिए चल रही काउंसलिंग खत्म हो गई है, लेकिन विवाद अभी ठंडा नहीं पड़ा है। 35 उम्मीदवारों ने अलग-अलग दिन शिकायत कर काउंसलिंग में गड़बड़ी की बात कही है। कोहेफिजा पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

सबसे पहले 30 सितंबर को उम्मीदवारों ने एमपी ऑनलाइन के खिलाफ शिकायतें की। तीन अलग-अलग शिकायतें में कहा गया है कि एमपी ऑनलाइन के सर्वर में कोई खराबी नहीं आई थी। जानबूझकर साफ्टवेयर में गड़बड़ी की गई थी। इस वजह से काउंसलिंग नहीं हो पाई थी। तीन दिन तक उम्मीदवार कॉलेज परिसर में पड़े रहे। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने एक निर्णय में इन सीटों को ऑल इंडिया के उम्मीदवारों से भरने के लिए कह दिया था।

 

MadhyaBharat 9 October 2016

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 1567
  • Last 7 days : 29428
  • Last 30 days : 109017


All Rights Reserved ©2019 MadhyaBharat News.