Since: 23-09-2009

Latest News :
शाह ने कहा- दंगों के वक्त मेरे साथ विधानसभा में थी माया.   प्रद्युम्न की हत्या के बाद खुला रेयान स्कूल.   आतंकवाद से साथ मिलकर लड़ेंगे भारत-जापान:शिंजो आबे.   प्रद्युम्न मामले में जुवेनाइल एक्ट के तहत होगी कार्रवाई.   साक्षरता के क्षेत्र में मध्यप्रदेश राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा गया.   छत्तीसगढ़ को मिले चार राष्ट्रीय पुरस्कार.   मध्यप्रदेश के सभी गाँव और शहर खुले में शौच से मुक्त किये जाएंगे.   शिवराज ने ग्राम रतनपुर में किया श्रमदान.   डेंगू लार्वा मिलने पर होगा 500 रुपये का जुर्माना.   पदयात्रा में जनहित विकास कार्यों की शुरुआत.   लोगों से रू-ब-रू हुए मुख्यमंत्री चौहान.   फैलोज व्यवहारिक और सैद्धांतिक अनुभवों पर आधारित सुझाव दें.   मजदूरों को छत्तीसगढ़ में पांच रूपए में मिलेगा टिफिन.   अम्बुजा सीमेंट में पिस गए दो मजदूर.   एम्बुलेंस ये ले जाती है नदी पार .   भालू के हमले से दो की मौत.   जोगी की जाति के मामले में सुनवाई फिर टली.   5 ट्रेनें रद्द, दो-तीन दिन बनी रहेगी परेशानी.  

बडवानी News


सरदार सरोवर परियोजना

  बड़वानी सरदार सरोवर परियोजना के डूब क्षेत्र प्रभावितों के लिए दिल्ली से राहत भरी खबर है। सोमवार को पुर्नवास को लेकर सुप्रीम कोर्ट में हुई सुनवाई में मुख्य न्यायधीश ने अंतरिम फैसला सुनाते हुए 8 अगस्त तक डूब क्षेत्र में यथास्थिति रखने के निर्देश दिए है। नर्मदा बचाओ आंदोलन की मेधा पाटकर ने जानकारी देते हुए बताया कि मामले में विस्तृत सुनवाई 8 अगस्त को होगी। जरूरत पड़ने पर माननीय न्यायालय पुनर्वास की तारीख और आगे बढ़ा सकता है। इसके पहले सुप्रीम कोर्ट द्वारा सरदार सरोवर परियोजना के डूब क्षेत्र में आज तक सारे गांवों को खाली करना था। पूर्ण पुनर्वास के लिए तय की गई डेडलाइन का सोमवार अंतिम दिन था। जिसके बाद से ही नर्मदा बचाओ आंदोलन, उनसे जुड़े डूब प्रभावितों ने तैयारियां तेज कर दी थी। रविवार को भी डूब प्रभावितों ने बड़वानी में कफन आंदोलन किया था और धार जिले के चिखल्दा में जल सत्याग्रह। चिखल्दा में ही नर्मदा बचाओ आंदोलन नेत्री मेधा पाटकर सहित 12 लोगों का अनिश्चितकालीन अनशन सोमवार को भी जारी रहा है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  31 July 2017

kisan hadtal

किसान हड़ताल का असर ,दूध-सब्जी की सप्लाई रुकी  मध्यप्रदेश में किसानों की हड़ताल के तीसरे दिन शनिवार को एक बार फिर आम लोगों को दूध और सब्जी की किल्लत का सामना करना पड़ा। कई इलाकों में पुलिस की सुरक्षा में दूध और सब्जी की दुकानें खुलीं, लेकिन इन्हें बहुत ज्यादा कीमत पर बेचा गया। उधर कई जगह आंदोलन कर रहे किसानों ने दूध और सब्जी की सप्लाई रोकने के लिए निजी वाहनों और बसों में भी चेकिंग शुरू कर दी है। भारतीय किसान संघ भी अब इस हड़ताल में शामिल होगा। किसान के आंदोलन पर सरकार हरकत में आ गई है। शनिवार दोपहर मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह ने इंदौर, उज्जैन और भोपाल संभाग के अधिकारियों से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा की। इस दौरान तीनों संभागों के आईजी, कलेक्टर, एसपी और दुग्ध संघ के अधिकारी भी उपस्थित थे। देवास के पास कन्नौद में खेत से 2 लीटर दूध लेकर घर आ रहे किसान को आंदोलनकारियों ने सुबह 8.15 बजे सरकारी अस्पताल के सामने रोक लिया, उन्होंने पहले दूध बहाया इसके बाद किसान के साथ मारपीट की। मामले में रिपोर्ट लिखाई गई। राजोदा में कैलोद चौराहे पर निजी वाहनों को रोक कर किसानों ने चेकिंग की, सुबह से खुली दूध डेयरियां भी बंद करवा दी गईं। खंडवा में बसों की चेकिंग में मिली सब्जी किसानों ने सड़क पर फेंकी। महाराष्ट्र से आया दूध का वाहन भी रोका, जिसके बाद ड्राइवर वाहन को थाने ले गया। वहां पुलिस के संरक्षण में दूध ज्यादा कीमत में बिका। शाजापुर में सांची दूध की सप्लाई होने से स्थिति कुछ सामान्य हुई, लेकिन खुला दूध अब भी नहीं मिला। यहां सब्जी की सप्लाई बंद रही। शाजापुर में करीब बड़ी संख्या में किसान सड़क पर उतर आए और सरकार विरोधी नारे लगाते हुए जमकर प्रदर्शन किया। मंदसौर में 300 लीटर दूध एक कार से जब्त हुआ, जिसके बाद जिला अस्पताल में इसे बांट दिया गया। कई जगह किसानों का विरोध जारी रहा उन्होंने रोक-रोकर वाहनों की चेकिंग की। दूध और सब्जी की किल्लत के चलते कई जगह आम लोगों ने किसानों का विरोध किया। लोगों का कहना है कि यह तरीका बिल्कुल गलत है। झाबुआ और आलीराजपुर में हड़ताल का कोई असर नहीं दिखा, यहां सामान्य रूप से मंडी खुली और दूध की सप्लाई भी सामान्य रही। हालांकि मंड़ि‍यों में सब्जी की आवक पहले की अपेक्षा कम रही। खरगोन सब्जी मंडी में हालत सामान्य रहे लेकिन सब्जियों के भाव आसमान पर रहे। इंदौर और धार में किसानों आंदोलन के चलते व्यापारी खरगोन नहीं पहुंचे। यहां दूध की सप्लाई भी सामान्य रही। रविवार को सब्जी मंडी बंद रह सकती है। जिले के भीकनगांव में सब्जी का व्यापार जारी। यहां सांची के दूध की सप्लाई भी हुई, गड़बड़ी की आशंका के चलते अमूल का दूध नहीं मंगवाया गया। जानकारी के मुता‍बिक सांची का 10 हजार लीटर दूध यहां सप्लाई हुआ। बड़वानी में किसान आंदोलन का असर नहीं रहा।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  3 June 2017

नर्मदा-पूजन

बड़वानी जिले में करामतपुरा से प्रवेश करने वाली नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा आज अलीराजपुर के लिए रवाना हुई। इसके पहले सेवा यात्रा के श्रद्धालुओं एवं समाजसेवियों ने नर्मदा-कलश एवं ध्वज पताका दण्ड के साथ राजघाट पर माँ नर्मदा का पूजा-अर्चन किया। राजघाट पर श्रद्धालुओं को शाल एवं श्रीफल भेंट किया गया। आरती के बाद सेवा यात्रा के जत्थे को गणपुर चौकी तक रैली के रूप में विदा किया गया। रैली में जिला यात्रा प्रभारी श्री भूपेन्द्र आर्य, कलेक्टर श्री तेजस्वी एस. नायक, पुलिस अधीक्षक श्री प्रशांत खरे, समाजसेवी सर्वश्री ओम खण्डेलवाल, प्रेमसिंह पटेल, भगवती प्रसाद शिंदे और भागीरथ कुशवाह आदि शामिल थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 February 2017

बड़वानी नर्मदा सेवा यात्रा

 'नमामि देवी नर्मदे''-सेवा यात्रा के 69वें दिन बड़वानी जिले में राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता शामिल हुए। श्री गुप्ता शुक्रवार की सुबह ग्राम पिपरी पहुँचकर नर्मदा कलश एवं ध्वज पताका दण्ड की पूजा-अर्चना कर सेवा यात्रियों के साथ यात्रा पर रवाना हुए। श्री गुप्ता ने स्थानीय जन-प्रतिनिधियो, प्रशासनिक अधिकारियों, सेवा यात्रियों, ग्रामीणजनों के साथ पिपरी, बगूद की यात्रा कर श्रद्धालुओं को नर्मदा-संरक्षण एवं पर्यावरण सुधारने के लिए पौध-रोपण करने और मद्य-निषेध में सहयोग करने की शपथ दिलवाई। बागवानी बने बडवानी की पहचान यात्रा के दौरान ग्रामों एवं मार्गों में सेवा यात्रियों के साथ नर्मदा जल कलश एवं ध्वज पताका दण्ड का अभूतपूर्व स्वागत हुआ। ग्रमीणों ने स्थानीय स्तर पर उत्पादित फल और गन्ने का रस पिलाकर यात्रियों का स्वागत किया। राजस्व मंत्री ने कहा कि नर्मदा किनारे बसे इन ग्रामों के किसान, नर्मदा की एक किलोमीटर की चौड़ाई की पट्टी में इतना सघन फलों के पौधों का रोपण किया जायेगा कि आगे से लोग बड़वानी को बागवानी जिले के रूप में जानेंगे। इससे जहाँ किसानों की सम्पन्नता और बढ़ेगी वही नर्मदा माँ के किनारे जल-जंगल-जमीन का भी संरक्षण हो पायेगा। राजस्व मंत्री ने किया फलों के पौधों का रोपण सेवा यात्रा के दौरान राजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने ग्राम पिपरी एवं नर्मदा परिक्रमा पथ के किनारे के कृषको के यहाँ फलों के पौधों का रोपण अतिथियो एवं सेवा यात्रियों के साथ मिलकर किया। उन्होंने नारियल और अमरूद के पौधों का रोपण किया। नर्मदा परिक्रमा में शामिल हुई महिला आयोग की अध्यक्ष भी राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष श्रीमती लता वानखेड़े और सदस्य श्रीमती सूर्या चौहान भी शुक्रवार को ग्राम बगूद पहुँचकर माँ नर्मदा सेवा यात्रा में सम्मिलित हुई। यात्रा में सांसद श्री सुभाष पटेल और जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री रणछोड़ पटेल सहित बड़ी संख्या में ग्राम के वरिष्ठ और युवा उपस्थित थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  17 February 2017

महाआरती

बड़वानी जिले के ग्राम दतवाड़ा में आज सुबह महाआरती में बड़ी संख्या में स्थानीय नागरिक शामिल हुए। सेवा यात्रा के कलश एवं ध्वज पर रहवासियों ने पुष्प-वर्षा के साथ यात्रा शुरू की। यात्रा में शामिल नागरिकों ने प्रदेश की सुख, समृद्धि, वैभव की कामना माँ नर्मदा से की। सेवा यात्रा में शामिल संतों ने नर्मदा को स्वच्छ बनाने के लिए पूजन सामग्री विसर्जित नहीं करने का आव्हान नागरिकों से किया। गाँव के बुजुर्ग जहाँ नर्मदा के विशाल स्वरूप और हरे-भरे पेड़ों की जानकारी दे रहे थे, वहीं नवयुवा नर्मदा के किनारे होने वाले वृक्षारोपण से गाँव में आने वाली खुशहाली को लेकर उत्साहित दिख रहे थे। ग्राम दतवाड़ा से शुरू यात्रा को जगह-जगह यात्रा पथ पर स्थानीय नागरिकों का भरपूर समर्थन मिला। स्थानीय नागरिक सेवा यात्रा में बढ़-चढ़कर शामिल होने के साथ ही सांस्कृतिक प्रस्तुति, रांगोली, वंदनवार एवं भजन-कीर्तन के साथ निरन्तर पुष्प-वर्षा के साथ स्वागत किया जा रहा है। नर्मदा सेवा यात्रा आज 68 वें दिन दतवाड़ा से प्रारम्भ होकर गोलाटा, छोटा बड़दा, आंवली, सेगाँव होते हुए ग्राम पीपरी पहुँची जहाँ यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। दूर-दूर से आये साधु-संतों ने यहाँ माँ नर्मदा की उत्साह से महाआरती की। सेवा यात्रा अगले पड़ाव के लिए ग्राम पीपरी में रात्रि विश्राम करेगी।  ''नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा अपने मूल उद्देश्यों में न केवल सफल हो रही, बल्कि यह यात्रा सर्वधर्म समभाव का प्रतीक बन गयी है। यात्रा शुरू होने के 68वें दिन आज बड़वानी जिले के ग्राम गोलाटा की 7 वर्षीय बालिका कुमारी नाजनीन खान ने अपने सिर पर कलश लेकर सेवा यात्रा के साथ चलने की इच्छा पूरी की। इससे सिद्ध होता है कि माँ नर्मदा की सेवा एवं उसे सदा निर्मल एवं गतिमान बनाये रखने का कार्य धर्म, वर्ग, जाति से उपर है। बड़वानी जिले के ग्राम गोलाटा में ''नमामि देवी नर्मदे''-सेवा यात्रा के साथ चल रहे श्रद्धालु उस वक्त आश्चर्य में पड़ गये जब उन्होंने अपने स्वागत एवं सत्कार के लिये ग्रामीणों द्वारा दिये गये फल एवं मिठाई को एक छोटी बच्ची को देकर चुप करवाने का प्रयास किया और बच्ची ने उसे लेने से इंकार कर दिया। कारण जानने पर ज्ञात हुआ कि बच्ची का नाम नाजनीन खान है और वह अपने घर से कलश लेकर श्रद्धालुओ के स्वागत के लिए आई थी। किसी अन्य बालिका ने उसका कलश लेकर अपने सिर पर रख लिया, जिसके कारण वह बिना कलश के हो गई। यात्रा के साथ चल रहे क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता श्री सुखदेव यादव ने तत्काल एक कलश बुलाकर कुमारी नाजनीन खान को स-सम्मान दिया। नाजनीन खुशी-खुशी सेवा यात्रा में कलश लेकर शामिल हुईं। यात्रा जब ग्राम गोलाटा पहुँची तो नवाचार देखने को मिला। साधारणतः अभी तक ग्रामों में नर्मदा जल कलश को ग्रामवासी अपने सिर पर धारण कर ले जाते थे। आज यात्रा ग्राम गोलाटा पहुँची तो नर्मदा जल कलश को पालकी में रखकर चारों तरफ से चार अलग-अलग ग्रामवासियों ने कलश को उठाकर प्रसन्नता और आनंद का अनुभव किया। यात्रा जब जिले के ग्राम छोटा बड़दा पहुँची तो यात्रा का स्वागत महिलाओं-पुरूषों-बच्चों ने पूरे जोश और मन से किया। यात्रा के प्रारंभ में स्कूली बच्चों में भी जोश दिखाई दिया। ग्राम के स्कूली बच्चों ने एक जैसी यूनिफार्म पहनकर यात्रा की स्वागत रैली निकाली। यात्रा के दौरान जगह-जगह पेड़ों पर महिलाओं द्वारा सूखी लौकी को सजा कर लटकाया, जो दूर से देखने पर एक लालटेन की भांति दिख रही थी। यात्रा के स्वागत द्वार को केले और आम के पत्तों, सजी हुई सूखी लौकी एवं भुट्टों के डूंड को रंग कर तोरण बनाया गया था, जो देखने में काफी आकर्षक और पर्यावरण संरक्षित दिख रहा था। गाँव की महिलाओं ने घरों की दीवारों पर गुलाबी रंग से पुताई कर उस पर सफेद रंग से माण्डना बनाकर आकर्षक बनाया। इस दौरान ग्राम की आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने पूरक पोषण आहार से विभिन्न प्रकार के व्यंजन बनाकर स्वल्पाहार करवाया। ग्राम छोटा बड़दा की छोटी-छोटी बालिकाओं ने बड़ा काम कर दिखाया, जब उन्होंने प्रस्तुत नुक्कड़ नाटक और गीत-संगीत से कैशलेस, स्वच्छता, पर्यावरण सहेजने, खुले में शौच नहीं करने, नदियों को प्रदूषण मुक्त करने का संदेश दिया। बच्चियों की तुतलाहट भरी इस संदेश युक्त प्रस्तुति पर संवाद स्थल पर उपस्थित बड़े भी देर तक तालियाँ बजाते रहे। बालिकाओं ने प्रण लिया कि यात्रा के संदेश को बाद में भी मानेंगे एवं दूसरों को भी ऐसा करने के लिये प्रोत्साहित करेंगे। यात्रा ग्राम दत्तवाड़ा से निकलकर जब ग्राम गोलाटा, छोटा बड़दा और आंवली पहुँची तो प्रदेश यात्रा प्रभारी श्री विष्णुदत्त शर्मा, सांसद श्री सुभाष पटेल, जिले के यात्रा प्रभारी श्री भूपेन्द्र आर्य ने ग्रामीणों से जन-संवाद कर उन्हें नर्मदा के संरक्षण, प्रदूषण-मुक्त करवाने तथा पौघ-रोपण का संकल्प दिलवाया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  16 February 2017

नर्मदा नदी

31 मार्च के बाद शराब की दुकानें बंद होंगी अवैध उत्खनन करने वाले वाहन राजसात होंगे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नर्मदा नदी की 100 किलोमीटर की परिधि में जल-परिवहन शुरू किया जायेगा। उन्होंने कहा कि 31 मार्च के बाद नर्मदा तट के 5 किलोमीटर परिधि की शराब की दुकानें बंद कर दी जायेंगी। श्री चौहान ने यह भी कहा कि अब रेत का अवैध उत्खनन करने पर पकड़े गये वाहनों को राजसात कर लिया जायेगा। श्री चौहान आज 'नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा के दौरान बड़वानी जिले के ग्राम मोहीपुरा के नर्मदा तट पर जन-संवाद को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने सपत्नीक यात्रा की अगवानी की और यात्रियों का स्वागत किया। छत्तीसगढ़ की बोहरा समाज की बालिका और समाज बंधु हुए यात्रा में शामिल छत्तीसगढ़ से आयी सुश्री नेहा परवीन का मुख्यमंत्री ने जन-संवाद में सम्मान किया। बोहरा समाज की यह बालिका अपने समाज के लोगों के साथ ध्वज और कलश लेकर नर्मदा तट की पद-यात्रा कर रही है। कार्यक्रम में पशुपालन एवं पर्यावरण मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य, सांसद श्री सुभाष पटेल, अनुसूचित-जाति आयोग के अध्यक्ष एवं यात्रा प्रभारी श्री भूपेन्द्र आर्य, महाराष्ट्र से आये जल-विशेषज्ञ श्री सुरेश खातापुरकर, नेपाल के डॉ. सुबोध शर्मा और विधायक श्री देवी सिंह पटेल सहित नागरिक और जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा नदी भारत की हृदय-रेखा है। नर्मदा संस्कृति की जीवन-धारा है। इस नदी के तट पर अनेक सभ्यता और संस्कृति ने जन्म लिया है। अमरकंटक से शुरू होकर अरब सागर तक 1000 किलोमीटर से अधिक का सफर माँ नर्मदा करती हैं। इसकी 41 सहायक नदियों में से 39 नदियाँ मध्यप्रदेश की सीमा में हैं। प्रदेश की लगभग 30 प्रतिशत आबादी नदी के तट पर बसती है। उन्होंने कहा कि इसलिये हम सबका दायित्व है कि हम माँ नर्मदा का संरक्षण करें, उसका विस्तार कर प्रदूषण से मुक्त करें और नर्मदा की विशाल विरासत को आने वाली पीढ़ी के लिये सहेज कर रखें। मुख्यमंत्री ने कहा कि नदी के संरक्षण और स्वच्छता के लिये चल रही यात्रा अब जन-आंदोलन बन गयी है। लोगों को वृक्षों का महत्व समझाने की कोशिशें सफल हो रही हैं। लोग इस बात को भी समझ रहे हैं कि खुले में शौच नहीं करना है और 'बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ'' को अपनाना है। श्री चौहान ने कहा कि नदी के दोनों तट पर बड़ी संख्या में हो रहे पौध-रोपण से न सिर्फ शुद्ध वातावरण मिलेगा, बल्कि अतिरिक्त आमदनी का साधन भी उपलब्ध होगा। उन्होंने कहा कि यात्रा के दौरान जन-संवाद कार्यक्रम में नशामुक्ति का संकल्प दिलवाने से लोगों के बीच इसका व्यापक असर हो रहा है। प्लास्टिक की थैलियों पर पाबंदी लगाने का भी निर्णय लिया गया है। श्री चौहान ने कहा कि तट के एक किलोमीटर दूरी के गाँव में किसानों की जमीन पर पौध-रोपण के लिये 20 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर तीन वर्ष तक अनुदान और लागत में 40 प्रतिशत की सहायता दी जायेगी। उन्होंने कहा कि मिल्क-रूट की तरह फ्रूट-रूट भी बनाये जायेंगे। इसके लिये सरकार द्वारा सबसिडी दी जायेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि बड़वानी जिले के हर किसान के खेत को नर्मदा के जरिये नहर के माध्यम से जल पहुँचाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आगे चलकर बड़वानी जिला बागवानी जिला बन जायेगा। कार्यक्रम के पूर्व मुख्यमंत्री ग्राम मोहीपुरा में यात्रा में शामिल हुए और उन्होंने माँ नर्मदा के तट पर महा-आरती भी की। खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे ने भी संबोधित किया। यात्रा आज बड़वानी जिले के ग्राम लोहारा से शुरू हुई और किरमोही, केशवपुरा आदि गाँव से होती हुई मोहीपुरा पहुँची। यात्रा का नागरिकों ने पुष्प-वर्षा कर स्वागत किया।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  15 February 2017

माँ नर्मदा

'नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा में नर्मदा भक्तों का कारवाँ आज सुबह बड़वानी जिले के ब्राह्मणगाँव में माँ नर्मदा की आरती एवं पौध-रोपण के बाद आगे बढ़ा। नर्मदा आरती के बाद सेवा यात्रियों का यह जत्था विश्वनाथखेड़ा के लिये रवाना हुआ। इस दौरान मार्ग में जगह-जगह एवं विश्वानाथखेड़ा, चेनपुरा, चिचली पहुँचने पर जत्थे का स्वागत परम्परागत तरीके से गाँव की महिलाओ द्वारा आरती एवं तिलक लगाकर किया गया। ग्रामवासियों ने सेवा भक्तों की आवभगत भी परम्परागत तरीके से की। सांसद श्री सुभाष पटेल, अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष एवं जिला यात्रा प्रभारी श्री भूपेन्द्र आर्य, जन-अभियान परिषद के जबलपुर संभाग एवं सम्पूर्ण यात्रा प्रभारी श्री शिवप्रसाद मालवीय, पूर्व विधायक श्री देवीसिंह पटेल, सामाजिक कार्यकर्ता श्री ओम खण्डेलवाल, श्री सुखदेव यादव, क्षेत्र के जन-प्रतिनिधि और प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित थे। परिक्रमावासी भी जमकर थिरके यात्रा में यात्रा के पहुँचने पर ढोल-ढमाके के साथ जोरदार स्वागत किया गया। परिक्रमावासी, गाँव के स्त्री-पुरूष, बच्चे भी अपने कदमों को रोक न सके और सभी ने यात्रा का स्वागत नाच कर तथा मंगल गीत गाकर किया। चेनपुरा में चाय-नाश्ते के साथ हुआ संवाद नर्मदा भक्तों का कारवाँ विश्वनाथखेड़ा होता हुआ चेनपुरा ग्राम में पहुँचा। यहाँ पर महिला एवं पुरूषों ने प्रवेश-द्वार पर सेवादारों का स्वागत आरती एंव तिलक लगाकर किया। रथ पर चल रहे नर्मदा जल कलश को महिलाओं ने सिर पर रखकर तथा पुरूषों ने ध्वज पताका दण्ड को हाथों में उठाकर ग्राम में भ्रमण कर घर-घर नर्मदा को संरक्षित, प्रदूषण मुक्त बनाये रखने और पर्यावरण सहेजने का संदेश पहुँचाया। ग्रामीणों ने नर्मदा सेवादारों को अपने हाथों बनाया हुआ नाश्ता, कागज के पत्तों एवं चाय मिट्टी के कुल्हड़ में पिलाई। चिचली में हुआ भव्य स्वागत एवं भोजन यात्रा के ग्राम चिचली पहुँचने पर ग्रामीणों ने नर्मदा सेवा भक्तों का भव्य स्वागत किया। यहाँ यात्रियों को दोपहर का भोजन पंगत में बैठाकर पलाश के पत्ते से बनी पत्तल में करवाया। खाने के बाद परिक्रमावासी रथ के साथ अपने अगले यात्रा गाँव नलवाय होते हुए रात्रि-विश्राम स्थल लोहारा की ओर प्रस्थान कर गये। रासेयो इकाई, एनसीसी एवं एनआरएलएम की महिलाओं ने किया सहयोग यात्रा के श्रद्धालुओं की व्यवस्था में रासेयो के विद्यार्थियों ने भी अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया। इस दौरान सिलावद एवं मण्डवाड़ा के रासेयो स्वयंसेवकों तथा सेंधवा महाविद्यालय के एनसीसी महिला विंग ने भोजन परोसने में ग्रामीणों को सहयोग दिया। एनआरएलएम की स्व-सहायता समूह की महिलाओं ने भोजन परोसने एवं पंगत के बाद सम्पूर्ण भोजन-शाला स्थल की साफ-सफाई में विशेष योगदान दिया। गाँवों में हुआ जन-संवाद एवं दिलवाई गई शपथ सेवा यात्रा का जत्था जिस भी ग्राम में पहुँचा वहाँ पर रथ पर कलश एवं ध्वज पताका लेकर चल रहे अतिथियों ने जन-संवाद करते हुए जहाँ ग्रामवासियों को नर्मदा सेवा यात्रा के उद्देश्य के बारे में बताया वहीं उन्हे हाथ उठवाकर प्रण भी करवाया कि वे माँ नर्मदा को सदा प्रवाहित करने में अपना पूर्ण योगदान देंगे। साथ ही नर्मदा माई हमेशा स्वच्छ एवं निर्मल बनी रहे इसलिए अपने गाँव को स्वच्छ बनायेंगे।    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  14 February 2017

माँ नर्मदा

  बड़वानी के ग्राम अंजण तलोड़ा के श्री राधेश्याम कुमावत 'नमामि देवी नर्मदे'- सेवा यात्रा में गौरी कुण्ड जबलपुर से शामिल हुए हैं। इनकी वेशभूषा देखकर कोई भी व्यक्ति इनसे बगैर बात किये नहीं रहता। श्री कुमावत पुण्य सलिला नर्मदा के महत्व को प्रतिपादित करते विभिन्न नारों से लिखा पोस्टर पीठ में लटका रखा है। उनके सिर पर लहरा रहा है 'नमामि देवि नर्मदे'- सेवा यात्रा का ध्वज। उनका कहना है कि यात्रा में सभी धर्म, समाज और वर्ग के लोग साथ चल रहे हैं और साथ भोजन कर रहे हैं। कहीं छुआछूत जैसी समाजिक बुराई नहीं दिखती। यह भी यात्रा की एक बड़ी देन है। उनका मानना है कि इस यात्रा से 'बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ' अभियान को जोड़कर और अधिक सार्थक कर दिया गया है। 'नर्मदा सेवा यात्रा' में 'माँ नर्मदा का अब कर्ज़ चुकाना है- हमें पवित्र बनाना है'' युगों-युगों से देखा है-'माँ नर्मदा जीवन रेखा है', 'हर-हर नर्मदे - घर-घर नर्मदे' और 'नर्मदे हर- जिंदगी भर' जैसे नारों को लगाते हुए जब लोग आगे बढ़ते हैं तो ऐसा लगता है जैसे माँ नर्मदा का प्रवाह साथ चल रहा है। हर यात्री माँ नर्मदा की भक्ति में मगन है। सेवा यात्रा बुधवार को खंडवा जिले के बखर गांव से रवाना होकर करोली नेतन गांव सुलगांव से होकर बुंजली पहुँचेगी । करोली और नेतन गांव में यात्रा का भव्य स्वागत किया गया।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  8 February 2017

शहीद भीमा नायक स्मारक का लोकार्पण

  मुख्यमंत्री  शिवराजसिंह चौहान ने बड़वानी जिले के ग्राम धाबा बावड़ी पहुँचकर स्वतंत्रता सेनानी शहीद भीमा नायक के स्मारक का लोकार्पण किया। केन्द्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री श्री फग्गनसिंह कुलस्ते, पशुपालन कल्याण मंत्री श्री अंतरसिंह आर्य, सांसद श्री सुभाष पटेल, विधायक श्री दीवानसिंह पटेल भी उनके साथ थे। मुख्यमंत्री ने जनजाति क्षेत्र के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भीमा नायक के क्रांतिकारी जीवन वृत्त को दर्शाने वाले 42 चित्रों के संग्रह को भी देखा। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने घर-घर जाकर बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं का शत-प्रतिशत टीकाकरण करने वाली 103 नर्स बहनों की सराहना की। उनके साथ फोटो खिंचवाई। इन नर्सों ने लगभग 400 पहाड़ियों पर बसी बस्तियों में घर-घर जाकर टीकाकरण का कार्य किया। जिला प्रशासन ने इन नर्सों को 'ग्रीन कमाण्डो'' की उपाधि दी है। इस पर आधारित कैलेण्डर का मुख्यमंत्री ने विमोचन किया। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने लोकार्पण समारोह के दौरान उपस्थित एन.सी.सी., एन.एस.एस., मॉडल स्कूल, नर्मदा कान्वेंट स्कूल, माँ तुझे प्रणाम यात्रा में जाने वाले 300 से अधिक स्वयं सेवक के साथ भी फोटो खिंचवाए। उन्होंने युवाओं को प्रोत्साहित किया कि देश-राज्य-क्षेत्र की आन-बान-शान के लिए वे भी कुछ ऐसा करें, जिससे उनका नाम भी इतिहास के सुनहरे पन्नों में दर्ज हो सके। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने भीमा नायक स्मारक परिसर में आदिम जाति अनुसंधान एवं विकास संस्थान भोपाल द्वारा लगाई गई ''आदिबिम्ब'' प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। प्रदर्शनी में जनजाति की संस्कृति एवं उनके द्वारा उपयोग किये जाने वाले संसाधनों को प्रस्तुत किया गया था। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने भीमा नायक स्मारक लोकार्पण के दौरान कांता विकलांग ट्रस्ट जाकर उपस्थित 20 से अधिक दिव्यांग बच्चों से भी मुलाकात की।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 January 2017

जन-जातीय प्रशिक्षण

आदिवासी वर्ग के संविदा शिक्षक के 7000 पद पर भरती के लिये बी.एड. से छूट मिलेगी  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अगले बजट सत्र में आवासहीनों को मकान बनाने के लिये जमीन देने का कानून लाया जायेगा। जन-जातीय वर्ग के बच्चों को शैक्षणिक सुविधा उपलब्ध करवाने के लिये संभागीय मुख्यालयों पर 1000 सीटर तथा जिला मुख्यालय पर 500 सीटर आधुनिक कन्या शिक्षा परिसर खोले जायेंगे। उन्होंने कहा कि 20 हजार आदिवासी युवक-युवती को कौशल उन्नयन के लिये प्रशिक्षण देकर स्व-रोजगार दिया जायेगा। श्री चौहान आज बड़वानी में राज्य-स्तरीय जन-जातीय प्रशिक्षण कार्यक्रम एवं सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में पशुपालन मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गरीबों और आदिवासियों का सर्वांगीण विकास सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में शामिल है। उन्होंने कहा कि लगभग ढाई लाख आदिवासियों को वनाधिकार पट्टे देकर जमीन का मालिकाना हक दिया गया है। श्री चौहान ने कहा कि जन-जातीय वर्ग में उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने के लिये भोपाल, इंदौर और जबलपुर में महाविद्यालयीन छात्रावास खोले जायेंगे। प्रतिभाशाली आदिवासी बच्चों को राष्ट्रीय-स्तर की प्रतियोगी परीक्षाओं में शामिल होने पर दिल्ली के प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थानों में पढ़ने की नि:शुल्क व्यवस्था की जायेगी और आवास की सुविधा भी उपलब्ध करवायी जायेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में आदिवासी वर्ग के संविदा शिक्षकों के 7000 पद को भरने के लिये बी.एड. की अर्हता में छूट दी गयी है। अब इन पदों पर गैर-बी.एड. डिग्रीधारक आदिवासी युवक-युवतियों की नियुक्ति की जायेगी और उसके बाद उन्हें बी.एड. का प्रशिक्षण दिलवाया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिये 110 करोड़ की योजना बनायी गयी है, ताकि किसानों को जैविक उत्पादों का सही मूल्य मिल सके। मुख्यमंत्री ने जिन आदिवासियों के दिसम्बर-2000 से पहले के कब्जे हैं और उन्हें वनाधिकार पट्टे नहीं मिले हैं, ऐसे लोगो को चिन्हित कर वनाधिकार पट्टे देने के निर्देश जिला प्रशासन को दिये। मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब आदिवासियों को ऋण देकर अधिक ब्याज वसूलने वाले सूदखोरों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने जिला प्रशासन को निर्देश दिये कि वे अभियान चलाकर मूलधन की राशि से ज्यादा ब्याज वसूलने वालों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्यवाही करें। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने कहा कि जन-जातीय क्षेत्र में बहुमूल्य खनिज प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है। इन क्षेत्रों के विकास में इससे प्राप्त आय का उपयोग किया जायेगा। उन्होंने खरगोन में जन-नायक टंट्या भील स्मारक की स्थापना के बाद आज बड़वानी जिले के धाबा बावड़ी में शहीद भीमा नायक स्मारक का लोकार्पण करने पर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा‍कि मुख्यमंत्री ने आदिवासी जन-नायकों का सम्मान कर पूरे आदिवासी समाज का सम्मान किया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बड़वानी जिले के पाटी विकासखण्ड में अगले शिक्षा सत्र से नया महाविद्यालय खोलने और खेल आवासीय परिसर बनाने के लिये 15 करोड़ रुपये, बड़वानी शहर में विकास कार्यों के लिये 5 करोड़ रुपये तथा जिले के अन्य नगर परिषदों के लिये 2-2 करोड़ देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने सम्मेलन में कन्या-पूजन किया। शौच से मुक्त ग्राम पंचायतों के सरपंचों को प्रशस्ति-पत्र, सखी योजना में कैशलेस ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने के लिये लेपटॉप और प्रशस्ति-पत्र, शत-प्रतिशत विद्युतीकरण के लिये प्रशस्ति-पत्र, दिल्ली में प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थान में अध्ययन के लिये सहायता, शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाली पंचायतों को 25-25 हजार राशि के चेक, वनाधिकार अधिनियम के तहत पट्टों, आवास सहायता योजना के स्वीकृति-पत्र और राष्ट्रीय प्रवेश परीक्षाओं में चयनित बच्चों को लेपटॉप वितरित किये। इस मौके पर सांसद श्री सुभाष पटेल, श्रीमती सावित्री ठाकुर, विधायक श्री बाला बच्चन सहित जन-प्रतिनिधि और बड़ी संख्या में जन-जातीय वर्ग के लोग उपस्थित थे।     शहीद भीमा नायक स्मारक का लोकार्पण मुख्यमंत्री  शिवराजसिंह चौहान ने बड़वानी जिले के ग्राम धाबा बावड़ी पहुँचकर स्वतंत्रता सेनानी शहीद भीमा नायक के स्मारक का लोकार्पण किया। केन्द्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री श्री फग्गनसिंह कुलस्ते, पशुपालन कल्याण मंत्री श्री अंतरसिंह आर्य, सांसद श्री सुभाष पटेल, विधायक श्री दीवानसिंह पटेल भी उनके साथ थे। मुख्यमंत्री ने जनजाति क्षेत्र के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भीमा नायक के क्रांतिकारी जीवन वृत्त को दर्शाने वाले 42 चित्रों के संग्रह को भी देखा। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने घर-घर जाकर बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं का शत-प्रतिशत टीकाकरण करने वाली 103 नर्स बहनों की सराहना की। उनके साथ फोटो खिंचवाई। इन नर्सों ने लगभग 400 पहाड़ियों पर बसी बस्तियों में घर-घर जाकर टीकाकरण का कार्य किया। जिला प्रशासन ने इन नर्सों को 'ग्रीन कमाण्डो'' की उपाधि दी है। इस पर आधारित कैलेण्डर का मुख्यमंत्री ने विमोचन किया। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने लोकार्पण समारोह के दौरान उपस्थित एन.सी.सी., एन.एस.एस., मॉडल स्कूल, नर्मदा कान्वेंट स्कूल, माँ तुझे प्रणाम यात्रा में जाने वाले 300 से अधिक स्वयं सेवक के साथ भी फोटो खिंचवाए। उन्होंने युवाओं को प्रोत्साहित किया कि देश-राज्य-क्षेत्र की आन-बान-शान के लिए वे भी कुछ ऐसा करें, जिससे उनका नाम भी इतिहास के सुनहरे पन्नों में दर्ज हो सके। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने भीमा नायक स्मारक परिसर में आदिम जाति अनुसंधान एवं विकास संस्थान भोपाल द्वारा लगाई गई ''आदिबिम्ब'' प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। प्रदर्शनी में जनजाति की संस्कृति एवं उनके द्वारा उपयोग किये जाने वाले संसाधनों को प्रस्तुत किया गया था। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने भीमा नायक स्मारक लोकार्पण के दौरान कांता विकलांग ट्रस्ट जाकर उपस्थित 20 से अधिक दिव्यांग बच्चों से भी मुलाकात की।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 January 2017

बाबूलाल गौर

  मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर कहते हैं कि राजनीति अब सेवा की जगह व्यवसाय बन गई है, यही वजह है कि मंत्रियों और राजनेताओं पर भ्रष्टाचार के आरोप सामने आते रहते हैं।  गौर का कहना है कि समय के साथ कार्य संस्कृति भी बदल गई है। वे कहते हैं कि अब शुचिता की बात राजनेताओं के लिए मायने नहीं रखती है। गौरतलब है कि कल गौर ने पूर्व मुख्यमंत्री सुंदरलाल पटवा के निधन पर आयोजित श्रद्धाजलि सभा में यह कहकर सभी को चौंका दिया था कि पहले हम सूटकेस वापस कर देते थे , आजकल नेता खुद सूटकेस मंगवाते हैं।  जब गौर से इस बारे में बात की तो उनका कहना था कि जब सेवा की जगह राजनीति व्यापार बन जाएगी तो इस तरह की बाते उठेगी ही। उन्होंने कहा कि राजनीति में अब अधिकांश नेता सेवा की भावना से नहीं बल्कि व्यवसाय के मकसद से आते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि तत्कालीन पटवा सरकार में 33 महीने में किसी भी मंत्री पर भ्रष्टचार का आरोप नहीं लगा था। जब उनसे पूछा गया कि फिलहाल उन्होंने यह बात किस सन्दर्भ में कही है तो उनका कहना था कि जो बात कहनी थी वे कल कह चुके हैं। इससे अधिक कुछ नहीं कहेंगे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  7 January 2017

शिवराज लन्दन

  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान 26-27 सितम्बर को युनाइटेड किंगडम के दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे। मुख्यमंत्री युनाइटेड किंगडम की सेक्रेटरी ऑफ स्टेट फॉर इंटरनेशनल डेव्हलेपमेंट श्रीमती प्रीति पटेल के आमंत्रण पर स्मार्ट सिटी की अवधारणा और प्रबंधन के तरीकों और स्किल डेव्हलपमेन्ट कार्यों का अवलोकन करने जा रहे हैं। यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री श्री चौहान स्मार्ट सिटी प्रबंधन के विशेषज्ञों से चर्चा करेंगे। मुख्यमंत्री लंदन प्रवास में विभिन्न कंपनियों के प्रमुखों से भी मुलाकात करेंगे। मुख्यमंत्री 26 सितम्बर, सोमवार को  प्रीति पटेल से मुलाकात करेंगे और लंदन के शहर प्रबंधक विशेषज्ञों से चर्चा करेंगे। इसी दिन दोपहर में वे विभिन्न कंपनियों के प्रमुखों से भेंट करेंगे। श्री चौहान प्यूरीको ग्रुप के संस्थापक श्री नाथूराम पुरी से मुलाकात करेंगे। प्यूरीको समूह पेपर, पॉलीमर और प्लास्टिक निर्माण से जुड़ा है। यह समूह स्वागत और रियल स्टेट व्यवसाय में भी सक्रिय हैं। मुख्यमंत्री डी ला रू पिक ग्रुप के प्रमुख से मुलाकात करेंगे। यह समूह करेंसी रखरखाव के उपकरण और सुरक्षा उत्पादों के प्रदाय से जुड़ा है। श्री चौहान रोल्स रॉयस के उपाध्यक्ष श्री मघिन तमिलारासन से भी मुलाकात करेंगे। वे रक्षा क्षेत्र के लिये आवश्यक उपकरण निर्माण की इकाइयों की स्थापना की संभावनाओं पर चर्चा करेंगे। उल्लेखनीय है कि रोल्स रॉयस इंटीग्रेटेड पॉवर और प्रोपल्सन सॉल्यूशन के क्षेत्र में सक्रिय है। यह उच्च तकनीकी से समृद्ध कारों का भी निर्माण करती है। श्री चौहान हारग्रिव्स इंडस्ट्रियल सर्विसेज के व्यापार विकास संचालक श्री केविन साबिन से भेंट करेंगे। यह कंपनी पॉवर, पोर्ट, स्टील और अन्य औद्योगिक क्षेत्रों को मटेरियल प्रबंधन सुविधा उपलब्ध करवाती है। मुख्यमंत्री अपने प्रवास के दौरान श्री मार्टिन हेटफुल से भी मुलाकात करेंगे। श्री चौहान जेसीबी के श्री फिलिप बाउवेरट से भी मिलेंगे। जेसीबी बहुराष्ट्रीय कार्पोरेशन हैं जो निर्माण उपकरण बनाती है। श्री चौहान हिन्दूजा समूह के सह अध्यक्ष श्री गोपीचंद हिन्दूजा के भोज में शामिल होंगे और उनसे ऑटोमोबाइल, एग्री बिजनेस, खाद्य प्र-संस्करण, नवकरणीय ऊर्जा, स्मार्ट सिटी प्रबंधन और एकीकृत औद्योगिक टाउनशिप निर्माण जैसे विषयों पर चर्चा करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान 27 सितम्बर, मंगलवार को भारत- यू.के. स्वास्थ्य संस्थान के चेयरमेन प्रोफेसर माइक पार्कर और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार विभाग यू.के. के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. अजय गुप्ता और माइक निथाक्रियांकिस से मुलाकात करेंगे। श्री चौहान लंदन के डिप्टी मेयर श्री राजेश अग्रवाल से मुलाकात करेंगे और भारतीय उद्योग परिसंघ एवं यू.के.- इंडिया बिजनेस काउंसिल द्वारा आयोजित सेमीनार – 'मध्यप्रदेश में निवेश संभावनाएँ' को संबोधित करेंगे। श्री चौहान 28 सितम्बर, बुधवार को नई दिल्ली वापस आयेंगे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 September 2016

हनुमान जयंती : स्वर्ण चोला पहन नगर भ्रमण पर निकलेंगे सालासर बालाजी

 हनुमान जयंती पर झिलमिलाती रोशनी के बीच मंदिरों में शुक्रवार शाम को चोला चढ़ाकर सुंदरकांड का का पाठ किया जाएगा। वहीं तिलक नगर में सालासर हनुमान को नगर भ्रमण कराया जाएगा। इधर, कुछ देवालयों में अखंड रामायण पाठ जारी है।पढ़ें, कहां क्या होगा...     -  रणजीत हनुमान मंदिर में चोला चढ़ाकर महाआरती की जाएगी। श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए विशेष व्यवस्था की गई। - तिलक नगर स्थित सालासर हनुमानजी को स्वर्ण चोला चढ़ाकर पूजन किया जाएगा। उसके बाद ध्वजारोहण होगा और बालाजी को नगर भ्रमण कराया जाएगा। - श्री हंसदास मठ पीलियाखाल संस्थान के रणछोड़ पंचमुखी चिंताहरण हनुमान मंदिर में रामचरणदास महाराज के सान्निध्य में जन्म आरती सुबह साढ़े 6 बजे होगी। शाम 7 बजे शृंगार होगा।- ओल्ड राजमोहल्ला स्थित हरिराम मंदिर में विशेष शृगार किया जाएगा। यहां हनुमानजी के साथ उनके पुत्र मकरध्वज की मूर्ति आकर्षण का केंद्र रहेगी।- श्री लक्ष्मी वेंकटेश देवस्थान छत्रीबाग में सुबह साढ़े 6 बजे हनुमानजी का विशेष शृंगार किया जाएगा, वहीं रात को सुंदरकांड का पाठ किया जाएगा। - सत्यसाईं चौराहा स्थित पंचमुखी हनुमान मंदिर में विशेष शृंगार किया जाएगा।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

Video

Page Views

  • Last day : 2842
  • Last 7 days : 18353
  • Last 30 days : 71082
Advertisement
Advertisement
Advertisement
All Rights Reserved ©2017 MadhyaBharat News.