Since: 23-09-2009

Latest News :
दिल्ली में हेलिकॉप्टर से पानी के छिड़काव की तैयारी.   अचार, मुरब्बा बनाने की तकनीक दुनिया को करती है उत्साहितः मोदी.   गुजरात में चुनाव दिसम्बर में होने के संकेत.   मीडिया की गति और नियति.   PM मोदी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की मौजूदगी में रावण दहन .   राज ठाकरे की चुनौती, पहले सुधारो मुुंबई लोकल फिर बुलेट ट्रेन की बात.   कबीर की शिक्षा समाज के लिये संजीवनी : कबीर महोत्सव में राष्ट्रपति श्री कोविंद.   चित्रकूट में एक हजार से अधिक लायसेंसी हथियार जमा.   भावांतर भुगतान योजना में एक लाख 12 हजार से अधिक किसानों द्वारा 32 लाख क्विंटल उपज का विक्रय .   उद्योग संवर्द्धन नीति-2014 में संशोधन की मंजूरी.   मुख्यमंत्री शिवराज के निवास पर दशहरा पूजा.   मानव जीवन के लिए नदी बचाना जरूरी : चौहान.   मूणत CD कांड - फॉरेंसिंक रिपोर्ट आते ही शुरू होगी CBI जांच.   मूणत की CD का सच सीबीआई को सौंपने दिल्ली पहुंची एसआईटी.   पुलिस लाइन रायगढ़ के प्रशासनिक भवन में आग.   बीमार पत्नी से झगड़ा पति, हत्या कर फांसी पर झूला.   बस्तर दशहरा के लिए माई जी को न्यौता.   बस्तर को अलग राज्य बनाने की मांग.  

दतिया News


डॉ. नरोत्तम मिश्र

  एमपी के जनसंपर्क, जल-संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने उज्जवला योजना के अंतर्गत दतिया में महिलाओं को निःशुल्क गैस सिलेण्डर वितरित किए। जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी तथा मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की पहल पर गरीब महिलाओं को उज्जवला योजना में निःशुल्क गैस कनेक्शन वितरित किए जा रहे हैं। श्री मिश्र ने कहा कि हमारी बहनें जब चूल्हे पर रोटी बनाती थीं तो कई बार लकड़ियां गीली होने के कारण चूल्हा नहीं जलता था। चूल्हा फूंकते-फूंकते बहनों की आँखों में आंसू आ जाते थे। सरकार ने बहनों की इस पीड़ा को समझा और उज्जवला योजना प्रारंभ की। दतिया जिले में अभी तक 58 हजार लक्ष्य के मुकाबले 30 हजार 200 निःशुल्क गैस सिलेण्डर वितरित किए गए हैं। प्रति सोमवार और मंगलवार को जन सुनवाई में आने वाले महिलाएं जो गैस सिलेण्डर की माँग करती हैं, उनके आवेदन का परीक्षण कर मौके पर ही गैस सिलेण्डर दिए जाते हैं।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  9 August 2017

 डॉ. नरोत्तम मिश्र

मध्यप्रदेश के जनसंपर्क, जल संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया जिले के ग्राम सीतापुर एवं मलकपहाड़ी में 70 करोड़ रुपए लागत की समूह नल-जल योजना का शिलान्यास किया। डॉ. मिश्र ने इस अवसर पर कहा कि माताओं और बहिनों को कुओं एवं हैण्ड़पंपों पर पानी भरने की समस्या से निजात दिलाने के लिये समूह नल-जल योजनाएं बनाई जा रही हैं। इन योजनाओं के पूरा होने पर हर घर में नल से पानी मिलने लगेगा। जनसंपर्क मंत्री ने कहा कि इस योजना के तहत् 70 करोड़ रुपए की लागत से 61 गाँवों में सिंध नदी से पानी लाकर सप्लाई दी जायेगी। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा कि अब हम स्मार्ट सिटी की तर्ज पर स्मार्ट विलेज विकसित करेंगे। अब किसानों को मूलधन पर भी छूट दी जा रही है। एक सौ रुपए के बदले में सरकार केवल 90 रुपए वापस लेगी। उन्होंने किसानों से फसल बीमा भुगतान के संबंध में जानकारी ली। जनसम्पर्क मंत्री ने किसानों से फसलों का बीमा कराने की अपील की। डॉ. नरोत्तम मिश्र ने मुरेरा निवासी श्री हरीसिंह यादव को मुख्यमंत्री निर्माण श्रमिक योजना के तहत उनकी पुत्री हेमा के विवाह के लिए 25 हजार रुपए की आर्थिक सहायता राशि भी प्रदान की।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  19 June 2017

 डॉ. नरोत्तम मिश्र

जनसंपर्क, जल-संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने  दतिया के शासकीय नर्सिंग कॉलेज में प्रथम वर्ष की छात्राओं की लेम्प लाइटिंग सेरेमनी एवं शपथ कार्यक्रम में शामिल हुए। इस अवसर पर 53 छात्राओं ने नर्सिंग की शपथ ग्रहण की। जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कहा कि नर्सिंग का पेशा सेवा से जुड़ा है। इसमें सेवा का भाव अधिक महत्वपूर्ण है। हम कितने खुश हैं इससे बड़ी बात यह है कि हमारे कार्य से लोग कितने खुश हैं। इस अवसर पर श्री विक्रम सिंह बुंदेला, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती रजनी प्रजापति और नगर पालिका अध्यक्ष श्री सुभाष अग्रवाल उपस्थित थे। ओला प्रभावितों को बाँटी राहत राशि जनसंपर्क, जल-संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया जिले के ग्राम गणेशखेड़ा, हतलब, पखरा, बनवास, सनोरा, सुनावली आदि ग्रामों का आज दौरा कर ओला प्रभावित किसानों को राहत राशि बांटी। उन्होंने अधिकारियों को अन्य पात्र किसानों के खातों में भी शीघ्र राशि जमा करवाने के निर्देश दिए। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने बताया कि गणेशखेडा ग्राम के 327 किसानों को 23 लाख 95 हजार 600 रूपये की राशि स्वीकृत की गई है। मंत्री डॉ. मिश्र ने निर्देश दिए कि राहत राशि शीघ्र ही सभी पात्र किसानों के खातों में जमा की जाए। उन्होंने कहा कि गरीब और किसानों को हर संभव मदद दी जाएगी। भूमिहीन तथा आवासहीन व्यक्तियों को मकान बनाकर दिए जाएंगे। उन्होंने शासन द्वारा किए जा रहे कामों का उल्लेख करते हुए कहा कि सरकार किसानों के आंसू पोछने में सबसे आगे है। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने ग्राम हतलब में 210 किसानों 27 लाख 14 हजार 980 रूपये, ग्राम पखरा में 190 किसानों को 13 लाख 11 हजार 190 रूपये, ग्राम बनवास में 423 किसानों को 57 लाख 87 हजार 90 रूपये, ग्राम सनोरा में 506 किसानों को 28 लाख 12 हजार 760 रूपये और ग्राम सुनावली में 160 किसानों को 7 लाख 92 हजार 220 रूपये की राशि मंजूर किए जाने की जानकारी दी। मंत्री डॉ. मिश्र ने किसानों को आश्वस्त किया कि प्राकृतिक विपदा की दशा में राज्य सरकार पूरी संवेदनशीलता के साथ किसानों के साथ खड़ी है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 March 2017

गामा पहलवान

जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने किया दतिया में नवनिर्मित अखाड़े का शुभारंभ  जनसंपर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज बुंदेला कालोनी दतिया में विश्व विजयी गामा पहलवान की स्मृति में नवनिर्मित अखाड़े का शुभारंभ किया। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा कि अखाड़ा एक करोड़ चालीस लाख रुपये की लागत से निर्मित किया गया है। इस अखाड़े में हजारों कुश्ती सीखकर पहलवान बन सकते हैं। मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा कि गामा पहलवान की कुश्ती अनोखी और बेमिसाल थी। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा कि गामा पहलवान ने प्रदेश ही नहीं देश में भी नाम रोशन किया। विश्व में अपने विशिष्ट किस्म की पहलवानी का लोहा भी मनवाया। इसलिए उन्हें विश्व विजयी गामा पहलवान के नाम से नवाजा गया। इस अवसर पर जिले एवं बाहर से आए हुए सभी पहलवानों का मंत्री डॉ. मिश्र और प्रदेश पाठय पुस्तक उपाध्यक्ष श्री अवधेश नायक ने शॉल-श्रीफल से सम्मानित किया। उन्होंने कुश्तियों का आनंद भी लिया। जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री विनय यादव, नगर पालिका अध्यक्ष श्री सुभाष अग्रवाल, उपाध्यक्ष श्री योगेश सक्सेना सहित अनेक जनप्रतिनिधि इस मौके पर उपस्थित थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  26 February 2017

सरकारी स्कूल

  मध्यप्रदेश में सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों को छात्रवृत्ति का भुगतान उनके बैंक खाते में एक साथ पहुँचे, इसके लिये स्कूल शिक्षा विभाग ने इस वर्ष 'मिशन वन क्लिक'' योजना शुरू की है। योजना में कक्षा-1 से 12 में पढ़ने वाले विद्यार्थियों के खाते में छात्रवृत्ति पहुँचायी गयी है। मुख्यमंत्री निवास पर 12 जनवरी को हुई विद्यार्थी पंचायत में 'मिशन वन क्लिक'' के माध्यम से 65 लाख छात्र के बैंक खातों में 400 करोड़ की राशि एक साथ ट्रांसफर की गयी है। कार्यक्रम के जरिये प्रधानमंत्री के डिजिटल इण्डिया कार्यक्रम और डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी) के लक्ष्य को हासिल किया गया। समेकित छात्रवृत्ति योजना में राज्य सरकार के 8 विभाग की 30 प्रकार की छात्रवृत्ति वितरित की गयी है। मिशन वन क्लिक एनआईसी के सहयोग से चलाया जा रहा है। इसमें विद्यार्थियों को ऑनलाइन छात्रवृत्ति स्वीकृति एवं वितरण की जानकारी को समग्र शिक्षा पोर्टल पर डाला गया है। छात्रवृत्ति स्वीकृति एवं वितरण की सभी जानकारी पोर्टल पर पब्लिक डोमेन पर भी उपलब्ध है। छात्र अथवा पालक पोर्टल पर विद्यार्थी की समग्र आई.डी. दर्ज कर छात्रवृत्ति वितरण की स्थिति की जानकारी ले सकते हैं। देशभर में पहला ऐसा मौका है, जब किसी स्थान पर इतने अधिक विद्यार्थी को एक साथ इतनी बड़ी राशि हस्तांतरित की गयी है। जिन 8 विभाग को मिशन वन क्लिक में शामिल किया गया है, उनमें अनुसूचित-जाति, अनुसूचित-जनजाति, पिछड़ा वर्ग अल्पसंख्यक कल्याण, सामाजिक न्याय, घुमक्कड़, अर्द्ध-घुमक्कड़, भवन-सह-निर्माण कर्मकार मण्डल, कृषि मण्डी और सामाजिक न्याय विभाग प्रमुख हैं। मिशन वन क्लिक योजना में इस वर्ष 82 लाख छात्रों को 500 करोड़ की छात्रवृत्ति की स्वीकृति दी गयी है। 400 करोड़ की राशि छात्रों के खाते में पहुँच गयी है। खातों की त्रुटि सुधारने के बाद शेष राशि भी छात्रों को उनके बैंक खातों में शीघ्र पहुँचायी जा रही है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  16 February 2017

solanki datiya

    राजमाता ने पूरा जीवन लोगों के उत्थान के लिए समर्पित किया - जनसंपर्क मंत्री डॉ.मिश्रा  राजमाता द्वारा किए गए कार्य नई पीढ़ी के लिए प्रेरणादायक - प्रभारी मंत्री श्रीमती माया सिंह  दतिया जिले के भांडेर में राजमाता विजयाराजे सिंधिया की प्रतिमा का अनावरण      हरियाणा के राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने कहा कि स्वर्गीय राजमाता विजयाराजे सिंधिया ने समाज के सभी वर्गों के उत्थान के लिए जो कार्य किए हैं, वे अनुकरणीय हैं। उन्होंने अपना पूरा जीवन समाज के लिए समर्पित किया। उन्होंने कहा कि वे हम सबके लिए हमेशा से ही प्रेरणा का केन्द्र-बिन्दु रही है। प्रो. सोलंकी ने यह बात दतिया जिले के भाण्डेर में राजमाता विजयाराजे सिंधिया शासकीय महाविद्यालय के स्वर्ण जयंती समारोह में कही। उन्होंने राजमाता विजयाराजे सिंधिया की मूर्ति का अनावरण किया। उन्होंने पाँच करोड़ की लागत के विकास कार्यों का शिलान्यास भी किया। कार्यक्रम में जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा तथा प्रभारी मंत्री श्रीमती माया सिंह उपस्थित थीं। हरियाणा के राज्यपाल प्रो. सोलंकी ने कहा कि राजमाता सिंधिया ने प्रदेश के विकास का जो सपना 20वीं सदी में देखा था वह अब 21वी सदी में साकार रूप ले रहा है। उन्होंने कहा कि राजमाता ने समाज के सभी वर्गों के उत्थान के क्षेत्र में अनेक कार्य किये हैं। शिक्षा के क्षेत्र में उनके द्वारा किए गए कार्य अविस्मरणीय हैं। राज्यपाल ने कहा कि बालिका शिक्षा को बढ़ाने की दिशा में उनके द्वारा किए गए कार्यों का ही परिणाम है कि आज हमें हर क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी दिख रही है। उनके द्वारा राजनैतिक क्षेत्र में जो कार्य किए गए, उसी का परिणाम है कि उनके बताए मार्ग पर चलकर कई नेताओं ने समाज सेवा के क्षेत्र में अपनी अलग पहचान बनाई है। उन्होंने कहा कि राजमाता किसी एक वर्ग की नहीं बल्कि संपूर्ण समाज का प्रतिनिधित्व करती थी। आदिवासी तथा वनवासी क्षेत्र में भी उन्होंने अनेक उल्लेखनीय कार्य किए है। जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि स्वर्गीय राजमाता सिंधिया ने मेरे जैसे अनेक कार्यकर्ता तैयार किए हैं। राजमाता ने राजपद से लोक पद पर आकर संपूर्ण जीवन लोगों के उत्थान के लिए कार्य किया है। उन्होंने कहा कि हरियाणा के राज्यपाल प्रोफेसर कप्तान सिंह लोकपथ से राजभवन तक पहुँचे हैं। हम सबको स्वर्गीय राजमाता सिंधिया के मार्गदर्शन में कार्य करने का अवसर प्राप्त हुआ है। हम सबको उनके जीवन से प्रेरणा लेकर उनके द्वारा बताए गए मार्ग पर चलना चाहिए। यही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। प्रभारी मंत्री श्रीमती माया सिंह ने कहा कि राजमाता विजयाराजे सिंधिया द्वारा किए गए कार्य नई पीढ़ी के लिए प्रेरणादायक हैं। राजमाता द्वारा समाज और देश के हित में किए गए कार्यों और विशेषकर शिक्षा के क्षेत्र में किए गए कार्य प्रशंसनीय हैं। हम सबको उनके जीवन से प्रेरणा लेकर समाज के उत्थान के लिये कार्य करना चाहिए। पाँच करोड़ के विकास कार्यो का भूमि-पूजन हरियाणा के राज्यपाल प्रोफेसर श्री कप्तान सिंह सोलंकी ने कार्यक्रम के पहले भाण्डेर में पाँच करोड़ रूपये की लागत के विकास कार्यो का भूमि-पूजन किया। अम्बेडकर पार्क का जीर्णोद्धार, रैन बसेरा का निर्माण तथा दुकानों के निर्माण के कार्य शामिल हैं।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  17 December 2016

narottm mishra

  जनसंपर्क डॉ. मिश्रा ने किया सड़क निर्माण कार्य का भूमि-पूजन   जनसंपर्क, जल संसाधन तथा संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि आम जनता को अच्छी सड़कों की सुविधा मिलना उनका हक और सरकार की प्राथमिकता है। मंत्री डॉ. मिश्रा ने दतिया में ग्वालियर झांसी रोड से सोनागिर के लिए बनने वाली रुपये 22 लाख की लागत की सड़क का आज एक समारोह में भूमि-पूजन करते हुए यह बात कही। यह पौने तीन किलोमीटर लम्बी सड़क लोक निर्माण विभाग बनाएगा। अच्छी सड़क बन जाने से सोनागिर पर्यटन क्षेत्र और अन्य ग्रामों के लोगों को भी आवागमन की सुविधा होगी। मंत्री  नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र का विकास अच्छी सड़कों से ही संभव हुआ है। सोनागिर जैन समाज का बड़ा धार्मिक क्षेत्र है। यहाँ की सड़क अच्छी स्थिति में रहे, इस पर विशेष ध्यान दिया जाए। उन्होंने कहा कि प्रदेश भर में गाँवों में सड़कों का जाल बिछ चुका है। दतिया क्षेत्र में भी सड़क निर्माण काम पर विशेष ध्यान दिया गया है। जिन सड़कों की मरम्मत कर फिर से निर्माण की जरूरत होगी उन्हें भी गुणवत्ता के साथ बनाया जायेगा। सड़कों से आर्थिक सामाजिक विकास जनसंपर्क, जल संसाधन तथा संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने दतिया जिले में गोराघाट से पचोखरा तक बनने वाली सड़क का भूमि-पूजन किया। लगभग पौने दो किलोमीटर दूरी की इस सड़क के निर्माण पर 16 लाख रूपये की राशि व्यय होगी। जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि गाँव-गाँव तक सड़कों का जाल बिछा देने से गाँवों का आर्थिक-सामाजिक विकास होगा। विशेष रूप से कृषि एवं व्यवसाय की प्रगति भी होगी।कार्यक्रम के दौरान श्री विपिन गोस्वामी ने दतिया में हुए विकास कार्यों का ब्यौरा दिया।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  11 November 2016

datiya news shivraj

मुख्यमंत्री चौहान ने किसानों को बाँटे रू. 9.39 करोड़ के प्रमाण-पत्र मुख्यमंत्री  शिवराजसिंह चौहान ने  दतिया में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत खरीफ फसल के दौरान किए गए फसल बीमा की क्लेम राशि के रूप में 9 करोड़ 39 लाख की राशि के प्रमाण-पत्र किसानों को वितरित किए। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि किसानों की जिंदगी में प्रसन्नता लाना राज्य सरकार का प्रमुख ध्येय है। इसके लिए राज्य सरकार ने हर आवश्यक कदम उठाया है। इस कड़ी में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना किसानों को विभिन्न तरह से हुई कृषि की क्षति की भरपाई करने वाली महत्वपूर्ण योजना है। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि प्रदेश में वर्ष 2022 तक हर जरूरतमंद को मकान मिल जायेगा। इसके लिए डेढ़ लाख तक की आर्थिक मदद दी जायेगी। प्रदेश में सायकल रिक्शा चालकों को ई-रिक्शा प्रदान की जायेगी। महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए जहाँ अनेक कदम उठाये गये हैं वहीं मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना युवाओं को सफल उद्यमी बनाने में मददगार होगी। मुख्यमंत्री  चौहान ने बताया कि आगामी 4 दिसंबर को भोपाल में गरीब कल्याण मेला लगाया जायेगा। मुख्यमंत्री  चौहान ने दतिया में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अच्छे क्रियान्वयन की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि यह उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री फसल बीमा राशि का किसानों को लाभ दिलाने वाला दतिया प्रदेश का पहला जिला बना है। इस नाते मंत्री डॉ. मिश्रा और दतिया के प्रशासनिक अधिकारी बधाई के पात्र हैं। पूरे देश में इसी वर्ष खरीफ फसल से प्रारंभ की गई इस योजना में खरीफ फसल के दौरान अकेले दतिया जिले में 39 हजार 578 किसानों की 60 हजार 621 हेक्टेयर फसलों का बीमा किया गया था। इसमें 171 करोड़ 37 लाख रुपए की बीमा राशि और 3 करोड़ 42 लाख रुपए की प्रीमियम राशि है। खरीफ फसल के दौरान दतिया जिले में अति वर्षा होने से उड़द और तिल की फसल को नुकसान हुआ था। तत्काल ही बीमा कंपनी को क्लेम भेजा गया और बीमा कंपनी ने 16 हजार 256 किसानों को लगभग 40 करोड़ रुपए की राशि बीमा के रूप में मंजूर की। प्रथम किश्त के रूप में 25 प्रतिशत राशि 9 करोड़ 39 लाख सीधे किसानों के खातों में बीमा कंपनी द्वारा जमा कराई गई। शेष 75 प्रतिशत राशि भी फसल कटाई प्रयोग के बाद अंतिम किश्त के रूप में किसानों को भुगतान कर दी जायेगी। जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मध्य प्रदेश की धरती से दस्युओं का सफाया हो चुका है। किसानों के कल्याण के लिए मुख्यमंत्री  शिवराजसिंह चौहान ने बिना ब्याज के ऋण की व्यवस्था की। प्रदेश में सिंचाई रकबे का तेजी से विस्तार हुआ। पूर्व वर्षों की अव्यवस्थाएँ समाप्त हुईं और विकास के पैमाने पर मध्यप्रदेश तेजी से आगे बढ़ा है। प्रदेश के पुराने बिगड़े हालातों को पलट कर मुख्यमंत्री श्री चौहान के प्रयासों से नई तस्वीर को सामने लाना संभव हुआ है। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्रा ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में दतिया जिले के सभी पात्र किसानों को योजना का अधिक से अधिक लाभ प्राप्त हो, इसके लिए गाँव-गाँव में किसानों से संपर्क स्थापित कर फसल बीमा कराया गया। ईमानदार प्रयासों से योजना का लाभ किसानों को दिलाने में दतिया जिला प्रदेश का पहला जिला बन सका है। यह देश में भी अपने तरह की विशेष शुरुआत है, जिसमें क्रियान्वयन के स्तर पर परिणाम सामने आए हैं।कार्यक्रम में नगरीय विकास और आवास एवं दतिया जिले की प्रभारी  श्रीमती माया सिंह, विधायक और अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  5 November 2016

narottm mishra datiya

दतिया जिले के ग्राम सतारी में जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्रा  जल संसाधन, जनसम्पर्क एवं संसदीय कार्य विभाग मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र आज दतिया जिले के ग्राम सतारी में ग्रामीणों से मिले। उन्होंने कहा कि हमारी संस्कृति ही हमारी पहचान है। संस्कृति और प्रकृति एक दूसरे के पूरक है। प्राचीन काल से संस्कृति को विज्ञान के अनुरूप हमारे आचरण और व्यवहार में ढ़ाला गया है। डॉ. मिश्रा ने कहा कि हमारे आचार-विचार और आहार में विज्ञान को समाहित किया गया है। तुलसी, नीम, पीपल, बरगद आदि के पौधे का महत्व धर्म से जोड़कर बताया गया है। यह पौधे आक्सीजन उत्पादन के भण्डार है। उन्होंने कहा धार्मिक कार्यक्रम हमें एकता में बाँधते हैं और हमारे जीवन में खुशियाँ लाते हैं। उन्होंने मीठा बोलने, कभी किसी के प्रति गाँठ न बाँधने और समाज के लिए अच्छे काम करने की बात कही। गाँव की पहाड़ी पर बने मंदिर पर माता के दर्शन करने पहुँचे मंत्री डॉ. मिश्रा ने पूछा कि मंदिर में साउण्ड-माईक सिस्टम है कि नहीं तो ग्रामीण ने उन्हीं से माँग रख दी। डॉ. मिश्रा ने 25 हजार रुपये की राशि स्वीकृति की घोषणा की। उन्होंने कहा कि साउण्ड सिस्टम ऊँचे स्थान पर इस प्रकार लगाये कि जब गाँव वाले सुबह जागे, तो उन्हें भक्ति संगीत सुनाई दे। दतिया नगर के बग्गीखाने में रामलीला के अंतिम दिन मंत्री डाँ. नरोत्तम मिश्र की उपस्थिति में मुस्लिम समाज एवं खिलाड़ियों को सम्मानित किया गया। इसके बाद सभी ने आरती की। सम्मानितों में मौलाना तईब खान, महमूद मास्टर, सत्तार बाबा, रफीक राईन, मम्मू किलेदार, इकबाल खान के नाम शामिल है। जिन खिलाड़ियों का सम्मान हुआ उनमें कु. फाल्गुनी तिवारी-मलखंब, खुशी दुबे-मार्शल आर्ट, ऋषि प्रताप बुन्देला-मार्शल आर्ट तथा अनिल यादव-जूडो शामिल है। मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा आज दतिया शहर में विभिन्न स्थान पर शोक संवेदना व्यक्त करने भी पहुँचे। श्री बंटी बरसौंया के निवास पर पहुँचकर उनकी ताई श्रीमती विमलादेवी को श्रद्धांजलि दी। पंकज शुक्ला वाली गली में पहुँचकर  बंटी साहू के पिता श्री सियासरण साहू के निधन पर संवेदना व्यक्त की। मंडी के पीछे श्री रामजीशरण सेन के यहाँ पिता श्री हरचरण सेन के निधन पर शोक व्यक्त किया। उन्होंने सेन परिवार को तत्काल 10 हजार रूपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा भी की।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  12 October 2016

narottm mishra

एमपी के जनसंपर्क, जल संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने दतिया जिले में भाण्डेर रोड से ग्राम बिडनियां के लिए 64 लाख रूपये से बनने वाली पक्की सड़क के निर्माण का शिलान्यास किया। डॉ. मिश्रा ने कहा कि सरकार की कोशिश है कि हर तरफ चौतरफा विकास हो, गाँव के नागरिकों को मूलभूत सुविधाएँ मिले। इसी मंशा से इस सड़क निर्माण कार्य का शिलान्यास किया गया है। इसके बन जाने से गाँव के लोगों को आने-जाने की सुविधा सुलभ हो जाएगी। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि राज्य सरकार की मंशा है कि गाँव का समग्र विकास हो। इसके लिए आवागमन की सुविधा जरूरी है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार गाँव, गरीब, किसान तथा कमजोर वर्गो के विकास के लिए कृत-संकल्पित है। मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि गरीबों को एक रूपये किलो गेहूँ, चावल, नमक तथा बच्चों को नि:शुल्क साईकिल, गणवेश, छात्रवृत्ति, महिलाओं को प्रसव के लिए आर्थिक सहायता, लाड़ली लक्ष्मी योजना में बच्ची के 18 साल की होने पर एक लाख 18 हजार रूपये की राशि शासन द्वारा दी जा रही है। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि बेटे-बेटियों को आगे पढ़ने दें एवं बेटियों के महत्व को समझें। डॉ. मिश्रा ने ग्रामीणों की समस्याएँ सुनी और उनके निराकरण के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश भी दिए। मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि गाँव में सिंचाई की समस्या के समाधान के लिए नहर की व्यवस्था की जा रही है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 September 2016

narotam mishra

शिक्षक सम्मान समारोह में जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्रा  हमारे देश में गुरूजनों की आकाश गंगा रही है। डॉ. राधाकृष्णन दैदीप्यमान सितारे थे। उनके गरिमामय व्यक्तितत्व से शिक्षक समुदाय गौरवान्वित है। उनका व्यक्तित्व प्रेरणा देता है। जनसंपर्क, जल संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने यह बात वृंद्धावन धाम, दतिया में सर्वपल्ली डॉ. राधाकृष्णन के जन्म दिवस पर शिक्षक सम्मान समारोह में कही। उन्होंने कहा कि मैं आज शिक्षकों का सम्मान नहीं कर रहा अपितु स्वयं सम्मानित हो रहा हूँ। शिक्षक राष्ट्र का निर्माता होता है इस नाते शिक्षक समाज का यह दायित्व है कि भावी पीढ़ी को शिक्षा के साथ-साथ संस्कारवान भी बनाएँ। भावी-पीढ़ी गुरू वचन को आत्म-सात कर जीवन धन्य करें।   जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि आज सौभाग्य और सुखद संयोग है कि गणेश चतुर्थी एवं शिक्षक दिवस एक साथ मनाया जा रहा है। उन्होंने छात्र जीवन का संस्मरण सुनाते हुए कहा कि मेरे गुरूदेव ने मुझसे तीन वचन लिए थे। पहला जहाँ रहो वहाँ लोग तुम्हें प्रेम करें, जहाँ से जाओ लोग तुम्हें याद करें और जहाँ जाने वाले हो वहाँ लोग तुम्हारा इंतजार करें। मेरी कोशिश रहती है कि मैं अपने गुरू की आज्ञा का अंत:करण से पालन करूँ। जीवन में शिक्षा की उपादेयता को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि ऐसा माना जाता है कि जहाँ एक स्कूल खुलता है वहाँ एक जेलखाना बंद होता है। इस अवसर पर जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्रा ने लगभग 550 शिक्षक का पुष्पहार, श्रीफल एवं प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मान किया।   राज्य-स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह में शिक्षकों का सम्मान  भोपाल में 5 सितम्बर को राज्य-स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह में 12 शिक्षकों को राज्य-स्तरीय शिक्षक पुरस्कार प्रदान किया गया। स्कूल शिक्षा मंत्री कुँवर विजय शाह ने इन शिक्षकों को सम्मानित किया।   जिन शिक्षकों को सम्मानित किया गया, उनमें  राजेश चौरे प्राथमिक शाला धनगाँव जिला खण्डवा, सी.एल. कोष्ठी प्राथमिक शाला पिपरिया जिला नरसिंहपुर, सुधीर कुमार तिवारी प्राथमिक शाला जवाहर नगर सतना, राजेन्द्र शर्मा पूर्व माध्यमिक विद्यालय हर्राटोला जिला शहडोल, विश्वजीत सिंह माध्यमिक विद्यालय कुण्डोल खरगोन, लोकनाथ दीक्षित माध्यमिक शाला सिजोरा मण्डला, रामचन्द्र सोलंकी माध्यमिक शाला बावड़िया देवास, शाहिद खान माध्यमिक शाला लोहारी खण्डवा, भरत व्यास कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय नागदा उज्जैन,  अरुणिमा सिंह एमएलबी स्कूल शहडोल, हुमराज पटले माध्यमिक विद्यालय बालाघाट और  अरविंद जैन एमएलबी कन्या विद्यालय सागर हैं।   पिछले वर्ष के राष्ट्रपति पदक से पुरस्कृत शिक्षकों को भी सम्मानित किया गया। इनमें  गीता सिंह भोपाल और  दिनेश कुमार राव छिंदवाड़ा,  प्रतिभा साहू होशंगाबाद, राजेन्द्र पाल सिंह डंग धार, सतीश कुमार पयासी सागर, जगदीश प्रसाद देशवाली राजगढ़,  सुधा गुप्ता कटनी, पुष्पेन्द्र कुमार पाण्डे अनूपपुर, रघुवीर राय छिंदवाड़ा, अशोक कुमार तिवारी सागर, आलोक सोनवलकर दमोह, प्रमोद कुमार शर्मा दतिया, राजेश कुमार गंधरा उज्जैन और नरेन्द्र कुमार शर्मा देवास शामिल हैं। शिक्षक संगोष्ठी के पुरस्कृत शिक्षक स्वाति रघुवंशी,  संतोष चौहान,  मनोज मिश्रा और  अनिल बरोले को भी सम्मानित किया गया।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 September 2016

दतिया, खजुराहो, मांडू में हेरिटेज टूरिज्म

मध्यप्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये 10 विशेष पर्यटन क्षेत्र बनाये जायेंगे। एमी के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य पर्यटन विकास परिषद की पहली बैठक में विशेष पर्यटन क्षेत्र बनाने के प्रस्ताव को सैद्धांतिक मंजूरी दे दी। विशेष पर्यटन क्षेत्र इंदिरा सागर, गांधीसागर, बाणसागर, साँची, ओरछा, मांडू, खजुराहो, दतिया, तवानगर-मड़ई, तामिया-पातालकोट में स्थापित होंगे। विशेष पर्यटन क्षेत्रों में स्थापित होने वाली पर्यटन परियोजनाओं को पंजीयन शुल्क, स्टाम्प ड्यूटी, मनोरंजन कर, मोटर कार टैक्स आदि में रियायत मिलेगी।प्रत्येक क्षेत्र के लिये पर्यटन गतिविधि को चिन्हित किया गया है। इंदिरा सागर, गांधीसागर, बाणसागर, तवा नगर में वाटर और ईको टूरिज्म को चुना गया है। दतिया, खजुराहो, मांडू में हेरिटेज टूरिज्म चुना गया है। तामिया में ईको टूरिज्म को बढ़ावा दिया जायेगा।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दस विशेष पर्यटन क्षेत्र के अलावा भी विशेष पर्यटन क्षेत्रों को चिन्हित करने और धार्मिक पर्यटन-स्थलों को आपस में जोड़कर विशेष टूरिस्ट सर्किट बनाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि घरेलू पर्यटन की अपार संभावनाओं को देखते हुए पर्यटन-स्थलों पर अधोसंरचनात्मक व्यवस्थाएँ स्थापित करने के काम में प्राथमिकताएँ निर्धारित करना होंगी। उन्होंने कहा कि पर्यटन के क्षेत्र में पूंजी निवेश को आकर्षित करने के लिये निवेश-मित्र पर्यटन नीति बनाई गई है। निजी-सार्वजनिक क्षेत्र की सहभागिता को बढ़ावा दिया गया है।बैठक में बताया गया कि पिछले पाँच साल में प्रदेश में पर्यटकों की संख्या लगभग चार गुना बढ़ी है। वर्ष 2006 में 11 मिलियन थी जो 2011 में 44 मिलियन बढ़ गई है। प्रदेश में नये पर्यटन-स्थलों की सूची बनाई गई है। हेरिटेज टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिये 24 निजी और राज्य के स्वामित्व वाले सात गढ़ी-किला का चुनाव किया गया है। इसमें रामपुर किला (गुना), अर्जुन महल (नरसिंहगढ़-राजगढ), रानी महल (टीकमगढ़), रानी महल (रतलाम), सिंधिया बोर्डिंग हाउस (नीमच), राजगढ़ पैलेस (दतिया), माधवगढ़ पैलेस (सतना) शामिल है।बैठक में बताया गया कि प्रमुख पर्यटन स्थलों तक पहुँचने वाली सड़कों का सुधार किया जा रहा है। नये हवाई मार्गों को चिन्हित किया गया है जिसमें खजुराहो-जयपुर, खजुराहो-मुम्बई, जबलपुर-मुम्बई, जबलपुर-कोलकाता, भोपाल-वाराणसी-गया शामिल हैं। इसी प्रकार भोपाल-पचमढ़ी, भोपाल-उज्जैन, ओंकारेश्वर, भोपाल-साँची, भीमबैठका-तवा, ग्वालियर-शिवपुरी, ओरछा, खजुराहो, इंदौर, इंदौर-मांडू-गांधीसागर के बीच हेलीकॉप्टर सेवा प्रस्तावित की गई है। वर्ष भर पर्यटन की गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिये वार्षिक कैलेण्डर बनाया गया है। भोपाल में जनवरी 2013 में झील महोत्सव की रूपरेखा तैयार की जा रही है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

राजभाषा विभाग होगा पुनर्जीवित

राजभाषा विभाग को पुनर्जीवित किया जाएगा। हिंदी दिवस पर हिंदी के क्षेत्र में काम करने वालों को पुरस्कृत किया जाएगा। इसके लिए विश्व-स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन भोपाल में होगा। इसमें पांच श्रेणी में हिंदी की अभूतपूर्व सेवा करने वालों को प्रतिवर्ष पुरस्कार दिया जाएगा। ये बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहीं। वेशहीद भवन में ‘हिन्दी पर्व’ कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि आजादी के बाद भी हिंदी के साथ अंग्रेजियत की कुंठा के कारण अन्याय हो रहा है। हिंदी बोलने से मान घटता है, इस कुंठा से मुक्त होना होगा। विभिन्न देशों की यात्राओं से मिले अनुभवों का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि उन्होंने सब जगह हिंदी में ही संबोधन दिए। इस अवसर पर कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री उमाशंकर गुप्ता, संस्कृति एवं पर्यटन राज्यमंत्री सुरेंद्र पटवा, अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय के उप कुलपति मोहनलाल छीपा, प्रमुख सचिव संस्कृति मनोज श्रीवास्तव और संस्कृति संचालक रेणु तिवारी भी विशेष रूप से मौजूद थे।इस अवसर पर राजकुमार बंसल, डॉ. मुनेश्वर गुप्ता, डॉ. मनोहर भंडारी, ओमप्रकाश श्रीवास्तव और सी-डेक संस्था ने प्राप्त किए। माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय के कुलपति

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

चित्रकूट के विकास की दीर्घकालिक योजना बनेगी

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि आध्यात्मिक और धार्मिक नगर चित्रकूट के विकास की ऐसी दीर्घकालिक योजना बनायी जाय जिससे आगामी 25 से 50 वर्ष तक वहाँ आने वाले तीर्थ-यात्रियों को सुविधा मिलती रहे। इसके लिये विश्व-स्तरीय विशेषज्ञों की भी राय ली जाय। कानून-व्यवस्था को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए मुख्यमंत्री अब प्रति सोमवार गृह विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा करेंगे। बैठक में जानकारी दी गयी कि चित्रकूट में 90 प्रतिशत अतिक्रमण सहमति से हटा दिये गये हैं। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि अतिक्रमण पुन: नहीं हो, इसे सुनिश्चित करें।चित्रकूट में आने वाले तीर्थ-यात्रियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए मुख्यमंत्री केन्द्रीय रेल मंत्री को रेलों की संख्या बढ़ाने के लिये पत्र लिखेंगे। उन्होंने निर्देश दिये कि आगामी त्यौहारों पर पुख्ता व्यवस्था की जाये। जिन स्थान पर भीड़ इकट्टा होती है वहाँ पहले से प्रबंध किये जाये।गृह मंत्री गौर ने कहा कि चित्रकूट में व्यवस्थाओं में समन्वय के लिये उत्तरप्रदेश सरकार से भी विचार-विमर्श किया जायेगा। श्री गौर ने नगर पंचायत द्वारा यात्रियों पर लगाया जाने वाला मेला कर हटाये जाने का सुझाव दिया।बैठक में बताया गया कि चित्रकूट ट्रस्ट बनाने की कार्रवाई जारी है। चित्रकूट के समग्र विकास के लिये आगे सभी विभाग की बैठक आयोजित की जायेगी। बैठक में मुख्य सचिव श्री अन्टोनी डिसा, पुलिस महानिदेशक नंदन दुबे, प्रमुख सचिव गृहबसंत प्रताप सिंह, अपर पुलिस महानिदेशक सरबजीत सिंह तथा ओएसडी सुधीर सक्सेना भी उपस्थित थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

ओरछा में 125 किस्म के  गिद्ध

विश्व में मात्र तीन प्रतिशत ही बचे हैं गिद्ध टीकमगढ़ जिले के ओरछा अभयारण्य में पहली बार की गई गिद्धों की गणना में 4 प्रजातियों के कुल 125 गिद्ध और उनके घोसलों का पता चला है। इन गिद्धों में 50 देशी गिद्ध, 63 श्वेत प्रष्ठ गिद्ध, 09 गोबर गिद्ध और 3 राज्य गिद्ध शामिल हैं। हिमालय से उड़कर ओरछा आने वाले प्रवासी गिद्ध सिनेरियस ग्रिफान की पहचान पहली बार ओरछा में की गई, जो एक बड़ी उपलब्धि है। लखनऊ विश्वविद्यालय की जन्तु विज्ञानी डॉ. अमिता कनौजिया ने गणना की रिपोर्ट अपनी सिफारिशों के साथ पेश कर दी है।वन संरक्षक, वनमंडल टीकमगढ़ श्री एम.सी. सिंहल ने बताया कि सम्पूर्ण विश्व में मात्र 3 प्रतिशत ही गिद्ध बचे हैं। जिप्स प्रजाति के गिद्धों को आई.यू.सी.एन. ने जोखिम प्रजाति में शामिल किया है। मध्यप्रदेश में भी विगत दो दशक में गिद्धों की संख्या में कमी आई है। इसके मद्देनजर वन विभाग द्वारा गिद्ध संरक्षण के लिए संगोष्ठी के आयोजन सहित विशिष्ट उपाय किए जा रहे हैं। ओरछा में विगत 17 एवं 18 दिसम्बर को गिद्ध गणना प्रशिक्षित विशेषज्ञों की छह टीमों के माध्यम से सिनौनया, क्षत्री समहू, मडोर जहाँगीर महल, कोरी गुलेदा और कारीपाडर क्षेत्रों में वैज्ञानिक तरीके से की गई। गणना के दौरान 125 सफेद पृष्ठ गिद्ध (White Backed Vulture), भारतीय गिद्ध (Long Billed Vulture), गोबर गिद्ध (Egyptian Vulture) और राजगिद्ध गिद्धों के चिन्ह अवासीय क्षेत्रों में पाए गए।गणना रिपोर्ट के मुताबिक ओरछा अभयारण्य के सिनौनिया क्षेत्र में कुल 14 गिद्द पाए गए। इनमें 1 भारतीय, 11 श्वेत पृष्ठ गिद्ध, 2 गोबर गिद्ध और एक घोसला शामिल हैं। क्षत्री समूह में गणना के दौरान 35 गिद्ध, 3 गोबर गिद्द और भारतीय गिद्ध के 14 घोसलें मिले हैं। मडोर क्षेत्र में मात्र एक ही प्रजाति गोबर गिद्ध, 1 गोबर गिद्ध और एक भारतीय गिद्ध का घोसला, कोटी गुलेंदा क्षेत्र में 6 भारतीय गिद्ध, 17 श्वेत पृष्ठ गिद्ध और 3 राजगिद्ध पाए गए।गिद्धों की 22 प्रजातियाँ होती हैं जिनमें से 15 पूर्वी देश और 7 पश्चिमी देश में पाई जाती हैं। गिद्धों के संरक्षण के लिये वन्य-प्राणियों के कानून में 2002 में संशोधन किए गए और वन्य-प्रणाली अधिनियम 1972 की अनुसूची में शामिल किया गया |

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

ये गब्बर सिंह  खेती करता है

मध्यप्रदेश के दतिया जिले के गब्बर सिंह ने बीहड़ों में बसे गाँव 'लांच' में उद्यानिकी फसलों को अपना कर केवल डेढ़-दो बीघा जमीन में लाखों रुपये की ककड़ी, बैंगन और अन्य सब्जियों की खेती कर अपनी आय बढ़ाई है।इन्दरगढ़ तहसील का लांच गाँव सिंध नदी के किनारे हैं। यहाँ के निवासी गब्बर सिंह के पास कुल 6 बीघा जमीन है। इस जमीन में परम्परागत खेती से जब उसके परिवार का गुजारा मुश्किल हुआ तो उसने कुछ हटकर करने के लिये उद्यानिकी विभाग से सम्पर्क किया। विभाग के अधिकारियों ने गब्बर सिंह को 2 बीघा जमीन में नई तकनीक और उन्नत बीज से सब्जी की खेती के लिये प्रेरित किया। गब्बर सिंह द्वारा की गई ककड़ी और बैंगन की खेती मुनाफे का धंधा बन गई और वह सालाना एक से दो लाख कमाने लगे।आज स्थिति यह है कि गब्बर सिंह ने गाँव में और जमीन खरीद कर अपना खेती का रकबा 16 बीघा तक बढ़ा लिया है। गब्बर की तरक्की देखकर गाँव के अन्य किसान धनीराम, पातीराम, लल्लू, रामहेत, हरी परिहार, पूरन परिहार आदि ने भी सब्जी की खेती को अपनाया और अच्छा लाभ कमा रहे हैं।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

Video

Page Views

  • Last day : 2842
  • Last 7 days : 18353
  • Last 30 days : 71082
Advertisement
Advertisement
Advertisement
All Rights Reserved ©2017 MadhyaBharat News.