Since: 23-09-2009

  Latest News :
जनता कांग्रेस ने कलेक्टर को लिखा पत्र.   मोदी जहां जाते हैं झूठ बोल कर आते हैं.   मोदी:इस बार की दिवाली बेटियों को समर्पित.   मायावती अपनाएंगी बौद्ध धर्म.   व्यापारी हो रहे हैं लामबंद.   समुद्र तट पर PM मोदी का स्वच्छता अभियान.   पार्षदों ने जताया विरोध ,दर्ज करवाईं आपत्तियां.   मध्यप्रदेश रियल एस्टेट नीति में बदलाव.   लहसुन से भरे ट्रक में लगी आग.   राहुल ने एमपी का भाषण महाराष्ट्र में दिया.   ब्लास्ट से टूटा पत्थर कार में घुसा,चालक की मौत.   हनी ट्रैप मामले में मंत्री ने महिलाओं को बताया दोषी.   शरदपूर्णिमा पर बंटी जड़ीबूटी वाली खीर.   लखमा ने की रमन सिंह के नार्को टेस्ट की मांग.   झीरम घाटी कांड लखमा की भूमिका की जाँच हो.   इनामी नक्सली माड़वी गंगी ने किया समर्पण.   खाई में गिरी बस पेड़ से टकरा कर रुकी.   पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में हुआ एक नक्सली ढेर.  

हरदा News


 MOKSH AMAVASYA

नर्मदा तट पर रात भर तंत्र-मंत्र क्रियाएं चलती रहीं   सर्व पितृ अमावस्या पर नर्मदा तट पर लोगों ने अपने पितरों को श्रद्घांजलि देते हुए नर्मदा में डुबकियां लगाई | . भूतड़ी अमावस्या होने से नर्मदा तट पर रात भर तंत्र-मंत्र क्रियाएं चलती रहीं  |  सर्व पितृ मोक्ष अमावस्या पर हंडिया और नेमावर के नर्मदा तट पर  लोगों ने अपने पितरों को श्रद्घांजलि देते हुए नर्मदा में डुबकियां लगाई. |  तटों के प्राचीन मंदिरों में दर्शन कर जल चढ़ाने वालों की भीड़ लगी रही |  भूतड़ी अमावस्या होने से नर्मदा तट पर रात भर तंत्र-मंत्र क्रियाएं चलती रहीं | अमावस्या पर  शनिवार के दिन से रविवार सुबह तक  नेमावर के सिद्धनाथ मंदिर घाट और हंडिया के रिद्धनाथ मंदिर  घाट पर  श्रद्धालुओं ने स्नान कर भगवान भोलेनाथ के मंदिर में जल चढ़ाया और विधि विधान से पूजा अर्चना की. | नेमावर घाट पर ही  करीब दो लाख लोगों ने स्नान किया |  इधर हंडिया घाट पर भी भीड़ रही इनकी सुरक्षा के लिए एक दिन पूर्व से ही  पुलिस के सैकड़ो जवान तैनात थे   | इसके बाद भी अवारा मवेशियों घाट पर होने से स्नान करने वाले लोगों को परेशानी हुई |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  29 September 2019

 KISHAN

यूरिया बिना लिए खाली हाथ लौट रहे हैं किसान   हरदा में यूरिया खाद को लेकर किसानों की मारामारी चल रही है | एक मात्र खाद बिक्री केंद्र होने से कुछ ही किसानों को खाद मिल पाता है |  अधिकांश  किसानों को खाद खत्म होने पर मायूसी हाथ लगती है |  कृषि विभाग ने  विपणन संघ से खाद का वितरण  तो शुरू कर दिया लेकिन  एक ही मशीन होने के  कारण सैकड़ों किसानों को रोज खाली हाथ वापस लौटना पड़ रहा है |  हरदा जिले में खरीफ सीजन की सोयाबीन मक्का उड़द की कटाई शुरू भी नहीं हुई | और किसान रवि सीजन की फसल की तैयारी में जुट गया है.| करीब डेढ़ माह बाद उपयोग होने वाले  यूरिया की अभी से मारामारी शुरू हो गई है | कृषि विभाग द्वारा विपणन संघ से खाद का वितरण शुरू कर दिया गया है.| परंतु एक ही मशीन होने के चलते सैकड़ों किसानों को रोज खाली हाथ वापस लौटना पड़ रहा है | .वही कृषि विभाग के अधिकारियों ने बताया कि शासन ने किसानों को यूरिया केवल शासकीय गोदाम से नगद में देने का निर्णय लिया है.|  सरकारी दावों से उलट किसान खाद को लेकर बहुत परेशान है |  किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के अधिकारीयों का कहना है  रवि  मौसम में बोई जाने वाली फसलों के लिए सरकार ने पर्याप्त प्रबंध किये हैं और किसानों को किसी प्रकार की समस्या नहीं हो रही है |  जितने खाद की आवश्यकता है उतना खाद उपलब्ध है  | 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  28 September 2019

 PC SHARMA

मंत्री ने दिए समस्याओं को हल करने के निर्देश किसानो की गुहार  ख़राब फसल का हो सर्वे     हरदा में आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में मंत्री पी सी शर्मा  के निश्चित समय से एक घण्टे देरी से पहुँचने पर ग्रामीण भड़क गए |  ग्रामीणों ने  समस्या  नही सुनने के भी आरोप लगाए  | इसके बाद प्रभारी  मंत्री पी सी शर्मा ने  जनता की समस्याओं को सुना और संबंधित अधिकारियों को मंच पर बुलाकर उन आवेदनों पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए  |  हरदा के ग्राम झाड़पा में आपकी सरकार आपके द्वार जिला स्तरीय  शिविर में दो बजे तक प्रभारी मंत्री पी सी शर्मा  के आने का समय तय था  |  परन्तु  मंत्री  एक घंटे  देर से पहुंचे  | जनसम्पर्क मंत्री पीसी शर्मा तो कार्यक्रम में  लेट पहुंचे ही  साथ ही  प्रशासन के आला अधिकारी भी समय पर नहीं आये  |   शिविर की व्यवस्था में लगे विभागों के अधिकारियों ने लोगों के आवेदन लिए   |  जानकारी के अनुसार शिविर में 101 आवेदन आए, जिनमे से  अनेक आवेदनों का मौके पर ही निराकरण किया गया  | मंत्री द्वारा निश्चित समय से एक घण्टे देरी से पहुँचने  पर  ग्रामीण  भड़क गए  थे  | ग्रामीणो ने  उनकी समस्य नही सुने जाने का आरोप लगाया  |  शिविर में अनेक लोगों द्वारा प्रभारी मंत्री शर्मा को अपने आवेदन दिए गए   |  प्रभारीमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को मंच पर बुलाकर उन आवेदनों पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए  |   शिविर में किसान  खराब हुई  फसलों के पौधे को  साथ लेकर लेकर आए   और तत्काल  सर्वे करवाने की गुहार लगाई   | मंत्री पीसी शर्मा ने भी खेत जाकर फसलों की स्थिति देखी  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 September 2019

 AADIWAASI KALYAN

  DPC ने कहा आरोप निराधार शैक्षणिक कार्य ठीक नहीं   आदिवासी कल्याण विभाग के  छात्रावासों का प्रभार संभाल रही तीन शिक्षिकाओं ने  डीपीसी के खिलाफ  जातिसूचक शब्द को लेकर शिकायत दर्ज कराई   शिक्षिकाओं ने आरोप लगाया है की उन्होंने जाति सूचक शब्द बोलते हुए नौकरी  से निकालने की धमकी दी गई  | उधर डीपीएस ने आरोपों को निराधार बताया है |   हरदा में  आदिवासी कल्याण विभाग के आश्रम व छात्रावासों का प्रभार संभाल रही तीन शिक्षिकाओं ने  थाने  में डीपीसी डॉ आर एस तिवारी  के खिलाफ  शिकायत दर्ज कराई  | उनका आरोप है  कि  डीपीसी ने उन्हें कार्यालय का समय ख़त्म होने के बाद  बुलाया और जातिसूचक शब्दों से  अपमानित किया | शिक्षिकाओं ने  आरोप लगाया है कि जब वो  स्कूल की वर्क बुक सहित अन्य दस्तावेज दिखा रही थी  तभी तिवारी अचानक उन पर भड़क गए | वेतन रोकने तथा नौकरी से निकालने की धमकी देने लगे  |  पीड़ित महिलाओं ने पुलिस और कलेक्टर से इस  मामले की जांच  कर कार्रवाई करने की मांग की है  जब डीपीसी  डॉक्टर तिवारी   बात की गई तो उनका कहना है की  शिक्षा विभाग के  11 शिक्षक शिक्षिकाएं आदिम जाति कल्याण विभाग के आश्रम व छात्रावास का अतिरिक्त प्रभार संभाल  रहे  हैं  |  इससे उनके मूल स्कूलों में शैक्षणिक कार्य प्रभावित हो रहा है  |  एक महीने पहले जिला शिक्षा अधिकारी ने आदेश जारी कर उक्त शिक्षक शिक्षिकाओं को स्कूल में पढ़ाने को कहा था| इसके बावजूद इन स्कूलों की शैक्षणिक गुणवत्ता में सुधार नहीं आया  |  इसी संबंध में शिक्षक गुरुवार को उनके कार्यालय पहुंचे थे |   वहां ऐसी कोई बात नहीं हुई जो उन पर आरोप लगाए जा रहे  हैं |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 September 2019

 SARKAR

नए नियम लाकर किसानो को फिर ठगने का प्रयास   कमलनाथ सरकार के किसान कर्ज माफी के बदलते प्रारूप पर पूर्व राजस्व मंत्री कमल पटेल ने निशाना साधते हुए कहा की  |   सरकार ने नया प्रारूप लाकर  एक झटके में  5 लाख किसानों को कर्ज माफी से वंचित कर दिया  |  यह सरकार किसानो को  ठगने का नया रास्ता ढूढ़ रही है  |  और खुद तबादला उद्योग में व्यस्त है  |  पूर्व राजस्व मंत्री कमल पटेल ने कमलनाथ सरकार पर हमला करते हुए कहा की प्रदेश की सरकार ने किसानो के साथ धोखा किया है  |  कर्जमाफी को लेकर बनाए गए नए प्रारूप  पर कमल पटेल ने  कहा कि प्रदेश के किसानों को ठगने का नया प्रयास किया जा रहा है  | उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार कर्जमाफी को लेकर एक के बाद एक कई प्रारूप लेकर आ रही है   |  पहले लाल, पीले, हरे, नीले फार्म भरवाए गए   |  अब कुछ नए नियमों के साथ नये प्रारूप सामने आ रहे हैं   |  लेकिन प्रदेश के किसानों में कांग्रेस सरकार के खिलाफ भयंकर असंतोष है  |  प्रदेश में किसानों के हितों की लगातार अनदेखी की जा  रही है   |   पटेल ने कहा की  पूरे प्रदेश में किसान त्राहि त्राहि कर रहा है  |  और सरकार तबादले के उद्योग में व्यस्त है  |  ऐसा लग रहा है  कि यह सरकार तबादले के जरिए भ्रष्टाचार का रिकार्ड बनाकर  गिनीज बुक में अपना नाम दर्ज करवाना चाहती है   | लेकिन अब हम चुप नहीं बैठेंगे   |  अब किसानों को साथ लेकर सरकार के खिलाफ एक बड़ा जन आन्दोलन करेंगे   | और किसानों को उनका हक दिलाएंगे |    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  23 August 2019

OPERATION THEATER

ऑपरेशन थियेटर में पानी रोके गए ऑपरेशन      मध्यप्रदेश में हो रही बारिश सरकारी अस्पतालों की पोल खोला रही है   | हरदा में बारिश के चलते  अस्पताल के वार्डों और ऑपरेशन थिएटर में पानी भर गया  | जिससे अस्पताल की व्यवस्था चरमरा गई  | और मरीजों को परेशानी का सामना करना  पड़ा  | पानी के निकासी की कोई व्यवस्था नहीं होने से  पानी अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में पहुँच गया और मरीजों के ऑपरेशन तक रोकना पड़ गए  .  हरदा  में हुई तेज बारिश के चलते जिला अस्पताल में पानी भर गया  |  जिससे अस्पताल में आये मरीजों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ा  | अस्पताल के वार्डों सहित ऑपरेशन थिएटर में भी पानी भर गया  |  जिसके चलते  प्रसूता महिलाओं के ऑपरेशन को रोकना पड़ा  |  इसमें अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही साफ़ देखी जा सकती है  |  अस्पताल में भरे पानी के निकासी की कोई व्यवस्था नहीं है  |  वार्डों में बारिश का पानी भरने से वार्डों की हालत देखने लायक नहीं बची  | अस्पताल में पानी भरने से मरीजों में संक्रमण बढ़ने का खतरा बढ़ गया है  |  वहीं, मरीजों के साथ परिजनों को भी डर सता रहा है कि  | ऐसी स्थिती में उनके अपनों की हालत खराब होगी तो वह क्या करेंगे |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 August 2019

 BARISH

100 से अधिक गाँव का जिला मुख्यालय से संपर्क टूटा    आफत बनती जा रही बारिश से सभी नदी नाले उफान पर चल रहे हैं  |  ऐसे में ग्रामीणों को सबसे ज्यादा समस्या का सामना करना पड़ रहा हैं  गावों का मुख्यालय से संपर्क टूट चूका हैं  | लोग मज़बूरी में जान जोखिम में डालकर उफनती नदी पार कर रहे है  |मगर प्रशाशन किसी तरह की कोई व्यवस्था  नहीं कर रहा |   ऐसा लगता हैं की मानो प्रशाशन किसी बड़ी घटना के इंतजार में हैं  |    24 घंटे से  हो रही लगातार बारिश से जिले के नदी नाले उफान पर है  |  हरदा जिले में  हो रही लगातार बारिश के चलते सभी नदी नाले उफान पर है  |  जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है  |  नदियों में पानी होने की बजह से 100 से अधिक गाँव का जिला मुख्यालय से संपर्क टूट चुका है  |  हालात यह है कि लोग जान जोखिम में डालकर उफनती नदी पर कर रहे है  |  परन्तु प्रशासन द्वारा नदी की पुलिया पर न तो रेलिंग लगाई गई हैं  | और ना ही हादसा होने पर किसी भी तरह के बचाव की कोई भी व्यवस्था की गई  हैं  |                 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  16 August 2019

harda

  मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज हरदा जिले में कहा कि सिराली को नगर परिषद बनाया जायेगा और यहाँ महाविद्यालय भवन का निर्माण करवाया जायेगा। उन्होंने रहटगाँव में महाविद्यालय खोलने की भी घोषणा की। मुख्यमंत्री आज सिराली और खिरकिया में 119 करोड़ के निर्माण एवं विकास कार्यों का लोकार्पण तथा भूमि-पूजन करने के बाद विशाल जनसभा को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर हरदा में 100 सीटर बालिका छात्रावास और 100 सीटर बालक छात्रावास, निर्वाचन विभाग के 1500 ईवीएम गोडाउन का भूमि-पूजन किया। इसी के साथ, स्कूल शिक्षा विभाग के अंतर्गत शासकीय हायर सेकेण्डरी स्कूल मांदला, पीपल्या, मोरगढ़ी, शासकीय हाई स्कूल रामटेकरेयत हायर सेकेण्डरी मॉडल स्कूल चेकड़ी, बालिका छात्रावास चारुवा, शासकीय हाई स्कूल भवन जटपुरामॉल, शासकीय हायर सेकेण्डरी कन्या स्कूल सिराली, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय नयापुरा, सोडलपुर, सोनतलाई, हंडिया, रहटगाँव, टिमरनी और धौलपुरकलां के भवनों का शिलान्यास किया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  7 September 2018

कोलकता के मीठे पान की बेमिसाल खेती

हरदा जिले के टिमरनी विकास खंड के गांव छिरपुरा के बंसत वर्मा अपने पॉली हाउस में पान की बेमिसाल पैदावर से बहुत खुश हैं। उन्हें पंरपरागत खेती से अलग हटकर किया गया यह प्रयोग अच्छा मुनाफा दे रहा है।  खेती में नए प्रयोग और अच्छा मुनाफा कमाने बंसत ने उद्यानिकी विभाग की योजना के अन्तर्गत पॉली हाउस बनाकर पान की खेती की शुरूआत की। इस खेती में सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण बात यह है कि एक बार पान की बेल लगाने के बाद सालों तक इससे पत्ते ले सकते हैं। बार-बार बीज (बेल) लगाने की आवश्यकता नहीं होती। पंरपरागत खेती से हटकर यह प्रयोग हरदा जिले में पहली बार हुआ है कि जब किसी किसान ने पॉली हाउस बनाकर पान की खेती शुरू की है। बंसत वर्मा ने 9.37 लाख रुपये से अपना पाली हाउस बनवाया और वहाँ कोलकता की सुप्रसिद्ध सोफिया पान की प्रजाति को पहली बार लगाया। यह संरक्षित खेती है। पॉली हाउस बनाने से पान की फसल तेज गर्मी, पाले और बरसात की वहज से नष्ट नहीं होती। एक बार रोपाई करने के बाद 20 साल तक रोपाई की जरूरत नहीं पड़ती। बसंत वर्मा ने एक हजार वर्ग मीटर के पॉली हाउस में कोलकाता से पान की 10 हजार बीज (बेल) लाकर लगाई। इससे एक साल में चार लाख पान के पत्तों का उत्पादन हुआ। बंसत ने पूर्ण जैविक विधि से पान के पत्ते पैदा किये। इसमें जीवामृत और सरसों की खली, दूध, मठा, नीम तेल का उपयोग किया। इससे लागत में भी भारी कमी आई। सिंचाई के लिए ड्रिप एण्ड फागर लगवाए। इस पान का पत्ता एक रूपये से दो रूपए तक मूल्य में भोपाल, इंदौर, इटारसी, और खण्डवा में बिकता है। बंसत वर्मा की सफलता से प्रभावित होकर इंदौर और भोपाल में भी किसानों ने चार एकड़ के पॉली हाउस बनवाकर इस पान की प्रजति की पैदावर लेना शुरू कर दिया है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  28 December 2017

 वैदिक विद्यापीठम्

  मुख्यमंत्री द्वारा हरदा जिले में वैदिक विद्यापीठम् का शिलान्यास    विश्व का कल्याण और प्राणियों में सदभावना की कामना समूचे विश्व को वेदों की देन है। ऐसे वेदों की शिक्षा और उस पर शोध कार्य के लिए वैदिक विद्यापीठम् का निर्माण मध्यप्रदेश के लिए गौरव का विषय है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने यह बात  हरदा जिले के चिचोटकुटी में बनने वाले वैदिक विद्यापीठम् निर्माण के प्रथम चरण के शिलान्यास अवसर पर कही। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वैदिक विद्यापीठम् का निर्माण बड़े सौभाग्य की बात है। नई पीढी को धर्म, वेदों का ज्ञान होगा, जो हमारे ऋषि-मुनियों एवं संतों ने सालों के तप से प्राप्त किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने यहाँ घाट निर्माण के लिए 12 करोड़ 74 लाख रूपए देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने एनएचडीसी से कारपोरेट-सोशल रिफार्म के तहत 5 करोड़ रूपए दिलवाये जाने की बात कही। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बालिका गायक-दल को 25 हजार और गायक श्री चंपालाल को 10 हजार रुपए देने की घोषणा की। कार्यक्रम में स्वामी जयंतानंद महाराज नांदवा कुटी, स्वामी मोक्षप्रदानंद महाराज मणिनागेश्वर गुजरात, श्री रोशनलाल सक्सेना मार्गदर्शक विद्याभारती मध्य क्षेत्र भोपाल उपस्थित थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ. सुरेश शा़स्त्री भागवत कथावाचक ग्वालियर ने की। मुख्य वक्ता पं. श्यामस्वरूप मनावत श्रीराम कथावाचक उज्जैन रहे। कार्यक्रम में सीएमडी एनएचडीसी श्री के एम सिंह और श्रीमती साधना सिंह भी मौजूद थीं। इस मौके पर संस्कृत संगीत बैंड द्वारा प्रस्तुति दी गई। स्वागत भाषण में श्री सुजीत शर्मा ने बताया कि संस्कृत भाषा के प्रचार-प्रसार, संरक्षण-संवर्धन और वैदिक ज्ञान को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए ग्रंथों का अध्ययन आदि उद्देश्य की पूर्ति के लिए वैदिक विद्यापीठ के निर्माण के पहले चरण में 11 करोड़ रुपए खर्च किए जायेंगे। इसमें 2 करोड़ रुपए खर्च कर 32 कक्ष का निर्माण करवाया जाएगा। साथ ही 20 आचार्य आवास, 16 कक्ष, सभागृह, नर्मदा घाट और वैदिक प्रदर्शनी का निर्माण होगा। योग एवं ध्यान केंद्र, यज्ञशाला, देवालय, गौशाला आदि की व्यवस्था भी होगी।   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 March 2017

harda

मुख्यमंत्री चौहान हरदा जिले के करनपुरा में यात्रा में हुए शामिल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि बेटियों के साथ दुराचार करने वालों दुराचारियों को जीने का हक नहीं है। उनके लिये सख्त से सख्त सजा का प्रावधान किया जाना चाहिए। नर्मदा के बेक-वाटर से हरदा जिले के सभी खेतों को पूरी तरह सिंचित किया जाएगा। नशामुक्ति के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान हरदा जिले के करनपुरा में 'नमामि देवि नर्मदा'-सेवा यात्रा के जन-संवाद को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि माँ नर्मदा ने मध्यप्रदेश को सब कुछ दिया है। नर्मदा के जल से प्रदेश के 30 प्रतिशत हिस्से में सिंचाई हो रही है। अमरकंटक, डिण्डोरी, जबलपुर, भोपाल, ओंकारेश्वर,हरदा और इंदौर सहित शहरों को पीने का पानी उपलब्ध करवाया जा रहा है। नर्मदा प्रदूषित न हो, इसके लिए ट्रीटमेंट प्लांट शीघ्र लगवाये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि नर्मदा नदी के घाटों पर पूजन-कुण्ड, मुक्तिधाम और महिलाओं के लिए चेंजिंग रूम बनाये जायेंगे। उन्होंने कहा कि शौचालय विहीन परिवारों को शौचालय निर्माण के लिए राशि उपलब्ध करवाई जाएगी। श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा नदी के उत्तरी एवं दक्षिण तटों के पाँच किलो मीटर के दायरे में आने वाले ग्राम एवं कस्बों में शराब की दुकानें नहीं रहेंगी। उन्होंने कहा कि नर्मदा किनारों की कृषि भूमि पर फलदार पौधे लगाने के लिए 20 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर तीन वर्ष तक अनुदान तथा वृक्षारोपण की लागत में 40 प्रतिशत तक की सहायता दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि माँ नर्मदा में गंदगी रोकने के लिए सभी को यह प्रण करना होगा कि हम खुले में शौच न करें और न करने दें। प्रदेश की जो पंचायतें खुले में शौचमुक्त हो गई है उन्हें विकास के लिए अधिक राशि उपलब्ध करवाई जाएगी। उन्होंने जनता का आव्हान किया कि नर्मदा नदी के शुद्धिकरण और पर्यावरण की रक्षा के लिए संकल्प लें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा नदी में शहरों के सीवेज का गंदा पानी नहीं जाने देंगे। इसके लिए जिलों में ट्रीटमेंट प्लांट लगाए जा रहे हैं। इस पानी का उपयोग खेतों की सिंचाई में किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्लास्टिक की थेलियों को 01 मई से प्रतिबंधित कर दिया जायेगा। आदिवासी अनुसूचित, जाति के साथ ही अब सामान्य वर्ग के छात्र-छात्राओं को भी स्कॉलरशिप दी जाएगी। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने नर्मदा कलश ध्वज, कन्याओं का पूजन एवं संतों का सम्मान कर आशीर्वाद प्राप्त किया। करनपुरा से यात्रा सोनतलाई, पांचाकलाई, बाबर एवं बम्हन गाँव होते हुए धनवाड़ा पहुँचेगी और यहाँ से 31 जनवरी को खंडवा जिले में प्रवेश करेगी। इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया, पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष श्री तपन भौमिक, हरदा नगर पालिका के अध्यक्ष श्री सुरेन्द्र जैन एवं पूर्व विधायक कमल पटेल उपस्थित थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  31 January 2017

 नर्मदा  संरक्षण

   'नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा के दूसरे दिन हरदा जिले में टिमरनी ब्लाक के छीपानेर से सेवा यात्रा शुरू हुई। शुरूआत में छीपानेर में बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने नर्मदा कलश की पूजा-अर्चना की। महिलाओं ने सिर पर कलश रख कर यात्रा में सहभागिता की। ग्रामीणों को नर्मदा नदी के संरक्षण और पानी को प्रदूषण से बचाने के लिए संकल्प दिलवाया गया। जन-संवाद में ग्रामीणों ने नर्मदा नदी के किनारों पर पक्के घाट निर्माण की माँग रखी। छीपानेर से नर्मदा सेवा यात्रा चिचोट और लछौरा होती हुई शमशाबाद पहुँची। शमशाबाद में ग्राम की महिलाओं ने सिर पर कलश रख कर सेवा यात्रा का स्वागत किया। ग्रामीणों ने नर्मदा नदी के किनारे फलदार पौधों का रोपण किया। यात्रा में साथ चल रहे स्थानीय जन-प्रतिनिधियों ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा एक जन-आंदोलन बन गई है। उन्होंने कहा कि हरदा जिला नर्मदा नदी के किनारे होने से खेती-किसानी के मामले में अग्रणी जिला माना जाता है। नर्मदा माँ की कृपा से यहाँ किसान समृद्ध है। हम सबका दायित्व है कि नर्मदा नदी में पानी अविरल बहता रहे इसके लिए हम सब ग्रामीण जन-भागीदारी के साथ बड़ी संख्या में फलदार वृक्ष लगाये। युगों-युगों से देखा है नर्मदा जीवन-रेखा है विधायक श्री संजय शाह ने ग्राम जालोदा के प्राचीन राम जानकी मंदिर में ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए कहा कि नर्मदा नदी युगों-युगों से हमारे जिले के कई ग्रामों से बहती हुई आगे निकल जाती है। हम सब की लापरवाही से दिन-प्रतिदिन नर्मदा नदी का पानी प्रदूषित होता जा रहा है। नर्मदा नदी के घाट पानी की कमी की वजह से सिकुड़ते जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने नर्मदा सेवा यात्रा की शुरूआत कर एक ऐतिहासिक पहल की है। यात्रा का मकसद तभी पूरा होगा जब हम एकजुट होकर नदी के संरक्षण के प्रभावी प्रयास करेंगे। राज्य सरकार नर्मदा नदी के किनारे के गाँव में धार्मिक स्थलों के जीर्णोद्धार के लिए विशेष कार्य-योजना बना रही है। विधायक ने रामजानकी मंदिर में ग्रामीणों को नदी संरक्षण का संकल्प दिलाया। दरगाह समिति ने किया यात्रा का अभिनंदन दरगाह समिति के पदाधिकारियों ने सेवा यात्रा का अभिनंदन किया और कहा कि नर्मदा को धर्म विशेष से जोड़कर देखना ठीक नहीं है। नर्मदा बगैर भेदभाव के सभी के खेतों पर पानी पहुँचाती है। उन्होंने भी नर्मदा नदी के संरक्षण का संकल्प दोहराया। जलौदा में सुबह से नर्मदा सेवा यात्रा का इंतजार कर रहे निःशक्त रामगोपाल केवट ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार की यह अच्छी पहल है।    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 January 2017

मूल निवास और आय प्रमाणपत्र

मध्यप्रदेश में अब आप अपना आय और मूल निवासी प्रमाण पत्र घर बैठे भी बनवा सकते हैं। इसके लिए न तो लोक सेवा केंद्र जाकर आवेदन करने की जरूरत होगी न प्रमाणपत्र बन जाने पर उसे लेने लोक सेवा केंद्र जाना पड़ेगा। घर बैठे ही अब दोनों तरह के प्रमाणपत्र के लिए आवेदन किया जा सकेगा। 7 दिन में प्रमाण पत्र बनने के बाद उसे घर बैठे डाउनलोड कर सकेंगे। लोक सेवा प्रबंधन विभाग ने एमपी ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल पर पायलेट फेज में दो सेवाओं को ऑनलाइन कर दिया है। दोनों सेवाओं के लिए शुल्क भी ई-पेमेंट के जरिए जमा किया जा सकेगा। लेकिन इसके लिए आधार नंबर होना अनिवार्य है। बिना आधार नंबर वाले लोग इस सेवा का लाभ नहीं ले पाएंगे। एमपी ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल पर सिटीजन लॉगिन नाम से एक नया टैब शुरू किया गया है। इस पर क्लिक करते ही एक नई विंडो खुलेगी। इसमें लॉगिन आईडी के स्थान पर आवेदक को अपना आधार नंबर और पासवर्ड की जगह विंडो पर दर्शाया गया सिक्योरिटी कोड भरना होगा। इसके बाद यूआईडी सेंट्रल सर्वर से एक आपके मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) भेजा जाएगा। इस पासवर्ड को दर्ज करने के बाद आवेदक के व्यक्तिगत विवरण का फॉर्म आधार की जानकारी से अपने आप भर जाएगा। ई-पोर्टल पर आवेदन शुल्क जमा करने पहली बार 5 ऑप्शन होंगे। पेमेंट गेटवे के माध्यम से इंटरनेट बैंकिंग, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड या ई-वॉलेट का इस्तेमाल शुल्क जमा करने के लिए किया जा सकेगा। आय प्रमाणपत्र के लिए स्वप्रमाणित आय का घोषणा पत्र जिसमें आय की जानकारी दर्ज हो और मूल निवासी प्रमाणपत्र के लिए स्वप्रमाणित स्थानीय निवासी होने का घोषणापत्र, यदि बीपीएल कार्डधारक है तो कार्ड की सेल्फ अटेस्टेड कॉपी की जेपीजी फाइल आवेदन के साथ अटैच करनी होगी। यदि 7 दिन (तय समयसीमा) के अंदर प्रमाणपत्र बनकर तैयार नहीं होता है, या प्रमाणपत्र में गलती के कारण आवेदक सेवा से असंतुष्ट है तो वह 30 दिन के भीतर ईमेल आईडी पर अपनी शिकायत भेजकर प्रथम अपील कर सकता है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  30 November 2016

Video

Page Views

  • Last day : 5924
  • Last 7 days : 33929
  • Last 30 days : 111788
All Rights Reserved ©2019 MadhyaBharat News.