Since: 23-09-2009

  Latest News :
सिद्धू की पैरवी कर रही है प्रियंका गांधी.   काऊब्वॉय हैट पहन कर निकले कबूतर.   राहुल गाँधी :किसानों का कर्ज माफ होकर रहेगा.   RBI का अलर्ट अभी और बिगड़ेंगे आर्थिक हालात.   कर्नाटक विधानसभा उपचुनाव के नतीजे घोषित.   हैण्डलूम एक्सपोर्ट कार्पोरेशन ने भुगतान रोका.   कुदरत की मार ने तोड़ी किसानों की कमर.   कैब नागरिकता देने वाला कानून,लेने वाला नहीं.   अतिथि विद्वानों का सरकार के खिलाफ धरना.   बेमौसम बारिश से मंडी में रखी धान बर्बाद.   कार्यालयों से नदारद रहते है पंचायत सचिव.   मुख्यमंत्री के छिंदवाड़ा में शिक्षा विभाग के बुरे हाल.   दो युवतियों की जघन्य हत्या .   किसानो ने किया सीएम भूपेश बघेल का पुतला दहन.   युवक ने किया सरेआम महिला पर हँसिये से हमला.   दुष्कर्मी को पीटने कोर्ट परिसर में दौड़ीं महिलाएं.   ITBP जवान ने साथी पर की फायरिंग 6 की मौत.   नक्सली DKMS अध्यक्ष सन्ना हेमला हुआ सरेंडर.  

हरदा News


 PANCHYAT BHAVAN

गाँव में नहीं हो रहा विकास कार्य मौज में अधिकारी   सरकार पंचायत सचिवों के बैठने के लिए कार्यालय में लाखों  रुपये खर्च कर रही है  |  लेकिन पंचायत सचिवों को इसकी परवाह नहीं  |   कार्यालय में सचिव मिल जाए तो ये आपकी किस्मत  है | हरदा जिले के ग्राम पंचायत मांगरूल में तो महीनों तक पंचायत भवन के ताले ही नहीं खुलते  | या यूँ  कहें  की  पंचायत भवन में  पंचायती राज व्यवस्था की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं  |  हरदा में  लाखों रुपये खर्च कर गांव में रहने के लिए पंचायत सचिवों के लिए कार्यालय बनाए गए हैं  |  इन कार्यालय पर हमेशा ताले लटकते रहते हैं  | सरकार द्वारा गांव के लोगों का जीवन स्तर उठाने के लिए विभिन्न तरीकों से प्रयास किया जा रहा है   |   लेकिन  इस व्यवस्था को संचालित करने के लिए जिम्मेदार अधिकारी व कर्मचारी |  इसे नजर अंदाज कर खुले तौर पर मौज उड़ा रहे हैं  | हरदा जिले के ग्राम पंचायत मांगरूल में  महीनों तक पंचायत भवन नही खुलता  | जिसकी वजह से विकास कार्य पिछड़ता जा रहा है | .सचिव के ना आने को लेकर  जनपद सीईओ का कहना है  की इसकी जांच कराई जाएगी  | उसके बाद कार्यवाई करेंगे  | सड़कों पर बहता नाली का गंदा पानी | केंद्र एवं प्रदेश सरकार की  स्वच्छ भारत अभियान को मुंह चिढ़ाता नजर आ रहा है | सड़कों का गंदा पानी लोगों के घर में घुस  रहा है  |  जिससे  तमाम संक्रमित बीमारियां क्षेत्र में पांव पसार रही हैं  |  स्कूल के समीप सड़क पर कचरे कूड़े का ढेर लग गया है  |  जिससे स्कूली बच्चों को वहां से निकलने में परेशानी का सामना करना पड़ता है  |  पौधा  रोपण में सरकार  लाखों रुपए खर्च कर रही है  | लेकिन ग्राम पंचायत भवन पर  लगाए गए पेड़ पौधे  भी जीवित नहीं है  .| पौधे देखरेख के अभाव में सूख चुके हैं  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  13 December 2019

 UREYA

यूरिया वितरण में विवाद रोकने लगाई गई पुलिस   मध्यप्रदेश में यूरिया खाद की कमी को लेकर किसान परेशान हो रहा है  | यूरिया के लिए किसानों  को सोसाइटी के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं  | यूरिया  वितरण में किसी प्रकार के विवाद का माहौल ना बने | इसलिए प्रशासन को पुलिस लगाकर  सोसाइटी की कड़ी सुरक्षा व्यवस्था करनी पड़ रही है  मध्यप्रदेश में यूरिया  संकट थमने का नाम नही ले रहा है  | हरदा में यूरिया  की कमी को लेकर  किसानों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है |  किसानो को  गेहूं की बोनी होने के बाद अब  यूरिया के लिए सोसायटीयों के चक्कर लगाने पड़ रहे  हैं  |  जिससे जिले के किसान नाराज हैं |  इसके चलते कृषि विभाग, सहकारिता विभाग, जिला प्रशासन के अधिकारियों ने | . सहकारी समितियों में जाने वाले खाद के ट्रकों के साथ  | पुलिस जवानों को सुरक्षा के लिए लगाया है  | .  ये व्यवस्था इसलिए की गई है ताकि किसी भी सोसायटी में खाद वितरण के दौरान विवाद का माहौल नहीं बने  | आपको बता दे कुछ दिन पूर्व रेलवे ट्रैक  पॉइंट पर किसानों का आक्रोश देखने को मिला था  | किसानो ने माल गोदाम के पास रोड़ पर चक्का जाम कर प्रदर्शन किया था |  जिसमे पुलिस और प्रशासन  को किसानो को समझाने में कड़ी मशक्क्त  करनी पडी थी  | 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  12 December 2019

 FILM PANIPATH

फिल्म में इतिहास को तोड़ मरोड़ कर किया प्रस्तुत    फिल्म पानीपत को लेकर  जाट समाज ने विरोध प्रदर्शन किया  |  और फिल्म निर्माता आशुतोष गोवारिकर के खिलाफ नारेबाजी की |  जाट समाज का कहना है की फिल्म के निर्माता ने भरतपुर नरेश महाराजा सूरजमल के चरित्र को |  धूमिल करने का प्रयास किया है  | विरोध स्वरुप जाट समाज ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम तहसीलदार को ज्ञापन सौपा है |  हरदा में जाट समाज ने फिल्म पानीपत के विरोध में प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन सौपा है  | जाट समाज का कहना है की फिल्म  में निर्माता आशुतोष गोवारिकर ने  इतिहास को तोड़ मरोड़ कर प्रस्तुत किया है |  जिसमे भरतपुर नरेश महाराजा सूरजमल के विराट चित्रण को धूमिल करने का प्रयास किया गया है |  फिल्म में महाराजा को लालची व अभद्र भाषा बोलने वाले किरदार के रूप में दिखाया गया है  | जो कि सच्चे इतिहास के वास्तविक स्वरूप से किसी प्रकार से मेल नहीं खाता |  ऐतिहासिक महापुरुष के चरित्र को जानबूझकर धूमिल करने का प्रयास किया गया है  | समाज केलोगों ने बड़ी संख्या में  प्रताप टॉकीज के गेट के सामने जाकर |  फिल्म निर्देशक आशुतोष गोवरीकर का पुतला दहन किया  | टॉकीज के संचालक ने फिल्म को बंद रखने का आश्वासन दिया है |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  10 December 2019

  Self help group

भोजन समूह की राशि में हो रही कटौती   तीन माह की देरी से भुगतान और सांझा चूल्हा के तहत भोजन समूह की राशि में से 500 रूपये प्रति माह काटे जाने से नाराज   स्व सहायता समूह की महिला कार्यकर्ता  ने विरोध प्रदर्शन कर  रैली निकाली  | महिलाओं का कहना है की उनको नियमित किया जाय  | और पूर्व सरकार की तरह  उनको हर महीने राशि का भुगतान किया जाय  |  हरदा में  मध्यान भोजन में कार्यरत महिला स्व सहायता समूह ने भारतीय मजदूर संघ  के  आव्हान पर   सरकार की नीतियों के खिलाफ  रैली निकाली  | और कलेक्टर परिसर पहुंचकर मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौपा .| महिलाओं ने बताया की  आंगनबाड़ियों में सांझा चूल्हा के तहत भोजन समूह की राशि में से 500 रुपये  प्रति माह महिला रसोइयों से काटा जा रहा है   |  जिस पर तत्काल रोक लगाई जाए   |  पूर्व में भी मध्यप्रदेश शासन द्वारा यह राशि प्रतिमाह दी जाती थी  | परंतु विगत 2 माह से समूह के खाते से ये राशि काटी जा रही है  |  महिलाओं का कहना है की  हरदा जिले की कुछ आंगनबाड़ियों में मध्यान भोजन का कार्य प्राइवेट एजेंसी को दिया गया है | जिसे बंद कराया जाना चाहिए  |   ताकि स्व सहायता समूह का कार्य सुचारू रूप से चल सके | महिलाओं की मांग है की. |  मध्यान भोजन में लगी महिला रसोइयों को नियमित कर्मचारी बनाए जाए  |  और  जब तक महिला रसोइयों को नियमित कर्मचारी नहीं बनाया  जाता  |  तब तक महिला रसोइयों को आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के समान मानदेय दिया जाए   |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  29 November 2019

 KALABAJARI

यूरिया की कमी के चलते,खाद की कालाबाजारी चरम पर किसान की चेतावनी, कमलनाथ बंद करें राजनीति प्रभारी मंत्री पी सी शर्मा के आदेशों पर नहीं हुआ अमल       मुख्यमंत्री  कमलनाथ जी  |  किसानो की कर्ज माफी का आपका वादा अब किसानों  के लिए परेशानी का सबब बनता जा रहा है | कर्ज माफी के चक्कर में किसानो को सोसाइटी ने अब खाद बीज नगद देना शुरू कर दिया है  | यूरिया खाद की कालाबाजारी इस कदर बढ़ी हुई है की  किसान दुकानदारों से ऊँचे दामों में खाद खरीदने को मजबूर है  | कालाबाजारी से तंग आकर किसानो ने राज्यपाल के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंप कर अपना विरोध जताया |  किसानो का कहना है की अगर उनकी मांगे नहीं माँगी गई तो वो आत्मदाह करेंगे  | कमलनाथ सरकार अब किसानो पर राजनीति करना बंद कर दे |   मध्यप्रदेश में किसानो के लिए  बड़े बड़े वादे करके सत्ता में आई कमलनाथ सरकार में  |   कर्ज माफी और अतिवृष्ट के बाद  अब खाद यूरिया का संकट गहराता जा रहा है  ... किसान खाद बीज ना मिलने से परेशान हो रहा है  | हरदा में यूरिया खाद की कालाबाजारी चरम सीमा पर है  |  जिसके कारण किसानों को यूरिया खाद नहीं मिल पा रही है  | और किसान दुकानदारों के हाथो लूटने पर मजबूर हो रहे हैं  |  सोसाइटी में जहां एक और यूरिया खाद उपलब्ध नहीं है    वहीं दूसरी ओर किसानों की मजबूरी का फायदा उठाते हुए दुकानदार तिगुने दाम पर खाद  बेच रहे हैं  |  मध्यप्रदेश शासन द्वारा 266.50 यूरिया का रेट निर्धारित है  | जबकि  दुकानदार द्वारा  650 रुपये  में  खाद बेची जा रही है  | किसान का कहना है की दो लाख की कर्ज माफी की वजह से सोसाइटी ने अब खाद बीज नगद देना शुरू कर दिया है |  जिससे किसान परेशान हो रहा है |  किसानों की व्यथा  सुनने देखने वाला कोई नहीं है |  प्रभारी मंत्री पीसी शर्मा ने अधिकारीयों को  आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के दौरान  किसानों को समय पर खाद बीज उपलब्ध कराने का निर्देश दिया | लेकिन लगता है की  अधिकारी ने मंत्री जी की बात पर ध्यान देना उचित नहीं समझा है  या मंत्री की चलती नहीं है | आइये हम आपको सुबवाते हैं मंत्री  पी सी शर्मा की बात  | क्या कहा था शर्मा ने|  किसान व्यापारियों के हाथों खुलेआम लुट रहे हैं  |  कलाबाजी से तंग आकर  किसान राजेश शर्मा ने महामहिम राज्यपाल के नाम एक ज्ञापन डिप्टी कलेक्टर को सौंपा  | और मांग की कि अविलंब किसानों को यूरिया खाद उपलब्ध कराने की पहल की जाए |  व व्यापारियों पर कार्यवाही की जाए  अन्यथा परेशान किसान कलेक्टर निवास  के सामने आत्मदाह करने को विवश होंगे  |  वही अधिकारियों की  माने तो 80% खाद आ चुका है  |   इस सम्बंध में उप संचालक कृषिविभाग  का  कहना है कि  इस बर्ष गेंहू का रकबा बड़ा है  |  जिससे खाद की शार्टेज आ रही है  | अब अधिकारी किसानो को सिर्फ आश्वासन देते नजर आ रहे है  |  कमलनाथ जी क्या किसानो ने आपको वोट इसलिए दिया था की उनको खाद बीज के लिए तरसाया जाय  | कर्ज तो माफ़ हुआ नहीं अब खाद बीज से किसान तंग आ गया है  | मुख्यमंत्री जी  कुछ कीजिये  | कहीं ऐसा न हो की शिवराज सरकार की तरह किसान आपसे भी रुष्ट हो जाए  | किसान ने सरकार को चेतवानी देते हुए कहा की अगर किसानों के लिए कुछ कर नहीं सकते तो  |  किसानो पर राजनीती बंद करें  | कहाँ  गया पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का कर्ज माफी का वादा  | राहुल ने कहा था की दस दिन में मुख्यमंत्री बदल देंगे  |  क्यों अब तक  नहीं बदला गया  मुख्यमंत्री  |    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  29 November 2019

 YOG SHIVIR AYOJAN

योग व  जुम्बा  डांस के बताए गए फायदे     अंतरराष्ट्रीय मधुमेह दिवस के अवसर पर  हाई स्कूल प्राँगण  में  महिलाओ एवं किशोरी बालिकाओ के लिए  योग शिविर का आयोजन किया गया |  इस मौके पर पर विशेषज्ञों ने मधुमेह और  हाइपरटेंशन बीमारियों  के  लक्ष्ण  के बारे में बताया  .| साथ ही बीमारियों  से घर पर ही योग की सहायता से नियंत्रण की विस्तृत जानकारी दी  |  हरदा में निरोगी काया अभियान एवं अंतरराष्ट्रीय मधुमेह दिवस के अवसर पर |   ग्राम मसनगाँव के हाई स्कूल प्राँगण  में  महिलाओ एवं किशोरी बालिकाओ के लिए  योग शिविर का आयोजन किया गया   |   योग शिक्षिका मौसमी डाले द्वारा मनोरंजक तरीके से  योग व जुम्बा  डांस करना सिखाया गया  | बताया जा रहा है की   जुम्बा डांस से एक घंटे में 400 से 600 कैलोरी बर्न  होती है  | इसे रेग्युलर करने से हार्ट डिजीज, ओबेसिटी, थायरॉयड आदि बीमारियों के होने की संभावना कम हो जाती है  |  जुंबा डांस करने से हमारे शरीर की मसल्स फ्लेग्जिबल बनती हैं  | इसके अलावा ब्लड सर्कुलेशन बेहतर करने के लिए भी यह डांस एक्सरसाइज फायदेमंद होती है  |  शिविर प्रभारी डॉ तरुण  चौधरी ने  मधुमेह एवं हाइपरटेंशन बीमारियों  के  लक्ष्ण और  इन बीमारियों  से घर पर ही योग की सहायता से नियंत्रण की विस्तृत जानकारी दी  |  ग्रामीण महिलाओं में योग के प्रति उत्साह को देखते हुए  | यह कार्यक्रम  प्रति बुधवार  आयोजित करने की योजना बनाई गई |   शिविर में अधिकारी  और डॉक्टर सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  16 November 2019

ANHOKHI PRAMPRA

युवती के पान खाने पर करते हैं  भाग कर शादी   एक जोरदार खबर हरदा जिले के खिरकिया  से  है  | दीवाली के बाद  आदिवासी युवक युवती सज धज कर ठाठिया हाट बाजार आते है  | अपना मनपसंद साथी ढूंढते है  | और दिल मिलने पर एक  दूसरे को पान खिलाकर प्रपोज कर देते है  |  अगर युवती  ने  पान स्वीकार कर लिया तो समझो प्रस्ताव स्वीकार है   जिसके बाद युवक युवती  भागकर शादी कर लेते हैं  |  हरदा जिला के खिरकिया तहसील के गांवों में आज भी एक अनोखी परंपरा जारी है  | जिसमे आदिवासी युवक युवती सज धज कर आते है   और अपना मनपसंद साथी ढूंढते है  | आदिवासी  दीपावली के बाद लगने वाले पहले  हाट बाजार को ठाठिया हाट बाजार के रूप में मनाते है  | इस बाजार में आने वाले नवयुगल अपने पसंद के साथी को तलाश करते है  | और पसंद आने व दिल मिलने पर मन की बात का इजहार करते समय पान हाथ मे रखकर प्रपोज करते है   यदि युवती उसके हाथ से पान  खाना स्वीकार कर लेती है  | तो समझो उसका प्रस्ताव स्वीकार हो गया | इस तरह नवयुगल हमेशा के लिए एक दूजे के हो जाते हैं  | और हाट बाजार से भाग कर शादी रचा लेते हैं  | जहाँ युवक दिनेश और युवती  पूजा ने एक दूजे को पान खिलाकर प्रपोज किया   | और दोनो ने एकदूसरे को अपने जीवनसाथी के रूप में स्वीकार किया  |  बताया जाता है की इस बाजार में छुप कर  पान खिलाया जाता है    |  लेकिन यही पान, प्रेम का इजहार होता है  | बाद में युवती के घर संदेशा भेज दिया जाता है कि वे युवती की तलाश न करें उसने अपनी पसंद के युवक के संग  ब्याह  रचा लिया है  | उसके बाद समाज के बुजुर्गों की उपस्थिति में सामजिक रीति रिवाज को पूराकर रिश्ता स्वीकर कर  लिया जाता है  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  11 November 2019

 JUGAD KI NAAV

नहीं जागा प्रशासन, दुर्घटना का है इंतज़ार   हरदा में आजादी के बहत्तर साल बाद भी माचक नदी पर  पुल का निर्माण नहीं  होने से  | ग्रामीण और  स्कूली बच्चे  जुगाड़ की नाव से पुल  पार  करने को मजबूर हैं |  सरकार की अनदेखी के चलते  | दो विधानसभाओं को जोड़ने वाली इस नदी में अब तक पुल का नर्माण नहीं किया गया है  | ऐसा लगता है की सरकार और प्रशासन किसी बड़ी घटना के इंतज़ार में है  |  मध्यप्रदेश के हरदा जिले  की सबसे बड़ी नदी कहलाने  वाली  माचक नदी पर  आजादी के बाद से आज तक पुल का निर्माण नही हुआ है  |  कई सरकारें आई और गईं   | लेकिन पुल के निर्माण के लिए किसी ने पहल नहीं की |  पहल की तो बस झूठे वादों की  |   इस नदी से रोजाना  सैकड़ो  राहगीरो के साथ साथ  दर्जनों  से अधिक स्कूली बच्चे भी आना जाना करते हैं | जुगाड़ की नाव से माचक नदी पार कर बच्चे रोज मगरधा पढ़ने आते हैं  |  राहगीर तो जैसे  तैसे नदी पर कर लेते है  |  पर बच्चे जुगाड़ की नाव से नदी पर करने को मजबूर है  | इतना ही नहीं  यह नदी दो विधानसभाओ को जोड़ती है   |  नदी के एक तरफ हरदा विधानसभा लगती है |  तो दूसरी और टिमरनी विधानसभा  | और  शायद यही इस नदी का कसूर है |   कि यह दो विधानसभा के बीच मे है "|  शासन द्वारा बच्चों को नदी पर करवाने के लिए नाव भी मुहैया कराई गई  |   परंतु नाव भी 15 दिन से ज्यादा नही चल पाई  |  और  क्षतिग्रस्त  हो गई  | जुगाड़ की नाव  किसी भी दिन बच्चों की जान के लिए मुसीबत का सबब बन सकती है  |  इसके अलावा ग्रामीण भी इसी जुगाड़ की नाव से वाहन सहित गांव पहुंचते हैं  |  प्रशासन की अनदेखी के चलते यहाँ कभी भी  बड़ी दुर्घटना घटित हो सकती है  |     

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  4 November 2019

 KAMAL PATEL

अवैध उत्खनन करने वालों पर करें  कार्यवाई   नर्मदा नदी में हो रहे अवैध उत्खनन को लेकर विधायक कमल पटेल ने खनिज अधिकारी की क्लास लगा दी  |  विधायक ने खनिज अधिकारीयों को अवैध उत्खनन तत्काल रोकने के निर्देश दिए |  पटेल ने कहा की खनिज अधिकारीयों को सरकार तनख्वाह दे रही है  |  माफियाओं से डरे बगैर उन पर कार्यवाही करें | मध्यप्रदेश में अवैध उत्खनन बढ़ता जा रहा है  | हरदा में विधायक कमल पटेल ने अवैध उत्खनन को लेकर खनिज अधिकारीयों की जमकर खिचाई कर दी   पटेल ने खनिज अधिकारी ओ.पी बघेल और  इंस्पेक्टर संजय सोलंकी को आड़े हाथों लिया  |  और नर्मदा  में हो रहे अवैध उत्खनन को रोकने के निर्देश दिए    कमल पटेल ने खनिज अधिकारी ओपी बघेल से जब अवैध उत्खनन को लेकर सवाल जवाब किए तो |   उनके जवाब से ऐसा प्रतीत हो रहा था कि  |  उनके पास खनिज से सम्बंधित जानकारी ही नही है |  विधायक ने खुद इसकी जानकारी अधिकारीयों को दी |  पटेल ने उन्हें कार्रवाई करने के निर्देश दिए  | साथ ही बताया कि जगह-जगह रेत के स्टॉक लगे हैं  |   नर्मदा  से नावों  के जरिये  रेत निकाली जा रही है |  ओवरलोड डंपर से सड़कें  दम तोड़ रही है |  जिसके चलते राजस्व की बजाए नुकसान अधिक हो रहा है |  खनिज अधिकारी ने बताया कि हमने कई बार निवेदन किया  |  लेकिन अवैध उत्खनन वाले नहीं मान रहे  |  इस बात से यह तो साफ है  की खनिज अधिकारी को सारी जानकारी होने के बाद ही अवैध उत्खनन किया जा रहा है  |  और अधिकारी   रेत माफियाओं से डर रहे है  |  इसको लेकर कमल पटेल ने कहा कि आप निवेदन नहीं कार्रवाई करिए  |  सरकार आपको तनख्वाह दे रही है आप कार्रवाई करिए मैं आपके साथ हूं  |             

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  3 November 2019

 RISHWAT

 पैसे निकलने के लिए माँगी रिश्वत   लोकायुक्त पुलिस की  टीम ने खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के  एक बाबू को रंगे हाथ 8 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार  किया है  | बताया जा रहा है की बाबू एक अधिकारी से  पदस्थापना के समय के  वेतन व एरियर निकालने ,  एलपीसी जारी करने तथा सेवा पुस्तिका भेजने के ऐवज में पैसे की मांग कर रहा था  |  हरदा में लोकायुक्त पुलिस की  टीम ने खाद्य एवं आपूर्ति विभाग  में पदस्थ एक तत्कालीन अधिकारी की शिकायत पर  | कलेक्ट्रेट  परिसर में एक बाबू को रंगे हाथ  रिश्वत लेते गिरप्तार किया है  |  जानकारी के अनुसार  भोपाल लोकायुक्त पुलिस की टीम ने जिला खाद्य एवं आपूर्ति कार्यालय हरदा में पदस्थ   | सहायक ग्रेड 3 जितेन्द्र कुमार चौधरी को 8000 रु की रिश्वत लेते हुए  |  चाय की एक दुकान पर रंगे हाथों पकड़ा  | बताया जा रहा है की  बाबू द्वारा कनिष्ट आपूर्ति अधिकारी आशीष कुमार आज़ाद  से  | पदस्थापना के समय की वेतन व एरियर निकालने , एलपीसी जारी करने तथा सेवा पुस्तिका भेजने के ऐवज में पैसे की मांग की गई थी  |   जिसकी शिकायत आशीष आजाद ने भोपाल लोकायुक्त पुलिस अधीक्षक को की थी |   जिसके सत्यापन उपरांत कार्यवाही की गई  |  लोकायुक्त पुलिस टीम में डॉक्टर सलिल शर्मा सहित 10 सदस्यीय टीम मौजूद रही  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  3 November 2019

DIVYANG VYAKTI

निःशक्तजन विभाग तक नही पहुच पा रहे दिव्यांग   हरदा में प्रशासन की लापरवाही से दिव्यांग लोग निःशक्तजन कल्याण विभाग तक नही पहुच पा रहे हैं   |  यहाँ अस्पताल प्रबंधन ने  निःशक्तजन कल्याण विभाग तक जाने का रास्ता ही बंद कर दिया है   | इस कारण दिव्यांग व्यक्तियों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है  |  सरकार  दिव्यांगों के उत्थान के लिए तरह-तरह की योजनाएं चला  रही है  |  जिससे कि दिव्यांग अपने आप को कमजोर न समझे   | परन्तु इसके विपरीत हरदा  में प्रशासन और अस्पताल प्रबंधन की मनमानी के चलते  अस्पताल परिसर में  बने  सामाजिक न्याय एवं निःशक्तजन कल्याण विभाग के कार्यालय तक जाने वाले  रास्ते को बंद कर   | वाहन पार्किंग  बना  दी गई है  |   जिसके  कारण यदि दिव्यांगों व्यक्ति को  विभाग में कोई कार्य है तो वह विभाग के कार्यालय में पहुँचने में असमर्थ रहता है   |   इस  कारण दिव्यांगो को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा  है |   जब इस संबंध में CMHO प्रदीप मोजेस से बात की गई तो उनका कहना था कि मामले की जानकारी मिली है तुरंत रास्ता चालू करवाया जाएगा  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  20 October 2019

HATYA

महिला ने परेशान हो कर की ही कोटवार की हत्या   अवैध सम्बन्ध बनाने के लिए परेशान करने वाले कोटवार की  एक ग्रामीण महिला ने हत्या कर  और उसके शव को  नाले में फैंक दिया  | पुलिस ने इस मामले का खुलास कर आरोपी महिला और उसकी सास को गिरफ्तार कर लिया है   |  रहटगांव तहसील के ग्राम रवांग में कोटवार की कुल्हाड़ी मारकर हत्या कर दी गई थी  |  इस प्रकरण में  पुलिस ने हत्या आरोपी  महिला और उसकी सास को गिरफ्तार कर लिया है  | थाना प्रभारी सुरेखा निमोदा ने बताया कि 11 अक्टूबर को ग्राम रवांग के कोटवार विसनलाल का शव गांव के नाले के पास गड्ढे में मिला था  |  रहटगांव पुलिस द्वारा गांव के सरपंच जगदीश काजले की रिपोर्ट पर मर्ग कायम किया था   |   जांच के दौरान  पुलिस को  पता चला कि विसनलाल एवं हत्या की मुख्य आरोपी  रामप्यारी बाई के अवैध संबंध थे  |  घटना के दिन महिला का पति घर पर नहीं था  |  इसी दौरान विसनलाल महिला के घर आया था  और महिला से जबरदस्ती करने लगा  | इससे परेशान हो कर महिला ने उस पर कुल्हाड़ी से वार कर दिया   |  महिला ने पुलिस को बताया कि विसनलाल उसे परेशान करता था  |  घटना की रात  विसनलाल 11 बजे घर आया   |   विसनलाल ने परेशान किया तो उसने कुल्हाड़ी से विसनलाल की गर्दन पर तीन वार किए  |  इससे उसकी मृत्यु हो गई |  उसके शव को ठिकाने लगाने के लिए महिला अपनी सास रिचाय बाई से मदद ली  |   दोनों ने गोदड़ी बिछाकर विसनलाल के शव को सिर पर उठाकर नंदकिशोर यादव के खेत के पास नाले में फैंक आई  | पुलिस ने राम प्यारी और उसकी सास रिचाय बाई को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया  | जहां से दोनों को जेल भेज दिया  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 October 2019

  COMPUTER BABA

सात करोड़ में से सात सौ पौधे नहीं बचे   कम्प्यूटर बाबा ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के नर्मदा किनारे किये गए पौधरोपण अभियान पर सवाल उठाये और कहा उनके साथ करोड़ में से सात सौ पौधे भी नहीं बच पाए  | कंप्यूटर बाबा ने कहा नर्मदा किनारे शराब नहीं बिकने दी जाएगी  |  नदी न्यास के प्रमुख  कम्प्यूटर बाबा ने  हरदा जिले के भ्रमण  किया   | कंप्यूटर  बाबा द्वारा  टिमरनी में नर्मदा युवा सेना के कार्यकर्ताओं से भेंट कर अवैध रेत उत्खनन पर चर्चा की  |  यहाँ कंप्यूटर बाबा ने कहा कि शिवराज सिंह ने सात करोड़ पौधे लगवाए लगाए थे उनमे से सात सौ भी नहीं बचे  | इस मामले में जांच कर दोषियों पर कार्यवाही होना चाहिए  |  उन्होंने नर्मदा किनारे शराब बेचे जाने को लेकर अधिकारीयों से चर्च की और तुरंत इस पर रोक लगाने को कहा   कम्प्यूटर बाबा ने प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक कर वृक्षारोपण, स्वच्छता एवं नर्मदा नदी में हो रहे प्रदूषण व रेत का अवैध उत्खनन पर रोक लगाने हेतु चर्चा की और  सर्किट हाउस में वृक्षारोपण भी किया  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 October 2019

  IRRIGATION PROJECT CONSTRUCATION

बांध बनने से कई गाँव आएंगे डूब में     बाँध निर्माण के विरोध में कई गांव के रहवासियों ने कलेक्टर  से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा  |   ग्रामीणों का कहना है की बिना जानकारी के बाँध निर्माण परियोजना का टेंडर जारी किया गया है  | मप्र में आदिवासियों को अंधेरे में रखकर एक और बांध की तैयारी की  जा रही  |  जो नियम विरुद्ध है  |   कई गाँव और जंगल  बांध निर्माण की इस  परियोजना से डूब क्षेत्र में आ रहे है  |  मध्यप्रदेश में नर्मदा घाटी में प्रस्तावित 29 बड़ी बांध परियोजनाओं में  |  मोरंड एवं गंजाल संयुक्त सिंचाई परियोजना निर्माण के लिए |  नियमों का उल्लंघन किया जा रहा है |  सरकार ने इसके लिए टेंडर निकाल दिया है  |  और  डूब क्षेत्र के ग्रामीणों को पूरी जानकारी नहीं दी जा रही है |  जानकारी नही देने व टेंडर जारी करने के विरोध में  |  हरदा जिले के डूब में आने बाले  गाँव  बोथी, कायरी,डोमरा, महुखाल के सैकड़ो लोग परियोजना की विस्तृत जानकारी माँगने व टेंडर निरस्त करवाने  कलेक्टर कार्यालय पहुँचे | ग्रामीणों का  ज्ञापन लेने जब एसडीएम आए तो  ग्रामीण कलेक्टर से मिलने के लिए अड़ गए   | लगभग 3 घंटे तक कलेक्ट्रेट गेट के सामने नारेवाजी करते रहे |  तब जा के कही  कलेक्टर खुद मिलने आए  | और आस्वासन दिया कि एक हफ्ते के अंदर संबंधित परियोजना की विस्तृत जानकारी मंगवाकर ग्रामीणों को दी जाएगी  |   वही जिंदगी बचाओ अभियान की शमारुख धारा ने  बताया कि  | इस परियोजना में अभी तक न तो पर्यावरणीय मंजूरी मिली है  | और न ही फारेस्ट क्लियरेंस  |  फिर भी  नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण द्वारा बांध निर्माण के लिए 1808 करोड़ का टेन्डर जारी कर   |  कानून का  उल्लंघन किया गया है   |  इस परियोजना से हरदा, होशंगाबाद एवं बैतूल ज़िले में 2371.14 हेक्टेयर का घना जंगल डुबाया जा रहा है  | जबकि इतने बड़े पैमाने पर  वन भूमि को खत्म करने के लिए फारेस्ट क्लियरेंस लेना अनिवार्य है |  मध्यप्रदेश में  में आदिवासियों को अंधेरे में रखकर एक और बांध की तैयारी की जा रही है   |         

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  17 October 2019

 MOKSH AMAVASYA

नर्मदा तट पर रात भर तंत्र-मंत्र क्रियाएं चलती रहीं   सर्व पितृ अमावस्या पर नर्मदा तट पर लोगों ने अपने पितरों को श्रद्घांजलि देते हुए नर्मदा में डुबकियां लगाई | . भूतड़ी अमावस्या होने से नर्मदा तट पर रात भर तंत्र-मंत्र क्रियाएं चलती रहीं  |  सर्व पितृ मोक्ष अमावस्या पर हंडिया और नेमावर के नर्मदा तट पर  लोगों ने अपने पितरों को श्रद्घांजलि देते हुए नर्मदा में डुबकियां लगाई. |  तटों के प्राचीन मंदिरों में दर्शन कर जल चढ़ाने वालों की भीड़ लगी रही |  भूतड़ी अमावस्या होने से नर्मदा तट पर रात भर तंत्र-मंत्र क्रियाएं चलती रहीं | अमावस्या पर  शनिवार के दिन से रविवार सुबह तक  नेमावर के सिद्धनाथ मंदिर घाट और हंडिया के रिद्धनाथ मंदिर  घाट पर  श्रद्धालुओं ने स्नान कर भगवान भोलेनाथ के मंदिर में जल चढ़ाया और विधि विधान से पूजा अर्चना की. | नेमावर घाट पर ही  करीब दो लाख लोगों ने स्नान किया |  इधर हंडिया घाट पर भी भीड़ रही इनकी सुरक्षा के लिए एक दिन पूर्व से ही  पुलिस के सैकड़ो जवान तैनात थे   | इसके बाद भी अवारा मवेशियों घाट पर होने से स्नान करने वाले लोगों को परेशानी हुई |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  29 September 2019

 KISHAN

यूरिया बिना लिए खाली हाथ लौट रहे हैं किसान   हरदा में यूरिया खाद को लेकर किसानों की मारामारी चल रही है | एक मात्र खाद बिक्री केंद्र होने से कुछ ही किसानों को खाद मिल पाता है |  अधिकांश  किसानों को खाद खत्म होने पर मायूसी हाथ लगती है |  कृषि विभाग ने  विपणन संघ से खाद का वितरण  तो शुरू कर दिया लेकिन  एक ही मशीन होने के  कारण सैकड़ों किसानों को रोज खाली हाथ वापस लौटना पड़ रहा है |  हरदा जिले में खरीफ सीजन की सोयाबीन मक्का उड़द की कटाई शुरू भी नहीं हुई | और किसान रवि सीजन की फसल की तैयारी में जुट गया है.| करीब डेढ़ माह बाद उपयोग होने वाले  यूरिया की अभी से मारामारी शुरू हो गई है | कृषि विभाग द्वारा विपणन संघ से खाद का वितरण शुरू कर दिया गया है.| परंतु एक ही मशीन होने के चलते सैकड़ों किसानों को रोज खाली हाथ वापस लौटना पड़ रहा है | .वही कृषि विभाग के अधिकारियों ने बताया कि शासन ने किसानों को यूरिया केवल शासकीय गोदाम से नगद में देने का निर्णय लिया है.|  सरकारी दावों से उलट किसान खाद को लेकर बहुत परेशान है |  किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के अधिकारीयों का कहना है  रवि  मौसम में बोई जाने वाली फसलों के लिए सरकार ने पर्याप्त प्रबंध किये हैं और किसानों को किसी प्रकार की समस्या नहीं हो रही है |  जितने खाद की आवश्यकता है उतना खाद उपलब्ध है  | 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  28 September 2019

 PC SHARMA

मंत्री ने दिए समस्याओं को हल करने के निर्देश किसानो की गुहार  ख़राब फसल का हो सर्वे     हरदा में आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में मंत्री पी सी शर्मा  के निश्चित समय से एक घण्टे देरी से पहुँचने पर ग्रामीण भड़क गए |  ग्रामीणों ने  समस्या  नही सुनने के भी आरोप लगाए  | इसके बाद प्रभारी  मंत्री पी सी शर्मा ने  जनता की समस्याओं को सुना और संबंधित अधिकारियों को मंच पर बुलाकर उन आवेदनों पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए  |  हरदा के ग्राम झाड़पा में आपकी सरकार आपके द्वार जिला स्तरीय  शिविर में दो बजे तक प्रभारी मंत्री पी सी शर्मा  के आने का समय तय था  |  परन्तु  मंत्री  एक घंटे  देर से पहुंचे  | जनसम्पर्क मंत्री पीसी शर्मा तो कार्यक्रम में  लेट पहुंचे ही  साथ ही  प्रशासन के आला अधिकारी भी समय पर नहीं आये  |   शिविर की व्यवस्था में लगे विभागों के अधिकारियों ने लोगों के आवेदन लिए   |  जानकारी के अनुसार शिविर में 101 आवेदन आए, जिनमे से  अनेक आवेदनों का मौके पर ही निराकरण किया गया  | मंत्री द्वारा निश्चित समय से एक घण्टे देरी से पहुँचने  पर  ग्रामीण  भड़क गए  थे  | ग्रामीणो ने  उनकी समस्य नही सुने जाने का आरोप लगाया  |  शिविर में अनेक लोगों द्वारा प्रभारी मंत्री शर्मा को अपने आवेदन दिए गए   |  प्रभारीमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को मंच पर बुलाकर उन आवेदनों पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए  |   शिविर में किसान  खराब हुई  फसलों के पौधे को  साथ लेकर लेकर आए   और तत्काल  सर्वे करवाने की गुहार लगाई   | मंत्री पीसी शर्मा ने भी खेत जाकर फसलों की स्थिति देखी  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 September 2019

 AADIWAASI KALYAN

  DPC ने कहा आरोप निराधार शैक्षणिक कार्य ठीक नहीं   आदिवासी कल्याण विभाग के  छात्रावासों का प्रभार संभाल रही तीन शिक्षिकाओं ने  डीपीसी के खिलाफ  जातिसूचक शब्द को लेकर शिकायत दर्ज कराई   शिक्षिकाओं ने आरोप लगाया है की उन्होंने जाति सूचक शब्द बोलते हुए नौकरी  से निकालने की धमकी दी गई  | उधर डीपीएस ने आरोपों को निराधार बताया है |   हरदा में  आदिवासी कल्याण विभाग के आश्रम व छात्रावासों का प्रभार संभाल रही तीन शिक्षिकाओं ने  थाने  में डीपीसी डॉ आर एस तिवारी  के खिलाफ  शिकायत दर्ज कराई  | उनका आरोप है  कि  डीपीसी ने उन्हें कार्यालय का समय ख़त्म होने के बाद  बुलाया और जातिसूचक शब्दों से  अपमानित किया | शिक्षिकाओं ने  आरोप लगाया है कि जब वो  स्कूल की वर्क बुक सहित अन्य दस्तावेज दिखा रही थी  तभी तिवारी अचानक उन पर भड़क गए | वेतन रोकने तथा नौकरी से निकालने की धमकी देने लगे  |  पीड़ित महिलाओं ने पुलिस और कलेक्टर से इस  मामले की जांच  कर कार्रवाई करने की मांग की है  जब डीपीसी  डॉक्टर तिवारी   बात की गई तो उनका कहना है की  शिक्षा विभाग के  11 शिक्षक शिक्षिकाएं आदिम जाति कल्याण विभाग के आश्रम व छात्रावास का अतिरिक्त प्रभार संभाल  रहे  हैं  |  इससे उनके मूल स्कूलों में शैक्षणिक कार्य प्रभावित हो रहा है  |  एक महीने पहले जिला शिक्षा अधिकारी ने आदेश जारी कर उक्त शिक्षक शिक्षिकाओं को स्कूल में पढ़ाने को कहा था| इसके बावजूद इन स्कूलों की शैक्षणिक गुणवत्ता में सुधार नहीं आया  |  इसी संबंध में शिक्षक गुरुवार को उनके कार्यालय पहुंचे थे |   वहां ऐसी कोई बात नहीं हुई जो उन पर आरोप लगाए जा रहे  हैं |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 September 2019

 SARKAR

नए नियम लाकर किसानो को फिर ठगने का प्रयास   कमलनाथ सरकार के किसान कर्ज माफी के बदलते प्रारूप पर पूर्व राजस्व मंत्री कमल पटेल ने निशाना साधते हुए कहा की  |   सरकार ने नया प्रारूप लाकर  एक झटके में  5 लाख किसानों को कर्ज माफी से वंचित कर दिया  |  यह सरकार किसानो को  ठगने का नया रास्ता ढूढ़ रही है  |  और खुद तबादला उद्योग में व्यस्त है  |  पूर्व राजस्व मंत्री कमल पटेल ने कमलनाथ सरकार पर हमला करते हुए कहा की प्रदेश की सरकार ने किसानो के साथ धोखा किया है  |  कर्जमाफी को लेकर बनाए गए नए प्रारूप  पर कमल पटेल ने  कहा कि प्रदेश के किसानों को ठगने का नया प्रयास किया जा रहा है  | उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार कर्जमाफी को लेकर एक के बाद एक कई प्रारूप लेकर आ रही है   |  पहले लाल, पीले, हरे, नीले फार्म भरवाए गए   |  अब कुछ नए नियमों के साथ नये प्रारूप सामने आ रहे हैं   |  लेकिन प्रदेश के किसानों में कांग्रेस सरकार के खिलाफ भयंकर असंतोष है  |  प्रदेश में किसानों के हितों की लगातार अनदेखी की जा  रही है   |   पटेल ने कहा की  पूरे प्रदेश में किसान त्राहि त्राहि कर रहा है  |  और सरकार तबादले के उद्योग में व्यस्त है  |  ऐसा लग रहा है  कि यह सरकार तबादले के जरिए भ्रष्टाचार का रिकार्ड बनाकर  गिनीज बुक में अपना नाम दर्ज करवाना चाहती है   | लेकिन अब हम चुप नहीं बैठेंगे   |  अब किसानों को साथ लेकर सरकार के खिलाफ एक बड़ा जन आन्दोलन करेंगे   | और किसानों को उनका हक दिलाएंगे |    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  23 August 2019

OPERATION THEATER

ऑपरेशन थियेटर में पानी रोके गए ऑपरेशन      मध्यप्रदेश में हो रही बारिश सरकारी अस्पतालों की पोल खोला रही है   | हरदा में बारिश के चलते  अस्पताल के वार्डों और ऑपरेशन थिएटर में पानी भर गया  | जिससे अस्पताल की व्यवस्था चरमरा गई  | और मरीजों को परेशानी का सामना करना  पड़ा  | पानी के निकासी की कोई व्यवस्था नहीं होने से  पानी अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में पहुँच गया और मरीजों के ऑपरेशन तक रोकना पड़ गए  .  हरदा  में हुई तेज बारिश के चलते जिला अस्पताल में पानी भर गया  |  जिससे अस्पताल में आये मरीजों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ा  | अस्पताल के वार्डों सहित ऑपरेशन थिएटर में भी पानी भर गया  |  जिसके चलते  प्रसूता महिलाओं के ऑपरेशन को रोकना पड़ा  |  इसमें अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही साफ़ देखी जा सकती है  |  अस्पताल में भरे पानी के निकासी की कोई व्यवस्था नहीं है  |  वार्डों में बारिश का पानी भरने से वार्डों की हालत देखने लायक नहीं बची  | अस्पताल में पानी भरने से मरीजों में संक्रमण बढ़ने का खतरा बढ़ गया है  |  वहीं, मरीजों के साथ परिजनों को भी डर सता रहा है कि  | ऐसी स्थिती में उनके अपनों की हालत खराब होगी तो वह क्या करेंगे |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 August 2019

 BARISH

100 से अधिक गाँव का जिला मुख्यालय से संपर्क टूटा    आफत बनती जा रही बारिश से सभी नदी नाले उफान पर चल रहे हैं  |  ऐसे में ग्रामीणों को सबसे ज्यादा समस्या का सामना करना पड़ रहा हैं  गावों का मुख्यालय से संपर्क टूट चूका हैं  | लोग मज़बूरी में जान जोखिम में डालकर उफनती नदी पार कर रहे है  |मगर प्रशाशन किसी तरह की कोई व्यवस्था  नहीं कर रहा |   ऐसा लगता हैं की मानो प्रशाशन किसी बड़ी घटना के इंतजार में हैं  |    24 घंटे से  हो रही लगातार बारिश से जिले के नदी नाले उफान पर है  |  हरदा जिले में  हो रही लगातार बारिश के चलते सभी नदी नाले उफान पर है  |  जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है  |  नदियों में पानी होने की बजह से 100 से अधिक गाँव का जिला मुख्यालय से संपर्क टूट चुका है  |  हालात यह है कि लोग जान जोखिम में डालकर उफनती नदी पर कर रहे है  |  परन्तु प्रशासन द्वारा नदी की पुलिया पर न तो रेलिंग लगाई गई हैं  | और ना ही हादसा होने पर किसी भी तरह के बचाव की कोई भी व्यवस्था की गई  हैं  |                 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  16 August 2019

harda

  मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज हरदा जिले में कहा कि सिराली को नगर परिषद बनाया जायेगा और यहाँ महाविद्यालय भवन का निर्माण करवाया जायेगा। उन्होंने रहटगाँव में महाविद्यालय खोलने की भी घोषणा की। मुख्यमंत्री आज सिराली और खिरकिया में 119 करोड़ के निर्माण एवं विकास कार्यों का लोकार्पण तथा भूमि-पूजन करने के बाद विशाल जनसभा को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर हरदा में 100 सीटर बालिका छात्रावास और 100 सीटर बालक छात्रावास, निर्वाचन विभाग के 1500 ईवीएम गोडाउन का भूमि-पूजन किया। इसी के साथ, स्कूल शिक्षा विभाग के अंतर्गत शासकीय हायर सेकेण्डरी स्कूल मांदला, पीपल्या, मोरगढ़ी, शासकीय हाई स्कूल रामटेकरेयत हायर सेकेण्डरी मॉडल स्कूल चेकड़ी, बालिका छात्रावास चारुवा, शासकीय हाई स्कूल भवन जटपुरामॉल, शासकीय हायर सेकेण्डरी कन्या स्कूल सिराली, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय नयापुरा, सोडलपुर, सोनतलाई, हंडिया, रहटगाँव, टिमरनी और धौलपुरकलां के भवनों का शिलान्यास किया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  7 September 2018

कोलकता के मीठे पान की बेमिसाल खेती

हरदा जिले के टिमरनी विकास खंड के गांव छिरपुरा के बंसत वर्मा अपने पॉली हाउस में पान की बेमिसाल पैदावर से बहुत खुश हैं। उन्हें पंरपरागत खेती से अलग हटकर किया गया यह प्रयोग अच्छा मुनाफा दे रहा है।  खेती में नए प्रयोग और अच्छा मुनाफा कमाने बंसत ने उद्यानिकी विभाग की योजना के अन्तर्गत पॉली हाउस बनाकर पान की खेती की शुरूआत की। इस खेती में सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण बात यह है कि एक बार पान की बेल लगाने के बाद सालों तक इससे पत्ते ले सकते हैं। बार-बार बीज (बेल) लगाने की आवश्यकता नहीं होती। पंरपरागत खेती से हटकर यह प्रयोग हरदा जिले में पहली बार हुआ है कि जब किसी किसान ने पॉली हाउस बनाकर पान की खेती शुरू की है। बंसत वर्मा ने 9.37 लाख रुपये से अपना पाली हाउस बनवाया और वहाँ कोलकता की सुप्रसिद्ध सोफिया पान की प्रजाति को पहली बार लगाया। यह संरक्षित खेती है। पॉली हाउस बनाने से पान की फसल तेज गर्मी, पाले और बरसात की वहज से नष्ट नहीं होती। एक बार रोपाई करने के बाद 20 साल तक रोपाई की जरूरत नहीं पड़ती। बसंत वर्मा ने एक हजार वर्ग मीटर के पॉली हाउस में कोलकाता से पान की 10 हजार बीज (बेल) लाकर लगाई। इससे एक साल में चार लाख पान के पत्तों का उत्पादन हुआ। बंसत ने पूर्ण जैविक विधि से पान के पत्ते पैदा किये। इसमें जीवामृत और सरसों की खली, दूध, मठा, नीम तेल का उपयोग किया। इससे लागत में भी भारी कमी आई। सिंचाई के लिए ड्रिप एण्ड फागर लगवाए। इस पान का पत्ता एक रूपये से दो रूपए तक मूल्य में भोपाल, इंदौर, इटारसी, और खण्डवा में बिकता है। बंसत वर्मा की सफलता से प्रभावित होकर इंदौर और भोपाल में भी किसानों ने चार एकड़ के पॉली हाउस बनवाकर इस पान की प्रजति की पैदावर लेना शुरू कर दिया है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  28 December 2017

 वैदिक विद्यापीठम्

  मुख्यमंत्री द्वारा हरदा जिले में वैदिक विद्यापीठम् का शिलान्यास    विश्व का कल्याण और प्राणियों में सदभावना की कामना समूचे विश्व को वेदों की देन है। ऐसे वेदों की शिक्षा और उस पर शोध कार्य के लिए वैदिक विद्यापीठम् का निर्माण मध्यप्रदेश के लिए गौरव का विषय है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने यह बात  हरदा जिले के चिचोटकुटी में बनने वाले वैदिक विद्यापीठम् निर्माण के प्रथम चरण के शिलान्यास अवसर पर कही। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वैदिक विद्यापीठम् का निर्माण बड़े सौभाग्य की बात है। नई पीढी को धर्म, वेदों का ज्ञान होगा, जो हमारे ऋषि-मुनियों एवं संतों ने सालों के तप से प्राप्त किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने यहाँ घाट निर्माण के लिए 12 करोड़ 74 लाख रूपए देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने एनएचडीसी से कारपोरेट-सोशल रिफार्म के तहत 5 करोड़ रूपए दिलवाये जाने की बात कही। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बालिका गायक-दल को 25 हजार और गायक श्री चंपालाल को 10 हजार रुपए देने की घोषणा की। कार्यक्रम में स्वामी जयंतानंद महाराज नांदवा कुटी, स्वामी मोक्षप्रदानंद महाराज मणिनागेश्वर गुजरात, श्री रोशनलाल सक्सेना मार्गदर्शक विद्याभारती मध्य क्षेत्र भोपाल उपस्थित थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ. सुरेश शा़स्त्री भागवत कथावाचक ग्वालियर ने की। मुख्य वक्ता पं. श्यामस्वरूप मनावत श्रीराम कथावाचक उज्जैन रहे। कार्यक्रम में सीएमडी एनएचडीसी श्री के एम सिंह और श्रीमती साधना सिंह भी मौजूद थीं। इस मौके पर संस्कृत संगीत बैंड द्वारा प्रस्तुति दी गई। स्वागत भाषण में श्री सुजीत शर्मा ने बताया कि संस्कृत भाषा के प्रचार-प्रसार, संरक्षण-संवर्धन और वैदिक ज्ञान को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए ग्रंथों का अध्ययन आदि उद्देश्य की पूर्ति के लिए वैदिक विद्यापीठ के निर्माण के पहले चरण में 11 करोड़ रुपए खर्च किए जायेंगे। इसमें 2 करोड़ रुपए खर्च कर 32 कक्ष का निर्माण करवाया जाएगा। साथ ही 20 आचार्य आवास, 16 कक्ष, सभागृह, नर्मदा घाट और वैदिक प्रदर्शनी का निर्माण होगा। योग एवं ध्यान केंद्र, यज्ञशाला, देवालय, गौशाला आदि की व्यवस्था भी होगी।   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 March 2017

harda

मुख्यमंत्री चौहान हरदा जिले के करनपुरा में यात्रा में हुए शामिल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि बेटियों के साथ दुराचार करने वालों दुराचारियों को जीने का हक नहीं है। उनके लिये सख्त से सख्त सजा का प्रावधान किया जाना चाहिए। नर्मदा के बेक-वाटर से हरदा जिले के सभी खेतों को पूरी तरह सिंचित किया जाएगा। नशामुक्ति के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान हरदा जिले के करनपुरा में 'नमामि देवि नर्मदा'-सेवा यात्रा के जन-संवाद को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि माँ नर्मदा ने मध्यप्रदेश को सब कुछ दिया है। नर्मदा के जल से प्रदेश के 30 प्रतिशत हिस्से में सिंचाई हो रही है। अमरकंटक, डिण्डोरी, जबलपुर, भोपाल, ओंकारेश्वर,हरदा और इंदौर सहित शहरों को पीने का पानी उपलब्ध करवाया जा रहा है। नर्मदा प्रदूषित न हो, इसके लिए ट्रीटमेंट प्लांट शीघ्र लगवाये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि नर्मदा नदी के घाटों पर पूजन-कुण्ड, मुक्तिधाम और महिलाओं के लिए चेंजिंग रूम बनाये जायेंगे। उन्होंने कहा कि शौचालय विहीन परिवारों को शौचालय निर्माण के लिए राशि उपलब्ध करवाई जाएगी। श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा नदी के उत्तरी एवं दक्षिण तटों के पाँच किलो मीटर के दायरे में आने वाले ग्राम एवं कस्बों में शराब की दुकानें नहीं रहेंगी। उन्होंने कहा कि नर्मदा किनारों की कृषि भूमि पर फलदार पौधे लगाने के लिए 20 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर तीन वर्ष तक अनुदान तथा वृक्षारोपण की लागत में 40 प्रतिशत तक की सहायता दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि माँ नर्मदा में गंदगी रोकने के लिए सभी को यह प्रण करना होगा कि हम खुले में शौच न करें और न करने दें। प्रदेश की जो पंचायतें खुले में शौचमुक्त हो गई है उन्हें विकास के लिए अधिक राशि उपलब्ध करवाई जाएगी। उन्होंने जनता का आव्हान किया कि नर्मदा नदी के शुद्धिकरण और पर्यावरण की रक्षा के लिए संकल्प लें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा नदी में शहरों के सीवेज का गंदा पानी नहीं जाने देंगे। इसके लिए जिलों में ट्रीटमेंट प्लांट लगाए जा रहे हैं। इस पानी का उपयोग खेतों की सिंचाई में किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्लास्टिक की थेलियों को 01 मई से प्रतिबंधित कर दिया जायेगा। आदिवासी अनुसूचित, जाति के साथ ही अब सामान्य वर्ग के छात्र-छात्राओं को भी स्कॉलरशिप दी जाएगी। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने नर्मदा कलश ध्वज, कन्याओं का पूजन एवं संतों का सम्मान कर आशीर्वाद प्राप्त किया। करनपुरा से यात्रा सोनतलाई, पांचाकलाई, बाबर एवं बम्हन गाँव होते हुए धनवाड़ा पहुँचेगी और यहाँ से 31 जनवरी को खंडवा जिले में प्रवेश करेगी। इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया, पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष श्री तपन भौमिक, हरदा नगर पालिका के अध्यक्ष श्री सुरेन्द्र जैन एवं पूर्व विधायक कमल पटेल उपस्थित थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  31 January 2017

 नर्मदा  संरक्षण

   'नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा के दूसरे दिन हरदा जिले में टिमरनी ब्लाक के छीपानेर से सेवा यात्रा शुरू हुई। शुरूआत में छीपानेर में बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने नर्मदा कलश की पूजा-अर्चना की। महिलाओं ने सिर पर कलश रख कर यात्रा में सहभागिता की। ग्रामीणों को नर्मदा नदी के संरक्षण और पानी को प्रदूषण से बचाने के लिए संकल्प दिलवाया गया। जन-संवाद में ग्रामीणों ने नर्मदा नदी के किनारों पर पक्के घाट निर्माण की माँग रखी। छीपानेर से नर्मदा सेवा यात्रा चिचोट और लछौरा होती हुई शमशाबाद पहुँची। शमशाबाद में ग्राम की महिलाओं ने सिर पर कलश रख कर सेवा यात्रा का स्वागत किया। ग्रामीणों ने नर्मदा नदी के किनारे फलदार पौधों का रोपण किया। यात्रा में साथ चल रहे स्थानीय जन-प्रतिनिधियों ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा एक जन-आंदोलन बन गई है। उन्होंने कहा कि हरदा जिला नर्मदा नदी के किनारे होने से खेती-किसानी के मामले में अग्रणी जिला माना जाता है। नर्मदा माँ की कृपा से यहाँ किसान समृद्ध है। हम सबका दायित्व है कि नर्मदा नदी में पानी अविरल बहता रहे इसके लिए हम सब ग्रामीण जन-भागीदारी के साथ बड़ी संख्या में फलदार वृक्ष लगाये। युगों-युगों से देखा है नर्मदा जीवन-रेखा है विधायक श्री संजय शाह ने ग्राम जालोदा के प्राचीन राम जानकी मंदिर में ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए कहा कि नर्मदा नदी युगों-युगों से हमारे जिले के कई ग्रामों से बहती हुई आगे निकल जाती है। हम सब की लापरवाही से दिन-प्रतिदिन नर्मदा नदी का पानी प्रदूषित होता जा रहा है। नर्मदा नदी के घाट पानी की कमी की वजह से सिकुड़ते जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने नर्मदा सेवा यात्रा की शुरूआत कर एक ऐतिहासिक पहल की है। यात्रा का मकसद तभी पूरा होगा जब हम एकजुट होकर नदी के संरक्षण के प्रभावी प्रयास करेंगे। राज्य सरकार नर्मदा नदी के किनारे के गाँव में धार्मिक स्थलों के जीर्णोद्धार के लिए विशेष कार्य-योजना बना रही है। विधायक ने रामजानकी मंदिर में ग्रामीणों को नदी संरक्षण का संकल्प दिलाया। दरगाह समिति ने किया यात्रा का अभिनंदन दरगाह समिति के पदाधिकारियों ने सेवा यात्रा का अभिनंदन किया और कहा कि नर्मदा को धर्म विशेष से जोड़कर देखना ठीक नहीं है। नर्मदा बगैर भेदभाव के सभी के खेतों पर पानी पहुँचाती है। उन्होंने भी नर्मदा नदी के संरक्षण का संकल्प दोहराया। जलौदा में सुबह से नर्मदा सेवा यात्रा का इंतजार कर रहे निःशक्त रामगोपाल केवट ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार की यह अच्छी पहल है।    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 January 2017

मूल निवास और आय प्रमाणपत्र

मध्यप्रदेश में अब आप अपना आय और मूल निवासी प्रमाण पत्र घर बैठे भी बनवा सकते हैं। इसके लिए न तो लोक सेवा केंद्र जाकर आवेदन करने की जरूरत होगी न प्रमाणपत्र बन जाने पर उसे लेने लोक सेवा केंद्र जाना पड़ेगा। घर बैठे ही अब दोनों तरह के प्रमाणपत्र के लिए आवेदन किया जा सकेगा। 7 दिन में प्रमाण पत्र बनने के बाद उसे घर बैठे डाउनलोड कर सकेंगे। लोक सेवा प्रबंधन विभाग ने एमपी ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल पर पायलेट फेज में दो सेवाओं को ऑनलाइन कर दिया है। दोनों सेवाओं के लिए शुल्क भी ई-पेमेंट के जरिए जमा किया जा सकेगा। लेकिन इसके लिए आधार नंबर होना अनिवार्य है। बिना आधार नंबर वाले लोग इस सेवा का लाभ नहीं ले पाएंगे। एमपी ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल पर सिटीजन लॉगिन नाम से एक नया टैब शुरू किया गया है। इस पर क्लिक करते ही एक नई विंडो खुलेगी। इसमें लॉगिन आईडी के स्थान पर आवेदक को अपना आधार नंबर और पासवर्ड की जगह विंडो पर दर्शाया गया सिक्योरिटी कोड भरना होगा। इसके बाद यूआईडी सेंट्रल सर्वर से एक आपके मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) भेजा जाएगा। इस पासवर्ड को दर्ज करने के बाद आवेदक के व्यक्तिगत विवरण का फॉर्म आधार की जानकारी से अपने आप भर जाएगा। ई-पोर्टल पर आवेदन शुल्क जमा करने पहली बार 5 ऑप्शन होंगे। पेमेंट गेटवे के माध्यम से इंटरनेट बैंकिंग, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड या ई-वॉलेट का इस्तेमाल शुल्क जमा करने के लिए किया जा सकेगा। आय प्रमाणपत्र के लिए स्वप्रमाणित आय का घोषणा पत्र जिसमें आय की जानकारी दर्ज हो और मूल निवासी प्रमाणपत्र के लिए स्वप्रमाणित स्थानीय निवासी होने का घोषणापत्र, यदि बीपीएल कार्डधारक है तो कार्ड की सेल्फ अटेस्टेड कॉपी की जेपीजी फाइल आवेदन के साथ अटैच करनी होगी। यदि 7 दिन (तय समयसीमा) के अंदर प्रमाणपत्र बनकर तैयार नहीं होता है, या प्रमाणपत्र में गलती के कारण आवेदक सेवा से असंतुष्ट है तो वह 30 दिन के भीतर ईमेल आईडी पर अपनी शिकायत भेजकर प्रथम अपील कर सकता है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  30 November 2016

Video

Page Views

  • Last day : 5596
  • Last 7 days : 32148
  • Last 30 days : 146931
All Rights Reserved ©2019 MadhyaBharat News.