Since: 23-09-2009

  Latest News :
जनता कांग्रेस ने कलेक्टर को लिखा पत्र.   मोदी जहां जाते हैं झूठ बोल कर आते हैं.   मोदी:इस बार की दिवाली बेटियों को समर्पित.   मायावती अपनाएंगी बौद्ध धर्म.   व्यापारी हो रहे हैं लामबंद.   समुद्र तट पर PM मोदी का स्वच्छता अभियान.   पार्षदों ने जताया विरोध ,दर्ज करवाईं आपत्तियां.   मध्यप्रदेश रियल एस्टेट नीति में बदलाव.   लहसुन से भरे ट्रक में लगी आग.   राहुल ने एमपी का भाषण महाराष्ट्र में दिया.   ब्लास्ट से टूटा पत्थर कार में घुसा,चालक की मौत.   हनी ट्रैप मामले में मंत्री ने महिलाओं को बताया दोषी.   शरदपूर्णिमा पर बंटी जड़ीबूटी वाली खीर.   लखमा ने की रमन सिंह के नार्को टेस्ट की मांग.   झीरम घाटी कांड लखमा की भूमिका की जाँच हो.   इनामी नक्सली माड़वी गंगी ने किया समर्पण.   खाई में गिरी बस पेड़ से टकरा कर रुकी.   पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में हुआ एक नक्सली ढेर.  

नरसिंहपुर News


 BHU MAFIYA

मामूली दाम देकर आदिवासियों की जमीन पर कब्ज़ा प्रशासन ने माना हुआ है घोटाला  जल्द होगी जांच   नरसिंहपुर में एक बड़े भूमि घोटाले को रसूखदारों ने अंजाम दिया है  | भू माफिया पहले  शासकीय जमीन को अति गरीब भूमिहीनों के नाम  हस्तांतरित कराते है   |  और फिर जबरन गरीबों से  महज चंद रुपयों में भूमि अपने नाम करा लेते है  |  कमलनाथ सरकार खुद को गरीबों और आदिवासियों का मसीहा बता रही है  .| लेकिन यहाँ आदिवासी और गरीबों का हक़ छीना जा रहा  | इससे बात साफ़ हो जाती है की गरीबों का सहारा बताने वाले ये नेता सिर्फ चुनावी वादे करते है  |  जबकि हकीकत कुछ और ही है  |  नरसिंहपुर में  तेंदूखेड़ा विधानसभा के खामघाट स्थित शासकीय भूमि की फर्जी तरीके से जमकर बंदरबाट की गई  | कई सफेदपोश रसूखदारों ने  पहले साजिशन शासकीय भूमि को अति गरीब भूमिहीनों के नाम करवाया  और फिर उसी शासकीय भूमि को मामूली रकम देकर  अपने नाम करा लिया |  यहां तक कि आदिवासियों द्वारा जिस जमीन पर खेती की जा रही थी   | वहां से भी उन्हें बेदखल कर उस पर कब्ज़ा कर लिया गया   |  ऐसे में आदिवासी  दर दर  भटकने को मजबूर हैं  |  दो दर्जन से अधिक रसूखदारों ने सुनियोजित तरीके से इस घोटाले को अंजाम दिया है  |  क्षेत्र के पटवारी फूल सिंह ने  इसकी पुष्टि  की और बताया की |   कई सालो से फर्जीवाड़ा करके रसूखदारों द्वारा शासन की जमीन को हथिया लिया जाता है  |  जिसके लिए पहले सरकारी जमीन को भूमिहीनों के नाम कराया जाता है फिर उन्हें  उस भूमि से बेदखल कर दिया जाता है  | जबकि शासकीय भूमि को हस्तांतरण नहीं किया जा सकता है   | क्षेत्रीय विधायक ने  इसे बहुत बड़ा भूमि घोटाला बताते हुए कहा  की  |  वह खुद दो बार विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान इस मुद्दे को उठा चुके है  | विधायक बताते है कि कुछ रसूखदार लोगो द्वारा फर्जीवाड़ा करके घोटाला किया गया  है   | और जल्द ही  इस घोटाले का पर्दफाश होगा |  कई बड़े रसूखदार बेनकाब होंगे  | कलेक्टर ने  इसे एक सुनियोजित तरीके से अंजाम दिया जाने वाला फर्जीवाड़ा बताया  है  | प्रारम्भिक जांच में 12 लोगो के नाम सामने आने की बात कही जा रही   |  नरसिंहपुर में हुए भूमि घोटाले की अभी और भी कई परतें खुलना बाकी है   | जिसमें कई सफेदपोश चेहरे सामने आएंगे  |   एक बात तो साफ हो चुकी है कि शासकीय भूमि की रसूखदारों द्वारा जमकर बंदरबांट की गई है  | जिसमे आदिवासी और गरीब किसान ठगे गए हैं  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  28 September 2019

 KANSH VADH

मथुरा के बाद सिर्फ यहीं होता है कंस का वध अनूठी अद्भुत परम्परा जिसे देखने जुटते है भारी संख्या में लोग   नरसिंहपुर के मुड़िया गांव में  200 सालों से कंस वध की परम्परा चली आ रही है  | अन्याय व अत्याचार पर जीत के प्रतीक कंस वध का सिलसिला यहाँ भगवान् कृष्ण के एक स्वप्न के बाद शुरू हुआ था  |  इस गांव के लोगों का मानना है कंस का वध करने के कारण इस इलाके में कभी किसी की अकाल मृत्यु नहीं होती  | मुड़िया गांव में इस परम्परा को सदियों से निभाया जा रहा है  | दरअसल  दो सौ  साल पहले यहाँ प्लेग की महामारी फैली और भगवान कृष्ण ने कुशवाहा परिवार को स्वप्नं देकर हर घर से मिट्टी लाकर गांव के बहार कंस की प्रतिमा बनाकर उसका सांकेतिक वध करने को कहाँ तभी से ये परम्परा चली आ रही है  गांव में आमने सामने  दो सेना हैं | एक तरफ कंस की सेना |  तो दूसरी तरफ  कृष्ण की सेना |  स्टेडियम  युद्ध के मैदान में तब्दील हो गया है  |  कृष्ण भी रथ पर सवार होकर कूच कर गए हैं  | तो राक्षस भी अलग अलग वेषभूषा में तैयार है .. आस पास के गाँव के लोग चारों तरफ से युद्ध का लाइव नाज़ारा देखने तैयार  हैं |  गाँव वालों ने अपने अपने खेतो और घरो से मिट्टी लाकर गाँव के बाहर कंस की एक मूर्ती बनाई है और उसके मुकुट के ऊपर लगी  सफ़ेद फूल की कलगी  को  कृष्ण को आकर  मुकुट से निकालना होगा  | कंस की सेना ऐसा करने से रोकती है लेकिन कृष्ण तो कृष्ण ठहरे  |  चार से पांच घंटे युद्ध चलता है और कंस का वध होता है   |  मुड़िया गांव के प्रत्येक घर एक एक दो मुट्ठी मिट्टी लेकर बनाये जाने वाले इस कंस के वध के साथ बुराई को मिटाने का संकल्प लेकर ग्रामीण पुरानी परंपरा का निर्वहन भी कर रहे है और साथ ही सामाजिक बुराई जैसे नशा , गंदगी ,खुले में शौच के बन्द करने की भी शपथ ले रहे हैं  |  समय के बदलाव के साथ साथ सामाजिक बुराइयों का भी स्वरूप बदला है   |  बदलते दौर में पुरातन परंपरा को युवा सोच ने नए आयाम को देकर वर्षों  से चली आ रही परम्परा को जीवंत रखते हुए असल सामाजिक बुराई के अंत का जो रास्ता चुना है उसे नए नजरिये से देखे जाने और अपनाने की जरुरत है ताकि समाज को नई दिशा मिल सके |  अभिषेक मेहरा दखल न्यूज़  | गाडरवारा  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 September 2019

 KAMALNATH

नहीं सुनी समस्या निराश होकर वापस लौटे ग्रामीण   कमलनाथ सरकार ने ग्रामीणों की समस्याओं का  निराकरण करने के लिए   | आपकी सरकार आपके द्वार शिविर का आयोजन  किया   | लेकिन आयोजन में मंत्रियों और  प्रशासनिक अधिकारियो  के देरी से आने से  ग्रामीणों में काफी रोष देखने को मिला | हद तो तब हो गई जब अपनी समस्या लेकर ग्रामीण  |  घंटो  पंचायत भवन  के सामने बैठे रहे  | लेकिन वहां कोई नहीं आया और  ना ही समस्या सुनी गई  |  मजबूरन ग्रामीणों को निराश होकर वापस जाना पड़ा   प्रदेश की कमलनाथ सरकार के द्वारा लगाया गया शिविर आपकी सरकार आपके द्वार मजाक का  विषय  बन गया है | कहीं मंत्री लेट आ रहे तो कहीं प्रशासनिक अधिकारी ही नदारद हैं |  गाडरवारा के ग्राम पलेरा में इस आयोजन को लेकर ग्रामीणों का आक्रोश सामने आया  | ग्रामीणों को  अपनी समस्याओं का मौके पर ही निराकरण करवाने के लिए कलेक्टर का इंतजार करना पड़ रहा है  |  दरअसल एक दिन पहले ही गाँव कोटवार के द्वारा मुनादी की गई थी कि | गाँव मे आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम का आयोजन  है  |  पर बाद में पता चला कि ऐसा कोई कार्यक्रम नहीं रखा गया है  | अपनी समस्या को लेकर  ग्रामीण  ग्राम पंचायत भवन के सामने घंटो बैठे रहे  | लेकिन ना कोई अधिकारी आया |  ना ही समस्या का निराकरण किया गया  | घंटो इन्जार के बाद ग्रामीण वापस जाने पर मजबूर हो गए  |  जब इस संबंध में गाडरवारा एसडीएम राजेश शाह से बात की गई तो उनका कहना था कि  | इस तरह के किसी भी कार्यक्रम की कोई योजना नहीं थी | पूर्व विधायक साधना स्थापक का कहना है कि  |  अगर योजना का लाभ लोगों तक नहीं पहुच पाए तो ऐसी योजना शुरू करने का क्या मतलब  | इस पर  शासन और प्रशासन दोनों को ध्यान देने की आवश्यकता  है |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 September 2019

 SARKARI HOSPITAL

एक पलंग पर दो मरीज  मरीज को बैठाकर लगा रहे हैं बॉटल डॉक्टर और दवाई ना मिलने से मरीज हो रहे हैं परेशान   सरकार लाख दावे करे पर सरकारी अस्पतालों  की तस्वीरें  सरकार के दावों की पोल खोल देती हैं | अस्पताल में अव्यवस्था इस कदर है की  |  एक ही पलंग पर दो मरीजों का इलाज किया जा रहा है  |  पलंग की कमी की वजह से मरीजों को बेंच पर बैठकर बॉटल चढ़ाई जा रही है | अस्पताल में डॉक्टर और दवाइयां सही समय पर मिल जाए तो ये आपकी किस्मत है  |  मंत्री तुलसी सिलावट जी समय मिले तो जरा इन अस्पतालों पर भी ध्यान दीजियेगा  | ठीक होने की उम्मीद से आ रहे मरीज  और बीमार होकर अस्पताल से जाने को मजबूर है  |  चुनाव ख़त्म तो नेताओं की जिम्मेदारी भी ख़त्म   | ऐसा हम नहीं इलाज के लिए परेशान हो रहे गाडरवाड़ा के लोग कह रहे है   |  गाडरवारा का सरकारी अस्पताल अपनी जिंदगी की आखरी सांसे गिन रहा है  | भले ही कमलनाथ सरकार मध्यप्रदेश में विकास और बदलाव के लाख दावे करे   | लेकिन आए दिन बदहाली की जो तस्वीरे सामने आ रही हैं  उससे कमलनाथ सरकार के दावों की पोल खुलती दिख रही है  | न तो इस तस्वीर को प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज बदल पाये और न ही कमलनाथ सरकार  | गाडरवारा के अस्पताल में  अव्यवस्थाओं का ऐसा अम्बार लगा हुआ है  कि मरीज इलाज़ कराने आये तो और बीमार पड़ जाए  |  अस्पताल में रोजाना सैकड़ों मरीज अपना इलाज़ कराने आते हैं  |  लेकिन उन्हें इलाज़ तो नहीं मिल पाता अगर कुछ मिलता है तो वो है निराशा  |  यहां इलाज़ कराने आये लोगों का कहना है कि ये सिर्फ नाम का अस्पताल है   यहाँ अस्पताल जैसी कोई सुविधा नहीं है  | यहाँ न तो दवाइयां है और न ही डॉक्टर समय पर उपलब्ध हो पाते है  | साथ ही साथ अस्पताल में जरूरी उपकरण तक नहीं हैं   |  एक ही पलंग पर दो दो मरिजों का इलाज चल रहा है  |  मरीजों को फटे पुराने और बारिश में गीले गद्दों पर इलाज़ कराना पड़ रहा है   | न तो चादर है न तकिया  | हैरानी की बात तो ये है कि मरीज बेंच पर ही बॉटल  लगवाने को मजबूर हैं  | मरीजों को कई दिनों चक्कर काटने के बाद भी इलाज़ नहीं मिल पाता है  | जब इस बारे में अस्पताल का निरीक्षण करने आये जिला चिकित्सा अधिकारी यू एम खान से बात की गई तो उनका भी मानना है कि अस्पताल में संसाधनों के  साथ ही स्टाफ की भी कमी है | जिसकी वज़ह से मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है |  मंत्री तुलसी सिलावट जी आम आदमी बेहतर स्वास्थ,शिक्षा व्यवस्था के नाम पर वोट तो देता है  | लेकिन चुनाव खत्म होते ही ये बातें और वादे सिर्फ जुमला बनकर रह जाती  हैं  |  और इसका  जीता जागता उदाहरण है  गाडरवारा का ये अस्पताल  है  | क्योंकि नेता झूठ बोल सकता है  | लेकिन तस्वीरें  नहीं |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 September 2019

bargi dam

नरसिंहपुर में तेन्दूखेड़ा-गाडरवारा मार्ग पूरी तरह बंद निचली बस्तियों को भी खाली कराने के आदेश बरगी बांध के 21 गेट खोले जाने के बाद नर्मदा नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है |  नरसिंहपुर  के कई इलाकों  में बाढ़ जैसे हालात हो गये हैं | ऐसे में नर्मदा नदी ने भी विकराल रूप ले लिया है |  प्रशासन ने नर्मदा तटों पर निचली बस्तियों को खाली कराने और डूब प्रभावित क्षेत्रों में अलर्ट जारी किया गया है |  नरसिंहपुर ज़िले में पिछले एक सप्ताह से लगातार जारी बारिश से जन जीवन अस्त व्यस्त  कर दिया है |  छोटी बड़ी नदियाँ तो अपने उफान पर हैं वहीं नर्मदा नदी ने भी विकराल रूप ले लिया है|  बरगी बांध के 21 गेट खुलने के बाद अब नर्मदा नदी अपने पूरे उफान पर है औऱ पानी पुलों के ऊपर से निकल रहा है | प्रशासन ने भी अलर्ट जारी कर  निचली बस्तियों को खाली कराने के आदेश दिए हैं  और डूब प्रभावित क्षेत्रों में अलर्ट जारी किया है|  ज़िले की दो तस्वीरें  जिसमे साफ देखा जा सकता है | कि नर्मदा अपना कहर किस प्रकार ढा रही है| ये गाडरवारा से तेन्दूखेड़ा मार्ग पर बना पुल है .जो कि पूरी तरहा जलमग्न हो गया है | वहीं दूसरी तस्वीर नरसिंहपुर से रायसेन को जोड़ने वाले झीकोली पुल की हैं जहां पानी पुल के ऊपर से गुजर रहा है | नर्मदा नदी के इस  रूप को देखने आस पास के इलाकों से  लोग आ रहे हैं | हालांकि प्रशासन ने हिदायत दी है कि  ऐसे तटों के पास न जाया जाये जहां दुघटना होने का अंदेशा है |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  9 September 2019

 WEATHER

घरों में घुसा पानी,तबाह हुई फसलें,कई मकान गिरे   मध्यप्रदेश के कई जिलों में हो रही लगातार बारिश से बाढ़ जैसे हालात बने हुए है  |  जन जीवन पूरी तरह  अस्त व्यस्त हो गया है  ...भारी  बारिश के कारण घरों में पानी घुस गया है  |  जिससे कई  मकान गिर गए है  | प्रशासन ने तत्परता दिखाते हुए बारिश प्रभावित क्षेत्र का मुआयना कर  हर संभव मदद का आश्वाशन दिया  |  मध्यप्रदेश के कई जिलों में बाढ़ जैसे हालात हैं   | वहीं  नरसिंहपुर ज़िला भी इससे  अछूता नहीं है    | मौसम विभाग के   भारी बारिश के अलर्ट के बाद संकट अब और गहराने लगा है   | कल रात अचानक हुई तेज़ बारिश से सालीचोका समीपस्थ ग्राम रहमा में  घरों में पानी भर गया  | जिसके  कारण कई  मकान गिर गए   |  बारिश की वजह से   घर ,स्कूल और गाँव सब जलमग्न हो गए  हैं   | बाढ़ की चपेट में आये ग्रामीणों की हालत बदतर हो गई है  |   ना इनके पास बाढ़ से बचने के लिए पर्याप्त मात्रा में तिरपाल  है   | और न ही खाने के लिए अनाज़  |  लोगों का कहना है कि  सारा अनाज़  बारिश की चपेट में आ गया है   | और लोगों का बुरा हाल है  |   प्रशासन ने  तत्परता दिखाते हुए भारी बारिश प्रभावित क्षेत्र का मुआयना किया  | कलेक्टर एवं एसपी समेत प्रशासनिक अधिकारी गाँव पहुचे   |  और हर संभव मदद का आश्वाशन दिया   | भारी बारिश से तकरीबन एक दर्जन से ज्यादा मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं  ... लोगों की फसलों का अत्याधिक नुकसान हुआ है  |   लोगो का मानना है कि अचानक बादल फटने से ऐसी स्थिति बनी है  | कलेक्टर ने ग्राम पंचायत सरपंच सचिव को बाढ़ से पीड़ित लोगों को खाने एवं रहने की व्यवस्था करने के लिए आदेश दिया |                     

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  4 September 2019

 HUNGAMA

आरक्षक सहित तीन पुलिस वाले लाइन अटैच    जुआं खेलते पकड़े गए एक युवक की पुलिस कस्टडी में मौत हो गई  |  जिसके बाद गुस्साए परिजनों ने अस्पताल में हंगामा कर दिया   | मामला तूल पकड़ता देख आनन फानन में प्रशासन ने चौकी के प्रधान आरक्षक  सहित तीन अन्य पुलिस कर्मियों पर   | कार्यवाही करते हुए उन्हें लाइन अटैच कर दिया   | और मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए |  गाडरवाड़ा में जुआ खेलते पकड़ाए  गए खापा गांव के वीरेंद्र पटेल की पुलिस कस्टडी में मौत का मामला गरमाने लगा है  |  पुलिस कस्टडी में मौत के मामले में प्रदेश सरकार को घेरने की तैयारी की जा रही है  |  जिसे लेकर परिजनों के समर्थन में बीजेपी से  राज्यसभा सांसद कैलाश सोनी और विधायक जालम सिंह अपने समर्थकों के साथ अस्पताल पहुंचे  |  परिजनों ने  पुलिस पर प्रताड़ना के चलते वीरेंद्र की मौत पर मजिस्ट्रेट जांच   | और दोषी पुलिस कर्मियों को सस्पेंड कर 302 का मामला दर्ज करने की मांग की  |  हालातों को बिगड़ता देख जिला अस्पताल में भारी पुलिस बल की तैनाती की गई   |  कलेक्टर, एसपी सहित मजिस्ट्रेट एवं अन्य आला अधिकारी मौके पर  पहुंचे  | और परिजनों को समझाईश देकर मांग पूरी  करने का आश्वासन दिया   |  पूरे घटनाक्रम की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए  |  साथ ही नया गांव पुलिस चौकी के प्रधान आरक्षक राजा राम सहित तीन अन्य पुलिस कर्मियों पर  |  कार्यवाही करते हुए उन्हें लाइन अटैच कर दिया  गया   | इसके बाद परिजन शव लेने को राजी हुए  |  राज्यसभा सांसद कैलाश सोनी और विधायक ने इस मामले की आड़ में प्रदेश सरकार पर निशाना साधा  | और प्रदेश सरकार को पुलिस रूपी गुंडा तंत्र और लूट खसोट वाली सरकार बताया  |  विधायक ने कहा प्रदेश सरकार में लूट खसूट मची हुयी है  | पुलिस जनता को परेशान कर रही |

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  3 September 2019

 SWACHATA ABHIYAN

नारकीय जीवन जी रहे रहवासी   स्वच्छता अभियान की धज्जियां उड़ रही हैं लोग  नारकीय जीवन जी रहे हैं  |  गंदगी से इतनी बदबू फ़ैल रही हैं कि सडक से निकलने वालों का साँस लेना दूभर हैं  |  यह हाल हैं   | करेली नगरपालिका के कचराघर की  |  मगर नगर पालिका के अमले को यह गंदगी दिखाई नहीं देती हैं   | जब खुद नगर पालिका का यह हाल हैं  |  तो शहर का क्या होगा इसका अंदाजा लगाया जा सकता हैं  |  करेली नगरपालिका के कचराघर जाना मतलब अपनी जिंदगी से दो-दो हाथ खेलना  |   किस तरह का जीवन वहां रहने वाले लोग जी रहे हैं  |  जरा वहां के जिम्मेदार अधिकारी जनप्रतिनिधि महोदय जाकर देखिये  |  यह जगह स्वच्छ नगर करेली पर बदनुमा दाग है  |  या तो कचराघर को वहां से अलग कर दिया जाये या वहां पर रहने वाले लोगों को कही भेजा जाये  |  इस विषय पर जब करेली सीएमओ से बात की गई तो उन्होंने जगह का अभाव बताया  |  और कहा कि  |   कचराघर के लिए देवरीकला में शासकीय जगह ली जानी है   |  जिसकी फाइल कलेक्टर साहब के पास है  |  जैसे ही आदेश होता है कचराघर की उचित व्यवस्था की जायेंगी |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  1 September 2019

 NARI SURAKSHA

पुलिस ने सिखाये छात्राओं को सुरक्षा के गुण पुलिस की इस पहल की हर तरफ हो रही सराहना    नारी की सुरक्षा व सम्मान को लेकर चलाये जा रहे जागरूकता अभियान के तहत  |  बीते दिनों नगर के न्यू ऐज पब्लिक स्कूल में नारी के सम्मान व सुरक्षा को लेकर कार्यक्रम का आयोजन किया गया  | इस दौरान स्कूल की छात्राओं को अपने बचाव व् सुरक्षा को लेकर आवश्यक जानकारी भी दी गई  |  गाडरवारा एसडीओपी सीताराम यादव एवं महिला थाने की एसआई ने   |  पोस्को एक्ट के बारे में जानकारी दी  | और बताया कि छात्र बिना किसी डर भय से   अपने विद्यालय में पठन पाठन करने आएं   | साथ ही साथ अपने विचार भी व्यक्त किये  |  कहीं भी किसी भी प्रकार की आपको अपमानित करने वाली बात या इशारेबाजी किसी भी व्यक्ति के द्वारा की जाती है तो तनिक भी डरे नहीं  |  तत्काल इसकी सूचना 1090 पर अथवा 100 डायल पर दें  |  ताकि उक्त व्यक्ति के खिलाफ कड़ी से कड़ी कानूनी कार्रवाई किया जा सके  |  साथ ही साथ 1098 चाइल्ड लाइन जो कि बच्चों के लिए चलाई जा रही हेल्पलाइन नंबर की जानकारी दी |  उन्होंने कहा कि पुलिस आप के सम्मान व सुरक्षा को लेकर पूरी तरह से तत्पर हैं  |  जो भी महिला घरेलू हिंसा या किसी भी प्रकार से परेशान अथवा प्रताड़ित है  | तो इसकी सूचना तत्काल 181 नंबर पर दें |   फौरन उसकी हर प्रकार की सहायता सुनिश्चित की जायेगी  | इस कार्यक्रम की सबसे अच्छी बात यह रही कि छात्राओं ने निर्भीक और निडरता के साथ समस्त पुलिस अधिकारियों के समक्ष अपने विचार रखे और समस्याओं को साझा किया |     

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  31 August 2019

 ACCIDENT

नागपुर से सागर जा रही बस दुर्घटनाग्रस्त    ड्राइवर की लापरवाही के कारण सागर से नागपुर जा रही बस अनियंत्रित हो कर पहाड़ से टकरा गई  |  ये हादसा परतापुर-कुंडाली मार्ग के  पास रात करीब 3 बजे हुआ  |  इसमें 12 यात्री घायल हो गए  |  नरसिंहपुर जिला मुख्यालय से करीब 22 किलोमीटर दूर छिंदवाड़ा जिले के  परतापुर-कुंडाली मार्ग के बीच एक बस देर रात अनियंत्रित होकर पहाड़ी से टकरा गई |  हादसे में बस में सवार 12 यात्री घायल हो गए  | बस नागपुर से सागर जा रही थी  |  हादसे में गंभीर रूप से घायल कंडक्टर अनिल अवस्थी को जबलपुर रेफर किया गया है  |  बाकी 11 घायलों को एंबुलेंस के जरिए  नरसिंहपुर जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है |  इसमें 9 यात्री सागर जिले के बताए जा रहे हैं  |  हादसे की वजह रास्ते से गुजर रहे एक डंपर द्वारा बस को क्रासिंग के दौरान कट मारना बताया  जा रहा  है |  जबकि यात्रियों का कहना है बस ड्राइवर लापरवाही से बस चला रहा था और अचानक उसे झपकी लग जाने के कारण यह हादसा हुआ  |     

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  30 August 2019

 ADHIKARI GRAHAN

अपराधों के मामले में है सबसे संवेदनशील थाना  यहाँ आकर सस्पेंड और बदनाम होते हैं थानेदार     एक ऐसा पुलिस स्टेशन है जहां कोई भी थानेदार के रूप में पदस्थ नहीं होना  चाहता   | इस थाने में जो भी थानेदार आये किसी न किसी कारण से  उनको  कार्रवाई का शिकार होना पड़ा  |  इस थाने में आये थानेदारों को या तो कुर्सी से हाथ धोना पड़ता है   |  या फिर बदनामी झेलनी पड़ती है  | यह थाना आपराधिक मामलों में सबसे संवेदनशील  है | अवैध खनन , जुआ सट्टे का कारोबार और चोरी लूट की वारदात यहां आम बात हो गई है  |  क्या किसी थाने की कुर्सी कलंकित हो सकती है  |  बीते कुछ सालो में जो भी थानेदार आया   |  उसे किसी न किसी वजह से कुर्सी से हाथ धोना पड़ा   |  और खुद की वर्दी पर भी बदनामी का दाग झेलना पड़ा  |  यह जानकार आपको भी हैरानी हुई होगी   | पर ये सच है   |  यह गाडरवारा थाना है |   नरसिंहपुर जिले का यह थाना आपराधिक मामलों में सबसे संवेदनशील माना जाता है   | अवैध खनन , जुआ सट्टे का कारोबार और चोरी लूट की वारदात यहां आम बात है  |  पिछले डेढ़ साल के आंकड़ों को देखा जाए तो 17 मामले अवैध खनन , 2 बड़े घोटाले , 4 अपहरण 9 हत्याएं 11 महिला सम्बन्धी अपराध और जुआ एक्ट के तहत 19 मामले दर्ज  हैं  |  जिनके कार्यवाही के नाम पर कहीं न कहीं पुलिस की लापरवाही  सामने आई   | और थाने में पदस्थ लगभग हर थानेदार को किसी न किसी  वजह से  लाइन अटैच कर दिया गया  |  आइये नजर डालते है  पिछले कुछ साल के आकड़ों पर  |   यहां पदस्थ थानेदार आरडी मिश्रा 2011, पीएस ग्रेवाल 2011, शैलेश मिश्रा 2013, उमेश तिवारी2015, मुकेश खम्परिया 2016, अरविंद दुबे2018 ,संजय दुबे 2019 ,अरविंद चौबे 2019, रामफल गोंड 2019, गाडरवारा टी आई के पद से हटाया जा चुका है  | इसे लेकर खुद जिले के ए एसपी बताते है की एक दर्जन से अधिक थाना प्रभारियों को लगातार हटाया गया है  |   हालाकि इसके पीछे वह इन प्रभारियों की कर्तव्यनिष्ठा में चूक होना बता रहे हैं  |  जिसके परिणाम स्वरूप उन्हें हटाया गया है  |   और यही भय नरसिंहपुर में पदस्थ हर नगर निरीक्षक को सताता है  | कि कहीं उनके हिस्से में  यह कांटो भरी कुर्सी न आ जाए |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 August 2019

SHRINGAR

होठों से लगी बांसुरी और सजा मोरपंख मुकुट   गोटेगांव के परमहंसी स्थित त्रिपुर सुंदरी माता मंदिर में भगवती की प्रतिमा का श्रीकृष्ण रूप में मनोहारी श्रृंगार किया गया है |  माँ त्रिपुर सुंदरी भगवान् कृष्ण जैसी नजर आयीं  |  उनके सिर पर मोरपंख का मुकुट था और होठों पर बांसुरी  | नरसिंहपुर जिले में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी उत्सव  धूमधाम से शुरू हो गया है  |  आर्कषक रूप से सजे मंदिरों में भगवान राधा-श्रीकृष्ण की मनोहारी झांकिया सजाई गईं हैं और तोरण द्वारों से मंदिरों के कपाट भगवान के जन्म का उत्सव मना रहे हैं  |   गोटेगांव के परमहंसी स्थित त्रिपुर सुंदरी माता मंदिर में भगवती की प्रतिमा का श्रीकृष्ण रूप में मनोहारी श्रृंगार किया गया है  |   खास परिधान में श्रीकृष्ण बनी माता के होठों से बांसुरी लगाई गई है तो वहीं मोरपंख का मुकुट माता के सिर की शोभा बढ़ा रहा है  |  मां की प्रतिमा की दोनों तरफ कामधेनु गायों की झांकी यहां आने वाले श्रद्धालुओं को मंत्रमुग्ध कर रही हैं |   इस मंदिर में अक्सर मां का ऐसा ही श्रृंगार किया जाता है  |   सावन सोमवार के दिन भी मां को भगवान भोलेनाथ के रूप में सजाया गया था  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  23 August 2019

 oil industries

 कई बड़ी  गड़बड़ियों का हुआ खुलासा    नरसिंपुर में मिलावटखोरों पर नकेल कसने के लिए प्रशासन ने कमर कस ली है  कलेक्टर और एसपी ने कई ऑयल इंडस्ट्रीज  का निरीक्षण किया और गड़बड़ियां पकड़ीं   प्रशासन ने मिलावटखोरों के खिलाफ सख्त कार्यवाही के निर्देश दिए हैं   कलेक्टर दीपक सक्सेना और  पुलिस अधीक्षक डॉ. गुरकरन सिंह ने नरसिंहपुर  के करेली में  स्थित आयल इंडस्ट्रीज के 4 प्रतिष्ठानों का निरीक्षण किया   और कई गड़बड़ियों का खुलासा किया  गंभीर अनियमितता मिलने पर कलेक्टर दीपक सक्सेना ने आशु इंडस्ट्रीज को सील करने के निर्देश दिये   उन्होंने संयुक्त टीम को विस्तृत जांच कर प्रकरण दर्ज करने की हिदायत दी  इसके बाद कलेक्टर एवं एसपी ने शुभम इंडस्ट्रीज  राहुल इंटरप्राइजेज एवं  कंछेदी लाल विजय कुमार नेमा के प्रतिष्ठानों का निरीक्षण किया और पूछताछ की  जांच के लिए इन सभी प्रतिष्ठानों से आयल के सैम्पल लिये गये  आयल इंडस्ट्रीज के सभी 4 प्रतिष्ठानों के लायसेंस एवं दस्तावेजों का परीक्षण करने के लिए भी कलेक्टर ने निर्देशित किया है  इन सभी प्रतिष्ठानों में बाहर से टेंकर द्वारा खाद्य तेल लाकर उसकी पैकेजिंग कर थोक में विक्रय किया जाता है   निरीक्षण के दौरान आशु इंडस्ट्रीज के परिसर में अत्याधिक गंदगी मिली साथ ही साथ यहां के सभी कार्यों में गंभीर अनियमिततायें सामने आईं   इस आयल इंडस्ट्रीज को गणपति ब्रांड के नाम से आशु इंडस्ट्रीज का लायसेंस मिला हुआ है   परंतु आशु इंडस्ट्रीज में एक्टिव   पक्का मोती, आदित्य गोल्ड, मधुर रूची, ट्यूलिप गोल्ड, शक्ति, उड़ान, गणपति सनफ्लावर आयल, एक्टिव इंदौर फर्स्ट ग्रेड सोयाबीन रिफाइंड आयल, फार्चून आदि अनेक ब्रांड के नाम से पैकेजिंग के प्रमाण मिले   यहां किसी प्रकार का कोई लायसेंस या अन्य दस्तावेज नहीं मिला है और ना ही कोई लेखा- जोखा मिला  आशु इंडस्ट्रीज के मालिक मौके पर नहीं मिले। निरीक्षण में मिस ब्राडिंग का गंभीर मामला मिला          

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  30 July 2019

MANAVTA SHARMSAAR

तस्करों ने ठूस-ठूस कर  गायों को भरा था   पालतू जानवरों की तस्करी का बड़ा  मामला सामने आया है   गायों को तस्करों ने ट्रक के अंदर  इस कदर ठूस  कर भरा था की    जिसे देख इंसानियत भी शर्मशार हो जाये   ट्रक में भरी 17 गायों की मौत हो गई है   पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है   यह मामला एमपी के गाडरवारा का है   मामला गाडरवारा थाना क्षेत्र का है    जहां बेलखेड़ी गाँव के पास एक ट्रक अचानक गड्ढे में जा घुसा   और फस गया  ट्रक को देख ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई   ट्रक के अंदर से अजीबोगरीब आवाजें सुन ग्रामीणों ने ट्रक का दरवाजा खोला  तो ग्रामीणों के पैरों तले जमीन खिसक गई    जब ट्रक के अंदर का मंजर देखा तो  इन्सानित मरी हुई नज़र आई    ट्रक के अंदर पालतू जानवरों को बुरी  तरह से भरा गया था   एक के ऊपर एक जानवरों को ठूस ठूस  कर भरा गया था   गाँव वालों ने देर न करते हुए स्थानीय पुलिस को फ़ोन लगाया   और जानवरों को छुड़ाया    जानकारी के अनुसार  ट्रक में भरी गईं  17 गायों  की मौत हो गई है    और बाकी गायों  को प्राथमिक उपचार के बाद सुरक्षित स्थान पर पहुचाया गया    ये पूरा मामला गो वंश तस्करी का  है  गो वंश की खेप काटने के लिए कहीं ले जाई जा रही थी  बहरहाल पुलिस ने ट्रक को कब्जे में लेकर मामला कायम कर लिया है  मौके  का फायदा उठाकर ट्रक चालक भागने में सफल हो गया     

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  30 July 2019

 TEACHER

शिक्षक नहीं बता पाए मुख्यमंत्री का नाम  ऐसे पढ़ेगा इंडिया तो कैसे बढ़ेगा इंडिया     एक ऐसा जिला जिसे पूर्ण साक्षर जिले का तमगा मिला है  मगर इस पूर्ण साक्षर जिले के शिक्षकों का ज्ञान देखकर आप भी अपना माथा पकड़ने को मजबूर हो जाएंगे    सन् 1992 में नरसिंहपुर जिले को प्रदेश के पूर्ण साक्षर जिला होने का गौरव प्राप्त हुआ था। उस समय के तत्कालीन मुख्यमंत्री सुन्दरलाल पटवा ने जिला मुख्यालय पर 'साक्षरता स्तंभ' का अनावरण करते हुए इसकी घोषणा की थी  लेकिन अब यह साक्षरता का गौरव और वाहवाही जमीनी स्तर पर धूमिल होती नजर आ रही है    नरसिंहपुर जिले को शिक्षा के क्षेत्र में पूर्ण साक्षर जिले का तमगा मिला है  लेकिन  वहाँ अज्ञानता का कैसा अंधेरा है  ये नरसिंहपुर के तमाम शिक्षकों के ज्ञान से साफ पता चलता है   इनकी अज्ञानता का भी अलग अंदाज है  सन् 1992 में नरसिंहपुर जिले को प्रदेश के पूर्ण साक्षर जिला होने का गौरव प्राप्त हुआ था   उस समय के तत्कालीन मुख्यमंत्री सुन्दरलाल पटवा ने जिला मुख्यालय पर 'साक्षरता स्तंभ' का अनावरण करते हुए इसकी घोषणा की थी   लेकिन अब यह साक्षरता का गौरव और वाहवाही जमीनी स्तर पर धूमिल होती नजर आ रही है  किसे पता था कि 27 साल बाद पूर्ण शिक्षित ज़िले को मिले इस गौरव की नई कहानी यहां के शिक्षक लिख रहे हैं  पूर्ण शिक्षित जिले की शिक्षा को किस तरह नया आयाम दिया जा रहा है यह इस रिपोर्ट में सामने आ रहा है   साक्षरता का गौरव और वाहवाही जमीनी स्तर पर धूमिल होती नजर आ रही है    जब हमारी टीम ने जिले में साक्षरता के संबंध में पड़ताल की तो पता चला  कि जिले के शिक्षकों की शैक्षणिक गुणवत्ता ही आधी अधूरी है  जब शिक्षकों से सामान्य ज्ञान के कुछ प्रश्न पूछे तो ज़िले में ऐसे - ऐसे शिक्षक मिले जिन्हें भारत के "शिक्षा मंत्री" कौन है ये तक नहीं पता है  भारत के "शिक्षा मंत्री" तो छोड़िए उन्हें मध्य प्रदेश के शिक्षा मंत्री के बारे में तक नहीं पता है  उनका नाम तक नहीं जानते है  और आगे पड़ताल की तो ज़िले से ही चुनकर गए मध्य प्रदेश के विधान सभा अध्यक्ष एन पी प्रजापति का नाम तक नहीं पता है   सरकार बदल गई मुख्यमंत्री बदल गए मगर इनके लिए मुख्यमंत्री अभी तक  "शिवराज सिंह चौहान" ही है  जी  हाँ मुख्यमंत्री प्रदेश के कौन हैं इसके जवाब में शिवराज सिंह और शिक्षा मंत्री कमलनाथ बता दिए     एक शिक्षक ने तो केन्द्रीय मंत्री "प्रहलाद सिंह पटेल" को ही मध्यप्रदेश का "मुख्यमंत्री" बना डाला   हमारी टीम ने जब आगे बढ़कर शिक्षकों से ओर पूछने का प्रयास किया तो पता चला कि शिक्षक सही ढंग से हिंदी तक नहीं लिख पा रहे हैं   हमने ब्लैक बोर्ड पर लिखने को क्या कह दिया मानो जुल्म ही कर दिया  शिक्षक "आशीर्वाद" "आविष्कार" "मंत्रिमंडल" "दंपती" "सांसारिक" जैसे शब्दों की वर्तनी तक नहीं लिख पा रहे हैं   जब हमारी टीम ने एक शिक्षक से "आविष्कार" लिखने को कहा तो मास्टर जी ने नया ही अविष्कार कर दिया  मास्टर जी यहां भी फेल हो गए और सही नहीं लिख पाने पर बगलें झांकने लगे   मास्टर जी के इस नए आविष्कार को देख आप  चौकिएगा नहीं क्योंकि पढ़ा वो रहे थे  और बार बार पूछ हमसे रहे थे   शिक्षकों का ज्ञान कितना हैं    इंग्लिश तो छोड़िए ये सही से हिंदी तक नहीं लिख पा रहे हैं   अगर ऐसे शिक्षकों के हांथो में देश के भविष्य की बुनियाद रखी जायेगी तो क्या पता इससे बनने वाली इमारत कितने दिनों खड़ी रहेगी   देश की शिक्षा का यह हाल सरकार के दावों की पोल खोलता नज़र आता है  भले ही सरकार शिक्षा के प्रति कितनी भी योजनाएं चला ले कितने भी प्रशिक्षण दे ले लेकिन जमीनी स्तर पर उनका परिणाम शून्य ही मिल रहा है  अगर ऐसे पढ़ेगा इंडिया तो कैसे बढ़ेगा इंडिया  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  28 July 2019

 TEACHER

शिक्षक नहीं बता पाए मुख्यमंत्री का नाम  ऐसे पढ़ेगा इंडिया तो कैसे बढ़ेगा इंडिया     एक ऐसा जिला जिसे पूर्ण साक्षर जिले का तमगा मिला है  मगर इस पूर्ण साक्षर जिले के शिक्षकों का ज्ञान देखकर आप भी अपना माथा पकड़ने को मजबूर हो जाएंगे    सन् 1992 में नरसिंहपुर जिले को प्रदेश के पूर्ण साक्षर जिला होने का गौरव प्राप्त हुआ था। उस समय के तत्कालीन मुख्यमंत्री सुन्दरलाल पटवा ने जिला मुख्यालय पर 'साक्षरता स्तंभ' का अनावरण करते हुए इसकी घोषणा की थी  लेकिन अब यह साक्षरता का गौरव और वाहवाही जमीनी स्तर पर धूमिल होती नजर आ रही है    नरसिंहपुर जिले को शिक्षा के क्षेत्र में पूर्ण साक्षर जिले का तमगा मिला है  लेकिन  वहाँ अज्ञानता का कैसा अंधेरा है  ये नरसिंहपुर के तमाम शिक्षकों के ज्ञान से साफ पता चलता है   इनकी अज्ञानता का भी अलग अंदाज है  सन् 1992 में नरसिंहपुर जिले को प्रदेश के पूर्ण साक्षर जिला होने का गौरव प्राप्त हुआ था   उस समय के तत्कालीन मुख्यमंत्री सुन्दरलाल पटवा ने जिला मुख्यालय पर 'साक्षरता स्तंभ' का अनावरण करते हुए इसकी घोषणा की थी   लेकिन अब यह साक्षरता का गौरव और वाहवाही जमीनी स्तर पर धूमिल होती नजर आ रही है  किसे पता था कि 27 साल बाद पूर्ण शिक्षित ज़िले को मिले इस गौरव की नई कहानी यहां के शिक्षक लिख रहे हैं  पूर्ण शिक्षित जिले की शिक्षा को किस तरह नया आयाम दिया जा रहा है यह इस रिपोर्ट में सामने आ रहा है   साक्षरता का गौरव और वाहवाही जमीनी स्तर पर धूमिल होती नजर आ रही है    जब हमारी टीम ने जिले में साक्षरता के संबंध में पड़ताल की तो पता चला  कि जिले के शिक्षकों की शैक्षणिक गुणवत्ता ही आधी अधूरी है  जब शिक्षकों से सामान्य ज्ञान के कुछ प्रश्न पूछे तो ज़िले में ऐसे - ऐसे शिक्षक मिले जिन्हें भारत के "शिक्षा मंत्री" कौन है ये तक नहीं पता है  भारत के "शिक्षा मंत्री" तो छोड़िए उन्हें मध्य प्रदेश के शिक्षा मंत्री के बारे में तक नहीं पता है  उनका नाम तक नहीं जानते है  और आगे पड़ताल की तो ज़िले से ही चुनकर गए मध्य प्रदेश के विधान सभा अध्यक्ष एन पी प्रजापति का नाम तक नहीं पता है   सरकार बदल गई मुख्यमंत्री बदल गए मगर इनके लिए मुख्यमंत्री अभी तक  "शिवराज सिंह चौहान" ही है  जी  हाँ मुख्यमंत्री प्रदेश के कौन हैं इसके जवाब में शिवराज सिंह और शिक्षा मंत्री कमलनाथ बता दिए     एक शिक्षक ने तो केन्द्रीय मंत्री "प्रहलाद सिंह पटेल" को ही मध्यप्रदेश का "मुख्यमंत्री" बना डाला   हमारी टीम ने जब आगे बढ़कर शिक्षकों से ओर पूछने का प्रयास किया तो पता चला कि शिक्षक सही ढंग से हिंदी तक नहीं लिख पा रहे हैं   हमने ब्लैक बोर्ड पर लिखने को क्या कह दिया मानो जुल्म ही कर दिया  शिक्षक "आशीर्वाद" "आविष्कार" "मंत्रिमंडल" "दंपती" "सांसारिक" जैसे शब्दों की वर्तनी तक नहीं लिख पा रहे हैं   जब हमारी टीम ने एक शिक्षक से "आविष्कार" लिखने को कहा तो मास्टर जी ने नया ही अविष्कार कर दिया  मास्टर जी यहां भी फेल हो गए और सही नहीं लिख पाने पर बगलें झांकने लगे   मास्टर जी के इस नए आविष्कार को देख आप  चौकिएगा नहीं क्योंकि पढ़ा वो रहे थे  और बार बार पूछ हमसे रहे थे   शिक्षकों का ज्ञान कितना हैं    इंग्लिश तो छोड़िए ये सही से हिंदी तक नहीं लिख पा रहे हैं   अगर ऐसे शिक्षकों के हांथो में देश के भविष्य की बुनियाद रखी जायेगी तो क्या पता इससे बनने वाली इमारत कितने दिनों खड़ी रहेगी   देश की शिक्षा का यह हाल सरकार के दावों की पोल खोलता नज़र आता है  भले ही सरकार शिक्षा के प्रति कितनी भी योजनाएं चला ले कितने भी प्रशिक्षण दे ले लेकिन जमीनी स्तर पर उनका परिणाम शून्य ही मिल रहा है  अगर ऐसे पढ़ेगा इंडिया तो कैसे बढ़ेगा इंडिया  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  28 July 2019

 BACHA CHOR

अफवाह से ग्रमीण अंचलों में दहशत का माहौल है     प्रदेश में तेजी से फैल रही बच्चा चोर गिरोह की अफवाह का ख़ौफ़ अब शहर से ग्रामीण क्षेत्रों में पहुँच चुका है  बच्चा चोर गिरोह की अफवाह से ग्रमीण अंचलों में दहशत का माहौल है  गांवों में लोग टोली बनाकर रात में पहरेदारी कर रहे हैं  वही मॉब लिंचिंग की घटनाये भी बढ़ी हैं  जरा सा शक होते ही बगैर सोचे समझे लोग हमला कर देते हैं। अब गांवों में फेरी लगाकर सामान बेचने वाले, भिखारी, अंजान लोगों की शामत आ गई है। लोग गांवों में जाने से डरने लगे हैं   मॉब लिंचिंग का भूत अब छोटे शहरों की ओर रुख कर रहा है  गाडरवारा और आसपास के क्षेत्र में बच्चा चुराने की घटना की अफवाह से लोगों में दहशत का माहौल है   हाल ही में हुई दो बच्चा चोरी की अफवाहों ने इलाके में सनसनी मचा रखी है   अफवाह से आक्राोशित ग्रामीणों द्वारा अंजान लोगों पर हमला और हंगामा किया जा रहा है  मामले की गंभीरता को देखते हुये पुलिस प्रशासन सतर्क हो गया है   और पुलिस ने सभी प्रकार की अफवाहों पर विराम लगाने की अपील भी की है  साथ ही सोशल मीडिया और अन्य माध्यमों से अफवाह फैलाने वालों पर कार्रवाई की चेतावनी दी जा रही है  दहशत इतनी हैं की गावों में बच्चों को घर से अकेले निकलने नहीं दिया जा रहा है   ...  गाडरवारा के आसपास बच्चा चोरी की अफवाहों के चलते कई लोग दहशत में अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेज रहे हैं   स्कूली शिक्षकों का कहना है कि माता पिता दहशत में है  और बच्चों को स्कूल नहीं भेज रहे  घर - घर जाकर शिक्षकों को बच्चों को स्कूल भेजने  की अपील करनी पड़ रही है    स्कूलों में सन्नाटा पसरा हुआ है  शिक्षकों की समझाइश के बाद भी एक्का-दुक्का बच्चे ही स्कूलों में पहुंच रहे हैं   ऐसी ही अफवाह के चलते बीते दिनों गाडरवारा के साईखेड़ा   और नादनेर में लोगों ने अलग-अलग व्यक्तियों को बच्चा चोरी के शक में जमकर पीटा  गनीमक़त ये रही की किसी ने पुलिस को फोन लगा दिया और उनकी जान बच गई  जहाँ  बच्चा चोरी की अफवाह फैलने से लोगों में दहशत का माहौल बना हुआ है  वहीं प्रशासन ने ऐसी अफवाहों पर विराम लगाने के लिए कई प्रयास कर रहा है  और शोसल मीडिया के माध्यम से लोगों से अपील की जा रही है   गाडरवारा एसडीओपी सीताराम यादव ने  बताया  की  उन्होंने भी लोगों से अपील की है  कि किसी भी प्रकार की अफवाह पर तुरंत विश्वास न करें यदि कहीं ऐसी घटना या अफवाह फैलाने की खबर मिले तो तुरंत स्थानीय पुलिस से संपर्क करें   गाडरवारा के आसपास जो भी बच्चा चोरी की अफवाह फैली है उसके सम्बन्ध में थाना प्रभारी स्तर पर जांच की गई है  और ये केवल अफवाह ही निकली हैं   सभी लोगों से अपील की कि ऐसी अफवाहों पर ध्यान न दें स्थानीय पुलिस से संपर्क करें  एसडीओपी ने अपना फोन नंबर  जारी कर कहा    कि अगर ऐसी कोई घटना या अफवाह फैलाई जाती है   तो सीधे मुझसे संपर्क करें।        

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  24 July 2019

 UDAAN  COCHING

उड़ान में सिखाए जाते है सफलता के गुर    कम्पटीशन एग्जाम में सफलता कैसे मिले इसके लिए एक अफसर ने उड़ान कोचिंग शुरू की और तमाम अफसरों और समाज सेवियों ने बच्चों को सफलता के गुर सिखाए  अब ये नरसिंहपुर की उड़ान अपने चरम पर है   सुपर 30 की तर्ज पर नरसिंहपुर में निःशुल्क उड़ान संस्था की नींव रखने वाले वर्तमान सागर नगर निगम कमिश्नर  नरसिंहपुर पहुंचे तो खुद को उड़ान जाने से नही रोक पाए  उन्होंने उड़ान में जाकर कम्पटीशन एग्जाम की तैयारी करने वाले बच्चों को पढ़ाते हुए कॉम्पटीशन एग्जाम में सफलता के गुर सिखाए  "दखल न्यूज़" से बात करते हुए सागर कमिश्नर आरपी अहिरवार ने कहा कि उड़ान से उनका आत्मीय लगाव रहा है  4 साल पहले जिस संस्था को सामाजिक भाव से निःशुल्क विधार्थियो के लिए शुरू किया  वहां कलेक्टर, अपर कलेक्टर और समाजसेवियों ने बिना किसी स्वार्थ से बच्चो को पढ़ाया  और उन्हें सही दिशा दी   यहां से पढ़े  सैंकड़ों बच्चे आज विभिन्न पदों पर काम कर रहे हैं  बिना किसी शासकीय मदद से सामाजिक दायित्व निभाते हुए जिस उड़ान की शुरुआत हुई  थी वह अब बुलन्दियों को छू रही है   उड़ान में अध्ययन करने वाले विद्यार्थी भी अपने पुराने शिक्षक रूपी अधिकारी को देख गदगद हो गए    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 July 2019

 KISAN

मौसम की मार से किसान परेशान   मानसून की बेरुखी से किसान परेशान हैं  आसमान को निहारता किसान बादलों के छाने का इंतजार कर रहा हैं   बारिश ना होने से किसानो के सर पर संकट के बादल जरूर छा गए हैं   नरसिंहपुर में बारिश नहीं हो रही है किसान डरा हुआ हैं  खासकर धान के किसानों के लिए यह समय किसी मुसीबत से कम नहीं है  जहां उनकी रोपी गई फसल अब सूखने लगी है  मजदूरी निकालना भी अब उनके लिए दूर की कौड़ी साबित होने लगा है नरसिंहपुर को मध्यप्रदेश का धान का कटोरा कहा जाता है   एशिया की सबसे उपजाऊ भूमि का तमगा रखने वाले नरसिंहपुर के किसान मौसम की बेरुखी के चलते एक बार फिर गहरे संकट से जूझ रहा है  पिछले 10 - 12 दिनों से मौसम ने ऐसी करवट बदली है   की अन्नदाता के अरमानों पर  पानी फिर गया हैं    किसानों द्वारा अच्छी बारिश की आस में बड़े - बड़े रकवे में इस बार धान  उपज की रुपाई की गई   लेकिन फिर मानसून ने उन्हें धोखा  दे दिया   और अब यह हालत है शेष बचे रोपों  को खेत मे रोपने से घबरा रहे है साथ ही पहले रोपे गए धान भी अब पानी की कमी के चलते खेत मे ही सूखकर दम तोड़ रहे है  आर्थिक तंगी से जूझ रहे इन धान किसानों की दूसरी मुसीबत यह भी है कि धान की रुपाई के लिए भारी संख्या में मजदूर लाने पड़ते है  और अब बारिश न होने के चलते और मजदूरों को मजदूरी देने के लिए मजबूरन धान रोपने का रिस्क भी लेना पड़ रहा है  लेकिन अगर एक दो दिनों में बारिश न हुई तो पूरी की पूरी फसल बर्बाद होने का किसानों को डर सताने लगा है   मौसम की इस मार के आगे खुद जिले का कृषि विभाग अपने आप को बेबस और लाचार महसूस कर रहा है   और वह भी मॉनसून के वापिस आने की राह तक रहा है   विभाग भी कार्यशाला आयोजित कर अब एक तरह की खेती से बचने की किसानों को सलाह देता नजर आ रहा है  ताकि कृषि आधारित वैकल्पिक व्यवसाय को किसान अपनाए और होने वाले घाटे को कम किया जा सके   खेती को लाभ का धंधा बनाने के सारे जतन मौसम की मार के आगे बेबस नजर आते है कभी भारी ओलावृष्टि और कभी सूखे की मार से नरसिंहपुर का अन्नदाता हमेशा ही दो चार होता रहता है और यही वजह है कि अब लोग पुराने पुश्तेनी खेती के व्यवसाय से पलायन कर रोजगार की तलाश भी भटकने को मजबूर है     

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 July 2019

AWAS YOJANA

राजनीती की भेंट चढ़ी पीएम आवास योजना  नहीं मिल रही  हितग्राहियों को बकाया राशि    प्रधानमंत्री  आवास योजना की किस्त ना  मिलने से गुस्साईं महिलाओं ने  नगर पालिका के सामने रोटियां बनाकर अनोखा  विरोध प्रदर्शन किया  अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों को  चेताने महिलाओं ने सब्जी रोटी बनाकर नगर पालिका के कर्मचारियों में  वितरित की  भाजपा के विरोध का  समर्थन करने के साथ ही सियासत तेज हो गई है  जनप्रतिनिधियों के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर चालू हो गया है  प्रधानमंत्री आवास योजना की किस्त नहीं मिलने से गुस्साईं महिलाओं ने गाडरवारा नगर पालिका के सामने ही रोटियां बनाकर विरोध प्रदर्शन किया  कई दिनों से धरने पर बैठीं  महिलाओं का आरोप है कि नगर पालिका के अधिकारी और अध्यक्ष के द्वारा क़िस्त अदायगी में भेदभाव किया जा रहा है   बरसात में क़िस्त की राशि समय पर न मिलने से समस्याएं खड़ी हो गई हैं  लोग अधूरे पड़े मकानों में तिरपाल डालकर रहने को मजबूर है  लोगों का कहना है की  बरसात में समस्या बड़ी विकराल होती जा रही है   बरसात  के कारण घरों में पानी घुस रहा है  , लेकिन  कोई अधिकारी  सुनने को तैयार नहीं   अधिकारियों और  जनप्रतिनिधियों की अनदेखी का शिकार हो रहे लोगों ने प्रशासन  की आंखे खोलने और चेताने के लिए यह  प्रदर्शन किया   अब नगर पालिका के सामने डेरा जमा चुकी महिलाएं न्याय की गुहार लगा रहीं है  , और जल्द से जल्द क़िस्त डालने की मांग कर रही हैं    महिलाओं के इस धरने को स्थानीय तौर पर भाजपा नेताओं का साथ मिलने से मामले में अब सियासत शुरू हो गई है  या यूँ कहें की धरने ने राजनैतिक रूप धारण कर लिया है   धरने का राजनीतिकरण होने से भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियां इसका राजनीतिक फायदा उठाने कोई कोर कसर नहीं छोड़ रही  जब इस बारे में स्थानीय भाजपा पार्षदों से बात की गई तो उन्होंने नगर पालिका अध्यक्ष पर सीधे आरोप लगाते हुए कहा कि अध्यक्ष क़िस्त की राशि में पक्षपात कर रहीं हैं  और अपने  वालों को फायदा पहुचने का काम कर रही   कांग्रेस और भाजपा के जनप्रतिनिधि एक दूसरे पर भले ही आरोप लगा रहे हैं पर इन गरीबों का क्या जो तिरपाल डालकर बरसात में खुले आसमान के नीचे रहने को मजबूर हैं   राजनितिक खींचातानी और आरोप प्रत्यारोप के बीच धरने पर बैठे हितग्राहियों को उनका हक कब मिल पाता है यह देखने वाली बात होगी  आवास का सपना लिए बैठे हितग्राहीयों को अभी और कितना इन्जार करना पड़ेगा                    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  13 July 2019

 KANYADAN YOJANA

फर्जी पंजीयन का शिकार हुए जोड़े     मुख्यमंत्री कन्यादान योजना भी अब भगवान् भरोसे चल रही है   मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में कई पंजीकृत जोड़ो के साथ  छलावा होने  की घटना सामने आयी है   दूल्हा दुल्हन परिवेश में सामूहिक विवाह के लिए  पहुंचे जोड़ों को बताई गई जगह में ना तो आयोजन स्थल मिला ,  ना ही कोई अधिकारी   प्रदेश सरकार की  मुख्यमंत्री कन्यादान योजना  अब ठगी का केंद्र बनती जा रही है  सामूहिक विवाह सम्मलेन अब मजाक बनता जा रहा है   नरसिंहपुर के गोटेगांव में मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में कई पंजीकृत जोड़े छलावे का शिकार हो गए   दरअसल  ग्राम सचिव और सामाजिक संगठनों ने  मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत शादी करने वाले युवक युवतियों के समस्त दस्तावेज पर नियम प्रकिया पूरी की   प्रक्रिया  पूर्ण होने के बाद उन्हें गोटेगांव की बगासपुर  और फिर  इमालिया में सामूहिक विवाह के लिए बुलाया गया   कई जोड़े परिजनों के साथ दूल्हा दुल्हन के परिवेश में गाजे बाजे के साथ इमालिया पहुंचे  , पर न वहाँ कोई आयोजन स्थल और न कोई अधिकारी मौजूद मिले   फर्जी विवाह पंजीयन   कराने से  जोड़े  खुद को ठगा महसूस कर रहे  है  जोड़ों ने  एसडीएम कार्यालय पहुंचकर  खुद के साथ धोखा होने की बात कही  एसडीएम और जनपद के अधिकारी ने बताया की  कई शादीशुदा जोड़ो के साथ अविवाहित जोड़ों का पंजीयन किया गया है   जबकि शासन द्वारा  सामूहिक विवाह का आयोजन नही किया जा रहा   पीड़ितों को थाने में शिकायत करने की सलाह दी गई जिससे दोषियों पर कार्यवाही की जा सके    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  12 July 2019

GUNDAI

शिकायतों के बाद भी अब तक कुछ नहीं हुआ  कथित तौर पर बड़े लोगों की गुंडई का शिकार कुछ दलित परिवारों को होना पड़ रहा है  पीड़ित पक्ष के लोगों का कहना है कि बड़े लोगों ने उनकी बस्ती में जाने का रास्ता बंद कर दियाहै  मामला एमपी के गाडरवारा का है  प्रशासन इस मामले में जांच की बात कह कर मामले को ठन्डे बस्ते में दाल रहा हैं   गाडरवारा के चीचली में अम्बेडकर वार्ड नंबर में करीब सौ घरों की दलित बस्ती का रास्ता वहां के कथित बड़े लोगों  ने रोक दिया है  इससे दलित परिवार दहशत में हैं  बस्ती के लोगों को घर आने- जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है  पीड़ित पक्ष का आरोप है कि गांव के ही एक बड़े  परिवार ने बस्ती जाने का रास्ता रोक रखा है  बस्ती के लोग अब इंसाफ के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर काट रहे हैं  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  10 July 2019

DEATH

 मोटर लगाने के लिए कुए में उतरे थे दोनों  कुए से निकल रही जहरी ली गैस ने पिता -पुत्र दोनों की जान ले ली   यह हादसा सीहोर के मोगरा गांव में हुआ पिता -पुत्र कुए में मोटर लगाने के लिए उतरे थे   रेहटी के ग्राम मोगरा में कुएं में मोटर उतारने उतरे पिता पुत्र की मौत  हो गई   45 साल के राजेश पेशे से किसान हैं  राजेश अपने घर मे बने कुए में उतरे हुए थे  उनका बेटा राजा भी कुए में मोटर लगाने में उनकी मदद के लिए उतरा  लेकिन  कुएं से रिसर ही किसी जहरीली गैस की चपेट में दोनों आ गए और उनकी कुए में ही मौत हो गई   पिता -पुत्र के शव निकलने के लिए एक युवक कुए में उतरा तो गैस के प्रभाव से वो भी बेहोश हो गया  इसके बाद पुलिस मौके पर पहुँची और सीहोर सेरेसक्यूटीम बुलाकर पहले बेहोश युवक को कुए से निकाल कर इलाज के लिए भेजा और फिर दोनों शव निकाल कर पोस्टमार्टम के लिए भेजे    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  10 July 2019

aavshes ki khooj

 प्राचीन सभ्यता जानने मिलेगी सहायता   इंडियन इंस्टीयूट ऑफ साइंस एजुकेशन  एन्ड  रिसर्च मोहाली  के अनुसंधानकर्ता की टीम ने नरसिंहपुर में नर्मदा पर  3000 साल से 3 लाख वर्ष पुराने जीवाश्म और पाषाण अवशेष की खोज में बड़ी सफलता हासिल की है  माना जा रहा है की  नर्मदा किनारे की गई इस खोज से भूतकाल के कई रहस्यों  से पर्दा उठने में सहायता मिलेगी  वैज्ञानिकों का कहना है की नर्मदा घाटी सभ्यता कई लाख वर्ष पुरानी है जो अब विलुप्त हो चुकी है इंडियन इंस्टीयूट ऑफ साइंस एज्युकेशन एड रिसर्च मोहाली के अनुसंधानकर्ता की टीम ने नरसिंहपुर में नर्मदा की तलहटी में  3000 साल से 3 लाख वर्ष पुराने जीवाश्म और पाषाण अवशेष की खोज की है  वैज्ञानिकों द्वारा नर्मदा किनारे की गई इस खोज से भूतकाल के कई रहस्यों पर से पर्दा उठाने में बड़ी भूमिका रहेगी   मोहाली से आये शोधकर्ताओं द्वारा यहां आदिमानव की जीवनशैली और उनके जीवाश्म की शोध पिछले छह माह से की जा रहा थी   जिसमे शोधकर्ताओं को कई जीवाश्म और महत्वपूर्ण अवशेषों के रूप में सफलता हाथ लगी है   नर्मदा किनारे मिल रहे जीवाश्म एवं  औजारो से यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि यहां किसी सभ्यता का अस्तित्व रहा होगा   आदिमानव के औजार  मिलना  इसका प्रमाण है की यह सभ्यता लगभग तीन हजार से तीन लाख साल पुरानी है जलीय जीव और विल्पुत हो चुके प्राणियों के  जीवाश्म मिलने से  अंदाजा लगाया जा सकता है कि नर्मदा नदी के किनारे बड़ी संख्या में वन्य प्राणी रहा करते थे   नर्मदा नदी के दोनों ओर विंध्य एवं सतपुड़ा पहाड़ियों में चल रही खोज एवं शोध में वैज्ञानिकों को मिली सफलता के चलते कई वर्षों पुराने रहस्यों से पर्दा उठने की उम्मीद है  आईआईएसआर की अन्वेषण टीम सिंघु घाटी और हड़प्पा की तरह ही नर्मदा घाटी की सभ्यता की खोज करने यहाँ  आई हुई है

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 July 2019

chor giroh

जुएं और शराब की लत ने बनाया चोर गाडरवाड़ा पुलिस ने बड़ी कार्यवाई को अंजाम देते हुए  बाइक चोर गिरोह को पकड़ने  में कामयाबी हासिल की है  चोरों से बड़ी संख्या में दोपहिया वाहन  जब्त किये गए हैं जिनकी कीमत लाखों में बताई जा रही है   गाडरवाड़ा में पुलिस ने एक बाइक चोर  गिरोह का पर्दाफाश  करने में बड़ी कामयाबी हासिल की है पुलिस अधीक्षक राजेश तिवारी द्वारा शातिर वाहन चोरों  को पकड़ने के लिए जिले में अलग-अलग टीमों का गठन किया गया था   मुखबिर की सूचना के आधार पर पुलिस ने वाहन चोरों को पडकने में सफलता हासिल की    मुख्य आरोपी एवं गिरोह का मास्टरमाइंड शिशुपाल उर्फ राहुल गुर्जर गाडरवारा के पास सुपारी गांव का रहने वाला है  जिसके साथ पुलिस ने 9  लोगों को पकड़ा है   चोरों से 28 टू व्हीलर की बरामद की गई हैं  जिसकी कीमत  15 लाख बताई जा रही है  जब शातिर चोर से हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो उसने चोरी की घटनाओं के कई राज खोले    बाइक चोर ने पुलिस पूछताछ में बताया कि वह आस पास के इलाकों होशंगाबाद , नरसिंहपुर, छिन्दवाड़ा से वाहन चोरी कर गिरवी रख  भोले भाले लोगों को बेच दिया करता था जुएं,शराब की लत को पूरा करने के लिए 24  वर्षीय  राहुल चोरी की वारदातों को अंजाम दिया करता था चोर  अपनी मजबूरी बताकर लोगों को गाड़ियां बेच दिया करता था पुलिस के मुताबिक आरोपी से पूछताछ की जा रही है जिससे ओर भी कई बड़े खुलासे होने की उम्मीद जताई जा रही है  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  3 July 2019

prhalad patel-modi

    नरसिंहपुर। केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्रालय के राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार प्रहलाद पटेल अपने गृह नगर गोटेगांव पहुंचे। यहां सभी ने उनका जमकर स्वागत किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुझे जो जिम्मेदारी सौपी है, उसे मैं पूरा करूंगा। उन्होंने यह भी कहा कि हम हर काम तय समय से पहले पूरा करेंगे। पर्यटन मंत्रालय में काम करने की खूब गुंजाइश है। मंत्री पटेल ने कहा कि पहले में मंत्रालय को समझ लूं, इसके बाद यह आश्वस्त करता हूं कि बेहतर से बेहतर कार्य होगा। उन्होंने कहा कि नर्मदा नदी पर बसे स्थलों पर पर्यटन को बढ़ावा देने के साथ डुमना नेचर पार्क के लिए भी काम किया जाएगा।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  2 June 2019

भावांतर भुगतान योजना

      भावांतर भुगतान योजना के बारे में शुरू में जितनी भी अफवाहें फैलाई गई, वो सब बेअसर साबित हुई हैं। किसानों को कृषि उपज मंडियों में उनकी फसल की वाजिब कीमत के साथ-साथ समर्थन मूल्य और मॉडल रेट के अन्तर की राशि राज्य सरकार की ओर से भावांतर राशि के स्वरूप में सीधे बैंक खातों में प्राप्त हो रही हैं। किसान अब अफवाहों से सावधान हो गये हैं और अपनी उपज को गल्ला किसानों की दुकानों की बजाय सीधे कृषि मंडियों में लाकर सरकारी महकमें की देखरेख में बेच रहे हैं।  भावांतर भुगतान योजना के पहले चरण में 16 अक्टूबर से 30 अक्टूबर के बीच गुना जिले की कृषि उपज मंडियों में 3644 किसानों ने अपनी फसल बेंची। इन्हें व्यापारी द्वारा फसल का नगद भुगतान मंडी में ही मिला और भावांतर राशि कुल 4 करोड़, 62 लाख 54 हजार 510 रुपये बैंक खातों के माध्यम से मिली। इस योजना के अन्तर्गत नरसिंहपुर जिले में उक्तावधि में 2457 किसानों ने कृषि मंडियों में जाकर अपनी फसल बेची। इन्हें भी मंडियों में फसल का वाजिब दाम मिला। साथ ही 3 करोड़ 69 लाख रुपये भावांतर राशि बैंक खातों में भी मिली। गुना जिले के ग्राम मोड़का के किसान इन्द्रजीत चौहान को उनकी उड़द की फसल मंडी में बेचने पर अच्छी कीमत तुरंत मिली। साथ ही 1,12,879 रुपये भावांतर राशि बैंक खाते में मिली। इन्हें नहीं पता था कि बैंक खाते में पहुंची राशि किस कारण मिली है। इन्होंने बैंक जाकर पूछा तब मालूम हुआ कि यह मंडी में बेची गई फसल की भावांतर राशि है जो राज्य सरकार ने दी है। किसान इन्द्रजीत ने भावांतर राशि से अगली फसल की तैयारी शुरू कर दी है। गुना जिले के ही बृजमोहन यादव को 1,17,792 रुपये, अर्चना बाई को 1,12,368 रुपये, चन्द्रभान सिंह को 84,672 रुपये और कैलाशनारायण नागर को 94,968 रुपये भावांतर राशि मिली है। ये किसान इस राशि का इस्तेमाल अपने घरेलू खर्चों की प्रतिपूर्ति और अगली फसल की तैयारी में कर रहे हैं। भावांतर भुगतान योजना से ग्राम बढ़ैयाखेड़ा जिला नरसिंहपुर के किसान नरेन्द्र कुमार लोधी को 17.40 क्विंटल उड़द गोटेगांव मंडी में बेचने पर समर्थन मूल्य नगद मिला और भावांतर राशि 41,760 रुपये अलग से मिली। नरेन्द्र ने 2776 रुपये प्रति क्विंटल के भाव से मंडी में अपनी उड़द बेची थी। नरेन्द्र की तरह ही प्यारेलाल लोधी को उड़द की फसल मंडी में बेचने पर तत्काल समर्थन मूल्य तो मिला ही, साथ ही भावांतर भुगतान योजना के अन्तर्गत 15,120 रुपये और ग्राम कन्हारपानी के कृषक डब्बूलाल लोधी को 71,160 रुपये भावांतर राशि मिली है। ये सभी किसान अब भावांतर भुगतान योजना के फायदे अच्छी तरह समझने लगे हैं।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  5 December 2017

नर्मदा के दर्शन

 पवित्र सलिला गंगा में एक दिन और यमुना में तीन दिन नहाने के बराबर पुण्य माँ नर्मदा के दर्शन मात्र से मिलता है। इस तरह की मान्यता नर्मदा तट में बसे ग्रामीणों और 'नमामि देवि नर्मदे' -सेवा यात्रियों की है। यात्रा में शामिल सिवनी जिले कोमा गांव के श्री समनालाल साहू और श्री कुंजबिहारी साहू तथा खंडवा जिले के ग्राम शेरदा केसरी चंपालाल कहते हैं कि यह यात्रा आने वाली पीढ़ी में माँ नर्मदे के संरक्षण के प्रति जागरूकता पैदा करेगी। श्री साहू 11 दिसंबर से लगातार यात्रा में शामिल हैं। उन्होंने कहा कि आने वाली पीढ़ी के मन में यह भाव पैदा करना जरूरी है कि माँ नर्मदा में यदि लहरें नहीं उठेंगी तो जीवन में खुशी की तरंगें आना नामुमकिन है। यात्रियों का मानना है कि मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने नर्मदा संरक्षण के साथ ही नशामुक्ति, स्वच्छता और बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ जैसे सामाजिक सरोकारों को जोड़कर यात्रा को और अधिक प्रासंगिक बना दिया है। सेवा यात्रा में शामिल किसी भी नर्मदा भक्त के चेहरे पर शिकन तक नजर नहीं आयी। उस चमक के बारे में जब उनसे पूछा जाता है तो कहते हैं कि सिर्फ हममें नहीं बल्कि जीवनदायिनी नर्मदा के तट में रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति के साथ ही खेत-खलिहानों को देखकर आप माँ नर्मदा की कृपा का अनुमान लगा सकते हैं। स्वार्थवश जो गलतियाँ हम लोगों ने की हैं, उन्हें अब सुधारने का समय आ गया है। उनका कहना है कि सरकार ने समय रहते इस बात को समझा और यात्रा के माध्यम से हमको समझाने का प्रयास भी कर रही है। यात्रियों का स्पष्ट मानना है कि पवित्र उद्देश्य से शुरू की गयी यह यात्रा अपने उद्देश्य को जरूर पूरा करेगी। 'नमामि देवी नर्मदे''- सेवा यात्रा नरसिंहपुर जिले के ग्राम हीरापुर से रवाना होकर जबलपुर जिले के मेरे गाँव में प्रवेश हुई। यात्रा का आज 114 वाँ दिन है। चिकित्सा शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री शरद जैन, विधायक श्रीमती प्रतिभा सिंह सहित अन्य जन प्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों ने यात्रा का भावपूर्ण स्वागत किया।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  10 April 2017

 गुरू गुफा

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने नरसिंहपुर जिले के ग्राम नीमखेड़ा (हीरापुर) में अपनी धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह के साथ प्राचीन गुरू गुफा के दर्शन किये। गुफा आदि शंकराचार्य के पूज्य गुरू गोविंद भगवत पादाचार्य जी महाराज की है, जहाँ उन्होंने साधना की थी। गुफा आदि गुरू शंकराचार्य की दीक्षा एवं साधना-स्थली भी है। नमामि देवि नर्मदे- सेवा यात्रा में शामिल होने आये मुख्यमंत्री ने कहा कि यह अदभुत साधना-स्थली है। इस पवित्र स्थान के दर्शन करना मेरा सौभाग्य है। इस अवसर पर जगदगुरू शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महाराज, लोक निर्माण मंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्राम नीमखेड़ा (हीरापुर) में धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह के साथ गुरू गुफा के नजदीक पौध-रोपण किया। उन्होंने त्रिवेणी पीपल, बरगद एवं नीम के पौधे रोपे। इस अवसर पर आम, चीकू, अनार, जामुन सहित 11 फलदार वृक्षों के लिए पौध-रोपण किया गया।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  10 April 2017

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान

चरणबद्ध तरीके से बंद होंगी शराब की सभी दुकानें  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में नशामुक्ति का आंदोलन चलेगा। प्रथम चरण में नर्मदा नदी के दोनों तट पर पाँच-पाँच किलोमीटर तक शराब की दुकानें एक अप्रैल से बंद कर दी गयी हैं। उन्होंने कहा कि अब रिहायशी इलाकों, शिक्षण संस्थाओं और धार्मिक स्थलों के पास शराब की दुकानें नहीं खुलेंगी । मुख्यमंत्री ने कहा कि चरणबद्ध तरीके से शराब की सभी दुकानें बंद कर प्रदेश में शराब-बंदी लागू की जाएगी । उन्होंने कहा कि नदियाँ बचेंगी, तो मानव-सभ्यता और संस्कृति बचेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान नर्मदा सेवा यात्रा के 113 वें दिन नरसिंहपुर जिले के ग्राम नीमखेड़ा (हीरापुर) में जन-संवाद को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने माँ ताप्ती, बेतवा और क्षिप्रा की धार को टूटते हुए देखा है । अगर माँ नर्मदा की धार टूटी तो जीवन नहीं बचेगा । उन्होंने बताया कि एशिया की सर्वश्रेष्ठ खेती नरसिंहपुर जिले में माँ नर्मदा के कारण ही होती है। मुख्यमंत्री ने बताया कि अगामी मानसून सत्र में मासूमों के साथ दुराचार करने वालों को फाँसी की सज़ा देने संबंधी विधेयक लाया जायेगा । उन्होंने कहा कि नरसिंपुर में गौ-वंश वन्य विहार की स्थापना की जायेगी । मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आगामी दो जुलाई को अमरकंटक से बड़वानी तक नर्मदा के तट पर लाखों लोग करोड़ों पेड़ लगायेंगे। माँ नर्मदा मध्यप्रदेश की समृद्धि का आधार है, जो दर्जनों शहर को पेयजल उपलब्ध करवाती है। इसकी कृपा से मध्यप्रदेश को चार बार कृषि कर्मण अवार्ड मिला है। प्रदेश को सिंचाई के लिए जल और बिजली उपलब्ध करवाती है। यात्रा नर्मदा को बचाने और उसका कर्ज उतारने की यात्रा है। नर्मदा के दोनों तटों के शहरों में ट्रीटमेंट प्लांट बनाये जाएंगे तथा साफ पानी को खेतों में ले जाया जायेगा । उन्होंने संकल्प दिलवाया कि नर्मदा के तटों पर पेड़ लगायें, इसके किनारे के गाँवों में हर घर में शौचालय बनायें, पूजन-सामग्री पूजन कुण्ड में डालें। नर्मदा के किनारे चेंजिंग रूम और मुक्तिधाम बनाये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि बेटियों को बचायें और हर बच्चे को स्कूल भेंजे। परिक्रमा सिर्फ माँ नर्मदा की : जगदगुरू शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती जन-संवाद में जगतगुरू शंकराचार्य श्री स्वरूपानंद महाराज ने कहा कि देश-दुनिया में अनेक नदियाँ हैं लेकिन परिक्रमा सिर्फ माँ नर्मदा की की जाती है । उन्होंने कहा कि आदि शंकराचार्य ने अद्वैतवाद के सिद्धांत में बताया है कि शरीर भिन्न हैं लेकिन आत्मा एक है। शंकराचार्य जी ने कहा कि बच्चों को गीता और रामायण की भी शिक्षा दी जाये । अमजद अली खान ने की यात्रा की सराहना विश्व विख्यात सरोद वादक श्री अमजद अली खान ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा शुरू की गई नर्मदा और पर्यावरण संरक्षण की यात्रा सराहनीय एवं अनुकरणीय है । इसका अनुसरण अन्य मुख्यमंत्रियों को भी करना चाहिये । उन्होंने 'भारत है देश प्यारा- भारत है देश न्यारा, इसकी सभ्यता है महान- इसकी संस्कृति है महान'' गीत गाया । जन-संवाद को लोक-निर्माण एवं नरसिंहपुर जिला प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह और सांसद श्री राव उदयप्रताप सिंह, अध्यक्ष राज्य महिला आयोग श्रीमती लता वानखेड़े, श्री अखिलेश्वरानंद, दीदी प्रज्ञा भारती सहित अन्य वक्ता ने भी संबोधित किया। यात्रा के पहुँचने पर ग्रामीणों ने भारी उत्साह-उमंग, आस्था और श्रद्धाभाव के साथ तथा महिलाओं ने सिर पर कलश लेकर यात्रियों का स्वागत किया। यात्रा में बच्चे, बुजुर्ग, महिलाओं सहित हर वर्ग के लोग शामिल हुए। यात्रा में हुए 'हर-हर नर्मदे' के उदघोष से आसमान गूँज उठा। इसके बाद माँ नर्मदा की महाआरती की गई। जन-संवाद में सांसद श्री गणेश सिंह, जिले के विधायक, जिला पंचायत अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, साधु-संत और पर्यावरणविद श्री भारत-भूषण गर्ग, प्रसिद्ध नृत्यांगना श्रीमती शुभालक्ष्मी खान, मो. अकील रज़ा सहित अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे ।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  9 April 2017

नमामि देवि नर्मदे

111 वें दिन नरसिंहपुर के रमपुरा में यात्रा का गर्मजोशी से स्वागत    “नमामि देवि नर्मदे”- सेवा यात्रा 111 वें दिन  नरसिंहपुर जिले के रमपुरा ग्राम पहुँची। कड़ी धूप में भी बड़ी संख्या में ग्रामवासियों ने गर्मजोशी से यात्रा का स्वागत किया। जन-समूह में ललाट पर चंदन एवं रोली का तिलक लगाये पुरूष एवं कलश लेकर चल रही बालिकाएँ एवं महिलाओं को देखकर प्रतीत हो रहा था जैसे कोई भव्य मंगल उत्सव हो। जन-संवाद में संतों ने ग्रामीणों को नदी एवं प्रकृति संरक्षण का संकल्प दिलवाया तथा समझाइश दी कि नदी संरक्षण के लिए यही सही समय है, अगर अभी प्रयास नहीं किए तो पछताने का समय नहीं मिलेगा। नर्मदा के बिगड़े स्वरूप को पुनर्जीवित करने के लिए दोनों तट पर सघन पौध-रोपण करना होगा। इसी के साथ जल-संरक्षण, नशा-मुक्ति, बेटी बचाओ का भी संकल्प दिलवाया गया। साध्वी प्रज्ञा भारती ने कहा कि कड़ी धूप में जन-समूह की उपस्थिति नर्मदा के प्रति लोगों की असीम आस्था एवं भक्ति को दिखाती है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा बेटी बचाओ अभियान की तरह ही शिव की बेटी नर्मदा को बचाने के लिए नमामि देवि नर्मदे- सेवा यात्रा प्रारंभ की गई है। इसकी सफलता समाज की भागीदारी से ही संभव है। संत, समाज एवं सरकार के सहयोग से ही यह संकल्प सफल होगा। संकल्प को सार्थक करने के लिए युद्ध स्तर पर चहुँमुखी प्रयास करने होंगे। उन्होंने आव्हान किया कि प्रत्येक व्यक्ति जन्म-दिवस पर पौध-रोपण कर उसका पोषण करें। हमें जीती- जागती विरासत नर्मदा को आने वाली पीढ़ी को सम्पन्न स्वरूप में सौंपना चाहिये। नर्मदा ही हमारा अस्तित्व है और इसका संरक्षण ही हमारा संरक्षण है। संत चैतन्य बापू ने नर्मदाष्टक का गायन किया। संत श्री बालकदास महाराज ने नर्मदा के धार्मिक, पौराणिक, आध्यात्मिक, सामाजिक एवं आर्थिक महत्व को बताया। नर्मदा मानव एवं जीव- जंतुओं के साथ- साथ क्षिप्रा एवं साबरमती सहित अन्य सहायक नदियों की जीवनदायिनी भी है। उन्होंने उज्जैन महाकुंभ को याद करते हुए कहा कि नर्मदा के कारण ही क्षिप्रा में निर्बाध शाही स्नान हुए। राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष श्रीमती लता वानखेड़े ने कहा कि श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा प्रारंभ किया गया यह अभियान स्वतंत्र भारत का अनूठा अभियान है। नदी संरक्षण के लिए ऐसा महा-अभियान न तो इतिहास में हुआ और न ही भविष्य में कभी होगा। विधायक श्री जालम सिंह पटेल ने कहा कि नशा सामाजिक, आर्थिक एवं पारिवारिक पतन का कारण है, इसलिये हर प्रकार के नशे को त्यागें। स्वागतम् लक्ष्मी कार्यक्रम में जन-प्रतिनिधि एवं संतों ने नवजात बेटी का नामकरण कर माँ नर्मदा के हजार नामों में से एक ‘नमामि’ रखा। उसे उपहार भेंट कर सम्मानित किया गया। जन-संवाद में अतिथियों ने यात्रा के ध्वज, कलश और कन्याओं का पूजन किया।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  8 April 2017

मंत्री गोपाल भार्गव

नरसिंहपुर जिले के बरमान कलां जनसंवाद में मंत्री  गोपाल भार्गव   पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा है कि बिना नर्मदा के प्रदेश के विकास की कल्पना नहीं की जा सकती। मध्यप्रदेश से नर्मदा को कम कर दिया तो उसकी स्थिति वैसे ही होगी जैसे कि बिना प्राण का शरीर होता है। नर्मदा के कारण ही लाखों हेक्टेयर जमीन सिंचित हो रही है। बिजली मिल रही है, शहरों और कस्बों में पेयजल की सप्लाई हो रही है। नर्मदा विरासत है, इसे सहेजकर रखना है। उन्होंने नागरिकों का आव्हान किया कि नर्मदा को निर्मल बनाये रखने के लिए कहीं पर भी उसमें गंदगी प्रवाहित न होने दें। श्री भार्गव नर्मदा सेवा यात्रा के नरसिंहपुर जिले के बरमानकलां पहुँचने पर जनसंवाद को संबोधित कर रहे थे। श्री भार्गव ने कहा कि मध्यप्रदेश के विकास और तरक्की में नर्मदा मैया का बहुत बड़ा योगदान है। उन्होंने कहा कि भारत ही नहीं, पूरी दुनिया में नर्मदा सेवा यात्रा सबसे बड़ा अभियान है। लोग नर्मदा के प्रति आस्था रखते हैं। इस आस्था को आचरण में बदलने की आवश्यकता है। नर्मदा का संरक्षण करना हम सभी का दायित्व है। उन्होंने कहा कि नर्मदा किसी एक धर्म के लिए नहीं बल्कि प्राणी मात्र का कल्याण करती है। उन्होंने बताया कि आज के जनसंवाद में सभी धर्म के धर्माचार्य शामिल हैं, जो इस बात का प्रतीक है कि नर्मदा से सभी धर्म के लोग समान रूप से लाभांवित होते हैं। पंचायत एवं ग्रामीण मंत्री ने जनसमुदाय को यात्रा के पवित्र उद्देश्यों की पूर्ति में योगदान और इसके लिए दूसरों को प्रेरित करने का संकल्प दिलवाया। मध्यप्रदेश गौ-पालन एवं पशुधन संवर्धन बोर्ड के अध्यक्ष श्री स्वामी अखिलेश्वरानंद ने नर्मदा के पौराणिक, धार्मिक, सांस्कृतिक, पर्यावरणीय, आर्थिक महत्व को रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा पर्यावरण, मृदा, नदी, वनस्पति, वन्य प्राणियों और जलचरों के संरक्षण की अनूठी यात्रा है। यात्रा सफल प्रभावी और सार्थक सिद्ध हो रही है। यात्रा के संयोजक डॉ. जितेन्द्र जामदार ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने यात्रा के माध्यम से नर्मदा के संरक्षण का संकल्प लिया है, जिसे सभी को पूरा करना होगा। नेहरू युवा केन्द्र के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि संत, समाज एवं सरकार के समन्वय से नर्मदा सेवा यात्रा जन-आंदोलन का रूप ले चुकी है।  जन संवाद के दौरान अतिथियों ने नर्मदा सेवा यात्रा के ध्वज एवं कलश और कन्याओं का पूजन किया। स्वागत लक्ष्मी कार्यक्रम में मोना/ गोविंद नौरिया की बेटी का नाम सौम्या रखा गया। सौम्या को उपहार भेंट कर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन खनिज निगम के अध्यक्ष श्री शिव कुमार चौबे ने किया। इस अवसर साध्वी प्रज्ञा भारती, पदमदास महाराज, स्वामी परमानंद महाराज, सिख समाज से श्री ज्ञानी, ईसाई समाज से श्री जोसेफ, मुस्लिम समाज से मो. इश्तयार, राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष श्रीमती लता वानखेड़े, विधायक सर्वश्री जालम सिंह पटेल, संजय शर्मा, शैलेन्द्र जैन, सागर भाजपा जिलाध्यक्ष श्री राजा दुबे, जिला पंचायत अध्यक्ष संदीप पटेल एवं उपाध्यक्ष श्रीमती शीला देवी ठाकुर, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष श्री वीरेन्द्र फौजदार, जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पांडे, साधु- संत, जनप्रतिनिधि, अधिकारी और बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे। यात्रा और जन-संवाद के लिये गाँव में पीले चावल और निमंत्रण पत्र द्वारा ग्रामीणों को आमंत्रित किया गया था। धार्मिक और आध्यात्मिक माहौल में ग्रामीणों ने बंदनवार और राँगोली से गाँव की साज-सज्जा कर यात्रा पर पुष्प वर्षा कर स्वागत किया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  7 April 2017

news नरसिंहपुर

  नरसिंहपुर जिले में नर्मदा यात्रा का स्वागत-स्थल बना मेला-स्थल   “नमामि देवी नर्मदे”-सेवा यात्रा की मूल भावना को ग्रामवासी न सिर्फ समझ रहे हैं, बल्कि उसके अनुरूप अपनी भूमिका का निर्धारण भी कर रहे हैं। नरसिंहपुर जिले के ग्राम हीरापुर में आज कुछ ग्रामवासियों से बातचीत के दौरान यह जानने को मिला कि “नर्मदा सेवा यात्रा” एक कल्याणकारी सोच का परिणाम है। रायसेन जिले से नरसिंहपुर जिले में यात्रा के पहुँचने के पहले दोपहर से शाम तक अनेक ग्राम के लोग हीरापुर पंचायत की ओर से लगाए गए पंडाल में पहुँचने लगे। एक छोटी नदी सिंदूरी के किनारे हीरापुर से तीन किलोमीटर दूर बना स्वागत-स्थल एक मेले के रूप में परिवर्तित हो गया था। नरसिंहपुर जिले के ग्राम तेन्दूखेड़ा के एक मजदूर खेमचंद से चर्चा करने पर पता चला कि वह इस यात्रा के उद्देश्य नदी स्वच्छता की भावना को खूब समझता है। खेमचंद के ही शब्दों में – “जा नदी साफ रऐगी तो हमीईरे काम आएगी।” नरसिंहपुर जिले के ही ग्राम टपरिया टर्रा के कृषक रामप्रसाद ने कहा कि “नर्मदा सेवा यात्रा” बहुत सारे पेड़ लगवाने के लिए हो रही है। बातचीत में रामप्रसाद सुझाव भी देते हैं कि फलदार पेड़ ज्यादा लगाए जाएं। कक्षा दसवीं के विद्याथी देवेन्द्र पटेल और आकाश खोजा टपरिया के निवासी है। यह दोनों मित्र जिज्ञासा-वश हीरापुर पहुँचे थे। उन्होंने बताया कि इस यात्रा में प्रधानमंत्री के स्वच्छता अभियान का संदेश भी दिया जा रहा है। ग्राम हीरापुर में खेती-किसानी का कार्य करने वाले ओमकार ने बताया कि पढ़ाई-लिखाई के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए यह यात्रा हमारे गाँव आ रही है। “नर्मदा मैया को ठीक-ठाक रखने के लिए गाँव-गाँव जाकर समझाईश दी जा रही है।” ग्राम धामा के कृषक रमेश केवट ने सलाह दी कि यात्रा में जो सरकारी अफसर आ रहे हैं, वो गाँव के स्कूल और सोसायटी का काम-काज देखने भी जाए, जिससे इनका काम ज्यादा अच्छी तरह से हो सके। हीरापुर पंचायत के अलावा ग्राम पंचायत बंधी की ओर से भी यात्रा के स्वागत के लिए व्यवस्थाओं में सहयोग दिया गया। ग्रामवासियों ने पानी के टैंकर पर बोरों का आवरण बिछाकर पेयजल को तप्ती दुपहरी में गर्म होने से रोकने में सहयोग दिया। गाँव के बच्चों ने रांगोली और दीवार लेखन से साज-सज्जा कर नर्मदा यात्रा के स्वागत के लिए अपनी भावना व्यक्त की। पर्यावरण, मद्य निषेध, बेटी बचाओ और जल संरक्षण का अर्थ जानने लगे हैं। ग्रामवासियों से बातचीत में यह बात उभरकर सामने आई ।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 April 2017

narmda

मुख्यमंत्री चौहान ने मोबाइल से बरमान के जन-संवाद कार्यक्रम को किया संबोधित  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश की सुख व समृद्धि का आधार माँ नर्मदा है। प्रदेश की जीवन रेखा नर्मदा के संरक्षण एवं संवर्धन और प्रदूषण मुक्ति के लिए जागरूकता बढ़ाने नर्मदा सेवा यात्रा जन-आंदोलन का रूप ले चुकी है। श्री चौहान ने इसके लिए सभी को अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देने का संकल्प दिलवाया। उन्होंने लोगों से आव्हान किया कि माँ नर्मदा का श्रंगार दोनों तटों पर वृक्षारोपण कर हरियाली चुनरी ओढ़ाकर करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान नरसिंहपुर जिले के बरमानखुर्द में जन-संवाद कार्यक्रम को मोबाइल से संबोधित कर रहे थे। श्री चौहान का बरमानखुर्द आगमन का कार्यक्रम प्रस्तावित था, परंतु अपरिहार्य कारणों से वे कार्यक्रम में शामिल नहीं हो सके थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मोबाइल से दिये संदेश में कहा कि नर्मदा तट के एक किलोमीटर के दायरे में किसानों को निजी भूमि पर फलदार पौधे लगाने के लिए गड्ढा खोदने के लिए मजदूरी के साथ 40 प्रतिशत अनुदान राशि दी जायेगी। साथ ही प्रति हेक्टर 20 हजार रूपये की राशि 3 साल तक किसानों को दी जायेगी। उन्होंने कहा कि नर्मदा में गंदे पानी को मिलने से रोकने के लिए अमरकंटक से ट्रीटमेंट प्लांट लगाने की शुरूआत की जायेगी। ट्रीटमेंट प्लांट से निकले साफ पानी को खेतों तक पहुँचाकर सिंचाई के उपयोग में लिया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि नर्मदा किनारे पूजन सामग्री विसर्जित करने के लिए पूजन कुंड बनाये जायेंगे। उन्होंने कहा कि नर्मदा तट से लगे गाँव में अगले वित्तीय वर्ष से कोई शराब की दुकान नीलाम नहीं होगी। साथ ही पूरे प्रदेश में नशा मुक्ति अभियान भी चलाया जायेगा। उन्होंने कार्यक्रम में नर्मदा तटों पर वृक्षारोपण करने, स्वच्छता बनाये रखने, खेती में रासायनिक उर्वरकों एवं कीटनाशकों का उपयोग नहीं करने, जैविक खेती अपनाने, फलदार एवं छायादार वृक्षों के लिए पौधेरोपित करने, बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ, नशा मुक्ति और नर्मदा की निर्मलता बनाये रखने के लिए हर संभव प्रयास करने तथा इसके लिए दूसरों को प्रेरित करने का संकल्प दिलवाया। पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि मध्यप्रदेश के विकास और तरक्की में नर्मदा मैया का बहुत बड़ा योगदान है। बिना नर्मदा के हम प्रदेश के विकास की कल्पना भी नहीं कर सकते। यदि मध्यप्रदेश से नर्मदा को कम कर दिया तो उसकी स्थिति वैसे ही होगी जैसे कि बिना प्राण के शरीर होता है। उन्होंने जिलावासियों का आव्हान किया कि नर्मदा जल को निर्मल बनाये रखने के लिए कहीं पर भी गंदगी नर्मदा में प्रवाहित न होने दें। ग्रामीण विकास मंत्री ने जानकारी दी कि जो पंचायतें खुले में शौच से मुक्त हो गई हैं, उन्हें विकास के लिए अधिक राशि मिलेगी, जिससे वे अपने विकास के कार्य करवा सकेंगे। वन, योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार ने कहा कि नर्मदा के आचमन योग्य जल को गंदा नहीं होने दें। हमारी सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक गतिविधियाँ भी नर्मदा पर आश्रित हैं।लोक निर्माण, विधि एवं विधायी कार्य मंत्री श्री रामपाल सिंह ने कहा कि नरसिंहपुर जिले के 10 हजार किसानों ने जैविक खेती करने का संकल्प लिया है। उन्होंने जिले के किसानों की आय 5 वर्ष में दोगुनी करने के लिए तैयार रोडमेप पत्रिका का विमोचन किया। कार्यक्रम में डॉ. जितेन्द्र जामदार ने अभी तक हुई नर्मदा सेवा यात्रा का प्रतिवेदन में बताया कि नर्मदा सेवा का आज 28वाँ दिन है। अभी तक हुई यात्रा में 7 लाख से अधिक लोगों ने इसमें भागीदारी की है। यात्रा के दौरान 124 स्थान पर चौपाल लगाकर कार्यक्रम किये गये हैं।सांसद श्री राव उदय प्रताप सिंह ने कहा कि माँ नर्मदा के स्वरूप को बनाये रखने और प्रदूषण मुक्त करने के लिए सेवा यात्रा चल रही है। इस अवसर पर भानपुरा पीठाधीश्वर अनंत विभूषित स्वामी दिव्यानंद तीर्थ, दंडी स्वामी हेमानंद सरस्वती महाराज उज्जैन, स्वामी अखिलेश्वरानंद महाराज, पदमदास महाराज, समर्थ भैया सरकार जबलपुर, कृष्णदास महाराज सिद्धघाट, साध्वी प्रज्ञा भारती, साध्वी योग माया, स्टेट माइनिंग कार्पोरेशन लि. के अध्यक्ष (मंत्री दर्जा) श्री शिव चौबे, श्री संजय शर्मा, श्री जालम सिंह पटेल, श्री गोविंद सिंह पटेल, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री संदीप पटेल, जन-अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पांडे, साधु-संत, अन्य जन-प्रतिनिधि और बड़ी संख्या में श्रद्धालुजन मौजूद थे। नर्मदा सेवा यात्रा के ध्वज, कलश और कन्या पूजन जन-संवाद कार्यक्रम के शुभारंभ पर नर्मदा सेवा यात्रा के ध्वज एवं कलश और कन्याओं का पूजन किया गया। टीकमगढ़ जिले की उप यात्रा के माध्यम से लाये गये जिले की चार नदी के जल के कलश को स्वामी अखिलेश्वरानंद को सौंपा गया। नर्मदा की सहायक नदियों के नाम से जिले में निकाली गई उप-यात्राएँ भी नर्मदा सेवा यात्रा में शामिल हुई। इस अवसर पर नर्मदा संरक्षण एवं संवर्धन और प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए लोगों को प्रेरित करने के उद्देश्य से सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन हुआ। इसमें नुक्कड़ नाटिका, गीत आदि की प्रस्तुति दी गई। कार्यक्रम में जैविक खेती के फायदे भी बताये गये। कार्यक्रम में साधु- संतों को सम्मानित किया गया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  8 January 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान

  महा आरती में मुख्यमंत्री हुए शामिल  नर्मदा सेवा यात्रा में शामिल होने के लिए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान सपत्नीक को नरसिंहपुर जिले के भैंसा-ब्रम्हकुंड पहुँचे। मुख्यमंत्री सेवा यात्रियों के साथ भैंसा से दो किलोमीटर पैदल चलकर नर्मदा तट पर ब्रम्हकुंड पहुँचे। भैंसा में स्वामी श्री अखिलेश्वरानंद ने नर्मदा सेवा यात्रा का ध्वज मुख्यमंत्री को और अपेक्स बैंक के पूर्व उपाध्यक्ष श्री कैलाश सोनी ने नर्मदा सेवा यात्रा का कलश श्रीमती साधना सिंह को सौंपा। मुख्यमंत्री श्री चौहान नर्मदा यात्रा का ध्वज लेकर और श्रीमती साधना सिंह कलश लेकर यात्रा में पैदल चल रहे थे। यात्रा में आसपास के ग्राम के हजारों लोग उत्साहपूर्वक शामिल हुये। यात्रा पथ नर्मदा माई की जय और नर्मदे हर के उदघोष से गुंजायमान हो रहा था। यात्रा के दौरान महिलायें अपने सिर पर कलश लेकर आगे-आगे चल रही थीं। जगह-जगह घरों के सामने रांगोली सजाई गई थी। ग्रामीणजन यात्रा पथ पर आकर नर्मदा कलश और ध्वज की पूजा-अर्चना कर रहे थे। मुख्यमंत्री उत्साह के साथ ग्रामीणों, युवाओं और बच्चों से मिल रहे थे। नर्मदा जी की महाआरती मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सपत्नीक ब्रम्हकुंड घाट पर माँ नर्मदा की पूजा-अर्चना की और महाआरती में शामिल हुए। इस अवसर पर नर्मदाष्टक का सस्वर पाठ किया गया। मुख्यमंत्री ने श्रद्धालुओं से कहा कि माँ नर्मदा के घाटों को साफ-स्वच्छ और प्रदूषण मुक्त रखने का संकल्प लें। ऐसा कोई भी कार्य न करें जिससे नर्मदा का जल प्रदूषित हो। उन्होंने नर्मदा तटों पर पौध-रोपण कर माँ नर्मदा को हरित चुनरी उढाने का आव्हान किया। मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों से कहा कि नशा मुक्त समाज बनाने में अपना योगदान दें। बेटे और बेटी में किसी भी प्रकार का भेदभाव न करें। यात्रा के जाने के बाद नर्मदा सेवा समितियाँ नर्मदा के संरक्षण और प्रदूषण मुक्त बनाने का कार्य अपने हाथ में लें। उन्होंने श्रद्धालुओं से कहा कि वे ऐसी कोई भी पूजन-सामग्री नर्मदा में विसर्जित न करें, जिससे प्रदूषण हो। इसके लिए घाटों पर अपशिष्ट पूजन सामग्री विसर्जन के लिए अलग से बनाये जाने वाले कुंड में ही पूजन सामग्री विसर्जित करे। ध्वज व कन्या पूजन और संतों का सम्मान मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ब्रम्हकुंड में आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में नर्मदा सेवा यात्रा के ध्वज, कलश व कन्याओं का पूजन और संतों का सम्मान किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि समाज में माँ बहन, बेटी सभी महिलाओं का सम्मान होना चाहिए। उन्होंने बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओं पर जोर दिया। मुख्यमंत्री ने जैविक खेती अपनाने वाले 7 कृषक का सम्मान किया और नर्मदा के पौराणिक महत्व पर आधारित तट‘ नामक पुस्तिका का विमोचन किया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  5 January 2017

नरसिंहपुर

    'नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा आज 23वें दिन आठवें पड़ाव में बरगी से रवाना होकर नरसिंहपुर पहुँची। मण्डला और जबलपुर में नर्मदा सेवा यात्रा को समाज के प्रत्येक वर्ग का समर्थन मिला। जबलपुर, मण्डला के यात्रा प्रभारी महामण्डलेश्वर स्वामी अखिलेश्वरानंद और जबलपुर कलेक्टर श्री महेश चौधरी ने नर्मदा सेवा यात्रा ध्वज और कलश लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह को सौंपा। जबलपुर जिले के दक्षिण तट की सेवा यात्रा का ध्वज जब नरसिंहपुर जिले की सीमा पर सनेर नदी पर सौंपा गया तो यात्रा में चल रहे यात्रीगण, साधु-संत भावुक हो गये। नर्मदा सेवा यात्रा 11 दिसम्बर को मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में शुरू हुई। यात्रा नर्मदा तटीय जिलों के 1100 ग्राम से होकर अपने उद्गम-स्थल अमरकंटक पहुँचेगी। नरसिंहपुर में लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह ने यात्रा की अगवानी करते हुए कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा ने जन-आंदोलन का रूप ले लिया है। उन्होंने कहा कि किसी भी काम के लिये समाज इकट्ठा हो जाये, तो कठिन से कठिन काम को आसानी से पूरा किया जा सकता है। प्रदेशवासियों द्वारा नर्मदा नदी के संरक्षण के लिये लिया गया संकल्प देश के लिये मिसाल बनेगा। नर्मदा सेवा यात्रा आज नये वर्ष के दूसरे दिन नरसिंहपुर जिले के ग्राम कुकलाह, खमरिया होकर झाँसी घाट पहुँचेगी। नर्मदा सेवा यात्रा में आज सांसद राव उदय प्रताप सिंह, सांसद श्री प्रह्लाद पटेल, विधायक श्रीमती प्रतिभा सिंह, श्री जालम सिंह पटेल, श्री संजय शर्मा और स्थानीय निकाय के प्रतिनिधि शामिल हुए। नर्मदा सेवा यात्रा में नर्मदा नदी की स्वच्छता की बात तो की जा रही है, इसके साथ ही अनेक सामाजिक मुद्दे, जिनमें जैविक खेती, उद्यानिकी फसलों को बढ़ावा देना, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, गौ-संरक्षण और गौ-संवर्धन, नशामुक्ति, छायादार और फलदार पौधों के वृक्षारोपण को भी शामिल किया गया है। इन मुद्दों पर यात्रा के दौरान ग्रामवासियों की चौपाल लगाकर चर्चा की जा रही है। यात्रा जिन मार्गों से गुजर रही है, वहाँ महिलाओं और बालिकाओं के समूह रांगोली बनाकर यात्रा का अभिनंदन कर रहे हैं। यात्रा के साथ चल रहे प्रबुद्धजन ग्रामीणों को नर्मदा को स्वच्छ रखने का संकल्प भी दिला रहे हैं। नर्मदा सेवा यात्रा को लोक-नृत्य एवं लोक-भजनों से भी समर्थन दिया जा रहा है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  3 January 2017

shivraj singh news

नरसिंहपुर जिले में वृहद हितग्राही सम्मेलन  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने नरसिंहपुर जिले में 12 हजार 900 लाख रूपये से अधिक के 55 निर्माण कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। जिले की करेली तहसील के ग्राम घाट बम्होरी (समनापुर) में हुए सम्मेलन में मुख्यमंत्री ने जन-कल्याणकारी योजनाओं के 32 हजार 371 हितग्राही को हित लाभ 2301.42 लाख रूपये के हित लाभ पत्रों का वितरण किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जिले की जनपद पंचायत करेली के खुले में शौच से मुक्त होने की भी घोषणा की। मुख्यमंत्री ने स्वच्छ भारत मिशन में खुले में शौच मुक्त ग्राम बनाने में सराहनीय कार्य करने वाली जिले की 250 ओ.डी.एफ. ग्राम पंचायतों के सरपंचों को सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने जिले में पूर्व में खुले में शौच से मुक्त हुई जनपद पंचायत चांवरपाठा की अध्यक्ष श्रीमती रामवती पटेल और आज खुले में शौच से मुक्त घोषित करेली जनपद पंचायत की अध्यक्ष श्रीमती रंजना देवी जूदेव को भी सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने सम्मेलन में जिले को 26 जनवरी 2017 तक खुले में शौच से मुक्त करने का संकल्प मौजूद लोगों को दिलाया। निर्माण कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने 12900.63 लाख रूपये के 55 निर्माण कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। उन्होंने 1265.19 लाख रूपये के 27 कार्य लोकार्पित किये। साथ ही 11635.44 लाख रूपये के 28 कार्यों का शिलान्यास किया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 November 2016

29 जून से 14 जुलाई 2014 के बीच होंगी मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन  की यात्राएँ

वैष्णोदेवी, रामेश्वरम एवं तिरुपति की यात्रामुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में 29 जून से विभिन्न तीर्थ-स्थल के लिये यात्रा प्रारंभ की जायेगी। इसमें बैतूल, होशंगाबाद, भोपाल, रायसेन, सीहोर, देवास, इंदौर, नीमच, मंदसौर, धार, रतलाम, शिवपुरी, ग्वालियर, दतिया, भिण्ड, खण्डवा, खरगोन, बड़वानी, हरदा, छिन्दवाड़ा जिले के तीर्थ-दर्शनार्थी को वैष्णोदेवी, रामेश्वरम एवं तिरुपति की यात्रा करवाई जायेगी।इस योजना में 29 जून को बैतूल से 201, होशंगाबाद से 204, भोपाल से 270, रायसेन से 150 तथा सीहोर से 151 तीर्थ-यात्री बैतूल-होशंगाबाद-हबीबगंज होते हुए वैष्णोदेवी के लिये रवाना होंगे। इसी प्रकार 30 जून को नीमच से रामेश्वरम की यात्रा शुरू होगी जिसमें नीमच से 310, मंदसौर से 330 तथा रतलाम से 337 तीर्थ-यात्री रहेंगे, 9 जुलाई को इंदौर से 372, देवास से 215, सीहोर से 211 तथा धार से 180 तीर्थ-यात्री रामेश्वरम के लिये रवाना होंगे।तिरुपति के लिये 10 जुलाई को शिवपुरी से 260, ग्वालियर से 301, दतिया से 206 तथा भिण्ड से 209 तीर्थ-यात्री को रवाना किया जायेगा। इसी प्रकार 14 जुलाई को खण्डवा से 215, खरगोन से 200, बड़वानी से 153, हरदा से 152 तथा छिन्दवाड़ा से 256 तीर्थ-यात्री को रामेश्वरम तीर्थ-स्थल की यात्रा करवाई जायेगी।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

Video

Page Views

  • Last day : 5924
  • Last 7 days : 33929
  • Last 30 days : 111788
All Rights Reserved ©2019 MadhyaBharat News.