Since: 23-09-2009

Latest News :
दिवाली में सिर्फ दो घंटे फोड़ पाएंगे पटाखे.   दुनिया का सबसे लंबा पुल चीन में .   राफेल डील हमारे लिए बूस्टर डोज : वायुसेना चीफ.   नरेंद्र सिंह तोमर की तबीतय बिगड़ी, एम्स में भर्ती.   राम और रोटी के सहारे कांग्रेस .   डीजल-पेट्रोल के दाम में फिर लगी आग.   कमजोर विधायकों के भाजपा काटेगी टिकट.   डिजियाना की स्‍कार्पियो से 60 लाख रुपए जब्‍त.   पेड़ न्यूज़ के सबसे ज्यादा मामले बालाघाट में .   कुरीतियों को समाप्त करने में योगदान करें महिला स्व-सहायता समूह.   गरीबों के बकाया बिजली बिल के माफ हुए 5200 करोड़ :चौहान.   ग्रामीण महिलाओं से संवाद के प्रयास जरूरी : जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र.   साक्षर इलाकों के नामांकन-पत्र ज्यादा होते हैं खारिज.   गिर सकता है 20 फीसद सराफा कारोबार.   सुकमा मुठभेड़ में तीन नक्सली मरे ,नारायणपुर में तीन का समर्पण .   पखांजूर में शुरू होगा नया कृषि महाविद्यालय.   रमन सरकार नक्सलियों को लेकर उदार हुई .   दिग्विजय सिंह बोले -अजीत जोगी के कारण मप्र में हारे थे.  

नीमच News


साहित्यकार एवं कवि बालकवि बैरागी

  साहित्यकार एवं कवि बालकवि बैरागी को मनासा में अंतिम विदाई दी गई। शोक स्वरूप पूरा मनासा नगर बंद रहा। बड़ी संख्या में लोग उन्हें अंतिम विदाई देने पहुंचे थे। बालकवि बैरागी साहित्‍य और कविता के सा‍थ राजनीति के क्षेत्र में भी सक्रिय रहे। वे राज्‍यसभा के सदस्‍य रहे। इस सरस्‍वती पुत्र को कई सम्‍मानों से नवाजा गया था। बैरागी का मनासा में भाटखेड़ी रोड पर कवि नगर पर निवास है। वहीं उन्होंने रविवार शाम 6 बजे अंतिम सांस ली थी। बैरागी जी की गिनती कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेताओं में होती थी। वे मध्‍यप्रदेश में अर्जुन सिंह सरकार में खाद्यमंत्री भी रहे। उन्हें मध्यप्रदेश सरकार के संस्कृति विभाग द्वारा कवि प्रदीप सम्मान भी प्रदान‍ किया गया। साहित्‍य और राजनीति से जुड़े रहने के कारण उनकी कविताओं में साहित्य और राजनीति की झलक देखने को मिलती है। गीत, दरद दीवानी, दो टूक, भावी रक्षक देश के, आओ बच्चों गाओ बच्चों बैरागी की प्रमुख रचनाएं हैं। मृदुभाषी और मस्‍तमौला स्‍वभाव तथा सौम्‍य व्‍यक्तित्‍व के धनी बालकवि बैरागी ने अंतरराष्ट्रीय कवि के रूप में नीमच जिले को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया था। बताया जाता है कि नीमच में एक कार्यक्रम में शामिल होकर वे अपने घर मनासा पहुंचे थे। वहां कुछ समय आराम करने के लिए अपने कमरे में गए। शाम करीब 5:00 बजे जब उन्हें चाय के लिए उठाया गया तो उनके निधन की खबर लगी।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  14 May 2018

 हार्दिक पटेल हिरासत में

  पाटीदार आंदोलन की अगुवाई करने वाले नेता हार्दिक पटेल को नीमच पुलिस ने मंगलवार को हिरासत में ले लिया। पुलिस ने उन्हें नयागांव चेक पोस्ट के पास हिरासत में लिया है। मिली जानकारी के मुताबिक हार्दिक पटेल किसान आंदोलन के दौरान मारे गए तथाकथित किसानों के परिवार वालों से मिलने जा रहे थे। हालांकि हार्दिक पटेल ने मंदसौर पहुंचने से पहले प्रशासन से अनुमति नहीं ली थी। गौरतलब है कि जिला कलेक्टर ओपी श्रीवास्तव में पहले ही कहा था कि जिले में हालात शांतिपूर्ण हैं, लेकिन धारा 144 लागू है। हार्दिक पटेल के मंदसौर आने के सवाल पर उन्होंने कहा कि हार्दिक पटेल ने प्रशासन से पूर्व अनुमति नहीं ली है। ऐसे में उन्हें जबरन घुसने पर गिरफ्तार भी किया जा सकता है। हार्दिक पटेल के मंदसौर पहुंचने से पहले प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है। प्रदेश में किसान आंदोलन भले ही थम गया हो, लेकिन सियासत खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। किसान आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों के परिवार वालों से मिलने के लिए अब तक कई नेता मंदसौर पहुंच चुके हैं।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  13 June 2017

kisan hadtal

किसान हड़ताल का असर ,दूध-सब्जी की सप्लाई रुकी  मध्यप्रदेश में किसानों की हड़ताल के तीसरे दिन शनिवार को एक बार फिर आम लोगों को दूध और सब्जी की किल्लत का सामना करना पड़ा। कई इलाकों में पुलिस की सुरक्षा में दूध और सब्जी की दुकानें खुलीं, लेकिन इन्हें बहुत ज्यादा कीमत पर बेचा गया। उधर कई जगह आंदोलन कर रहे किसानों ने दूध और सब्जी की सप्लाई रोकने के लिए निजी वाहनों और बसों में भी चेकिंग शुरू कर दी है। भारतीय किसान संघ भी अब इस हड़ताल में शामिल होगा। किसान के आंदोलन पर सरकार हरकत में आ गई है। शनिवार दोपहर मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह ने इंदौर, उज्जैन और भोपाल संभाग के अधिकारियों से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा की। इस दौरान तीनों संभागों के आईजी, कलेक्टर, एसपी और दुग्ध संघ के अधिकारी भी उपस्थित थे। देवास के पास कन्नौद में खेत से 2 लीटर दूध लेकर घर आ रहे किसान को आंदोलनकारियों ने सुबह 8.15 बजे सरकारी अस्पताल के सामने रोक लिया, उन्होंने पहले दूध बहाया इसके बाद किसान के साथ मारपीट की। मामले में रिपोर्ट लिखाई गई। राजोदा में कैलोद चौराहे पर निजी वाहनों को रोक कर किसानों ने चेकिंग की, सुबह से खुली दूध डेयरियां भी बंद करवा दी गईं। खंडवा में बसों की चेकिंग में मिली सब्जी किसानों ने सड़क पर फेंकी। महाराष्ट्र से आया दूध का वाहन भी रोका, जिसके बाद ड्राइवर वाहन को थाने ले गया। वहां पुलिस के संरक्षण में दूध ज्यादा कीमत में बिका। शाजापुर में सांची दूध की सप्लाई होने से स्थिति कुछ सामान्य हुई, लेकिन खुला दूध अब भी नहीं मिला। यहां सब्जी की सप्लाई बंद रही। शाजापुर में करीब बड़ी संख्या में किसान सड़क पर उतर आए और सरकार विरोधी नारे लगाते हुए जमकर प्रदर्शन किया। मंदसौर में 300 लीटर दूध एक कार से जब्त हुआ, जिसके बाद जिला अस्पताल में इसे बांट दिया गया। कई जगह किसानों का विरोध जारी रहा उन्होंने रोक-रोकर वाहनों की चेकिंग की। दूध और सब्जी की किल्लत के चलते कई जगह आम लोगों ने किसानों का विरोध किया। लोगों का कहना है कि यह तरीका बिल्कुल गलत है। झाबुआ और आलीराजपुर में हड़ताल का कोई असर नहीं दिखा, यहां सामान्य रूप से मंडी खुली और दूध की सप्लाई भी सामान्य रही। हालांकि मंड़ि‍यों में सब्जी की आवक पहले की अपेक्षा कम रही। खरगोन सब्जी मंडी में हालत सामान्य रहे लेकिन सब्जियों के भाव आसमान पर रहे। इंदौर और धार में किसानों आंदोलन के चलते व्यापारी खरगोन नहीं पहुंचे। यहां दूध की सप्लाई भी सामान्य रही। रविवार को सब्जी मंडी बंद रह सकती है। जिले के भीकनगांव में सब्जी का व्यापार जारी। यहां सांची के दूध की सप्लाई भी हुई, गड़बड़ी की आशंका के चलते अमूल का दूध नहीं मंगवाया गया। जानकारी के मुता‍बिक सांची का 10 हजार लीटर दूध यहां सप्लाई हुआ। बड़वानी में किसान आंदोलन का असर नहीं रहा।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  3 June 2017

jail

    नीमच  जिले की कनावटी उप जेल में प्रशासन की औचक छापामार कार्रवाई से हड़कंप मच गया. एसडीएम सहित तीन तहसीलदार और 19 पटवारियों की तरफ से की गई इस कार्रवाई के दौरान कैदियों के पास से कई धारदार चाकू, नेलकटर्स, लाइटर्स और खाने पीने की वस्‍तुएं जब्त की गईं।  दरअसल, जिले की कनावटी उप जेल में कैदियों को वीआईपी सुविधा देने को लेकर आए दिन कई तरह के मामले सामने आते रहते हैं. इसकी शिकायत उच्‍च स्‍तर तक की गई, जिसे लेकर एसडीएम आदित्‍य शर्मा ने दलबल के साथ आकस्मिक निरीक्षण किया।  जानकारी के अनुसार, जिला कलेक्‍टर रजनीश श्रीवास्‍तव के आदेश पर एसडीएम आदित्‍य शर्मा, तहसीलदार गोपाल सोनी, नायब तहसीलदार, जीरन तहसीलदार सहित 19 पटवारियों के साथ एसडीएम ने सभी 399 कैदियों की तलाशी ली।  जहां किसी के पास धारदार चाकू, नेलकटर, ब्लैड, स्टील की चम्मच, खाद्य सामग्री सहित कई अवैध वस्तुएं मिलीं. लगातार साढ़े तीन घण्टे चली कार्रवाई से जावद जेल में भी हड़कंप मच गया।  एसडीएम ने बताया कि, वे पंचनामा बना कर जिला कलेक्‍टर रजनीश श्रीवास्‍तव को सौंपेंगे. चार साल बाद हुई चेकिंग में और भी खुलासे होने की संभावना है. गौरतलब है कि कनावटी जेल में पहले वर्ष 2012 में तत्कालीन एसपी और कलेक्टर ने भी चेकिंग की थी. उस दौरान मादक पदार्थ हथियार सहित अन्य उपकरण मिले थे।   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  7 June 2016

Video

Page Views

  • Last day : 960
  • Last 7 days : 4527
  • Last 30 days : 41815
Advertisement
All Rights Reserved ©2018 MadhyaBharat News.