Since: 23-09-2009

Latest News :
शाह ने कहा- दंगों के वक्त मेरे साथ विधानसभा में थी माया.   प्रद्युम्न की हत्या के बाद खुला रेयान स्कूल.   आतंकवाद से साथ मिलकर लड़ेंगे भारत-जापान:शिंजो आबे.   प्रद्युम्न मामले में जुवेनाइल एक्ट के तहत होगी कार्रवाई.   साक्षरता के क्षेत्र में मध्यप्रदेश राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा गया.   छत्तीसगढ़ को मिले चार राष्ट्रीय पुरस्कार.   मध्यप्रदेश के सभी गाँव और शहर खुले में शौच से मुक्त किये जाएंगे.   शिवराज ने ग्राम रतनपुर में किया श्रमदान.   डेंगू लार्वा मिलने पर होगा 500 रुपये का जुर्माना.   पदयात्रा में जनहित विकास कार्यों की शुरुआत.   लोगों से रू-ब-रू हुए मुख्यमंत्री चौहान.   फैलोज व्यवहारिक और सैद्धांतिक अनुभवों पर आधारित सुझाव दें.   मजदूरों को छत्तीसगढ़ में पांच रूपए में मिलेगा टिफिन.   अम्बुजा सीमेंट में पिस गए दो मजदूर.   एम्बुलेंस ये ले जाती है नदी पार .   भालू के हमले से दो की मौत.   जोगी की जाति के मामले में सुनवाई फिर टली.   5 ट्रेनें रद्द, दो-तीन दिन बनी रहेगी परेशानी.  

सीहोर News


महिला कृषक

महिला कृषकों के 1038 स्व-सहायता समूह गठित  मध्य प्रदेश में कृषि के क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिये पिछले वर्ष महिला कृषकों के 1038 स्व-सहायता समूह गठित किये गये। इन समूहों में महिला कृषकों के 437 अंतर्जिला प्रशिक्षण भी आयोजित किये गये। इसके अलावा 1555 महिला कृषकों को कृषि की उन्नत तकनीक अपनाने के लिये प्रशिक्षण दिलवाया गया। इस योजना पर पिछले वर्ष 4.50 करोड़ की राशि व्यय की गयी। इस वित्तीय वर्ष में इस योजना के लिये 6 करोड़ रुपये की व्यवस्था सुनिश्चित की गयी है। मध्यप्रदेश में कृषि के क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के मकसद से किसान कल्‍याण एवं कृषि विकास विभाग द्वारा योजना शुरू की गयी है। योजना का उद्देश्य प्रदेश में महिला कृषकों के जीवन-यापन स्तर में सुधार लाना है। महिला कृषकों को कृषि की कम लागत की तकनीक चुनने, उसे समझने और अपनाने के योग्य बनाना भी है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  8 July 2017

किसानों ने किया चक्काजाम

   इंदौर-भोपाल स्टेट हाईवे पर किसानों ने चक्काजाम कर दिया, जिससे दोनों ओर वाहनों की 5 किमी लंबी लाइन लग गई। जानकारी के मुताबिक आष्टा के पास पागरिया घाटी में चार दिन से प्याज की तुलाई न होने पर किसान उग्र हो गए। सुबह वे सड़क पर उतर आए और रास्ते से निकलने वाले वाहनों को रोक दिया। कुछ देर बाद पुलिस की समझाइश के बाद किसान हट गए और जाम खुला। इस दौरान सड़क के दोनों ओर वाहनों लंबी लाइन लग गई थी। चक्काजाम से यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। उग्र किसानों को समझाने के लिए कोई भी आगे नहीं आ रहा था।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  28 June 2017

मुख्यमंत्री चौहान

  बकतरा में मुख्यमंत्री कन्या विवाह/निकाह संपन्न  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान की उपस्थिति में सीहोर जिले की बुदनी तहसील के ग्राम बकतरा में आज को मुख्यमंत्री कन्या विवाह/निकाह तथा कृषि विज्ञान मेला 2017 हुआ। विवाह समारोह में 95 विवाह तथा दो निकाह हुए। मुख्यमंत्री सपत्नीक बारात में शामिल हुए। उन्होंने कार्यक्रम स्थल पर पुष्प वर्षा कर दुल्हों का स्वागत भी किया। मुख्यमंत्री ने नवयुगलों को आशीर्वाद देते हुए शासन की कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि किसानों के कल्याण का जितना कार्य प्रदेश सरकार ने किया है इतिहास मे कभी नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि प्याज आठ रुपये किलो की दर से खरीदा जा रहा है। दस जून से तुअर 5050, मूंग 5225 तथा उड़द 5000 रुपये क्विंटल की दर पर खरीदी जाएगी। इससे पहले मुख्यमंत्री ने 123 लाख रुपये की लागत से नवनिर्मित कन्या उच्चतर माध्यमिक शाला का लोकार्पण किया। उन्होंने अगले वर्ष से महाविद्यालय में विज्ञान संकाय शुरू करने की घोषणा की। कार्यक्रम मे प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह, मार्कफेड अध्यक्ष श्री रमाकांत भार्गव, वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन के अध्यक्ष श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, वन विकास निगम अध्यक्ष श्री गुरु प्रसाद शर्मा, राज्य वनोपज संघ उपाध्यक्ष श्री रामनारायण साहू, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती उर्मिला मरेठा उपस्थित थीं।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  9 June 2017

shivraj singh

सीहोर अहमदपुर में ग्रामोदय से भारत उदय अभियान के समापन पर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोई भी भूखा नहीं रहेगा। सभी गरीबों को सब्सिडी से अनाज उपलब्ध कराया जाएगा। इसके साथ गरीबों को मकान बनाने के लिए पैसा दिया जाएगा, प्रदेश की धरती पर कोई बिना मकान के नहीं रहेगा। इसका पैसा सीधे खाते में डाला जाएगा। उन्होंने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश तरक्की कर रहा है। सीएम ने कहा प्रदेश हर गरीब के लिए रोटी, कपड़ा और मकान देंगे। आज 1 रुपये किलो गेहूं, चावल और नमक 5.5 करोड़ लोगों को दिया जा रहा है। जो लोग सक्षम हैं वे मिल रही सब्सिडी को छोड़ने के लिए खुद आगे आए, जिससे गरीबों का भला हो सके। सीएम ने कहा कि खेती को फायदे का धंधा बनाना है, नदियों को जोड़कर खेती को लाभ का धंधा बनाएंगे। प्रदेश में लड़कियों के लिए कई स्कीम लागू की गई है। ग्राम पंचायतों को विकास के लिए करोड़ों की राशि दी जा रही है। अब गांवो में बैठकर ही ग्रामीणों की समस्या का निवारण किया जाएगा। हमने हर पंचायत में तय किया है कि एक तालाब तो होगा। आप गांव वाले विकास के जो काम तय कर देंगे, सरकार व ग्राम पंचायत वही काम करेंगे। सभी गांवों में सीसी रोड और पक्की नालियां बनाएंगे। प्रदेश में सात हजार पंचायतें और सहित 5 और जिले खुले में शौच से मुक्त हो चुके हैं। ग्राम पंचायतों को एक करोड़ रुपए से एक लाख रुपए तक की राशि मिल रही है। गरीबों और किसानों का कल्याण हमारा लक्ष्य है। सीएम ने कहा कोई भी गरीब बिना मकान के नहीं रहेगा, 2011 तक सभी आवासहीन को मकान बनाकर दिए जाएंगे। बिजली विभाग और वन विभाग को छोड़कर बाकी के सभी विभागों में 35 प्रतिशत नौकरी महिलाओं के देंगे। उन्होंने कहा 3 लाख बच्चों को रोजगार देंगे और 7 लाख बच्चों को कौशल विकास के अंतर्गत ट्रेंड करेंगे। 2 लाख की सम्मान निधि अच्छा काम करने वाले सरपंच को दी जाएगी इसी तरह 1 के लाख की 2 राशि दूसरे नंबर पर आने वाले 2 सरपंचों को दी जाएगी। सीएम ने कहा कि 91 हजार 300 किमी सड़क बनने का लक्ष्य था, 80 हजार किमी की सड़क बना चुके हैं, जो पूरे देश मे रिकार्ड है। फलदार पेड़ लगने पर सरकार 5 हजार की राशि देगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के ग्रामो को नंबर 1 बना देंगे। 2 जुलाई को नर्मदा पर पेड़ लगना है ये काम मे अकेले नहीं कर सकता हूं, आप सभी का सहयोग चाहिए।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  31 May 2017

सीहोर जिले के आदिवासी ग्राम

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने सीहोर जिले के प्रवास के दौरान दो लघु सिंचाई परियोजना को स्वीकृत किया। नसरूल्लागंज विकास खंड के ग्राम महादेव बेदरा में उन्नीस करोड़ तीस लाख रू. लागत की इस परीयोजना के पूरा होने पर 1200 एकड़ में सिचाई होगी। इसी प्रकार अमीरगंज तालाब से सिंचाई परियोजना को भी स्वीकृत कर तत्काल कार्य आंरभ करने के निर्देष सिंचाई विभाग के अधिकारियों को दिये। ग्यारह करोड़ पैंसठ लाख रू. लागत की इस सिंचाई परियोजना में करीब 750 एकड़ क्षेत्र में सिंचाई हो सकेगी। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि दोनों सिंचाई योजनाओं की मांग ग्रामीणों द्वारा काफी लम्बे समय से की जा रही थी। जनता से बातचीत करते हुए श्री चौहान ने कहा कि पलास पानी और पातल पर्ट तलाई योजनाओं का ससर्वे कराया जा रहा है। उन्होनें सिंचाई विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये स्वीकृत योजनाओं का निर्माण कार्य शीध्र शुरू हो ताकि किसान के खेत तक पानी जल्द पहुँचे। जो गॉव रह गये है, उनमें भी जल्द ही सिंचाई सुविधा पहॅुचाने का प्रयास किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्राम अमीरगंज भैसान में आयोजित किसान सम्मेलन में कहा कि आगामी 1 जून को भोपाल में ग्लोबल स्किल डवलापमेंट समिट आयोजित की जाएगी। जिसमें युवाओं को तकनीकी क्षेत्र में रोजगार देने वाली बडी बडी कम्पनीयों के प्रतिनिधि आकर प्रदेश के युवाओ को आत्म निर्भर बनाने हेतु रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने पर चर्चा करेंगें। तथा युवाओं का मार्गदर्शन देंगें। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि नर्मदा तट पर 2 जुलाई को करोड़ों पौधे रोपित किये जाएगें। उन्होने स्थानीय ग्रामीणो से अपील की कि वे भी वृक्षा रोपण महाअभियान में पौधरोपण कर अपनी भागीदारी दें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर लोक स्वास्थ यांत्रिक विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि नसरूल्लागंज क्षेत्र के जिन गॉव मे पेय जल समस्या हो वहॉ पानी कि टंकी बनवाने कि व्यवस्था करें ताकी नर्मदा का जल गॉव गॉव मे पाईप लाईन के माध्यम से घर घर तक पहुँचाने की व्यवस्था की जा सके। उन्होने आमीर गंज में हायर सेंकडरी स्कूल, पशुचिकित्सलय, यात्री प्रतिक्षालय, व स्टीट लाईट स्वीकृत करने की घोषण भी कि। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर कहा कि किसी को भी आवास हीन व भूमि हीन नही रहने दिया जायेगा। हर गरीब परीवार के लिये आवासीय भूमि और भवन कि व्यवस्था सरकार कर रही है उन्होन कहा कि खेती को लाभ का घंधा बनाने और अगले 5 बर्षो में किसानो की आय दुगनी करने के लिये सरकार प्रयास कर रही है। उन्होने कृषि विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों से कहा कि नसरूलागंज क्षेत्र के आदिवासी बहुल गॉवो मे कृषि उत्पादन व आय बढाने के लिये अलग से विशेष योजना तैयार करें। गत दिवस क्षेत्र के ग्राम मोगराखेडा में जिन 3 आदिवासी जयराम वारेला, कीर्तिसिंह बारेला, और भारत सिंह के घर जल गये थे उन्हे एक लाख चार हजार रू. राहत राषि के चेक प्रदान किये उन्होने बालिका कु. रिंकी व प्रतिभा के लाडली लक्ष्मी योजना के तहत प्रमाण पत्र प्रदान किये। कार्यक्रम में मार्कफेड अध्यक्ष श्री रमाकांत भार्गव, वन विकास निगम अध्यक्ष श्री गुरू प्रसाद शर्मार्, वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन के अध्यक्ष श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, म.प्र. बाल आयोग सदस्य श्रीमती निर्मला, बारेला, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती उर्मिला मरेठा जन प्रतिनिधि एवं वरिष्ठ अधिकारियों सहित बडी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे। इसके पूर्व मुख्यमंत्री ग्राम आमाडोह मे आयोजित किसान सम्मेलन भी शामिल हुए।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  26 May 2017

कन्या विवाह-निकाह योजना

बांद्राभान में 200 से अधिक कन्याओं के विवाह समारोह में मुख्यमंत्री श्री चौहान मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि लाड़ली लक्ष्मी और मुख्यमंत्री कन्या विवाह-निकाह योजना के लिये ऐसी व्यवस्था की जायेगी कि यह दोनों योजनाएँ हमेशा संचालित हो। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कन्या विवाह-निकाह योजना में दाम्पत्य सूत्र में बँधने वाली नव-वधुओं को स्मार्ट फोन के लिये 3-3 हजार चेक पृथक से दिये जायेंगे। मुख्यमंत्री आज सीहोर जिले के बुधनी विकासखण्ड के बान्द्राभान में पतई वाले गुरूदेव की प्रेरणा से अक्षया तृतीया पर आयोजित मुख्यमंत्री कन्या विवाह-निकाह योजना के विवाह समारोह को संबोधित कर रहे थे। समारोह में 232 कन्याओं का विवाह और एक कन्या का निकाह हुआ। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने नव-दम्पत्तियों को आशीर्वाद और समारोह में उपस्थित सभी लोगों को परशुराम जयंती की शुभकामनाएँ दी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने समारोह स्थल पर पहुँचने पर अपने स्वागत से इंकार किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि - 'बेटियों की शादी है, मैं तो घराती हूँ। बारातियों का स्वागत करूँगा।' उन्होंने दूल्हों से कहा कि 'मेरी भाँजियों का ध्यान रखना, नहीं तो मामा से लड़ाई हो जायेगी।' समारोह को जिला प्रभारी और प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह एवं वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन के अध्यक्ष श्री राजेन्द्र सिंह ने भी संबोधित किया। समारोह में राम जन्म भूमि न्याय के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष स्वामी आत्मानंद सरस्वती, मार्कफेड के अध्यक्ष श्री रमाकान्त भार्गव, विधायक श्री विजयपाल सिंह, सलकनपुर देवी धाम ट्रस्ट अध्यक्ष श्री महेश उपाध्याय सहित अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  30 April 2017

 साध्वी आस्था भारती

औबेदुल्लागंज में भागवत कथा में मुख्यमंत्री श्री चौहान   हमारे संतों ने मानव जीवन का एक मात्र लक्ष्य परमात्मा की प्राप्ति और लोक कल्याण बताया है। उन्होंने ईश्वर प्राप्ति के तीन मार्ग बताए हैं जिसमें एक ज्ञान मार्ग, दूसरा भक्ति मार्ग और तीसरा कर्म मार्ग है। मैं कर्म का मार्ग अपनाकर जीवनभर लोगों के समग्र विकास और कल्याण के लिए काम करता रहूँगा। यह बात मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने औबेदुल्लागंज में प्रसिद्ध साध्वी आस्था भारती की भागवत कथा के दौरान कही। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री होने के नाते मेरा कार्य केवल प्रदेश का विकास करना ही नहीं है बल्कि लोगों के सुख और कल्याण की चिंता करना भी है। लोगों की उन्नति और तरक्की के लिए मैं जीवनभर काम करता रहूँगा। श्री चौहान ने कहा कि कर्म मार्ग द्वारा ईश्वर प्राप्ति का आशय यह है कि डॉक्टर, इंजीनियर, शिक्षक, व्यापारी, राजनीतिज्ञ आदि सभी लोगों को, जो जिस पेशे में है वह अपना कार्य पूरी ईमानदारी और निष्ठा से लोक कल्याण के लिए करें। कर्म के इस मार्ग से भी ईश्वर को प्राप्त किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि हमें अपनी आने वाली पीढ़ी के स्वस्थ्य और सुखद भविष्य के लिए नदियों और पर्यावरण का संरक्षण करना होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा सेवा अभियान एक बहु-उद्देश्यीय अभियान है, जिसे जनता की सक्रिय भागीदारी से सफल बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि नर्मदा के दोनों तटों पर एक-एक किलोमीटर की दूरी तक सघन वृक्षारोपण किया जायेगा। श्री चौहान ने बताया कि 2 जुलाई को लाखों लोग नर्मदा के तट पर करोड़ों पेड़ लगायेंगे। उन्होंने कहा कि नर्मदा में मिल रहे दूषित जल को रोकने के लिए कार्य-योजना बनाई जा रही है। नर्मदा तट के सभी गाँवों में मुक्तिधाम और शौचालय बनाये जा रहे हैं। नर्मदा घाटों पर स्नान के लिए आने वाली माता-बहनें सम्मानजनक ढंग से वस्त्र बदल सके, इसके लिए चेंजिंग-रूम भी बनाये जायेंगे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  13 April 2017

narmda yatri

  'नमामि देवी नर्मदे'' - सेवा यात्रा में 11 दिसंबर 2016 से अमरकंटक से लगातार साईकल पर चल रहे सीहोर जिले के निवासी श्री सरदार सिंह कहते हैं कि वह अगले साल फिर विभिन्न नर्मदा घाटों में जाकर देखेंगे कि कितना कार्य हुआ है । घाटों पर किये गये कार्यों की जानकारी मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान को देंगे । श्री सिंह ने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि माँ नर्मदा के तट पर रहने वाले लोगों ने जो संकल्प लिया है, उसे ज़रूर पूरा करेंगे । पौध-रोपण और स्वच्छता का कार्य अगर अभी भी नहीं किया तो फिर माँ नर्मदा को बचाना मुश्किल होगा । निर्मल नर्मदा बहे सर्वदा श्री सरदार सिंह के साथ ही अन्य यात्रियों ने कहा कि माँ नर्मदा में मिल रहे शहरों के गंदे नालों के पानी को रोकना ही होगा । उन्होंने कहा कि कई स्थानों पर इतनी गंदगी है िक नदी में आचमन करने की इच्छा नहीं होती । सभी ने एक स्वर में ' निर्मल नर्मदा बहे सर्वदा'' का नारा लगाते हुए कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि मुख्यमंत्री के प्रयासों से इस नारे का अभिप्राय अवश्य पूरा होगा । श्री सरदार सिंह इसके पूर्व साईकल से ही तीन बार वैष्णो देवी, कांगड़ा, नैनादेवी सहित अन्य तीर्थों की यात्रा कर चुके हैं । 'नमामि देवी नर्मदे'' - सेवा यात्रा के 115 वें दिन यात्रा की शुरूआत जबलपुर जिले के ग्राम बेलखेड़ा से माँ नर्मदा की आरती के साथ हुई ।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  11 April 2017

मुरारी बापू

प्रदेश में नशामुक्ति का आंदोलन चलेगा : चौहान यात्रा के 100वें दिन ग्राम जैत में जन-संवाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में नशामुक्ति का आंदोलन चलेगा। इसके प्रथम चरण में नर्मदा नदी के दोनों तटों पर पाँच-पाँच किलोमीटर की शराब की दुकानें आगामी एक अप्रैल से बंद कर दी जायेगी। उन्होंने कहा कि नदियाँ बचेंगी तो मानव सभ्यता और संस्कृति बचेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज नर्मदा सेवा यात्रा के 100 वें दिन ग्राम जैत में आयोजित जन-संवाद को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में राष्ट्र संत श्री मुरारी बापू और संत श्री कमल किशोर नागर विशेष रूप से उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आगामी दो जुलाई को अमरकंटक से बड़वानी तक नर्मदा के तट पर लाखों लोग करोड़ों पेड़ लगायेंगे। नर्मदा मध्यप्रदेश की जीवनदायिनी है। यह मध्यप्रदेश की समृद्धि का आधार है। प्रदेश के दर्जनों शहरों को पेयजल उपलब्ध कराती है। इसकी कृपा से मध्यप्रदेश को चार बार कृषि कर्मण अवार्ड मिला है। यह प्रदेश को सिंचाई के लिए जल और बिजली उपलब्ध कराती है। नर्मदा सेवा यात्रा नर्मदा को बचाने और उसका कर्ज उतारने की यात्रा है। उन्होंने कहा कि नर्मदा के दोनों तटों के शहरों में ट्रीटमेंट प्लांट बनाये जाएंगे। उन्होंने संकल्प दिलाया कि नर्मदा के तटों पर पेड़ लगायें, इसके किनारे के गाँवों में हर घर में शौचालय बनायें, पूजन-सामग्री पूजन कुण्ड में डालें। नर्मदा के किनारे चेंजिंग रूम और मुक्तिधाम बनाये जायें। मुख्यमंत्री ने कहा कि बेटियों के साथ दुराचार करने वालों को फाँसी की सजा देने का कानून बनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि बेटियों को बचायें, हर बच्चे को स्कूल भेंजे। उन्होंने कहा कि नर्मदा के लिये नर्मदा कोष की स्थापना की जायेगी। इस कोष की शुरूआत में संत मुरारी बापू ने 11 हजार रूपये का योगदान दिया। संत कमल किशोर नागर ने ओंकारेश्वर के नर्मदा घाटों के जीर्णोद्धार के लिये एक करोड़ एक लाख रूपये की राशि देने की घोषणा की। राष्ट्र संत श्री मुरारी बापू ने कहा कि नदियों, वृक्षों और पहाड़ों को प्रेम करें क्योंकि जिससे हम प्रेम करेंगे उसे प्रदूषित नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान एक अनुष्ठान के रूप में शासन चला रहे हैं। अनुष्ठान के रूप में शासन से अद्भुत परिणाम मिलते हैं। ऐसा मानव होना चाहिए जो सर्वभूतों के कल्याण में रत हो। सबके कल्याण का संकल्प लें। सरकार के साथ जन-जन जुड़े। स्वच्छता अभियान से जुड़ें। मुरारी बापू ने प्रदेश सरकार को आगामी एक अप्रैल से नर्मदा तट की शराब की दुकानें बंद करने के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि वे स्वयं पाँच पेड़ लगायेंगे। संत श्री कमल किशोर नागर ने कहा कि माँ नर्मदा का जल भगवान महादेव के शरीर से निकला हुआ परम तत्व है। नदी के इस पवित्र जल को पूजन सामग्री एवं गंदगी डालकर गंदा नहीं करें। नर्मदा का प्रवाह अगर कमजोर हुआ, तो भावी पीढ़ियाँ प्रभावित होंगी। उन्होंने बेटियों के मान-सम्मान की रक्षा करने की अपील की। उन्होंने कहा कि अच्छे कार्य को सदैव प्रोत्साहित और बुरे कार्य को हतोत्साहित करना चाहिए। यूनिसेफ के भारत प्रमुख श्री ल्यूस जार्ज ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा विश्व का अनूठा अभियान है। जिसमें नदी के संरक्षण के लिए समाज और सरकार मिलकर काम कर रहे हैं। सिक्ख धर्मगुरू श्री ज्ञानी दिलीप सिंह ने कहा कि पानी जीवन है। नर्मदा सेवा यात्रा जीवन को बचाने का अभियान है। भोपाल शहर काजी ने कहा कि सभी धर्मों में पानी को साफ रखने और पेड़ लगाने की बात कही गयी है। पूरे देश में यह अभियान चलना चाहिए इससे आने वाली पीढ़ियों को फायदा होगा। स्वागत भाषण मुख्यमंत्री के पुत्र श्री कार्तिकेय ने दिया। कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीताशरण शर्मा, वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, जल संसाधन एवं जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, श्रम मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य, सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान, यूनिसेफ के प्रदेश प्रमुख श्री माइकल जूमा, प्रदेश भाजपा के संगठन मंत्री श्री सुहास भगत, स्वामी कापरी, संत श्री अखिलेश्वरानन्द जी सहित साधु-संतगण, मुख्यमंत्री की पत्नी श्रीमती साधना सिंह और बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने अपने ग्राम जैत में नर्मदा सेवा यात्रा की अगवानी की नर्मदा सेवा यात्रा का आज ग्राम जैत आगमन पर भारी उत्साह से स्वागत किया गया। यात्रा के स्वागत के लिये ग्रामीणों ने ग्राम जैत में जगह-जगह स्वागत द्वार बनायें। मुख्यमंत्री श्री चौहान एवं श्रीमती साधना सिंह ने ग्रामीणों के साथ यात्रा की अगवानी की। श्री चौहान यात्रा का ध्वज लेकर और श्रीमती साधना सिंह सिर पर कलश लेकर यात्रा के साथ चलें। मुख्यमंत्री ने सपत्निक कन्या-पूजन और संतों का सम्मान किया। यात्रा के पहुँचने पर ग्रामीणों ने भारी उत्साह-उमंग, आस्था और श्रद्धाभाव के साथ बैण्ड बाजा और महिलाओं ने सिर पर कलश लिए यात्रियों का स्वागत किया। यात्रा में बच्चे, बुजुर्ग, महिलाओं सहित हर वर्ग के लोग शामिल हुए। यात्रा में हुए हर-हर नर्मदे के उद्घोष से आसमान गूँज उठा। यहाँ पर यात्रा में विभिन्न जिलों से उपयात्रा के रूप में आये हुए लोग भी शामिल हुए। इसके बाद माँ नर्मदा की भव्य महाआरती की गई। इस मौके पर प्रसिद्ध गायिका अनुराधा पौडवाल और गायक श्री कैलाश खेर ने अपनी मनभावन प्रस्तुति भी दी।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  28 March 2017

vivek oberoy narmda yatra

मुख्यमंत्री चौहान ग्राम सुडानिया के जन-संवाद कार्यक्रम में   नर्मदा की अविरल धारा सघन वनों पर निर्भर नर्मदा तट के दोनों किनारों पर जितने सघन वन होंगे, उतना ही तेज प्रवाह नर्मदा का रहेगा। मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने यह बात सुडानिया में जन-संवाद कार्यक्रम में कही। उन्होंने कहा अंधाधुंध वनों के दोहन के कारण प्रदेश की तवा और बेतवा जैसी नदियाँ सूख गयी हैं। इन नदियों में केवल वर्षा ऋतु में ही पानी दिखाई देता है। नर्मदा के साथ इन नदियों के संरक्षण का काम भी शुरू किया जायेगा। उन्होंने कहा कि वर्षा भले ही अच्छी हो, लेकिन वर्षा जल को सहेज कर रखने के प्रयास करने होंगे। लोगों को जल साक्षरता के लिये प्रेरित करना होगा जल और जल की स्वच्छता तभी संभव है जब हमारे मन में जल के प्रति प्रेम और सम्मान का भाव पैदा होगा। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा हमने जल सुरक्षा के लिए हमारे पूर्वजों द्वारा किये गये प्रयासों पर पानी फेर दिया है। तालाब और कुँओं को पाट दिया है। तात्कालिक स्वार्थों के कारण पृथ्वी पर उपलब्ध संसाधनों का दोहन किया। हमारी नदियाँ सूख रही हैं। उन्होंने कहा कि राजधर्म का उद्देश्य तात्कालिक समस्या हल करने के साथ गम्भीर समस्याओं को हल करना भी है। आमजनों की सहभागिता भी जरूरी है। कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष श्री सीतासरन शर्मा, लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, संत कमल किशोर महाराज, फिल्म अभिनेता श्री विवेक ओबेराय भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि कन्याएँ अक्षय उर्जा का भंडार है। बेटियाँ देवी हैं, उनका यथोचित सम्मान किया जाना चाहिए। बेटी नही होगी तो सृष्टि भी नहीं बचेगी। बेटी बचाओं-बेटी पढ़ाओं की बात करते हुए श्री चौहान ने कहा कि सरकारी नौकरी में महिलाओं को प्राथमिकता देने के साथ ही शिक्षक की भर्ती में 50 प्रतिशत और पुलिस में 33 प्रतिशत भर्ती महिलाओं की होगी। श्री चौहान ने कहा कि 12वीं की परीक्षा में 75 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थियों की उच्च पढ़ाई की फीस सरकार भरेगी। मुख्यमंत्री ने उपस्थित नागरिकों को नर्मदा संरक्षण के प्रति जागरूकता लाने का संकल्प दिलवाया। मुख्यमंत्री ने नर्मदा कलश, ध्वज एवं कन्याओं का पूजन किया। मध्यप्रदेश में बेटी बचाओ, साक्षरता और नशा-मुक्ति को भी नर्मदा सेवा यात्रा से जोड़ा गया है। प्रदेश में 1 अप्रैल से नदी तट के 5-5 किलोमीटर दूर तक की शराब की दुकानें बंद की जायेंगी। पुष्कर से आये कापरी महाराज ने मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा किये जा रहे नर्मदा संरक्षण अभियान को आशीर्वाद दिया। अभिनेता विवेक ओबेराय ने कहा कि नर्मदा यात्रा के प्रयासों को देश के अन्य राज्यों में भी अपनाया जाना चाहिए। पारम्परिक अंदाज में हुआ यात्रा का स्वागत नर्मदा सेवा यात्रा के आज शाम सुडानिया पहुँचने पर महिलाओं ने पारम्परिक परिधानों में सिर पर कलश रखकर यात्रा की अगवानी की। यात्रा में भोपाल और सीहोर जिले की उप-यात्राएँ भी शामिल हुई। नमामि देवि नर्मदे - सेवा यात्रा में शामिल होने पहुँची महिलाओं ने दोपहर बाद पवित्र सलिला नर्मदा में स्नान किया। महिलाओं के समूह ने सुडानिया घाट पर पर्व का वातावरण बना दिया। उनका कहना था कि माँ नर्मदा के पवित्र जल में स्नान करने के लिए किसी समय विषेष का महत्व नहीं है।    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 March 2017

 सदगुरू जग्गी वासुदेव

शाहगंज में नर्मदा सेवा यात्रा का अभूतपूर्व स्वागत  नदियों के संरक्षण के प्रति जागरूकता के लिये कन्याकुमारी से उत्तराखंड तक चलेगी जागरूकता रैली   आध्यात्मिक गुरू सदगुरू जग्गी वासुदेव ने कहा कि क्या लालच ने मनुष्य को इतना कठोर ह्रदय बना दिया है कि वह जीवन के स्त्रोत को ही नष्ट करने पर उतारू है। उन्होंने कहा कि क्या इतना अमानवीय हो गया हैं कि बच्चों के भविष्य का भी ख्याल नही है। सदगरू ने कहा कि हर जीवन एक दूसरे से जुड़ा है। नर्मदा बहती रहे इसके लिये जरूरी है कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान जो नर्मदा सेवा यात्रा निकाल रहे हैं वह सबसे अच्छा विकल्प है। नर्मदा गरिमापूर्ण बहती रहे इसके लिये इसके तटों पर पेड़ लगाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के लोग भाग्यशाली है उन्हें एक ऐसा मुख्यमंत्री मिला है जिसका दिल धड़कता है। नर्मदा सेवा यात्रा को आशीर्वाद देते हुए कहा कि यह यात्रा अभूतपूर्व रूप से सफल होगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री और केन्द्रीय पर्यावरण मंत्रालय से ऐसा अभियान पूरे देश में चलाने की चर्चा की जायेगी। उन्होंने मुख्यमंत्री को कैलाश तीर्थ पवित्र जल पात्र भेंट किया। आध्यात्मिक गुरू सदगुरू वासुदेव जग्गी ने कहा है कि पवित्र नर्मदा नदी आनंद देती है। यह सभ्यता की जननी है। उन्होंने कहा कि समय आ गया है कि अब हमें सोचना है कि अपनी नदियों के लिये हम क्या कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि शरीर में तीन चौथाई पानी है। पानी कोई वस्तु नही है। यह जीवन निर्माण करता है। उन्होंने कहा कि जब यह शरीर में बहता है तो इसका ख्याल करते हैं लेकिन जब नदियों में बहता है तो उसे गंदा करते हैं। सदगुरू ने कहा कि नर्मदा और गोदावरी के बीच भारत की सभ्यता फली-फूली है। अब नदियाँ छोटी हो रही हैं। सिकुड़ रही हैं। इसका अर्थ यह है कि हमें अपने भविष्य के प्रति चिंता नही है। उन्होंने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा जैसा आंदोलन अभी तक हुआ नही। इसका अर्थ यह है कि हम राष्ट्र के लिये कुछ अच्छा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि नदियों का विकास करके ही राष्ट्र को महान बनाया जा सकता है। सदगुरू ने कहा कि हमें बचाने वाली नदियों को अब हमें बचाना होगा। नर्मदा गौरव के साथ बहती रहे इसके लिये इसके किनारों पर पेड़ लगाना जरूरी हो गया है। इसके लिये नीति बनानी होगी। उन्होंने कहा कि नदियों को बचाने के लिये केन्द्र सरकर से वार्ता चल रही है। उन्होंने कहा कि जब भारत में जंगल थे तो नदियाँ भी कल-कल बहती थी। जंगल खत्म होने से नदियों का बहाव कम हो गया है। उन्होंने कहा कि नदियों के किनारों की मिट्टी बचाना जरूरी है नहीं तो सूरज की गर्मी से मिट्टी रेत में बदल जायेगी और रेगिस्तान बन जायेगा। उन्होंने कहा कि देश में इस दिशा मे जागरूकता लाने के लिये कन्या कुमारी से उत्तराखंड तक जन-जागरूकता रैली निकाली जायेगी। उन्होंने कावेरी नदी का स्मरण करते हुए कहा कि अब कावेरी में साठ प्रतिशत तक जल कम हो गया है और यह नदी विवाद का कारण बन गई है। सदगुरू ने कहा कि भारत ने कई वैज्ञानिक उपलब्धियाँ हासिल की है लेकिन तमाम सीमाओं के साथ देश का किसान देश को अन्न उपलब्ध करा रहा है। दुर्भाग्य यह है कि वह स्वयं का जीवन समाप्त करने के लिये विवश हो जाता है। उन्होंने कहा कि मिट्टी की उर्वरकता बरकरार रखना जरूरी है। मिट्टी बचाने से किसान बचेगा। उन्होंने कहा कि यदि ऐसे ही चलता रहा अगले पच्चीस सालों में कुछ नहीं उग पायेगा। धरती का पोषण होना जरूरी है। मालवा के संत श्री कमल किशोर नागर ने भी नदी को बचाने के लिये आत्म-प्रेरणा से प्रयास करने का आव्हान किया। उन्होंने लोगों से अपील की कि वे पूरे मनोभाव से नर्मदा सेवा यात्रा से जुडे़। उन्होंने कहा कि नदी, कन्या और गाय के संरक्षण का संकल्प लें।  मुख्यमंत्री ने अपने उदबोधन में कहा कि नर्मदा के बिना जीवन नहीं चल सकता। उन्होंने कहा कि नर्मदा को अविरल बनाने के लिए संपूर्ण समाज को आगे आना होगा। जल की धार बचाने के लिए लाखों लोग करोड़ों पेड़ लगाएंगे। किसानों की जमीन पर फलो के पेड़ लगाए जाएंगे। दो जुलाई को एक साथ वृक्षारोपण किया जायेगा। सभी शहरो में ट्रीटमेंट प्लांट लगाएंगे जिससे गन्दा पानी नदी में मिलने नही पाये। उन्‍होंने शौचालय का उपयोग करने, पूजन सामग्री भी नर्मदा जल में नहीं डालने, मूर्तिया विसर्जित नहीं करने का संकल्प दिलाया। उन्होंने कहा कि नर्मदा किनारे विसर्जन कुंड बनाये जाएंगे। मुक्ति-धाम बनाया जायेगा। नशामुक्ति का अभियान पूरे प्रदेश में चलेगा। नर्मदा किनारे शराब की दुकानें बंद कर दी जाएंगी। उन्होंने कहा कि बेटियों के बिना संसार नहीं चल सकता। बेटियो के मान-सम्मान को ठेस पहुँचाने वालो को फाँसी होना चाहिए। राज्य सरकार कानून बना रही है। इसे भारत सरकार के पास भेजेंगे।   केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री  श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि  नर्मदा माँ के चरणों में प्रणाम करने शामिल हुआ हूँ। उन्होंने कहा कि सेवा यात्रा में शामिल होकर असीम आनंद का अनुभव हुआ है। उन्होंने कहा कि मनुष्य ने जब अपनी जिम्मेदारी नहीं सम्हाली तो प्रकृति में असंतुलन हुआ है।  आज नदियाँ संकट झेल रही है। मनुष्य के आचरण के कारण यमुना गंगा में प्रदूषण बढ़ा है। शिवराज ने नर्मदा का संकट पहले ही भाँप लिया और यह चेतना  जगाने वाली यात्रा निकाली। उन्होंने कहा क़ि यह आध्यात्मिक कार्यक्रम है और पर्यावरण का सबसे बड़ा अभियान सबसे बड़ा  अभियान बन गया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने सत्ता की शक्ति का इस्तेमाल जन-कल्याण और पर्यावरण की रक्षा के लिए किया।  पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री शाहनवाज हुसैन ने श्री चौहान को संत स्वभाव वाले मुख्यमंत्री बताते हुए कहा कि कई भूमिकाएँ निभाई। नर्मदा सेवा यात्रा में शामिल होने का सौभाग्य मिला। नर्मदाजी सबको पानी देती है। किसी की जाति धर्म नहीं पूछती। उन्होंने कहा कि श्री शिवराज जी सज्जन और शालीन है। वे राजनीति के संत है। शिवराज जी और और नर्मदा जी का स्वभाव एक समान है। जन-कल्याण के काम समान भाव से करते है। इस अवसर पर माँ नर्मदा की महाआरती में शामिल हुए। मुख्यमंत्री बांद्राभान से शाहगंज तक नर्मदा यात्रा ध्वज लेकर और श्रीमती साधना सिंह नर्मदा जल कलश लेकर यात्रा में शामिल हुई। हजारो की संख्या में महिलाएँ और बहनें कलश लेकर यात्रा में शामिल हुईं। नर्मदा यात्रा के शाहगंज आगमन पर लोगों ने नगर को सजाया था।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  26 March 2017

narmda sunita narayan

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वृक्षों को अवैज्ञानिक तरीके से काटकर पूरी मानव सम्पदा को खतरे में डाल दिया गया है। नर्मदा सेवा यात्रा प्रकृति के साथ संतुलन बनाकर दुनिया को बचाने का विनम्र प्रयास है। अलग-अलग दृष्टिकोण से नदियों के संरक्षण के लिए सक्रिय व्यक्तियों, संस्थाओं और संगठनों को एक मंच पर लाकर उनके अनुभवों, विचारों को मूर्तरूप देने की कोशिश नर्मदा यात्रा के माध्यम से की जा रही है। प्रदेश में नदी संरक्षण की समय रहते पहल शुरू हुई है। समाज के सभी वर्गों का सक्रिय सहयोग मिल रहा है। नर्मदा की इस चिन्ता से यह अविरल बहेगी। जिस प्रकार समाज के सभी वर्ग नर्मदा यात्रा में शामिल हो रहे हैं वह समाज की जल-संरक्षण के प्रति चिन्ता को प्रकट करता है। श्री चौहान सीहोर जिले के ग्राम बांद्राभान में नर्मदा सेवा यात्रा के आगमन पर जन-संवाद कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में प्रख्यात् पर्यावरणविद् तथा विज्ञान और पर्यावरण केन्द्र नई दिल्ली की निदेशक पद्मश्री सुश्री सुनीता नारायण सहित विभिन्न जन-प्रतिनिधि भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा को प्रदूषण मुक्त रखने के लिए अब समय आ गया है कि हम अपनी पूजा पद्धति में भी बदलाव लाये। पूजन सामग्री, प्लास्टर ऑफ पेरिस की बनी वस्तुएँ तथा अन्य ऐसी सामग्री जिससे जल प्रदूषित होता है, नर्मदा में न डाले। श्री चौहान ने संत-समाज से अनुरोध किया कि धार्मिक विधियों में ऐसे कार्यों का परित्याग करवाने में अपनी धर्म शक्ति का उपयोग करें ताकि नदियों में जल समाधि की प्रथा समाप्त हो। नर्मदा का अभिषेक नर्मदा के जल से ही किया जाए। जहाँ भी आवश्यक होगा सरकार भी इसमें मदद करेगी। मुख्यमंत्री ने किसान भाइयों से कहा कि - सरकारी जमीन पर वृक्ष वन और उद्यानिकी विभाग लगायेंगे लेकिन नर्मदा को हरी चुनरी पहनाने के लिए किसान अपनी जमीन पर फलदार वृक्ष लगाये। जब तक वृक्षों में फल आयेंगे, तब तक सरकार 20 हजार रू.प्रति हेक्टेयर की दर से मुआवजा देगी। पौधे लगाने पर भी 40 प्रतिशत की सब्सिडी दी जाएगी। वृक्षारोपण के लिए गड्डा खोदने के लिए मजदूरी भी सरकार देगी। पर्यावरणविद् सुश्री सुनीता नारायण ने अपने संबोधन में कहा कि मध्यप्रदेश का यह सौभाग्य है कि यहाँ के नागरिकों को श्री शिवराज सिंह चौहान जैसे मुख्यमंत्री मिले हैं जो नदी संरक्षण यात्रा आयोजित कर सभी को पर्यावरण संरक्षण और नदी संरक्षण के लिये यात्रा आयोजित कर जन-जागरण कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अधिकांशतः यह होता है कि जब नदी नष्ट या मृत हो जाती है तथा वायु प्रदूषण जानलेवा स्तर पर पहुँच जाता है, तब लोग पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक होते हैं। उन्होंने कहा कि जब भी भौतिक विकास होता है, तो पर्यावरण और नदियों को गंभीर क्षति पहुँचती है। आज जरूरत है भौतिक विकास के साथ-साथ पर्यावरण को भी संरक्षित रखने की।कार्यक्रम में श्योपुर, ग्वालियर और दिमनी से विभिन्न नदियों के कलश लाकर नर्मदा यात्रा कलश के साथ स्थापित किये गये।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 March 2017

शिवराज सिंह चौहान

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नर्मदा नदी को स्वच्छ एवं अविरल बनाने के संकल्प के साथ नर्मदा सेवा यात्रा प्रारंभ की गई है। सभी नागरिक नदी संरक्षण के इस महा-अभियान में भागीदार बनें। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज सीहोर जिले के ग्राम नेहलाई में 'नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा के जन-संवाद को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने ग्रामीणों को नर्मदा तट पर फलदार वृक्ष लगाने, बेटी बचाओ अभियान को सफल बनाने, बच्चों को स्कूल में पढ़ाने, नदी में पूजा की पुरानी सामग्री न डालने, दुर्गा एवं गणेश उत्सव के बाद मूर्तियों के विसर्जन, नर्मदा तट पर अंतिम संस्कार, नर्मदा नदी में पॉलिथिन एवं प्रदूषण बढ़ाने वाली अन्य सामग्री विसर्जित न करने तथा प्लास्टिक के दीपक से दीपदान न करने का संकल्प दिलवाया। मुख्यमंत्री ने प्रदेश सरकार की उपलब्धियों पर केन्द्रित कविता पाठ करने वाली दो छात्रा कुमारी सोनम यादव एवं कु. रूचि गौड़ को 5-5 हजार रूपये का पुरस्कार देने की घोषणा की। श्री चौहान ने नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान आयोजित भजन प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत किया। उन्होंने ग्रामीणों को वृक्षारोपण, गाँव में स्वच्छता, जल-संरक्षण एवं नशा मुक्ति संबंधी संकल्प दिलवाया। श्री चौहान ने कहा कि हम सभी को नदियों एवं तालाबों के संरक्षण का संकल्प लेना चाहिए। मुख्यमंत्री ने बताया कि गत वर्ष डिण्डोरी जिले के भ्रमण के दौरान नर्मदा में अत्यन्त कम पानी देखकर उन्हें काफी कष्ट हुआ था तभी उन्होंने नर्मदा सेवा यात्रा आयोजित कर लोगों को नदी संरक्षण अभियान से जोड़ने का संकल्प लिया था, जो आज साकार हो रहा है। उन्होंने कहा कि नर्मदा नदी जीवनदायिनी है। जहाँ एक ओर माँ नर्मदा के जल से बिजली बन रही है, वहीं दूसरी ओर खेतों में हरियाली और किसानों के जीवन में खुशहाली आ रही है। उन्होंने कहा कि यात्रा किसी धर्म या पार्टी विशेष की नहीं है बल्कि अब व्यापक जन-आन्दोलन बन चुकी है। मुख्यमंत्री ने ग्राम नेहलाई में नर्मदा नदी के तट पर आम का पौधा लगाकर ग्रामीणों से अपील की कि वे भी अपने-अपने घरों के आस-पास पौधे लगाये और उन्हें सुरक्षित रखें। उन्होंने बताया कि नर्मदा नदी के दोनों तट पर एक-एक किलोमीटर चौड़ाई में केवल वृक्षारोपण ही किया जायेगा ताकि नदी में पानी की अविरल धारा बनी रहें। मुस्लिम धर्मावलम्बियों ने भी किया यात्रा का स्वागत ग्राम नेहलाई में श्री अब्दुल खान के नेतृत्व में दर्जनों की संख्या में आस-पास के गाँव से आये मुस्लिम धर्मावलम्बियों ने यात्रा का पुष्प-वर्षा कर स्वागत किया। नारियलों से मुख्यमंत्री का स्वागत गाँव की बुजुर्ग श्रीमती जमुना बाई ने श्री शिवराज सिंह चौहान एवं उनकी धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान का पाँच नारियल भेंट कर स्वागत किया। मुख्यमंत्री ने भाव-विभोर होकर बताया कि जब मैं पहली बार इस क्षेत्र से चुनाव लड़ रहा था तब श्रीमती जमुना बाई ने गाँव की महिलाओं से 2-2 रूपये एकत्रित कर आशीर्वाद के साथ मुझे भेंट किये थे और कहा था कि विधायक बनकर इस क्षेत्र की महिलाओं की समस्याओं को दूर करना। गाँव को नशामुक्त करने का संकल्प ग्राम नेहलाई में पास के गाँव जाजना से आई एक दर्जन से अधिक महिलाओं ने मुख्यमंत्री के समक्ष संकल्प लिया कि वे अपने गाँव के पुरूषों का नशा छुड़वाकर गाँव को नशा-मुक्त बनायेंगी। इन महिलाओं ने कहा कि चाहे उन्हें इसके लिये कितना ही संघर्ष क्यों न करना पड़े, वे संघर्ष करेंगी। वन विकास निगम के अध्यक्ष श्री गुरू प्रसाद शर्मा, खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव कुमार चौबे, मध्यप्रदेश किसान आयोग के अध्यक्ष श्री ईश्वर लाल पाटीदार, जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डेय, साध्वी सुश्री प्रज्ञा भारती एवं इंदौर जिला पंचायत की अध्यक्ष सुश्री कविता पाटीदार सहित विभिन्न धर्मगुरु और जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  23 March 2017

नर्मदा तट पर पौधे

सीहोर के बाबरी ग्राम में मुख्यमंत्री  चौहान की घोषणा   नर्मदा सेवा यात्रा पर्यावरण संरक्षण के साथ-साथ जन-जागरण का एक बहुत बड़ा अभियान बन चुकी है। नर्मदा में अविरल जलधारा हमेशा बनी रहे इस उद्देश्य से नर्मदा के दोनों तट पर बड़े पैमाने पर पौधरोपण किया जायेगा। आगामी 2 जुलाई को अमरकंटक से बड़वानी तक एक साथ नर्मदा तट पर लाखों पौधे रोपे जायेंगे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आज सीहोर जिले के नसरूल्लागंज विकासखंड के ग्राम बाबरी में नर्मदा सेवा यात्रा पर जनसंवाद को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्व मंत्री श्री कैलाश विजयवर्गीय, साध्वी सुश्री प्रज्ञा भारती, मध्यप्रदेश खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे, मध्यप्रदेश वन विकास निगम के अध्यक्ष श्री गुरूप्रसाद शर्मा, मध्यप्रदेश वेयर हाउस कार्पोरेशन के अध्यक्ष श्री आर.एस. राजपूत, मध्यप्रदेश जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डेय के अलावा निर्वाणी बाबा लक्ष्मण दास महाराज, प्रसिद्ध भजन गायक चरण सिंह सोढी सहित जन-प्रतिनिधि और संतजन मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा तट पर स्थित शहरों का गंदा पानी अब नर्मदा नदी में नहीं मिलने दिया जायेगा। इसके लिये सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट शहरों में स्थापित कर मलजल को शुद्ध किया जायेगा। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का शिलान्यास 11 मई को करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार नरवाई को जलाने पर रोक लगाने के लिए सब्सिडी पर ऐसे रोटा वेटर किसानों को उपलब्ध करवायेगी जिसमें गेहूँ के साथ-साथ भूसा भी सुरक्षित रहता है। उन्होंने कहा कि ऐसा करने से गौमाता के लिये भूसा पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो सकेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम के दौरान शाजापुर जिले के ग्राम पोलाम कला की भजन गायिका बालिका दुर्गा के भजन से प्रभावित होकर एक लाख रूपये का चेक प्रदान किया। पूर्व मंत्री एवं भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव श्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कहा कि पिछले एक दशक में श्री शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री के रूप में अनेकों सराहनीय कार्य किये पर अब तक सबसे अधिक सराहनीय व प्रशंसनीय कार्य 'नर्मदा सेवा यात्रा' ही है। उन्होंने कहा कि यात्रा में वह आगामी 17 मई को पुन: सपत्निक शामिल होंगे। श्री विजयवर्गीय ने कहा कि माँ नर्मदा ने हमें सब कुछ दिया है। अब हमें नर्मदा सेवा यात्रा के माध्यम से नर्मदा नदी को प्रदूषण मुक्त बनाने का अवसर मातृ ऋण चुकाने के रूप में मिला है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 March 2017

नमामि देवि नर्मदे

मुख्यमंत्री चौहान नसरूल्लागंज के ग्राम मंडी में   मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नर्मदा नदी के दोनों तटों के ग्रामों को खुले में शौचमुक्त किया जायेगा। उन्होंने कहा कि नर्मदा नदी एक पवित्र नदी है, जो प्रदेश को पेयजल सिंचाई और बिजली देती है। श्री चौहान ने यह बात आज सीहोर के नसरूल्लागंज के ग्राम मंडी में कही। श्री चौहान 'नमामि देवि नर्मदे'-सेवा यात्रा के जनसंवाद कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर पंडित कमल किशोर नागर सहित अन्य प्रबुद्धजन और धर्मगुरू मौजूद थे। श्रीमती अनुराधा पौडवाल ने कार्यक्रम में भक्तिमय भजनों की प्रस्तुति दी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा से समाज को जागृत कर नर्मदा के दोनों किनारों पर पौधरोपण के साथ ही प्रदूषण से बचाने के लिए लोगों को पूजन सामग्री डालने से रोकने के लिए जागरूक किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पानी के बिना दुनिया नहीं चल सकती। नर्मदा नदी का पूरे प्रदेश पर उपकार है। नर्मदा की कृपा से हमारा प्रदेश देश में कृषि उत्पादन दर में सबसे ऊपर है। यह कर्ज उतारने के लिये नर्मदा सेवा यात्रा शुरू की गई है। श्री चौहान ने कहा कि घर-घर नर्मदा का जल पहुँच रहा है। इससे कई जगह जल संकट समाप्त होगा। श्री चौहान ने कहा कि हमने नर्मदा के दोनों किनारों के पेड़ काट दिए जिससे नर्मदा की धारा कमजोर पड़ने लगी। इसका प्रायश्चित कर नर्मदा नदी के दोनों किनारों पर एक हजार किलोमीटर की सीमा में पेड़ लगाकर करेंगे। इसके लिए सभी सामाजिक संगठनों के लोगों से रजिस्ट्रेशन कराएंगे और उनसे नर्मदा नदी के किनारे पेड़ लगवाएंगे। श्री चौहान ने कहा कि वे स्वयं गृह ग्राम जैत में खेतों में फलदार पेड लगायेंगे। इसके बाद मुख्यमंत्री ने लोगों को नशा मुक्ति का संकल्प दिलवाया और कहा कि एक अप्रैल से नर्मदा किनारे की सभी शराब की दुकान बंद होंगी। गाँव-गाँव में नशा मुक्ति अभियान चलाया जायेगा। उन्होंने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा जनता का आंदोलन बन गई है। समाज का हर तबका और साधु संत इसमें अपनी सहभागिता भी निभा रहे हैं। पंडित कमल किशोर नागर एवं अन्य प्रबुद्धजनों एवं धर्मगुरूओं ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में छात्राओं ने आदिवासी नृत्य की प्रस्तुति भी दी। कार्यक्रम में श्रीमती साधना सिंह और लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी एवं जनसमूह उपस्थित था। विश्व का सबसे बड़ा और मध्यप्रदेश का अनूठा नदी संरक्षण अभियान नमामि देवि नर्मदे के जय घोषों के साथ जब नर्मदा सेवा यात्रा ने नसरूल्लागंज के ग्राम छीपानेर से प्रातः प्रस्थान कर ग्राम चौरसाखेडी, सातदेव, टिगाली, सीलकंठ होती हुई। ग्राम मंडी पहुंची तो नर्मदा यात्रा के स्वागत के लिए जन सैलाब उमड़ पड़ा। यात्रा में धर्म गुरूओं के अलावा समीपस्थ ग्रामों से अनेक उपयात्राएं भी शामिल हुई जिसमें भारी मात्रा में श्रद्धालुओं ने सहभागिता निभाई। यात्रा का दृश्य अत्यन्त मनोरम था लोग नाचते गाते चल रहे थे। श्रद्धालुओं ने सारे नर्मदा तट को भक्तिमय बना दिया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 March 2017

फसल बीमा योजना

नमामि देवि नर्मदे कार्यक्रम से आमजन के जुड़ने का आव्हान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज बुधनी तहसील के ग्राम नारायणपुर में लोक कल्याण शिविर में आम जनता का आव्हान किया कि 11 दिसम्बर से शुरू हो रही 'नमामि देवि-नर्मदे'' सेवा यात्रा में पूरे उत्साह से भाग लें और अन्य लोगों को भी इसमें भाग लेने के लिये प्रेरित करें। मुख्यमंत्री  चौहान ने नारायणपुर में 16 करोड़ रूपये से अधिक लागत के विभिन्न कार्यों का शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि 'नमामि देवि नर्मदे'' सेवा यात्रा एक पवित्र एवं महत्वाकांक्षी यात्रा है। यह जन-जन का कार्यक्रम है। इस यात्रा में सभी धर्मगुरूओं, संतों, समाज-सेवियों, जन-प्रतिनिधियों, सांस्कृतिक संस्थाओं के लोगों को जोड़ा जा रहा है। उन्होंने नर्मदा नदी के संरक्षण के लिए प्रारंभ की जा रही नर्मदा सेवा यात्रा को दुनिया में सबसे बड़ा एवं नदी संरक्षण का अनूठा आन्दोलन बनाने का आव्हान किया। श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा के दोनों ओर सरकारी एवं निजी भूमि पर बड़े पैमाने पर फलदार पौधे लगाए जायेंगे। निजी भूमि पर वृक्षारोपण के लिए तीन वर्ष तक राज्य सरकार निर्धारित दर पर मुआवजा देगी। इसके साथ ही नर्मदा के किनारे खेती में जैविक खाद का उपयोग किया जाएगा। उन्होंने कहा कि नर्मदा के किनारे सभी गाँवो में शौचालय बनाए जायेंगे तथा नर्मदा में मिलने वाले सीवेज को ट्रीटमेंट के बाद छोड़ा जाएगा। सभी घाटों पर महिलाओं के लिए चेंजिंग रूम बनाने के साथ ही डस्टबिन भी रखी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि फसल बीमा योजना में सीहोर जिले के करीब 1 लाख 45 हजार किसानों को 400 करोड़ रूपये की राशि स्वीकृत की गई है। यह राशि किसानों के बैक खातों में जमा करवाई जा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार प्रदेश के बहुमुखी विकास के लिए कृत-संकल्पित है। महिलाओं के आर्थिक-सामाजिक विकास के लिए स्व-सहायता समूह बनाए जाने पर जोर देते हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इन समूहों को बैंक लिंकेज उपलब्ध करवाया जायेगा। उन्होंने नारायणपुर गाँव के सभी घरों को खरंजा से जोड़ने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री ने 47 आवासहीन परिवारों को घर बनाकर दिये जाने को कहा। लोक निर्माण मंत्री और सीहोर जिले के प्रभारी मंत्री  रामपाल सिंह ने कहा कि प्रदेश में हर क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रगति हुई है। कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती संध्या मरेठा, मार्कफेड अध्यक्ष श्री रमाकांत भार्गव, अध्यक्ष वन विकास निगम श्री गुरूप्रसाद शर्मा और बड़ी संख्या में ग्रामीण जन उपस्थित थे।नारायणपुर में लोक कल्याण शिविर में भाग लेने के बाद मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्राम बेसाखेड़ी, जनवासा, तिलोद आदि गाँव में ग्रामीणों से सम्पर्क किया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 November 2016

कार और ट्रक की टक्कर में तीन की मौत

भोपाल-इंदौर हाइवे पर गुरुवार सुबह कार और ट्रक की टक्कर में कार सवार तीन लोगों की मौत हो गई और दो घायल हो गए। घायलों को आष्टा के सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दुर्घटना में कार के परखच्चे उड़ गए। मृतकों में पति-पत्नी और उनके बहू शामिल है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार सुबह आठ बजे हाइवे पर पगरिया घाटी मॉर्डन डेरी के पास रायपुर से इंदौर जा रही कार सीजी 04 केएस 7290 खड़े ट्रक एमपी 09 एडी 2004 से टकरा गई। टक्कर इतनी तेज थी कि कार के परखच्चे उड़ए गए। मृतकों के नाम छाया कानूनगो, प्रकाश कानूनगो और सुरभि कानूनगो निवासी रायपुर है। घायलों के नाम डॉक्टर अभिषेक और अक्षत कानूनगो निवासी सतना है। मृतकों के शव को पीएम के लिए सीहोर भेजा गया है। जानकारी के अनुसार घायल डॉ अभिषेक कानूनगो इंदौर के साईं जानकी अस्पताल में कार्यरत हैं। हादसे में मृत सुरभि सतना के ख्यात व्यवसायी बृजेश खंडेलवाल की बेटी है। हादसे में सुरभि के पति और बेटे गंभीर रूप से घायल हैं। जबकि प्रकाश कानूनगो और छाया कानूनगो अभिषेक के माता-पिता है जो रायपुर के अशोक रत्न ब्लॉक 20 के फ्लेट नंबर 104 में रहते थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  24 November 2016

barish madhyprdesh

  बन रहा है एक और डीप डिप्रेशन प्वाइंट और बरसेंगे बादल      मध्य प्रदेश के मैहर में बारिश के बाद एक बिल्डिंग भरभरा के गिर गई। पिछले 24 घंटे में भारी बारिश के कारण 15 लोगों की मौत हो गई हैं।  इसमें सागर जिले में 7 , कटनी में 2 ,  छतरपुर में 3 और  सांची में तीन लोगों की मृत्यु हुई है । मुख्यमंत्री ने मृतक के परिजनों को 4-4  लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है ।    मैहर में हाउसिंग बोर्ड की बिल्डिंग गिरने के पीछे गंभीर लापरवाही सामने आई है। बताया जा रहा है कि जमीन धंसने के कारण छोटे हुए पिलर को हाउसिंग बोर्ड ने उसी के उपर चुनाई करा कर बढ़वा दिया था। बताया जा रहा है यह निर्माण इंजीनियर यशवंत दोहरे और उपयंत्री द्विवेदी के संरक्षण में हुआ था। इसमें ठेकेदारों और इंजीनियरों की मिलीभगत भी सामने आ रही है। बिल्डिंग का निर्माण 2 साल पहले हुआ था।   सागर के राहतगढ़ में एक मकान के गिरने से सात के मरने तथा तीन लोगों के घायल होने की खबर है। राहतगढ़ में यह घटना रात दो बजे बताई जा रही है। बारिश के चलते सागर का जबलपुर छतरपुर आदि शहरों से सम्पर्क कट गया है। बुंदेलखंड के छतरपुर, दमोह, पन्ना और कटनी में जोरदार बारिश से जनजीवन प्रभावित है। दमोह जिले के मड़ियादो-हटा,पटेरा,रनेह,छतरपुर और पन्ना जिले से संपर्क टूट गया।   बाढ़ के हालातों का जायजा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ले रहे  हैं।मुख्यमंत्री ने बारिश से  मारे गए लोगों के परिजनों के लिए 4-4 लाख रुपए मुआवजे का भी ऐलान किया है। इससे पहले मुख्यमंत्री ने  अपने निवास पर  आपदा प्रबंध से जुड़े आला अफसरों की बैठक बुलाई। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये हैं कि प्रभावित क्षेत्रों के बांधों से पानी एक साथ नहीं छोड़ा जाये।  पानी उतरने के बाद नुकसान सर्वे का काम तुरंत शुरू किया जाये।   मध्य प्रदेश के कई इलाकों में आने वाले कुछ दिन मौसम के लिहाज से बेहद खतरनाक साबित होने वाले हैं। मौसम विभाग का कहना है कि 17 अगस्त को बंगाल की खाड़ी पर बना डीप डिप्रेशन अब मध्य भारत की ओर  है। 20 अगस्त को मध्य प्रदेश इस डीप डिप्रेशन की चपेट में रहेगा। मौसम विभाग का कहना है कि इन दो दिनों में मध्य प्रदेश में तूफानी बारिश होने की आशंका है। इतना ही नहीं, 22 अगस्त से एक और डीप डिप्रेशन प्वाइंट बंगाल की खाड़ी में एक्टिव हो जाएगा, जिसके बाद मध्य प्रदेश एक बार फिर से भारी बारिश की चपेट में होगा।    मौसम विभाग का कहना है कि इस दौरान बारिश का तीव्रतम प्रकोप देखने को मिल सकता है। मॉनसूनी हवाओं के कारण प्रदेश के पूर्वी इलाकों में 50 किमी प्रतिघंटे तक की तेज हवाएं चल सकती हैं। इसके साथ ही मूसलाधार बारिश तूफान का रूप अख्तियार कर सकती है। मौसम विभाग के मुताबिक पूरा प्रदेश इसकी चपेट में आने की संभावना है। लेकिन शुरूआती तौर पर इसका असर पूर्वी मध्य प्रदेश में देखने को मिलेगा, जहां पहले ही बारिश बीते एक हफ्ते से अपना कहर बरपा रही है। इस स्थिति में इन इलाकों में हालात और बिगड़ने की आशंका है।    प्रदेश में रेड अलर्ट जारी : सतना और रीवा सम्भागों में मूसलाधार बारिश के बाद अब डीप डिप्रेशन प्वाइंट के आगामी असर को देखते हुए प्रदेश में रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है। 19 अगस्त से शुरू होने वाले इस रेड अलर्ट को आने वाले दिनों तक जारी रखने का फैसला किया गया है। आंकड़े बताते हैं कि आने वाला एक हफ्ता प्रदेश के लिए मूसलाधार बारिश वाला साबित हो सकता है, लिहाजा प्रदेश में रेड अलर्ट घोषित कर दिया गया है। रेड अलर्ट जारी करने का मतलब है कि प्रदेश में कई इलाकों में भारी से अति भारी बारिश हो सकती है। इस बारिश का दायरा काफी बड़ा होगा, जो जनजीवन को बुरी तरह प्रभावित करेगा।    सतना-रीवा में हालात बदतरमध्य प्रदेश के पूर्वी इलाकों में भारी बारिश के कारण बने हालातों का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि रीवा शहर को बाढ़ के खतरे के कारण खाली कराया जा रहा है। कई इलाकों में पानी भरने के बाद लोग पहले ही पलायन कर चुके हैं। बाकी लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। रीवा, सतना और पन्ना में बीते हफ्ते भर से मूसलाधार बारिश जारी है। ज्यादातर सम्पर्क मार्ग कट चुके हैं, दर्जनों घर धराशायी हो चुके हैं और लाखों लोग जलभराव के बाद बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। मौसम विभाग के चेतावनी के बाद रीवा और सतना जिलों में हालात और खराब होने की आशंका जताई जा रही है।   कटनी में भी जनजीवन प्रभावितमूसलाधार बारिश की चपेट में आने के बाद कटनी में भी हालात खतरनाक हो गए हैं। इलाके की कई नदियों के जलस्तर में तेजी से बढ़ोत्तरी हो रही है। तेज बारिश के कारण कई जगहों से घरों के गिरने की खबर है, तो वहीं घरों में पानी घुसने के बाद लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ रहा है। कटनी में हालात बिगड़ने के बाद प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है। वहीं बारिश से प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। बंगाल की खाड़ी में बना है डीप डिप्रेशन प्वाइंटमौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक बंगाल की खाड़ी से उठा डीप डिप्रेशन इस वक्त झारखंड के ऊपर बना हुआ है। जिसके कारण मॉनसूनी हवाओं का बहाव छत्तीसगढ़ से लेकर पूरे मध्य प्रदेश में बना हुआ है। प्रदेश में कई जगह मूसलाधार बारिश हो रही है। सतना और रीवा जिले पहले ही बाढ़ की मार झेल रहे हैं। अनुमान है कि एक से दो दिन इन इलाकों के अलावा प्रदेश के कई इलाकों में भारी बारिश हो सकती है। पूर्व से पश्चिम तक एक साथ भीगेगा प्रदेशमौसम विभाग का अनुमान है कि मध्य प्रदेश के पूर्वी इलाकों में बारिश की स्थिति बद से बदतर हो सकती है। माना जा रहा है कि मध्य प्रदेश के पूर्वी हिस्से में मूसलाधार बारिश हो सकती है। हालांकि सतना और रीवा सम्भाग पहले ही बाढ़ की मार झेल रहा है। इन इलाकों में जनजीवन बुरी तरह प्रभावित है। यदि मौसम विभाग का अनुमान सही बैठता है तो सतना रीवा में स्थिति और गंभीर हो सकती है।  पूर्वी इलाकों में मॉनसून की अति सक्रियता के बाद इसके पश्चिमी क्षेत्र की ओर बढ़ने का अनुमान भी लगाया जा रहा है। माना जा रहा है 20 अगस्त को भारी से अति भारी बारिश का ये दौर मध्य प्रदेश के पश्चिमी क्षेत्र की ओर बढ़ जाएगा। 72 घंटे तक रहेगा प्रभावमौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक कम दबाव के इस क्षेत्र का प्रभाव प्रदेश में 72 घंटे तक रहने का अनुमान है। मध्य प्रदेश के साथ साथ बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश में भी भारी बारिश का सिलसिला अगले दो से तीन दिनों तक जारी रहेगा।    बन रहा है एक और डीप डिप्रेशन प्वाइंट : मध्य प्रदेश के लिए सिर्फ दो दिन ही भयंकर नहीं हैं। मौसम विभाग का कहना है कि 20 अगस्त को जब मॉनसून प्रदेश में अपनी अतिसक्रियता दिखा रहा होगा, उसी वक्त बंगाल की खाड़ी में एक और डीप डिप्रेशन प्वाइंट बनेगा। जिसकी सक्रियता 22 अगस्त से प्रदेश में नजर आएगी। यानि आने वाला पूरा एक सप्ताह मध्य प्रदेश में भारी बारिश वाला साबित होगा। बंगाल की खाड़ी से मिले मौसम के आंकड़ों के मुताबिक कम दबाव के दूसरा क्षेत्र  एक्टिव हो गया है । जिसके बाद 22 और 23 अगस्त को उड़ीसा, पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड होते हुए मध्य प्रदेश में मूसलादार बारिश करवाएगा। 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  20 August 2016

ujjwala yojna

  सीहोर  में प्रधानमंत्री उज्जवला योजना        सीहोर जिले के नसरुल्लागंज में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री उज्जवला योजना का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि जिले में एक लाख पाँच हजार पात्र महिलाओं को इस योजना में नि:शुल्क गैस कनेक्शन प्रदाय किये जायेंगे। यह योजना महिलाओं के स्वास्थ्य संवर्धन तथा पर्यावरण और वन-संरक्षण में महती भूमिका निभायेगी। उन्होंने कहा कि ये कनेक्शन पूर्णत: नि:शुल्क हैं। यदि कोई गड़बड़ करेगा तो कठोर कार्यवाही की जायेगी। सीधे सी.एम. हाउस शिकायत करें। उन्होंने प्रतीक स्वरूप कनेक्शन भी वितरित किये।   मुख्यमंत्री ने कहा कि अब आर्थिक विपन्नता उच्च शिक्षा में बाधक नहीं होगी। उन्होंने कहा कि 15 अगस्त से एक योजना प्रारंभ कर रहा हूँ, जिसमें सभी वर्ग के पात्र बच्चों की उच्च-तकनीकी एवं व्यावसायिक शिक्षा का खर्च शासन वहन करेगा। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही बुदनी विधानसभा के प्रत्येक गाँव और घर में नल-जल योजना के माध्यम से नर्मदा जल उपलब्ध करवाया जायेगा। श्री चौहान ने कहा कि पात्र लोगों को आवास पट्टा वितरण जारी है। वर्ष 2022 तक प्रदेश में कोई भी आवासहीन नहीं रहेगा। उन्होंने बताया कि फसल बीमा योजना का लगभग 4300 करोड़ रुपये शीघ्र ही कृषकों को दिया जायेगा। उन्होंने छात्राओं की माँग पर लाड़कुई महाविद्यालय की सीट 120 से बढ़ाकर 200 करने की घोषणा की। उन्होंने नीलकंठ मंडी, आँवलीघाट और छीपानेर में घाट निर्माण करवाने की बात कही। उन्होंने बताया कि नर्मदा संरक्षण के लिये 1500 करोड़ रुपये की कार्य-योजना बनायी गयी है। मुख्यमंत्री ने उपस्थित जन-समूह को स्वच्छता, शिक्षा, बेटी बचाने एवं पर्यावरण संवर्धन के लिये कम से कम एक पौधा लगाने की शपथ दिलवायी।   मुख्यमंत्री ने हाल ही में जनपद की खुले से पूर्णत: शौच मुक्त 22 पंचायत के सरपंचों का सम्मान भी किया। कार्यक्रम में 1025 हितग्राही को आवासीय पट्टे, 2000 को गैस कनेक्शन प्रदान किये गये। कार्यक्रम को वन विकास निगम के अध्यक्ष श्री गुरु प्रसाद शर्मा ने भी संबोधित किया।   कार्यक्रम में प्रदेश के लोक निर्माण एवं विधि-विधायी कार्य और जिला प्रभारी मंत्री ठाकुर रामपाल सिंह, मार्कफेड अध्यक्ष  रमाकांत भार्गव, वेयर-हाउसिंग कार्पोरेशन के अध्यक्ष  राजेन्द्र सिंह राजपूत, लघु वनोपज संघ उपाध्यक्ष  रामनारायण साहू और जिला पंचायत अध्यक्ष  उर्मिला मरेठा सहित अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  23 July 2016

वल्र्डकप की सबसे छोटी ट्राफी

अमित कुईयासीहोर। आने वाले 18 सितम्बर को श्रीलंका में शुरु होने जा रहे वल्र्डकप 20-20 मैचों का रोमांच क्रिकेट प्रेमियों में दिखना अभी से शुरु हो गया है तो वहीं दूसरी ओर सीहोर के एक क्रिकेट प् रेमी ने इस वल्र्डकप ट्राफी की हुबहू चांदी की धातू में एक सबसे छोटी प्रतिकृति तैयार की है जो सबको चौका रही है। साथ ही यह भी माना जा रहा है कि यह ट्राफी शायद दुनिया की सबसे छोटी ट्राफी में भी शुमार हो। यह कारनामा किया है सीहोर के एक तीस वर्षीय सरार्फा व्यवसायी नितिन सोनी ने। सरार्फा व्यवसायी नितिन सोनी के अनुसार उन्होंने गुगल सर्च पर जाकर वल्र्डकप 20-20 की ओरिजनल ट्राफी आज से दो माह पूर्व देखी थी। जिसके बाद उनके दिल में तमन्ना जागी कि वह इस ट्राफी की हुबहू नकल तैयार करें। यह जज्बा मन में लिए श्री सोनी ने मात्र दो दिन में वल्र्डकप 20-20 की 2 सेमी लंबाई में एक छोटी प्रतिकृति तैयार कर सबको चौका दिया है। दो दिन में तैयारश्री सोनी इस वल्र्डकप ट्राफी को दुनिया की सबसे छोटी ट्राफी होने का दावा करते हैं उनके अनुसार 20-20 की यह ट्राफी उन्होंने महज दो दिन में तैयार की है। इस ट्राफी का कुल वजन 2 ग्राम 220 मिली ग्राम है और इसकी कुल लंबाई महज दो सेमी है। पहले भी किया कारनामाश्री सोनी इससे पहले वल्र्डकप क्रिकेट की हुबहू प्रतिकृति तैयार कर चुके हैं और उस वक्त भी उन्होंने इस ट्राफी को सबसे छोटा होने का दावा किया था, जो कोई खारिज नहीं कर सका। हालांकि यह दुखद पहलू है कि छोटे शहर से हुआ यह बड़ा काम राष्ट्रीय स्तर पर पहचान नहीं बना सका। मैन ऑफ द मैच को मिले मेरी ट्राफीसरार्फा व्यवसायी एवं प्रतिभाशाली सरार्फे की कारीगिरी में निपुर्ण नितिन सोनी बताते हैं कि उनका यह सपना है कि उनके द्वारा बनाई गई यह प्रतिकृति ट्राफी श्रीलंका में आगामी दिनों में आयोजित होने वाले वल्र्डकप 20-20 मैच के दौरान मैन ऑफ द मैच खिलाड़ी को यह ट्राफी दी जा सकें। जिसके लिए वह मप्र क्रिकेट एसोसिएशन के पदाधिकारियों से बात भी करेंगे। अमित का ये लेख उनके फेसबुक से साभार

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

cm  बोले भांजियों की शादी है बारात का स्वागत मैं स्वयं करूँगा

सीहोर जिले के नसरुल्लागंज के ग्राम पिपलानी में 114 गोंड आदिवासी जोड़ों का विवाह मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में हुआ। इनमें एक जोड़ा दिव्यांग तथा दो दिव्यांग दूल्हे शामिल हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नव-युगल को सुखी वैवाहिक जीवन की शुभकामनाएँ देते हुए आशीर्वाद दिया। चौहान ने आयोजन समिति को विनम्रता से स्वयं के स्वागत के लिये यह कहते हुए इंकार कर दिया कि उनकी भांजियों की शादी है, स्वागत तो वे करेंगे बारातियों का। मुख्यमंत्री चौहान ने नसरुल्लागंज जनपद पंचायत अध्यक्ष दुलारीबाई धुर्वे के पुत्र की शादी भी इस योजना में होने को अनुकरणीय बताया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 2 लाख 16 हजार वन भूमि के पट्टे वितरित किये गये हैं। आवास के पट्टे दिये जाने का काम भी किया जा रहा है। वर्ष 2022 तक प्रदेश में कोई भी आवासहीन नहीं रहेगा। उन्होंने कहा कि संपूर्ण गोंडवाना का विकास किया जा रहा है।खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री कुँवर विजय शाह ने नवयुगल को आशीर्वाद देते हुए कहा कि प्रदेश में गोंड समाज के इतिहास को प्रकट करने तथा संरक्षण-संवर्धन में मुख्यमंत्री चौहान के विशेष प्रयास रहे हैं। मंत्री शाह ने सभी नव-दम्पतियों को दीवार घड़ी उपहार में दी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ग्राम बावडिय़ाखेड़ा में यज्ञ में शामिल हुए। ग्राम रफीकगंज (लोदड़ी) में कृषि उपज मण्डी नसरुल्लागंज की अध्यक्ष लीलाबाई-रामजी यादव के पुत्र के विवाह में नवयुगल को आशीर्वाद दिया। उन्होंने ग्रामवासियों को बताया कि सनरोहा और मोगरा में डेम निर्माण के लिये सर्वे का काम चल रहा है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

फसल बीमा योजना में और सुधार के प्रयास

पिछले साल किसानों को दी थी 12 हजार करोड़ से अधिक की सहायता मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि किसानों के हक में फसल बीमा योजना में और सुधार के लिये लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। इसके लिये केन्द्र सरकार से भी बातचीत चल रही है। श्री चौहान सीहोर जिले के नसरूल्लागंज में फसल बीमा योजना में बीमा राशि के प्रमाण-पत्र वितरण की शुरूआत कर रहे थे। उन्होंने करीब 50 किसान को प्रतीक स्वरूप प्रमाण-पत्र वितरित किये। सीहोर जिले में 296 करोड़ 50 लाख के प्रमाण-पत्र किसानों को दिये जायेंगे। इतिहास में पहली बार प्रदेश में 34 जिले में 14 लाख 20 हजार 602 किसान को 2,167 करोड़ 43 लाख की दावा राशि के प्रमाण-पत्र दिये जायेंगे।उल्लेखनीय है कि देश में पहली बार मध्यप्रदेश ने वर्ष 2013-14 में किसानों को राज्य के संसाधनों से ओला-पाला राहत, समर्थन मूल्य पर बोनस और विभिन्न किस्म की सब्सिडी के रूप में डेढ करोड़ से अधिक किसान को 12 हजार 345 करोड़ की राशि वितरित की थी। यह राशि अधिकांश किसानों के बेंक खाते में सीधे जमा हुई।उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय कृषि बीमा में प्रदेश के 14 लाख 21 हजार किसान का 2,187 करोड़ का दावा स्वीकृत किया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा खरीफ किसानों को बीमा दावों का भुगतान करवाने के लिये निरंतर प्रयासों के फलस्वरूप प्रदेश के इतिहास में योजना प्रारंभ से लेकर अब तक किसानों को सबसे बड़ी बीमा राशि का भुगतान मिला है। योजना आरंभ वर्ष 1999 से लेकर वर्ष 2013 तक बीमा योजना में मात्र 2000 करोड़ रूपये के फसल बीमा दावों का भुगतान हुआ था। इसकी तुलना में खरीफ 2013 के तहत 2,187 करोड़ रुपये की राशि का भुगतान किया जा रहा है।प्रदेश में कृषि उपकरणों पर वेट कर समाप्तश्री चौहान ने किसानों से फूलों एवं फलों का उत्पादन बढ़ाने और खेती की नई तकनीकें अपनाने का आव्हान किया। उन्होंने कहा कि खेती में उपयोग किये जाने वाले उपकरणों पर वेट समाप्त कर दिया गया है, आगे और भी कदम उठाये जायेंगे। उन्होंने कहा कि खेती की व्यवस्था में आमूलचूल बदलाव लाकर उसे अधिक से अधिक लाभकारी बनाया जा रहा है। उन्होंने किसानों को इस कार्य में सक्रिय योगदान करने की शपथ भी दिलायी।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

Video

Page Views

  • Last day : 2842
  • Last 7 days : 18353
  • Last 30 days : 71082
Advertisement
Advertisement
Advertisement
All Rights Reserved ©2017 MadhyaBharat News.