Since: 23-09-2009

Latest News :
दिल्ली में हेलिकॉप्टर से पानी के छिड़काव की तैयारी.   अचार, मुरब्बा बनाने की तकनीक दुनिया को करती है उत्साहितः मोदी.   गुजरात में चुनाव दिसम्बर में होने के संकेत.   मीडिया की गति और नियति.   PM मोदी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की मौजूदगी में रावण दहन .   राज ठाकरे की चुनौती, पहले सुधारो मुुंबई लोकल फिर बुलेट ट्रेन की बात.   कबीर की शिक्षा समाज के लिये संजीवनी : कबीर महोत्सव में राष्ट्रपति श्री कोविंद.   चित्रकूट में एक हजार से अधिक लायसेंसी हथियार जमा.   भावांतर भुगतान योजना में एक लाख 12 हजार से अधिक किसानों द्वारा 32 लाख क्विंटल उपज का विक्रय .   उद्योग संवर्द्धन नीति-2014 में संशोधन की मंजूरी.   मुख्यमंत्री शिवराज के निवास पर दशहरा पूजा.   मानव जीवन के लिए नदी बचाना जरूरी : चौहान.   मूणत CD कांड - फॉरेंसिंक रिपोर्ट आते ही शुरू होगी CBI जांच.   मूणत की CD का सच सीबीआई को सौंपने दिल्ली पहुंची एसआईटी.   पुलिस लाइन रायगढ़ के प्रशासनिक भवन में आग.   बीमार पत्नी से झगड़ा पति, हत्या कर फांसी पर झूला.   बस्तर दशहरा के लिए माई जी को न्यौता.   बस्तर को अलग राज्य बनाने की मांग.  

दन्तेवाड़ा News


bastar dashahra

दंतेवाड़ा में बस्तर दशहरा में शामिल होने बस्तर के मांझी-चालकियों ने माईजी को न्यौता दिया। इसके बाद माईजी की डोली गर्भगृह से बाहर सभा कक्ष में लाया गया। नवनिर्मित डोली की पूजा इसी स्थल पर दो दिनों तक होगी। इसके बाद पुजारी और सेवादार डोली लेकर जगदलपुर रवाना होंगे। सोमवार को अन्य श्रद्धालुओं के साथ बस्तर राजपरिवार के सदस्यों ने भी माईजी के दर्शन करने पहुंचे थे। दिनभर श्रद्धालुओं की भीड़ मंदिर और परिसर में लगी रही। परंपरानुसार नवरात्र पंचमी पर सोमवार को मांझी-चालकियों का प्रतिनिधि मंडल दंतेश्वरी मंदिर पहुंचा। बेल पत्र, अक्षत, सुपारी और आमंत्रण पत्र माईजी के चरणों में रखा और बस्तर दशहरा में शामिल होने की गुहार लगाई। इस पूजा विधान के बाद नवनिर्मित डोली का शुद्धिकरण किया गया। बेलपत्र, अक्षत और कई तरह के पुष्प के ऊपर चंदन लेप से तैयार माईजी का प्रतीक स्थापित कर बाहर सभाकक्ष में लाया गया। परंपरानुसार डोली सभागृह में अष्टमी तक रहेगी। इसके बाद पुजारी और सेवादार डोली के साथ जगदलपुर रवाना होंगे। जहां शुक्रवार को मावली परघाव के बाद बस्तर दशहरा में शामिल होंगे। इधर पंचमी पर माईजी के दर्शन के लिए हजारों श्रद्धालुओं की भीड़ दिन भर लगा रहा है। अन्य श्रद्धालुओं के साथ बस्तर राज परिवार के सदस्य भी दोपहर में मंदिर पहुंचे। राजपरिवार गर्भगृह में पूजा-अनुष्ठान संपन्न् कराया। इस दौरान राज परिवार सदस्य तथा छग युवा आयोग के सदस्य कमलचंद भंजदेव, राजमाता कृष्णकुमारी, हरिहरचंद भंजदेव सहित अन्य सदस्य मौजूद थे। बरसों से चली आ रही परंपरानुसार माईजी को बस्तर राजपरिवार से न्यौता विनय पत्रिका आज भी संस्कृत लिपि में होती है। जिसे राजपरिरवार के निर्देशन में राजगुरू तैयार करते हैं। इसी विनय पत्रिका को लेकर मांझी-मुखिया माईजी को बस्तर दशहरा में शामिल होने का निमंत्रण देने आते हैं।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 September 2017

इंद्रावती नदी

दंतेवाड़ा में इंद्रावती नदी के पार गांव के लोगों को सहज स्वास्थ्य सुविधाएं आज भी सुलभ नहीं है। मरीजों को उपचार के लिए मीलों पैदल चलने के बाद नदी पार करना पड़ता है। गर्भवती और गंभीर मरीजों को इंद्रावती नदी पार करने के बाद ही एंबुलेंस मिलती है। नदी पार पहुंचाने तक परिजन डोले या कंधे में बिठाकर लाते हैं। बुधवार को भी ऐसा ही नजारा चेरपाल घाट के उस पार देखने को मिला। नदी घाट से करीब दस किमी दूर बीहड़ में बसे तुमरीगुंडा गांव की कलावती के पीठ में घाव के साथ तेज बुखार था। स्वास्थ्य कार्यकर्ता मीना प्रसाद की सलाह पर बुजुर्ग महिला को उसके बेटे और भांजे कुर्सी के डोला में बिठाकर लाए। नदी पार करने के बाद सरकारी एंबुलेंस से महिला को बारसूर पहुंचाया गया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  14 September 2017

dantewada news

    छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में सोमवार सुबह जमकर विवाद हुआ। एक सड़क हादसे में मासूम बच्चे की मौत हो गई। जिसके बाद आक्रोशित भीड़ के दबाव में प्रशासन को आनन-फानन में ही 6 डॉक्टर्स को निलंबित करना पड़ा। दरअसल मामला गीदम का है। जगा एक बस ने मासूम को अपनी चपेट में ले लिया। जिसके बाद उसे तुरंत शासकीय चिकित्सालय में इलाज के लिए ले जाया गया था। जहां डॉक्टर्स ने बच्चे को प्राथमिक उपचार देते हुए केस खतरे से बाहर बताया। हद तो तब हो गई जब डॉक्टर्स ने गंभीर रूप से घायल बच्चे को घर तक ले जाने की बात कही। अस्पताल से निकलते ही मासूम की मौत हो गई। जिसके बाद देखते ही देखते भीड़ आक्रोशित हो गई। आक्रोशित भीड़ ने चक्का जाम करते हुए डॉक्टर्स पर उपचार और ड्यूटी में लापरवाही का आरोप लगाया। जिसके बाद प्रशासन ने छह डॉक्टरों को निलम्बित कर दिया। आपको बता दें कि दुर्घटना के बाद से ही बस ड्राइवर फरार है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  31 July 2017

कांग्रेस नेता की हत्या

दंतेवाड़ा के किरंदुल थाना क्षेत्र के चोलनार गांव में नक्सलियों ने मुखबिरी के शक में एक कांग्रेस नेता की मंगलवार को हत्या कर दी। मिली जानकारी के मुताबिक कुआकोंडा ब्लॉक के पूर्व जनपद अध्यक्ष और कांग्रेस नेता छन्नूराम मंडावी की नक्सलियों ने धारदार हथियार से गला रेतकर हत्या कर दी। नक्सलियों ने जनअदालत लगाकर मंडावी पर पुलिस मुखबिरी करने का आरोप लगाया था। गौरतलब है कि इससे पहले भी नक्सली जनअदालत लगाकर मंडावी को सजा दे चुके हैं।घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस बल घटना स्थल पर रवाना हो चुका है और मामले की जांच शुरू कर दी है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  20 June 2017

adivasi cg

पिथौरा में विगत पांच साल से सामाजिक बहिष्कार की पीड़ा झेल रहे आदिवासियों ने अनुसूचित जनजाति आयोग में अपनी शिकायत दर्ज कराते हुए न्याय की गुहार लगाई है। साथ ही उन्होंने पुलिस थाना तुमगांव, पुलिस अधीक्षक महासमुंद में भी आवेदन देकर उचित कार्रवाई की मांग की है। मामला सिरपुर क्षेत्र के ग्राम सुकुलबाय एवं मरौद का है। यहां के आदिवासी समाज के बसंत पिता पलटन गोंड़ (सुकुलबाय), मंशाराम पिता बिसौहा गोंड़, मिलन पिता आनंद गोंड़ व लखेश्वर पिता हुमन गोंड़ (सभी ग्राम मरौद) ने आवेदन में बताया है कि बिना किसी ठोस कारण से करीब पांच वर्षों पूर्व समाज व गांव से बहिष्कृत कर दिए जाने एवं हुक्का-पानी बंद कर देने से परिवार का जीना दूभर हो गया है, जिसके चलते अब पीड़ित परिवारों से समाज का कोई भी व्यक्ति रोटी-बेटी का लेन-देन नहीं कर रहे हैं। फलस्वरूप परिवार की जवान बेटी-बेटों का विवाह नहीं हो रहा है। इतना ही नहीं परिवार के किसी शोक कार्यों में भी गांव व समाज की भागीदारी नहीं हो पा रही है। इस वजह से सभी पीड़ित मानसिक प्रताड़ना के साथ भयभीत हैं। इस मामले को सुलझाने की दिशा में सामाजिक संगठन भी कमजोर दिखाई दे रही है, जिसके कारण सभी पीड़ितों ने थक हार कर अब शासन-प्रशासन के पास अपनी फरयाद की है। पीड़ितों के मुताबिक आज से लगभग पांच वर्षों पूर्व सिरपुर क्षेत्र में स्थित आदिवासी समाज के प्रसिद्ध देव स्थल सिंघाध्रुवा से बोरिद निवासी एक व्यक्ति अचानक लापता हो गया। जिसका आज तक पता नहीं चल सका है। उक्त गुम इंसान के लापता होने का ठीकरा पीड़िता परिवारों पर फोड़ा गया और यहां के करीब आठ परिवारों को इसके लिए जिम्मेदार ठहराते हुए सामाजिक एवं ग्राम स्तर पर दंडित करते हुए सामाजिक बहिष्कार के अलावा हुक्का पानी बंद करने का फरमान सुनाया। तब से अब तक पीड़ित आठ परिवारों में से बोरिद के तुलसीराम ध्रुव एवं बिसाहू ध्रुव, पासिद के प्रदीप ध्रुव, चुहरी के बिसहत ध्रुव को बाद में समाज में शामिल कर लिया गया। लेकिन इन पीड़ित परिवारों को आज तक न तो समाज में शामिल किया गया और न ही ग्रामवासियों ने उन्हें ग्राम में जीने का हक दिया, जिसके चलते अब सभी पीड़ित परिवार बहिष्कार की जिंदगी जीने मजबूर है। बहरहाल, सामाजिक बहिष्कार की पीड़ा झेल रहे पीड़ित चारों व्यक्तियों ने पुलिस थाना तुमगांव, पुलिस अधीक्षक, कलेक्टर महासमुंद के अलावा राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग, छत्तीसगढ़ राज्य अनुसूचित जनजाति आयोग, राज्य मानवाधिकार आयोग को पत्र प्रेषित कर न्याय की फरियाद की है। विश्राम ध्रुव, अध्यक्ष ध्रुव गोंड़ समाज सिरपुर राज ने कहा मामला बहुत पुराना है। पूर्व के पदाधिकारियों द्वारा लिए गए इस निर्णय के बारे में मुझे जानकारी नहीं है। सामाजिक एकता स्थापित करने का प्रयास किया जा रहा है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  13 June 2017

 सीआरपीएफ

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के खिलाफ सीआरपीएफ के जवानों ने अब आखिरी लड़ाई का मोर्चा खोल दिया है। सीआरपीएफ के सेंट्रल जोन कमांड का मुख्यालय रायपुर में बनने के बाद ही सीआरपीएफ स्पेशल डीजी कुलदीप सिंह ने रायपुर में डेरा डाल दिया है। सीआरपीएफ अब बारिश से पहले तक नक्सलियों के खिलाफ अभियान चलाएगी। सीआरपीएफ के आला अधिकारियों की मानें तो सुकमा, बीजापुर, दंतेवाड़ा में 20 हजार जवानों को जंगलों में रणनीति के साथ आपरेशन के लिए उतार दिया गया है। इसके साथ ही मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ के बार्डर पर भी नक्सलियों के खिलाफ स्पेशल आपरेशन शुरू कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि नक्सलियों ने बालाघाट, गढ़चिरौली और राजनांदगांव में गोपनीय आपरेशन शुरू किया है। इसको देखते हुए प्रदेशों के ज्वाइंट पर विशेष फोकस किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि कोबरा कमांडोज सुकमा को घेरकर रुटीन ऑपरेशन के अलावा अलग से अभियान चलाएंगे। कोबरा कमांडो के साथ आईईडी एक्सपर्ट भी तैनात किए जा रहे हैं। सूत्रों की मानें तो सीआरपीएफ अब माओवादियों के खिलाफ आक्रामक रवैया अपनाएगा। नक्सलियों को जंगल में घुसकर मारने के लिए सुरक्षाबलों को फ्री हैंड कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि पांच राज्यों की मानिटरिंग के लिए स्पेशल डीजी को रायपुर में तैनात किया गया है। यहां से अगले दस दिन में ज्वाइंट आपरेशन प्लान किया जा रहा है, जो ओडिशा, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, तेलंगाना, झारखंड, उत्तर प्रदेश में एक साथ शुरू होगा। इस ज्वाइंट आपरेशन का बेस कैंप रायपुर में रहेगा। सूत्रों की मानें तो नक्सलियों के बड़े नेताओं की लोकेशन भी सुकमा और आसपास के इलाकों में मिली है। इसी को देखते हुए सुकमा में विशेष फोकस किया जा रहा है। सीआरपीएफ के आईजी डीएस चौहान ने बताया कि सीआरपीएफ के जवान बस्तर में नक्सलियों के खिलाफ लगातार अभियान चला रहे हैं। सुकमा में हमले के बाद अभियान को और भी मुस्तैदी के साथ शुरू किया गया है। जवान जंगलों में उतरकर नक्सलियों से मोर्चा लेने को तैयार हैं।   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  11 May 2017

दो हार्डकोर नक्सली गिरफ्तार

दंतेवाड़ा में  इंद्रावती नदी पार नक्सलियों के माड़ डिवीजन में सक्रिय रूप से कार्य करने वाले दो लाख के इनामी प्लाटून सदस्य सहित दो नक्सलियों को बारसूर पुलिस ने गिरफ्तार किया है। ये लोग दैनिक जरूरत के सामान खरीदी के लिए बारसूर साप्ताहिक बाजार पहुंचे थे। गिरफ्तार दोनों नक्सली कमांडर मल्लेश के साथ 2013 से कार्य कर रहे थे। नारायणपुर के ग्राम मोड़ोनार ओरछा निवासी बागलू पिता फले अलामी तथा कोपाराम पिता सोनाराम नेताम को पुलिस ने बारसूर बाजार से गिरफ्तार किया है। मुखबिर की सूचना पर सीआरपीएफ और जिला बल ने घेराबंदी कर इन्हें गिरफ्तार किया। बताया गया कि गिरफ्तार बागलू अलामी नक्सलियों के प्लाटून नंबर 16 का सक्रिय सदस्य है। वह 2013 में संगठन से जुड़कर नक्सली माड़ क्षेत्र के कमांडर मल्लेश के साथ काम कर रहा था। जबकि कोपाराम जनमिलिशिया सदस्य के रुप में नक्सलियों के लिए काम करता था। पूछताछ में कोपाराम ने बताया कि वह नक्सलियों के मीटिंग में ग्रामीणों को बुलाने, बेनर-पोस्टर लगाने, भोजन व्यवस्था करने की जिम्मेदारी संभाल रखी थी। दोनों ही शुक्रवार को सामान खरीदने के लिए बारसूर बाजार पहुंचे थे। एएसपी नक्सल आपरेशन जीएन बघेल ने बताया कि गिरफ्तार नक्सली में बागलू अलामी पर दो लाख रुपए का इनाम घोषित था। दोनों नक्सली माड़ डिवीजन के इंद्रावती एरिया कमेटी में सक्रिय थे। कार्रवाई में थाना बल के साथ सीआरपीएफ 195वीं बटालियन का सहयोग रहा।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  30 April 2017

दंतेवाड़ा   इंद्रावती नदी

दंतेवाड़ा में  इंद्रावती नदी के पार के गांवों के ग्रामीणों को स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करने इस महीने से बाइक एंबुलेंस की सुविधा शुरु होगी। बाइक एंबुलेंस इंद्रावती पार के पाहुरनार, चेरपाल, बडेकरका जैसे दूरस्थ गांव से मरीजों को लेकर बारसूर पीएचसी पहुंचेगी। जहां 10 बिस्तरा हॉस्पिटल में मरीजों का उपचार होगा और जरूरत पड़ी तो जिला हॉस्पिटल रिफर किया जाएगा। यह जानकारी शुक्रवार को इंद्रावती नदी तट पर बसे नक्सल प्रभावित गांव छिंदनार में कलेक्टर ने ग्रामीणों को दी। लोक सुराज अभियान के तहत शुक्रवार को गीदम ब्लॉक के दूरस्थ गांव छिंदनार में प्रशासनिक अमला पहुंचा था। यहां लोगों की समस्याओं का समाधान करते सुविधाएं उपलब्ध कराने की जानकारी अधिकारियों ने दी। ग्रामवार जानकारी कलेक्टर सौरभ कुमार ने अधिकारी और ग्रामीणों से ली। ग्रामीणों ने पेयजल की समस्या को प्रमुखता से रखा। जिन बसाहटों में पेयजल की समस्या है वहां त्वरित कार्रवाई कर हैंडपंप की व्यवस्था करने के निर्देश कलेक्टर ने दिए। कौरगांव के ग्रामीणों ने बताया कि यहां सात पारा हैं और केवल 13 हैंडपंप हैं। इस पर कलेक्टर ने कवासी पारा और चुटकोंटा पारा में हैंडपंप कराने के निर्देश पीएचई को दिए। कलेक्टर ने आंगनबाडी के लिए भवन निर्माण की स्वीकृति भी दी। कौरगांव के ही गुफापारा में सोलर हैंडपंप लगाने के निर्देश दिए ताकि लाल पानी की समस्या से भी गुफा पारा के लोगों को मुक्ति मिल सके। कौरगांव के लोगों ने बताया कि बिजली केवल एक पारा में ही है इस पर कलेक्टर ने बताया कि शेष पारा में बिजली का कार्य स्वीकृत हो चुका है। बारिश के बाद काम आरंभ हो जाएगा। यहां मडकामीपारा में गोइंदर नाले को बांधने के निर्देश भी कलेक्टर ने जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को दिए। पाहुरनार में रोड कनेक्टिविटी पर रिपोर्ट देने भी अधिकारियों को निर्देशित किया। छिंदनार में बाजार स्थल में शेड तथा सोलर पंप की मांग कलेक्टर ने स्वीकृत की। कलेक्टर ने कहा कि जिन गांवों में राजीव गांधी सेवा केंद्र स्वीकृत हो गए हैं वहाँ निर्माण कार्य शीघ्र आरंभ कराएँ। सीईओ डॉ. गौरव सिंह ने कहा कि जिन हितग्राहियों का नाम एसईसीसी की सूची में हैं उन्हें शीघ्रताशीघ्र प्रधानमंत्री आवास योजना एवं उज्ज्वला योजना का लाभ दिया जाएगा। पेयजल की समस्या प्राथमिकता से निपटाने के निर्देश पीएचई विभाग को दिए गए हैं। ग्राम पंचायत चौदहवें वित्त की मदद से भी पेयजल संबंधी छोटे-मोटे कार्य करा सकते हैं। जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती कमला नाग ने छिंदनार की श्रीमती रायमती को परिवार सहायता योजना के 20 हजार रुपए का चेक भी प्रदान किया। साथ ही कासोली सरपंच श्रीमती मलिका अटामी एवं छिंदनार सरपंच श्रीमती बुधरी नेताम को देवगुडी निर्माण का चेक प्रदान किया। शिविर में जिला पंचायत उपाध्यक्ष मनीष सुराना, जिला पंचायत सदस्य चैतराम अटामी, गीदम जनपद पंचायत अध्यक्ष सुदराम भास्कर, एसडीएम डॉ. सुभाष राज, सहायक आयुक्त डॉ. आनंदजी सिंह, गीदम सीईओ रवि साव सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  13 April 2017

दंतेवाड़ा में नक्सली लीडर पालो

  दंतेवाड़ा में नक्सली लीडर पालो, गुंडाधूर और अन्य बड़े नक्सलियों की मौजूदगी की सटीक सूचना पुलिस को शनिवार की सुबह करीब 11 बजे मिली। इसके डीआरजी के चुनिंदे जवान और अधिकारियों ने जिला मुख्यालय में एक घंटे में रणनीति बनाकर बाइक से जवानों को भेजा। करीब 250 जवानों की टोली तीन टूकड़ों पर बाइक बर्रेम-डोरेरास के जंगल में एक घंटे में पहुंच गई। नंगलन एयर पहाड़ी पर पहुंचने के बाद करीब साढ़े 12 बजे नक्सलियों ने पहले फायरिंग की। इसके बाद लगातार दोनों ओर से फायरिंग होती रही। करीब दो बजे तक फोर्स ने तीन नक्सलियों को ढेर करने साथ ही आधा दर्जन से अधिक को घायल कर दिया था। इसी बीच एसआई संग्राम सिंह के हाथ में गोली। कुछ देर बाद एक और एसआई डोमेंद्र पाल पात्र भी घायल हुआ। नक्सली बिज्जो लोकेशन बदल-बदल कर फोर्स पर इंसास से फायरिंग कर रही थी लेकिन वह भी शाम होते ही मारी गई। इसके बाद भी नक्सलियों की ओर से फायरिंग जारी रही और रात करीब 9 बजे तक दोनों ओर से गोली-बारी चलती रही। एरिया में सर्चिंग जारी नक्सलियों से मुठभेड़ में मलांगिर एरिया कमेटी के कमांडर गुंडाधूर की मौजूदगी और घायल होने का दावा पुलिस कर रही है। मुठभेड़ समाप्त होने के बाद जवान रात भर जंगल में सर्चिंग करते रहे। रविवार को भी क्षेत्र में जवानों की टीम भेजी गई है। बताया जा रहा है कि गुंडाधूर के पैर में गोली लगी है। वह ज्यादा दूर नहीं निकला होगा और वहीं पहाड़ी में ही होगा। इसी उम्मीद में फोर्स अभी भी पहाड़ी के आसपास नजर रखे हुए है। चार नक्सलियों की हुई शिनाख्त मारे गए पांच नक्सलियों में से चार की शिनाख्त हो चुकी है। उनमें मलांगिर डीवीसी सदस्य और एरिया कमेटी सचिव पाले मंडावी चिंतागुफा, सदस्य और खुटेपाड़ निवासी बिज्जे कलमू उर्फ मंगली, एलओएस सदस्य तथा नागलगुड़ा निवासी हड़मा मरकाम तथा अरनपुर निवासी एलओएस देवा है। जबकि एक पुरुष नक्सली की पहचान नहीं हो पाई है। उसकी तस्वीर जिले सहित सुकमा, बीजापुर, नारायणपुर के थानों में भेजी जा रही है, ताकि उसकी पहचान हो सके। साथ ही शिनाख्त हो चुके माओवादियों के परिजनों तक खबर संबंधित थानों के माध्यम से भेजी गई है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  19 March 2017

पुलिस से मुठभेड़ में  6 नक्सली मारे गए

दंतेवाड़ा में पुलिस के साथ आज हुई मुठभेड़ में 6 नक्सलियों के मारे जाने की प्रारंभिक जानकारी मिली है। बताया जाता है कि मारे गए नक्सलियों के शव भी बरामद कर लिए गए हैं लेकिन पुलिस पार्टी के जंगल में होने से मारे गए नक्सलियों की सही संख्या का पता नहीं चल रहा है। दो जवानों को भी गोली लगने की सूचना मिली है। हालांकि एएसपी नक्सल ऑपरेशन जीन बघेल ने नक्सलियों के शव बरामद होने की पुष्टि की है।दंतेवाड़ा एसपी कमलोचन कश्यप ने भी इसकी पुष्टि की है। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ग्राम बर्रेम डोरेपारा के जंगल पहाड़ी में डीआरएफ और एसटीएफ की संयुक्त पुलिस पार्टी और नक्सलियों के मध्य मुठभेड़ हुई। इस मुठभेड़ में कई नक्सलियों के मारे जाने की संभावना जताई जा रही है। पुलिस ने मौके से हथियार भी बरामद किए हैं। थाना अरनपुर का यह मामला है। बताया जाता है कि नक्सली और सुरक्षा एजेंसियों के बीच मुठभेड़ का दौर भी जारी है। इसमें महिला नक्सली कमांडर पलो के मारे जाने और गुण्डाधुर को गोली लगने की जानकारी सामने आ रही है। पुलिस नक्सली कमांडर गुण्डाधुर को घेरने का प्रयास कर रही है । डीआरजी कमांडो संग्राम सिंह को हाथ में गोली लगी है। मौके से दो एके 47 और एक एसएलआर बरामद होने की खबर भी मिली है। हताहत नक्सलियों की संख्या बढ़ सकती है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 March 2017

 सीआईएसएफ के अतिरिक्त महानिदेशक आर.के. मिश्रा

दंतेवाड़ा के बचेली में सीआईएसएफ के अतिरिक्त महानिदेशक आर.के. मिश्रा पहुंचे। हेलीपैड में कलेक्टर सौरभ कुमार,एसपी कमलोचन कश्यप सहित सीआईएसएफ के अधिकारियों ने उनकी अगुवानी की। यहां से वे सीधे परियोजना गेस्ट हाउस पहुंचकर बंद कमरे में सात फरवरी को आकाशनगर में साउथ ब्लॉक खदान में हुई नक्सली घटना को लेकर बैठक की। इस बैठक में दंतेवाड़ा कलेक्टर व पुलिस अधीक्षकके अलावा संयुक्त महाप्रबंधकसंजीव साही,सीआईएसएफ के महानिरीक्षक सतीश खण्डारे,उपमहानिरीक्षक महेश्वर दयाल व राजीव पंत,सहा.महानिरीक्षक डॉ.अनिल पांडे एवं सीआईएसएपु के अधिकारी उपस्थित थे। बैठक में एनएमडीसी परियोजना की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर सघन समीक्षा की गई।बंद कमरे में हुई बैठक की विस्तृत जानकारी बाहर तो नहीं आ सकी। एडीजी ने घटना स्थल का जायजा लेने के बाद पत्रकारों से चर्चा करने की बात कही है। लेकिन सूत्रों की माने तो साउथ ब्लॉक में बारूद लूटे जाने के बाद सीआईएसएफ सकते में है। उनके आला अधिकारी लगातार परियोजना का दौरा कर रहे ेहै। इसी क्रम अतिरिक्त महानिदेशक भी यहां पहुंचकर घटना की जानकारी ले रहे है। इसके साथ ही पुलिस प्रशासन घटना को लेकर गंभीर है।पुलिस व सुरक्षा बल पूरे संभाग में नक्सलियों के खिलाफ आक्रामक रूख अपनाकर आपरेशन चला रही है। बारूद लूटे जाने के बाद पुलिस ने सर्च अभियान तेज कर दिया है। बस्तर के प्रभारी आईजी सुंदरराज पी.ने भी आकाशनगर कर दौरा कर अभियान तेज करने को कहा है। विदित हो कि सात फरवरी को एनएमडीसी परियोजना के निक्षेप क्रमांक 05 में स्थित साउथ ब्लॉक लौह अयस्क खदान में दिनदहाड़े धावा बोलकर भारी मात्रा में विस्फोटक पदार्थ लूटकर ले गए,साथ पांच वाहनों को आग के हवाले भी कर दिया। नक्सलियों ने उस समय यहां पर धावा बोला जब परियोजना कर्मी खदान में विस्फोटक लगा रहे थे। उनके पास काफी मात्रा में विस्फोटक सामग्री थी। इस दौरान इस स्थान में सीआईएसएफ का एक भी जवान मौजूद नहीं था। इस घटना ने परियोजना की सुरक्षा व्यवस्था की पोल खोलकर रख दी है। परियोजना में नक्सलियों ने कई दफे हमला किया है। जिसके चलते एनएमडीसी को अरबों रूपयों की आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा है। साथ ही सीआईएसएफ के दो दर्जन जवान भी शहीद हो चुके है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  15 February 2017

सोनी सोरी

दंतेवाड़ा में सामाजिक कार्यकर्ता और आम आदमी पार्टी की नेता सोनी सोरी ने 29 जनवरी को किरंदुल के हिरोली-पुरंगेल जंगल में हुए मुठभेड को फर्जी बताया है। बैलाडिला पहाड़ी के नीचे बसे गांव का दौरा कर लौटी सोनी ने मारी गई महिला नक्सली के साथ अनाचार किए जाने और उसके आंख निकालने का आरोप भी पुलिस पर लगाया है। उसने मीडिया से चर्चा में कहा कि ग्रामीणों ने शव का अंतिम संस्कार नहीं कर दोबारा पोस्टमार्टम के लिए सुरक्षित रखा है। पुलिस ने 29 जनवरी को किरंदुल थाना क्षेत्र के हिरोली-पुरंगेल जंगल में एक महिला सुकमती उर्फ सुक्की और एक पुरुष भीमा कड़ती नामक नक्सली को मार गिराया था। उनके पास से पुलिस ने हथियार, दवा और अन्य नक्सल साहित्य बरामद करने के साथ सप्लाई कमेटी का डिप्टी कमांडर व सदस्य होना बताया था। घटना के करीब एक पखवाड़े बाद सोनी सोरी ने पुलिस पर इस मामले में गंभीर आरोप लगाए हैं। सोनी के मुताबिक वह 30 किमी पैदल यात्रा कर मृत युवक-युवतियों के गांव से लौटी है। ग्रामीणों ने उनके शव का अभी तक अंतिम संस्कार नहीं किया है। सोनी के अनुसार युवक-युवती नक्सली नहीं हैं और युवती नाबालिग है। 28 जनवरी को दोनों बाजार से लौट रहे थे तभी फोर्स उन्हें रास्ते से पकड़कर ले गई। ग्रामीणों ने भी बताया कि उनका नक्सलियों से कोई संबंध नहीं है। सोनी सोरी ने आशंका जताई है कि नाबालिग सुकमती के साथ अनाचार हुआ है। दोनों शव के आंख भी निकाल लिए गए हैं। उन्होंने पुलिस पर आरोप लगाते कहा है कि अब आदिवासियों को मारने के साथ ही उनके अंगों को बेचने का व्यापार भी पुलिस करने लगी है। सोनी सोरी ने कहा है कि आदिवासियों को न्याय दिलाने और शवों के दोबारा पोस्टमार्टम के लिए वह न्यायालय जाएंगी। उन्होंने बताया कि भीमा की तीन छोटी बेटियां हैं। एक पुत्री अभी एक माह की भी नहीं हुई और उसका अभी नामकरण भी नहीं हुआ है। वहीं सुक्की की सगाई की तैयारी चल रही थी। फोर्स बेगुनाहों को मारकर मुठभेड का नाम दे रही है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  13 February 2017

दंतेश्वरी मंदिर

    दंतेवाड़ा में  बसंत पंचमी पर दंतेश्वरी मंदिर में त्रिशूल स्तंभ स्थापना के साथ फागुन मंडई की शुरुआत हो गई है। शुक्रवार को मंडई के तरह दूसरी रस्म खिचड़ी खिलाई संपन्न् हुई। इसमें माईजी के गाय-बैलों की पूजा के बाद त्रिशूल स्तंभ के समक्ष चावल, दाल से तैयार व्यंजन पुजारियों ने खिलाया। ये मवेशी चितालंका, कतियाररास के साथ ही मंदिर के गौशाला से बुलाए गए थे। गाय-बैलों को खिचड़ी खिलाने के बाद रस्मानुसार मंदिर प्रांगण में सेवादारों के बीच कुश्ती का आयोजन भी हुआ। इधर बसंत ऋतु आगमन के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में मेला-मंडई की तैयारी शुरु हो गई। दक्षिण बस्तर का पहली मंडई गीदम ब्लाक के घोटपाल में होती है। 14 फरवरी होने वाले मंडई की तैयारी ग्रामीणों ने शुरु करते क्षेत्र के देवी-देवता और लोगों आमंत्रण भेज दिया गया है। साथ ही परंपरानुसार गांव के युवा ढोल-नगाड़े बजाकर लोगों को आकर्षित कर रहे हैं। 31 जनवरी से शुरु घोटपाल मेला में विभिन्न् रस्मों की अदायगी चल रही है। मुख्य कार्यक्रम 14 फरवरी को देव खेलनी के और मंडई के रुप में होगी। दूसरे दिन 15 फरवरी को आमंत्रित देवी-देवता विदा होंगे और 16 फरवरी को सिंगार उतारनी रस्म के साथ मेला का समापन होगा।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  11 February 2017

प्रेशर बम के एक्सपर्ट नक्सली गिरफ्तार

दरभा डिवीजन के कटेकल्याण एरिया कमेटी का जनमिलीशिया कमांडर सहित तीन नक्सलियों को पुलिस ने दंतेवाड़ा के बाजार से गिरफ्तार किया। एक लाख रुपए के इनामी जनमिलीशिया कमांडर पर एक लाख रुपए का इनाम घोषित था। वह प्रेशर बम लगाने और उसे निकालने माहिर है। गिरफ्तार नक्सली से पुलिस और महत्वपूर्ण जानकारी मिलने की उम्मीद जताई है। नक्सल आपरेशन एएसपी जीएन बघेल, प्रशिक्षु आईपीएस डॉ. अभिषेक पल्लव और डीएसपी सुरेश लकरा ने बताया कि आत्मसमर्पित नक्सलियों की निशानदेही पर बुधवार को जिला मुख्यालय से तीन नक्सलियों को गिरफ्तार किया गया। इनमें वेट्टी वारसा उर्फ फगनू पिता मंगडू कटेकल्याण एरिया कमेटी का जनमिलीशिया कमांडर है। जबकि ग्राम सूरनार गायतापारा निवासी मासा उर्फ कुम्मा उर्फ गुड्डी पिता वोटी माड़वी डूमाम एलओएस का सदस्य तथा पाड़ा पिता नंदा माड़वी जनताना सरकार का कमेटी सदस्य है। अधिकारियों ने बताया कि वेट्टी वारसा कई वर्षों नक्सलियों के लिए काम करते प्रेशर बम लगाने में माहिर हो गया है। कटेकल्याण थाने में उसके खिलाफ कई मामले दर्ज हैं और तलाश की जा रही थी। 20 अप्रैल 2016 को परचेली-मारजूम के बीच जंगल-पहाड़ी में पुलिस पर हमला करने में शामिल था। इस मुठभेड़ में एक पुलिस जवान शहीद हो गया। इसके ठीक दो माह बाद 20 जून को मुनगा पहाड़ी में पुलिस पार्टी पर हमला किया था। मई माह में डुमाम नदी के पुल पर बम लगाया वहीं मई में ही जोंगेरास पहाड़ी पर हुए मुठभेड़ में वारसा शामिल होना स्वीकारा है। इस नक्सली पर सरकार ने एक लाख रुपए का इनाम भी घोषित कर रखा था। मासा उर्फ गुड्डी भी नक्सलियों से जुड़कर डूमाम एलओएस का सदस्य बनने के बाद वर्तमान में जनताना सरकार कमेटी अध्यक्ष के रुप में काम कर रहा था। जबकि पाड़ा पिता नंदा माड़वी जनताना कमेटी का सदस्य है। दोनों का काम नाच-गाना कर नक्सली संदेश बताना और लोगों को संगठन से जोड़ना था। गिरफ्तार नक्सलियों के कब्जे से पुलिस ने नाट्य दल के सामग्री, वस्त्र के साथ तीर-धनुष, एक टिफिन बम, चाकू, बांसुरी, घुंघरू और ढपली एक बैग और बोरे से बरामद किया है। वेट्टी वारसा ने मीडिया के समक्ष कहा कि वह मजबूरी में नक्सलियों के साथ काम करता था। एक बार पुलिस के पास आत्मसमर्पण की कोशिश की तो पता चलने पर नक्सली कमांडरों ने जुर्माना वसूलने के साथ खूब पीटा था। इसके चलते नक्सली कमांडर बामन, आयतु और मासा के इशारों का कठपुतली बन गया था। डर की वजह से सभी निर्देशों का पालन करता था। मेरा भाई भी उसके कमांडर सुकराम के साथ काम कर रहा है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  8 January 2017

naxli

      दंतेवाड़ा जिले के पिटेडब्बा और जियाकोरता के बीच जंगल में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हो गई। दोनों ओर से फायरिंग के दौरान नक्सली वहां से भाग निकले। घटना के बाद जांच में सुरक्षाबलों को वहां से आईईडी और बड़ी मात्रा में दैनिक उपयोग का सामान मिला है। डीआरजी और एसटीएफ ने संयुक्त कार्रवाई में नक्सली भागने को मजबूर हो गए। जानकारी के मुताबिक सुरक्षाबल जंगल में सर्चिंग कर रहे थे, इसी दौरान उन पर फायरिंग होने लगी, जवाब में सुरक्षाबलों ने भी फायरिंग कर दी। घटनास्थल से बर्तन और बनता हुआ खाना भी मिला है, जिससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि नक्सलियों ने वहां अपना ठिकाना बना लिया था।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  20 December 2016

naxli

      दंतेवाड़ा जिले के मेटापाल में नक्सलियों ने सरपंच के पति धमेंद्र पोडियाम की हत्या कर दी। देर रात करीब 20 हथियारबंद नक्सली गांव में पहुंचे थे। इसके बाद वे सरपंच के घर पहुंचे और उनके पति धमेंद्र को घर से बाहर निकालकर ले गए और पुलिस का साथ देने का आरोप लगाया। जब घबराए धर्मेंद इससे इनकार करने लगे तो नक्सलियों ने धारदार हथियार निकालकर सरपंच के पति का गला रेत दिया। घटना के बाद वे शव को फेंककर जंगल में भाग गए। सूचना मिलने पर कटेकल्याण थाने की पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। घटना के बाद से मेटापाल और आस-पास के इलाकों में दहशत का माहौल है। गंगालुर थाना क्षेत्र में पुलिस और नक्सली के बीच मुठभेड़ के बाद एक नक्सली का शव मिला है और उसके पास से हथियार भी बरामद किया गया है। जिला पुलिस बल और सीआरपीएफ की संयुक्त कार्रवाई में इसे अंजाम दिया गया। करीब तीन दिन सर्चिंग के बाद सुरक्षाबलों को यह सफलता मिली है। एसपी केएल ध्रुव ने इस बात की पुष्टि की है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  16 December 2016

naxli exchange currency

    दंतेवाड़ा में  500 और 1000 के पुराने नोट बंद होने के बाद नक्सलियों के पैसे एक्सचेंज करने पहुंचे एक युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। युवक के पास से एक लाख 10 हजार रुपए के पुराने एक-एक हजार रुपए के नोट मिले हैं। इसी के साथ उसे नक्सली बैनर और पोस्टर भी बरामद हुए। जानकारी के मुताबिक भांसी पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली थी कि एक युवक नक्सलियों का कालाधन सफेद करने की कोशिश में लगा है। इस पर पुलिस‍ि ने घेराबंदी कर उसे पकड़ लिया। जिसके बाद उसे भांसी थाने ले जाया गया, जहां उससे पूछताछ की जा रही है। पुलिस‍ ने गंगालुर थाना क्षेत्र के कमकानार से दो नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। नक्सली हेमला लक्खू पर 8 स्थाई वारंट और हेमला रूपा पर 2 स्थाई वारंट लंबित थे। पुलिस बल और सीआरपीएफ 85 बटालियन की संयुक्त कारवाई में इन्हें पकड़ा गया है। गंगालुर टीआई अब्दुल समीन ने इसकी जानकारी दी है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  8 December 2016

 इनामी महिला नक्सली सहित 4 गिरफ्तार

दंतेवाड़ा में  पांच लाख की इनामी महिला नक्सली सहित 4 हार्डकोर नक्सलियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार माओवादी में 2 महिला और 2 पुरुष है। महिला माओवादी पायके के ऊपर 5 लाख का इनाम पहले ही घोषित था। इसके अलावा उसके साथ पकड़े गए देवे एवम् कोसा के ऊपर 2-2 लाख का इनाम रखा गया था। पुरुष नक्सली कोसा और हांदा को पेदाररास बाजार से गिरफ्तार किया गया। वहीं दो महिला नक्सली को पडवार् रास से पकड़ा गया। महिला नक्सलियों के पास से भारी मात्रा में दैनिक उपयोग के सामान सहित देशी कट्टा व नक्सली वर्दी बरामद की गई है। दंतेवाड़ा पुलिस ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया जिसमें उन्हें सफलता हासिल हुई।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  30 November 2016

दंतेवाड़ा की इंदु

देशभर में दंतेवाड़ा  जिले का नाम रोशन करने वाली आस्था विद्या मंदिर जावंगा की छात्रा इंदु मानिकपुरी 7 नवंबर को राष्ट्रपति डॉ. प्रणब मुखर्जी के हाथों सम्मानित होंगी। कक्षा सातवीं की छात्रा इंदु ने सेप्टिक टैंक प्रेशर रिकार्ड स्केल का आइडिया दिया। जब वह पिछली बार गर्मियों की छुट्टियों में अपने गांव गई थीं तो उसने देखा था कि कुछ शौचालयों के सेप्टिक टैंक भर जाने के कारण चारों ओर प्रदूषण फैल रहा था। उसने विचार किया कि टैंक में कुछ आलू डाल दिए जाएं तो यह बैक्टीरिया पैदा करेंगे, इन बैक्टीरिया से सेप्टिक टैंक साफ रहेंगे। कुछ समय बाद जब ये बैक्टीरिया समाप्त हो जाएंगे और इनके विघटन से जो गैस निकलेगी, उसे सेप्टिक टैंक प्रेशर रिकार्ड स्केल से माप लिया जाएगा। एक निश्चित स्तर तक प्रेशर पहुंचने के बाद फिर से आलू डाल दिए जाएंगे ताकि बैक्टीरिया पुनः पैदा हो सकें। राष्ट्रपति भवन से दुर्लभ सम्मान प्राप्त करने वाली इंदु ने छोटी से जीवन में ही कठिन संघर्ष किया है। इनके पिता मरईगुडा में थाना निर्माण कर रहे थे जहां नक्सलियों ने उनकी हत्या कर दी थी। इंदु की मां श्रीमती कल्याणी मानिकपुरी ने इंदु का पालन पोषण किया। 2006 से 2011 तक वह केरलापाल आंगनबाडी में काम करती रहीं। छात्रा इंदु ने अपने शिक्षक अमुजरी विश्वनाथ की प्रेरणा से गणित ओलंपियाड में भी हिस्सा लिया है तथा रंगीला बाल उत्सव में भी अच्छा प्रदर्शन किया। स्टार्टअप इंडिया के कैंप में कलेक्टर सौरभ कुमार ने इंदु का सम्मान किया। उन्होंने इंदु को टेबलेट भेंट करते हुए उसके उज्जवल भविष्य की कामना की। कलेक्टर ने कहा कि इंदु दंतेवाडा का गौरव है। उल्लेखनीय है कि पिछले वर्ष बचेली के छात्र भरत ने तेंदूपत्ता तोडने की मशीन बनाई थी। यह ऐसा विचार था जिससे हजारों तेंदूपत्ता तोडने वाले हितग्राहियों की जिंदगी सरल होती है। इसके लिए उन्हें पिछले वर्ष का डॉ. एपीजे कलाम इग्नाइट अवार्ड मिला था।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  19 October 2016

dantevada

कोंडागांव मुठभेड़ में 1 नक्सली ढेर, 1 गिरफ्तार छत्तीसगढ़ की कोंडागांव जिला पुलिस ने बीती रात हुयी मुठभेड़ में एक वर्दीधारी नक्सली को मार गिराया, जिसके कब्जे से एक लोडेड पिस्टल जब्त की गयी है। मौके से एक नक्सली को गिरफ्तार किया गया है। मृत नक्सली का शव बरामद कर लिया गया है। इधर दंतेवाड़ा जिले में हुयी मुठभेड़ में पुलिस के वीरता पूर्वक प्रदर्शन से नक्सली भाग खड़े हुए।   बस्तर आईजी एसआरपी कल्लूरी एवं कोंडागांव एसपी संतोष सिंह ने बताया कि बयानार थाने से डीएफ एवं सीएएफ का संयुक्त बल गश्त सर्चिंग के लिए रवाना किया गया था। लौटते वक्त छेरी के जंगल में घात लगाए नक्सलियों ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में पुलिस बल ने अविलंब मोर्चा संभालते हुए गोलीबारी की। लगभग एक घंटे तक हुयी गोलीबारी के बाद पुलिस के दबाव के चलते अंतत: नक्सलियों के हौसले पस्त हो गए और वे घने जंगल और अंधेरे का लाभ उठाकर भाग खड़े हुए। इस दफा नक्सलियों ने पुलिस पर अत्याधुनिक हथियारों से हमला किया, बावजूद अपने मंसूबे में नाकाम रहे।  अधिकारियों ने बताया कि घटनास्थल की सर्चिंग के दौरान एक वर्दीधारी नक्सली का शव बरामद किया गया है, जिसकी शिनाख्त की जा रही है। मौके से लोडेड पिस्टल समेत भारी मात्रा में विस्फोटक एवं दैनिक उपयोग की सामग्रियां जब्त की गयी हैं। वहीं मौके से भागते हुए एक नक्सली को घेराबंदी कर पकड़ा गया, जिसके पास 01 भरमार बंदूक मिला। पूछताछ करने पर उसने अपना नाम रैनू कोर्राम उम्र 25 वर्ष निवासी कीलम जिला नारायणपुर का होना कबूला। इधर एक दंतेवाड़ा जिले में हुयी एक अन्य मुठभेड़ में पुलिस को भारी पड़ता देख नक्सली मैदान छोड़कर जंगल में भाग गए। घटनास्थल से नक्सली सामान बरामद किया गया है।  बस्तर आईजी एसआरपी कल्लूरी के निर्देशन में चलाए जा रहे एंटी नक्सल अभियान में विगत नौ माह में 104 नक्सलियों को मार गिराया गया है। यहीं नहीं इस दौरान पुलिस के बढ़ते दबाव के चलते करीब 500 से अधिक नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  4 October 2016

सती के दांत गिरे थे इसलिए नाम पड़ा दंतेश्वरी

52 शक्तिपीठ में से एक है दंतेवाड़ा संभाग मुख्यालय जगदलपुर से 84 और रायपुर से 384 किमी दूर माई दंतेश्वरी का मंदिर है। मंदिर का निर्माण 14वीं सदी में चालुक्य राजाओं ने दक्षिण भारतीय मंदिरों की वास्तुकला से बनावाया था। माईजी की प्रतिमा काले ग्रेनाइट पत्थर की बताई जाती है। मंदिर चार भागों में बंटा हुआ है। जिसमें गर्भ गृह, जहां प्रतिमा स्थापित है। इसके बाद महामंडप, मुख्य मंडप और सभा मंडप है। गर्भ गृह और महा मंडप का निर्माण एक ही पत्थर के टूकड़ों से किया गया है। मंदिर के प्रवेश द्वार के सामने एक गरूड़ स्तंभ हैंं। जिसे श्रद्धालु पीठ की ओर से बांहों में भरने की कोशिश करते हैं। मान्यता है कि जिसके बांहों में स्तंभ समा जाता है, उसकी मनोकामना पूरी होती है। दंतेवाड़ा देवी दंतेश्वरी को समर्पित है। देश के 52 शक्तिपीठों में से एक यह भी है। यह स्थानीय लोगों की आराध्य देवी है। धार्मिक कथाओं के अनुसार देवी सती के दांत यहां गिरने से इसका नाम दंतेश्वरी शक्तिपीठ पड़ा। पौराणिक कथाओं के अनुसार काकतीय वंश के राजा अन्न्म देव और बस्तर राज परिवार की यह कुल देवी है। बताया जाात कि राजा अन्न्म देव को यहां आए तब देवी दंतेश्वरी ने दर्शन देकर वरदान किया कि जहां तक वह जाएगा, वहां तक देवी उसके साथ चलेगी और उसका राज्य होगा। साथ ही पीछे मुड़कर नहीं देखने की सलाह भी दी थी। कथाओं के अनुसार राजा कई दिनों तक बस्तर क्षेत्र में चलता रहा और देवी उसके पीछे रही। जब शंकनी-डंकनी नदी के पास पहुंचे तो नदी पार करते समय राजा को देवी के पायल की आवाज सुनाई नहीं दी। तब राजा पीछे मुड़कर देखा और देवी वहीं ठहर गई। इसके बाद राजा ने वहां मंदिर निर्माण कर नियमित पूजा-आराधना करने लगा। आज भी राज परिवार के सदस्य दंतेश्वरी माई की पूजा करने आते हैं। माईजी के मंदिर नवरात्र के अलावा पूरे साल भर पूजा-अनुष्ठान होते हैं। मंदिर में आत्मिक शांति और सुकुन मिलता है। श्रद्धालुओं को विश्वास है कि उनकी हर मनोकामना माईजी पूरी करते हैं।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  2 October 2016

लखमा जायेंगे जोगी की पार्टी में

दंतेवाड़ा में  अजीत जोगी के करीबी माने जाने वाले कांग्रेसी विधायक कवासी लखमा कांग्रेस का दामन छोड़ छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। बस्तर प्रवास के दौरान छजकां के अमित जोगी ने लखमा के पार्टी में शामिल होने को लेकर कहा, यह घर की बात है। जोगी दंतेवाड़ा में मां दंतेश्वरी के दर्शन के लिए पहुंचे थे। एक तरीके से उन्होंने साफ कर दिया है कि लखमा जब चाहे तब कांग्रेस छोड़ छजकां में शामिल होंगे। मालूम हो कांग्रेसी विधायक लखमा के बेटे हरीश कवासी ने पहले ही छजकां में शामिल हो चुके हैं और बस्तर में छजकां का झण्डा उठाए हुए हैं। जोगी के प्रवास के दौरान वे पूरे समय उनके साथ ही दिखे।  पनामा मामले में भाजपा-कांग्रेस की मिलीभगत दंतेवाड़ा प्रवास के दौरान जोगी ने पत्रकारों से चर्चा में कहा, पानामा विकिलिक्स खुलासे में मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के सांसद पुत्र अभिषेक सिंह का नाम सामने आया है। उनके नाम पर काला धन के खुलासे के बाद भी कांग्रेस ने कोई भी कदम नही उठाया है। इस मामले को विधानसभा में पूरे प्रमाण के साथ उठाया है। इस मामले में रिपोर्ट भी दर्ज करवाई गई है। भाजपा की सरकार होने से अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। 90 दिन पूरे होने के साथ ही हाईकोर्ट जाएंगे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  24 September 2016

dantevada

  दंतेवाड़ा के  मध्य कोयबेकुर के जंगल में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में एक नक्सली मार गिराया गया। दोरनापाल प्रभारी अजय सोनकर के नेतृत्व में 40 डीआरजी जवान सर्चिंग के लिए जंगल में रवाना हुए। यह ऑपरेशन नक्सलियों के द्वारा आत्मसमर्पित नक्सलियों और गोपनीय सैनिकों पर हमले की सूचना पर शुरू किया गया था।   सुरक्षाबलों के जंगल के अंदर पहुंचते ही नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी। इस पर डीआरजी के द्वारा जवाबी फायरिंग की गई। कुछ देर फायरिंग थमने के बाद सर्चिंग में एक वर्दीधारी नक्सली के शव के साथ एक भरमान बंदूक, कारतूस और कुछ कागज बरामद किए गए। मारे गए नक्सली के शव की पहचान माडा बेंजमी प्रेजीडेंट आरपीसी(जनताना सरकार) के रूप में की गई है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 September 2016

naksli muthbhed

दंतेवाड़ा  कुन्ना पहाड़ी में मुठभेड़ के दौरान चार नहीं नौ  नक्सली मारे गए हैं। बरामद शव में से एक को छोड़ शेष तीन की शिनाख्ती हो गई है। नक्सली कैंप से बरामद सामानों में दवाओं के साथ उपचार के तरीकों को चित्र के माध्यम से समझाने वाली रजिस्टर भी मिला है वहीं दवाओं का स्टॉक संबंधी डायरी भी है।  दो दिन पहले सुकमा के सरहदी इलाके में हुए मुठभेड़ में चार नक्सलियों के शव बरामदगी के साथ ही पुलिस ने अब कुल 9 नक्सलियों को मारने का दावा किया है। बुधवार को एसपी कमलोचन कश्यप और एएसपी (नक्सली आपरेशन) जीएन बघेल ने  बताया कि करीब एक घंटे के मुठभेड़ के बाद मौके से नक्सलियों के चार शव बरामद किए है लेकिन मारे गए नक्सलियों की संख्या 9 से अधिक है। इसका प्रमाण मिले हथियार और अन्य सामग्रियों से भी मिल रहा है। साथ ही बताया कि कटेकल्याण एरिया कमेटी के सचिव जगदीश के साथ अन्य आधा दर्जन से अधिक नक्सली गंभीर रुप से घायल है। अधिकारियों ने बरामद नक्सल साहित्य और दस्तावेज को दिखाते कहा कि इनका अभी पूरा अध्ययन नहीं हुआ है। अध्ययन के बाद महत्वपूर्ण जानकारियां मिलेगी। नक्सलियों द्वारा गोंडी बोली में लिखे अनेक पत्र बरामद हुआ है। जिसका अध्ययन किया जा रहा है। नक्सली उपचार के लिए सचित्र अपने साथियों को प्रशिक्षण और जानकारी देते हैं। इस संबंध में एक रजिस्टर में बीमारी और उपचार के तरीके को उल्लेखित किया गया है। साथ ही दवाओं का स्टाक संबंधी जानकारी के लिए अलग रजिस्टर भी प्राप्त हुआ है। एसपी ने बताया कि बरामद चार शव में से तीन की शिनाख्त हो चुकी है और पोस्ट मार्टम के बाद उनके शव ले जाने परिजनों को संबंधित थानों से जानकारी दे दी गई है। एक पुरुष नक्सली का अब तक शिनाख्त नहीं हो पाया है। उसकी फोटो थानों में भेजकर पतासाजी करवाई जा रही है। शिनाख्त हो चुके नक्सलियों में दरभा डिवीजन मेडिकल टीम की प्रभारी रामबती उर्फ रामे जगरगुंडा थाना क्षेत्र के पूवर्ती निवासी है। दूसरा ग्राम अलनार थाना किरंदुल निवासी जोगा मोडियामी कांगेर वेली एरिया कमेटी सदस्य एवं मोहपदर एलजीएस कमांडर तथा तीसरा नक्सली मोहपदर एलजीएस डिप्टी कमांडर मासू कवासी ग्राम बेड्रीमूह दरभा थाना क्षेत्र का रहने वाला है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  31 August 2016

ig kalluri

    एक दिन पहले दंतेवाड़ा जिले के कुन्ना जंगल में एनकाउंटर के बाद पुलिस को नक्सलियों के सामान से मिले एक पत्र से आईजी बस्तर एसआरपी कल्लूरी को जान से मारने का जिक्र है। पत्र में नक्सली एरिया कमांडर वर्गेश ने किसी जगदीश नामक बड़े नेता को यह लिखा है कि कल्लूरी को मार दिए जाने पर आत्म समर्पण बंद हो जाएगा। यह पत्र रूल्ड नोटबुक के फाड़े हुए पेपर में लिखी गई है।   15 मार्च 2016 को लिखे गए इस पत्र का मजमूम में एपीसी वर्गेस ने नक्सल जगदीश को लाल सलाम अभिवादन के साथ यह लिखा है कि वे संगठन के लिए फंड जुटाने प्रत्यनशील हैं। वहीं विस्तार भी कर रहे हैं लेकिन साथी नक्सली आत्मसमर्पण करके परेशानी खड़ी कर रहे हैं। इसके चलते पार्टी को चंदा नहीं दिया जा सका है। फंड बाहर से बुलाने का प्रयास भी हो रहा है।   वहीं रोजाना ठिकाना बदलने की मजबूरी है। नक्सल कमांडर ने यह भी लिखा है कि कल्लूरी को अगर मार दिया जाए तो संगठन को काफी फायदा होगा। लगातार आत्मसमर्पण का सिलसिला बंद हो जाएगा। इसके बारे में योजना बनाए जाने की बात उल्लेखित की गई है। पत्र में आगे नयानार, तोंगरास, गोरली, अंदुमपाल व पेंदलनार आदि गांवों में संगठन के समर्थन में 15 परिवार होने की जानकारी दी गई है। नक्सल कमांडर वर्गेश ने महुआ सीजन होने के चलते समय पर नहीं चल पाने तथा रात में काम करने की बात लिखी है।   बस्तर के आईजी एसआरपी कल्लूरी ने कहा इस  प्रकार का पत्र बरामद हुआ है। सोशल मीडिया में भी डाला गया है। इसमें अलग से कुछ कहने की जरूरत नहीं है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  19 August 2016

dantevada muthbhed

  दंतेवाड़ा जिले के डब्बा कुन्ना गांव में डीआरजी, एसटीएफ और सीआरपीएफ की संयुक्त टीम ने मुठभेड़ में चार वर्दीधारी माओवादियों को मार गिराया। माओवादियों के पास से चार 303 सर्विस राइफल, एक 12 बोर की राइफल, एक 315 बोर की राइफल सहित कुल आठ हथियार बरामद किए गए हैं।   इसके साथ उनके पास से 30 बैकपेक(पिट्टू) भी मिले हैं। मारे गए माओवादियों में से दो की पहचान मडकामी देवे कमांडर 26वीं प्लाटून सीपीआई माओवादी और दूसरा मास्सा, कलेकल्याण एरिया कमेटी कमांडर के रूप में हुई है। मास्सा की झीरम हमले के मामले में भी तलाश थी। बाकी दो माओवादियों की पहचान नहीं हो पाई है। उधर नक्सलियों ने बड़ेगुडरा और मोखपला के बीच पिकअप वाहन को आग लगा दी। वाहन से सीआरपीएफ कैंप में दूध की सप्लाई की जाती थी।   सीएम रमन सिंह ने कहा कि सुरक्षाबलों को माओवादियों के खिलाफ बड़ी सफलता मिली है। जवान बहादुरी के साथ मोर्चा ले रहे हैं। बारिश में भी पूरी रात अभियान चला रहे हैं। जवानों का मनोबल ऊंचा है। मदनवाड़ा नक्सल मुठभेड़ का वीडियो वायरल होने पर सीएम ने कहा कि झीरम हो या मदनवाड़ा माओवादियों की हर हरकत शर्मनाक और क्रूरता की पराकाष्ठा है। यह मानवता को शर्मसार करने वाली घटना है। तथाकथित मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को ये वीडियो दिखाना चाहिए।   अंतागढ़ और ताड़ोकी से लगे जंगलों मे मानकोट ऊपर तोनका के पास सुरक्षा बल और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़। लगभग एक घंटे बाद नक्सली भाग खड़े हुए। घटनास्थल से बंदूक एवं नक्सली सामग्री हुआ बरामद हुई। बीएसएफ और जिला पुलिस के संयुक्त दल ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  17 August 2016

chattisghar

  जंगल में छिपा रखा था लूट का सामान, नक्सली से और खुलासे होंगे   दंतेवाड़ा जिला पुलिस बल और सीआरपीएफ के संयुक्त दल ने जनमिलिशिया कमांडर जोगा पिता लखमा तेलाम को गिरफ्तार किया है। उसके निशानदेही पर पुलिस ने लूट के टीवी सहित एक भरमार और नक्सल सामग्री बरामद किया है। जिसे वह जंगल में छिपाकर रखा था। वह 2010 से नक्सलियो के लिए काम करते रेल पटरी उखाड़ने से लेकर हत्या, लूट, आगजनी और 25 संगीन वारदातों में शामिल था।   दंतेवाड़ा के ग्राम झिरका भांसी निवासी जोगा (37) को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक गश्ती के दौरान वह पकड़ में आया। गिरफ्तार नक्सली ने बताया कि वह सन् 2010 में नक्सलियों के संपर्क में आने के बाद भैरमगढ़ एरिया कमेटी के भांसी, कामालूर एलओएस क्षेत्र में जनमिलीशिया सदस्य के रुप में काम शुरु किया। सन् 2012 में भांसी,कामालूर का कमांडर बनाया गया तो वह लगातार संगठन को मजबूती देने के साथ ही दंतेवाड़ा, भांसी, फरसपाल क्षेत्र में हत्या, लूट एवं रेलवे संपत्ति को नुकसान पहुंचाता रहा है। उसने पुजारीपारा, धुरली निवासी भगत कुंजाम की हत्या कर उसके घर से मोटरसाइकिल, टीवी और अन्य घरेलू सामान लूटकर ले गया था। जिसे उसकी निशानदेही पर पुलिस ने बरामद कर लिया है। साथ ही रेल पटरी उखाड़ने के लिए उपयोग करने वाले औजार तथा एक भरमार, बारूद, टिफिन बम, ग्रेनेट, डेटोनेटटर, वायर एवं विस्फोटक सामग्री भी बरामद की गई। पत्रवार्ता के दौरान एसपी कमलोचन कश्यप, एएसपी जीएन बघेल, सीआरपीएफ 230-ए के कंपनी कमांडर ओमप्रकाश मिश्रा आदि मौजूद थे। अधिकारियों ने कहा कि उससे और भी महत्वपूर्ण खुलासे होंगे।   नक्सली सुप्रीमो गणपति और गणेश उइके के गनमैनों ने किया आत्समर्पण दंतेवाड़ा जिला पुलिस और सीआरपीएफ अधिकारियों के सामने मिलेट्री दलम चीफ और नक्सली सब जोनल कमांड के सचिव गणेश उइके के गनमैन ने आत्मसमर्पण किया है। मिलेट्री दलम के चीफ पोदिया कड़ती पर आठ लाख और गणेश उइके के गनमेन हरिश पोडियामी पर एक लाख रुपए का इनाम घोषित था। दोनों नक्सलियों के आत्मसमर्पण से पुलिस को काफी जानकारी मिलने की बात कही है। उन्होंने पुलिस की पुनर्वास नीति और नक्सलियों के बदले व्यवहार से मुख्यधारा में आने की बात कही है। पुलिस ने दोनों नक्सलियों को प्रोत्साहन राशि सौंपा है। पुलिस ने बीजापुर के मिरतुर नीलावाया निवासी पोदिया कड़ती उर्फ रामलाल उर्फ मंगू पिता हुंगा कड़ती (35) और सुकमा जिले के मुरकी गादीरास निवासी हरीश पोडियामी पिता जोगा पोडियामी ने बुधवार को मीडिया के सामने प्रस्तुत करते आत्मसमर्पण करना बताया। दोनों नक्सलियों ने बताया कि वे नक्सलियों के बदले व्यवहार और पुलिस की पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर आत्मसमर्पण किया है। वे मुख्यधारा में जुड़कर आमजीवन जीना चाहते हैं। पोदिया ने बताया कि वह सन् 2000 से नक्सलियों से जुड़कर विभिन्न् पदों पर कार्य किया। इस दौरान वह नक्सली सुप्रिमो गणपति का गनमैन भी रहा और कई वारदातों में शामिल था। इसी तरह हरीश भी सन 2008 में नक्सलियों के संपर्क में आया और दरभा डिवीजन तथ प्रेस यूनिट में काम कर चुका है। वह सन् 2010 में दक्षिण रीजनल कमेटी सचिव गणेश उइके का गनमेन रहा है। सन् 2013 में मोह भंग होने से गांव लौट आया तो पुलिस और नक्सलियों, दोनों के टारगेट में था। इसलिए अंत में आत्मसमर्पण करने का निर्णय लिया। एसपी कमलोचन कश्यप ने बताया कि इनके द्वारा महत्वपूर्ण जानकारियां पुलिस को मिल रही है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 June 2016

 विधायक अमित जोगी

  अमित ने लिखा लोकसभा अध्यक्षा महाजन को पत्र     छत्तीसगढ़ के  मुख्यमंत्री रमन सिंह एवं उनके सांसद पुत्र अभिषेक सिंह के विरुद्ध अगस्ता वेस्टलैंड, पनामा लीक मामले में तीन अहम खुलासे करने के बाद मरवाही विधायक अमित जोगी ने  इस मामले से जुड़े एक और गंभीर विषय पर आपत्ति जताई। भाजपा द्वारा सांसद अभिषेक सिंह को संसद की लोकलेखा समिति का सदस्य बनाने पर आपत्ति दर्ज करते हुए, मरवाही विधायक अमित जोगी ने आज लोकसभा अध्यक्षा  सुमित्रा महाजन एवं लोकलेखा समिति के अध्यक्ष सांसद केवी थॉमस को पत्र लिखकर अभिषेक सिंह की सिमिति से सदस्यता रद्द करने की मांग की। चूँकि संसद की लोकलेखा समिति अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले की जांच करेगी, अमित जोगी ने लोकसभा अध्यक्षा को लिखे अपने पत्र में कहा है कि यह नैतिक आचरण का अहम प्रशन है कि संसद की लोकलेखा समिति में एक ऐसे सदस्य का होना जिनके पिता उस सरकार के मुख्यमंत्री हों और जिनकी सरकार पर अगस्ता वेस्टलैंड सौदे में गड़बड़ियाँ स्वयं राज्य के महालेखाकार ने अपनी जांच में पायी हो।     इस विषय के संबंध में अमित जोगी ने कहा कि भारतीय सांसद की सबसे पुरानी एवं महत्वपूर्ण समितियों में से एक, "लोकलेखा समिति" (Public Accounts Committee) का पुनर्गठन दिनांक 01 मई 2016 को माननीय सांसद प्रो के.वी. थॉमस जी की अध्यक्षता में किया गया है।  22 सदस्यीय लोकलेखा समिति में छत्तीसगढ़ राज्य के राजनांदगांव संसदीय क्षेत्र से लोकसभा सांसद एवं मुख्यमंत्री माननीय रमन सिंह जी के पुत्र अभिषेक सिंह भी हैं। इस वर्ष के अपने कार्यकाल के दौरान संसद की लोकलेखा समिति अन्य विषयों के साथ, अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकाप्टर खरीदी घोटाले की भी जांच करेगी। अगस्ता हेलीकाप्टर खरीदी में भ्रष्टाचार और गड़बड़ियों के तार छत्तीसगढ़ से भी जुड़े हैं जिसका छत्तीसगढ़ के महालेखाकार ने वर्ष 2011 की कैग रिपोर्ट में साफ़ उल्लेख किया है।  इस पूरे मामले में अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले में हाल ही में हुए कुछ चौंकाने वाले दस्तावेजी खुलासों में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह एवं उनके सांसद पुत्र अभिषेक का नाम उजागर हुआ है। मुख्यमंत्री एवं उनके पुत्र पर अगस्ता के सौदे से मिले कमीशन के पैसों को विदेशी बैंकों में भेजने के गंभीर आरोप हैं।    जोगी ने कहा कि इन परिस्थितियों में सांसद अभिषेक सिंह का एक सदस्य के रूप में लोकलेखा समिति (PAC) में बने रहना अनैतिक है । विशेषकर तब जब संसद की लोकलेखा समिति अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले की जांच करेगी। अगस्ता घोटाले की जांच एवं पूछताछ के दौरान यह संभावित है कि लोकलेखा समिति के सदस्यों के हाथ, घोटाले से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियां लगेंगी। ऐसे में सांसद अभिषेक सिंह के रहते जांच प्रभावित होने की संभावना को नकारा नहीं जा सकता। ये स्वाभाविक है कि सांसद अभिषेक सिंह के लोकलेखा समिति में रहते हुए समिति द्वारा अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले की निष्पक्ष और पारदर्शी जांच होने पर कई सवाल खड़े होंगे।  अमित जोगी ने लोकसभा स्पीकर श्रीमती सुमित्रा महाजन एवं लोकलेखा समिति के अध्यक्ष सांसद के.वी. थॉमस से मांग की है कि लोकलेखा समिति द्वारा अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले में जांच शुरू होने से पूर्व लोकहित के इस गंभीर विषय को संज्ञान में लेते हुए, लोकलेखा समिति से सांसद अभिषेक सिंह की सदस्यता वापस लेने हेतू कार्यवाही की जाए । एवं इस विषय को लोकसभा की एथिक्स कमिटी की विवेचना हेतु भेजा जाए।        अमित जोगी ने रमन सिंह एवं उनके पुत्र  अभिषेक सिंह के विरुद्ध अगस्ता वेस्टलैंड, पनामा लीक एवं विदेशी कंपनियों और खातों को लेकर किये अहम खुलासे पहला खुलासा अमित जोगी ने पहला खुलासा करते हुए कहा कि हेलीकाप्टर खरीदी के सौदे में छत्तीसगढ़ सरकार के प्रभावशाली लोगों की संलिप्तता के तथ्यों का पता लगाने में जुटने के बाद कुछ सूत्रों से पता चला कि  "शार्प ओशन" कंपनी तो 1 अगस्त 2008 को बंद कर दी गयी (दस्तावेज संलग्न) । छत्तीसगढ़ सरकार ने "शार्प ओशन" कंपनी को वर्ष 2008 के शुरुआत में पूरा कमीशन दे दिया। इसके बाद 3 जुलाई 2008 को अभिषेक की कंपनी क्वेस्ट हाइट्स लिमिटेड खोली गयी और इसके उपरान्त शार्प ओशन कंपनी ने कमीशन का पैसा अभिषेक की कंपनी क्वेस्ट हाइट्स में ट्रांसफर किया और अभिषेक सिंह की क्वेस्ट हाइट्स लिमिटेड खुलने के  ठीक 27 दिन बाद  "शार्प ओशन" कंपनी को बंद कर दिया गया।  इतना ही नहीं ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड में पंजीकृत एवं हांगकांग से संचालित इस कंपनी का व्यापर "प्राइवेट" उल्लेखित है यानि जानबूझ कर जानकारी छुपाई गयी है। तो फिर ऐसी कंपनी को सरकार ने किस आधार पर भारी कमीशन दिया जिसके व्यापर एवं कार्य क्षेत्र के विषय में कोई जानकारी सार्वजनिक है ही नहीं, कौन हैं इस कंपनी के डायरेक्टर्स ? । क्यों इस कंपनी का बैकग्राउंड नहीं जांचा गया ? केवल अगस्ता वेस्टलैंड के कहने भर से इतनी बड़ी रकम सरकारी कोष से किन नियमों के तहत दी गयी। अगस्ता वेस्टलैंड ऐसी बोगस कंपनियां कमीशन देने के लिए खोलता और बंद करता है।    दूसरा खुलासा SHARECORP नामक जिस कंपनी के माध्यम से मुख्यमंत्री एवं उनके पुत्र का पैसा स्विस बैंक UBS AG में जमा होता है ये वही कंपनी है जिससे भारतीयों बैंकों को लुटने वाले विजय माल्या का पैसा बाहर जाता था।  विजय माल्या और अभिषेक सिंह दोनों ने ही SHARECORP नामक इस कंपनी को अपना शेयरहोल्डर नॉमिनी नियुक्त किया है। ये उसी अभिषेक सिंह ने किया है जिसक पता रमन मेडिकल स्टोर कवर्धा के नाम से है।    दूसरा खुलासा करते हुए अमित जोगी ने कहा कि विजय माल्या ने जिस कंपनी "शेयर कोर्प" (SHARE CORP) के माध्यम से देश का पैसा देश से बाहर भेजा उसी कंपनी के माध्यम से रमन सिंह और अभिषेक सिंह का काला धन देश के बाहर गया या यूँ कहिये कि चैनलाइज हुआ। ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड में पंजीकृत कंपनी "क्वेस्ट हाइट्स" लिमिटेड जिसके डायरेक्टर "अभिषेक सिंह " हैं और जिसका पता रमन मेडिकल स्टोर कवर्धा है।  अभिषेक सिंह ने बतौर क्वेस्ट हाइट्स का डायरेक्टर होते हुए,  "शेयर कोर्प" (SHARE CORP) कंपनी को अपना शेयरहोल्डर नॉमिनी नियुक्त किया । और इसी बोगस कंपनी के माध्यम से मुख्यमंत्री एवं उनके परिवार का अरबों का काला धन स्विस बैंक UBS AG एवं उसके सम्बंधित बैंकों में जमा है। स्विस बैंक UBS AG ने ही "शेयर कोर्प" (SHARE CORP) खोलने में मदद की ताकि इसके माध्यम से जो बैंक खाते का असली मालिक है या जिसके पैसे हैं उसकी असली पहचान को गुप्त रखा जा सके। अभिषेक सिंह ने भी माल्या की तरह "शेयर कोर्प" (SHARE CORP) को इसलिए अपना शेयरहोल्डर नॉमिनी नियुक्त किया ताकि उनकी पहचान छुपी रहे।  असल में "शेयर कोर्प" (SHARE CORP) को चलाने वाली कंपनी है पोर्टक्युललिस, ये वही कंपनी है जो जिसके ऑफिस के फ्लोर में अभिषेक सिंह की कंपनी क्वेस्ट हाइट्स का ऑफिस है। मुख्यमंत्री एवं अभिषेक सिंह का विदेश में पैसे का देखरेख, प्लानिंग, बैंक खाते, वगैरह सब कुछ पोर्टक्युललिस ही करती है। पोर्टक्युललिस के डायरेक्टर ग्राहम फरिंहा से पूछताछ करने या संपर्क साधकर मुख्यमंत्री एवं अभिषेक सिंह के विदेशी खातों एवं पैसों के लेनदेन की सारी सच्चाई सामने आ जाएगी। ग्राहम फरिंहा का ईमेल आईडी है Info.BritishVirginIslands@portcullis.co) दस्तावेज संलग्न )  तीसरा खुलासा अभिषेक सिंह झूठ बोल रहे हैं कि उनका और कमल सारदा को कोई लेना देना नहीं है। अभिषेक सिंह की कंपनी "क्वेस्ट हाइट्स" एवं छत्तीसगढ़ के उद्योगपति कमल किशोर सारदा की कंपनी आइडियल पोजिशनिंग ऑफशोर (IDEAL POSITIONING OFFSHORE) का ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड में पता एक ही है। तीसरा खुलासा करते हुए अमित जोगी ने कहा कि मुख्यमंत्री रमन सिंह के एक करीबी उद्योगपति की भी ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड में एक आइडियल पोजिशनिंग ऑफशोर (IDEAL POSITIONING OFFSHORE) नाम से कंपनी रजिस्टर्ड है। इसमें गलत कुछ नहीं है क्योंकि बड़े उद्योगपतियों के विदेशी खातों और विदेश में कंपनी होना समझ में आता है। लेकिन सवाल वहां खड़ा होता है जब इस उद्योगपति की ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड की इस कंपनी का पता वही है जो मुख्यमंत्री के बेटे अभिषेक सिंह का कंपनी क्वेस्ट हाइट्स का है। यानि दोनों ही एक ही पते पर रजिस्टर्ड है -  Porticullis Trustnet chambers, PO Box, 3444, Roadtown, Tortola,  British Virgin Island. अभिषेक सिंह और छत्तीसगढ़ के इस उद्योगपति की कंपनियों का पंजीयन भी वर्ष 2008 में एक महीने आगे पीछे हुआ है। अभिषेक सिंह की क्वेस्ट हाइट्स 3 जुलाई 2008 को एवं उद्योगपति की कंपनी आइडियल पोजिशनिंग ऑफशोर का पंजीयन 3 जून 2008 को।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  17 May 2016

Video

Page Views

  • Last day : 2842
  • Last 7 days : 18353
  • Last 30 days : 71082
Advertisement
Advertisement
Advertisement
All Rights Reserved ©2017 MadhyaBharat News.