Since: 23-09-2009

Latest News :
दिल्ली में हेलिकॉप्टर से पानी के छिड़काव की तैयारी.   अचार, मुरब्बा बनाने की तकनीक दुनिया को करती है उत्साहितः मोदी.   गुजरात में चुनाव दिसम्बर में होने के संकेत.   मीडिया की गति और नियति.   PM मोदी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की मौजूदगी में रावण दहन .   राज ठाकरे की चुनौती, पहले सुधारो मुुंबई लोकल फिर बुलेट ट्रेन की बात.   कबीर की शिक्षा समाज के लिये संजीवनी : कबीर महोत्सव में राष्ट्रपति श्री कोविंद.   चित्रकूट में एक हजार से अधिक लायसेंसी हथियार जमा.   भावांतर भुगतान योजना में एक लाख 12 हजार से अधिक किसानों द्वारा 32 लाख क्विंटल उपज का विक्रय .   उद्योग संवर्द्धन नीति-2014 में संशोधन की मंजूरी.   मुख्यमंत्री शिवराज के निवास पर दशहरा पूजा.   मानव जीवन के लिए नदी बचाना जरूरी : चौहान.   मूणत CD कांड - फॉरेंसिंक रिपोर्ट आते ही शुरू होगी CBI जांच.   मूणत की CD का सच सीबीआई को सौंपने दिल्ली पहुंची एसआईटी.   पुलिस लाइन रायगढ़ के प्रशासनिक भवन में आग.   बीमार पत्नी से झगड़ा पति, हत्या कर फांसी पर झूला.   बस्तर दशहरा के लिए माई जी को न्यौता.   बस्तर को अलग राज्य बनाने की मांग.  

राजनांदगांव News


राजनंदगांव

राजनंदगांव में भवाना टोला गांव के ऊपर स्थित मंदिर में एक प्रेमी युगल ने कीटनाशक पीकर आत्‍महत्‍या कर ली है। जैसे ही लोगों को इस बात की जानकारी लगी मंदिर में भीड़ एकत्र होना शुरू हो गई। इस बात की जानकारी पुलिस को दे दी गई है। आत्‍महत्‍या करने वाले लड़के की पहचान पेडकोडो निवाशी नीरज कुमार पिता आत्‍माराम नेताम के रूप में हुई है। लड़के की उम्र 20 वर्ष बताई जा रही है, वहीं लड़की की पहचान मुरेटिटोला निवासी दामनी कोमर (19 वर्ष) पिता ललित कोमर के रूप में हुई है। दोनों ने कीटनाशक का सेवन कर मौत को गले लगा लिया। मौत के कारणों को अभी खुलासा नहीं हो सका है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  9 July 2017

naxli

राजनांदगांव के सुकतरा जंगल में एसटीएफ और डीएफ के सर्चिंग अभियान के दौरान मुठभेड़ में दो नक्सली मारे गए हैं। मिली जानकारी के मुताबिक नक्सलियों की विस्तार प्लाटून नंबर दो के डिप्टी सेक्शन कमांडर और तीन लाख रुपए का इनामी नक्सली राजू मारा गया है। राजू बीजापुर जिले का रहने वाला था। इसके अलावा मुठभेड़ में सुकमा जिले का निवासी नंदू भी मारा गया है। घटना स्थल से सर्चिंग टीम को एक पिस्टल, पांच कारतूस, रायफल, एक जिंदा कारतूस, वॉकीटॉकी के अलावा नक्सली वर्दी और अन्य सामान बरामद हुआ है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  29 June 2017

पत्थलगांव में सराफा व्यवसायी

पत्थलगांव में सराफा व्यवसायी के सोने-चांदी के जेवरों से भरे दो बैग उठाईगीरों ने पार कर दिया। इसमें 21 लाख रुपए से अधिक मूल्य के गहने थे। दिन दहाड़े हुई इस घटना से क्षेत्र में हड़कंप मच गया। सूचना मिलते ही पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। जानकारी के मुताबिक पुलिस थाने के सामने स्थित पूजा ज्वेलर्स के संचालक सुमनदास पिता विष्णुदास गुप्ता पुराना बाजार स्थित अपने घर से सोमवार की सुबह दुकान खोलने पहुंचे थे। उन्होंने दुकान का शटर खोलने के दौरान सोने और चांदी के गहनों से भरे दो बैग को दुकान की सीढ़ी में रखा दिया। शटर खोलने के बाद वह दुकान के सामने पड़े कचरे को साफ करने लगे। जैसे ही वह दुकान के अंदर झाड़ू लेने के लिए गए, अज्ञात उठाईगीरों ने जेवरों से भरे दोनों बैग को पार कर दिया। जानकारी के मुताबिक बैग में लगभग 7 सौ ग्राम सोना और लगभग 2 किलो चांदी के जेवर के साथ नगद रुपए भी थे। झाड़ू लगा कर जैसे ही संचालक का ध्यान सीढ़ियों पर गया, बैग गायब पाकर होश उड़ गए। संचालक की आवाज सुनकर आसपास के व्यवसायी और नगरवासी घटनास्थल पर जमा हो गए। सूचना पर पत्थलगांव पुलिस तत्काल मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने आसपास बैग तलाश करने की कोशिश की लेकिन उसे सफलता नहीं मिल सकी। पुलिस अधीक्षक पीएस ठाकुर भी मौके पर पहुंचे। ज्वेलर्स दुकान के आसपास लगे सभी मकान व प्रतिष्ठानों के सीसीटीवी कैमरे खंगाले जा रहे हैं। पुलिस को उम्मीद है कि किसी फुटेज से आरोपियों की पहचान हो सकती है। इसके साथ ही पत्थलगांव पुलिस की टीम ने पत्थलगांव से बाहर जाने वाले सभी रास्तों में नाकाबंदी कर जांच शुरू कर दी है। आरोपियों तक पहुंचने के लिए पुलिस ने स्नीफर डॉग का भी सहारा लिया, लेकिन इससे भी कुछ हासिल नहीं हो सका।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  4 April 2017

cg शराबबंदी की मांग

छत्तीसगढ़ में पूर्ण शराबबंदी की मांग को लेकर महिला कांग्रेस ने सोमवार को  राजनांदगांव में राज्य सरकार के खिलाफ अनोखा प्रदर्शन किया। महिलाओं ने इमाम चौक स्थित शराब दुकान से पहले शराब की बोतलें खरीदी। फिर हाथों में उन्हें बोतलों को लेकर शहर भ्रमण किया। इससे पहले जयस्तंभ चौक पर महिलाओं ने राज्य सरकार पर प्रदेश का माहौल बिगाड़ने का आरोप भी लगाया। ठेले पर रमन दारू दुकान के नाम पर मुख्यमंत्री की फोटो व शराब की बोतल लेकर महिलाओं ने महावीर चौक से शहर का भ्रमण किया और पूर्ण शराबबंदी की मांग की। जयस्तंभ चौक पर महिला कांग्रेस ने राज्यपाल के नाम नायब तहसीलदार को ज्ञापन के साथ एक शराब बोतल भी भेंट की। वहीं बाकी की बोतलों को महिलाओं ने वहीं फोड़ कर शराबबंदी की मांग की। महिलाओं ने खरीदी शराब महिला कांग्रेस रैली के रूप में इमाम चौक स्थित शराब दुकान पहुंची, यहां महिलाओं ने अंग्रेजी शराब की बोतलें खरीदी कर सरकार के शराब बिक्री निर्णय का विरोध किया। कांग्रेस की महिलाओं ने हाथों में शराब की बोतल लेकर इमाम चौक पर प्रदर्शन भी किया। भाजपा सरकार के खिलाफ नारे लगाए। ठेले पर शराब की बोतल रखकर महिलाओं ने पूरे प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी की मांग की। शहर महिला कांग्रेस अध्यक्ष हेमा देशमुख के नेतृत्व में पार्टी की महिला पदाधिकारियों ने जीई रोड, कामठी लाइन, गुडाखू लाइन से मानव मंदिर चौक होकर जयस्तंभ चौक पर रमन सरकार के खिलाफ आक्रोश व्यक्त किया। वहीं पूर्ण रूप से शराबबंदी की मांग पर राज्यपाल के नाम नायब तहसीलदार को ज्ञापन दिया। शहर महिला कांग्रेस अध्यक्ष हेमा देशमुख व वरिष्ठ नेत्री शारदा तिवारी ने कहा कि भाजपा सरकार ने प्रदेश की जनता को धीरे-धीरे शराबबंदी करने का वादा कर धोखा दिया है, लेकिन शराबबंदी छोड़ सरकार खुद शराब बेचने की तैयारी कर रही है। शारदा तिवारी ने कहा कि शराब के कारण प्रदेशभर की महिला परेशान है। सरकार का यह निर्णय महिलाओं के साथ अत्याचार से कम नहीं है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  28 March 2017

income tax

छत्तीसगढ़ में काला धन जमा करने वाले कारोबारियों पर आयकर विभाग ने अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई की है। आयकर विभाग ने प्रदेश के नौ शहरों में 15 अलग-अलग कारोबारियों के ठिकानों पर बुधवार को एक साथ सर्वे की कार्रवाई शुरू की। मुख्य आयकर आयुक्त केसी घुमरिया ने नईदुनिया को बताया कि नोटबंदी के दौरान खातों में लाखों रुपए जमा करने वालों के खिलाफ विभाग ने कार्रवाई शुरू की है। इसके तहत रायपुर सहित बिलासपुर, राजनांदगांव, भिलाई, महासमुंद, कांकेर, जगदलपुर, बेमेतरा और भाटापारा में कार्रवाई की गई है। आयकर विभाग के आला अधिकारियों ने बताया कि बस्तर के कारोबारियों पर पहली बार कार्रवाई हो रही है। आदिवासी बहुल कांकेर और जगदलपुर के रियल एस्टेट और सराफा कारोबारी कार्रवाई जद में आए हैं। नोटबंदी के दौरान मनमाने पैसा जमा करने पर देशभर के 12 लाख कारोबारियों से जवाब मांगा गया था। लेकिन अधिकांश कारोबारियों ने जवाब नहीं दिया। इनमें सबसे ज्यादा सराफा और रियल एस्टेट कारोबारी हैं। कई कारोबारियों ने बोगस कंपनियां बनाकर करोड़ों स्र्पए जमा किए हैं। बोगस कंपनी संचालकों की ओर से कोई जवाब नहीं आया। अब ऐसी कंपनियों की भी जांच शुरू कर दी गई है। अधिकारियों ने बताया कि कई बोगस कंपनियों के पते की जांच की गई। राजधानी सहित राजनांदगांव और बिलासपुर में बोगस कंपनियों के पते पर टीम पहुंची तो कंपनी मिली ही नहीं। आसपास के लोगों ने ऐसी कोई कंपनी नहीं होना बताया। ये सभी जांच की जद में हैं। नोटबंदी के बाद आयकर की टीम ने आठ सर्वे किए, जिनमें कारोबारियों ने 15 करोड़ की अघोषित आय सरेंडर की है। रायपुर, राजनांदगांव और तिल्दा में जांच पूरी हुई है। अधिकारियों ने बताया कि राजनांदगांव के बरड़िया ज्वेलर्स में 1 करोड़ 70 लाख स्र्पए सरेंडर किए हैं। आयकर इन्वेस्टिगेशन विंग ने मार्च में चार सर्वे किए, जिनमें कारोबारियों ने छह करोड़ स्र्पए सरेंडर किए हैं। सीसीआईटी केसी घुमरिया ने बताया कि इस वर्ष 4200 करोड़ के राजस्व वसूली का टारगेट है, जिसमें से अब तक 2800 करोड़ की वसूली हो गई है। उन्होंने कहा कि 31 मार्च तक सर्वे की कार्रवाई में तेजी रहेगी।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  16 March 2017

छत्तीसगढ़ी

छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग का पांचवा दो दिवसीय प्रांतीय सम्मेलन राजिम के पं. रामबिशाल पाणडेय विद्यालय में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक, सांसद चंदूलाल साहू, विधायक संतोष उपाध्याय, आयोग के प्रदेशाध्यक्ष विनय कुमार पाठक की मौजूदगी में हुआ। पूर्व मंत्री अमितेश शुक्ला, प्रख्यात कवि व आयोग के सचिव डॉ. सुरेन्द्र दुबे सहित प्रदेश भर के 27 जिले व देश भर से आए ख्याति नाम कवि साहित्यकार की मौजूदगी में शुभारंभ हुआ। इस अवसर पर धरमलाल कौशिक ने मुख्य अतिथि की आसंदी से कहा कि छत्तीसगढ़ी भाषा संविधान के आठवीं अनुसूची में जुड़ने के बाद हिन्दुस्तान की दर्जा प्राप्त भाषा बन जाएगी। तब हमारे दोनों सदन के संसद प्रतिनिधि छत्तीसगढ़ी में प्रश्न कर सकेंगे। पत्राचार भी किया जा सकेगा। कौशिक ने कहा कि गांवों में छत्तीसगढ़ी बोल चाल की भाषा है लेकिन शहर के लोग बोलने से सकुचाते हैं। मात्र सरकार द्वारा दर्जा देने से काम नहीं चलेगा इसके लिए हर छत्तीसगढ़िया को आगे आना होगा। हर राज्य में उनकी अपनी भाषा चलती है। अपनी क्षेत्रीय भाषा को गर्व से प्रस्तुत करते हैं लेकिन हम छत्तीसगढ़िया छत्तीसगढ़ी बोलने से परहेज क्यों करते हैं। मंच पर मौजूद प्रदेशभर के साहित्यकारों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि ब्रम्हलीन पवन दीवान पृथक छत्तीसग़ढ़ आंदोलन के नेतृत्वकर्ता थे। इसके लिए उन्होंने अनेक लड़ाइयां लड़ी। भागवत कथा के माध्यम से छत्तीसगढ़ी को जन जन तक पहुंचाया।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  31 January 2017

rajnandgaon

      राजनांदगांव जिले के कोपंखड़का गांव के पास सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच गुरुवार-शुक्रवार की दरमियानी रात मुठभेड़ हो गई। पुलिस और आईटीबीपी की संयुक्त टीम जंगल में गश्त कर रही थी। इसी दौरान उन पर नक्सलियों ने फायरिंग कर दी। तुरंत सुरक्षाबलों ने मोर्चा संभाला और जवाबी फायरिंग की। देर रात को हुई इस घटना के बाद नक्सली वहां से भाग निकले। सर्चिंग में इलाके से नक्सलियों के दैनिक उपयोग का सामान बरामद किया गया है। इसके साथ ही आस-पास के इलाकों सर्चिंग कर भागे नक्सलियों की तलाश की जा रही है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  23 December 2016

shahid booga

राजकीय सम्मान के साथ हुआ शहीद बोगा का अंतिम संस्कार  गृहमंत्री  पैकरा सहित पुलिस के आला अफसरों ने दी श्रद्धांजली   राजनांदगांव जिले के मेरेगांव- सांगली गांवों की सीमा पर स्थित गृह परिसर में शहीद सहायक उप निरीक्षक श्री नरबद सिंह बोगा का पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार संपन्न हुआ। शहीद पुलिस अधिकारी की अंतिम यात्रा में राज्य के गृह मंत्री  रामसेवक पैकरा ने शामिल होकर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह सहित राज्य की जनता की ओर से शहीद श्री नरबद सिंह बोगा को श्रद्धांजली अर्पित की और इस दुख की घडी में उनके शोकाकुल परिजनों से मिलकर उन्हें ढांढस बंधाया।  अंतिम संस्कार के पूर्व शहीद श्री बोगा को पुलिस अधिकारियों द्वारा शस्त्र झुकाकर सलामी दी गई। परिजनों, रिश्तेदारों और आस-पास के गांवों से बड़ी संख्या में मौजूद ग्रामीणजनों तथा जनप्रतिनिधियों की श्रद्धामयी उपस्थिति में शहीद श्री बोगा को उनके गृह परिसर में ही उनके शोकाकुल जेष्ठय पुत्र श्री घनश्याम ने मुखाग्रि दी। शहीद पुलिस अधिकारी श्री बोगा की अंतिम संस्कार में संसदीय सचिव लाफचंद बाफना, विधायक द्वय श्रीमती तेजकुंवर नेताम और  भोलाराम साहू, राज्य भण्डार गृह निगम के अध्यक्ष  नीलू शर्मा सहित पूर्व मंत्री  राजिन्दर पाल सिंह भाटिया, जिला पंचायत के पूर्व अध्यक्ष  दिनेश गांधी, राजनांदगांव नगर निगम के महापौर  मधुसूदन यादव और राजगामी संपदा न्यास के पूर्व अध्यक्ष  संतोष अग्रवाल भी शामिल हुए। राज्य शासन के गृह सचिव श्री बी. सुब्रमणयम, पुलिस महानिदेशक श्री ए.एन. उपाध्याय, पुलिस महानिदेशक नक्सल आपरेशन  डी.एम. अवस्थी, पुलिस  महानिरीक्षक  दीपांशु काबरा, भारत तिब्बत सीमा पुलिस के कमाण्डेंट  नरेन्द्र सिंह  कलेक्टर  मुकेश बंसल , पुलिस अधीक्षक  प्रशांत अग्रवाल ने भी वीर शहीद श्री बोगा को भावभीनी श्रद्धांजली अर्पित की। इस शोक के अवसर पर गृहमंत्री  रामसेवक पैकरा ने शहीद श्री नरबद बोगा के परिजनों से मुलाकात की और ईश्वर से इस दुख की घड़ी को सहने की शक्ति देने की प्रार्थना की। उन्होनें श्री बोगा की हत्या की घटना की जांच कराने और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने का आश्वासन परिजनों को दिया। उल्लेखनीय है कि कल 6 नवम्बर को शाम के समय बागनदी थाना के अंतर्गत ग्राम चिरचारी में दो अज्ञात बाईक सवारों द्वारा सहायक उप पुलिस निरीक्षक श्री नरबद सिंह बोगा की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।       

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  8 November 2016

anmol india

राजनांदगांव पुलिस ने छह साल में रकम दोगुना कर देने का लालच देकर लोगों से करीब 44 करोड़ रुपए की ठगी करने के आरोपी अनमोल इंडिया एग्रो हर्बल फारमिंग एंड डेयरीज केयर कंपनी लिमिटेड के दो डायरेक्टरों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने मो. खालिद पिता मो. हाजी उमर मेमन (39) व मो. जुनैद पिता मो. हाजी उमर मेमन (34) को अनमोल टॉवर वैशाली नगर नागपुर में शनिवार को दबोचा। एएसपी शशिमोहन सिंह ने  मामले का खुलासा करते हुए बताया कि छुरिया के प्रार्थी सतवंत पिता स्व. हरभजन सिंह भाटिया ने अनमोल इंडिया के डायरेक्टरों के नाम पर बसंतपुर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। प्रार्थी से ग्रुप के डायरेक्टरों ने प्लाट व छह साल में राशि डबल कर देने का लालच देकर वर्ष 2008 में दो बार 90-90 हजार रुपए, 1 लाख 58 हजार 760 रुपए का आरडी और 30-30 हजार रुपए के तीन आरडी लिया था। 2014 में कंपनी बंद हो गई। सतवंत के पहले बसंतपुर गंज मंडी निवासी टिकेश्वरी वर्मा ने भी अनमोल गु्रप के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। मामले में आरोपी डायरेक्टरों के खिलाफ धारा 406, 420 के तहत जुर्म दर्ज किया गया था। एएसपी ने बताया कि अनमोल इंडिया कंपनी को निवेशकों को 44 करोड़ रुपए लौटाने हैं। फर्म में जितने निवेशक हैं, उनका पता लगाया जा रहा है। आरोपियों को ज्युडिशियल रिमांड में रखा गया है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  24 October 2016

amit jogi -raman singh

राजनांदगांव में शौचालय निर्माण के लिए दबाव और हत्या मामले में बोले अमित जोगी राजनांदगांव में  मरवाही विधायक अमित जोगी ने शौचालय निर्माण के लिए राजनांदगांव जिले में हुई हत्या मामले में कहा है कि यह अभियान पूरी तरह खोखला साबित हो रहा है। गांव-मोहल्लों को ओडीएफ घोषित करवाने के लिए शासन स्तर पर जो दबाव डाला जा रहा है इसी की परिणीति है यह घटना। शौचालय निर्माण के लिए दबाव को देखें तो यह तो इमरजेंसी जैसे हालात लग रहे हैं।  उन्होंने कहा कि महज 12 हज़ार रुपए शौचालय बनाने के लिए दिए जा रहे हैं वह भी शौचालय बनवा लेने के बाद, इससे गरीब आदमी खासतौर से गरीबी रेखा से नीचे के लोग, वह कहां से बनवा सकेंगे। लेकिन प्रतिनिधि और शासन दोनों ही इस बात को समझे बिना दबाव डाले जा रहे हैं। मरवाही विधायक ने मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह को चुनौती देते हुए कहा कि वे खुद 12 हज़ार रुपए में शौचालय निर्माण कर उसका उपयोग कर दिखाएं। तब उन्हें हकीकत मालूम चलेगी कि 12 हज़ार रुपए में कैसा शौचालय बन रहा है, कैसी गुणवत्ता वाला निर्माण हो रहा है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की स्वच्छ भारत मुहिम पूरे तौर पर खोखला साबित हो रही है,इस अभियान के विज्ञापन में ही अरबों रुपए फूंक दिए जा रहे हैं लेकिन जमीनी स्तर पर काम करने के लिए महज 12 हज़ार रुपए प्रति शौचालय दिए जा रहे हैं। इतनी रकम में कैसी गुणवत्ता मिलेगी, उपर से इसी रकम में से सरकारी कर्मचारी अपना कमीशन भी निकाल ले रहे हैं, बाकी रकम में जो शौचालय बन रहा है वह शौचालय के नाम पर महज उसका ढांचा होता है। और यही ढांचा ही ओडीएफ घोषणा में काम आता है। कुल मिलाकर यह है कि रमन राज में हर मामले में आंकड़ों की बाजीगरी होती है, चाहे हकीकत में काम हुआ हो या न हुआ हो या फिर बेकार गुणवत्ता वाला काम हुआ हो। राज्य में जितने शौचालय बन रहे हैं उनमें 90 फीसदी तो गुणवत्ताहीन है, और 80 फीसदी में पानी नहीं है। मरवाही विधायक ने कहा कि छत्तीसगढ़ में स्थिति यह है कि कई गरीब परिवार महज यह शौचालय बनवाने के लिए ही कर्ज ले रहे हैं,क्योंकि उन पर इतना दबाव है शौचालय बनवाने के लिए। इसी दबाव के चलते ही अब हत्याएं भी हो रही है। शौचालय बनवाने के बाद 12 में से महज 8 हजार ही उनके हाथ में पहुंच रहा है बाकी कमीशन में जा रहा। राज्य सरकार को कोयले से राजस्व आता है,खनिज से इतना राजस्व आता है, सरकार चाहे तो खुद बनवा कर दे सकती है शौचालय और ऐसा ही करना भी चाहिए। स्वच्छ भारत अभियान के विज्ञापन के लिए जितने रुपए खर्च हो रहे हैं, उसका एक फीसदी भी अगर शौचालय  निर्माण में लगा दें तो लोगों को दबाव नहीं झेलना पड़ेगा। ओडीएफ घोषित करने की हड़बड़ी में इन सब हालात को सरकार नहीं देख पा रही है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  8 October 2016

film gomati

छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा विधिक जागरूकता को लेकर देश का पहला लघु फिल्म फेस्टिवल का आयोजन किया गया।  फिल्म फेस्टिवल राजनांदगांव के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शशिमोहन सिंह द्वारा टोनही प्रताड़ना पर आधारित फिल्म गोमती को ज्यूरी का श्रेष्ठ फिल्म का अवार्ड दिया गया । देशभर के विभिन्न राज्यों से अस्सी नामांकित फिल्मों में से गोमती को छत्तीगढ़ के चीफ जस्टीस न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की उपस्थिति में ज्यूरी का श्रेष्ठ फिल्म अवार्ड प्रदान किया गया । फिल्म में मुख्य भूमिका शशिमोहन सिंह, भारती आलिया अली, पिंकी शर्मा, शोएब अली, शरद श्रीवास्तव सहित यश गुप्ता, तौसीफ, रागिनी, सुरभि, संदीप, नरेन्द्र, सौरभ, नीरज आर्यन ने निभाई है ।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  20 September 2016

cg rajnandgaon

कृषि विकास की नई पहचान बना केकतीटोला किसी एक जगह पर हितग्राहियों को केवल केन्द्र एवं राज्य शासन की विभिन्न योजनाओं का सामुहिक रूप से क्रियान्वयन कर लाभ पहुंचाने के, विकास के नये प्रयोग में राजनांदगांव जिले की केकतीटोला ग्राम पंचायत अब उदाहरण साबित हो रही है।  राजनांदगांव जिले के विकासखण्ड अंबागढ़ चौकी के ग्राम पंचायत केकतीटोला में ग्रामवासियों की आमदनी बढ़ाने के लिए खेती-किसानी में शासकीय योजनाओं का एक साथ समग्र लाभ दिलाने का प्रयोग सफल साबित हुआ है। ग्राम पंचायत केकतीटोला में छत्तीसगढ़ शासन की पहल पर केन्द्र सरकार द्वारा संचालित महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी एक्ट से स्वीकृत कार्यों को आधार बनाकर छत्तीसगढ़ सरकार की खेती-किसानी से जुड़ी योजनाओं का एक साथ लाभ किसानों को दिया गया।  ग्राम पंचायत में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी एक्ट के तहत पहले किसानों की उबड़-खाबड़ जमीनों का समतलीकरण कराया गया और फिर उस जमीन पर खेती के लिए सिंचाई की व्यवस्था के साथ-साथ बीज और खाद की भी व्यवस्था शासकीय योजनाओं के तहत कराई गई। शासकीय योजनाओं के सम्मिलित रूप से एक साथ क्रियान्वयन से ग्राम पंचायत केकतीटोला के 14-15 किसानों ने अपनी आमदनी में लगभग दो गुनी वृद्धि कर ली है।  योजनाओं का सम्मिलित रूप से लाभ लेने से किसानों को न केवल सिंचाई के साधन उपलब्ध हुए है बल्कि भूमि सुधार होने से उन्होनें खाद्यान्न फसलों के साथ सब्जी आदि का उत्पादन कर अपने लिये आय के वैकल्पिक साधन भी विकसित कर लिये हैं। विकासखण्ड अंबागढ़ चौकी से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित केकतीटोला के किसानों की जमीनों पर सबसे पहले महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी एक्ट के तहत भूमि सुधार के काम कराये गये। इस ग्राम में नहर और नाले के पास जिन कृषकों की जमीनें थी, उन्हें विद्युत विभाग द्वारा नहर-नाला ऊर्जीकरण योजनांतर्गत विद्युत लाइन लगाकर खेतों में सिंचाई के लिए बिजली उपलब्ध करायी गई। कृषि विभाग द्वारा शाकंभरी योजना के तहत खेतों में सिचाई के लिए शासकीय अनुदान पर विद्युत पंप दिये गये। साथ ही जैविक खाद बनाने के लिए नाडेप टंाकों का निर्माण कराया गया। को-आपरेटिव बैंक द्वारा इन किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड उपलब्ध कराये गए जिनके माध्यम से इन्हें रियायती ब्याज दर पर कृषि ऋण भी मिला। इसके साथ उद्यानिकी विभाग द्वारा सब्जियों के उन्नत बीज उपलब्ध कराए गए।  इस ग्राम के निवासी श्री कार्तिकराम यादव कहते है कि कई योजनाओं को संमिश्रित कर एक साथ क्रियान्वित करने  से होने वाले फायदे के बारे में उन्होनें कभी सोचा भी नहीं था। कभी कृषि विभाग के माध्यम से बीज मिल जाता था तो बारिश धोखा दे जाती थी, तो कभी खेत के उबड़-खाबड़ होने से अच्छी बारिश में भी फसल कमजोर होती थी।  श्री कार्तिकराम का कहना है कि उसने महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना अंतर्गत अपनी 0.615 हेक्टेयर भूमि में भूमि सुधार कराया। उसे इस कार्य हेतु योजना से 30 हजार रुपये की राशि प्राप्त हुई। उन्हें विद्युत विभाग द्वारा Óनहर-नाली ऊर्जीकरणÓ योजना अंतर्गत अपने खेत में सिंचाई के लिए बिजली का कनेक्शन भी मिला। बिजली कनेक्शन के लिए श्री कार्तिक राम को एक लाख 20 हजार रुपयें का अनुदान प्राप्त हुआ। श्री कार्तिकराम ने आगे जानकारी देते हुए बतलाया कि कृषि विभाग द्वारा शाकंभरी योजना के तहत 12 हजार 150 रुपयें की सहायता से विद्युत पंप उपलब्ध कराया गया। साथ ही राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत मक्का के बीज नि:शुल्क मिनी किट के रूप में मिले। पहले श्री कार्तिकराम की  आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी। पहले वह अपनी जमीन में खरीफ  के मौसम में धान एवं कोदो की फसल लिया करते थे। कड़ी मेहनत करने के बाद भी वे प्रति एकड़ 8 से 10 क्विंटल धान एवं 2 से 3 तीन क्विंटल कोदो का उत्पादन कर पाते थे। इसमें उसे 4-5 हजार रुपये ही मिलते थे। इतनी कम आय में उन्हें अपने परिवार का भरण-पोषण करना मुश्किल था। आज भूमि के समतल होने एवं विभिन्न योजना का एक साथ लाभ मिलने के कारण उनकी जमींन पूर्ण रुप से सिचिंत एवं  विभिन्न फसलों के उत्पादन लायक हो गई है। आज उसकी जमीन में प्रति एकड 15 से 20 हजार का उत्पादन होने लगा है। साथ ही वह खेतों  की मेढ़ों पर अरहर की फसल ले रहे है। जमींन सिंचित होने से वह रबी के मौसम में उन्होनें मक्का की फसल लगाई थी, जिसमें लगभग 20-22 क्ंिवटल का उत्पादन प्राप्त हुआ। श्री कार्तिकराम को रबी के मौसस में 10 से 12 हजार की आय प्रति एकड़ प्राप्त हुई। अब वे रबी के मौसम में 25 डिसमील जमीन में सब्जी का उत्पादन भी कर लेते है। आज कार्तिकराम पूर्ण रुप से आत्मनिर्भर है। वह खुशी-खुशी यही कहता है कि शासन की योजनाएं उसके लिए वरदान साबित हुई है। केकतीटोला गांव के निवासी मिशुन ने भी महात्मा गांधी नरेगा से अपनी 2.14 एकड़ भर्री जमीन में भूमि सुधार करवाया,इसके लिए उन्हें 28 हजार 248 रुपयें की सहायता मिली। भूमि के समतलीकरण एवं मेड़ बधान होने के कारण खेती-किसानी की पैदावार बढ़ गई है। श्री मिशुन को भी कृषि विभाग द्वारा शाकाम्बरी योजना से 12 हजार 150 रुपयें की राशि प्रदाय कर 3 एच.पी. का विद्युत पंप उपलब्ध कराया गया एवं राष्ट्रीय कृषि विकास योजना अंतर्गत नि:शुल्क मक्का मिनी किट दिये गये। साथ ही उसे विद्युत विभाग द्वारा विद्युत कनेक्शन भी दिया गया। आज श्री मिशुन को भी प्रति एकड़ 14 से 15 हजार रुपये की आय प्राप्त हो रही है। इस प्रकार केकतीटोला में दर्जनों ऐसे किसान है जिन्हें शासकीय योजनाओं के संमिश्रण से क्रियान्वयन करने पर कल्पना से परे लाभ हुआ है। परिवार की आर्थिक स्थिति सुधरी है और अब सभी जरूरतें आसानी से पूरी हो  रही है। योजनाओं का संमिश्रण कर लागू करने से ही सरकार का सबके साथ-सबका विकास ' का उद्देश्य  पूरा होता प्रतीत हो रहा है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  13 September 2016

mobile app

      राजनांदगांव में निरनिधि मोबाइल एप की लांचिंग के बाद  अब  बारिश के दिनों में जलाशयों से पानी छोड़े जाने व अलर्ट रहने की जानकारी अब लोगों को मोबाइल मैसेज से मिल सकेगी। इसके अलावा बारिश के दौरान लगातार बढ़ते जलस्तर व खतरे के निशान से जलाशय व बैराज के ऊपर पहुंचने की जानकारी भी लोगों को मोबाइल संदेश के माध्यम से मिलते रहेगी।   इसके लिए जल संसाधन विभाग द्वारा प्रदेश स्तर पर निरनिधि मोबाइल एप लांच किया गया है। जिसे अपने मोबाइल पर डाउनलोड कर लोग अपने क्षेत्र के जलाशयों व बैराज के रोजाना की स्थिति की जानकारी ले सकेंगे। इस एप के लिए बैराज व जलाशयों में तैनात कर्मचारी रोजाना की स्थिति मोबाइल मैसेज के माध्यम से प्रभारी अधिकारी देंगे जो पूरा डेटा निरनिधि एप्लीकेशन में अपलोड करेंगे।   विभाग ने शुरू की प्रक्रिया   निरनिधि मोबाइल एप की लांचिंग के बाद जिला स्तर पर जल संसाधन विभाग ने इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी है। जल संसाधन के कार्यपालन अभियंता ने सभी जिम्मेदार अफसरों व कर्मचारियों को इसके क्रियान्वयन के लिए निर्देशित कर दिया है। वहीं एप में डाटा अपडेट करने का प्रशिक्षण भी इन जलाशयों व बैराज के जिम्मेदार अफसरों को दे दिया गया है।   समय पर हो सकेंगे एलर्ट   मोबाइल एप के माध्यम से मिलने वाले संदेश से लोग बाढ़ या अधिक बारिश के दौरान जलाशयों व बैराज से पानी छोड़ जाने की जानकारी से एलर्ट हो सकेंगे। अब तक आम लोगों को बगैर कोई सूचना दिए बैराज से पानी छोड़ा जाता था, जिससे कई दफे नहरों व नदियों में दुर्घटना की स्थिति भी निर्मित हो रही थी। लेकिन मोबाइल एप के माध्यम से अब ऐसी स्थिति पर नियंत्रण हो सकेगा। वही बाढ़ जैसी स्थिति का मैसेज भी पूरे प्रशासनिक अमले को समय पर मिल सकेगा।   नियंत्रण दस्ता भी होगा तैयार   निरनिधि मोबाइल एप में रोजाना के जलस्तर का डेटा अपडेट होने से जिला प्रशासन को भी बाढ़ जैसी स्थिति की जानकारी समय रहते मिल सकेगी। जिससे बाढ़ नियंत्रण जैसे कार्य के लिए भी प्रशासन समय रहते पूरी योजना तैयार कर सकेगी। वही प्रदेशस्तर में भी बाढ़ जैसी स्थिति की जानकारी आला अफसरों को मिल सकेगी।   जुड़ेंगे सभी जलाशय व बैराज   निरनिधि मोबाइल एप में ढारा जलाशय, मटियामोती जलाशय, रूसे जलाशय, रश्मिदेवी जलाशय, मोंगरा बैराज, पिपरिया बैराज व सूखानाला बैराज सहित सभी प्रमुख जल संरक्षण स्त्रोतों को जोड़ा जाएगा। जहां हर रोज जल के स्तर व पानी छोड़े जाने की तैयारी सहित बाढ़ जैसी संभवानओं को लेकर एप में संदेश सार्वजनिक किया जाएगा जो लोग मोबाइल फोन से जानकारी नहीं ले सकेंगे उन्हें जल संसाधन विभाग इसकी जानकारी लोगों तक पहुंचाने की व्यवस्था करेगी।   जलसंसाधन विभाग के ई ई एसके सहारे बैराज व जलाशयों में जल स्तर व पानी छोड़े जाने की जानकारी को आसान करने के लिए एप लांच किया गया है। जिससे प्रभावित हिस्से के लोग कभी भी स्थिति की जानकारी हासिल कर सकेंगे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  28 June 2016

Video

Page Views

  • Last day : 2842
  • Last 7 days : 18353
  • Last 30 days : 71082
Advertisement
Advertisement
Advertisement
All Rights Reserved ©2017 MadhyaBharat News.