Since: 23-09-2009

Latest News :
दिल्ली में हेलिकॉप्टर से पानी के छिड़काव की तैयारी.   अचार, मुरब्बा बनाने की तकनीक दुनिया को करती है उत्साहितः मोदी.   गुजरात में चुनाव दिसम्बर में होने के संकेत.   मीडिया की गति और नियति.   PM मोदी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की मौजूदगी में रावण दहन .   राज ठाकरे की चुनौती, पहले सुधारो मुुंबई लोकल फिर बुलेट ट्रेन की बात.   कबीर की शिक्षा समाज के लिये संजीवनी : कबीर महोत्सव में राष्ट्रपति श्री कोविंद.   चित्रकूट में एक हजार से अधिक लायसेंसी हथियार जमा.   भावांतर भुगतान योजना में एक लाख 12 हजार से अधिक किसानों द्वारा 32 लाख क्विंटल उपज का विक्रय .   उद्योग संवर्द्धन नीति-2014 में संशोधन की मंजूरी.   मुख्यमंत्री शिवराज के निवास पर दशहरा पूजा.   मानव जीवन के लिए नदी बचाना जरूरी : चौहान.   मूणत CD कांड - फॉरेंसिंक रिपोर्ट आते ही शुरू होगी CBI जांच.   मूणत की CD का सच सीबीआई को सौंपने दिल्ली पहुंची एसआईटी.   पुलिस लाइन रायगढ़ के प्रशासनिक भवन में आग.   बीमार पत्नी से झगड़ा पति, हत्या कर फांसी पर झूला.   बस्तर दशहरा के लिए माई जी को न्यौता.   बस्तर को अलग राज्य बनाने की मांग.  

अनुपपूर News


अनूपपुर

  नर्मदा सेवा यात्रा का डिण्डोरी जिले से अनूपपुर जिले में पहुँचने पर आज सुबह खाल्हे दूधी के शीशघाट आश्रम में आत्मीय स्वागत किया गया। नर्मदा नदी के उत्तर तट पर अनूपपुर जिले में यात्रा का यह पहला पड़ाव है। यात्रियों ने माँ नर्मदा की पूजा-अर्चना की और नर्मदा को स्वच्छ और प्रदूषणमुक्त बनाने का संकल्प लिया। स्थानीय ग्रामीणों ने लोक नृत्य एवं लोकगीतों के माध्यम से नर्मदा सेवा यात्रा में शामिल श्रद्धालुओं को भाव-विभोर कर दिया। मौसम ने भी यात्रियों को राहत दी। एक दिन पहले तेज धूप में दिन में चलना कठिन था किन्तु आज सबेरे से बादलों की आवाजाही से यात्रियों को सुहाना वातावरण मिला। आज सबेरे से ही खाल्हे दूधी नर्मदा तट पर उत्सव का माहौल था। नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री ओमप्रकाश धुर्वे, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती ज्योति धुर्वे और अनूपपुर जिला प्रशासन की ओर से कलेक्टर श्री अजय शर्मा सहित जिले के वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों और जन-प्रतिनिधियों ने नर्मदा यात्रियों का स्वागत किया। विधायक श्री फुण्देलाल सिंह मार्को, जयसिंह नगर विधानसभा क्षेत्र की विधायक श्रीमती प्रमिला सिंह सहित शीशघाट आश्रम के प्रमुख संत नर्मदा दास भी स्वयं सारी व्यवस्थाएँ देख रहे थे।    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 May 2017

cm shivraj singh

  शिवराज ने अनूपपुर में किया जन-सभा को संबोधित   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि उनका जीवन जनता की सेवा के लिये है और वे इसी भावना से काम करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि 'नमामि देवि नर्मदे'' सेवा यात्रा के जरिये लोगों की समस्याओं के निराकरण के साथ ही नर्मदा के दोनों तट को शुद्ध, स्वच्छ और पर्यावरण की दृष्टि से समृद्ध बनाया जायेगा। श्री चौहान आज अनूपपुर में विशाल जन-सभा को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मेरा अगला जन्म भी जनता की सेवा के लिये ही समर्पित रहेगा। श्री चौहान ने कहा कि उन्होंने हमेशा नागरिकों के हितों, विशेषकर गरीब और अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति का उत्थान करने का प्रयास किया है। श्री चौहान ने 'नमामि देवि नर्मदे'' सेवा यात्रा का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि अमरकंटक से शुरू होने वाली इस यात्रा के जरिये लोगों से संवाद करने के साथ ही नर्मदा के दोनों तट पर वृक्षारोपण, गंदगी रोकने के लिये फिल्टर प्लांट और माताओं-बहनों के लिये चेंजिंग-रूम बनवाये जायेंगे। उन्होंने बताया कि अगले विधानसभा सत्र में यह कानून बनाया जायेगा कि प्रदेश में जन्म लेने वाले हर व्यक्ति का अपना मकान और प्लाट हो। अनुसूचित जाति-जनजाति कल्याण मंत्री श्री ज्ञान सिंह और राज्य मंत्री श्री संजय-सत्येन्द्र पाठक ने भी सभा को संबोधित किया।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  1 December 2016

anuppur shivraj singh

    कोतमा अन्त्योदय मेले में  शिवराज सिंह चौहान     मेरे जीवन की हर साँस जनता की खुशहाली एवं प्रदेश के विकास के लिए समर्पित है। मैं लगातार 11 वर्षों से जनता के सेवक के रूप में कार्य कर रहा हूँ। प्रदेश के विकास के लिए जनता को भी साथ चलना होगा। उन्हें बेटा-बेटी में फर्क नहीं करने, बच्चों की पढ़ाई पर ध्यान देने, वृक्षारोपण करने, प्रधानमंत्री जी के स्वच्छता अभियान में सक्रिय भूमिका निभाना होगा। मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने अनूपपुर जिले के कोतमा में आयोजित खंड स्तरीय अन्त्योदय मेला में यह बात कही।   मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि प्रदेश के युवा नौकरी के लिए परेशान नहीं हों, बल्कि वे स्वयं उद्यमी बनकर दूसरों को नौकरी दें। अनूपपुर जिले में इस दिशा में पहल करते हुए नए औद्योगिक क्षेत्र की स्थापना कदमटोला में की गई है। इसके लिए 229 लाख रुपए मंजूर किए गए हैं। श्री चौहान ने बताया कि मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना में 10 से 50 लाख रुपए तक का ऋण तथा युवा उद्यमी योजना में 10 लाख से 10 करोड़ रुपए तक का ऋण उपलब्ध करवाया जाता है, जिसकी गारंटी राज्य सरकार लेती है। साथ ही प्रशिक्षण तथा मार्गदर्शन दिया जाता है। बच्चों की पढ़ाई के लिये निःशुल्क पुस्तकें, साईकल, गणवेश, छात्रावास एवं छात्रवृत्ति एवं शिष्यवृत्ति की सुविधा दी जा रही है। हायर सेकेण्डरी में 60 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाली गांव की बेटियों को गांव की बेटी योजना का लाभ, 85 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को लैपटॉप और महाविद्यालय में पढ़ने वाले बच्चों को स्मार्ट फोन दिया जा रहा है।   मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी 15 अगस्त से प्रदेश सरकार द्वारा मेडिकल एवं इंजीनियरिंग की प्रतिष्ठित संस्थाओं में प्रवेश पाने वाले मेधावी गरीब छात्रों की सम्पूर्ण फीस सरकार द्वारा वहन करने की योजना संचालित की जाएगी। इस योजना में सभी वर्ग के विद्यार्थियों को लाभान्वित किया जाएगा। प्रदेश सरकार ने महिलाओं के सशक्तिकरण के अनेक कार्यक्रम संचालित किए हैं। स्थानीय निकायों में 50 प्रतिशत आरक्षण, शासकीय नौकरियों में वन विभाग को छोड़कर 33 प्रतिशत आरक्षण तथा शिक्षक भर्ती में 50 प्रतिशत आरक्षण महिलाओं के लिये किया गया है।   मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि प्रदेश में किसान कल्याण का महायज्ञ आगे भी चलता रहेगा। किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर कृषि ऋण, कृषि यंत्रों पर अनुदान, सिंचाई सुविधाओं का विस्तार, किसानों के उत्पादन की खरीदी, फसल बीमा योजना आदि सुविधाएँ दी जा रही है। मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन को जिले में 15-20 कलस्टर बनाकर लोक कल्याण शिविरों के माध्यम से जन-समस्याओं के निराकरण के लिये कहा। उन्होंने आयुक्त शहडोल संभाग को मनरेगा मजदूरी भुगतान का नया मॉडल तैयार कर क्रियान्वित कराने के निर्देश दिए।   नगरपालिका कोतमा को दी अनेक सौगात मुख्यमंत्री  चौहान ने नगरपालिका कोतमा में प्रधानमंत्री आवास योजना में गरीबों के मकान बनाने के लिये 40 करोड़ रुपए और कोतमा नगर में ड्रैनेज की व्यवस्था के लिये राशि उपलब्ध कराने की घोषणा की। कोतमा महाविद्यालय में अगले सत्र से पीजी कक्षाएँ प्रारंभ करने की भी घोषणा की। अन्त्योदय मेला में मुख्यमंत्री द्वारा विभिन्न शासकीय योजनाओं के हितग्राहियों को हितलाभ का वितरण किया गया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  9 August 2016

anuppur

  कदमटोला में की नवीन औद्योगिक क्षेत्र विकास की घोषणा    मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में छोटे एवं मध्यम उद्योग स्थापित कर अधिक से अधिक युवाओं को रोजगार उपलब्ध करवाया जायेगा। उन्होंने कहा कि युवाओं को स्व-रोजगार स्थापित करने के लिये मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना और मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में समुचित ऋण उपलब्ध करवाया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान  अनूपपुर में हितग्राही सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कदमटोला में 2 करोड़ 29 लाख की लागत से नये औद्योगिक क्षेत्र का विकास किये जाने की घोषणा की।   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में अनुसूचित जाति-जनजाति और गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वाले व्यक्तियों को सस्ती दर पर खाद्यान्न उपलब्ध करवाया जा रहा है। उन्होंने कहा‍कि प्रदेश की धरती पर जिन व्यक्तियों ने जन्म लिया है, उन्हें रहने के लिये जमीन का टुकड़ा उपलब्ध करवाया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकारी जमीन पर जो व्यक्ति घर बनाकर रह रहे हैं, उन्हें भी आवास के लिये स्थायी पट्टा दिया जायेगा।   गुणवत्तापूर्ण स्कूल शिक्षा की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि शासकीय शालाओं में प्राथमिकता के साथ बुनियादी सुविधाएँ उपलब्ध करवायी गयी हैं। बच्चों को नि:शुल्क पाठ्य-पुस्तकें और गणवेश का वितरण किया जा रहा है। स्कूल के विद्यार्थियों को पढ़ने में सुविधा हो, उन्हें साइकिल उपलब्ध करवायी गयी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कक्षा-12 में 60 प्रतिशत अंक प्राप्त करने वाली गाँव की बेटी को 5000 रुपये की प्रोत्साहन राशि उपलब्ध करवायी जा रही है। जिन बच्चों ने कक्षा-12 में 85 प्रतिशत अंक प्राप्त किये हैं, उन्हें लेपटॉप और महाविद्यालयों में प्रथम वर्ष में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों को स्मार्ट फोन मुहैया करवाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र के प्रतिभाशाली बच्चों को मेडिकल, आईआईटी, इंजीनियरिंग और आईआईएम में पढ़ने के लिये पर्याप्त अवसर दिये जायेंगे। उनकी फीस राज्य सरकार भरेगी।   मुख्यमंत्री  चौहान ने कदमटोला में औद्योगिक विकास क्षेत्र की आधारशिला रखी। अनूपपुर नगर में ओव्हर-ब्रिज निर्माण और सर्व-सुविधायुक्त बस-स्टेण्ड बनाये जाने की घोषणा की।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  7 August 2016

एमपी में समर्थन मूल्य पर गेहूँ खरीदी

किसानों को 10 हजार करोड़ रुपये का भुगतान प्रदेश में खाद्य, नागरिक आपूर्ति विभाग द्वारा अब तक 9 लाख 63 हजार किसान से समर्थन मूल्य पर अब तक 70 लाख 69 हजार मीट्रिक टन गेहूँ की खरीदी की गई है। खरीदे गये गेहूँ के बदले किसानों को 10 हजार 19 करोड़ रुपये की राशि का भुगतान किया जा चुका है। किसानों को उनकी उपज के भुगतान के लिये भटकना न पड़े इसके लिये विभाग द्वारा खरीदी के बाद 7 दिन के भीतर उनके खातों में राशि जमा किये जाने की व्यवस्था की गई।उपार्जन केन्द्र पर किसान को अपनी उपज किस दिन लेकर पहुँचना है, इसके लिये एसएमएस से किसानों के मोबाइल पर सूचना दिये जाने की व्यवस्था की गई। विभाग ने इस वर्ष 128 गेहूँ उपार्जन केन्द्र और बढ़ाये हैं। इस वर्ष प्रदेश में 2,980 गेहूँ उपार्जन केन्द्र बनाये गये हैं। केन्द्र की संख्या बढ़ने से प्रत्येक केन्द्र पर 500 से 700 किसान ही पहुँचे, जिससे किसानों को अपनी उपज बेचने के लिये इंतजार नहीं करना पड़ा। इस वर्ष 25 मई तक समर्थन मूल्य पर 70 लाख 69 हजार मीट्रिक टन गेहूँ की खरीदी की गई। पिछले वर्ष 25 मई तक 63 लाख 41 हजार मीट्रिक टन गेहूँ की खरीदी गई थी।प्रदेश में समर्थन मूल्य पर गेहूँ खरीदी के लिये राज्य सरकार ने मध्यप्रदेश स्टेट सिविल सप्लाइज कार्पोरेशन एवं मध्यप्रदेश राज्य सहकारी विपणन संघ (मार्कफेड) को अधिकृत किया है। इस वर्ष किसानों से 1550 रुपये प्रति क्विंटल के भाव पर गेहूँ की खरीदी की जा रही है। केन्द्र सरकार ने समर्थन मूल्य पर गेहूँ खरीदी का 1400 रुपये प्रति क्विंटल का भाव निर्धारित किया है। राज्य सरकार द्वारा किसानों के हित में प्रति क्विंटल 150 रुपये की राशि बोनस के रूप में दी जा रही है। राज्य सरकार ने प्रदेश के 7 जिले भिण्ड, छतरपुर, उमरिया, रीवा, सतना, सीधी एवं सिंगरौली में किसानों से समर्थन मूल्य पर गेहूँ खरीद की तारीख को बढ़ाकर 30 मई किया है। शेष जिलों में 26 मई तक गेहूँ की खरीदी की गई।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

प्रदेश में  विकास के अहम फैसले

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई राज्य मंत्रि-परिषद की बैठक में प्रदेश में अधोसंरचना विकास को गति देने के लिये अहम फैसले हुए हैं। इनमें सड़क, बिजली, सिंचाई तथा नई तहसीलों के निर्माण और उनके लिये जरूरी अमले की मंजूरी जैसे निर्णय शामिल हैं।सिंचाई परियोजनाओं को प्रशासकीय मंजूरीमंत्रि-परिषद की बैठक में 340 करोड़ 62 लाख लागत की तीन नई सिंचाई परियोजनाओं को प्रशासकीय मंजूरी दी गई है। साथ ही 1130 करोड़ 50 लाख की लागत की तीन अन्य सिंचाई परियोजनाओं को पुनरीक्षित स्वीकृति दी गई है। जिन 3 नई सिंचाई परियोजनाओं को आज प्रशासकीय मंजूरी दी गई है, उनमें छिन्दवाड़ा जिले की मोहगाँव लघु सिंचाई परियोजना के लिये 83.33 करोड़, देवास जिले की दतूनी मध्यम सिंचाई परियोजना के लिये 174.55 करोड़ और छतरपुर जिले की तरपेड़ मध्यम सिंचाई परियोजना के लिये 82.74 करोड़ रुपये की मंजूरी शामिल है।।बीओटी योजना में तीन नये सड़क मार्गों का निर्माणबीओटी (टोल + एन्यूटी) योजना में मध्यप्रदेश रोड डेव्हलपमेंट कार्पोरेशन के माध्यम से 208.62 किलोमीटर लम्बे सड़क मार्गों के निर्माण के लिये 473 करोड़ 71 लाख रुपये की मंजूरी मंत्रि-परिषद ने दी है। इनमें उज्जैन सिंहस्थ बायपास मार्ग, दमोह-कटनी मार्ग और टीकमगढ़ (धजरई)-जतारा-पलेरा-नौगाँव मार्ग शामिल हैं। इन मार्गों का निर्माण आगामी दो से ढाई वर्ष की अवधि में पूरा किया जायेगा।उज्जैन में होने वाले सिंहस्थ की तैयारियों के सिलसिले में बीओटी (टोल + एन्यूटी) योजनांतर्गत 94.30 करोड़ लागत से 14.29 किलोमीटर लम्बे उज्जैन सिंहस्थ बायपास मार्ग के निर्माण के प्रस्ताव को राज्य मंत्रि-परिषद ने मंजूरी दी है। इसमें निजी निवेशकर्ता को टोल संग्रहण के अधिकार दिये जायेंगे तथा हर 6 माह में एन्यूटी की राशि का भुगतान भी किया जायेगा। यह देश में एक अभिनव योजना है। इस परियोजना में निर्माण अवधि सहित कन्सेशन अवधि 15 वर्ष है। एन्यूटी की राशि को निविदा का आधार रखा गया है। निजी निवेशकर्ता को सम्पूर्ण कन्सेशन अवधि में पूर्व निर्धारित मापदण्डों के अनुसार मार्ग का निर्माण करना होगा और उसके संधारण की जिम्मेदारी भी वहन करना होगी। इस पहल से एक उच्च कोटि का सड़क मार्ग दीर्घावधि तक आम लोगों को आवागमन सुविधाओं के लिये उपलब्ध होगा। इस मार्ग पर दूरी के अनुसार टोल दरें रहेंगी। प्रदेश में बनेंगी तीन नई तहसीलमंत्रि-परिषद ने मध्यप्रदेश में तीन नई तहसील बनाने का फैसला लिया है। इनमें पन्ना जिले में सिमरिया, सीधी जिले में बहरी और विदिशा जिले में पठारी शामिल हैं। प्रत्येक नई तहसील के लिये जरूरी अमले की व्यवस्था को भी मंजूरी दी गई।प्रदेश में दो नये पवित्र क्षेत्र घोषित करने का निर्णय आज लिया गया। इनमें नरसिंहपुर जिले के करेली तहसील के अंतर्गत राजस्व निरीक्षण मण्डल बरमान के अंतर्गत आने वाले छिड़ावा घाट (सीढ़ी घाट) स्थल, सतधारा घाट और दीपा का मंदिर क्षेत्र शामिल हैं। इसी तरह जबलपुर स्थित ग्वारीघाट को भी पवित्र क्षेत्र घोषित करने का निर्णय लिया गया है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

Video

Page Views

  • Last day : 2842
  • Last 7 days : 18353
  • Last 30 days : 71082
Advertisement
Advertisement
Advertisement
All Rights Reserved ©2017 MadhyaBharat News.