Since: 23-09-2009

Latest News :
दिल्ली में हेलिकॉप्टर से पानी के छिड़काव की तैयारी.   अचार, मुरब्बा बनाने की तकनीक दुनिया को करती है उत्साहितः मोदी.   गुजरात में चुनाव दिसम्बर में होने के संकेत.   मीडिया की गति और नियति.   PM मोदी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की मौजूदगी में रावण दहन .   राज ठाकरे की चुनौती, पहले सुधारो मुुंबई लोकल फिर बुलेट ट्रेन की बात.   कबीर की शिक्षा समाज के लिये संजीवनी : कबीर महोत्सव में राष्ट्रपति श्री कोविंद.   चित्रकूट में एक हजार से अधिक लायसेंसी हथियार जमा.   भावांतर भुगतान योजना में एक लाख 12 हजार से अधिक किसानों द्वारा 32 लाख क्विंटल उपज का विक्रय .   उद्योग संवर्द्धन नीति-2014 में संशोधन की मंजूरी.   मुख्यमंत्री शिवराज के निवास पर दशहरा पूजा.   मानव जीवन के लिए नदी बचाना जरूरी : चौहान.   मूणत CD कांड - फॉरेंसिंक रिपोर्ट आते ही शुरू होगी CBI जांच.   मूणत की CD का सच सीबीआई को सौंपने दिल्ली पहुंची एसआईटी.   पुलिस लाइन रायगढ़ के प्रशासनिक भवन में आग.   बीमार पत्नी से झगड़ा पति, हत्या कर फांसी पर झूला.   बस्तर दशहरा के लिए माई जी को न्यौता.   बस्तर को अलग राज्य बनाने की मांग.  

सरगुजा News


 छत्तीसगढ़ में पांच रूपए में मिलेगा टिफिन

  मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने तमिलनाडु के अम्मा कैंटीन की तर्ज पर मजदूरों के लिए टिफिन की सौगात दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिवस पर रविवार को तेलीबांधा में मुख्यमंत्री ने टिफिन सेंटर शुरू कर दिया, जहां केवल 5 रुपए में दाल-भात मिलेगा। मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि एक साल के भीतर प्रदेश के सभी 27 जिलों में ऐसे 60 केन्द्र खोले जाएंगे। हर केन्द्र में एक हजार के मान से 60 हजार श्रमिकों को रोज सुबह 8 से 10 बजे के बीच ताजा और पौष्टिक भोजन दिया जाएगा। प्रदेश में मनाए जा रहे पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी समारोह के अंतर्गत यह योजना शुरू की गई है। विधानसभा चुनाव के एक साल पहले उठाए गए इस कदम के राजनीतिक मायने भी हैं। रमन सरकार ने ही एक रुपए किलो चावल योजना की शुरुआत की थी। कौशल उन्नयन केंद्र के तहत मुख्यमंत्री ने गरीब परिवार के लोगों को सिलाई, कढ़ाई, बुनाई में दक्ष बनाने के लिए प्रशिक्षण केंद्र का भी लोकार्पण किया। इसमें कचरा बीनने वालों को भी व्यवसाय के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 September 2017

आदिवासी दिवस

   विश्व आदिवासी दिवस पर बस्तर से रायपुर तक सत्तारूढ़ भाजपा और विरोधी कांग्रेस वोट बैंक साधते नजर आए। दोनों दलों के बीच बस्तर की 12 विधानसभा सीटों पर जोर-आजमाइश दिखी, जहां आदिवासी आबादी अधिक है। राजधानी में सूबे के मुखिया डॉ.रमन सिंह ने आदिवासियों के कल्याण की सभी योजनाओं का बखान किया। समाज के प्रतिभावान छात्रों, खिलाड़ियों और समाजसेवियों को सम्मानित किया। प्रधानमंत्री के 'मन की बात' सुनने वाले अति संरक्षित जनजाति के बुजुर्गों को कंबल, छतरी और रेडियो बांटे। आदिवासी लेखकों की कृतियों का विमोचन किया। उधर, बस्तर में कांग्रेसियों ने सम्मेलन के बहाने राज्य सरकार की रीति-नीति पर सवाल उठाए। नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने तो यहां तक कहा कि भाजपा आदिवासियों से छलावा करती है। उसका मकसद केवल वोट लेना है। समाज के आशीर्वाद से 14 साल से मुख्यमंत्री हूं: रमन सिंह राजधानी के इंडोर स्टेडियम में डॉ. रमन सिंह ने प्रदेश भर से जुटे समाज के प्रतिनिधियों से कहा कि यह समाज के लोगों का आशीर्वाद है कि मैं 14 साल से मुख्यमंत्री हूं। 14 अगस्त को 5 हजार दिन पूरे हो जाएंगे। कोई पूछता है कि आपकी सबसे महत्वपूर्ण योजना क्या है? मैं कहता हूं-पीढ़ियों के निर्माण की। प्रयास विद्यालयों में नक्सल प्रभावित इलाकों के बच्चों को 2 साल की ट्रेनिंग देनी शुरू की गई, नतीजा सामने है। इसी साल 9 बच्चों का मेडिकल में चयन हुआ है। इसे 90 तक ले जाना है। प्रयास में अभी 15 सौ सीटें हैं। इन्हें 3 हजार किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि आजादी की लड़ाई में शहीद वीरनारायण सिंह और गुंडाधूर जैसे शूरवीरों ने खून बहाया है। इस आजादी को हमें और मजबूत करना है। जगदलपुर में गुंडाधूर और रायपुर में शहीद वीरनारायण सिंह के नाम से संग्रहालय का निर्माण किया जाएगा। आदिवासियों को मिटाने का प्रयास कर रही सरकार : सिंहदेव कांकेर में चारामा ब्लॉक के जैसाकर्रा में बुधवार को आदिवासी सम्मेलन में सिंहदेव ने प्रदेश सरकार पर जमकर शब्दों के तीर छोड़े। कहा कि भाजपा सरकार आदिवासियों का शोषण कर रही है। उन्हें मिटाने का घटिया प्रयास किया जा रहा। आदिवासी संस्कृति हमारे समाज और देश की धरोहर है। समाज ने देश की एकता और अखंडता के लिए बलिदान दिया है। इसे भूलना नहीं चाहिए। प्रदेश सरकार को गरीब और किसानों के हित से कोई सरोकार नहीं है। विधायक मनोज मंडावी ने कहा कि आदिवासियों को नक्सली बताकर फर्जी मुठभेड़ में मारा जा रहा है। उन्हें आज भी अच्छी शिक्षा, स्वास्थ्य व अन्य सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं। समाज के लोगों ने बस्तर के आदिवासी की समस्याएं, क्षेत्रों में छठवीं अनुसूची लागू करने, राज्य में पेशा एक्ट लागू करने सहित 18 सूत्रीय ज्ञापन सिंहदेव को सौंपा। सिंहदेव ने उसे सरकार तक पहुंचाने का आश्वासन दिया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  15 August 2017

डॉ.रमन सिंह

मनरेगा के मजदूरों को छत्तीसगढ़ सरकार मुफ्त स्टेनलेस स्टील का टिफिन बॉक्स बांटेगी।  लोक सुराज अभियान के दौरान मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने मजदूरों के लिए इस नई योजना की घोषणा की। उन्होंने अधिकारियों से कहा-मनरेगा के पंजीकृत मजदूरों को लंच बॉक्स बांटने की कार्ययोजना बनाएं। सरकार श्रमिकों को निशुल्क टिफिन बॉक्स इसलिए दे रही है, ताकि कार्यस्थल पर जो भोजन वे लेकर जाते हैं, वह अधिक देर तक सुरक्षित व ताजा बना रहे। उन्होंने कहा-गुरुवार को बिलासपुर के गौरखेड़ा में मेरी मुलाकात तपती दोपहरी में काम कर रही महिला मजदूर उर्मिला से हुई थी। उसने मुझे भात-आमरी भाजी और चटनी खिलाई। वह भोजन घर से बनाकर लाई थी। उसी समय मुझे लगा कि श्रमिकों को टिफिन बॉक्स देने की योजना शुरू की जाए।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  8 April 2017

raman singh

नोटबंदी के खिलाफ होने वाले देशव्यापी आंदोलन की बैठक में कांग्रेस नेताओं में इस बात की चिंता दिखी कि अब तक जनता का गुस्सा सामने नहीं आ पाया है। शांतिपूर्ण ढंग से काम नहीं बना तो अब कांग्रेस ने गांवों से लेकर दिल्ली तक जनता में गुस्सा जगाने की रणनीति बनाई है। पार्टी के राष्ट्रीय सचिव भक्तचरण दास ने माना कि नोटबंदी के बाद फैली अव्यवस्था से हर वर्ग नाराज है, लेकिन गुस्से को प्रदर्शित नहीं किया। ऐसे ही नेता-प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने भी माना कि तमाम घोटालों और भ्रष्टाचार के आरोपों के बावजूद कांग्रेसी मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की छवि को तोड़ नहीं पा रहे हैं। प्रदेश कांग्रेस भवन में मंगलवार को राष्ट्रीय सचिव दास, छत्तीसगढ़ समन्वयक अनिल शर्मा, प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल, नेता-प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने नोटबंदी के विरोध में छह और नौ जनवरी को होने वाले आंदोलन को लेकर जिला अध्यक्षों की बैठक ली। इसके बाद 11 तारीख को दिल्ली में देशभर के कार्यकर्ता आंदोलन में जुटेंगे। बैठक में दास ने कहा कि नोटबंदी के बाद बैंकों में एक लाख 25 हजार करोड़ रुपए का शॉर्टेज हुआ। अब हर वर्ग परेशान है, तो भी प्रदेश बंद सफल नहीं रहा, क्यों? इसका कारण है कि जनता का गुस्सा सामने नहीं आ रहा। कांग्रेस को भाजपा कार्यालयों और मंत्रियों की गाड़ियों को घेरकर जनता में गुस्सा जगाना है। दास ने कहा-कांग्रेसियों को सब काम छोड़, अभी केवल यही करना है। सिंहदेव ने कहा कि हर चुनाव में भाजपा कालेधन का उपयोग कर रही है। ये बात सही है कि कहीं न कहीं हम सहमे हुए हैं, जबकि हमारी कोशिश भाजपा की करतूत को उजागर करने की होनी चाहिए। भाजपा ने नोटबंदी का ऐसा प्रचार किया है कि जनता यह समझ रही है कि कालाधन, जाली नोट और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई है, हमें इस मिथक को तोड़ना है। कैशलेस ट्रांजेक्शन के नाम पर सरकार हजारों करोड़ का घोटाला कर रही है। जनता से लिया जाने वाला टैक्स का कमीशन निजी कंपनियों को जाएगा। सिंहदेव ने बताया कि उनसे यूपी कैडर के एक बड़े अधिकारी ने सही बात कही थी, कांग्रेस को अपनी बात रखनी नहीं आती। पीसीसी अध्यक्ष बघेल ने बताया कि छह जनवरी को सभी जिलों में पार्टी के कार्यकर्ता कलेक्टोरेट का घेराव कर सभा करेंगे। नौ जनवरी को महिला कांग्रेस के नेतृत्व में हर जिले में महिलाएं थाली बजाकर रैली निकालेंगी। छत्तीसगढ़ समन्वयक अनिल शर्मा ने सोमवार को कहा था कि अगले चुनाव में छत्तीसगढ़ और केंद्र में कांग्रेस की सरकार नहीं आई तो मेरे नाम का कुत्ता पाल लेना। इस बयान पर मंगलवार को शर्मा ने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि कांग्रेस ही सरकार बनाएगी। कार्यकर्ताओं में जोश और आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए ऐसा कहा था। राष्ट्रीय सचिव ने कहा कि अब पुतला जलाना पुराना हो गया है। अबकी बार प्रधानमंत्री का पुतला कुर्सी पर रखें। दो-चार हजार लोगों को जमा करें। लोग पुतले से सवाल पूछें। इसके बाद पुतले पर अंडे, टमाटर और पत्थर फेंके जाएं। इसकी वीडियो रिकॉर्डिंग करें और सोशल मीडिया में जारी कर दें। कांग्रेस का आईटी सेल पत्रकार वार्ता और बैठक को फेसबुक पर लाइव कर रहा है। इसका पहला ट्रायल सोमवार को पत्रकार वार्ता में हुआ। वीडियो रिकॉर्डिंग मोबाइल से कर फेसबुक पर अपलोड की जा रही है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  4 January 2017

chattisghar elephant atack

    सरगुजा जिले के लुंड्रा वन परिक्षेत्र के ग्राम डढ़ौलीपारा से लगे जंगल में हाथियों को खदेड़ने के प्रयास में जुटे दो ग्रामीणों को हाथियों ने मार डाला। दोनों के रात में घर नहीं लौटने पर उसकी तलाश में निकले परिजन व गांव वालों को शव जंगल में मिला। मौके पर ही पंचनामा व पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया गया। चार दिन पूर्व लुंड्रा वन परिक्षेत्र में घुसे 11 हाथियों का दल मंगलवार शाम बुलगा, उदारी मोड़ होते हुए डढ़ौली के घुटरारोंगसा जंगल पहुंच था। इसकी जानकारी होने पर डढ़ौली, असकला सहित आसपास के कई गांवों के ग्रामीण मशाल लेकर हाथियों को खदेड़ने में जुट गए। हाथियों का दल आगे बढ़ने लगा लेकिन एक हाथी पीछे छूट गया था। गांववालों को इसकी जानकारी नहीं थी। अचानक हाथी की मौजूदगी का एहसास होते ही ग्रामीणों में भगदड़ मच गई। सभी जान बचाकर भागने लगे। रात में हाथी खदेड़ने गए डढ़ौलीपारा जरहाडीह के रघुना नगेसिया पिता चइता नगेसिया 55 वर्ष व संतोष नगेसिया पिता धर्मसाय नगेसिया 28 वर्ष घर वापस नहीं लौटे थे। सुबह परिजन उनकी तलाश में लगे थे। बताया गया कि गांव के ही कैलाश पिता लोभित के साथ कुछ अन्य लोग रात को हाथियों के कारण मची भगदड़ में छूटे जूते-चप्पल की खोजबीन में गए थे, इसी दौरान उन्होंने जंगल में रघुना नगेसिया व संतोष नगेसिया का शव देखा। इसकी जानकारी होते ही मौके पर बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ जमा हो गई। सूचना पर विधायक चिंतामणी महाराज, एसडीओ फारेस्ट एमडी लहरे, रेंजर जीबी राम, जनपद सदस्य सतीश जायसवाल, सांसद प्रतिनिधि अनिल तिवारी सहित अन्य जनप्रतिनिधि मौके पर पहुंचे। घटना स्थल पर ही मृतकों के शवों का पोस्टमार्टम करा परिजनों को सौंप दिया गया। मृतकों के परिजनों को 10-10 हजार रुपए की आर्थिक सहायता राशि उपलब्ध करा दी गई है। हाथियों का यह दल अंबिकापुर-पत्थलगांव-जशपुर राष्ट्रीय राजमार्ग को रघुनाथपुर के पास क्रास कर बुधवार की सुबह अंबिकापुर रेंज के मोहनपुर से लगे जंगल में प्रवेश कर गया था। हाथियों पर निगरानी की जा रही है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  1 December 2016

chattisgadh madhymakhhi

करतला में अंतिम संस्कार के दौरान श्मशान घाट में अचानक मधुमक्खियों के हमले से अफरातफरी मच गई। लोग बचने के लिए यहां-वहां छिपे, पर कोई फायदा  नहीं हुआ। 43 लोगों को मधुमक्खी ने अपना निशाना बना लिया। सभी की स्थिति सामान्य बताई जा रही है। ग्राम फरसवानी में रहने वाले जायसवाल परिवार के यहां गमी हो जाने पर अंतिम संस्कार के लिए स्थानीय मुक्तिधाम में गांव के करीब 250 लोग एकत्रित हुए थे। दाह संस्कार के लिए श्मशान घाट पहुंचे लोगों में उस समय अफरातफरी मच गई, जब मधुमक्खी के झुंड ने लोगों पर हमला कर दिया। बताया जा रहा है कि जैसे मुखाग्नि की प्रक्रिया हुई, नजदीक के ही एक पीपल पेड़ में मधुमक्खी के छत्ते से अचानक मधुमक्खी बाहर आ गईं ।  जानकारों का मानना है कि दाह संस्कार के वक्त धुआं होने से मधुमक्खियों ने हमला किया। एकाएक हुए हमले से लोग घबरा गए और भागने का मौका नहीं मिल पाया। मधुमक्खियों के डंक से 43 लोग घायल हुए है, जिन्हें इलाज के लिए निजी चिकित्सक के पास भेजा गया। कई लोगों को तो मधुमक्खी ने बुरी तरह से काट लिया है। दाह संस्कार में सैक़ड़ो के संख्या में पारिवारिक सदस्य उपस्थित थे, जो मधुमक्खी के हमले से हताहत हुए हैं।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  19 October 2016

ambikapur

अंबिकापुर केंद्रीय जेल  में निरुदध बंदी ने मंगलवार की तड़के मेडिकल कालेज अस्पताल के जेल वार्ड में जमकर हंगामा मचाया। बंदी द्वारा बाथरूम में फांसी लगाने की कोशिश को देखते हुए जेल वार्ड में ड्यूटी कर रहे प्रहरी और गार्ड ने काफी मशक्कत के बाद बंदी को बाहर निकाला। इस दौरान बीमार बंदी के द्वारा जेल वार्ड की निगरानी में लगे जेल प्रहरी के सिर में प्राणघातक हमला का वर्दी फाड़ दी गई। जेल प्रहरी के साथ सहयोगी सीजी पुलिस के गार्ड अमृत एक्का ने बीच बचाव करके जेल प्रहरी को बंदी के कब्जे से मुक्त कराया। इसके पहले उक्त बंदी अस्पताल के जेल वार्ड के दरवाजे का कांच फोड़ चुका था और बाथरूम के नल की टोटी क्षतिग्रस्त कर दिया था। घटना की जानकारी जेल प्रबधंन को दी गई है। बंदी कलश राम कुसमी जशपुर सीमा क्षेत्र के किसी गांव का रहने वाला है। सोमवार को केंद्रीय जेल से अस्पताल लाते वक्त भी बंदी ने जेल के गेट में हाथापाई की थी। वार्ड में मौजूद दो अन्य बंदी भी उसकी हरकत से घंटों दहशत में रहे, मेडिकल कालेज अस्पताल के चिकित्सक ने उक्त बंदी को बाहर ले जाने कहा है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 October 2016

chattisgadh

       छत्तीसगढ़ में  जंगली जानवरों का उत्पात थमने का नाम नहीं ले रहा। अंबिकापुर में एक वन भैंसे ने महिला पर हमला कर दिया, तो रायगढ़ और जशपुर में हाथियों ने मकानों और फसलों को नुकसान पहुंचाया।   अंबिकापुर के प्रतापपुर नाके के पास एक वनभैंसा घुस आया, उसने एक महिला को हमला कर घायल कर दिया और एक मवेशी को मारा दिया। वनभैंसे के डर से परिवार घर में कैद हो गया। घटना के बाद से इलाके के लोगों में दहशत फैल गई है।   उधर रायगढ़ के बरमकेला से सटे ग्राम चांटीपाली में हाथियों ने उत्पात मचाया और वहां एक घर को तोडकर अंदर घुस गए और अनाज को भी खा लिया। घर के अंदर से एक व्यक्ति अपनी जान बचाकर भाग निकला। जशपुर में कांसाबेल के बढ़नी झरिया में हाथियों ने एक घर को ध्वस्त कर दिया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  16 August 2016

ambikapur barish

    अंबिकापुर में पिछले 24 घंटे से लगातार हो रही बारिश की वजह से अंबिकापुर और आस-पास के क्षेत्रों में जन जीवन बुरी तहर प्रभावित हुआ है। वाड्राफनगर-रामनुजगंज मार्ग पर सुंदर नदी के पुल के ऊपर से पानी बह रहा है। इस मार्ग पर आवागमन थम गया है। यहां से जिला मुख्यालय जाना भी मुश्किल हो गया है।   रामानुजगंज मार्ग पर राजपुर के हरितिमा के पास सड़क पर एक बड़ा पेड़ भी गिर गया है। यहां कुछ देर के लिए आवागमन बाधित हो गया। वाड्राफनगर-बैदन मार्ग पर भी सड़क पर एक पेड़ गिर गया। उधर रामानुजगंज के एक मोहल्ले में कन्हार नदी के बांध का पानी घुस रहा है। उधर अंबिकापुर में शहर के निचले इलाकों में पानी भर गया है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  12 August 2016

Video

Page Views

  • Last day : 2842
  • Last 7 days : 18353
  • Last 30 days : 71082
Advertisement
Advertisement
Advertisement
All Rights Reserved ©2017 MadhyaBharat News.