Since: 23-09-2009

Latest News :
दिल्ली में हेलिकॉप्टर से पानी के छिड़काव की तैयारी.   अचार, मुरब्बा बनाने की तकनीक दुनिया को करती है उत्साहितः मोदी.   गुजरात में चुनाव दिसम्बर में होने के संकेत.   मीडिया की गति और नियति.   PM मोदी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की मौजूदगी में रावण दहन .   राज ठाकरे की चुनौती, पहले सुधारो मुुंबई लोकल फिर बुलेट ट्रेन की बात.   कबीर की शिक्षा समाज के लिये संजीवनी : कबीर महोत्सव में राष्ट्रपति श्री कोविंद.   चित्रकूट में एक हजार से अधिक लायसेंसी हथियार जमा.   भावांतर भुगतान योजना में एक लाख 12 हजार से अधिक किसानों द्वारा 32 लाख क्विंटल उपज का विक्रय .   उद्योग संवर्द्धन नीति-2014 में संशोधन की मंजूरी.   मुख्यमंत्री शिवराज के निवास पर दशहरा पूजा.   मानव जीवन के लिए नदी बचाना जरूरी : चौहान.   मूणत CD कांड - फॉरेंसिंक रिपोर्ट आते ही शुरू होगी CBI जांच.   मूणत की CD का सच सीबीआई को सौंपने दिल्ली पहुंची एसआईटी.   पुलिस लाइन रायगढ़ के प्रशासनिक भवन में आग.   बीमार पत्नी से झगड़ा पति, हत्या कर फांसी पर झूला.   बस्तर दशहरा के लिए माई जी को न्यौता.   बस्तर को अलग राज्य बनाने की मांग.  

बीजापुर News


नक्सलियों की जनअदालत

बीजापुर के गंगालूर थाना क्षेत्र के ग्राम कमकानार में नक्सलियों ने जनअदालत लगाकर ग्रामीण चैतू उइका को मौत के घाट उतार दिया। उस पर पुलिस मुखबिरी का आरोप था। नक्सलियों ने 10 दिन पहले चैतू को अगवा किया था और सोमवार को घटना को अंजाम दिया। दहशत के चलते दो दिन बाद मामला सामने आया। चैतू के भाई सन्‍नू उइका ने बताया कि 3 मार्च को घर से चैतू का अपहरण हुआ था। नक्सली 9 दिन तक उसे साथ घुमाते रहे। सोमवार को दोपहर 12 बजे जनअदालत शुरू हुई, जिसमें चोकनपाल, मर्रिवाड़ा और कमकानार के ग्रामीणों को बुलाया गया था। रात 8 बजे चैतू को मौत की सजा सुनाई गई और चोकनपाल पहाड़ी के ऊपर ले जाकर रस्सी से उसका गला घोटकर शव वहीं छोड़ दिया गया। मंगलवार को गंगालूर टीआई अब्दुल शमीर ग्रामीणों की मदद से शव गंगालूर अस्पताल लाए। पीएम के बाद शव सौंप दिया गया। पुलिस ने अज्ञात नक्सलियों के खिलाफ मामला पंजीबद्ध कर लिया है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  12 April 2017

कलेक्टर अपहरण की साजिश नाकाम

बीजापुर में एक बार फिर सरकार और देश को हिला देने वाली नक्सलियों द्वारा रची गई एक बड़े साजिश का खुलासा हुआ है। पिछले सप्ताह नक्सलियों ने जनसमस्या निवारण शिविर से बीजापुर कलेक्टर डॉ अय्याज ताम्बोली और संयुक्त कलेक्टर केआर भगत के अपहरण की योजना बनाई थी परंतु उस दिन बीजापुर कलेक्टर उस शिविर में नहीं पहुंचे थे जबकि इसकी भनक लगते ही तेलंगाना पुलिस ने संयुक्त कलेक्टर को तेलंगाना में ही रोककर नक्सलियों द्वारा रचे गए एक बड़ी साजिश को नाकाम कर दिया। नक्सली एक बार एलेक्स पाल मेनन अपहरण काण्ड को दोहराकर सरकार को बड़ा झटका देने की तैयारी में थे परन्तु नक्सलियों के इस साजिश की भनक तेलंगाना पुलिस को लग चुकी थी जिसके चलते नक्सलियों के मंसूबो पर पानी फिर गया। जब इस सनसनीखेज नक्सली साजिश की जानकारी मिली तो नईदुनिया की टीम ने करीब 5 दिनों तक खबर की सत्यता की पूरी पड़ताल किया चूँकि मामला बेहद ही संवेदनशील और गंभीर था। पड़ताल के दौरान नईदुनिया की टीम ने शिविर में जाने वाले सभी जिला स्तर के अधिकारी, कर्मचारी, पुलिस अधिकारी और तेलंगाना के सूत्रों से बात कर जानकारी जुटाई तब जाकर नक्सलियों के इस सनसनीखेज साजिश का पता चल पाया। पूरी पड़ताल के बाद जानकारी मिली की 25 मार्च को छत्तीसगढ़ और तेलंगाना की सीमा पर बसे बीजापुर जिले का गांव कोत्तापल्ली में जिला स्तरीय जनसमस्या निवारण शिविर का आयोजन किया गया था जहां बीजापुर कलेक्टर डॉ अय्याज ताम्बोली व संयुक्त कलेक्टर व बीजापुर एसडीएम केआर भगत सहित सभी अधिकारी कर्मचारियों को जाना था परन्तु कार्यालयीन कार्य के चलते कलेक्टर डॉ अय्याज तम्बोली उस शिविर में नहीं जा पाए जबकि संयुक्त कलेक्टर केआर भगत, भोपालपटनम तहसीलदार शिवेंद्र बघेल के साथ तारलागुड़ा के रास्ते तेलंगाना होते हुए कोत्तापल्ली के लिए रवाना हुए थे। संयुक्त कलेक्टर केआर भगत ने नईदुनिया से चर्चा करते हुए बताया की उन्होंने तेलंगाना के वेंकटापुरम से आगे करीब 10 किलोमीटर का सफर तय किया ही था की उनके साथ चल रहे पटनम के तहसीलदार के पास तारलागुड़ा टीआई सुशील पटेल का फोन आया और उनके द्वारा बताया गया कि वे उस शिविर में न जाएं क्योंकि नक्सली उस शिविर से उनका अपहरण करने वाले हैं। ऐसी जानकारी तेलंगाना पुलिस द्वारा दी गयी है उसके बाद केआर भगत वापस तेलंगाना के वेंकटापुरम थाना पहुंचे जहां उनकी मुलाकात वहां के सर्कल इंस्पेक्टर कुमार भेण्डारी से हुई तब उन्होंने बताया की नक्सलियों द्वारा कोत्तापल्ली शिविर से कलेक्टर और संयुक्त कलेक्टर के अपहरण की साजिश रची गई है और इस समय शिविर में ग्रामीण वेशभूषा में करीब 40 से 50 नक्सली मौजूद हैं जो अपहरण की घटना को अंजाम देने की तैयारी में हैं। इस अपहरण को अंजाम देने के लिए नक्सलियों के बड़े केडर ने मिलीशिया कमाण्डर सहदेव, चुकैया, रैनु और पड़ेदु को जिम्मेदारी सौंपी गई है जो अपने साथियों के साथ शिविर में ही मौजूद हैं। इतनी जानकारी देने के बाद सर्कल इंस्पेक्टर ने यह भी कहा की उनके थाने में बल कम होने के कारण शिविर तक जाने के लिए वे सुरक्षा मुहैया नहीं करा पाएंगे इसीलिए वे वापस लौट जाएं। उसूर के रास्ते मोटर सायकलों के माध्यम से कोत्तापल्ली पहुंचे अधिकारियों की टीम से जब नईदुनिया ने बात की तो उन्होंने बताया कि शिविर में महिलाओं की संख्या बहुत ही कम थी जबकि 20 से 30 वर्ष आयु के युवाओं की संख्या वहां ज्यादा थी जो लुंगी और लोवर पहने हुए थे। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार करीब 3-4 दिन पहले ही नक्सलियों को कोत्तापल्ली शिविर की जानकारी मिल गयी थी और उसके बाद ही नक्सलियों ने कलेक्टर सहित संयुक्त कलेक्टर के अपहरण की साजिश रची थी। यह भी बताया जा रहा है की नक्सलियों ये जानकारी भी जुटा ली थी की कौन-कौन अधिकारी किस-किस वाहन में आ रहे हैं और कितने अधिकारियों के वाहन में नंबर प्लेट नहीं हैं और वाहन किस रंग की है। हालांकि तेलंगाना पुलिस और बीजापुर पुलिस की सतर्कता के चलते समय रहते नक्सलियों की एक बड़ी साजिश को टाल दिया गया। इस मामले में बीजापुर कलेक्टर का कहना है कि उस दिन कार्यालयीन व्यस्तता के चलते वे उस शिविर में नहीं गए थे और उन्हें ऐसी कोई जानकारी नहीं मिली है अगर ऐसा है तो पुलिस को वे बधाई देते हैं कि उनकी सतर्कता के चलते एक बड़े हादसे को टाल दिया गया।  21 अप्रैल 2011 में नक्सलियों ने सुकमा के तात्कालीन कलेक्टर एलेक्स पाल मेनन का अपहरण कर राज्य से लेकर केंद्र सरकार तक को हिला दिया था जिन्हें बाद में मध्यस्ता का रास्ता अपनाकर रिहा कराया गया था और इस बार बीजापुर कलेक्टर का अपहरण कर नक्सली मेनन अपहरण काण्ड को दोहराना चाहते थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  1 April 2017

naxli oyam

बीजापुर के  पत्रकार साईं रेड्डी की हत्या में शामिल  एक वारंटी नक्सली ओयाम को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। नक्सली का नाम ओयाम दसरू उर्फ लखमू निवासी बासागुडा है। पुलिस को सूचना मिली थी कि नक्सली तेलंगाना के चेरला में छिपा है, जिसके बाद बीजापुर पुसिल ने वहां दबिश देकर उसे गिरफ्तार कर लिया। उस पर हत्या और बम लगाने का मामला भी दर्ज है। पुलिस उसे गिरफ्तार कर बासागुडा थान ले आई है। ओयाम के पकड़े जाने को पुलिस बड़ी सफलता मान रही है, उससे नक्सलियों संगठन के कई राज पता चल सकते हैं।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  17 March 2017

चेरली में नक्सली हमला

बीजापुर जिले के मिरतुर थाना इलाके के चेरली के पास रोड ओपनिंग पार्टी पर शुक्रवार सुबह नक्सलियों ने हमला कर दिया। जवाब में जवानों ने भी उन पर गोलियां चलाई। घटना में दो जवान शहीद हो गए और एक जवान घायल हो गया। शहीद जवानों के नाम हेमंत कश्यप और सहायक आरक्षक दुब्बा है। घायल जवान की जांघ में गोली लगी है, जिसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। बीजापुर एसपी केएल ध्रुव ने घटना की पुष्टि की है। अचानक हुए हमलें से जवान संभल नहीं पाए, जब उन्होंने फायरिंग की तो नक्सली जंगल की ओर भाग गए।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  3 March 2017

दो नक्सली ढेर

बीजापुर व सुकमा जिले में रविवार को सुरक्षा बल व नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में एक महिला समेत दो वर्दीधारी नक्सली मारे गए।  बीजापुर जिले के पामेड़ थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम कवरगट्टा में तेलंगाना के ग्रेहाउंड व डीआरजी के संयुक्त ऑपरेशन के दौरान नक्सलियों से मुठभेड़ हुई। दोनों पक्षों के बीच आधे घंटे तक चली गोलीबारी के बाद नक्सली भाग गए। इसके बाद एक महिला नक्सली का शव के साथ एक भरमार बंदूक जब्त किया गया। दूसरी घटना में सुकमा जिले के थाना किस्टारम के अंतर्गत डुब्बामरका में जिला बल व नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में एक नक्सली मारा गया, जो बटालियन नम्बर एक का सदस्य बताया जा रहा है। दोनों मामलों में मारे गए नक्सलियों की शिनाख्त नहीं हो सकी है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  19 February 2017

dsp uneja

     ऐसी एक महिला अफसर हैं जो पिछले डेढ़ साल से नक्सल मोर्चे पर काम कर रही हैं। वह खुद एके-47 लेकर नक्सलियों से लोहा लेने उनकी मांद में बेखौफ घुस जाती हैं। 30 सितंबर 2015 को बतौर डीएसपी बीजापुर आई लेडी अफसर उनेजा खातून अंसारी 2007 बैच की अफसर हैं। यहां आने से पहले जगदलपुर में प्रशिक्षु डीएसपी के तौर पर काम कर चुकी हैं। रायपुर की रहने वाली इस महिला अधिकारी ने नईदुनिया से चर्चा करते हुए बताया कि उनके परिवार में कोई भी व्यक्ति पुलिस की नौकरी में नहीं है। इसके बाद भी उन्होंने इस पेशे को चुना और बेखौफ होकर नक्सलियों से मुकाबला कर रही हैं। लेडी ऑफिसर उनेजा साहस को बीजापुर में सभी लोग सलाम करते हैं। उनके साथ मौजूद अन्य पुलिसकर्मी निर्भिक होने की प्रेरणा लेते हैं।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 January 2017

 12 नक्सली गिरफ्तार

  बीजापुर डीएफ व सीएएफ की संयुक्त पार्टी ने गुरुवार को फरसेगढ़ व कुटरू से 12 नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। ये रानीबोदली कैम्प पर हमला, सहायक उपनिरीक्षक नीलेश पाण्डेय की हत्या, मार्ग अवरुद्घ करने सहित कई घटनाओं में शामिल रहे हैं। एसपी केएल ध्रुव ने बताया कि थाना फरसेगढ़ से पुलिस पार्टी मुकरम, कत्तूर, तालमेण्ड्री व कर्रेमरका के लिए रवाना हुई थी। मुखबिर की सूचना पर गांवों में दबिश देकर पाण्डू वेडजा (25), समलू पोडियामी (25), कुरसम हिरिया (22), उद्दे चिन्ना (35), चिन्ना तेलाम (26), सोमलू बेडजा (35), लखमू वेंजाम (30), मिधाा चिन्ना (30), महंगू ताती उर्फ कमलेश (26), महादेव करटामी (35), बामन माडवी (25) व सुखराम ताती (25) को धर दबोचा गया। ये सभी नेशनल पार्क एरिया कमेटी अंतर्गत प्लाटून व मिलिशिया सदस्य थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  29 December 2016

javan

    बीजापुर में सीएएफ के एक जवान ने खुद को गोली मारकर खुदकुशी कर ली। जवान का नाम बलराम यादव बताया गया है जो 12वीं बटालियन में मद्देड़ दुगाईगुड़ा में तैनात था। बीजापुर के एसपी केएल ध्रुव ने इसकी पुष्टि की है। अभी आत्महत्या का कारण साफ नहीं हो पाया है। गोली चलने की आवाज सुनकर सभी जवान चौकन्ने हो गए थे। वे तुरंत उस जगह दौड़े जहां से फायरिंग की आवाज आई थी, वहां पहुंचने पर उन्हें बलराम का खून से सना शव मिला। जानकारी के मुताबिक अब तक 17 जवान खुदकुशी कर चुके हैं, इन सभी के जान देने के कारण अलग-अलग थे।     Attachments 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 December 2016

बीजापुर में मुठभेड़

    बीजापुर के  मिरतुर थाना क्षेत्र के हाकवा क्षेत्र के जंगलों में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ जारी है। मिली जानकारी के अनुसार पुलिस ने एक नक्ससली को ढेर कर दिया है। नक्सलली वर्दीधारी था और भारी मात्रा में हथियार बरामद किए गए है। एसपी केएल ध्रुव ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि जिला पुलिस बल और सीआरपीएफ के जवान संयुक्ता रूप से इस कार्रवाई को अंजाम दे रहे हैं। पुलिस और सीआरपीएफ के जवान जंगल में सर्च ऑपरेशन चला रहे है जिस कारण से उनकी नक्सुलियों के साथ मुठभेड़ हो जाती है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 December 2016

ईनामी सहित दो नक्सली गिरफ्तार

बीजापुर में  एमसीपी कार्यवाही के दौरान 20 हजार के ईनामी नक्सली को गिरफ्तार किया गया है इसके साथ इसके साथ ही एक और साथी इसके साथ पुलिस के शिकंजे में आया है। ईनामी नक्सकली कड़ती राजू पर हत्या, हत्या का प्रयास, लूट, आगजनी जैसे 10 स्थाई वारंट मिरतुर थाना में लंबित हैं। दूसरे नक्सsली का नाम मुन्नान कडती बताया जा रहा है। इसके खिलाफ भी तीन स्थाकई वारंट थाने में लंबित हैं। इस संबंध में मिरतुर थाना प्रभारी निलेश पांडे का कहना है कि यह दोनों ही नक्सतली काफी सारी वारदातों को अंजाम दे चुके है और काफी दिनों से इनकी तलाश जारी थी।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  28 November 2016

naxli bijapur

  गुरुवार को कोतवाली में बीजापुर एसपी के समक्ष तीन हार्डकोर नक्सली कमाण्डर सहित कुल 11 नक्सलियों ने नक्सलवाद  से तौबा कर आत्मसमर्पण कर दिया। समर्पण करने वाले 11 नक्सलियों में से सरकार ने 5 नक्सलियों पर इनाम घोषित किया था। इनामी नक्सलियों में डिप्टी कमांडर प्लाटून नंबर 2, सेक्शन कमांडर और प्लाटून नंबर 13 का डिप्टी कमांडर शामिल है, इनमें नक्सली दंपती भी शामिल है। बीजापुर एसपी केएल ध्रुव ने बताया कि जिले में पुलिस के बढ़ते दबाव के चलते और पुनर्वास निति से प्रभावित होकर जिले भर में सक्रीय नक्सली दंपती व् 5 इनामी सहित कुल ग्यारह नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया है। इन्हें प्रोत्शाहन के तौर पर दस-दस हजार रुपए की राशि प्रदान की गई है। एसपी ने बताया की समर्पण करने वालो में 3 लाख का इनामी प्लाटून नंबर दो का डिप्टी कमाण्डर भीमा कवासी, सेक्शन कमाण्डर वेक्को सीतो उर्फ जमली, प्लाटून नम्बर 13 सेक्शन बी का डिप्टी कमाण्डर वाचम बीचू, एक लाख के ईनामी नक्सलियों में सीताराम भास्कर और लालू ओयाम शामिल हैं। जबकि इसके आलावा अशोक वाचम, मुन्ना ओयामि, बोमडा पोया, वाचम रमेश, मंगल इरपा व तिकेस्वर वाचम नामक नक्सलियों ने भी आत्मसमर्पण किया है। समर्पण करने वाले नक्सलियों में से भीमा कवासी और वेक्को सीतो उर्फ जमली दंपती है ये दोनों दौड़ाई महारबेड़ा में हुए नक्सली हमले में भी शामिल थे। जिसमें 26 जवान शहीद हुए थे, प्रेस वार्ता के दौरान डीएसपी उनेजा खातुन अंसारी, टीआई नितिन उपाध्याय व् अन्य पुलिस अधिकारी मौजूद थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  3 November 2016

सुकमा मुठभेड़

बीजापुर में IED ब्लास्ट में जवान घायल सुकमा के मराईगुड़ा  विरापुरम में नक्सली से मुठभेड़ की सूचना मिल रही है। इस मुठभेड़ को डीआरजी कोबरा व सीआरपीएफ की संयुक्त कार्रवाई के परिणाम स्वरूप देखा जा रहा है। जानकारी के अनुसार इस कार्रवाई के दौरान एक नक्सली ढेर हो गया है और इसकी पहचान सोडी गंगा जन मिलिशिया कमांडर के रूप में बताई जा रही है। इसके साथ घटनास्‍थल से भारी मात्रा में बंदूक, जेलिटिन और डेटोनेटर बरामद किए गए है। साथ ही दैनिक उपयोग की चीजें भी भारी मात्रा में बरामद की गई हैं। आईईडी धमाके में जवान घायल  बीजापुर जिले के बासागुडा थाना क्षेत्र में आईईडी धमाके में सीआरपीएफ कोबरा बटालियन का जवान घायल हो गया। जवान बसागुडा से तार्रेम रोड के निर्माण कार्य की सुरक्षा में लगे थे। घायल जवान का इलाज किया जा रहा है। इसके पहले सुकमा जिले में गुरुवार तड़के कोंटा थाना क्षेत्र अंतर्गत नीलममडगू के जंगल में हुई मुठभेड़ में एक एलओएस सदस्य मड़कम हुंगा मार गिराया गया था। एसपी सुकमा आईके एलेसेला ने बताया कि पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली थी कि इलाके में हथियारबंद नक्सलियों की मूवमेंट चल रही है। इस आधार पर कोंटा थाने से डीआरजी व एसटीएफ की संयुक्त पार्टी रवाना की गई थी। ग्राम नीलममडगू के जंगल में पहुंचते ही घात लगाए नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी। जवानों ने भी जवाबी कार्रवाई की। कुछ देर बाद नक्सली भाग खड़े हुए। मौके की सर्चिंग पर एक पुरुष नक्सली का शव व एक भरमार बंदूक बरामद किया गया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  30 September 2016

tiffin bam

बीजापुर के  बासागुड़ा थाना क्षेत्र के पुतकेल के जंगल से सुरक्षाबलों ने तीन माओवादियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस को इन तीनों को लंबे समय से तलाश थी। वहीँ जगदलपुर जिले के दलदली गांव में मिला टिफिन बम मिला है।  जानकारी के अनुसार सीआरपीएफ 168 बटालियन और जिला पुलिस के जवानों की टीम संयुक्त रूप से गश्त पर निकली थी। इस दौरान पुतकेल के जंगल में छिपे तीन माओवादियों को दबोच लिया। तीनों से पूछताछ की जा रही है, माना जा रहा है कि इनके पास से माओवादी गतिविधियों का बड़ा खुलासा हो सकता है। जगदलपुर जिले के दलदली गांव में मिला टिफिन बम :विशेष सर्च अभियान में तोंगपाल थाने से 15 किमी.पूर्व में दलदली गांव के पास एक टिफिन बम बरादम हुआ जिसे बम डिस्पोजल स्क्वाड की मदद से नष्ट किया गया। 227 बटालियन की टीम ने कुछ अन्य सामान भी बरामद किया है, जिसमें एक डेटोनेटर, 1 किग्रा कंटेनर स्प्लिनतेर के साथ एक इम्प्रोवाइज्ड मैकेनिज्म। 50 मीटर कोर्टेक्स वायर, 1 सेट टूल बॉक्स, लेखन सामग्री, नक्सली साहित्, 3 नग पेंसिल बैटरी, 1 सेट यूनिफार्म व एक खाकी यूनिफार्म, 4 नग प्लास्टिक बैग और दैनिक उपयोग की सामग्री भी शामिल है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  8 September 2016

mahesh gagad

  छत्तीसगढ़ के वन मंत्री महेश गागड़ा को जान से मारने की सुपारी नक्सलियों को देने का एक पत्र सामने आने के बाद अब उनकी सुरक्षा व्यवस्था और मजबूत करने की तैयारी चल रही है। पुलिस मुख्यालय ने इस संबंध में राज्य शासन को प्रस्ताव भी भेज दिया है।प्रस्ताव के मुताबिक गागड़ा के वर्तमान सुरक्षा खतरे और क्षेत्र की संवेदनशीलता को देखते हुए उनकी सुरक्षा व्यवस्था सुदृढ़ किया जाना आवश्यक है। अभी उन्हें जेड प्लस सुरक्षा श्रेणी मिली हुई है।    गृह विभाग के आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक प्रदेश में नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में चलाए जा रहे नक्सल विरोधी अभियान की कार्रवाई से नक्सलियों के लगातार आत्मसमर्पण व मुठभेड़ में मारे जाने से नक्सली अत्यंत हताश, हिंसक व बौखलाए हुए हैं। वनमंत्री गागड़ा को जान से मारने की सुपारी किसी नक्सली नेता को देने संबंधी खबर के साथ ही अज्ञात नक्सली समर्थक व्यक्ति द्वारा किसी विज्जा नामक कथित नक्सली को लिखा पत्र प्राप्त हुआ है। इस पत्र में पिछले दिनों तुमनार रोड में घटित नक्सली घटना में कुछ नक्सली के मारे जाने व इस घटना के पीछे मंत्री महेश गागड़ा तथा उनके साथी अर्जुन हेमला का हाथ होने का जिक्र करते हुए स्वयं को विधानसभा चुनाव जिताने और किसी भी हालत में इन दोनों को प्लानिंग कर मारने का जिक्र किया गया है।   बीजापुर के पुलिस अधीक्षक केएल धु्रव ने  बताया कि पुलिस द्वारा मंत्री महेश गागड़ा को जान से मारने की सुपारी नक्सलियों को दिए जाने संबंधी पत्र के संबंध में सभी तथ्यों की तस्दीक की जा रही है। बीजापुर जिले में विज्जा नामक कई नक्सली आरोपी हैं। तथ्यों की पुष्टि के बाद शासन को अलग से रिपोर्ट भेजी जाएगी।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  7 September 2016

naksli bijapur

      गावँ में रहकर नक्सलियों के लिए स्लीपर सेल तैयार कर रहे दो नक्सली पुलिस के हाथ लग गए। गश्त के दौरान इन दोनों की गतिविधियां संदिग्ध लगाने पर इनसे पूछताछ की गई ,ये दोनों पुलिस को चकमा देकर जंगल में भाग पाते उससे पहले पुलिस ने इनको घेर लिया।    पुलिस महा निरीक्षक बस्तर रेंज  एस आर पी कल्लूरी के कुशल मार्ग दर्शन में पुलिस अधीक्षक बीजापुर  के एल ध्रुव ,सी.आर.पी.एफ.  डी.आई. जी. के निर्देशन में जिला बीजापुर में चलाये जा रहे नक्सली उन्मूलन अभियान के तहत थाना आवापल्ली से  जिला बल, एसटीएफ और कोबरा 204 की संयुक्त बल नक्सल गस्त सर्चिंग हेतु ग्राम टेकमेटला की ओर रवाना हुआ था और वापसी के दौरान टेकमेटला के जंगलो में पुलिस को देखकर भागते हुए दो संधिग्द लोगो को घेरा बंदी कर पकड़ा गया ।   जिन्हें पूछताछ के लिए थाना लाया गया और आपराधिक रिकार्ड चेक किया गया जिसमे दोनों मडकम भीमा पिता सुक्का 20 वर्ष जाति मुरिया (मिलिशिया सदस्य) और कारम राजू पिता हुर्रा 35 वर्ष जाति मुरिया( जी आर डी कमांडर) निवासी जोनागुडा टेकमेटला थाना उसूर का आवापल्ली में दो नक्सली घटनाओ में समल्लित होना पाया गया। जिन्हें गिरफ्तार कर न्यायालय  बीजापुर में पेश किया गया जहाँ से उन्हें  जेल दाखिल किया गया। 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  9 August 2016

bastar bas

      बीजापुर में  नक्सलियों के शहीद सप्ताह के पहले दिन ही यात्री बसों के पहिये थम गए। संचालकों ने बसों को बीजपुर बस स्टैंड पर ही रोक दिया है। आवापल्ली, बासागुड़ा, मद्देड़, पटनम और कूटरू फरसेगढ़ की ओर चलने वाली बसें थम गई है। इसी के साथ दंतेवाड़ा में भी बसों का परिवहन बंद है।   28 जुलाई से 3 अगस्त तक माओवादियों ने शहीदी सप्ताह मनाने का ऐलान किया है। विभिन्न मुठभेडों अथवा अन्य कारणों से मारे गए अपने नक्सल साथियों की याद में शहीद सप्ताह का वे आयोजन करते हैं। किसी भी अप्रिय घटना से निपटने जिले के तमाम थाने में एलर्ट जारी है। जंगल में माओवादी ठिकाने खंगालने सुरक्षा जवानों ने भी सघन सर्चिग के जरिये नक्सल विरोधी मुहिम छेड़ रखी है।   सप्ताह शुरू होने के 10 दिन पहले ही जिले के मर्दापाल क्षेत्र में पुलिस गुप्तचर के सगे भाई की हत्या कर माओवादी अपने मंसूबे जता चुके हैं। यह बात भी सामने आई थी कि काली वर्दी वाले लगभग तीन सौ माओवादी इलाके में मौजूद हैं। माओवादियों का मिलिट्री दलम जिले में सक्रिय है जो बडी घटना के फिराक में है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  28 July 2016

naksalvaad

  छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में बीती रात नक्सलियों ने संगमपल्ली के जिला पंचायत सदस्य एवं भाजपा नेता रामसाय मज्जी की  कुल्हाड़ी मारकर हत्या कर दी। हत्या के बाद समूचे इलाके में दशहत छा गयी है। पुलिस सूत्रों के अनुसार बीती रात रिटायर्ड शिक्षक रामसाय मज्जी अपने निवास पर खाना खाने के बाद परिवार के साथ बैठे थे। अचानक की वहां 8-10 वर्दीधारी सशस्त्र नक्सलियों ने धावा बोल दिया। नक्सलियों ने उन्हें डंडे-लाठियों से बुरी तरह पीटना शुरू कर दिया। परिजनों द्वारा बीच-बचाव किए जाने से नक्सली उन्हें घसीटते हुए घर के बाहर ले आए, जहां चाकू व कुल्हाड़ी से पेट और सीने पर ताबड़तोड़ प्रहार कर दिया। खून से लथपथ रामसाय की मौकाए वारदात पर ही सांसे थम गयीं। पहली वारदात नहीं बीजापुर जिले में माओवादियों द्वारा भाजपा के जनप्रतिनिधियों व हमले की यह पहली वारदात नहीं है। पिछले माह ही प्रदेश के वनमंत्री महेश गागड़ा के करीबी और भाजयुमो अध्यक्ष मुरली नायडू पर भी इसी तरह जानलेवा हमला हुआ था, जिसमें वे घायल हो गए थे। आम तौर पर नक्सली किसी जनप्रतिनिधि की हत्या से पूर्व धमकी या चेतावनी देते हैं, लेकिन रामसाय के साथ ऐसा नहीं हुआ।सांसद व मंत्री ने की तीव्र निंदा इधर बस्तर सांसद दिनेश कश्यप एवं स्कूली शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ने बीजापुर जिला पंचायत सदस्य श्री रामसाय की हत्या की पर गहरा दु:ख व्यक्त किया है।  उन्होंने इस हिंसक और शर्मनाक वारदात के लिए नक्सलियों की तीव्र निन्दा की है। उन्होंने कहा कि एक निर्वाचित जनप्रतिनिधि की हत्या करके नक्सलियों ने एक बार फिर अपनी जनविरोधी और लोकतन्त्र विरोधी घटिया मानसिकता को उजागर किया है। पुलिस कर रही है सर्चिंग - एसपी बीजापुर एसपी केएल धु्रव ने वारदात की पुष्टि करते हुए बताया कि घटना की सूचना मिलते ही पुलिस बल मौके की ओर रवाना कर दिया गया था। उन्होंने बताया कि नक्सलियों की तलाश में पुलिस की विभिन्न पार्टियों द्वारा आसपास के इलाके में सघन गश्त सर्चिंग की जा रही है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  11 June 2016

drunk doctor bijapur

           बीजापुर के  केतलनार में आंगनबाड़ी केन्द्र में अमृत योजना के अंतर्गत मिलने वाले मीठा दूध पीने से दो बच्चों की मौत और 6 बच्चों के बीमार होने की खबर के बाद हरकत में आई सरकार ने इसे गंभीरता से लेते हुए इनकी देखरेख के लिए जगदलपुर से चिकित्सा दल भेजा था। लेकिन दल के डॉक्टर्स को इतनी बड़ी घटना के बाद बच्चों की कितनी फिक्र है आप खुद ही इन तस्वीरों को देखकर अंदाजा लगा सकते हैं। दल के ये डॉक्टर बच्चों की देखभाल करने की बजाय मंगलवार रात 12 बजे तक सर्किट हाउस में शराब-कबाब की पार्टी करते रहे। तस्वीरों में साफ दिख रही है शराबइन तस्वीरों को देखकर आप खुद ही अंदाजा लगा सकते हैं कि ये अधिकारी अपना कर्तव्य कितनी ईमानदारी से निभा रहे हैं। इन्हें देखकर साफ लग रहा है जैसे इन्हें बच्चों की देखरेख के लिए नहीं अपितु यहां मौज मस्ती करने भेजा गया हो। रात के अंधेर में शराब के नशे से लेकर कबाब का जायका अधिकारियों की कार्य प्रणाली पर कई सवाल खड़े कर रहा है। सुबह दूध पीने से हुई थी दो बच्चों की मौतजिले के केतलनार आंगनबाड़ी केंद्र में अमृत योजना के अंतर्गत शासन द्वारा दिए जाने वाले मीठे दूध का सेवन करने से दो बच्चों की मंगलवार सुबह मौत हो गई और करीब आधा दर्जन बच्चे बीमार पड़ गए थे। मुख्यमंत्री रमन सिंह ने इस मामले को लेकर अपने निवास कार्यालय में मंत्रियों और वरिष्ठ अधिकारियों की आकस्मिक बैठक ली और सभी पहलुओं की जांच के निर्देश दिए। वहीँ मंत्री रमशीला साहू ने कहा कि जब तक मामले की पूरी जाँच नहीं हो जाती तब तक दूध का वितरण नहीं किया जाएगा। कब से मिल रहा है बच्चों को दूधछत्तीसगढ़ सरकार ने 29 अप्रैल 2016 को लोक सुराज अभियान के दौरान आंगनबाड़ी केंद्रो में अमृत योजना के तहत बच्चों को मीठा दूध देना शुरू किया है। योजना के शुरूआत में ही केतलनार के हादसे से सरकार सकते में है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  1 June 2016

anganbadi

    बीजापुर  जिले के  केतुलनार में आंगनबाड़ी में मीठा दूध पीने से दो बच्चों की मौत हो गई। मंगलवार सुबह जब बच्चे आंगनबाड़ी पहुंचे तो उन्हें पीने के लिए दूध दिया गया। इसके बाद उनकी तबीयत बिगड़ने लगी और कुछ देर बाद दो बच्चों की मौत हो गई और कई बच्चे बीमार हो गए। घटना के बाद ग्रामीणों में आक्रोश फैल गया और इसके बाद वे पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने कूटरू पहुंचे।इस घटना की जांच के आदेश दे दिए गये हैं और फिलहाल छत्तीसगढ़ सरकार ने इस योजना को रोक दिया है।  दूध सेवन से दो बच्चों की मौत पर मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने रायपुर में अपने निवास कार्यालय में इमरजेंसी मीटिंग ली। अपर मुख्य सचिव एन बैजेंद्र कुमार सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी बैठक में शामिल हुए। सीएम ने महिला एवं बॉल विकास मंत्री रामशिला साहू और स्कूल शिक्षा तथा आदिम जाति विकास मंत्री केदार कश्यप को ग्राम केतलनार जाने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा इस मामले में सभी पहलुओं की जांच होगी। छत्तीसगढ़ सरकार ने 29 अप्रैल 2016 को लोक सुराज अभियान के दौरान आंगनबाड़ी केंद्रो में अमृत योजना के तहत बच्चों को मीठा दूध देना शुरू किया है। योजना के शुरूआत में ही केतलनार के हादसे से सरकार सकते में है। जांजगीर चांपा में भी दूध पीने से 5 बच्चे बीमार छत्तीसगढ़ शासन द्वारा भेजा गया देवभगो कंपनी का दूध पीने से बर्रा गांव में आंगनबाड़ी के पांच बच्चे बीमार हो गए। घर आने के बाद बच्चों की तबियत बिगड़ गई। सभी बच्चों को नवागढ़ अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  31 May 2016

naksali-crpf

      मंगलवार तड़के नक्सलियों ने छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में सीआरपीएफ के एक शिविर पर हमला बोल दिया। इस हमले में एक जवान शहीद हो गया। अधिकारियों ने कहा कि यह घटना रात तीन बजे की है। माओवादियों के एक दस्ते ने जिले के गंगलूर इलाके में स्थित रांगारेड्डी के जंगलों में बने सीआरपीएफ के एक शिविर पर गोलियां चलानी शुरू कर दीं। पहरेदारी कर रहे कॉन्सटेबल सतीश गौड़ इस गोलीबारी में घायल हो गए और बाद में उनकी मौत हो गई। नक्सल-रोधी अभियानों के लिए क्षेत्र में तैनात गौड़ आंध्रप्रदेश के निवासी थे और अर्धसैन्य बल की 85वीं बटालियन से जुड़े थे। अधिकारियों ने कहा कि शिविर में मौजूद अन्य किसी जवान को नुकसान नहीं पहुंचा है। अधिकारियों ने कहा कि माओवादियों की गोलीबारी कुछ मिनट तक जारी रही, इसके बाद वे जंगलों में भाग गए। सुरक्षा बलों ने इलाके में खोज अभियान शुरू किया है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 May 2016

Video

Page Views

  • Last day : 2842
  • Last 7 days : 18353
  • Last 30 days : 71082
Advertisement
Advertisement
Advertisement
All Rights Reserved ©2017 MadhyaBharat News.