Since: 23-09-2009

  Latest News :
गायक पंकज उधास का निधन.   जेपी नड्डा ने \'विकसित भारत, मोदी की गारंटी\' रथ को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना.   देश में स्थिर सरकार का असर कपड़ा उद्योग क्षेत्र में भी नजर आया: प्रधानमंत्री .   प्रधानमंत्री मोदी ने सबसे लंबा केबल ब्रिज `सुदर्शन सेतु\' देश को समर्पित किया.   बगैर लोको पायलट पटरी पर दौड़ी मालगाड़ी.   ‘मन की बात’ पर तीन महीने का विराम.   कूनो में सफल हुआ है चीतों का पुनर्स्थापन: केंद्रीय मंत्री.   गिट्टी से भरे तेज रफ्तार डंपर ने दो बाइक सवार युवकों को मारी टक्कर.   मप्र के 33 रेलवे स्टेशनों का होगा पुनर्विकास प्रधानमंत्री मोदी ने किया शिलान्यास.   लोकसभा चुनाव में मतदाता लोकतंत्र का भविष्य तय करेंगे: केंद्रीय गृह मंत्री शाह.   कार्यकर्ता हर बूथ पर नरेन्द्र मोदी बनकर खड़ा हो और पार्टी जिताने का संकल्प लें: अमित शाह.   जीतू की प्रवक्ताओं को नसीहत पूरे मनोबल के साथ मीडिया में अपना पक्ष रखें.   सदन में उठा कवर्धा दोहरे हत्याकांड का मामला विपक्ष ने कहा कानून व्यवस्था गंभीर.   बड़े भाई ने छोटे भाई की गोली मार कर की हत्या.   नवविवाहिता की आग से जलकर मौत.   एंटी करप्शन ब्यूरो के 9 अफसरों ने आबकारी अधिकारी के सरकारी आवास में मारी रेड.   इनामी नक्सली ने किया आत्मसमर्पण.   खड़ी ट्रक से मोटरसाइकिल टकराई.  
नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना पर भी नहीं हुई सर्चिंग
naxli

 

 
झीरम घाटी में कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा से पहले सुकमा जिले में नक्सलियों की उपस्थिति की सूचना के बावजूद सर्चिंग नहीं की गई। नक्सली सुकमा जिला होते हुए झीरम घाटी आए और वारदात के बाद इसी रास्ते से वापस गए। इसकी जानकारी के बावजूद पुलिस ने घेराबंदी नहीं की। यह बात विशेष न्यायिक आयोग में सुकमा के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक के प्रतिपरीक्षण में सामने आई।
बिलासपुर में आयोग के अध्यक्ष जस्टिस प्रशांत कुमार मिश्रा के समक्ष सुकमा के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक अभिषेक शांडिल्य का प्रतिपरीक्षण मंगलवार को भी हुआ। इस दौरान कांग्रेस के वकील सुदीप श्रीवास्तव ने श्री शांडिल्य से सवाल किया कि क्षेत्र में नक्सली उपस्थिति गोपनीय सूचना पर क्या कार्रवाई की गई। 18 मई 2013 को नक्सली कमांडर देवा के तोंगपाल थाना क्षेत्र के कुकवाड़ा में होने की सूचना मिली थी।
इस सूचना के बावजूद पुलिस ने वहां सर्चिंग नहीं की। इस पर एसपी ने मुख्यालय से बाहर होने के कारण जानकारी नहीं होने की बात कही। आयोग में प्रस्तुत दस्तावेज के अनुसार 24 मई 2013 को पुलिस को दक्षिण बस्तर में नक्सलियों के भ्रमण करने, बड़ी बैठक या वारदात को अंजाम देने की सूचना मिली थी। इस सूचना की भी जांच नहीं की गई। इसके अलावा क्षेत्र में सेंट्रल कमेटी के सदस्यों की उपस्थिति की भी जांच नहीं की गई। 25 मई को वारदात को अंजाम देने के बाद 250-300 की संख्या में नक्सली झीरम घाटी से सुकमा जिले के करकुंडम होते हुए भागे। इस सूचना के बावजूद पुलिस ने घेराबंदी नहीं की।
दो युवक ग्राम जूनापानी से नक्सलियों के लिए राशन लेकर बेंगापाल गए थे। इसकी भी पुलिस को सूचना दी गई। क्षेत्र में नक्सलियों के सक्रिय होने की सूचना होने के बावजूद सुकमा जिले में 28, 29 व 30 मई को कोई भी सर्चिंग ऑपरेशन नहीं चलाया गया।
पुलिस ने नक्सलियों को भागने का अवसर दिया। 28 मई को भी 40-50 सशस्त्र नक्सली तोंगपाल के दुड़मा वाटरफॉल के पास थे। पुलिस ने किसी भी सूचना की तस्दीक नहीं की। आयोग ने सुकमा के तत्कालीन एसपी का प्रतिपरीक्षण पूरा होने के बाद बस्तर के तत्कालीन आईजी हिमांशु का बयान पंजीबद्घ करने मामले को 14 जनवरी 2017 को रखने का आदेश दिया है।
 
MadhyaBharat 21 December 2016

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2024 MadhyaBharat News.