Since: 23-09-2009

  Latest News :
समाजवादी पार्टी का मुसलमानों से कोई सरोकार नहीं : मायावती.   80 बनेगा आधार, एनडीए करेगा 400 पार : योगी आदित्यनाथ.   केजरीवाल की गिरफ्तारी को चुनौती वाली याचिका पर ईडी को ‘सुप्रीम’ नोटिस.   बाबा साहब के सपनों को साकार करने वाली सरकार चुनें : मायावती.   भाजपा का संकल्प पत्र देशवासियों की एंबीशन पूरा करने का मिशन- प्रधानमंत्री.   फिल्म अभिनेता सलमान खान के घर के बाहर फायरिंग.   भाजपा प्रत्याशी की शिकायत पर कमलनाथ के पीए पर केस दर्ज.   प्रदेश में सबसे ज्यादा अपराध आदिवासी वर्ग पर हो रहे हैं: जीतू पटवारी.   44 घंटे तक रेस्क्यू के बाद भी बोरवेल में गिरे मासूम की नहीं बच पाई जान.   भाजपा ने बाबा साहब के योगदान को नई पहचान दीः नरेन्द्र मोदी.   जिन लोगों ने बाबा साहब को संसद जाने से रोका वही उनके नाम पर वोट मांग रहे : मुख्यमंत्री डॉ. यादव.   रीवा में बोरवेल में गिरे मासूम को निकालने के लिए रेस्क्यू जारी.   मवेशियों का सड़क में डेरा बढ़ी दुर्घटना की आशंका.   राज्यपाल हरिचंदन उड़िया नव वर्ष उत्सव में शामिल हुए.   एक लाख के इनामी नक्सली के साथ सात नक्सली गिरफ्तार.   सड़क दुर्घटना में दो सगे भाइयों समेत तीन युवकों की मौत.   मैनपाट में घर में लगी आग की चपेट में आकर तीन बच्चे जिंदा जले.   बसपा ने छग की तीन सीटों के लिए की उम्मीदवारों की घोषणा.  
57 साल लड़ी लड़ाई तब हटा जमीन से कब्जा
durg

 

 
 
दुर्ग में  पुश्तैनी जमीन हासिल करने की मां की इच्छा पूरी करने बेटे ने 57 साल न्याय के लिए लड़ाई लड़ी। लोअर कोर्ट और हाईकोर्ट से खिलाफ में फैसला आने के बाद भी बेटे ने हौसला नहीं खोया और आखिरकार सुप्रीम कोर्ट से न्याय मिला। कोर्ट के आदेश पर सोमवार को पुलिस और प्रशासन ने कब्जा हटा दिया। बीच शहर में अग्र सेन चौक के पास जिस जमीन पर कब्जा किया गया था, आज उसकी कीमत करीब तीन करोड़ स्र्पए है।
दुर्ग निवासी अनिल सब्बरवाल और उनके भाई विजय सब्बरवाल के नाम वर्तमान में यह जमीन है। अनिल सब्बरवाल ने बताया कि उनके नाम 5,610 वर्ग फीट जमीन है। इस जमीन पर जगदीश तिवारी के परिवार ने कब्जा कर मकान बना लिया और शेष हिस्से पर टिम्बर व्यवसाय शुरू कर दिया।
अनिल सब्बरवाल ने बताया कि उनके पिता चमनलाल सब्बरवाल ने यह जमीन 1960 में एक गुजराती व्यक्ति से खरीदी थी। जमीन अनिल की माता शीला सब्बरवाल के नाम पर था। इस जमीन के लिए भी गिरिजा शंकर तिवारी और दयाशंकर तिवारी के पिता ने एडवांस पैसे दिए थे। उनके निधन के बाद गिरिजा शंकर व दयाशंकर ने यह कहकर जमीन कब्जा लिया कि इसके लिए पिता ने भी पैसे लगाए हैं। इस जमीन में गिरिजाशंकर तिवारी के बेटे जगदीश तिवारी का परिवार वर्तमान में रह रहा है।
इस जमीन की कीमत को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कोई टिप्पणी नहीं की है लेकिन बाजार भाव करीब पांच हजार रुपए वर्गफुट बताई जा रही है। इस हिसाब से वर्तमान में इसकी कीमत करीब 3 करोड़ रुपए है। कब्जा हटाने के दौरान यहां निवासरत राकेश दुबे, अवध दुबे और उनके परिवार की महिलाएं अफसरों के समक्ष विरोध करती रहीं। मौजूद अधिकारी शहर पुलिस अधीक्षक एनपी उपाध्याय व तहसीलदार अरविंद शर्मा ने कहा कि यह सुप्रीम कोर्ट का आदेश है इसलिए कुछ नहीं कर सकते।
कब्जेदार जगदीश तिवारी के पिता गिरिजाशंकर तिवारी तहसीलदार के पास प्रमाणीकरण के लिए गए। तब तहसीलदार ने जमीन का खसरा मेल नहीं होने की वजह बताते हुए इसे खारिज कर दिया।1994 में आवेदक के बयान के आधार पर जमीन प्रमाणीकरण अनिल, विजय सब्बरवाल के नाम दर्ज किया।अनिल सब्बरवाल ने सिविल कोर्ट में सन 2005 में याचिका लगाई।अनिल ने वर्ष 2016 में सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई।
अनिल बोले में मां की इच्छा पूरी करने सुप्रीम कोर्ट तक गया। अनिल सब्बरवाल ने बताया कि मां और पिता ने यह जमीन अपनी मेहनत की कमाई से खरीदी थी। उनका सपना था कि यह जमीन परिवार के लिए फिर से वापस मिले। परिवार के लोग दुर्ग में नहीं रहते। अब जमीन मिल जाने के बाद दोनों भाई यहां शिफ्ट हो सकेंगे। इस जमीन के लिए उनके माता-पिता ने अजमेर में चादर चढाने और गुस्र्द्वारे में लंगर कराने की मन्न्त भी मांगी थी, जिसे वे पूरा करेंगे।
 
MadhyaBharat 27 December 2016

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2024 MadhyaBharat News.