Since: 23-09-2009

  Latest News :
राजस्थान के बाड़मेर में भीषण हादसा .   94 साल के हुए लालकृष्ण आडवाणी.   नाबालिग बालिका के मां बनने के मामले में खुलासा.   अभी और बढ़ेंगे पेट्रोल डीजल के भाव .   मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लगाई झाड़ू .   सोनिया गांधी बोलीं- मैं ही पूर्णकालिक अध्यक्ष.   पजल पार्किंग की ऊर्जा मंत्री तोमर ने की शुरुआत.   CM शिवराज ने पृथ्वीपुर में की कई बड़ी जनहित की घोषणाएं.   वीडी शर्मा :फूट डालकर राज करना कांग्रेस की नीति.   नितेन्द्र सिंह राठौर का भाजपा सरकार पर हमला.   वैक्सीनेशन अभियान का स्वागत .   वर्चस्व की लड़ाई में बाघ की हुई मौत.   साथी जवान ने चलाई अंधाधुंध गोलियां.   सात हजार से ज्यादा शिक्षकों की भर्ती.   छत्‍तीसगढ़ में किसानों का प्रेरणादायी प्रयोग.   भूपेश बघेल : कुछ लोगों के लिए भगवान राम केवल वोट दिलाने वाले.   कपिल सिब्बल पर भड़के मंत्री टीएस सिंहदेव.   नकली पिस्टल दिखाकर लूट ,तीन आरोपितों को पकड़ा गया.  
1590 मेगावाट बिजली उत्पादन बंद
कोरबा विद्युत उत्पादन कंपनी

कोरबा विद्युत उत्पादन कंपनी के 500 मेगावाट के डीएसपीएम की एक नंबर इकाई से बिजली उत्पादन शुरू हो गया, तो पूर्व संयंत्र की 50 मेगावाट की एक इकाई तकनीकी खराबी आने से बंद हो गई। उधर मड़वा प्रोजेक्ट की 500 मेगावाट की दो नंबर इकाई तीन दिन बाद भी शुरू नहीं हो सकी। कंपनी की 9 इकाई बंद होने से 1590 मेगावाट बिजली का उत्पादन ही नहीं हो रहा। प्रदेश में बिजली की मांग 3553 मेगावाट बनी रही।

उत्पादन कंपनी की डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ताप विद्युत गृह (डीएसपीएम) की बंद एक नंबर इकाई की तकनीकी खराबी दूर कर सोमवार को चालू किया गया। 250 मेगावाट की इस इकाई से मात्र 184 मेगावाट बिजली उत्पादन हो रहा है। उधर कोरबा पूर्व संयंत्र की चार नंबर तकनीकी खराबी आने की वजह से बंद पड़ गई। संयंत्र की छह में से तीन इकाई ही परिचालन में है। इनमें 50 मेगावाट की दो तथा 120 मेगावाट की छह नंबर शामिल है। 440 मेगावाट के इस संयंत्र से मात्र 143 मेगावाट बिजली उत्पादन हो रहा है।

जांजगीर-चांपा स्थित 1000 मेगावाट के मड़वा परियोजना की दोनों इकाई बंद पड़ी हुई है। उम्मीद जताई जा रही थी कि सुधार कार्य के बाद 500 मेगावाट की दो नंबर इकाई को चालू कर लिया जाएगा, पर सुधार कार्य पूरा नहीं हो सका। एक नंबर इकाई पहले में बाइब्रेशन आने से बंद हो चुकी है। इस इकाई को फिलहाल चालू करना संभव नजर नहीं आ रहा है। 3400 मेगावाट वाले उत्पादन कंपनी के संयंत्रों से मात्र 1370 मेगावाट बिजली उत्पादन हो रहा है। आईपीपी व सीपीपी से बिजली लेकर उपलब्धता 1641 मेगावाट है।

सेंट्रल सेक्टर से लगभग 1912 मेगावाट बिजली लेने पर कुल उपलब्धता 3639 मेगावाट रही। सोमवार को पीक अवर्स में बिजली की मांग 3553 मेगावाट रही। जानकारों का कहना है कि सेंट्रल सेक्टर से बिजली मिलने की वजह से संयंत्र से उत्पादन कम होने के बाद भी दिक्कत नहीं आई। गर्मी बढ़ने की वजह से बिजली की मांग में दिन में चार हजार मेगावाट के करीब पहुंच रही है।

 

MadhyaBharat 4 April 2017

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2021 MadhyaBharat News.