Since: 23-09-2009

Latest News :
मध्यप्रदेश में उपचुनाव सितम्बर के आखिरी सप्ताह में.   गैंग्स्टर विकास दुबे मुठभेड़ में मारा गया.   सिंधिया ने अपना प्लाज्मा डोनेट किया.   ज्योतिरादित्य सिंधिया कोरोना से संक्रमित.   मालगाड़ी से कुचल कर 16 मजदूरों की मौत.   साद के खिलाफ गैरइरादतन हत्या का मामला.   सीएम शिवराज की चिरायु अस्पताल से छुट्टी.   सुरक्षा के लिए महिलाओं ने उठाई बंदूक.   हादसों को निमंत्रण देती परासिया से WCL की सड़क.   बदमाशों का निकाला गया जुलूस.   आरक्षक ने की युवक की बेरहमी से पिटाई.   नरोत्तम ने दी प्रदेशवासियों को रक्षाबंधन की बधाई.   बैलाडिला में नक्सली गणेश उइके की मौजूदगी.   छत्तीसगढ़ के कण कण में बसे हैं भगवान राम.   कोरोना काल में कलेक्टर ने पेश की मिसाल.   शहर व्यवस्था देखने साइकिल से निकले कलेक्टर ,एसपी.   राज्यसभा सदस्य ने खेत में रोपा धान.   छत्तीसग़ढ में अस्थाई शिक्षाकर्मी होंगे स्थाई.  
सतपुडा की रानी : पचमढ़ी
सतपुडा की रानी : पचमढ़ी
सतपुडा की रानी : पचमढ़ी म.प्र. के होशंगाबाद जिले में स्थित पचमढ़ी १०६७ मीटर ऊँचाई पर स्तिथ | यहाँ का तापमान सर्दियों में ४.५ डिग्री से. तथा गर्मियों में अधिकतम ३५ डिग्री से. होता हैं | यह मध्यप्रदेश का एकमात्र हिल स्टेशन हैं | यहाँ की विशेषता हैं कि आप यहाँ वर्ष भर किसी भी मौसम में जा सकता हैं | सतपुडा श्रेणियों के बीच स्थित होने के कारण और अपने सुन्दर स्थलों के कारण इसे सतपुडा कि रानी भी कहा जाता हैं | यहाँ घने जंगल, मदमाते जलप्रपात और पवित्र निर्मल तालाब हैं | यहाँ की गुफाएँ पुरातात्त्विक महत्त्व की हैं क्योंकि यहाँ गुफाओं में शैलचित्र भी मिले हैं | यहाँ की प्राक्रतिक संपदा को पचमढ़ी राष्ट्रिय उधान के रूप में संजोया गया हैं | यहाँ गौर, तेंदुआ, भालू, भैंसा तथा अन्य जंगली जानवर सहज ही देखने को मिल जाते हैं | इस क्षेत्र में घूमने के लिए आप पचमढ़ी से जीप या स्कूटर ले जा सकते हैं | जटाशंकर एक पवित्र गुफा हैं जो पंचमढ़ी कसबे से १.५ किमी दुरी पर हैं | यहाँ तक पहुचने के लिए आपको कुछ दूर तक पैदल चलने का आनंद उठाना पड़ेगा | मंदिर में शिवलिंग प्राक्रतिक रूप से बना हुआ हैं |यहाँ एक ही चट्टान पर बनी हनुमानजी की मूर्ति भी एक मंदिर में स्थित हैं | पास ही में हार्पर की गुफा भी हैं | पांडव गुफा महाभारत काल की मानी जाने वाली पॉँच गुफाएँ यहाँ हैं जिनमें द्रौपदी कोठरी और भीम कोठरी प्रमुख हैं | पुरातत्वविद मानते हैं कि ये गुफाएँ गुप्तकाल कि हैं जिन्हें बौद्ध भिक्षुओं ने बनवाया था | अप्सरा विहार से आधा किमी. कि दूरी पर स्थित हैं | ३५० फुट कि ऊँचाई से गिरता इसका जल एकदम दूधिया चाँदी कि तरह दिखाई पड़ता हैं | राजेन्द्र गिरी इस पहाडी का नाम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद के नाम पर रखा गया हैं | डॉ. राजेन्द्र प्रसाद यहाँ आकर रुके थे | उनके लिए यहाँ रविशंकर भवन बनवाया गया था | इस भवन के चारों ओर प्रक्रति की असीम सुन्दरता बिखरी पड़ी हैं | हांडी खोह यह खाई है जो ३०० फिट गहरी है | यह घने जंगलों से ढँकी हैं और यहाँ कल-कल बहते पानी की आवाज़ सुनना बहुत ही सुकूनदायक लगता है | वनों के घनेपण के कारण जल दिखाई नहीं देता | पौराणिक सन्दर्भ कहते हैं कि भगवन शिव ने यहाँ एक बड़े राक्षस रूपी सर्प को चट्टान के निचे दबाकर रखा था | स्थानीय लोग इसे अंधी खोह भी कहते हैं जो अपने नाम को समर्थक करती हैं | यहाँ बने रेलिंग प्लेटफार्म पर से आप घटी का नज़ारा ले सकते हैं | प्रियेदार्शिनी प्वाइंट इस बिंदु पर से सूर्यास्त का द्रश्य बहुत ही लुभावना लगता हैं | तीन पहाडी शिखर बायीं तरफ चौरादेव, बीच में महादेव तथा दायीं और दायीं और धूपगढ़ दिखाई देते हैं | धूपगढ़ यहाँ कि सबसे ऊँची चोटी हैं | यह जमुना प्रताप के नाम से भी जाना जाता हैं | यह नगर से ३ किमी. कि दूरी पर स्थित हैं | मित्रों व् रिश्तेदारों के साथ पिकनिक मनाने के लिए यह एक आदर्श जगह हैं | अन्य आकर्षण यहाँ महादेव, चौरागढ़ का मंदिर, रिछागढ़, सुन्दर कुंड, इरन ताल, धूपगढ़, सतपुडा राष्ट्रिय उधान हैं | सतपुडा राष्ट्रिय उधान १९८१ में बनाया गया जिसका क्षेत्रफल ५२४ वर्ग किमी. हैं | यह प्राक्रतिक सौन्दर्य से भरपूर हैं यहाँ दिन या रात में रुकने के लिए आपको उधान के निदेशक से अनुमति लेना पड़ती हैं | इसके अलावा यहाँ कैथोलिक चर्च और क्राइस्ट चर्च भी हैं |
MadhyaBharat

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212
x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2020 MadhyaBharat News.