Since: 23-09-2009

  Latest News :
उमा भारती पहुंची केदारनाथ धाम.   मध्यप्रदेश में उपचुनाव सितम्बर के आखिरी सप्ताह में.   गैंग्स्टर विकास दुबे मुठभेड़ में मारा गया.   सिंधिया ने अपना प्लाज्मा डोनेट किया.   ज्योतिरादित्य सिंधिया कोरोना से संक्रमित.   मालगाड़ी से कुचल कर 16 मजदूरों की मौत.   पति ने पत्नी और साले को उतारा मौत के घाट.   रिटायर्ड शिक्षक को अपहरणकर्ताओं से कराया मुक्त.   जुएं के अड्डे पर दांव लगते पुलिसकर्मी.   प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा का हुआ सम्मान.   नरोत्तम मिश्रा ने उपाध्याय को बताया महात्मा.   पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती मनाई गई.   कृषि अध्यादेश की सीपीआई ने जलाई प्रतियां.   छात्राओं को बांटी गई सायकिल एवं पाठ्य पुस्तकें.   अधिकारियों ने किया नक्सलियों के इलाके में भ्रमण .   कोरोना संक्रमण रोकने प्रशासन ने लगाई धारा 144.   अमित जोगी ने बघेल सरकार को कहा तानाशाह.   कई युवा जुड़े आप आदमी पार्टी से.  
बिपिन रावत बने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ
 CDS BIPIN RAWAT

सेना प्रमुख की कमान मुकुंद नरवाणे ने संभाली

 

तीन साल तक देश की सेना के प्रमुख रहने के बाद जनरल बिपिन रावत रिटायर हो गए  उनकी जगह लेफ्टिनेंट जनरल मनोज मुकुंद नरवाणे ने देश के नए सेना प्रमुख के रूप में कमान संभाल ली है  |  वहीं बिपिन रावत देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ  की जिम्मेदारी संभालेंगे | थल सेना प्रमुख के पद से सेवानिवृत्ति के ठीक एक दिन पहले सरकार ने जनरल बिपिन रावत को सीडीएस नियुक्त किए जाने का एलान किया  | 

जनरल बिपिन रावत के सीडीएस बनने के बाद उनकी भूमिका तीनों सेनाओं और सरकार के बीच समन्वयक की रहेगी  |  सीडीएस का कार्यकाल तीन साल का होगा | सीडीएस पद सृजित किए जाने के बाद से ही जनरल बिपिन रावत को पहला सीडीएस बनाए जाने की चर्चा थी  | सरकार ने सीडीएस के लिए अधिकतम उम्र सीमा को बढ़ाकर 62 से 65 साल कर दिया था  |  कारगिल युद्ध के बाद से ही सैन्य क्षेत्र में इस तरह के पद की मांग उठ रही थी  |  उस समय रिपोर्टों में यह सामने आया था कि सेनाओं के बीच समन्वय की कमी के कारण युद्ध में ज्यादा नुकसान उठाना पड़ा था  |  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस साल 15 अगस्त को यह पद सृजित करने का एलान किया था और 24 दिसंबर को कैबिनेट की बैठक में इसे मंजूरी दी गई  | जनरल बिपिन रावत के नाम कई उपलब्धियां हैं  |  बतौर सेना प्रमुख उन्होंने सैन्य सुधारों की दिशा में कई कदम उठाए  | जम्मू-कश्मीर में सीमापार आतंकवाद से निपटने के लिए उन्होंने आक्रामक रणनीति अपनाई |  पाकिस्तान और चीन से लगी नियंत्रण रेखा और पूर्वोत्तर में उन्होंने कई सैन्य अभियानों में भूमिका निभाई है  |  जनरल रावत कांगो में एक मल्टीनेशनल बिग्रेड की कमान भी संभाल चुके हैं |  सीडीएस की भूमिका रक्षा व इससे जुड़े मामलों में प्रधानमंत्री व रक्षा मंत्री के एकीकृत सलाहकार की होगी | इसके लिए रक्षा मंत्रालय में "डिपार्टमेंट ऑफ मिलिट्री अफेयर्स" के नाम से नया विभाग गठित होगा और सीडीएस इसके सचिव होंगे  |  यह विभाग केवल सैन्य क्षेत्र से जुड़े मामले देखेगा  | सीडीएस का उद्देश्य सेनाओं को ट्रेनिंग, स्टाफ व अन्य अभियानों के लिए एकीकृत करना होगा  | 

 

MadhyaBharat 31 December 2019

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2020 MadhyaBharat News.