Since: 23-09-2009

  Latest News :
मालगाड़ी से कुचल कर 16 मजदूरों की मौत.   साद के खिलाफ गैरइरादतन हत्या का मामला.   कोरोना पर शिवपुरी की जिज्ञासा का गाना.   पीएम मोदी ने सर्वदलीय बैठक में दिए संकेत.   तब्लीगी जमात के लोगों ने फेंकी पेशाब भरी बोतलें.   14 अप्रैल से आगे जारी रह सकता है लॉकडाउन.   चिरायु से एक हजार कोरोना मरीज ठीक हुए.   कोरेन्टीन सेंटर के बाहर शराबी ने मचाया उत्पात.   दिग्विजय :गोविन्द सिंह ने कांग्रेस के साथ धोखा किया.   मुख्यमंत्री के गृहजिले में पुलिसवाले की गुंडागर्दी.   कोरोना काल में सैंकड़ों चमगादड़ों की मौत.   मोदी सरकार के1साल पूर्ण होने पर शिवराज की बधाई.   CAF जवानों में हुआ खूनी संघर्ष.   छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम अजीत जोगी का निधन.   8 लाख के इनामी नक्सली ने किया आत्मसर्मपण.   सर्चिंग के दौरान पुलिस-नक्सली मुठभेड़.   नक्सलियों का रिमोट बम किया गया निष्क्रिय.   900 किमी झारखण्ड पैदल जाने पर अड़े मजदूर.  
अतिथि विद्वानों के पंडाल में लगा दी आग

100 विद्वान सो रहे थे बड़ा हादसा टला

अतिथि विद्वानों ने आग को बताया साजिश

पुलिस ने मामले में एफआइआर दर्ज की

 

भोपाल  के शाहजहांनी पार्क में धरना दे रहे अतिथि विद्वानों के पंडाल में रविवार रात  अज्ञात बदमाशों ने आग लगा दी  |  इसमें पंडाल का एक हिस्सा बुरी तरह जल गया, लेकिन अतिथि विद्वानों की सर्तकता से आग पर काबू पा लिया गया, जिससे बड़ा हादसा टल गया |  जिस पंडाल को जलाया गया, उसके अंदर 100 अतिथि शिक्षक सो रहे थे  |  पुलिस ने इस मामले में जाँच शुरू कर दी है | 

रात के अँधेरे में किसी बदमाश ने पंडाल में सो रहे तक़रीबन सौ अतिथि विद्वानों को जलाने के लिए पंडाल में आग लगा दी  | लेकिन अचानक अतिथि विद्वानों के जाग जाने से एक बहुत ही बड़ा हादसा टल गया  | इस मामले में अतिथि विद्वानों की शिकायत पर पुलिस ने एफआइआर दर्ज कर ली है |  वहीं नेता प्रतिपक्ष  गोपाल भार्गव ने घटना की निंदा करते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ से उच्च स्तरीय जांच की मांग की है | उन्होंने कहा कि अतिथि विद्वानों की आवाज को दबाने की कोशिश की जा रही है |  इस मसले पर अब सरकार विपक्ष के निशाने पर है | 

मध्य प्रदेश के अतिथि विद्वान 35 दिन से अपने नियमितिकरण की मांग को लेकर भोपाल में धरना दे रहे हैं  |  रविवार देर रात धरना स्थल पर लगे उनके पंडाल में अज्ञात लोगों ने आग लगा दी  | बताया जा रहा है कि आग कैरोसिन डालकर लगाई गई, इससे आग तेज़ी से भड़की और देखते ही देखते पंडाल का एक हिस्सा पूरी तरह से जल गया  |  जब आग लगी तो पंडाल के अंदर 100 से ज्यादा अतिथि विद्वान सो रहे थे  |  कैरोसिन की गंध और आग के धुएं से अतिथि विद्वानों की नींद खुल गयी |  इसके बाद पंडाल के अंदर अफरातफरी मच गई  | दूसरे पंडाल के लोग भी शोर-शराबा सुनकर आ गए |  विद्वानों ने समय रहते इसे देख लिया और सबने मशक्कत कर आग पर काबू पा लिया  |  अगर आग बेकाबू होती तो बड़ा हादसा हो सकता था | 

 

 

MadhyaBharat 13 January 2020

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 1899
  • Last 7 days : 11576
  • Last 30 days : 61845


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2020 MadhyaBharat News.