Since: 23-09-2009

Latest News :
गैंग्स्टर विकास दुबे मुठभेड़ में मारा गया.   सिंधिया ने अपना प्लाज्मा डोनेट किया.   ज्योतिरादित्य सिंधिया कोरोना से संक्रमित.   मालगाड़ी से कुचल कर 16 मजदूरों की मौत.   साद के खिलाफ गैरइरादतन हत्या का मामला.   कोरोना पर शिवपुरी की जिज्ञासा का गाना.   पत्रकारिता की आड़ में अय्याशी का काम.   भाजपा नेता का दर्द छलक के सामने आया.   नरोत्तम :कांग्रेस का सूरज अस्ताचल की ओर.   शिवराज के मंत्रियों को विभागों का बंटवारा.   स्वास्थ्य एवं गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा का बयान.   रेत माफियाओं पर पुलिस का शिकंजा.   नक्सली की डायरी से मिला सुराग.   मुनगा फली के पौधे रोपे गए.   केंद्र की मोदी सरकार का पुतला दहन.   सड़क हादसे में पति पत्नी की मौत.   सीएम बघेल से नहीं मिल पाया तो आग लगाई.   बस्तर के मोस्टवॉंटेड की सूचि.  
फिर जिन्दा हुए बटेसर के मंदिर
फिर जिन्दा हुए बटेसर के मंदिर
विजय मनोहर तिवारी ग्वालियर से ४० किलोमीटर दूर सदियों से मलबे में दफ़न बटेसर के मंदिर अपने मूल स्वरूप में नज़र आने लगे हैं | अब तक कोई शिलालेख या सिक्के इस विशाल पुरातात्त्विक परिसर में नहीं मिले हैं | एक समाधि में कुछ अस्थियाँ और मिट्टी के बर्तनों के अवशेष जरुर पाए गए हैं | गुर्जर-प्रतिहार राजाओं के समय सातवीं से नौवी सदी के बीच मंदिरों का निर्माण हुआ | इनमे से ७० पुराने रूप में वापस आ चुके हैं | पुरातत्व विशेषज्ञों का आकलन हैं कि ये एक ही समय में बने हैं | कुछ साल पहले तक यह धरोहर पूरी तरह दूर तक फैले मलबे के ढेर में नज़र आती रही | लेकिन एएसआई के तत्कालीन पुरातत्व अधीक्षक के.के.मोहम्मद ने इन्हें फिर से जिवंत करने में खास दिलचस्पी ली | चंदेरी के ६० से ज्यादा कुशल कारीगरों को यहाँ लगाया गया, जिन्हें पुराने शिल्प और पत्थरों कि प्रकर्ति कि गहरी जानकारी हैं | पुरातत्वविद एस.एस.गुप्ता कहते हैं ये मंदिर इस इलाके के उजले अतीत के लाजवाब प्रमाण हैं | डेढ़ हजार साल पहले यह कला और संस्क्रती का लाजवाब केंद्र रहा होगा | यहाँ के मंदिर प्राकर्तिक कारणों से उजडे और धीरे-धीरे वीरानों में खो गए | यहां इतिहास को जिन्दा किया गया हैं | चप्पे-चप्पे पहले १९२० में प्रख्यात पुरातत्वशास्त्री एमबी गुर्दे कि नज़र में यह जगह आई थी ,लेकिन एएसआई ने वर्ष २००६ में यहां पूरी तैयारी से काम शुरू कराया, जो अब तक जारी हैं | अब मलबे में बिखरे मंदिर फिर से अपने पुराने दौर की याद ताजा करने लगे हैं | इतिहास के जानकारों का कहना हैं कि मंदिरों के इस विशाल संकुल से जाहिर हैं कि यह कोई प्रतिष्ठित मठ रहा होगा, जहां एक साथ सैकडों पुरोहित रहे होंगे | इनकी मौजूदगी में हजारों श्रद्धालुओं का आवागमन भी रहा होगा | लंबे अरसे तक डकैत गिरोहों के कारण कुख्यात रहे इस इलाके के चप्पे-चप्पे में ऐसे स्मारक बिखरे हुए हैं | इनमे प्राचीन पदमावती के अवशेष पवाया में पाए जाते हैं | सुहानिया,नरेसर, अटेर, और नरवर जैसे स्थान यहां की अलग ही कहानी बयान करते हैं | यह कहानी बीते हुए कल की हैं |(दैनिक भास्कर से साभार)
MadhyaBharat

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212
x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2020 MadhyaBharat News.