Since: 23-09-2009

  Latest News :
मध्यप्रदेश में उपचुनाव सितम्बर के आखिरी सप्ताह में.   गैंग्स्टर विकास दुबे मुठभेड़ में मारा गया.   सिंधिया ने अपना प्लाज्मा डोनेट किया.   ज्योतिरादित्य सिंधिया कोरोना से संक्रमित.   मालगाड़ी से कुचल कर 16 मजदूरों की मौत.   साद के खिलाफ गैरइरादतन हत्या का मामला.   सेवा सप्ताह में हो रहे हैं सामजिक कार्य.   आंदोलन के बहाने एसडीएम के चेहरे पर कालिख पोती.   अघोषित बिजली कटौती से परेशान हैं ग्रामीण.   कांग्रेस ने 15 महीने में एक वैकेंसी नहीं निकाली .   आंगनवाड़ी केंद्रों पर दुग्ध वितरण योजना का शुभारंभ.   मोदी के जन्मदिन पर कांग्रेस का बेरोजगार दिवस.   स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव की कर्मचारियों से अपील.   मझधार में फंसे सात लोगों को बचाया गया.   CAF के जवान की नक्सलियों ने की हत्या.   गरीब भाइयों को पढ़ाई के लिए दिया गया मोबाइल.   केंद्र की नीतियों ने तोड़ी नक्सलवाद की कमर.   बस्तर के औधोगिक विकास पर परिचर्चा.  
क्या इतने क्रूर हैं छत्तीसगढ के नेता

नक्सलियों से विरोधियों की हत्याए करवाते हैं

 

झीरम नरसंहार का मामला फिर सुर्खियों मे है | तो  बात बस्तर से एक मात्र भाजपा विधायक भीमा मण्डावी की हत्या की भी उठेगी ही | भीमा मण्डावी की हत्या के भी राजनीतिक कारण तलाशे  जाएंगे | लेकिन चर्चा ये भी है शुरू हो गई है कि क्या छत्तीसगढ़ के नेता नक्सलियों से अपने विरोधियों की हत्याएं करवाते हैं | छत्तीसगढ़ में चल रही चर्चाओं को सच माने तो  राजनीति का ये घिनौना और डरावना चेहरा  लोगों  को भयभीत करने लगा है |  कि राजनेता अपने विरोधियों के खात्मे के लिए नक्सलवादियों का सहारा लेते हैं | नक्सली लम्बे समय से समय समय पर राजनीतिक दलों से जुडे लोगों की हत्याएं करते आ रहे हैं.| इसमे भाजपा और कांग्रेस दोनो दलों के नेता शामिल है.| क्सली ये हत्याएं राजनीतिक दृष्टि से या नियोजित तरीके से करते हैं या ये हत्याएं करवाई जाती हैं। यह तथ्य अब तक पुख्ता तौर पर उजागर नहीं हुआ है | . हांलाकि  राजनेताओं की हत्या के उद्देश्य कभी उजागर नहीं होते |  क्योंकि ये टारगेट नक्सलियो के हाईलेबल पर फिक्स किये जाते हैं |  जिसकी जानकारी दूसरी पंक्ति  से लेकर अन्तिम पंक्ति  के  नक्सली सदस्यों तक को नहीं होती | तो अगर पुलिस या जांच एजेन्सिया ऐसी घटना मे शामिल नक्सली या नक्सलियों को गिरफ्तार कर भी ले या आत्मसमर्पण करा भी दे तो भी उस घटना का यानी कि नेता की हत्या के कारण का पता नहीं लगाया जा सकता. |  मामला चाहे झीरम नरसंहार का हो या भाजपा विधायक भीमा मण्डावी की हत्या का हो या फिर पूर्व मे छोटे और मझोले किस्म के नेताओं की हत्या का हो|  समय समय पर इन हत्याओं मे शामिल नक्सली पकडे जाते रहे हैं | इन हत्याओं मे शामिल नक्सलियों ने समर्पण भी किया है मगर पुलिस या जांच एजेन्सियां इस बात का पता नहीं लगा सकीं कि क्या ये हत्या या हत्याए सुपारी किलिंग थी.? यानी कि क्या ये हत्या या हत्याएं किसी के कहने पर की गई.? कारण वही था कि इन पकडे गये या आत्मसमर्पित नक्सलियों को पता ही नहीं होता कि वो जिस हत्या काण्ड या किसी घटना को अंजाम दे रहे हैं उसके पीछे का मकसद क्या है | 

 

MadhyaBharat 27 June 2020

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2020 MadhyaBharat News.