Since: 23-09-2009

  Latest News :
PM मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक .   नरोत्तम : पश्चिम बंगाल में बनेगी भाजपा की सरकार.   नरोत्तम :यह समय हम सबकी परिक्षा का समय .   सुनवाई के लिए एनआईए कोर्ट पहुंची प्रज्ञा ठाकुर.   भागवत : हिन्दू धर्म के मूल में देशभक्ति .   नए साल के मौके पर उत्तर भारत शीत लहर की चपेट में.   कृषि कानून का विरोध करने ट्रैक्टर से पहुंचे कांग्रेसी.   सीएम शिवराज ने दिया विश्व हिन्दू परिषद् को 1 लाख का चेक.   साध्वी प्रज्ञा ने राम मंदिर के लिए दिए एक लाख 11 हजार 111.   खाद्य व्यापारियों को दिया गया प्रशिक्षण.   कांस्टेबल को चाचा कहना दुकानदार को महंगा पड़ा.   वैक्सीनेशन को लेकर सामुदायिक स्वास्थ केंद्र में बैठक.   धान खरीदी को लेकर भाजपा का धरना प्रदर्शन.   एसपी , कलेक्टर ने नक्सल प्रभावित कोलेग में रात बिताई.   कायाकल्प में गुढ़ियारी स्वास्थ्य केंद्र को राज्य में पहला पुरस्कार.   सड़कों का जाल बिछेगा जगदलपुर में.   आईजी ने दी 2020 की उपलब्धियों के बारे में जानकारी.   कोविड-19 वैक्सिनेशन सेंटर बनाये गए.  
केंद्र की नीतियों ने तोड़ी नक्सलवाद की कमर

समाज की मुख्य धारा से जुड़ चुके हैं कई नक्सली  

 

केंद्र  की एनडीए  सरकार की प्रभावी नीतियों के चलते  बस्तर में नक्सलवाद ख़त्म होने की कगार पर आ गया है |  नक्सलियों को मिलने वाली बाहरी मदद भी बंद हो गई है   | जिसके चलते नक्सली मुखबिर का आरोप लगाकर बेक़सूर ग्रमीणो की हत्या कर रहे हैं  |  इसके बावजूद कई नक्सलियों ने आत्मसमर्पण कर समाज की मुख्य धारा से जुड़ने का काम किया है  | 

बस्तर मे नक्सलवाद अपनी अन्तिम सांसे गिन रहा है  | केन्द्र मे एन.डी.ए. की सरकार ने  पुराने ढर्रे पर चल रही नीतियों को पूरी तरहा से बदल दिया था | जिसके चलते  नक्सलवाद का सफाया होना शुरू हो गया था  |  पिछले पांच सालों से नक्सलवादी संगठन नई भर्ती तक नहीं कर सका है | हथियार गोला बारूद की सप्लाई शून्य पर पहुंच चुकी है  | नक्सल प्रभावित इलाकों मे पुलिस महकमा खुद निर्माण कार्यों को करवा रहा है |  जिसके परिणाम स्वरूप नक्सल संगठन तक ठेकेदारों के माध्यम से पहुंचने वाली भारी भरकम रकम पहुंचना बन्द हो गई है | आई जी बस्तर ने बताया की आत्मसमर्पित और गिरफ्तार किये गये नक्सलियों से मिली सूचनाओं के आधार पर पुलिस फोर्स उनकी मांद तक पहुंच चुकी है | नक्सल संगठन अब किसी भी घटना को अंजाम देने की स्थिति मे नही है  | परिणाम स्वरूप दहशत कायम रखने आदिवासी ग्रामीणों की ही हत्याओं को अंजाम दिया जा रहा हैं  | अब तक महिला , नाबालिग बच्चों समेत कुल एक हजार सात सौ उनहत्तर  ग्रामीणों की हत्याएं हो चुकी हैं | 

MadhyaBharat 12 September 2020

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2021 MadhyaBharat News.