Since: 23-09-2009

  Latest News :
दुल्हन की मां ने निकाला अनोखा तरीका .   पीछे बैठने वालों के लिए भी सीट बेल्ट अनिवार्य .   रामेश्वर शर्मा की बॉलीवुड को हिदायत.   केंद्र सरकार का तोहफा, मिलेगा पीएफ और पेंशन का लाभ.   PM मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक .   नरोत्तम : पश्चिम बंगाल में बनेगी भाजपा की सरकार.   विधानसभा के बजट सत्र की अधिसूचना जारी.   होर्डिंग पर भाजपा कार्यकर्ताओं को वीडी शर्मा की नसीहत.   कई संगठनों ने की विंध्य प्रदेश बनाये जाने की मांग.   डॉक्टर गंगा के लिए चिकित्सा एक मानवधर्म .   प्यारे मियां मामले में पीड़िता की मौत की पुनः जांच हो.   भू - माफियाओं पर प्रशासन की कार्यवाई जारी.   कांग्रेस : केंद्र सरकार किसानों का अपमान कर रही है.   धान खरीदी को लेकर भाजपा का विरोध प्रदर्शन.   नेताजी की जयंती पर युवाओं में दिखा जोश.   किसान अगेंस्ट भूपेश कैंपेन,पूछे सरकार से सवाल.   रायपुर में एक आटो में युवक का शव लटका मिला, .   राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान की हुई शुरुवात.  
नए साल के मौके पर उत्तर भारत शीत लहर की चपेट में
 weather

 

नए साल के मौके पर उत्तर भारत शीत लहर की चपेट में जिससे  अगले 24 घंटे में यह शीत लहर हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान तथा पश्चिमी मध्य प्रदेश में और तेज होने की आशंका जताई जा रही है। यह स्थिति 2 जनवरी तक बनी रहेगी। मौसम विभाग के अनुसार, दिल्ली में नए साल का आगाज शीतलहर से होगा, जबकि उत्तराखंड में चटख धूप खिलने की संभावना बनी  है।  IMD के वरिष्ठ विज्ञानी आरके जेनमणि ने कहा है कि उत्तर भारत में कल तक शीत लहर का प्रकोप बना रहेगा। दो जनवरी के बाद ठंड में थोड़ी कमी आएगी। लेकिन 7 जनवरी से फिर से उत्तर भारत तेज शीत लहर की चपेट में आएगा। आगामी 48 घंटों तक इसी तरह की कड़ाके की सर्दी चुरू समेत उत्तर भारत के मैदानी राज्यों में जारी रहेगी। उसके बाद मौसमी स्थितियों में कुछ बदलाव देखने को मिलेगा। उत्तर भारत के पहाड़ों से लेकर मैदानी राज्यों तक हवाओं के रुख में बदलाव होगा जिससे गिरते तापमान में ब्रेक लगेगी। गुरुवार को राष्ट्रीय राजधानी में स्थित सफदरजंग वेधशाला ने दिल्ली का न्यूनतम तापमान 3.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया, जो इस मौसम में सबसे कम है। यहां घने कोहरे के कारण दृश्यता घटकर 50 मीटर तक हो सकती है। इसके पहले 20 दिसंबर को दिल्ली में न्यूनतम तापमान 3.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ था। IMD के क्षेत्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा कि 12 दिसंबर के बाद पश्चिमी विक्षोभ से पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र सबसे ज्यादा प्रभावित होगा, जिसकी वजह से जम्मू-कश्मीर तथा हिमाचल प्रदेश में बारिश तथा बर्फबारी होगी।

MadhyaBharat 1 January 2021

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2021 MadhyaBharat News.