Since: 23-09-2009

Latest News :
मालगाड़ी से कुचल कर 16 मजदूरों की मौत.   साद के खिलाफ गैरइरादतन हत्या का मामला.   कोरोना पर शिवपुरी की जिज्ञासा का गाना.   पीएम मोदी ने सर्वदलीय बैठक में दिए संकेत.   तब्लीगी जमात के लोगों ने फेंकी पेशाब भरी बोतलें.   14 अप्रैल से आगे जारी रह सकता है लॉकडाउन.   मोदी सरकार ने लिए कई ऐतिहासिक फैसले.   दरिंदगी करने वाला निकला पड़ोसी.   ताराचंद ने जताया शिवराज का आभार.   लापरवाही से भीगा 20 हजार मीट्रिक टन गेहूं.   नरोत्तम:नाथ कभी जनता के बीच नहीं गए.   कोरोना में हो रहा सुधार 62 % हुआ रिकवरी रेट.   एयर फोर्स के ग्रुप कैप्टन की कार का एक्सीडेंट.   डिमरापाल कोविड अस्पताल से 3 मरीज ठीक हुए .   CAF जवानों में हुआ खूनी संघर्ष.   छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम अजीत जोगी का निधन.   8 लाख के इनामी नक्सली ने किया आत्मसर्मपण.   सर्चिंग के दौरान पुलिस-नक्सली मुठभेड़.  
ताई-भाई का झगड़ा भुगत रहा है इंदौर
kailash vijayvargiye

 

 
 
 
पहली बार कैबिनेट में इंदौर का प्रतिनिधित्व न होने की गूंज सोशल मीडिया पर सुनाई देने लगी है। सोशल मीडिया पर लोग जमकर अपनी भड़ास निकाल रहे हैं। वे लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन (ताई) और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय (भाई) को यह समझाइश भी दे रहे हैं कि उनके आपसी झगड़े में इंदौर शहर का नुकसान हो रहा है। 
व्हाट्सएप और फेसबुक पर तरह-तरह के कमेंट किए जा रहे हैं। एक यूजर ने लिखा है कि ‘आज सिद्ध हो गया कि इंदौर से मुख्यमंत्री को वाकई कितना प्रेम है’। इस तीखे तंज के साथ कुछ यूजर्स ने यह भी लिखा ‘मंत्रिमंडल गठन में यह भी साफ है कि योग्यता की कद्र नहीं की गई है, इंदौर के सुदर्शन गुप्ता, महेंद्र हार्डिया, रमेश मैंदोला किसी भी कसौटी पर कमतर नहीं थे लेकिन फिर भी उनकी अनदेखी की गई। इसके जवाब में कई लोगों ने यह भी लिखा कि अगर योग्यता की बात करें तो दादा (बाबूलाल गौर) से ज्यादा मध्यप्रदेश में कौन योग्य था। फिर भी उन्हें जिस तरह से बाहर निकाला और इंदौर की उपेक्षा हुई इससे यह लग रहा है कि भाजपा को मालवा बेल्ट की अब कोई फिक्र नहीं रह गई है। वहीं यह भी कहा गया कि बड़े-बड़े की लड़ाई में नुकसान हमेशा आम आदमी का होता है और अब इंदौर की जनता को बड़े बुर्जुगों की यह बात अच्छी तरह समझ आ गई होगी।
 
पूर्व केंद्रीय मंत्री विक्रम वर्मा ने कहा कि जिस तरह से बाबूलाल गौर को हटाया गया है, यह तरीका ठीक नहीं है। यदि उम्र का कोई क्राइट एरिया है तो पहले बताना चाहिए था। पार्टी को इस पर पुनर्विचार करना चाहिए। यह बात उन्होंने बाबूलाल गौर से मुलाकात के बाद कही। जब उनसे मीडिया ने पूछा कि क्या वे उनकी पत्नी नीना वर्मा को मंत्री न बनाए जाने से नाराज हैं तो उनका कहना था कि यह मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार है कि वे किसे मंत्री बनाएं और किसे नहीं। गौर से मिलने के लिए विधानसभा अध्यक्ष सीतासरन शर्मा और इंदौर के पूर्व महापौर कृष्णमुरारी मोघे भी पहुंचे। मोघे ने गौर से करीब 45 मिनट चर्चा की।
 
MadhyaBharat 2 July 2016

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 1899
  • Last 7 days : 11576
  • Last 30 days : 61845


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2020 MadhyaBharat News.