Since: 23-09-2009

Latest News :
भारतीयता का मूल हैं हमारे परिवार.   पठानकोट में फिर घुसा पाकिस्तान का ड्रोन.   लुंबिनी यात्रा का उद्देश्य भारत-नेपाल संबंधों को मजूबत करना : प्रधानमंत्री मोदी.   ज्ञानवापी मस्जिद परिसर सर्वे: दूसरे दिन चप्पे-चप्पे पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था.   डॉ. मानिक साहा ने त्रिपुरा के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली .   राजीव कुमार ने 25वें मुख्य चुनाव आयुक्त के रूप में कार्यभार संभाला.   सुरक्षा करने वालों की सुरक्षा भी जरूरी.   आगामी सप्ताह पूरे प्रदेश में होंगे जन-कल्याण कार्यक्रम, मुख्यमंत्री चौहान ने की समीक्षा.   महिला मोर्चा के राष्ट्रीय प्रशिक्षण वर्ग में भाग लेने भोपाल पहुंचीं स्मृति ईरानी .   सिवनी मॉब लिचिंग मामले की एसआइटी करेगी जांच.   मुख्यमंत्री चौहान ने लगाए नीम और पीपल के पौधे.   गुना में शिकारियों से मुठभेड़ में तीन पुलिसकर्मियों की मौत.   देश को श्रीलंका की राह पर केंद्र सरकार ले जा रही : कांग्रेस.   छत्तीसगढ़ में कानून का राज : कांग्रेस.   आईईडी ब्लास्ट में छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल का जवान घायल.   पैरावट में आग लगने से छात्रा की जलकर मौत.   छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल ने 10वीं और 12वीं का परिणाम किया जारी .   हेलिकॉप्टर क्रैश के उच्चस्तरीय जांच के निर्देश.  
बाढ़ से हाल बेहाल कांकेर , शहर में घुसा पानी, दहशत में लोग
kanker paani

 

 

कांकेर में  विगत वर्षों में आई बाढ़ की तबाही से लोग उभर भी नहीं सके थे कि इस बार फिर बाढ़ आने से लोगों के मन में एक बार फिर खौफ और दहशत है। दूध नदी व पहाड़ी नालों में आई बाढ़ ने शहर के दुकानों और लोगों के घरों को अपनी जद में ले लिया है। सरकार व प्रशासन की तरफ से बाढ़ पीड़ितों के लिए किए गये वादे हवा हवाई साबित हुए। मौसम विभाग द्वारा एक से चार अगस्त तक भारी बारिश की चेतावनी की बाद भी बाढ़ ने प्रशासन के दावों की हवा निकाल कर रख दी है।

 

दूध नदी के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है। नदी के तटवर्ती इलाकें बाढ़ की जद में है। इन जिन्दगियों का क्या जिनकी छत, गृहस्थी, सपने सब बाढ़ बहा ले जाती है। इस बार फिर बाढ़ ने लोगों के रोंगटे खड़े कर दिये है। बाढ़ की विभीषिका झेलने वाले कांकेर जिले में इस बार भी बाढ़ से निपटने को कोई कार्य योजना धरातल पर नहीं दिखी। दूध नदी और एक दर्जन पहाड़ी नाले बाढ़ की तबाही लेकर आते हैं।

 

कई गांवों का संपर्क टूटा

जिलें में तीन सौ से अधिक गांवों का संपर्क मुख्यालय से टूट गया है। बाढ़ से हजारों एकड़ खेत में लगी धान की फसल क्षति हुई है, लेकिन बाढ़ से आने वाली भयावह त्रासदी को रोकने के लिए कोई ठोस कदम अभी तक नहीं उठाये गये है। जिससे लोगों में आक्रोश व्याप्त है।

 

कांकेर जिलाधीश ने कहा है कि बाढ़ पीड़ितों को सरकारी मदद दी जा रही है। बाढ़ राहत के प्रशासन के दावे पूरी तरह खोखले साबित हो रहे हैं। शहर की सड़कों और गली मोहल्लों से बारिश का मलबा नहीं हटाया गया है। ऐसे में दूर दराज इलाकों में क्या सरकारी मदद बाढ़ पीड़ितों को मिल रही होगी इसका अंदाजा लगाया जा सकता है।

MadhyaBharat 3 August 2016

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2022 MadhyaBharat News.