Since: 23-09-2009

  Latest News :
उमा भारती पहुंची केदारनाथ धाम.   मध्यप्रदेश में उपचुनाव सितम्बर के आखिरी सप्ताह में.   गैंग्स्टर विकास दुबे मुठभेड़ में मारा गया.   सिंधिया ने अपना प्लाज्मा डोनेट किया.   ज्योतिरादित्य सिंधिया कोरोना से संक्रमित.   मालगाड़ी से कुचल कर 16 मजदूरों की मौत.   पति ने पत्नी और साले को उतारा मौत के घाट.   रिटायर्ड शिक्षक को अपहरणकर्ताओं से कराया मुक्त.   जुएं के अड्डे पर दांव लगते पुलिसकर्मी.   प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा का हुआ सम्मान.   नरोत्तम मिश्रा ने उपाध्याय को बताया महात्मा.   पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती मनाई गई.   कृषि अध्यादेश की सीपीआई ने जलाई प्रतियां.   छात्राओं को बांटी गई सायकिल एवं पाठ्य पुस्तकें.   अधिकारियों ने किया नक्सलियों के इलाके में भ्रमण .   कोरोना संक्रमण रोकने प्रशासन ने लगाई धारा 144.   अमित जोगी ने बघेल सरकार को कहा तानाशाह.   कई युवा जुड़े आप आदमी पार्टी से.  

इंदौर News


 Jailer and Honeytrap

हनीट्रैप मामले में इंदौर जिला जेल में भी जांच शुरू   इंदौर में जेलर के साथ हनीट्रैप की  मास्टर माइंड श्वेता जैन के फोटो वायरल होने के मामले में  डीआईजी संजय पांडे ने जिला जेल पर जांच शुरू की  |  इस दौरान  जेल में तलाशी अभियान भी चला  |  इसके पहले हनीट्रैप मामले की मुख्य आरोपी श्वेता विजय जैन के साथ जिला जेल के जेलर केके कुलश्रेष्ठ के फोटो सोशल मीडिया पर वायरल होने से हड़कंप मच गया था  |  जेलर के साथ हनी ट्रैप की मास्टर माइंड माने जाने वाली श्वेता जैन का फोटो वायरल होने के बाद   | बैरकों की तलाशी ली गई  | कुछ बैरकों से सौंदर्य प्रसाधन और खाने की सामग्री मिली  |  पिछले साल हनीट्रैप मामला उजागर होने के बाद गिरफ्तार की गई सभी आरोपी  महिलाएं जिला जेल में बंद हैं  | इन्हें महिला बैरक में रखा गया है  |   वायरल हुए कछ फोटो में श्वेता विजय जैन खड़ी है और कुर्सी पर बैठे कुलश्रेष्ठ उससे बात कर रहे हैं  .|  जेल मेन्युअल के अनुसार कोई भी पुरुष अधिकारी महिला बंदी से किसी महिला कर्मचारी  की अनुपस्थिति में चर्चा नहीं कर सकता  | वायरल फोटो महिला बैरक का है |   इधर, डीआइजी पांडे ने कुलश्रेष्ठ से बात की है  | डीआइजी ने मीडिया को बताया कि जिला जेल में कोरोना मरीजों की संख्या अचानक बढ़ने के कारण वे जांच के लिए आए  |  साथ ही फोटो वायरल मामले की भी जांच कर रहे हैं |  जेलर कुलश्रेष्ठ ने वायरल फोटो को खुद के खिलाफ साजिश बताया |  उन्होंने कहा कि वे एकांत में बातचीत नहीं कर रहे थे  |  खुले स्थान पर नियमानुसार ही बात कर रहे थे  |  साजिश के तहत जेल के भीतर ही किसी कर्मचारी ने इस तरह के फोटो वायरल किए हैं  | कुलश्रेष्ठ पहले भी विवाद में रहे हैं  | कुछ दिन पूर्व भूमाफिया चंपू अजमेरा के साथ मारपीट में भी उनकी भूमिका सामने आई थी  | इससे पहले   अदिति चतुर्वेदी ने हनीट्रैप से जुड़ी आरोपियों के लिए पेरोल संबधी फ़ाइल चला दी थी  | जब मामले ने तूल पकड़ा   तो अदिति का तबादला  कर  मामले को कर  रफा-दफा कर दिया गया था | 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  4 September 2020

 Jeetu Patwari

मोक्ष प्राप्ति के लिए जीतू पटवारी की अपील   कांग्रेस विधायक पूर्व मंत्री जीतू पटवारी अपने उटपटांग बयानों के कारण खासे चर्चा में रहते हैं | अब पटवारी का कहना है कि कांग्रेस को लोग जिताएंगे तो उनका गलत चयन का पाप धुलेगा और उन्हें मोक्ष की प्राप्ति होगी |  मध्यप्रदेश के नेता भी गजब है | इनमे कांग्रेस के जीतू पटवारी का तो कहना ही क्या  | कभी इनका कांग्रेस गई तेल लेने वाले बयान की खूब चर्चा होती है तो कभी मीडिया पर की गई टिपण्णी की |  इस बार पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने मोक्ष प्राप्ति की इच्छा जाहिर की है |  पटवारी की  बातों पर ही गौर फरमाइये | ये कह रहे हैं   उपचुनाव में कांग्रेस को जिताओगे तो ही मेरा गलत चयन कापाप धुलेगा और मुझे मोक्ष प्राप्त होगा, वरना तड़पता रहूंगा |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 August 2020

 Jeetu Patwari

कोरोना को संभाले या नेताओं को मनाएं बीजेपी ने लगाईं भीड़ तो कांग्रेसी पूर्व मंत्री धरने पर   लोकतंत्र में विरोध हर नागरिक का अधिकार है  | लेकिन  सियासत के आगे प्रशासन ने घुटने टेक दिए  हैं   | मामला इंदौर का है  जहाँ धरना ख़त्म करने के लिए पूर्व उच्च शिक्षा  मंत्री जीतू पटवारी को प्रशासनिक अधिकारीयों ने  घुटने के बल खड़े होकर  , हाथ जोड़कर मनाने की कोशिश  की  | लेकिन जीतू पटवारी टस से मस नहीं हुए  | और अधिकारी को वापस जाना पड़ा  |  एक तरफ इंदौर पूरी तरह कोरोना की चपेट में है  | तो  दूसरी ओर आरोप प्रत्यारोप  को लेकर  सियासत चरम पर है   | इस राजनीतिक सियासत के बीच कोई मजबूर है तो वो है प्रशासन |   प्रशासन की जिम्मेदारी है की वो कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप को रोके  |  वहीं नेताओं को भी संभालने की जिमेदारी  प्रशासन को ही दी गई  है  | फिर चाहे प्रशासन घुटने टेके या हाथ जोड़े | मामला इंदौर  का है  | जहाँ कोरोना पर राजनीती हावी हो रही है | पूर्व मंत्री जीतू पटवारी और उनके साथी बीजेपी के विरोध में  देवी अहिलायाबाई  होल्कर की प्रतिमा के नीचे बैठकर धरना प्रदर्शन कर रहे थे | प्रशासन के अधिकारी उनको मानाने के लिए   घुटनो के बल बैठे और हाथ जोड़े नजर आये  | बहोत देर मिन्नत  के बाद जब जीतू पटवारी नही माने तो अधिकारीयों को वापस जाना पड़ा |  इस दौरान जीतू पटवारी अपने तर्क देते नजर आये  | अब सवाल यह की प्रशासन कोरोना को लेकर सावधानी बरते या नेताओ को मानाने में अपना समय  खराब करे |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  15 June 2020

  Shivraj Singh Chauhan

सिलावट :डंके की चोट पर गिराई सरकार     कांग्रेस से बीजेपी में आकर मंत्री बने  तुलसी सिलावट ने सीएम शिवराज सिंह चौहान के ऑडियो और वीडियो वायरल होने  पर कहा कि कमलनाथ  सरकार 22 विधायकों ने गिराई थी वो भी डंके की चोट पर |  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के कमलनाथ सरकार गिराने वाले बयान के बाद सियासत गर्म है |  ऐसे में मीडिया के एक  सवाल पर मंत्री तुलसी सिलावट ने  कहा कि 22 विधायकों ने डंके की चोट पर सरकार गिराई है |   मंत्री सिलावट ने कहा कि जब ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सड़क पर उतरने की बात कही थी, तो कमल नाथ ने कहा था उतर जाओ सड़क पर |  यह 22 विधायकों के आत्म सम्मान का सवाल था  | सिलावट ने कहा अब हम भाजपा में हैं, संगठन चुनाव में हमारी मदद कर रहा है |  सीएम शिवराज सिंह चौहान ने जो कहा वो सबके सामने कहा, वो मेरे के लिए प्रचार करने के लिए सांवेर पहुंचे थे  |  उधर कांग्रेस ने भी सीएम शिवराज सिंह चौहान और भाजपा पर निशाना साध रही है  | भोपाल में प्रेस वार्ता में कांग्रेस ने  कहा कि सीएम शिवराज के जो ऑडियो और वीडियो वायरल हो रहा है, उससी हमारी बात को  प्रमाण  मिलता  है  | जो हम पहले से कहते आ रहे हैं कि एमपी में कांग्रेस की सरकार गिराने में भाजपा का हाथ है  | 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  12 June 2020

 Premchand Guddu

झांसी की रानी के मसले पर घेरा   कांग्रेस नेता प्रेमचंद गुड्डू ने बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशाना साधते हुए झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की हत्या के लिए सिंधिया परिवार को कटघरे में खड़ा किया और कहा अपने पूर्वजों की गलती के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया माफ़ी मांगे  |  मध्यप्रदेश में उपचनाव से पहले प्रदेश  का  राजनैतिक पारा अपने चरम पर है  | सभी कोंग्रेसी सिरे से ज्योतिरादित्य सिंधिया को घेरने में लगे हैं |  कांग्रेस नेता प्रेमचंद गुड्डू ने एक बार फिर  सिंधिया परिवार पर निशाना  साधा और उन्हें   झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की हत्या के लिए   जिम्मेदार ठहराया  |  गुड्डू ने कहा सारा देश सच जानता है  | ऐसे में ज्योतिरादित्य सिंधिया को अपने पुरखों की गलती के लिए माफ़ी मांगना चाहिए |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  5 June 2020

 Run out of notes

संक्रमण की आशंका से लोगो में हड़कंप   कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या के बीच  इंदौर  के दो इलाकों में नोट फेंकने के बाद उनके संक्रमित होने की सूचना से हड़कंप मच गया |  खातीपुरा और तुकोगंज में सड़क पर 100, 200 और 500 के नोट मिलने की सूचना पर निगम और पुलिस की टीम मौके पर पहुंची |  दोनों ही स्थानों पर पुलिस और निगम की टीमों ने पहले नोटों को सैनिटाइज किया और फिर उसे जब्त किया  | इसके पीछे पुलिस को भी साजिश की बू आ रही है |  नोट उड़ाने की पहली घटना खातीपुरा-गौरी नगर रोड पर  सुबह हुई | यहां अज्ञात कार चालक द्वारा हजारों रुपये के नोट उड़ाकर भागने की खबर फैलते ही क्षेत्र में हड़कंप मच गया  |  इसकी सूचना रहवासियों ने निगम अधिकारियों को दी  | इस पर निगम अमला हीरानगर थाने के पुलिसकर्मियों के साथ मौके पर पहुंचा |  निगम जोन-17 के जोनल अधिकारी नरेंद्र कुरील ने बताया कि वार्ड 20  की धर्मशाला के पास  कोई अज्ञात कार चालक नोट उड़ाकर चला गया है  |  इनमें 100, 200 और 500 रुपये के 20 से 25 नोट हैं |  निगम और पुलिस ने वहां पहुंचने पर लोगों को घरों में जाने को कहा और हिदायत दी कि कोई भी नोट को छूने की कोशिश न करे |  इसके बाद सीएसआई ने हाइपोक्लोराइट का छिड़काव कर सभी नोट सैनिटाइज किए | सैनिटाइज करने के बाद भी डंडों से उठाते रहे नोट नोटों के संक्रमित होने की आशंका से निगम और पुलिसकर्मी भी पूरी सावधानी बरतते हुए नोटों को इकट्ठा किया  |  |  हीरानगर क्षेत्र में संक्रमित नोट मिलने की खबर के कुछ देर बाद पुलिस को सूचना मिली कि तुकोगंज क्षेत्र में भी पांच सौ के 2 नोट पड़े हुए हैं |  लोगों ने कहा कि नोट संक्रमित हैं और कोरोना फैलाने के मकसद से फेंके गए हैं |  पुलिस ने सैनिटाइज करवाकर नोटों को जब्त कर लिया |  टीआई निर्मल श्रीवास के मुताबिक नोट राणी सती गेट डॉक्टर बंगलो के आगे वायएन रोड पर पड़े थे  |  बाद में नोटों को सैनिटाइज करवाकर जब्त किया गया |  टीआई के मुताबिक नोट किसने फेंके इसका अभी तक पता नहीं चल पाया है  | पुलिस क्षेत्र के सीसीटीवी फुटेज भी जुटाने का प्रयास कर रही है |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 April 2020

 CORONA UPDATE

दिल्ली से आई रिपोर्ट में इंदौर में 110 पॉजिटिव कांग्रेस ने कहा इंदौर का मामला प्रधानमंत्री देखें   इंदौर में फिर एक साथ  कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या   110 और बढ़ गई है |  इन्हें मिलाकर इंदौर में अब तक 696 कोरोना संक्रमित मरीज मिल चुके हैं   | इधर कांग्रेस ने इंदौर के मसले पर कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह इंदौर को हैंडल नहीं कर पा रहे हैं  |  इसलिए प्रधानमंत्री इस मामले को देखें  |  कोरोना संक्रमण के दौरान इंदौर के हालात हर दिन बिगड़ते जा रहे हैं  |  इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रवीण जड़िया ने  बताया कि  110 मरीज दिल्ली के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजिकल में भेजे गए सैंपल की जांच में संक्रमित पाए गए हैं |  इंदौर से 1142 सैंपल जांच के लिए दिल्ली भेजे गए थे |  इनमें से बुधवार देर रात तक 403 की रिपोर्ट आ चुकी थी  | इन 403 सैंपल में से 140 पॉजिटिव मिले थे  इसके बाद आज सुबह आई रिपोर्ट में   110 पॉजिटिव  मामले और  सामने आए हैं |  इंदौर में कोरोना पॉजिटिव आंकड़ा तकरीबन सात सौ हो चला है | शहर में कोरोना से अब तक 39 लोगों की जान जा चुकी है |  वहीं 37 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं  | इंदौर में बुधवार देर रात को दो मरीजों की मौत की पुष्टि हुई जिसमें अन्नपूर्णा नगर की 95 वर्षीय महिला और एक पलसीकर क्षेत्र निवासी 63 वर्षीय पुरुष शामिल हैं  |  अब तक शहर के 159 इलाकों में कोरोना का संक्रमण फैल चुका है, जिसमें रानीपुरा, दौलतगंज, टाटपट्टी बाखल, चंदन नगर, खजराना और आजाद नगर जैसे इलाके इसका गढ़ बन चुके हैं  |  इंदौर में कोरोना का संक्रमण कंट्रोल होने की बजाये बढ़ता जा रहा है  | ऐसे में इस पर राजनीति भी शुरू हो गई है |  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का भी सारा फोकस इंदौर और भोपाल की स्थितियों को कंट्रोल करने पर है | इस बीच इंदौर के हालातों पर कांग्रेस ने कई सवाल खड़े किये हैं  | कोंग्रस का कहना है मुख्यमंत्री हालातों पर काबू नहीं कर पा रहे हैं  | इसलिए इंदौर का मसला प्रधानमंत्री को खुद देखना चाहिए ताकि जल्द कोरोना संक्रमण को कंट्रोल किया जा सके  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  17 April 2020

 SHIVRAJ SINGH  CHAUHAN

शिवराज सिंह के राज की दिल दहलाने वाली तस्वीर   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह जी अगर जबानी जमा खर्च पूरा हो चुका हो तो तत्काल एक्शन लीजिये   |  क्योंकि आप के राज की ये तस्वीर किसी का भी दिल दहला सकती है  |  कोरोना संक्रमण काल में आपका सिस्टम ठीक होने की बजाये जानलेवा हो रहा है   |  यह तस्वीर इंदौर की है  | कोरोना संक्रमण से जूझते इंदौर की   |  हम इन दृश्यों को दिखाना नहीं चाहते थे लेकिन हमारी मज़बूरी है सच बयान करना  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह जी सवाल आपसे है क्या मध्यप्रदेश की हालत इतनी खराब है कि इंदौर जैसे शहर में एक बीमार को एम्बुलेंस तक नसीब न हो और वो स्कूटर पर ही भटकते हुए दम तोड़ दे   | कम से कम सिस्टम को इतना तो ठीक कीजिये कि मानवता  शर्मसार न हो  |  इसी इंदौर में दो दिन पूर्व भी प्रसव पीड़ा से करहाती अपनी गर्भवती पत्नी को लेकर पहले एम वाय एच और फिर निजी अस्पताल के चक्कर लगाता युवक भी इसी क्रूर व्यवस्था का शिकार हुआ था   | उसकी पत्नी और अजन्मे बच्चे की मौत हो गई थी    | आपके प्रशासन ने उस घटना से सबक नहीं लिया और फिर इलाज के लिए तड़फते व्यक्ति ने सड़क पर दम तोड़ दिया   | आपके अफसरान सबक लेने के बजाय  लगातार लापरवाहियों को दोहरा रहे हैं   |  कमला नेहरू कॉलोनी निवासी पचपन साल के पांडुराव चांदने की तबीयत कुछ दिनों से खराब थी   | मंगलवार सुबह उनकी हालत बिगड़ी तो उन्हें उनके परिजन  क्लॉथ मार्केट अस्पताल ले गए, लेकिन इलाज नहीं मिला  |   कर्मचारियों ने कह दिया कि  एमवायएच ले जाओ   | अस्पताल से एंबुलेंस मांगी, लेकिन अस्पताल प्रबंधन ने मना कर दिया  |  आखिरकार दोपहिया से ही मरीज को गंभीर हालत में लेकर एमवायएच रवाना हो गए   | लेकिन इलाज के आभाव में पाण्डुराव ने अस्पताल पहुँचने से पहले ही दम तोड़ दिया  |  मृतक के परिवार वालों ने संदिग्ध मौत की खबर सीएमएचओ को दी लेकिन जब कोई कार्रवाई नहीं हुई तो अंतिम संस्कार कर दिया   | उनके भाई दिलीप ने बताया कि उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही थी   | सोमवार को उन्हें अरबिंदो अस्पताल लेकर गए थे, लेकिन वहां इलाज नहीं मिला   |   डॉक्टरों ने कहा एमवायएच ले जाओ   |  एमवायएच पहुंचे तो भाई की जांच करने के बाद डॉक्टर ने दवा लिखी और कहा तबीयत ठीक हो जाएगी   | जब रिपोर्ट आ जाए तो अस्पताल आ जाना   | लेकिन मुख्यमंत्री  शिवराज जी आपके राज में मरीज की रिपोर्ट तो नहीं आई उनका इलाज के आभाव में निधन जरूर हो गया  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  15 April 2020

Doctors death

डॉक्टर ने कहा था मैं एकदम ठीक हूँ   इंदौर में कोरोना तेजी से फैल रहा है  |  कोरोना संक्रमण की चपेट में आये एक डॉक्टर ने भी आज दम तोड़ दिया  |  स्वास्थ्य विभाग के सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने बताया कि डॉ. शत्रुधन पंजवानी पिछले दिनों कोरोना पाजिटिव पाये गये थे और आज सुबह उनकी मृत्यु हो गई  |  इस तरह इंदौर में अभी तक अधिकृत रूप से मरने वालों की संख्या 22 तक पहुंच गई हैं  |  इंदौर के रुपराम नगर में रहने वाले डॉ. शत्रुधन पंजवानी ने कोरोना संक्रमण के चलते दम तोड़ दिया  | इंदौर में कोरोना वायरस की वजह से हालात ठीक नहीं हो पा  रहे हैं  |  इंदौर में कोरोना के चलते अब तक 22 लोगों की जान जा चुकी है  | डॉ. शत्रुधन पंजवानी   ड्यूटी के दौरान  कोरोना वायरस की चपेट में आ गए थे |  उन्होंने अपना उपचार शरू कर दिया था |  कुछ दिन पहले एक वीडियो जारी कर उन्होंने कहा था कि वे कोरोना की चपेट में नहीं हैं और पूरी तरह स्वास्थ्य हैं  |  लेकिन उनकी हालत बिगड़ने पर  उनका उपचार पहले गोकुलदास में उसके बाद सीएचएल में चल रहा था और फिर उन्हें अरविंदों अस्पताल  में शिफ्ट किया था, लेकिन गुरूवार को इनकी मृत्यु हो गई  | स्वास्थ्य विभाग के सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने इसकी पुष्टि की  | इसके बाद इंदौर में स्वास्थ्य अमले से और ज्यादा सावधानी बरतने को कहा गया है |   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर उन्हें श्रद्धांजलि दी  है  | पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी डॉ शत्रुधन पंजवानी के निधन पर दुःख व्यक्त किया है |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  10 April 2020

 151 Corona positive in Indore

अब तक हुई 13 कोरोनावायरस मरीजों की मौत 30 और नए लोगों में कोरोना के लक्षण कोरोना में इंदौर देश में तीसरे नंबर पर पहुंचा   साफ़ सफाई में नंबर वन रहने वाला शहर इंदौर कोरोना संक्रमण के मामले में देश में तीसरे नंबर पर आ गया है  |  इंदौर में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है  | इंदौर में संक्रमितों की संख्या 151 के पार  पहुंच चुकी है  | वहीं इनमें से 13 की मौत हुई है  | इंदौर को लेकर मध्यप्रदेश सरकार गंभीर है और युद्ध स्तर पर संक्रमण रोकने के प्रयास कर रही है |  इंदौर में नए मरीजों में दाऊदी नगर खजराना से 13 साल का एक बच्चा भी शामिल है | वहीं पॉजिटिव 12 मरीजों में से 3 मरीज क्वारंटाइन सेंटर में पहले से ही भर्ती हैं |  इनमें से 1 मरीज टाटपट्टी बाखल से भी है  | टाटपट्टी बाखल में पॉजिटिव मरीजों की संख्या 19 पहुंच चुकी है |   सोमवार को एमजीएम मेडिकल कॉलेज से जारी रिपोर्ट में 16 मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई है |  इनमें से 4 की मौत हो चुकी है |  6 अप्रैल को एमवाय की ओपीडी में 149 लोग पहुंचे  | जिनमें से 28 संदिग्ध मरीजों के सैंपल लिए गए  |   इनमें से इंदौर से 138 और अन्य जिलों से 72 सैंपल प्राप्त हुए हैं  | इंदौर के एमआरटीबी और एमवाय से 24, एमटीएच आइसोलेशन सेंटर से 8, सिनर्जी हॉस्पिटल से 1, सीएमएचओ इंदौर की तरफ से 56 और सीएचआरसी से 5 सैंपल मिले जांच के लिए भेजे गए हैं |   इंदौर में दो दिन में  पचास मरीज बढ़ गए  |   1 अप्रैल को संख्या  50 पार थी तो 4 अप्रैल को  सौ के पार गई और  6 अप्रैल कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या 150 पार कर गई  | 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  8 April 2020

 Indore collector

अफवाह फैलाई तो जायेंगे जेल   इंदौर इस समय सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमण का शिकार है  | इसके बावजूद लोग सोशल मीडिया पर अफवाहें फैलाने से बाज नहीं आ रहे हैं  | ऐसे में इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने साफ़ कहा है कि गलत करने वाले अब सीधे जेल जाएंगे  |  इंदौर इस समय कोरोना की चपेट में है  | सरकार और इंदौर का प्रशासन लोगों को कोरोना की जद्दोजहद से बचाने में लगा है  | ऐसे में भी कुछ लोग अफवाहें फैलाने से बाज नहीं आ रहे हैं  |  ऐसे लोगों पर अब प्रशासन सख्त कार्यवाही करेगा  |  कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा  सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वालों को बक्शा नहीं जाएगा उन पर  कार्रवाई  होगी | 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  7 April 2020

  corona Positive

उज्जैन में एक पॉजिटिव मिलने के बाद कर्फ्यू   मध्यप्रदेश में भी लगातार कोरोना वायरस से पीड़ित व्यक्तियों की संख्या बढ़ती जा रही है |  इंदौर  में 5  व्यक्तियों में कोरोना पॉजिटिव मिला हैं |  इनमे से चार इंदौर और एक उज्जैन का रहने वाला है | मरीज में कोरोना की पुष्टि होने के बाद उज्जैन में कर्फ्यू लगा दिया गया है |  इंदौर में पांच लोगों में कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया है |  इनमें से तीन मरीज बॉम्बे अस्पताल, एक अरिहंत अस्पताल में और एक एमवाय अस्पताल में भर्ती हैं |   तीन मरीज एक ही  परिवार के हैं, ये ऋषिकेश घूमने गए थे |  इनमें से 4 की कोई फॉरेन हिस्ट्री नहीं है |  प्रशासन  पता कर रहा है कि किसके संपर्क में आए हैं |  इंदौर कलेक्टर लोकेश कुमार जाटव ने कहा है कि इस बात को लेकर पैनिक की आवश्यकता नहीं है  | सभी मरीजों की हालत स्थिर है और वे चिकित्सीय निगरानी में हैं  | सभी का बेहतर इलाज हो रहा है और अन्यत्र संक्रमण नहीं हो, इसके पुख्ता इंतजाम किए गए हैं  | चार इंदौर के रहवासी हैं और एक उज्जैन का है | कलेक्टर जाटव ने यह भी कहा है कि प्रशासन आम जनता को जरूरी सामान घर पर ही उपलब्ध कराने के लिए ठोस उपाय कर रहा है  ...  जरूरी सामान घर पर उपलब्ध कराने के लिए ऑनलाइन स्टोर्स, वेंडर और विक्रेताओं के डिटेल्स जल्द जारी किए जाएंगे ताकि ऑनलाइन ऑर्डर कर घर पर ही आवश्यक वस्तुएं मिल सकें  |  उज्जैन के एक व्यक्ति में  कोरोना वायरस पॉजिटिव  मिला है, जिसका इंदौर के अस्पताल में इलाज चल रहा है | इसके बाद उज्जैन में कर्फ्यू लगा दिया गया है | जानकारी के मुताबिक महिला मरीज को 22 मार्च को उज्जैन के चैरिटेबल अस्पताल में भर्ती करवाया गया, ज्यादा सर्दी-खांसी के बाद उसे माधव अस्पताल में शिफ्ट किया गया और इसके बाद कोरोना वायरस के लक्षण दिखने के बाद मरीज को इंदौर के एमवाय अस्पताल में भर्ती किया गया है|  जहां बुधवार सुबह उन्हें कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया |  उज्जैन कलेक्टर  शशांक मिश्र ने आमजन से अनुरोध किया है कि वह अपने घरों में रहें इधर इंदौर में  नगर निगम ने कहा की सतर्कता अत्यंत ही आवश्यक है |   यदि किसी व्यक्ति को डॉक्टरों द्वारा होम क्वॉरेंटाइन के निर्देश दिए गए हैं तो वह इसका अनिवार्य रूप से पालन करें तथा घर में अलग कमरे में आइसोलेशन में रहे  | निगमआयुक्त आशीष सिंह ने बताया कि  आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता के लिए नगर निगम भी  व्यवस्था कर रहा है  | हर वार्ड  में जरूरी वस्तुओं के निगम द्वारा संचालित पांच सेंटर बनाये जाएंगे  |  इंदौर में 5 मरीज मिलने के बाद मध्य प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 14 हो गई है |  इसके पहले जबलपुर में 6, भोपाल, ग्वालियर और शिवपुरी में एक-एक मरीज मिले हैं | सबसे पहले जबलपुर में 4 मरीज मिले थे, इसके बाद भोपाल में  ग्वालियर और शिवपुरी में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं|   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 March 2020

  Kailash Vijayvargiya

इंदौर में गरीबों के लिए अन्न क्षेत्र खोला गया   कोरोना के कारण लगभग सभी बाजार बंद हो रहे है  | कुछ लोगों के लिए ऐसे में खाने का संकट खड़ा हो गया है  | ऐसे में इंदौर में अन्न क्षेत्र खोल दिया गया है जहाँ फोन कर भोजन प्राप्त किया जा सकता है |  इंदौर में गरीबो के लिए अन्न क्षेत्र खोल दिया है  | बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा इस परीक्षा की घड़ी में जिसके पास भोजन का इंतजाम नहीं है वो सिद्धेश्वर धाम में फोन कर भोजन प्राप्त कर सकता है  |  विजयवर्गीय ने इसके लिए एक नंबर भी जारी किया है  | उनकी टीम का प्रत्येक सदस्य एक वयक्ति के भोजन की व्यवस्था कर रहा है | इंदौर में किसी को भोजन प्राप्ति में कोई दिक्कत हो तो फोन करे उनकी उचित मदद की जाएगी  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  23 March 2020

 Artist world record

वर्ल्ड बुक में दर्ज हुआ रिकॉर्ड सिवनी की दो बहनें  शामिल   सिवनी जिले की तहसील लखनादौन की दो प्रतिभावान बहनो ने स्वच्छता के लिए इंदौर में बनाए गए चित्र में  भाग लिया  | देश भर में  स्वच्छता का सन्देश देने के लिए वह चित्र बनाया गया |  बताया जा रहा है की इस चित्र  को 100 कलकारों ने छह हजार पुराने जींस के कपड़ों से बनाया  है |  जिसे वर्ड बुक रिकॉर्ड में दर्ज किया गया है  |  स्वच्छता का  सन्देश देने के लिए 10 हजार वर्ग फ़ीट में इंदौर राजवाड़ा का चित्र बनाया गया  | बताया जा रहा है की इस चित्र को बनाने के लिए 100 कलाकार मौजूद थे |  जिसमे मध्यप्रदेश से सिवनी की दो बहनों  रोशनी और वैष्णवी ने इसमें हिस्सा लेकर जिले का नाम रौशन किया  | इस दौरान कलाकारों में शामिल  रौशनी ने बताया की |  देशभर के 100 बड़े कलाकारों में हमें भी अपने हुनर का प्रदर्शन करने का मौका मिला |  और हमने विश्व के सबसे बड़े चित्रकार साहिल लहरी के मार्गदर्शन में |   मध्य प्रदेश के सबसे बड़े शहर इंदौर में स्वच्छता पर्यावरण का संदेश देने के लिए रजवाड़ा का चित्र बनाया  | जो अपने आप में अनूठा है  |  चित्र 10 हजार वर्ग फिट में  बनाया गया हैं | चित्र को 100 कलाकारों द्वारा 6000 पुराने जींस कपड़ों से निर्मित किया गया है  | रोशनी ने बताया की इसे बनाने के लिए 24 घंटे का समय दिया गया था  | परंतु हम कलाकारों ने महज 5 घंटों के समय में  पूरा कर लिया    जो 1 मार्च की शाम को विश्व रिकॉर्ड बना  | और  जिसे वर्ल्ड बुक रिकॉर्ड डब्ल्यू बीआर में दर्ज किया गया |  विश्व रिकॉर्ड के अंतर्गत कचरे को रिसाइकिल, रीयूज और रिफ्यूज यानी |  ट्रिपल आर के तहत  पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया है | 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  11 March 2020

 Sajjan Verma

मुख्यमंत्री की किचन कैबिनेट में सिर्फ अधिकारी   मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार के मंत्री सज्जनसिंह वर्मा ने कहा है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री की किचन कैबिनेट में अधिकारी हैं और उन्हीं की सिफारिश पर इंदौर जैसी 'चाशनी" वाली जगह पर अधिकारियों को भेजा जा रहा है  | प्रदेश में जनता की सरकार तो आ गई है, लेकिन अभी कार्यकर्ताओं की सरकार नहीं आई  | उसकी वजह यही है  |  इंदौर में  कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने  एक सम्मेलन रखा था  |  दिल की बात" थीम पर रखे गए इस सम्मेलन में कार्यकर्ताओं से बात करते हुए मंत्री सज्जन सिंह  वर्मा ने कमलनाथ सरकार पर निशाना साधा और कहा मुख्यमंत्री की किचन कैबिनेट में अधिकारी हैं और उन्हीं की सिफारिश पर इंदौर जैसी 'चाशनी" वाली जगह पर अधिकारियों को भेजा जा रहा है |  प्रदेश में जनता की सरकार तो आ गई है, लेकिन अभी कार्यकर्ताओं की सरकार नहीं आई  | वर्मा ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को भी आड़ेहाथों लेते हुए कहा कि भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय के साथ कान में फुसफुसाते फोटो जारी कर वे कार्यकर्ताओं को हतोत्साहित कर रहे हैं |  सज्जन वर्मा  यह भी कहने से नहीं चूके कि हम दिग्विजय सिंह के जमाने में फेल ही इसलिए हुए क्योंकि मुख्यमंत्री रहते उनके आंख, नाक, कान कलेक्टर-एसपी हुआ करते थे |  कार्यकर्ता बहुत पीछे चला गया था  |  वर्मा ने दिग्विजय सिंह के मुख्यमंत्री काल का एक किस्सा भी सुनाया  | वर्मा बोले कि तब देवास के कांग्रेस नेता जयसिंह ठाकुर को गिरफ्तार किया गया था   मैंने मुख्यमंत्री से फोन पर तत्कालीन देवास एसपी संजीव शमी की बात कराई तो उन्होंने इस अंदाज में बात की कि मुझे फोन छीनना पड़ा  |  वर्मा ने कैलाश विजयवर्गीय से दिग्विजय सिंह की बार-बार मुलाकातों और गले मिलते कान में बात करते फोटो जारी होने पर कहा कि शादी-ब्याह में आना जुर्म नहीं, लेकिन जिस तरह का वातावरण बनता है, उससे कार्यकर्ता मन मसोसता है कि हो क्या रहा है  | सोचता है कि वे ही आज भी पॉवरफुल हैं जो 15 साल तक रहे और जनता का खून चूसते रहे  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  24 February 2020

 LATA SAMMAN

संस्कृति मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ ने दिया सम्मान   प्रख्यात पार्श्व गायिका सुमन कल्याणपुर तथा संगीत निदेशक कुलदीप सिंह को इंदौर में  एक गरिमामय समारोह में राष्ट्रीय लता मंगेशकर सम्मान से अलंकृत किया गया |  प्रदेश की संस्कृति मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ ने कलाकारों को सम्मानित किया  |  राज्य शासन के संस्कृति विभाग द्वारा स्थापित राष्ट्रीय लता मंगेशकर अलंकरण समारोह का आयोजन बास्केटबॉल कॉम्पलेक्स में किया गया है। प्रदेश की संस्कृति मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ ने कलाकारों को सम्मानित किया  | अलंकरण समारोह के साथ ख्याति प्राप्त मोनाली ठाकुर की प्रस्तुति के साथ समारोह में सम्मानित विभूतियों ने अपने कलाकारों के साथ संगीतमयी प्रस्तुतियां दी  | इससे पहले राज्य स्तरीय सुगम संगीत प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया |  इसमें चयनित प्रतिभावान कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति दी | मध्यप्रदेश संस्कृति विभाग ने उत्कृष्टता और सृजन को राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित करने की अपनी परम्परा के अनुसरण क्रम में सुगम संगीत के क्षेत्र में राष्ट्रीय लता मंगेशकर सम्मान की स्थापना की है |  सम्मान के अन्तर्गत सम्मानित कलाकार को दो लाख रूपये और प्रशस्ति पट्टिका भेंट की जाती है  | सुगम संगीत के क्षेत्र में कलात्मक श्रेष्ठता को प्रोत्साहित करने की दृष्टि से 1984 में लता मंगेशकर सम्मान स्थापित किया गया है  | यह सम्मान संगीत रचना और गायन के लिए दिया जाता है  | इस बार ये सम्मान प्रख्यात पार्श्व गायिका सुमन कल्याणपुर तथा संगीत निदेशक कुलदीप सिंह को दिया गया  |    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  7 February 2020

 CM KAMALNATH

सीएम कमलनाथ ने इंदौर में फहराया तिरंगा ध्वज   मुख्यमंत्री बनने के बाद कमलनाथ ने इंदौर में गणतंत्र दिवस पर पहला ध्वजारोहण कांग्रेस कार्यालय गांधी भवन पर किया | कांग्रेस कार्यालय के बाहर गणतंत्र दिवस समारोह में शहर और जिला कांग्रेस के तमाम पदाधिकारी और कार्यकर्ता शामिल हुए |  मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस के इतिहास को त्याग और बलिदान वाला बताते हुए कार्यकर्ताओं को मौजूदा चुनौतियों का मुकाबला करने और अनेकता में एकता को बनाए रखने का संकल्प दिलाया  |  कांग्रेस कार्यालय पर ध्वजारोहण के ठीक पहले मुख्यमंत्री ने पूर्व सांसद गोविंद खादीवाला की गांधी भवन में लगी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया  | बाद में ध्वजारोहण करते हुए पांच मिनट से भी कम समय के अपने भाषण में कमलनाथ ने  कांग्रेसियों को गणतंत्र दिवस की बधाई दी  | उन्होंने डॉ. आंबेडकर को याद करते हुए कहा कि विश्व में सबसे बेहतर संविधान भारत को मिला है  |  हमें संविधान के मूल्यों के साथ-साथ देश की संस्कृति को बचाने का भी संकल्प लेना होगा  | 70 साल बाद फिर से चुनौती हमारे सामने है, जबकि अनेकता में एकता की हमारी संस्कृति पर संकट है |  हम संकल्प लें कि हर चुनौती का डटकर मुकाबला करेंगे  | कांग्रेस ने हमेशा समाज को जोड़ा है|  हम उसी संस्कृति के वाहक बनेंगे |  छोटे से मंच पर मुख्यमंत्री के साथ शोभा ओझा, शहर कांग्रेस अध्यक्ष प्रमोद टंडन, विनय बाकलीवाल और जिला अध्यक्ष सदाशिव यादव मौजूद रहे  |  मंच के नजदीक एक खास घेरा बनाया गया था  |  इस घेरे में सिर्फ चुनिंदा पदाधिकारियों को ही आने की अनुमति थी  |  मुख्यमंत्री के आने से पहले कई कांग्रेसी इस घेरे में घुसने की कोशिश करते रहे  |  लेकिन  सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी और अन्य पदाधिकारी उन्हें लौटाते रहे  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  28 January 2020

 Running came out

12 किलोमीटर दौड़ के दुल्हन के घर पहुँची बरात   इंदौर में सड़कों पर दूल्हा दौड़ रहा था  |  उसके साथ बाराती भी दौड़ रहे थे |  यह देखकर लोग अचरज में पड़ गए  और ये सब 12 किलोमीटर दौड़ कर दुल्हन के घर पहुंचे और विवाह की रस्में पूरी  की गईं  | दरअसल फिजिकल ट्रेनर नीरज मालवीय की शादी थी  |  अपनी शादी को यादगार बनाने और फिटनस का सन्देश देने के लिए उन्होंने  दौड़ कर बारात निकाली  |   जो बरात आपको नजर आ रही है यह है फिजिकल ट्रेनर नीरज मालवीय की हैं  , नीरज मालवीय ने अपनी बारात को अनोखे तरीके से इंदौर की सड़कों पर निकाला  | आमतौर पर बारात में दूल्हा  घोड़े पर बैठकर  निकलता है  | लेकिन जो बरात नीरज ने निकाली वह कई मायनों में अलग है इसमें दूल्हा नीरज दौड़ते हुए नजर आ रहा है वही उसके बराती भी उसके पीछे पीछे दौड़ते हुए नजर आ रहे हैं  | बता दे फिजिकल ट्रेनर नीरज ने अपनी शादी को अनोखे तरीके से करने के लिए एक संकल्प लिया था उसी संकल्प के जरिए उसने   अपनी बरात का आयोजन किया जिसमें बराती अच्छी सेहत का संदेश देते हुए नजर  आये |  जिस जगह से यह बारात निकली तो लोगों ने काफी आश्चर्य व्यक्त किया लेकिन जिस तरह से यह बारात निकाली जा रही है वह कई मायनों में अहम है  |  बरात में शामिल होने आए बारातियों का भी कहना है कि जब नीरज ने अपने मोटो के बारे में बताया तो पहले तो विश्वास नहीं हुआ लेकिन जब उसने पर्यावरण सहजता और सेहत के लिए यह अच्छा मैसेज है का वर्णन दिया तो हम भी उसके साथ आ गए और आज उसकी बरात में दौड़ते हुए जा रहे हैं  |  नीरज मालवीय इंदौर के खंडवा रोड के  रहने  वाले हैं  | वही उनकी दुल्हन निकिता बिल्लौर  इंदौर के संगम नगर की रहने वाली है  | नीरज मालवीय ने खंडवा रोड से अपनी बारात दौड़ते हुए निकाली और 12 किलोमीटर दूर निकिता बिल्लोरे के  घर पहुंचे  | वही दुल्हन निकिता बिल्लोरे का भी कहना है कि जिस तरह से नीरज ने एक मैसेज दिया है वह काफी सराहनीय है और उनके मैसेज का मैं भी काफी स्वागत करती हूं  |  फिलहाल इंदौर के युवक ने जिस तरह से एक पहल की शुरुआत की है वह कई मायनों में अहम है  | अब देखना होगा कि आने वाले समय में दूल्हे नीरज मालवीय से अन्य युवक किस तरह से प्रेरणा  लेते हैं  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 January 2020

 Warning to police station in-charge

देर रात को पब खुले तो लिया जाएगा कड़ा एक्शन   इंदौर में अवैध काम करने वालों की पुलिस से मिली भगत कोई नई बात नहीं हैं |  ऐसे में एसपी को पब संचालकों के साथ पुलिसवालों को भी चेतावनी देना पड़ रही है  |  कि देर रात में पब खुले तो कड़ा एक्शन लिया जाएगा |  इंदौर में पब ,बार और रेस्टोरेंट होटल चलाने वालों से पुलिस के गठजोड़ के कई किस्से सामने आ चुके हैं  | ऐसे में इस सब को नियम कायदे का पाठ पुलिस को नए सिरे से पढ़ाना पड़ रहा है  | इंदौर  पश्चिम के  एसपीअवधेश गोस्वामी  ने  पब संचालको और थाना प्रभारियों को चेतावनी  दी है और कहा है  | यदि देर रात किसी भी क्षेत्र में पब संचालित हुए तो दूसरे थाना क्षेत्र का टीआई  रेड करेगा और वहां के अधिकारी के खिलाफ  जाएगी सख्त करवाई की जाएगी  | भवरकुआ थाना  क्षेत्र में पब चालू होने के बाद एसपी ने  समस्त थाना प्रभारियों और पब संचालको को ये  चेतावनी दी और   पूर्व में हुई कनाड़िया थाना की कार्रवाई का उदाहरण  दिया  |     

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 December 2019

 LOKAYUKTA CHAPA

अचल संपत्ति के साथ मिले सोने चांदी के आभूषण   लोकायुक्त पुलिस ने इंदौर नगर निगम के बर्खास्त बेलदार रियाजुल हक अंसारी के घर छापामार कर बेहिसाब संपत्ति का खुलासा किया है | इसके पास आय से कहीं ज्यादा सम्पति और सोने चांदी के जेवरात मिले हैं |  लोकायुक्त पुलिस इंदौर की टीम ने मंगलवार सुबह इंदौर नगर निगम के बर्खास्त बेलदार रियाजुल हक अंसारी के घर देव छाया अपार्टमेंट स्नेह लता गंज में कार्रवाई की |  यहां जांच के दौरान रियाजुल और उसके परिजनों के नाम से भवन, भूखंड और दुकान होने की जानकारी मिली, जिनकी कीमत करीब एक करोड़ से अधिक आंकी गई है  | देव छाया अपार्टमेंट में फ्लैट नंबर 303, 404 एवं पेंटहाउस मिला |  पाकिजा लाइफस्टाइल में एक प्लाट ए-22 जिसमें वर्तमान में मकान निर्माणाधीन है |  नाहर शाहवली कंपाउंड, खजराना में बहन के नाम पर मकान  | जेल रोड में एक दुकान जिसे बेच दिया गया है, इनकी जानकारी लगी  | तलाशी के दौरान रियाज अंसारी के घर से इन अचल संपत्ति के साथ सोने, चांदी के गहनों के साथ 50 हजार रुपए नकद भी मिले  | इसके अलावा कुछ बैंकों में खाते होने की जानकारी भी लोकायुक्त पुलिस को  प्राप्त हुई है, जिनकी जांच की जाएगी  | बर्खास्त बेलदार के घर के पास से एक डस्टर कार और दो टू व्हीलर वाहन भी मिले हैं |  रियाजुल हक अंसारी के घर लोकायुक्त की कार्रवाई के बाद यह जानकारी सामने आई कि इंदौर नगर निगम आयुक्त आशीष सिंह ने 20 दिसंबर को ही बेलदार को बर्खास्त कर दिया था | उसने नगर निगम की छवि धूमिल करने के साथ अफसरों के खिलाफ बयानबाजी भी की थी |     

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  24 December 2019

 SATYNARATAN SATTAN

सरकार का अखबार पर दमन ठीक नहीं   कमलनाथ सरकार ने जीतू सोनी की चारों और से घेराबंदी करके उसे कितना ही बड़ा अपराधी क्यों न बना दिया हो लेकिन लोगों की राय लोकस्वामी अखबार को लेकर खराब नहीं है  | अब पुराने नेता कवि सत्यनारायण सत्तन ने लोकस्वामी अखबार की बेबाकी को बयान किया है  |  इंदौर के जीतू सोनी को बड़ा अपराधी मान भी लिया जाए  | उसके बाद भी एक सवाल यथावत खड़ा है कि सरकार ने उनके अखबार संझा लोकस्वामी को क्यों नेस्तनाबूत किया  | क्या कमलनाथ सरकार को लोकस्वामी में हो रहे हनीट्रैप के खुलासे से कोई खतरा था  |  इस सब का खुलासा देर सबेर हो ही जाएगा  इंदौर के लोगों का लोकस्वामी पसंदीदा अखबार रहा है जो हमेशा काले कारनामे करने वालों का खुलासा करता रहता था  | अब संझा लोकस्वामी मामले पर राष्ट्रीय कवि व भाजपा के वरिष्ठ नेता सत्यनारायण सत्तन का बयान सामने आया है | सत्तन भी लोकस्वामी की पत्रकारिता के प्रशंसक रहे हैं |  इस पूरे प्रकरण में सबसे चौकाने वाली बात यही है कि जीतू सोनी ने जब अपना साम्राज्य खड़ा किया तब इंदौर के सभी अधिकारी क्या सो रहे थे |  इन अधिकारीयों पर कार्यवाही नहीं होने से साफ़ पता चलता है दाल में कुछ काला है  | इससे पहले बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय भी कमलनाथ सरकार की कार्यवाही को कटघरे में खड़ा कर  चुके हैं |                       

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 December 2019

KAILASH VIJAYVARGIYA

कमलनाथ सरकार अधिकारियों की अंगुलियों पर नाच रही सरकार ने उन अधिकारियों को नहीं क्या तो हम करेंगे बेनकाब   मध्यप्रदेश में हनी ट्रैप मामला अब तूल पकड़ता जा रहा हैं | भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा हैं की  | कमलनाथ सरकार अधिकारियों की अंगुलियों पर नाच रही है  |  क्योंकि मध्य प्रदेश के कई बड़े अधिकारी हनीट्रैप में फंसे हैं  |  विजयवर्गीय ने कहा कि अगर मध्य प्रदेश सरकार ने उन अधिकारियों को बेनकाब नहीं किया तो | |  हम उन्हें बेनकाब करेंगे हनी ट्रेप मामला अब सरकार के गले की फांस बनता जा रहा हैं |  एक पत्रकार द्वारा पूर्व मंत्री और अधिकारी के ऑडियो - विडिओ जारी होने के बाद |  अब आगे किसी तरह का कोई कड़वा सच सामने ना आये   | इसके लिए पत्रकार के दफ्तर को सील कर दिया गया था |  मगर अब भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बयान के बाद मध्यप्रदेश में एक नया भूचाल आ गया हैं  |  कैलाश विजयवर्गीय ने आरोप लगाया कि हनीट्रैप मामले में कमलनाथ सरकार अधिकारियों की अंगुलियों पर नाच रही है  |  क्योंकि मध्य प्रदेश के कई बड़े अधिकारी हनीट्रैप में फंसे हैं  |   विजयवर्गीय ने कहा कि अगर मध्य प्रदेश सरकार ने उन अधिकारियों को बेनकाब नहीं किया तो हम उन्हें बेनकाब करेंगे  |  विजयवर्गीय के इस बयान से अब अधिकारीयों से लेकर नेता सतके में आ गए हैं   |    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  10 December 2019

 JITU SONI

गार्डन की जमीन पर बने बंगले पर चला बुल्डोजर   इंदौर की  शांतिकुंज कॉलोनी में जीतू सोनी  के दूसरे बंगले के अवैध हिस्से पर भी नगर निगम का बुल्डोजर चला  | सोमवार अल सुबह से नगर निगम  और प्रशासन की टीम मौके पर पहुंच गई थी और दो पोकलेन मशीनों के जरिए उन्होंने अवैध हिस्सा गिराया |  बताया जा रहा है जीतू सोनी ने बगीचे की जमीन पर यह निर्माण किया था |  हनी ट्रेप के बड़े खुलासे के बाद सरकार ने जीतू सोनी को नेस्तनाबूत करने के लिए कई कदम उठाये हैं  | अब शांतिकुंज कॉलोनी में बने सोनी के बंगले के अवैध हिस्सों को तोड़ा गया  | बताया जा रहा है यह बंगला कॉलोनी के बगीचे की जमीन पर यह बना है, जिसमें दो हजार वर्गफीट पर बंगला बना था और छह से सात हजार वर्गफीट जमीन पर कब्जा किया गया था |  शांतिकुंज कॉलोनी के रहवासियों ने इसकी शिकायत पुलिस को की थी |  जिसमें उन्होंने बताया था कि किस तरह जीतू सोनी ने मंदिर और बगीचे की जमीन पर इसे बनाया है | नगर निगम के अपर आयुक्त रजनीश कसेरा भी इस कार्रवाई के दौरान मौजूद रहे  |  इनके साथ यहां बड़ी संख्या में पुलिस और निगमकर्मी भी मौजूद रहे  |  इसके पहले जीतू सोनी के माय होम होटल, बेस्ट वेस्टर्न होटल, ओ 2 कैफे और बंगले पर भी नगर निगम और प्रशासन की टीम ने अवैध हिस्सों पर कार्रवाई की थी | माय होम होटल से महिलाओं को भी बरामद किया गया था, जिनसे पूछताछ में पता चला कि माय होम होटल में उनसे डांस करवाया जाता था और ग्राहक जो पैसा उन पर लुटाते थे उसमें से ज्यादातर हिस्सा जीतू सोनी रख लेता था  |  पुलिस ने फरार जीतू सोनी की तलाश भी तेज कर दी है, जानकारी के अनुसार उसकी लोकेशन मुंबई में मिली है  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  9 December 2019

 JITU SONI

जीतू सोनी की संपत्ति के अवैध हिस्सों को तोड़ा गया   संझा लोकस्वामी अखबार में हनीट्रैप की ख़बरें सबूतों के साथ प्रकाशित होने के बाद सरकार ने जीतू सोनी पर नकेल कसी और उनके अवैध कारोबारों का खुलासा किया  | इंदौर प्रशासन ने जीतू सोनी की सम्पत्तियों पर किये गए अवैध निर्माणों पर बुलडोजर चलाया और तोड़ा   | इस कार्यवाही के बाद इंदौर प्रशासन पर भी सवाल उठना शुरू हो गए हैं कि इतने सालों से सब कुछ गलत हो रहा था तो प्रशासन आँख बंद कर क्यों बैठा रहा |  संझा लोकस्वामी में हनी ट्रेप मामले के खुलासे के साथ सरकार ने जीतू सोनी के अवैध कारोबारों पर शिकंजा कैसा और मानव तस्करी, अतिक्रमण, लूट व अन्य मामले दर्ज किए | जीतू सोनी के अवैध निर्माण पर गुरुवार अल सुबह 5 बजे से नगर निगम का बुल्डोजर चलना शुरू हो गया  |  साउथ तुकोगंज स्थित होटल बेस्ट वेस्टर्न के अवैध हिस्सों को हटाने का काम  शुरू हुआ  |  इसके साथ ही गीता भवन चौराहा स्थित होटल माय होम, कनाड़िया रोड स्थित सोनी के बंगले, ओ2 और न्यू पलासिया स्थित ओ2 कैफे के अवैध हिस्सों पर भी कार्रवाई  हुई  |  जिला प्रशासन, पुलिस और नगर निगम के अफसरों ने चारों जगह मुआयना करने व दस्तावेज जुटाने के साथ ही कार्रवाई की रूपरेखा  दो दिन पहले ही  तैयार कर ली थी |  जीतू सोनी के अवैध कारोबार के खिलाफ शुरू हुई कार्रवाई बुधवार देर रात तक जारी रही  |   जीतू की चारों स्थानों की संपत्ति की नपती शुरू  की गई |  बुधवार को निगम अधिकारी चारों जगह पहुंचे और देखा कि किस इमारत में कितना हिस्सा तोड़ा जाना है  | माय होम होटल पर कार्रवाई के दौरान निगम की 3 में से 2 पोकलेन मशीन तकनीकी खराबी की वजह से बंद हो गई   इस  कार्रवाई से पहले 100 से ज्यादा गैस सिलेंडर भी जब्त किए गए  . कार्रवाई के लिए निगम ने 12 पोकलेन मशीन, 250 निगमकर्मी, 250 मजदूरों को मिलाकर 13 टीमें  बनाई  |  इसके अलावा वाइब्रेटर, गैस कटर, ट्रैक्टर और डंपर आदि भी इस अभियान में शामिल हुए | . होटल माय होम दो बेसमेंट में पार्किंग बनानी थी, लेकिन मौके पर दो हॉल बने हैं जिनकी दीवारें तोड़ी  गईं  | .साउथ तुकोगंज स्थित बेस्ट वेस्टर्न होटल की टॉप फ्लोर पूरी तरह अवैध  मिली   इसके अलावा बेसमेंट में पार्किंग की जगह हॉल और कमरे बनाए गए हैं  |  वहां भी खुला क्षेत्र नहीं छोड़ा गया है  | कनाड़िया रोड स्थित सोनी के बंगले पर काफी अवैध निर्माण मिला  |  वहां 2100 वर्गफीट की मंजूरी है, लेकिन बंगला सात से आठ हजार वर्गफीट जमीन पर बना है |  इसके अलावा आसपास भी अवैध कब्जा है| .    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  5 December 2019

 HONEY TREAP

सरकार के गले की हड्डी बना हनीट्रैप मामला सोनी पर आईटी एक्ट सहित पांच एफआईआर विजयवर्गीय:सरकार के बड़े लोग शामिल है अधिकारी और मंत्री भी हनीट्रैप में शामिल     हनीट्रैप मामले में कुछ बड़े खुलासे कर रहे अखबार संझा लोकस्वामी के कर्यालय को सील किये जाने के कमलनाथ सरकार के फैसले की हर तरफ आलोचना हो रही है  | माना जा रहा है सरकार से जुड़े कुछ बड़े लोगों के नामों का यह अखबार खुलासा करने वाला था इसलिए समाचार पत्र के मालिकान पर कई मामले दर्ज कर दिए गए  | इंदौर प्रेस क्लब और बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने पुलिस प्रशासन की कार्यवाही की  निंदा की है  |  हनी ट्रैप को लेकर उजागर हो रहे फुटेज के मामले में  संझा लोकस्वामी  समूह के कई प्रतिष्ठानों, ऑफिस व घर पर छापे मारने के साथ  इंदौर के चार थानों में पांच एफआईआर दर्ज कर ली गई   |  इसमें मानव तस्करी, अवैध कारतूस, नौकर व कर्मचारियों की जानकारी छुपाने और आईटी एक्ट की धाराएं लगाई गई हैं  |  पुलिस ने समूह के  प्रमुख जीतू सोनी के बेटे अमित सोनी को गिरफ्तार कर लिया है  इंदौर पुलिस और अन्य विभागों की इस पूरी  कार्रवाई को हनी ट्रैप कांड से जोड़कर देखा जा रहा है   |  हनीट्रैप गैंग से जुड़े अधिकारी हरभजन सिंह ने शाम को संझा कोकस्वामी की शिकायत और कई विभागों ने कुछ ही देर में इस कार्यवाही को अंजाम दे दिया  | जो आदमी खुद इस पूरे काण्ड में संदिग्ध है उसकी शिकायत पर सरकार का यह एक्शन बताता है दाल में कुछ काला है  लोकस्वामी और उसके मालिकों के अन्य संस्थानों  के दफ्तर पर  सैकड़ों पुलिसकर्मियों ने एक साथ छापा मारा था  |  एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है   |  इस मामले में मध्यप्रदेश सरकार कटघरे में नजर आ रही है  |  सवाल यह भी उठाया जा रहा है कि लोकस्वामी अखबार ऐसा क्या खुलासा करने वाला था जिससे सरकार इस कदर भयभीत थी की उसको कुछ ही घंटे में इस कार्यवाही को अंजाम देना पड़ा  |  इंदौर प्रेस क्लब ने भी इस मसले पर सरकार को खरी खरी सुनाई है और लोकस्वामी अखबार पर की सरकारी तालाबंदी की कड़ी आलोचना की है  | बीजेपी के मासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने भी इस मामले पर सरकार की कार्यप्रणाली पर आरोप लगाए और कहा की हमें जानकारी है की इस मामले में सरकार के कुछ बड़े अफसरों और मंत्रियों के नाम आना थे  |  हनीट्रैप मामला अब कमलनाथ सरकार के लिए ही मुसीबत का सबब बनता जा रहा है  | इस मामले की जांच के साथ यह तथ्य सामने आये कि हनीट्रैप गैंग  में शामिल महिलाओं ने अपने हुस्न जाल में फंसाकर 90 से ज्यादा बड़े लोगों के वीडियो बनाये और उनके राज उगलवा कर उनसे रकम और ठेके हांसिल किये   इस मसले पर सोशल मीडिया पर मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार को आपातकाल वाली सरकार की संज्ञा दी जा रही है जिसने पहले भी मीडिया का गला घोंटने का काम किया था  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  2 December 2019

 Sumitra Mahajan

अपनी सरकार के खिलाफ तो बोल नहीं सकते न   बीजेपी की सीनियर नेता और पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन अपनी ही पार्टी के खिलाफ कांग्रेस की मदद लेती थीं  | सुमित्रा महाजन ने इंदौर में एक कार्यक्रम के दौरान इस बात का रहस्योद्घाटन किया और कहा कि जब सवाल इंदौर का हो तो सब कुछ करना पड़ता है  |  कई मर्तबा आम लोगों को लगता है कि दोनों ही पार्टियों के नेता एक से ही हैं   | इसका खुलासा खुद बीजेपी की सीनियर लीडर सुमित्रा महाजन ने किया  |  सुमित्रा महाजन ने  राज्यपाल लालजी टंडन की मौजूदगी में  एक  राज कोला और कहा   |  मेरी सरकार के खिलाफ मैं नहीं बोल सकती थी कोई बात उठाने के लिए मैं जीतू पटवारी और तुलसी सिलावट को धीरे से कहती थी की तुम करो कुछ  |  महाजन ने कहा कि जीतू पटवारी में मेरा शिष्य बनने के सभी गुण हैं   सुमित्रा महाजन के बारे में पटवारी ने कहा कि हम राजनेताओं से अपनी कुर्सी का मोह मुश्किल से छूटता है, लेकिन ताई इतनी सहज और सरल हैं कि उन्होंने इसे छोड़ने में मिनटभर भी वक्त नहीं लगाया  | पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि पार्टी का सवाल नहीं, जब शहर का विकास करने निकलते हैं तो सब एकजुट रहते हैं  |  यह इस शहर का स्वभाव है  |  संवाद का यह प्रयोग कर पटवारी ने बेहतर कार्य किया है  |  पटवारी ने स्वागत भाषण देते हुए कहा कि राज्यपाल बेहद सहज और सरल व्यक्तिव के धनी हैं  | उनसे पहली बार जब एयरपोर्ट पर मुलाकात हुई थी तो उन्होंने कहा था कि मैंने आपके बारे में सुना है, मेरे दो बेटे हैं  |   एक उत्तरप्रदेश में मंत्री है और दूसरा यहां मध्यप्रदेश में शिक्षा मंत्री है  |  तभी से मैं उनकी सादगी का कायल हूं  | 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  2 December 2019

Robbery

छह  बदमाश ले गए नकदी और गहने   इंदौर से डकैती की खबर है  |  बीतीरात नकाबपोश डकैतों ने एक बिल्डर के बंगले पर सिक्यूरटी गार्ड पर बंदूकें तानीं  | और फिर परिवार को कब्जे में लेकर डकैती की वारदात को अंजाम दिया |  ये डकैत अपने साथ बड़ी मात्रा में गहने और नगदी ले गए  |  पुलिस CCTV फुटेज के आधार पर इनकी तलाश कर रही है  |  लसूड़िया थाना क्षेत्र में कंचन विहार कॉलोनी में बीती  रात छह नकाबपोशों ने  बिल्डर कैलाशचंद गोयल के बंगले में घुसकर डकैती की बड़ी वारदात को अंजाम दिया | डकैतों ने पहले बंगले के बाहर तैनात दो गार्डों पर कट्टा ताना और एक गार्ड से रायफल छीनकर दोनों को बंगले में रस्सी से बांध दिया  | इसके बाद बिल्डर के परिवार को कब्जे में लेकर नकदी और गहने लूट लिए  |  शहर के प्रतिष्ठित बिल्डर के यहां हुई वारदात से पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया  पुलिस को कॉलोनी में लगे सीसीटीवी फुटेज मिले हैं जिनमें डकैत वेन से आते दिख रहे हैं  |  पुलिस बदमाशों की तलाश कर रही है  | घटना बिल्डर कैलाशचंद गोयल के बंगले की है जो बेटे मुकेश और अंकेश के साथ बंगले हरिहर विला में रहते हैं  | रात करीब साढ़े 9 बजे छह नकाबपोश डकैत कॉलोनी में दाखिल हुए   डकैत नीले रंग की मारूति ईको में आए थे, जिसमें परदे लगे हुए थे  |  वे बंगले से कुछ दूरी पर कार से उतर गए  |  डकैतों ने गार्ड राजकुमार मिश्रा और हरिकिशन मिश्रा को कब्जे में लेकर बंगले के अंदर पहुंच गए  |  डकैतों ने अंदर पहुंचकर गार्डों के हाथ-पैर बांध दिए और लूटपाट कर फरार हो गए  | डकैतों ने दोनों बेटों के साथ मारपीट की और उन्हें भी बांध दिया  |  सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने पूरे क्षेत्र में सर्चिंग शुरू की  |  उस दौरान एक रस्सी और लूटे हुए कुछ मोबाइल फोन न्यू लोहामंडी में बरामद हुए  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 November 2019

 POLICE GUNDA GARDHI

ऑटो चालक के बाल पकड़े और लात मारी सिपाही के खिलाफ ऑटोवालों का प्रदर्शन     अपने डांसिंग स्टाइल से यातायात संभालने के लिए मशहूर इंदौर के यातायात सिपाही रणजीत सिंह का नया वीडियो वायरल हुआ है  | जिसमें ये डांस करने वाला सिपाही एक ऑटो चालाक के बाल पकड़कर लात मरता नजर आ रहा है  | सिपाही की इस बदतमीजी के बाद ऑटो वालों ने इस सिपाही के खिलाफ प्रदर्शन किया   |  इस बार सिपाही को प्रशंसा के बजाए बदनामी मिल रही है  | और बड़े अधिकारी भी सिपाही की हरकत से नाराज नजर आए  |  वायरल  वीडियो में सिपाही रणजीत  ऑटो रिक्शा चालक को पीट रहा है  |  हालांकि गलती ऑटो चालक की भी थी  | वह रांग साइड से आ रहा था जिसे देखकर सिपाही ने आपा खो दिया  | लेकिन इस सिपाही को भी कानून ने किसी के भी साथ इस तरह मारपीट का अधिकार नहीं दिया   रणजीत ने पहले चालक के बाल खींचे  | तमाचा जड़ा, फिर लात मारते हुए नजर आया  |  पहले देखिये सिपाही रंजीत सिंह की गुंडागर्दी  |  रंजीत सिंह अपने डांसिंग स्टाइल में ट्रेफिक कंट्रोल करने के लिए खासे चर्चित हैं  ... इस कारण रंजीत सिंह बड़े अधिकारीयों और मीडिया की निगाहों में चढ़ गए  | थोड़ी सी लोकप्रियता ने रंजीत सिंह का इतना दिमाग खराब किया कि उन्होंने लोगों से बदतमीजी करना शुरू कर दिया  |  इस मसले को लेकर इंदौर में यातायात पुलिस स्टेशन के बाहर ऑटो संघ ने प्रदर्शन किया और सिपाही के खिलाफ कार्यवाही की मांग की  |  पूरे मामले में वरिष्ठ अधिकारियों ने घटनाक्रम की जांच के निर्देश दिए हैं  .|  22 सेकंड के वीडियो में यातायात सिपाही ने ऑटो रिक्शा रोका और चालक से कहासुनी हुई  .|  फिर उसके बाल खींचे  | चालक ने इस पर आपत्ति ली और अपना चालान बनाने को कहा  |  उसकी बात सुनते ही सिपाही का गुस्सा बढ़ गया और ऑटो चालक को दो बार लात मारी  |  इसके चलते कुछ देर के लिए यहां यातायात बाधित हुआ  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  26 November 2019

 BADMASHO KA KHOOF

बदमाशों ने राह चलते 4 लोगों को चाकू मारे   इंदौर में एसएसपी कार्यक्रमों में जाकर गाने गा रहीं हैं तो दूसरी तरफ गुंडे सरेआम वारदातों को अंजाम दे रहे हैं  | इन गुंडों के हौंसले इतने बुलंद हैं कि ये रह चलते लोगों को चाकू मार रहे हैं  | और लूटपाट कर रहे हैं  |  राजेंद्र नगर थाना क्षेत्र की स्कीम नंबर 103 में  रात 6 बदमाशों ने जमकर आतंक मचाया  |  7 दुकानों में घुसकर तोड़फोड़ की और इसके बाद मुकुल चौहान, द्वारका सेन तथा राह चलते दो अन्य लोगों को चाकू मार दिया  |   दुकानों में चाकू लहराकर घुसे इन बदमाशों ने कहा- हम जेल से छूटकर आए हैं  और उसका  जश्न मना रहे हैं  | रुपए दो नहीं तो मार डालेंगे  | इसके बाद इन्होने दुकानों का गल्ला लूट लिया  |  40 मिनट तह इन लोगों का हंगामा चलता रहा  | लूटपाट से पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गई  | प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि तीन बाइकों पर सवार होकर आए 6 बदमाश  चमेली देवी स्कूल के पीछे सहज कॉम्प्लेक्स और उसके आसपास की दुकानों में एक के बाद घुसे और लूटपाट की  | सबसे पहले लहसुन व्यापारी की ए वन ट्रेडर्स में घुसे और तोड़फोड़ की  | कर्मचारी जब्बार की गर्दन पर चाकू रख गल्ले में रखे रुपए लूट लिए।   इसके बाद राधे-राधे डेरी में तोड़फोड़ की  |  एक बदमाश ने संचालक के पेट पर चाकू अड़ाकर कहा कि कुछ हरकत की तो मार दूंगा और गल्ले में रखे 14 हजार रुपए लूट लिए | बदमाशों की यह करतूत cctv में भी कैद हो गई है  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 November 2019

 SSP RUCHI VARDHAN SINGH  SONG

एसएसपी रूचिवर्धन का गाना   इंदौर की एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र  जितनी अच्छी पुलिस अफसर हैं  वे उतना अच्छा गाना भी गाती हैं  | अब तक इस बात को कम ही लोग जानते थे  | लेकिन जब उन्होंने एक समारोह में गीत गया तो पुलिसवाले भी तालियां बजाने पर मजबूर हो गए |   इंदौर के  विजयनगर  में इंदौर पुलिस का एक नया चेहरा सामने आया  |  दरबार सजा हुआ था   | .पुलिस अफसर बैठे थे |  लेकिन चोर, पुलिस, डंडा, फटकार नहीं बल्कि सुरीले गीतों की महफिल सजी हुई थी  |  एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र ने माइक थामा और  सुरीले नगमे छेड़ दिये  | एसएसपी  रूचिवर्धन के गीतों की प्रस्तुति ने  समां बांध दिया  |  कार्यक्रम में उपस्थित लोगों  रूचिवर्धन को एक सख्त पुलिस अफसर समझते ने  लेकिन  उनके गीतों ने लोगों को मत्रमुग्ध कर दिया   |  अपने व्यस्त शेड्यूल के बीच इंदौर एसएसपी के गीतों ने पुलिस के इस कार्यक्रम को यादगार बना दिया  |  इस कार्यक्रम में एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र ने कार्यक्रम में सुर-ताल साधते हुए ना तेरे बिन लगता है जी  |  के बाद  छू कर मेरे मन को गाकर समा बांध दिया  | एसएसपी गाने की शौकीन हैं यह तो स्टाफ को पता था लेकिन वे खुद भी इतना अच्छा गाती हैं इस का अंदाज  किसी को नहीं था  |  एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र पहले भी शहर में सामाजिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों के दौरान न केवल अपने प्रेरक संबोधन बल्कि संगीत के प्रति अपने शौक की वजह से अलग पहचान बना चुकी हैं  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  19 November 2019

 TRAFIC RULES

वाहन चालकों को ट्रैफिक रूल्स बता रही है छात्रा   इंदौर की सड़कों पर एक कॉलेज छात्रा अपने अनोखे अंदाज में ट्रैफिक रूल्स समझा रही है  | शुभी जैन नाम की यह स्टूडेंट रेड लाइट पर ट्रेफिक नियम समझाने के साथ सलीके से ट्रैफिक कंट्रोल भी कर लेती है  |  इंदौर की कॉलेज छात्रा शुभी जैन का अपने अंदाज में ट्रैफिक रूल्स बताने वाला वीडियो वायरल हो रहा है  | वीडियो में छात्रा रेड लाइट पर रुके वाहनों के पास जाकर लोगों को ट्रैफिक के नियम बता रही हैं |  टू-व्हीलर पर जो कोई बिना हेलमेट के नजर आता है उससे कहती हैं कि आप हेलमेट पहनिए, कार चालकों को सीट बेल्ट लगाने की सलाह देती हैं  | जो कोई भी सीट बेल्ट और हेलमेट लगाए नजर आता है उसे धन्यवाद देती हैं  |  शुभी जैन का कहना है उम्मीद है हम सभी अपने प्रयासों से जल्दी ही इंदौर को ट्रैफिक में आदर्श शहर बनाएंगे  |  वीडियो वायरल होने के बाद लोग उनके इस अंदाज को लोग खूब पसंद कर रहे हैं  | शहर के लोगों का कहना है कि जिस तरह स्वच्छता में इंदौर नंबर वन बन है, उसी तरह ट्रैफिक रूल्स का पालन करने में भी इसे नंबर वन होना चाहिए  |  वीडियो में एक जगह शुभी एक व्यक्ति से कहती हैं कि सर आपके पास तो हेलमेट हैं प्लीज इसे पहन लिजिए, उनके इस आग्रह के पास वो व्यक्ति तुरंत अपना हेलमेट पहन लेता है  |  बाकी सब से वो कहती हुईं नजर आ रही हैं कि सर कोशिश करें की आप अगली बार हेलमेट पहनकर ही गाड़ी चलाएं  |  शुभी के इस अंदाज को युवा खासा पसंद करते हैं  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  17 November 2019

 KAMALNATH

सिलावट के जन्मदिन पर लगे अवैध होर्डिंग सिलावट की टीम ने निगम कर्मियों को मारा   मुख्यमंत्री कमलनाथ जी आपके मंत्री तुलसी सिलावट के लोगों ने आपके  आदेश की धज्जियाँ  उडाई और आपके कर्मचारियों की जमकर पिटाई लगाई   | आप मध्यप्रदेश में ऐसा बदलाव लाये हैं कि आपके मंत्री के लोगों ने आपके आदेश को रद्दी की टोकरी में फैंकने लायक भी नहीं समझा  | और जमकर मनमानी की  |  आपकी सरकार में अगर दम है तो ऐसे लोगों को ऐसा सबक सिखाएं कि ये भविष्य में ऐसा करने की हिमाकत न कर सकें  |  मुख्यमंत्री कमलनाथ की आपका इकबाल कम हो चुका है  |  आपके लोग की अपकी  बातों को अनसुना कर रहे हैं और आपके आदेशों को हवा में उड़ा रहे हैं   कमलनाथ जी अगर फुर्सत मिले तो इन दृश्यों को देख लीजियेगा  |  इंदौर नगर निगम के ये कर्मचारी आपकी मंशा और आपके आदेश के मुताबिक मंत्री तुलसी सिलावट के अवैध होर्डिंग और पोस्टर हटा रहे थे  | तभी तुलसी सिलावट के लोगों ने इनके साथ बदतमीजियां की और इनकी जमकर पिटाई लगाईं  | मुख्यमंत्री कमलनाथ जी आप यही बदलाव चाहते थे कि आपके आदेशों की ऐसे ही धज्जियां उड़ाई जाएँ  | तो आपको यह मुबारक है  |  सभ्य समाज में इसे गुंडागर्दी कहा जाता है जो आपके केबिनेट मंत्री तुलसी सिलावट के लोग कर रहे हैं  | इंदौर में बिना पोस्टर और बैनर के नेताओं को तो जैसे  राजनीति पसंद ही  नहीं आ रही है  | स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट के जन्मदिन के मौके पर मंत्री के  रिश्तेदार  और समर्थकों ने  नियम विरूद्ध मंत्री   के निवास को पोस्टर और बैनर से पाट कर गंद मचा दी थी  | और जब नगर निगम का अमला पोस्टर और बैनर हटाने गया तो कर्मचारियों के साथ गाली गलौच कर मार पीट की गई  | मुख्यमंत्री कमलनाथ जी अगर इसी तरह मंत्रियों के समर्थक निगम कर्मचारियों की पिटाई करेंगे तो कैसे आपके सपने का होर्डिंग मुक्त प्रदेश कैसे बनेगा  |   मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ  जी आप  प्रदेश को होर्डिंग्स और बैनर मुक्त कराने के लिए लाख जतन कर ले   | .लेकिन आप ही के लोग आपकी सुनने के लिए तैयार नहीं हैं  |  सरेआम आपके निर्देश के बावजूद उनके मंत्रियों द्वारा आदेश की धज्जियां उड़ाई जा रही है   | इस मामले में भी आपके   स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट  को खुद ऐसा करने वालों को रोकना चाहिए था  | लेकिन आपके मंत्री ने भी ऐसा नहीं किया  | इंदौर में तो मंत्री  जी के  सरकारी आवास को जन्मदिन की बधाइयों के होर्डिंग्स और बैनर से पाट दिया गया  था  | इस बात की जानकारी जैसे ही नगर निगम को लगी  |  वैसे ही उन्हें हटाने के लिए निगम ने कवायद शुरू कर दी  | लेकिन मंत्री समर्थक निगम अधिकारियों से विवाद पर उतारू हो गए   |  निगम कर्मचारियों और अधिकारीयों ने नियमो का हवाला देकर होर्डिंग्स हटाने का प्रयास किया | तो इस पर मंत्री के समर्थक निगम कर्मचारियों को गाली देने लगे  |  और उनसे मार पीट तक की  .| दौरान मंत्री सिलावट के भतीजे और समर्थकों ने निगम उपायुक्त महेंद्र सिंह से तीखी बहस की  | और कवरेज कर रहे  मीडिया कर्मियों को भी कवरेज करने से रोका  |  ऐसे में कहना लाजमी होगा कि नियम कायदों और आदेशों का पाठ पढ़ाने वाले मंत्री  | अपने ही मुखिया के आदेश का पालन अपने समर्थकों से करवाने में असफल साबित हो रहे  है |  पिछले दिनों अवैध होर्डिंग्स और बैनर को लेकर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने स्पष्ट निर्देश दिए है  कि यदि उनका स्वयं का पोस्टर भी हो तो हटा दिया जाए  | लेकिन मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ऐसा लग रहा है की  आपकी पकड़ आपके मंत्रियों पर ही कमजोर हो गई है  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 November 2019

 T.I RISHWAT

रेत का  ट्रक  छोड़ने के लिए मांगे थे 13 हजार     इंदौर लोकायुक्त की टीम ने टीआई सहित तीन पुलिस वालों को रंगे  हाथों रिश्वत लेते धर दबोचा है |  रेत से भरे ट्रक को छोड़ने के एवज में पंद्रह हजार के रिश्वत की मांग टीआई ने की थी |  जिसकी शिकायत लोकायुक्त में किये जाने के बाद कार्यवाई को अंजाम दिया गया  |  इंदौर लोकयुक्त की टीम ने सिमरोल थाना क्षेत्र में पदस्थ टीआई समेत तीन पुलिस वालों को रिश्वत लेते पकड़ा है |  बताया जा रहा है की शिकायत करने वाले युवक मनोज शर्मा   का  रेत से भरा ट्रक खंडवा रोड पर महू तहसील  के पास सिमरोल थाना में पकड़ लिया गया  | जिसके बाद ट्रक छोड़ने के लिए निरीक्षक थाना प्रभारी राकेश कुमार नैन ,आरक्षक विजेंद्र धाकड़ , और नगर सैनिक  दीपक पटेल द्वारा  युवक से पंद्रह हजार की मांग की गई | .और सौदा तेरह  हजार में तय किया गया   | युवक ने इसकी  शिकायत  लोकायुक्त में कर दी |  और जैसे ही युवक ने टीआई को तय की गई रकम दी | वक्त की टीम ने छापामार कार्यवाई करते हुए |  टीआई समेत तीन पुलिस वालों को रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार कर लिया  |  इस कार्यवाई के बाद थाने में हड़कंप मच गया |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 November 2019

 PREMIKA PITAI

थियेटर के बहार पत्नी ने पति की प्रेमिका को मारा   एक युवक को पत्नी छोड़ प्रमिका के साथ मूवी देखने जाना भारी पड़ गया   | पत्नी ने थिएटर के बाहर पति में थप्पड़ मारे और फिर उसकी प्रेमिका की जमकर पिटाई की  |  हंगामे के बाद मामला पुलिस तक पहुँच गया  |  पत्नी ने जैसे ही  थियेटर के बाहर पति को दूसरे का हाथ थामे देखा, उनकी पिटाई कर दी |   पहले पति को चांटे लगाए फिर प्रेमिका के बाल पकड़कर चौराहे पर घसीट लाई  | हंगामे के बाद मामला थाने पहुंचा तो पुलिस ने अदमचेक काटकर उन्हें रवाना कर दिया  | नंदानगर निवासी महिला के पति सौरभ दुबे का मालवा मिल चौराहे पर रहने वाली युवती से प्रेम प्रसंग चल रहा है   |  सौरभ भंवरकुआं क्षेत्र में कार कंपनी में नौकरी करता है  |  महिला का कहना है मैंने कई बार पति को समझाया कि वह प्रेमिका का साथ छोड़ दे  |  उसकी हरकतों से दोनों की शादीशुदा जिंदगी में दरार पड़ रही है  | सौरभ झूठ बोलता और ऑफिस के बहाने प्रेमिका से मिलने पहुंच जाता था   | पांच दिन पहले इसी बात पर दंपती में विवाद हुआ रविवार दोपहर महिला को खबर मिली कि सौरभ प्रेमिका को लेकर रिंग रोड स्थित एक मल्टीप्लेक्स में फिल्म देखने गया है  |महिला बहन को लेकर दोनों को सबक सिखाने मल्टीप्लेक्स पहुंच गई  |  पार्किंग में दोनों की गाड़ी भी दिख गई   |  करीब दो घंटे बाद जैसे ही सौरभ व प्रेमिका एक दूसरे का हाथ थामे बाहर आए तो महिला उन पर टूट पड़ी   | जैसे ही सौरभ को चांटे जड़े तो प्रेमिका भागने लगी  |  महिला ने उसे पकड़कर सड़क पर पटका और लात-घूसों से पीटना शुरू कर दिया  | यह देख मौके पर लोगों की भीड़ लग गई  | इतने में पुलिस आ गई और सब को पुलिस स्टेशन लाई  |  पुलिस ने सौरभ व उसकी प्रेमिका के विरुद्ध अदमचेक काटकर रवाना कर दिया |  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  4 November 2019

 HOSTAL AAG

होटल में फंसे लोग बमुश्किल बचाए गए   इंदौर के विजय नगर क्षेत्र में स्थित गोल्डन गेट होटल में सोमवार सुबह अचानक आग लग गई  |  देखते ही देखते इसने भीषण रूप ले लिया  |  घटना के बाद इलाके में अफरा-तफरी मच गई  | होटल में  मौजूद लोंगों को बड़ी मुश्किल से बाहर निकाला गया  | दर्जनों गयर ब्रिगेड भी घंटों की मश्शकत के बाद आप पर जैसे तैसे काबू पा सकीं  |  बताया जा रहा है आग शार्ट सर्किट के कारण लगी  |  विजय नगर क्षेत्र में स्थित गोल्डन गेट होटल में अचानक आग लगी  .| जब तक कोई कुछ समझ पाता आग ने विकराल रूप धारण कर लिया   |  होटल स्टाफ ने होटल में ठहरे लोगों को जैसे तैसे बाहर निकाला  |   कुछ लोगों  अंदर ही फंसे  रह गए  |  ऐसे में होटल का अगला हिस्सा धूं  धूं कर जलने लगा   |  सूचना मिलने के बाद 4 फायर ब्रिगेड की गाड़ियां   पहुंच गईं और आग पर काबू पाने की कोशिश शुरू की   |  लेकिन इससे कुछ नहीं हुआ पूरा होटल आग की आगोश में था   | फायर फाइटर्स  |  स्थानीय लोगों और कुछ पुलिस जवानों ने पास की बिल्डिंग से होटल में सीढ़ी लगाकर होटल में फंसे लोगों को निकालने का काम शुरू किया   | लोगों को बचाने में इन लोगों ने अपनी जान की बाजी लगा दी   |   एक व्यक्ति को रेस्क्यू करने का एक वीडियो वायरल हो रहा है  |  जिसमें सीढ़ियों के सहारे एक बुजुर्ग को आग से धधकती होटल से बाहर निकाला गया  |  होटल आग के शोले में तब्दील हो गया था  | काफी मशक्कत के बाद भी आग पर काबू नहीं पाया जा सका   | होटल से लगी दूसरी इमारतों को भी खाली करवा लिया गया है  | आग की लपटें होटल में नीचे से ऊपर तक फैल गईं   | आशंका जताई जा रही है कि आग शॉर्ट सर्किट की वजह से लगी है  |    बताया जा रहा है कि होटल का ज्यादातर हिस्सा लकड़ी से बना हुआ था  |  इसकी वजह से  आग  बहुत तेजी से फैल गई  |  आग पर काबू पाने के लिए फायर ब्रिगेड की टीम लगातार लगी रहीं   | नगर निगम के पानी के टैंकर भी मौके पर पहुंचते रहे और फायर ब्रिगेड की मदद करते रहे   |  घटना के बाद वहां आस-पास भीड़ जमा हो गई थी  | आग की वजह से पूरे क्षेत्र में धुंआ फैल गया था   |  उधर बिल्डिंग के पिछले हिस्से को फायर ब्रिगेड और नगर निगम की टीम ने तोड़ा और अंदर के हिस्से में पहुंची  | और फिर पीछे और होटल के आगे दोनों तरफ से आग बुझाने के प्रयास शुरू हुए  | घंटों की मशक्क्त के बाद आग पर काबू पाया जा सका  | इस आग के कारण होटल के आस पास के भवनों को भी काफी नुक्सान पहुंचा हैं |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 October 2019

 IMARTI DEVI

पुरुषो को फ़साने पर नहीं होनी चाहिए तरफदारी   मध्यप्रदेश के चर्चित हनी ट्रैप कांड को लेकर  महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी ने विवादित बयान दिया है  |  इमरती देवी ने कहा की ऐसे मामलों में गलती अक्सर महिलाओं की होती है |  इसके बावजूद दोषी केवल पुरुष ही माने जाते हैं |  उन्होंने कहा कि इस तरह की महिलाओं की तारीफदारी नहीं की जानी चाहिए |  जो पुरुषों को गलत तरीके से फसाती हैं |  अपने विवादित बयानों से सुर्ख़ियों में रहने वाली कैबिनेट मंत्री इमरती देवी का हनी ट्रैप मामले में एक और  उटपटांग बयान सामने आया है  | हनी ट्रैप केस में इमरती देवी  अय्याश टाइप के पुरुषों के समर्थन में आ गई  हैं  |  इमरती देवी ने कहा की इस  मामलों में पुरूषों को गलत तरीके से फंसाया गया | ऐसे मामलों में गलती अक्सर महिलाओं की होती है  |  बावजूद इसके दोषी केवल पुरुष ही माने जाते हैं |  इमरती ने कहा  मैं  ऐसी महिलाओं की तरफदारी नहीं करती  | अगर पुरुषों को गलत तरीके से फसाया गया है तो |  पुरूषों पर  कार्रवाई के बजाय  महिलाओं के खिलाफ  कार्रवाई हो  |  मध्य प्रदेश के हनी ट्रैप कांड ने पूरे देश को हिला कर रख दिया  है  |  हनी ट्रैप मामले में नामों के खुलासे को लेकर इमरती देवी ने कहा की  | दिन भर आपको बहोत सारे नेता मिल जायेंगे  |  लिहाजा इसकी जानकारी आप उनसे लें  |  गौरतलब है की इस कांड में कई बड़े नेता और अफसरशाह घिरते दिख रहे हैं  | इस केस में पकड़ी गई महिलाओं के पास से विडियो क्लिपिंग की 4,000 से ज्यादा फाइलें हाथ लगी हैं  | और कुछ तस्वीरें व ऑडियो-क्लिप भी बरामद हुए हैं |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  15 October 2019

 KAMALNATH

एक बार फिर इंदौर में  इन्वेस्टर समिट     आर्थिक मोर्चे पर लड़खड़ाती हुई कमलनाथ सरकार ने निवेशकों को लुभाने के लिए इंदौर में इन्वेस्टर समिट का आयोजन 17 और 18 अक्टूबर को किया है  |   कमलनाथ सरकार को ममीद है इसके बाद मध्यप्रदेश की स्थितियों में बदलाव आएगा  |  मध्यप्रदेश में कमलनाथ  सरकार बनने के बाद  सरकार को तंगहाली का सामना करना पड़ रहा है  | कमलनाथ सरकारी को एक तरह से कंगाल सरकार कहा जा सकता है  |  स्थिति इतनी विषम है कि रेवेन्यू बढ़ाने के लिए पेट्रोल डीजल पर सरकार को अतिरिक्त टैक्स लगाना पड़ रहा है |  पैसा नहीं होने के कारण कई निर्माण कार्य बंद पड़े हैं  |  ऐसे में कमलनाथ सरकार को इन्वेस्टरों से काफी उम्मीदें हैं  | हलाकि अब से पहले भी कई बार ऐसे आयोजन हुए पर प्रदेश को उसका लाभ कम ही मिला   | इंदौर में 17 और 18 अक्टूबर को  मैग्नीफिसेंट एमपी का आयोजन सरकार ने किया है  |  इसकी तैयारियों को लेकर प्रदेश के मुख्य सचिव  एसआर मोहंती  ने  ब्रिलिएंट कन्वेंशन सेंटर में प्रमुख सचिव राजेश राजौरा और संजय शुक्ल के साथ अधिकारियों की बैठक की |  बैठक में संभाग आयुक्त आकाश त्रिपाठी , अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक वरुण कपूर, कलेक्टर लोकेश जाटव ,निगमायुक्त आशीष सिंह ,वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्रुचि वर्धन मिश्रा सहित सभी प्रमुख विभागों के अधिकारी मौजूद रहे  |              

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  10 October 2019

JITU PATWARI

एमपी के मंत्री ने माना पटवारी घूसखोर पटवारी करेंगे मुख्यमंत्री से मंत्री की शिकायत   मध्यप्रदेश में भ्रष्टाचार की हालत का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि सार्वजानिक मंच से कमलनाथ सरकार के मंत्री कह रहे हैं कि सौ प्रतिशत पटवारी रिश्वत खोर हैं और ये बिना पैसे लिए कोई काम नहीं करते हैं    इसके बाद पटवारी संघ मंत्री के इस बयान से ख़ासा नाराज हो गया है और वो  इस मामाले  में मंत्री की शिकायत मुख्यमंत्री  से करेगा  |  उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी की बात पर गौर करें तो उनका कहना है सौ प्रतिशत पटवारी घूसखोर हैं  |  मंत्री जीतू पटवारी ने अपने  विधानसभा क्षेत्र के रंगवासा गांव में 'आपकी सरकार-आपके द्वार' कार्यक्रम में  हजारों की तादाद में मौजूद किसानों और अधिकारियों के सामने  कलेक्टर लोकेश कुमार जाटव को संबोधित करते हुए कहा कि 100 प्रतिशत पटवारी रिश्वत लेते हैं  |   बिना पैसा लिए काम ही नहीं करते   | मेरे नाम में भी पटवारी है, इसलिए मेरा भी नाम बदनाम होता है  | मंत्री पटवारी ने यह भी कहा कि पटवारियों से हाथ जोड़कर निवेदन करने पर भी नहीं मानते  .| कोई किसान ऊपर का पैसा दे रहा है तो वह गलत कर रहा है, उसकी भी जिम्मेदारी है  |   रिश्वत लेने वाला दोषी है तो देने वाला भी दोषी है   | थोड़ा लड़ो, नेताओं को भी झिंझोड़ो, चार बात सुनाओ, क्योंकि आपके वोट की कीमत है   |मंत्री ने कलेक्टर से अनुरोध किया कि वे पटवारियों पर लगाम कसें  |  जीतू पटवारी ने सभी पटवारियों को रिश्वतखोर कह कर ईमानदार पटवारियों का दिल दुखा दिया है  |  मंत्री तो अपनी बात कह कर चले गए लेकिन इसके बाद पटवारी संघ मंत्री की इस बयानबाजी से ख़ासा नाराज नजर आया और कहा इस मसले पर भोपाल में मुख्यमंत्री कमल नाथ से मिल कर करी |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  30 September 2019

SUICIDE

एक कमरे में मिले पति-पत्नी और बच्चों के शव   इंदौर के  वाटर पार्क में सॉफ्टवेयर इंजीनियर, उनकी पत्नी और उनके दो जुड़वा बच्चों के शव मिलने से सनसनी फैल गई |   दंपती एक दिन पहले ही बच्चों के साथ वहां घूमने गए थे  |  गुरुवार शाम तक भी जब कमरे का दरवाजा नहीं खुला तो वाटर पार्क प्रबंधन ने दूसरी चाबी से दरवाजा खोला  |   भीतर सभी के शव पड़े देख पुलिस को सूचना दी |  माना जा रहा है इन सब की मौत जहरीला पदार्थ खाने से हुई है  |  क्रिसेंट वॉटर पार्क में बने रिसोर्ट में एक ही परिवार के चार लोगों के शव मिलने से पुलिस भी  हैरान है   | ये शव  डीबी सिटी में रहने वाले सॉफ्टवेयर इंजीनियर अभिषेक सक्सेना उनकी पत्नी प्रीति सक्सेना और उनके चौदाह वर्षीय जुड़वां बच्चे अद्वैत  और अनन्या  के  हैं   | शव क्रिसेंट वाटर पार्क के कमरे में मिले  |  दंपती ने ऑनलाइन रूम बुक करवाया था  |  टीआई रूपेश दुबे के अनुसार परिवार ने बुधवार रात दस बजे अंतिम बार पानी की बोतल बुलवाई थी |  उसके बाद से न कमरे से कोई बाहर आया और न ही कुछ मंगवाया  |  जब गुरुवार दोपहर बाद तक कोई हलचल नहीं हुई तो वाटर पार्क प्रबंधन ने पहले दरवाजा खटखटाकर खुलवाने का प्रयास किया  |  जब कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली तो दूसरी चाबी से दरवाजा खोला  | भीतर बच्चों और दंपती के शव देखकर तुरंत खुड़ैल पुलिस को सूचना दी |  मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने घटनास्थल की जांच की तो शवों के पास जहरीला पदार्थ रखा मिला  |  प्रारंभिक जांच में संभावना जताई जा रही है कि जहरीला  पदार्थ खाने से उनकी मौत हुई होगी  |  एफएसएल टीम ने भी मौके पर जांच पड़ताल की फिलहाल आत्महत्या का कारण स्पष्ट नहीं हो सका |  शवों के पैर और हाथ के नाखून भी नीले पड़ गए थे  | अभिषेक के मामा की बेटी संध्या सक्सेना ने बताया कि हादसे की खबर मिलने के बाद वह दिल्ली से इंदौर पहुंची  .| उसने बुधवार रात 8 बजे प्रीति व उनके दोनों बच्चों से बात की थी, सभी खुश थे |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 September 2019

 HONEY TREAP

हनी ट्रेप कांड में एडीजी संजीव शमी ने काम सम्हाला संबंधितों की कुंडली छानी गई, बरामद गया डेटा अधिकारी 'कंप्रोमाइज' कर रहे हैं  गंभीर है मामला   हनीट्रैप मामले को एसआईटी प्रमुख  संजीव शमी ने गंभीर बताया है उन्होंने कहा कि  बड़े अधिकारी 'कंप्रोमाइज' कर रहे हैं तो ये गंभीर मामला है  | वहीँ इस मामले की एफआईआर सीआईडी को शिफ्ट करने से इसकी जांच पर सवालिया निशान लगाना शुरू हो गए हैं  |  क्योंकि सीआईडी में  अधिकांश मामलों में सबूतों के आभाव में आरोपियों को क्लीनचिट दे दी जाती है  | कहा तो यह भी जाता है कि सरकार को  जिस केस को धीरे धीरे ख़त्म करना हो ऐसे मामले सीआईडी के ठन्डे बास्ते में डाल दिए जाते हैं  |    हनीट्रैप मामले में जिस गति से जांच शुरू हुई थी अब उस की गति उतनी ही धीमी हो गई है  | और ऐसा लग रहा है कमलनाथ सरकार भी इस मामले को ठन्डे बास्ते में डालना चाहती है  ... हनीट्रैप पर विपक्ष की सीबीआई जाँच की मांग से बचने के लिए मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार ने इसे एसआईटी के हवाले किया और  बुधवार रात को सीआईडी ने इस मामले में केस दर्ज कर लिया  |  अभी पलासिया थाने ने शून्य पर कायमी की थी, अब एफआईआर सीआईडी में शिफ्ट हो गई है  ... सामान्य तौर पर माना जाता है कि जिस मामले को देरसवेर ख़त्म करना हो सरकार उसे सीआईडी के सुपुर्द कर देती है  | हनीट्रैप पर गठित नई एसआईटी के प्रमुख संजीव शमी ने  इंदौर में  टीम के सदस्यों को गोपनीय स्थान पर बुलाया और इस मामले की  जानकारी ली  | संजीव शमी ने कहा, इस केस में गंभीरता बहुत ज्यादा है  |  अगर बड़े अधिकारी कंप्रोमाइज कर रहे हैं तो इसी को ध्यान में रखकर वरिष्ठ अधिकारियों को साथ लेकर स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम बनाई गई है |   बड़े नाम और लोगों के शामिल होने के सवाल के जवाब में कहा जो भी अपराध में लिप्त होंगे सबके नाम सामने आएंगे  |  उधर, एसआईटी ने आम नागरिकों से मदद मांगकर अपील की है कि अगर उनके पास इस मामले से जुड़ी कोई भी जानकारी है तो वे ई-मेल से भेज सकते हैं   एडीजी काउंटर इंटेलीजेंस और एसआईटी प्रमुख संजीव शमी ने बताया कि जांच में साक्ष्य जुटाने के लिए लोगों से उनके पास उपलब्ध सूचनाओं को लेने के लिए एक ई-मेल आईडी info.sit@mppolice.gov.in बनाई है   |  शमी ने सूचना देने वाले व्यक्ति की जानकारी को गोपनीय रखने का भरोसा दिलाया है   | उन्होंने कहा, जिन लोगों के पास वीडियो-तस्वीर या सरकारी दस्तावेज हों वे मेल कर सकते हैं, जिससे जांच में सहयोग मिलेगा  |           

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  26 September 2019

 HONEY TREAP

हनीट्रैप मामले की निष्पक्ष जाँच हो   हनीट्रैप मामले में रोज नए खुलासे होने से राजनैतिक और प्रशासनिक हलकों में हड़कंप मचा हुआ है  |  इस बीच बीजेपी  महासचिव  कैलाश विजयवर्गीय ने कहा हनीट्रैप मामले में कुछ पत्रकार शामिल हैं तो कुछ पत्रकार  इसमें मध्यस्थ की भूमिका में नजर आए  |  हनीट्रैप मामले में नित नए खुलासों के बाद यह माना जा रहा है कि अब सरकार इस मामले को ठन्डे बास्ते में डालना चाहती है  | इस बीच बीजेपी के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय के बयान ने इस मामले को नया मोड़ दे दिया है  |  विजयवर्गीय ने कहा इस मामले में आरोप प्रत्यारोप की बजाये निष्पक्ष जाँच की मांग की है और कहा है की इस में कुछ पत्रकार भी शामिल हैं  |  कैलाश विजयवर्गीय के बयान में काफी हद तक सच्चाई है इस मामले के उजागर होने के बाद |  भोपाल के चार पुरुष और तीन महिला पत्रकार भी संदेह के दायरे में हैं  | इनमे से कुछ पहले भी ऐसे ऐसे कामों में  संलग्न रहे हैं  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 September 2019

 PC SHARMA

जनसंपर्क मंत्री  पी.सी. शर्मा ने आज इंदौर के ब्रिलिएंट कन्वेंशन सेंटर का भ्रमण कर 'मेग्नीफिशिएंट मध्यप्रदेश' इन्वेस्टर समिट के आयोजन की तैयारियों का जायज़ा लिया। आयुक्त जनसंपर्क  पी. नरहरि भी इस दौरान उपस्थित थे। मंत्री  शर्मा को मध्यप्रदेश औद्योगिक विकास केंद्र, इन्दौर के एम.डी.  कुमार पुरूषोत्तम ने तैयारियों की जानकारी दी। मंत्री  शर्मा ने प्रदर्शनी स्थल और मीडिया के लिए प्रस्तावित व्यवस्थाओं की भी जानकारी ली। उन्होंने कहा कि समिट के लिये सेन्टर में बेहतर मीडिया सेंटर बनाया जाए।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 September 2019

 AKASH VIJAYVARGI

बल्ला कांड के बाद आकाश फिर सुर्ख़ियों में   अब बात आज के वीडियो वायरल की  | इंदौर नगर निगम के अधिकारी की बल्ले से पिटाई कर सुर्खियों में आए विधायक आकाश विजयवर्गीय का एक नया वीडियो वायरल हुआ है  | इस वीडियो में वो अपने समर्थकों के साथ 'नायक नहीं खलनायक हूं मैं' गाने पर डांस करते नजर आ रहे हैं  | बताया जा रहा है ये डांस प्रदानमंत्री मोदी की सालगिरह के कार्यक्रम का है |  इंदौर में  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन 17 सितंबर को भाजपा ने फन पार्टी का आयोजन किया  | इसमें विधायक आकाश विजयवर्गीय  ने क्षेत्र की जनता और बच्चों को आमंत्रित किया था  |  वहां गाने भी चल रहे थे, जिस पर सभी लोग थिरक रहे थे  | इसी दौरान खलनायक हूं मैं गाना बजाया गया  जिस पर विधायक आकाश विजयवर्गीय जमकर थिरके   | गौरतलब है कि नगर निगम अधिकारी पर क्रिकेट के बल्ले से हमले के  बाद आकाश अचानक सुर्ख़ियों में आ गए थे  | अब प्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन पर ही विधायक खलनायक वाले गाने पर डांस करते नजर आए |  भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय के खलनायक गाने पर डांस करने को लेकर पीडब्ल्यूडी मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने चुटकी ली है  |  उन्होंने कैलाश विजयवर्गीय और आकाश पर निशाना साधा है, सज्जन सिंह बोले बाप-बेटे को नाच-गाने की मंडली बना लेना चाहिए  | नाच गाने की मंडली बनाना भी जरूरी है, क्योंकि ये कमजोर पड़ रहे हैं  | सज्जन सिंह वर्मा बोले - लाइम लाइट में आने के लिए कुछ भी कर सकते हैं ये लोग |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 September 2019

 KAVI MADIK VARMA

अपने व्यंगों से धूम मचाते थे माणिक वर्मा   अपने चुटीले व्यंगों से धूम मचाने वाले देश के प्रख्यात कवि माणिक वर्मा का इंदौर में निधन को गया   | मूलतः मध्यप्रदेश के हरदा के रहने वाले माणिक वर्मा ने मंगलवार सुबह अंतिम संसा ली  |  देश के प्रख्यात कवि माणिक वर्मा का मंगलवार सुबह इंदौर में निधन हो गया  | सुबह जब परिवार के लोग उन्हें जगाने के लिए पहुंचे तब पता चला कि वे नहीं रहे   |  हरदा निवासी माणिक वर्मा  पिछले कुछ समय से वे इंदौर में ही परिवार के साथ रह रहे थे |   तबीयत खराब होने के बाद भी कविताओं को लेकर वो लगातार सक्रिय बने रहे  |  माणिक वर्मा जी अपने व्यंगों के जरिए हमेशा मंचों की शान रहे  | कुछ समय पहले ही उन्होंने राइटर्स क्लब के मंच पर कविता पाठ  किया था   माणिक वर्मा की हास्य कविताओं में छिपे व्यंग करारी चोट करते थे  उनकी प्रमुख रचनाओं में  से एक  ''मांगीलाल और मैने ''  के लोग खासे दीवाने थे  | उनके व्यंग हिला के रख देते थे  | सब्जी वाला हमें मास्टर समझता है  |  धनिया लोगे एक रूपये रत्ती | जैसी उनकी रचनाएँ हमेशा साहित्य रसिकों को उनकी याद दिलाते रहेंगे  | 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  17 September 2019

 SCINDIA

सिंधिया का इंदौर में शक्ति प्रदर्शन   मध्यप्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनने के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया प्रेशर पोलटिक्स का इस्तेमाल कर रहे हैं  | इसी सिलसिले में वे इंदौर पहुंचे और कांग्रेस के आम और ख़ास व्यक्ति से मुलाक़ात की |  सिंधिया ने कहा हर आदमी के काम हों प्रदेश का विकास हो यही उनका एजेंडा है  |  पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने  इंदौर के सभी कांग्रेस विधायकों और आम कांग्रेस कार्यकर्ताओं से मुलाक़ात की  | सिंधिया की नजर फिलहाल मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के पद पर है   | उनके समर्थक भी उन्हें अध्यक्ष बनाने के लिए एड़ीचोटी का जोर लगाए हैं   | ऐसे में सिंधिया का इंदौर में यह एक किस्म का शक्ति प्रदर्शन ही था  | जिसके जरिये उन्होंने खुद को पार्टी का एक कमान मेन साबित करने की कोशिश की   | उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओ की बात सुनी जाए और उनकी समस्याओं का निपटारा हो वह यही चाहते हैं |  इंदौर में सिंधिया ने सबकी सुनी और अपनी बात कही  | उन्होंने कहा जनता से जुड़े मुद्दों पर सरकार जल्द से जल्द फैसले कर  जनहितैषी कार्यो को पूर्ण कर जनता को लाभ दे सके  | यही सब कांग्रेस जनों की  इच्छा है  | वही प्रदेश अध्यक्ष को लेकर चल रहे घमासान पर सिंधिया ने कहा कि जो भी फैसला आलाकमान लेगा वो स्वीकार होगा  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  17 September 2019

 KAMALNATH

सांवेर देवास महू  में भी मेट्रो चलाने की मांग   इंदौर मे मेट्रो रेल की आधारशिला रखने पहुंचे  मुख्यमंंत्री कमलनाथ ने  कहा कि केंद्रीय मंंत्री रहते हुए मैंने अनुभव किया कि दिल्ली में मेट्रो चलने वाली थी उस समय यह प्रश्न था कि किस क्षेत्र को जोड़ा जाए, लेकिन फिर तय किया कि इसे शुरू कर दिया जाए फिर शहर दर शहर जोड़ते चले जाएं  |  यदि हम इस सोच में पड़ जाएंगे कि किस स्थान पर इसे चलाना है तो इसे शुरू किस तरह से किया जाएगा  |  यही बात यहां शुरू होने वाली मेट्रो रेल सेवा को लेकर भी ध्यान में रखनी होगी  |  सीएम कमलनाथ ने कहा कि इंदौर की जो जनसंख्या है वह अधिक है और इसकी कैरिंग कैपेसिटी खत्म हो रही है। यदि नोएडा नहीं बना होता, गुड़गांव नहीं बना होता तो दिल्ली का क्या होता  | मुंबई में थाणे को विकसित किया गया | इसी प्रकार इंदौर और राज्य में होने वाले विकास को लेना होगा  |   उन्होंने इस दिशा में सुनियोजित विकास करनेे पर बल दिया  |  इंदौर में मेट्रो रेल प्रोजेक्ट के शिलान्यास समारोह में राज्य के मंत्री जयवर्धन सिंह, तुलसी सिलावट, सज्जन वर्मा, जीतू पटवारी आदि मौजूद थे  |  समारोह में सांसद शंकर लालवानी भी शामिल हुए  | इस अवसर पर मंत्ती जयवर्धन सिंह ने ब्रिलियन्ट कन्वेेंशन सेंटर में कहा कि 8 साल पहले 2011 में इंदौर मेट्रो की डीपीआर तैयार की गई थी  |  उस समय नगरीय विकास मंत्री बाबूलाल गौर थे और केंद्रीय मंत्री कमलनाथ थे  |  उस समय भी कमलनाथ ने इंदौर मेट्रो को लेकर कोशिश की थी  |  उन्होंने देश के अन्य शहरों में भी मेट्रो रेल स्थापित करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया लेकिन यह तो उपरवाले का करिश्मा है कि इंदौर मेट्रो का भूमिपूजन भी तब हुआ जब राज्य के सीएम कमलनाथ हैं  |  उन्होंने बताया कि मेट्रो रेल के लिए पूरे शहर को सर्कल फेस में लिया गया है  |  हालांकि सांवेर, देवास, महू अन्य शहरों में भी मेट्रो चलाने की मांग नेताओं ने की  | उन्होंने आश्वासन दिया कि परियोजना की शुरूआत के बाद इस दिशा में प्रयास किए जाएंगे  |  राज्य के मंत्री जीतू पटवारी ने कहा कि राज्य सरकार विकास के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है  |  उन्होंने हुकूमचंद मिल के कर्मचारियों के हितों में आवश्यक कदम उठाने की मांग सीएम कमलनाथ से की  |  इंदौर के सांसद शंकर लालवानी के कहा कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट को बढ़ावा मिले ऐसे प्रयास शहर में होते रहे हैं  |  यहां मेट्रो की भी आवश्यकता है  |  तत्कालीन सीएम ने इसके लिए प्रयास किेए थे  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  14 September 2019

 DAVV GANESH

गणपति बप्पा के स्वागत में नाचे स्टूडेंट    इंदौर में गणेशोत्सव की धूम है  | आज सुबह सबसे पहले नाचते गाते विद्यार्थी सड़कों पर निकले पर  और गणपति बप्पा को लेकर देवी अहिल्या विश्वविद्यालय परिसर में लेकर आये और उनकी स्थापना की  |   खंडवा रोड स्थित देवी अहिल्या विश्वविद्यालय में गणेश चतुर्थी पर भगवान गणेश का आगमन हुआ  |  यूनिवर्सिटी कैंपस के सभी स्टूडेंट ने बप्पा का स्वागत नाच-गाकर किया |  यहां अलग-अलग डिपोर्टमेंट में गणेश प्रतिमाओं की स्थापना की गई है  |  सभी डिपोर्टमेंट के स्टूडेंट्स में गणेश उत्सव को लेकर काफी उत्साह नजर आ रहा है  | सभी  स्टीडेंट गणेश उत्सव के लिए  ट्रेडिंशन ड्रेस में  पहुंचे और नाचते गाते गणपति बप्पा को लेकर विश्विद्यालय पहुंचे |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  2 September 2019

 CONGRESS

राजीव के सुधारों को ही नहीं मान रही कांग्रेस राजीव के संशोधनों की धज्जियां उड़ाती कांग्रेस    नगरीय निकायों में महापौर और अध्यक्षों का चुनाव पार्षदों द्वारा किए जाने और पार्षदों के चुनाव गैर दलीय आधार पर कराए जाने की सिफारिश का बीजेपी ने विरोध किया है  |  बीजेपी नेता कृष्ण मुरारी मोघे ने कहा कि राजीव गाँधी ने नगरीय निकायों और पंचायतों में सुधार के लिए जो काम किया था  | कांग्रेस उन्हीं  की धज्जियां उड़ा रही है |  मधयप्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव को लेकर राज्य सरकार द्वारा मंत्री सज्जन सिंह वर्मा की अध्यक्षता में गठित समिति ने अपनी रिपोर्ट राज्य सरकार को दे दी है  | समिति ने नगरीय निकायों में महापौर और अध्यक्षों का चुनाव पार्षदों द्वारा किए जाने और पार्षदों के चुनाव गैर दलीय आधार पर कराए जाने की सिफारिश की है  | इसे लेकर भाजपा के वरिष्ठ नेता और इंदौर के पूर्व महापौर कृष्ण मुरारी मोघे ने कड़ी आपत्ति  जाहिर की  है | मोघे इस मामले में भाजपा द्वारा गठित राज्य स्तरीय समिति के अध्यक्ष भी हैं  | मोघे ने कहा कि राज्यपाल की अनुमति के बाद ही परिसीमन कराया जा सकता है लेकिन राज्य सरकार ने परिसीमन के लिए राज्यपाल की अनुमति नहीं ली है   | मोघे ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने ही नगरीय निकायों और पंचायतों में सुधार के लिए एक्ट में 73 वां एवं 74वां संशोधन किया था  |  कांग्रेस उन्हीं संशोधनों की धज्जियां उड़ा रही है |  मोघे ने कहा कि प्रत्यक्ष चुनाव होने से महापौर और अध्यक्ष जनता के प्रति जवाब देह होते हैं जब महापौर और अध्यक्ष का चुनाव पार्षदों द्वारा किया जाता था तब क्या क्या होता था हम सबने देखा है  |     

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  30 August 2019

 OLA CAB

ड्राइवरों को पुलिस ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा   इंदौर कलेक्ट्रेट  में प्रदर्शन करने पहुंचे ओला कैब के ड्राइवरों पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर  भगाया  |  कलेक्ट्रेट में अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन करने आये ड्राइवरों में से जब एक ने आत्मदाह करने के लिए घासलेट डाला तो पुलिस ने इन ड्राइवरों को तितिर बितिर करने के लिए लाठीचार्ज किया  |  कलेक्ट्रेट में पुलिस ने टैक्सी ड्राइवरों पर लाठीचार्ज किया  |   जिसमें कई ड्राइवर घायल हो गए  |  दरअसल ओला कैब ड्राइवर अपनी मांगों को लेकर कलेक्ट्रेट कार्यालय में प्रदर्शन कर रहे थे  |  इस दौरान एक ऑटो ड्राइवर ने आत्मदाह करने के लिए घासलेट डाल दिया  | इसके बाद कलेक्ट्रेट कार्यालय में अफरा-तफरी मच गई और भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया  |  पुलिस ने ऑटो ड्राइवरों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा  |  इस दौरान कई ड्राइवर गिर गए  |  इसके बाद भी पुलिस उन्हें पीटती रही | 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  26 August 2019

 CANARA BANK

ब्रांच मैनेजरों के सुझाव भेजे जायेंगे वित्त मंत्रालय     भारत सरकार की वित्तीय सेवा के निर्देशानुसार  ,  सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में शाखा की  प्रगति हेतु  परामर्श एवं विचार विमर्श कार्यशाला का  आयोजन किया गया   | इस मौक पर बैंकिंग क्षेत्रों की चुनौतियों पर विचार-विमर्श किया गया  |  सभी बैंकों के ब्रांच मैनेजरों ने बैंक की प्रगति के लिए  अपने विचार  रखे   |  इंदौर में  सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने बैंको के विकास और प्रगति को लेकर  विचार विमर्श  किया   | आयोजन में बैंकिंग क्षेत्र में आ रही  चुनौतियों के बारे में शाखा प्रबंधकों से राय ली गई  | चर्चा में बताया गया की  नियमों का सरलीकरण किया जाएगा और ग्राहकों का विश्वास बैंको के प्रति बढे यह प्रयास किया जाएगा  |  सुझाव एवं परामर्श देने के लिए ब्रांच मैनेजरों की शहर में अलग-अलग स्थानों पर बैठक हुई  | कार्यक्रम के तहत अपने अंचल अधीन सभी शाखा प्रमुखों ने अपनी राय राखी  |  केनरा बैंक ने ब्रिलिएंट कन्वेंशन में केनरा बैंक की राष्ट्रीय स्तर की बैठक का आयोजन किया   | और समस्याओं को लेकर विचार विमर्श किया  |  केनरा  बैंक भोपाल अंचल के महाप्रबंधक राहुल भावे ने बताया की हमारा प्रयास रहेगा की हम अपनी सेवाएं गांव गांव तक पहुंचाएं  | और इसके लिए एक मॉडल भी तैयार किया जा रहा है  |  केनरा बैंक की कार्यपालक निदेशक ए मनिमेख्लाई ने बताया की   | यह पहली बार है जब ब्रांच के विचार और सुझाव  को लिया जा रहा है  |   शाखा प्रमुखों के विचारों का डेटा कलेक्ट कर वित्त मंत्रालय भेजा जायेगा  |  सरकार को यदि कोई आइडिया पसंद आएगा तो उस पर नीति-नियम बनाकर अमल शुरू किया जाएगा  |  मुद्रा ऋण, कृषि ऋण, शिक्षा ऋण, एमएसएमई ऋण पर खास जोर दिया जाएगा  |

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  20 August 2019

 TULSI SILAWAT

जांच के बाद  दोषियों पर होगी सख्त कार्यवाई    इंदौर आई हॉस्पिटल में मोतियाबिंद ऑपरेशन में 11 लोगों की आँखों की रोशनी जाने के बाद  स्वस्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसी सिलावट ने अस्पताल का लाइसेंस रद्द कर fir दर्ज करने के निर्देश जारी किये है  | सिलवाट ने कहा की उच्च स्तरीय कमेटी इसकी जांच करेगी   | और  दोषी पाए जाने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाई की जाएगी   |    स्वास्थय एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसी सिलावट ने इंदौर आई हॉस्पिटल का लाइसेंस रद्द कर FIR दर्ज करने के निर्देश जारी किये हैं  |  सिलावट ने यह कदम हॉस्पिटल में मोतियाबिंद का ऑपरेशन कराने आये 11 लोगों की आँखों की रोशनी जाने के बाद उठाया  |  तुलसी सिलावट ने कहा की गंभीर मामला है |  उच्च स्तरीय कमेटी बनाकर इसकी जांच कराई जाएगी  | इसमें जो भी दोषी पाया जायेगा उसके खिलाफ सख्त कार्यवाई की जाएगी  |  तुलसी सिलावट ने बताया की चेन्नई के शंकर हॉस्पिटल से नेत्र चिकित्सक बुलाये जा रहे  हैं | सरकार का प्रयास है की इन लोगों के आँखों की रोशनी वापस लाइ जा सके  | उधर  कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने अस्पताल के गेट पर प्रदर्शन किया  |  कार्यकर्ताओं ने  पुलिस और प्रशासन से मांग की है कि अस्पताल का लाइसेंस हमेशा के लिए रद्द कर दिया जाय   |       

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 August 2019

 ATANKI GIRAFTAR

आतंकवादी  ठेकेदार के पास मजदूर बन छिपा हुआ था  एनआईए के अफसरों ने ठेला लगाकर रेकी की    जमात-उल-मुजाहिद का आतंकी जहीरुल शेख उर्फ जाकिर दो वर्षों से ठिकाने बदलकर रह रहा था |   जांच एजेंसियों से बचने के लिए वह मोबाइल का बहुत कम उपयोग करता था  |  एनआईए की टीम पांच दिन पूर्व उसका पीछा करते हुए इंदौर पहुंची और सब्जी बेचने के बहाने ठेला लगाकर संकरी गलियों में रेकी की  जैसे ही जाकिर के आने-जाने और ठहरने की पुख्ता जानकारी हाथ लगी, उसे दबोच लिया |  धमाकों की जांच कर रहे एनआईए  के इन्स्पेक्टर दिवाकर मिश्रा आतंकी जहीरुल शेख की चार साल से तलाश कर रहे थे  |  दो वर्ष पूर्व जानकारी मिली कि वह इंदौर में छिपा है  |  करीब दो महीने पूर्व उसके एक रिश्तेदार के मोबाइल में उसका भी नंबर मिला, लेकिन वह बार-बार लोकेशन बदल लेता था  |  कभी खंडवा रोड, नेमावर रोड और कभी आजाद नगर क्षेत्र में लोकेशन मिल रही थी।  पांच दिन पूर्व मिश्रा की टीम इंदौर पहुंची और मीना पैलेस व कोहिनूर कॉलोनी में सब्जी का ठेला लगाकर शेख के रेकी करना शुरू की  | सोमवार को पता चला कि वह शाकिर खान के मकान में ठहरा हुआ है |  यह मकान पश्चिम बंगाल निवासी महरुल मंडल ने किराए पर लिया है  |  मंडल मकान बनाने के ठेके लेता है   |  शेख उसके पास मजदूर बनकर छिपा  था  |  ईद पर लोगों की आवाजाही देख एजेंसी ने उसे कोहिनूर कॉलोनी में नहीं पकड़ा और उसके पीछे-पीछे खंडवा रोड तक पहुंच गई।  जैसे ही मौका मिला, उसे हिरासत में लेकर आजाद नगर थाने के सुपुर्द कर दिया  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  16 August 2019

 SWASTH MANTRI INAM

मिलावट की जानकारी देने पर 11 हजार का इनाम    मिलावट खोरो पर स्वस्थ मंत्री अब सख्त हो गए हैं   एक कार्यक्रम में मंत्री ने कहा की अगर कही भी मिलावट होती हैं  और जो भी इसकी जानकारी देगा उसकी पहचान छुपाई जाएगी   साथ ही 11 हजार का इनाम भी दिया जाएगा      स्वास्थ्य मंत्री ने साफ़ शब्दों ने कहा  हैं  मिलावट की जानकारी देने वाले को 11 हजार का इनाम दिया जायेगा  मध्यप्रदेश में लगातार मिलावट की खबरे सामने आती हैं  और छापा पड़ने पर कई बार बड़ी खेप पकड़ी जाती हैं   ये मिलावट खोर लोगो के स्वस्थ से खिलवाड़ करते हैं कई बार लोगो की जान पर आ जाती हैं  ऐसी मिलावट खोरी को रोकने के लिए   इंदौर में  मध्यप्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने एमवाय अस्पताल में निरीक्षण करने के दौरान कहा  है    कि मिलावटखोरी की जानकारी देने वाले को 11 हजार रुपए का इनाम दिया जाएगा  जानकारी देने वाले का नाम भी गुप्त रखा जाएगा   स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट इंदौर के पीसी सेठी अस्तपाल में नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई का लोकार्पण करने गए थे    इस दौरान उन्होंने यहां भर्ती मरीजों का हाल जाना और उनके परिजनों से भी बात की          

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  2 August 2019

  PRABHU CHAUHAN

बहू भी है इंदौर में ही पुलिस अधिकारी   इंदौर में पदस्थ रही सीएसपी प्रभा चौहान को उनकी बहू ने  जमकर पीटा प्रभा की बहू भी है इंदौर में ही पुलिस अधिकारी है  एमवाय अस्पताल में मेडिकल के दौरान  प्रभा चौहान खूब रोईं  इंदौर में करीब दो वर्ष पहले कोतवाली सीएसपी रही प्रभा चौहान घरेलू हिंसा का शिकार हो गयी    प्रभा चौहान देर रात एमवाय अस्पताल मेडिकल के लिये पहुँची  प्रभा का आरोप है की उनकी बहू उसकी बहन और माँ ने उनके साथ मारपीट की है   पूर्व सीएसपी के हाथ पैर और मुह पर चोट आई है  ... प्रभा की  जिस बहु पर मारपीट का आरोप लगाया है वो इंदौर के बाणगंगा थाने पर पदस्थ है   एमवाय अस्पताल आई प्रभा चौहान इतनी डरी हुई थी कि वह भी रोती रहीं    पूरे मामले में पर पुलिस के  वरिष्ठ अधिकारीयों की नजर है    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  29 July 2019

 AAG

स्टोर में रखा सामान और रिकॉर्ड हुआ स्वाहा    इंदौर नगर निगम में इस समय तमाम घोटालों से जुड़े कागजात तलाशे जा रहे हैं  इस बीच नगर निगम के स्टोर में  अचानक भीषण आग लग गई  आशंका जताई जा रही है इस आगजनी में नगर निगम का तमाम रिकॉर्ड और सामान जलकर ख़ाक हो गया  इंदौर में तमाम सारे घोटालों से जुड़े दस्तावेज तलाशने के लिए सरकार ने निर्देश दिए थे  इस बीच अचानक इंदौर नगर निगम के स्टोर रूम  में गुरुवार दोपहर आग लग गई  कुछ ही समय में यह तेजी से फैल गई  आग लगने के बाद इसकी पलटें और धुंआ खिड़कियों से बाहर निकलने लगा  इस दौरान वहां मौजूद लोग अपने वाहनों को लेकर बाहर की ओर भागे   बताया जा रहा है इस  घटना में स्टोर रूम में रखे सामन के साथ कुछ रिकार्ड भी जल गया है  यह आग लगी या लगाईं गई अब इस बात की जांच होना है    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 July 2019

 AWED HOSTEL

दो निर्माणाधीन अवैध हॉस्टल तोड़े     बिल्डिंग जर्जर हो या अवैध निर्माण हो  नगर निगम की कार्यवाही दिन पर दिन सख्त होती जा रही हैं। शहर के सभी अवैध निर्माण एक -एक कर तोड़े जा रहे हैं  इसी कार्यवाही की मुहीम ने शहर के दो निर्माणाधीन अवैध हॉस्टल गिरा दिए गए हैं    इंदौर नगर निगम ने शहर में अवैध इमारतों पर कार्रवाई तेज कर दी है  निगम की टीम ने सर्वानंद नगर में दो निर्माणाधीन अवैध हॉस्टल को हटाने की कार्रवाई की  पिछले दिनों निगमायुक्त आशीष सिंह ने अवैध हॉस्टर को हटाने के निर्देश दिए थे  कार्रवाई से पहले इलाके की बिजली सप्लाई बंद कर दी गई फिर निगम की जेसीबी ने इमारत की दीवारों को तोड़ा  सर्वानंद नगर में 37-डी प्लॉट पर दीपक जगवानी और 4-सी पर आशा भाटिया ने अवैध रूप से इमारत बना ली थी  निगम ने पहले इन्हें 18 जुलाई को तोड़ने की योजना बनाई थी  लेकिन उस दिन कार्रवाई टल गई थी  इसके अलावा निगम ने 20 जुलाई को ब्रह्मपुरी में श्याम खत्री के अवैध निर्माणाधीन हॉस्टल को भी तोड़ने की योजना बनाई थी  सर्वानंद नगर और विष्णुपुरी में धड़ल्ले से अवैध निर्माण कर हॉस्टल व व्यावसायिक प्रतिष्ठानों का निर्माण हो रहा है   निगम ने पूर्व में यहां के सात निर्माणाधीन भवनों के मालिकों को नोटिस दिया था   वंही इस क्षेत्र में 22 अवैध निर्माणाधीन भवन चिन्हित कर उन्हें नोटिस जारी किया।  इस तरह निगम इस क्षेत्र में 29 अवैध भवनों पर कार्रवाई करेगी      

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  24 July 2019

 0ld House Break

गली में बड़ी मुश्किल से घुसी जेसीबी    इंदौर में नगर निगम ने आज फिर एक जर्जर मकान को तोड़ा  ये मकान तक़रीबन डेढ़ सौ साल पुराना था और सकरे रास्ते में बमुश्किल जेसीबी मशीन मकान को तोड़ने पहुँच पाई   इंदौर के बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय के बल्ला काण्ड के बाद  नगर निगम बेहद सावधानी से अपने काम को अंजाम दे रहा है   एक जर्जर मकान को तोड़ने के लिए  धान गली की छोटी  गली में घुसने के लिए जेसीबी को भी काफी मशक्कत करना पड़ी   नगर निगम ने शहर के जर्जर मकानों को गिराने का अभियान चलाया है   इसी के तहत सोमवार को निगम की टीम ने छोटा सराफा की धान गली में एक 150 साल पुराना मकान गिरा दिया  यह मकान प्रकाश सोनी के नाम से है   कुछ समय पहले तक वे इसकी ऊपरी मंजिल में रहते थे, लेकिन मकान के जर्जर होने के बाद उन्होंने इसे छोड़ दिया  धान गली की छोटी गली का यह मकान तमाम लोगों के लिए खतरा बना हुआ था 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 July 2019

  BUILDING BLAST

विस्फोट कर उड़ाया गया भवन    इंदौर के कल्पकामधेनु नगर में ग्रीन बेल्ट की जमीन पर बनी इमारत को विस्फोट से ढहा दिया गया है  अवैध निर्माण हटाओ मुहिम के तहत की गई इस कार्रवाई में  जेसीबी की मदद से पहले बिल्डिंग की निचली दीवार को तोड़ा गया और उसके बाद बारूद से ब्लास्ट कर इसे गिरा दिया गया  इंदौर में कुछ बड़े अधिकारीयों और नेताओं की मिलीभगत से ग्रीन बैल्ट पर बनी एक अवैध ईमारत को विस्फोट कर गिरा दिया गया  प्रशासनिक लापरवाही का सबूत इस इमारत को टूटने से बचाने के लिए इंदौर के कुछ सरकारी दलाल पिछले पांच महीने से मशक्क्त कर रहे थे  इसके पहले सोमवार को इमारत के कुछ हिस्सों को तोड़ा गया था  कल्पकामधेनु नगर में बने 29-ए प्लॉट पर करीब सालभर पहले से चार मंजिला इमारत का निर्माण किया जा रहा था   इस भवन के मालिक हरमिंदर होरा व मंजीत कौर होरा हैं   निगम के जोन नंबर सात के भवन निरीक्षक सुरेश चौहान के मुताबिक निगम द्वारा निर्माणाधीन इमारत को अवैध घोषित कर तोड़ने की कार्रवाई करीब पांच महीने से चल रही थी  इस बीच  बिल्डिंग मालिक को अब तक करीब 10 नोटिस जारी किए जा चुके थे  लेकिन उन्होंने कोई समुचित कार्यवाही नहीं की  तो  सात जुलाई को उन्हें आखिरी नोटिस दिया गया  और मंगलवार  दोपहर करीब एक बजे धमाका कर इसे गिरा दिया गया   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  16 July 2019

 GST RAID

अधिकारी और सीए कर रहे थे ब्लैकमेल    जावरा कंपाउंड में रहने वाले 48 वर्षीय कर सलाहकार ने  इमारत की छत से कूदकर आत्महत्या कर ली   सात दिन पहले उनके घर जीएसटी टीम ने छापामार कार्रवाई की थी  अधिकारियों ने उनके ऑफिस को सील कर दिया और रोजाना देर रात तक पूछताछ के लिए बुलाते थे   जब उन पर  पत्नी से पूछताछ का दबाव बनाया तो उन्होंने आत्महत्या कर ली  कर सलाहकार के परिजनों  ने दो सीए और अधिकारियों पर ब्लैकमेलिंग का आरोप लगाया है कृष्णा अपार्टमेंट जावरा कंपाउंड  की  दूसरी मंजिल पर रहने वाले 48 वर्षीय गोविंद अग्रवाल ने बिल्डिंग से कूद कर खुदकशी की कोशिश की  उन्हें  गंभीर अवस्था में गीताभवन चौराहा स्थित निजी अस्पताल में भर्ती किया गया   पुलिस अस्पताल पहुंची, तब तक डॉक्टर उन्हें मृत घोषित कर चुके थे   मृतक के बेटे उमेश  ने बताया कि पिछले शुक्रवार को सुबह करीब 12 बजे चार जीएसटी अधिकारी आए थे  उन्होंने सर्च वारंट बताया और घर की तलाशी शुरू कर दी   उस वक्त गोविंद घर पर नहीं थे   करीब दो घंटे बाद जब घर पर आए तो अधिकारियों ने शाम पांच बजे तक पूछताछ की और दस्तावेज जब्त कर ले गए  बेटे उमेश के अनुसार पिता को कूदते किसी ने नहीं देखा    घटना के समय मां आरती पौधे में जल अर्पित करने गई थी   जोर से धड़ाम की आवाज सुनकर दौड़ीं तो पिता गलियारे में गमले पर गिरे हुए थे   एसआई कुशवाह के अनुसार बालकनी की ऊंचाई करीब 5 फीट है   यहां से गिरना संभव नहीं है   इससे यह तो स्पष्ट है कि उन्होंने आत्महत्या ही की है   राज्य जीएसटी आयुक्त डीपी आहूजा का कहना है कि 5 जुलाई को विभाग ने 30 फर्मों-कंपनियों पर जांच शुरू की थी   प्रारंभिक जांच में करीब 250 करोड़ के बोगस बिलों के जरिए करीब 50 करोड़ रुपए के कर अपवंचन के तथ्य विभाग को मिले हैं  जांच के दायरे में आई कंपनियों में से एक गोविंद अग्रवाल की पत्नी के नाम से रजिस्टर्ड है   उनके साथ जो हादसा हुआ है, वह दुर्भाग्यपूर्ण है   अब तक न तो अग्रवाल, न ही उनकी पत्नी को विभाग ने बयान के लिए बुलाया, न ही टैक्स आदि की कोई मांग निकाली थी  सीधे तौर पर उनकी संलिप्तता की बात भी सामने नहीं आई है        

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  12 July 2019

Good father

 आरोपित ने  अफसरों-नेताओं को फोन लगाकर मांगी फिरौती  आरोपित का नाम राजरतन है  आरोपित जो फिरौती के लिए मैसेज करता था उसे पहले से ही एक पर्ची पर लिख कर  रख लिया करता था  Race-2 फिल्म देख नाम बना 'गॉड फादर', अफसरों-नेताओं को फोन लगाकर मांगी फिरौती  पूर्व विधायक सत्यनारायण पटेल को एसएमएस व कॉल कर 50 लाख की प्रोटेक्शन मनी मांगने वाले आरोपित ने इंदौर कमिश्नर सहित कांग्रेस नेता और निगम अफसर से 25 लाख रुपए मांगना कबूला है। आरोपित की बहन नगर निगम के बगीचे में काम करती है। वह विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस नेता के कार्यालय से नेताओं और अफसरों के नाम व नंबरों की सूची ले गई थी। आरोपित ने उसमें से फिरौती के लिए नामों का चुनाव किया। आरोपित ने रेस-2 फिल्म देखकर खुद का नाम 'गॉड फादर" रखा था। वह जो मैसेज करता था, उसकी लाइन पर्ची पर लिखकर रख लेता था। क्राइम ब्रांच एएसपी अमरेंद्र सिंह के मुताबिक, आरोपित का नाम राजरतन (24) पिता अनिल तायड़े निवासी नर्मदा प्रोजेक्ट स्टोर आजाद नगर है। वह 12वीं तक पढ़ा है और मार्शल आर्ट्स की क्लास चलाता है। पूछताछ में उसने कबूला कि वह रुपए वसूल कर अमीर बनना चाहता था। इसके लिए सात माह से तैयारी में जुटा था। बहन कांग्रेस नेता शेख अलीम का चुनाव कार्यालय संभालती थी। विधानसभा चुनाव के दौरान शेख पूर्व विधायक पटेल के प्रचार-प्रसार में जुटे हुए थे। आरोपित ने बहन के बैग से एक सूची निकाली, जिसमें अफसर और नेताओं के नाम व नंबर लिखे थे। उसी से वह लोगों को धमकाने लगा।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 July 2019

vivadit makaan toda

आकाश के बल्लेबाजी की वजह बना माकन टूटा   बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय ने जिस मकान को टूटने से बचाने के लिए नगर निगम अधिकारी पर बल्ला चलाया था  नगर निगम ने उस विवादस्पद मकान को जमींदोज कर दिया है   उस मकान में रहने वालों को दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया गया है    नगर निगम रोड गंजी कंपाउंड स्थित विवादित मकान को तोड़ने की कार्रवाई शुक्रवार सुबह शुरू  हुई     निगम ने कार्रवाई की सूचना जिला प्रशासन को दे दी थी   जिसके बाद बड़ी संख्या में पुलिस बल की मौजूदगी में दो मंजिला मकान जेसीबी की मदद से गिराया गया  मौके पर 4 पुलिस थाना और एक महिला थाने  के 5 टीआई, रिजर्व बल सहित 100 पुलिसकर्मी मौजूद थे   नगर निगम के भवन अधिकारी असित खरे भी यहां मौजूद थे, जिनका उस दिन विधायक आकाश विजयवर्गीय से विवाद हुआ था  निगम के बिल्डिंग ऑफिसर असित खरे ने बताया कि मकान में रहने वाले एक किराएदार भेरूलाल श्रीवंश ने खुद संपर्क कर फ्लैट की चाबी ली जबकि बुधवार को वह नहीं मिला तो निगम अधिकारियों ने उसके बेटे के  घर पर जाकर नोटिस दिया था   जर्जर मकान में उनका जो सामान रखा था, उसे निगम के डंपर की मदद से भूरी टेकरी स्थित शहरी गरीबों के फ्लैट  में शिफ्ट कर दिया गया है   किराएदार ने स्थायी रूप से फ्लैट लेने की इच्छा जताई तो उसे कहा गया है कि फ्लैट खरीदने के लिए फॉर्म भरना होगा और छह-सात लाख रुपए देने होंगे   आज जब इस मकान को तोड़ा जा रहा था तो दूर दूर तो कोई नेता नजर नहीं आया     

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  5 July 2019

aakash vijayvargiye

5 गोलियां चलने से क्षेत्र में सनसनी भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे और भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय को निगम अधिकारी की पिटाई मामले में  जमानत मिलने के बाद भाजपा समर्थकों ने. शाम नेहरू स्टेडियम के सामने स्थित विधायक कार्यलय पर हवाई फायर किये  कार्यालय के बाहर पांच फायर किए गए निगम अधिकारी की पिटाई मामले में  आकाश विजयवर्गीय को जमानत मिलने के बाद विधायक समर्थकों का उत्साह इस कदर था की समर्थकों ने विधायक कार्यालय के सामने हवाई फायर किये आकाश समर्थकों ने  कार्यालय के बाहर पांच फायर किए गए जिससे क्षेत्र में सनसनी फैल गई   विधायक को  जमानत मिलने  के बाद  समर्थकों  की खुशी सिर  चढ़कर बोली समर्थकों ने  एक के बाद एक पांच गोलियां चलाई गोलियों की आवाज क्षेत्र में गूंज गई जिसके साथ ही गोली चलने से निकलने वाला धुआं भी आसमां की ओर बढ़ता हुआ नजर आया 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  1 July 2019

370

    पंडित नेहरू ने ये धारा लगाई थी भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने  एक बड़ा बयान दिया है | उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाई जाएगी   धरा 370 को लेकर देश में इस समय जोरदार बहस चल रह है बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी की 66वीं पुण्यतिथि पर विजयनगर चौराहे पर उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण करने पहुंचे थे | विजयवर्गीय ने कहा कि डॉ. मुखर्जी की जम्मू कश्मीर में संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी | श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने कहा था कि जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाई जानी चाहिए, ये अलगाववादी धारा है | पंडित जवाहर लाल नेहरू ने ये धारा लगाई थी, लेकिन अब केंद्र की भाजपा सरकार इसे हटाएगी उधर, विजयवर्गीय के बयान पर पलटवार करते हुए प्रदेश के शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी ने कहा कि कश्मीर से धारा 370 हटाने के नाम पर भाजपा ने वोट मांगे, अब उसे यह धारा हटानी चाहिए

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 June 2019

indore

  परिवार की मर्जी के खिलाफ की थीशादी मध्‍यप्रदेश के इंदौर जिले में ऑनर किलिंग का मामला सामने आया है | बेटमा के पास रावद गांव में एक भाई ने अपनी बहन को मौत के घाट उतार दिया |  बहन ने परिवार की मर्जी के खिलाफ एक युवक से शादी की थी | एक भाई ने अपनी बहन की गोली मारकर हत्‍या कर दी | गोली मारने के बाद भाई  ने थाने पहुंच कर खुद को पुलिस के हवाले कर दिया |  आरोपी भाई  नाबालिग है | यह घटना रावद की है | युवती को इलाज के लिए पहले इंदौर के एम वाय अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई | देपालपुर एसडीओपी आर के राय के अनुसार रावद निवासी आरोपी की बड़ी बहन बुलबुल ने लगभग 6 माह पहले गांव के ही कुलदीप राजावत से प्रेम विवाह किया था | वह उसी के साथ पीथमपुर में रह रही थी | आज वह अपने पति के साथ अपने ससुराल मिलने हेतु आई थी  | इसी दौरान भाई ने उसके ससुराल पहुंचकर घर के पीछे आंगन में बैठी बहन के सिर में गोली मार दी और वहां से थाने आ पहुंचा |  पुलिस मामले की जांच कर रही है |  बड़ी बहन द्वारा राजपूत समाज के लड़के से लव मैरिज कर लेने से छोटा भाई काफी व्यथित और नाराज था और उसने इसे परिवार की इज्जत से जोड़ लिया था |  बहन के आने की भनक लगते ही नाबालिग भाई बहन के ससुराल पहुंच गया और घर के पीछे आंगन में बैठी बहन बुलबुल के सिर में गोली मार दी |  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 June 2019

प्रदर्शनकारियों ने इंदौर में रोकी ट्रेन

इंदौर के लक्ष्मीबाई नगर रेलवे स्टेशन पर ट्रेन स्टॉपेज की मांग को लेकर रविवार सुबह बड़ी संख्या में लोग रेल रोकने पहुंचे। इंदौर। इंदौर के लक्ष्मीबाई नगर रेलवे स्टेशन पर ट्रेन स्टॉपेज की मांग को लेकर रविवार सुबह बड़ी संख्या में लोग रेल रोकने पहुंचे। लोगों का कहना है कि यहां ट्रेन का स्टॉपेज बहुत कम समय के लिए होता है, जिससे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसी के साथ कई ट्रेनों का यहां स्टॉपेज है ही नहीं। इस दौरान लोगों ने ट्रेन रोक ली और इंजन पर चढ़ गए, इंदौर-भोपाल फास्ट पैसेंजर एक मिनट तक रुकी रही। इसके बाद पुलिस ने सभी को इंजन से नीचे उतार लिया। रेलवे स्टेशन पर बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात रहा। स्टेशन के चारों ओर पु‍लिस का कड़ा पहरा है, इसके बाद भी लोग ट्रेन रोकने पर अड़े हुए हैं। इसे रोकने के लिए एडीएम और तहसीलदार भी मौके पर पहुंच गए हैं। रेल रोको आंदोलन करने वालों के साथ कांग्रेस नेता कमलेश खंडेलवाल भी मौजूद हैं।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  15 July 2018

यूनाइटेड अरब अमीरात

   मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने नई दिल्ली में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी से उनके निवास पर मुलाकात की। मुलाकात के दौरान यूनाइटेड अरब अमीरात का प्रतिनिधि-मंडल भी मौजूद था। बैठक प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में बुलाई गयी थी, जिसमें मध्यप्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र राज्य के मुख्यमंत्रियों को चर्चा के लिए बुलाया गया था। बैठक में यू.ए.ई. के साथ इन राज्यों में व्यापार की संभावनाओं पर विचार किया गया।  बैठक में मध्यप्रदेश द्वारा प्रजेन्‍टेशन के माध्यम से प्रदेश में उद्योग, कृषि और व्यापार की अपार संभावनाओं के बारे में विस्तार से बताया गया। साथ ही निर्यात की संभावनाओं को भी तलाशा गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश में पिछले कई वर्षों से कृषि उत्पादन दर 20 प्रतिशत से अधिक रही है। शरबती गेहूँ, दालों और मसालों का रिकार्ड उत्पादन हुआ है। उद्यानिकी के क्षेत्र में भी मध्यप्रदेश ने कीर्तिमान स्थापित किये हैं। श्री चौहान ने कहा कि यू.ए.ई. से हमारे देश के बेहतर संबंध रहे हैं।  मुख्यमंत्री ने आशा व्यक्त की कि संबंधों को और अधिक मजबूत बनाने की दिशा में इस बैठक से नई कड़ी जुड़ेगी। मध्यप्रदेश में कृषि निर्यात प्रमोशन एजेंसी श्री चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश सरकार ने कृषि निर्यात प्रमोशन एजेंसी बनाई है, जो प्रदेश के उत्पादों का अन्य देशों में निर्यात करने की संभावनाएँ तलाशेगी। इसके लिए राज्य सरकार ने एक टास्क फोर्स गठित की है, जिसमें राज्य सरकार और यू.ए.ई. के पाँच-पाँच सदस्य होंगे। यह फोर्स प्रदेश भर में कार्यशालाएँ आयोजित करेगा और निर्यात किये जाने वाले उत्पादों की संभावनाओं को तलाशेगा। इसके साथ ही यू.ए.ई. से एक कांट्रेक्ट फार्मिंग करारनामा किया गया है, जिसके तहत किसान अपने उत्पाद को मण्डी के बाहर भी सीधा विदेशों में निर्यात कर सकता है। मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य सरकार ने इंदौर के पास विशेष निर्यात जोन (एस.ई.जेड) खोलने का प्रस्ताव दिया है। जोन में विभिन्न प्रकार के करों में छूट दी जायेगी। राज्य सरकार द्वारा खाद्य प्र-संस्करण की नीति बनाकर केबिनेट से पारित करवाई गई है। नीति के जरिये किसान खाद्य प्र-संस्करण यूनिट खोल सकेंगे, अपने उत्पादों को निर्यात कर सकेंगे और मुनाफा कमा सकेंगे।  28 मई से 9 जून तक प्रदेश में किसान कार्यशालाएँ मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि आगामी 28 मई से 9 जून तक प्रदेश के विभिन्न अंचलों में किसानों की कार्यशाला आयोजित की जायेगी। कार्यशालाओं में किसानों को योजनाओं के बारे में जानकारी दी जायेगी, ताकि वे योजनाओं का भरपूर फायदा प्राप्त कर सकें।    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  3 May 2018

ias अशोक शाह

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान की पहल पर सामाजिक रूप से पिछड़े और शारीरिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों को विकास की मुख्य-धारा से जोड़ने के प्रदेश सरकार के प्रयासों को राष्ट्रीय-स्तर पर भी सराहा गया है। प्रदेश को अनेक राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा भी गया है। सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण विभाग के माध्यम से 55 लाख जरूरतमंदों को 513 करोड़ की सहायता राशि विभिन्न योजनाओं में दी गई है। आयुक्त सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण श्री अशोक शाह ने बताया कि मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत वर्ष 2006 से अभी तक करीब 4 लाख 27 हजार गरीब जरूरतमंद परिवारों की बेटियों के विवाह के लिये 7 करोड़ 23 लाख रुपये से ज्यादा की राशि सहायता स्वरूप दी जा चुकी है। राज्य सरकार द्वारा सामाजिक समरसता का संदेश देते हुए वर्ष 2012 से मुख्यमंत्री विवाह योजना के तहत करीब 10 हजार 678 मुस्लिम कन्याओं के निकाह के लिये 19 लाख 54 हजार की सहायता राशि दी गई है। इसी क्रम में सरकार द्वारा शारीरिक रूप से नि:शक्त व्यक्तियों के जीवन में खुशहाली लाने के लिये नि:शक्त विवाह प्रोत्साहन योजना प्रारंभ की गई है। योजना में करीब 10 हजार नि:शक्तजन को दो लाख रुपये के मान से लगभग 197 लाख की प्रोत्साहन राशि प्रदान की गई है। मुख्यमंत्री मजदूर सुरक्षा योजना में लगभग 4 लाख 46 हजार खेतिहर मजदूरों को 192 करोड़ रुपये से ज्यादा की सहायता राशि दी गई है। यह सहायता बच्चों की छात्रवृत्ति, विवाह सहायता आदि के रूप में दी गई है। सामाजिक न्याय विभाग के माध्यम से 36 लाख हितग्राहियों को 116 करोड़ रुपये की पेंशन राशि ई-पेमेंट के माध्यम से उनके बैंक खातों में प्रतिमाह पहली तारीख को जमा करवाई जा रही है। पेंशन स्वीकृति प्रक्रिया को भी सरल बनाया गया है। साथ ही नि:शक्तजन एवं विधवा पेंशन की स्वीकृति के अधिकार पंचायत सचिव को प्रदान कर दिये गये हैं। राज्य सरकार द्वारा प्रदेश के प्रत्येक नि:शक्त व्यक्ति का डाटाबेस तैयार करने का विशेष कार्यक्रम तैयार किया गया है। यह प्रक्रिया फरवरी-2017 से प्रारंभ की गई। अभी तक एक लाख 67 हजार कार्ड पोर्टल के माध्यम से बनाये जा चुके हैं। इससे मध्यप्रदेश देश में सर्वाधिक यूनिक डिसएबिलिटी आई.डी. कार्ड जनरेट करने वाला राज्य बन गया है। राज्य सरकार के नि:शक्तजन कल्याण विभाग को उसकी कार्य-प्रणाली के लिये 'सर्वोत्तम नियोक्ता तथा प्लेसमेंट एजेंसी'' का वर्ष 2011-12 एवं वर्ष 2014-15 का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला है। वरिष्ठ नागरिकों की सेवाओं के लिये राष्ट्रीय 'वयोश्रेष्ठ सम्मान'' वर्ष 2013-14 में प्राप्त हुआ है। इसी प्रकार नेशनल ई-गवर्नेंस राष्ट्रीय पुरस्कार, वर्ष 2012-13 में स्पर्श पोर्टल, वर्ष 2015-16 में समग्र पोर्टल एवं वर्ष 2016-17 में स्टेट पेंशन पोर्टल के राष्ट्रीय पुरस्कार भी भारत सरकार द्वारा विभाग को दिये गये है  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  8 February 2018

नगरीय निकाय चुनाव

  नगरीय निकाय और त्रिस्तरीय पंचायतराज संस्थाओं के लिए हुए चुनाव में कुछ पर कांग्रेस तो कुछ पर भाजपा ने बाजी मारी। भाजपा ने सेंधवा, पीथमपुर, नगर पालिका परिषद और ओंकारेश्वर, पलसूद, पानसेमल, कुक्षी, डही और धामनोद नगर परिषद सीट पर कब्जा किया। वहीं कांग्रेस ने धार, राघौगढ़ व नगर पालिका परिषद और अंजड़, खेतिया, धरमपुरी, राजगढ़, सरदारपुर नगर परिषद पर जीत दर्ज की। अनूपपुर की जैतहरी नगर परिषद सीट पर निर्दलीय नवरत्नी शुक्ला विजयी हुए। अकोड़ा नगर परिषद (भिंड) - भरी कुर्सी ( अध्यक्ष संगीता यादव की वापसी) करनावद नगर परिषद (देवास) - खाली कुर्सी (अध्यक्ष कांताबाई पाटीदार को हटाया) खिलचीपुर नगर परिषद (राजगढ़) - खाली कुर्सी ( अध्यक्ष दीपक नागर को हटाया) सेंधवा नगर पालिका चुनाव में अध्यक्ष पद के लिए उम्मीदवार बसंती बाई निर्विरोध जीती हैं। इसी के साथ कुल 24 वार्डों में से 11 वार्डों पर निर्विरोध चुनाव हुए। अब केवल 13 वार्डों के लिए मतगणना हुई जिसमें वार्ड 9 में भाजपा प्रत्याशी ने जीत दर्ज की। वार्ड 11 में कांग्रेस के वली को जीत मिली। वार्ड 15 में भाजपा के इमरान ने जीत दर्ज की। वार्ड 24 में भाजपा के शकील और वार्ड 3 में कांग्रेस के प्रत्याशी ने जीत दर्ज की। वार्ड 14 कांग्रेस इलमुद्दीन ने जीत दर्ज की। वार्ड 4, 22 और 18 बीजेपी जीती। अनूपपुर : जैतहरी नगर पंचायत चुनाव की मतगणना में निर्दलीय प्रत्याशी नवर्तनी शुक्ला ने जीत दर्ज की, उन्हें 2027 मत मिले। शुक्ला ने भाजपा की सुनीता जैन को 898 मतों से पराजित किया। सुनीता जैन को 1129 मत मिले, कांग्रेस की गीता सिंह 980 मत प्राप्त कर तीसरे नंबर पर रहीं। यहां भाजपा के 4, कांग्रेस के 6 और निर्दलीय 5 पार्षद जीते।ओंकारेश्वर नगर परिषद में भाजपा के अंतर सिंह 1622 मतों से जीते।15 वार्डों में 12 में भाजपा 3 में कांग्रेस जीते।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  20 January 2018

मुख्यमंत्री  चौहान से निवेशकों की मुलाकात

6250 करोड़ के पूँजी निवेश से बुदनी में मेगा इंडस्ट्रियल टेक्सटाईल हब   एमपी के मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान से मुख्यमंत्री निवास पर पाँच उद्योग समूहों के प्रतिनिधियों ने मुलाकात कर प्रदेश में निवेश के प्रस्ताव दिये। मुख्यमंत्री श्री चौहान से ट्राइडेंट ग्रुप, सुजलान एनर्जी, मे. वेकमेट इंडिया लिमिटेड, मे. अल्ट्राटेक सीमेंट लिमिटेड, मे. सनफार्मा लिमिटेड के प्रतिनिधियों ने मुलाकात की। इस दौरान वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया और मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में उद्योग मित्र नीति लागू है। उन्होंने निवेशकों से चर्चा के दौरान निर्देश दिये कि प्रदेश में वस्त्र उद्योग को प्रोत्साहन देने की नीति बनायें। सोलर और विण्ड एनर्जी को बढ़ावा दिया जाये। उद्योगों से जुड़े मुद्दों पर निश्चित समय-सीमा में कार्रवाई करें। चर्चा के दौरान ट्राइडेंट ग्रुप के चेयरमेन श्री राजेन्द्र गुप्ता ने बताया कि ट्राइडेंट ग्रुप द्वारा 6250 करोड़ रूपये के पूँजी निवेश से बुदनी में मेगा इंडस्ट्रियल टेक्सटाईल हब बनाया जायेगा जिससे 16 हजार 500 लोगों को रोजगार मिलेगा। सुजलान एनर्जी के चेयरमेन श्री तुलसी तांती ने बताया कि कम्पनी द्वारा 2 हजार मेगावॉट के सोलर-विण्ड हाइब्रीड पॉवर प्रोजेक्ट की स्थापना का प्रस्ताव है। मे. वेकमेट इंडिया लिमिटेड के सीएमडी श्री डी.सी.अग्रवाल ने विद्युत टैरिफ में छूट की मांग की। मे. अल्ट्राटेक सीमेंट लिमिटेड के प्रतिनिधि श्री अतुल डागा ने बताया कि कम्पनी द्वारा प्रदेश के धार जिले में एक और सीमेंट प्लाण्ट की स्थापना की जा रही है, जिसमें तीन हजार करोड़ रूपये का निवेश संभावित है। मे. सन फार्मा लिमिटेड के प्रतिनिधि श्री मनीष संघवी ने बताया कि कंपनी द्वारा मालनपुर में 200 करोड़ रूपये से नया प्लांट शुरू किया जा रहा है। साथ ही 200 करोड़ रूपये की लागत का सोलर प्लांट भी स्थापित किया जायेगा। सन फार्मा द्वारा अगले तीन वर्ष में मंडला जिले को मलेरिया मुक्त जिला बनाने का पायलट प्रोजेक्ट भी क्रियान्वित किया जा रहा है। चर्चा में अपर मुख्य सचिव वित्त श्री ए.पी. श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर श्री मनोज श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव वाणिज्य एवं उद्योग श्री मो. सुलेमान, प्रमुख सचिव ऊर्जा श्री आई.पी.सी. केसरी, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल और श्री एस.के. मिश्रा तथा ट्राइफेक के प्रबंध संचालक श्री डी.पी. आहूजा उपस्थित थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  16 January 2018

पुरातत्ववेत्ता विष्णु श्रीधर वाकणकर

  मध्यप्रदेश के प्रमुख सचिव संस्कृति  मनोज श्रीवास्तव एवं जनसम्पर्क आयुक्त पी. नरहरि ने स्वराज भवन में प्रख्यात कला गुरु और पुरातत्ववेत्ता पद्मश्री विष्णु श्रीधर वाकणकर पर केन्द्रित दस्तावेजी पुस्तक 'मालवा की कला-विभूति- पद्मश्री विष्णु श्रीधर वाकणकर'' का संयुक्त रूप से लोकार्पण किया। अटल बिहारी हिन्दी विश्वविद्यालय के आचार्य श्री रामदेव भारद्वाज ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। वरिष्ठ साहित्कार श्री कैलाशचन्द्र पंत कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि थे। पुस्तक में डॉ. वाकणकर के व्यक्तित्व और कृतित्व के प्राय: सभी पक्षों का समावेश है। वरिष्ठ पुरातत्व वेत्ता पं. नारायण व्यास ने आभार व्यक्त किया। समारोह में कला, साहित्य और पुरातत्व विषय के जानकार विशिष्टजन के साथ-साथ डॉ. वाकणकर की वरिष्ठ शिष्या डॉ. पुष्पा चौरसिया (उज्जैन) भी मौजूद थीं।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  13 January 2018

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान

  वाजिब मूल्य और नगद भुगतान व्यवस्था से किसानों को मिली राहत   मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में राज्य सरकार ने किसानों की खुशहाली के लिए समय-समय पर कई योजनाएँ प्रांरभ की हैं। इन योजनाओं से मौसम के प्रभाव (जैसे अल्प वर्षा, अति वर्षा, ओला वृष्टि) बिचौलियों के दबाव, धनाभाव में स्थानीय साहूकारों के चँगुल में फँसे किसानों को राहत और सुरक्षा कवच जैसा एहसास हुआ है। मध्यप्रदेश में किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य दिलाने के लिए राज्य सरकार ने 16 अक्टूबर 2017 से भावांतर भुगतान योजना लागू की है। योजना में किसानों का ऑनलाइन पंजीयन एक सितम्बर से प्रारंभ किया गया। योजना में सोयाबीन, मूंगफली, तिल, रामतिल, मक्का, मूंग, उड़द तथा तूअर कृषि उपज शामिल की गयीं है। योजना से किसानों को पहुँच रहे लाभ और सफलता को देखते हुए हरियाणा सहित अन्य राज्य इसे अपना रहे हैं। ऐसे होती है भावांतर की गणना प्रदेश के किसानों को देय राशि की गणना में प्रावधान किया गया है कि यदि किसान द्वारा मण्डी समिति परिसर में विक्रय की गयी अधिसूचित फसल की विक्रय दर न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम किन्तु राज्य शासन द्वारा घोषित मॉडल विक्रय दर से अधिक हुई तो न्यूनतम समर्थन मूल्य तथा किसान द्वारा विक्रय मूल्य के अंतर की राशि किसान के खाते में ट्रांसफर की जायेगी। यदि किसान द्वारा मण्डी समिति परिसर में विक्रय की गयी अधिसूचित फसल की विक्रय दर राज्य शासन द्वारा घोषित मॉडल विक्रय दर से कम हुई तो न्यूनतम समर्थन मूल्य तथा मॉडल विक्रय दर के अंतर की राशि ही किसान के खाते में ट्रांसफर की जायेगी। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अपील पर एक ही दिन (12 अक्टूबर) में साढ़े 6 लाख से अधिक किसानों ने योजना में अपना पंजीयन कराया। राज्य सरकार ने किसानों की सुविधा को ध्यान में रखकर पंजीयन करवाने की तिथि में शिथिलता की ताकि अधिकाधिक किसान योजना के लाभार्थी हो सकें। आज की स्थिति में योजना में 23 लाख किसान पंजीबद्ध हैं। भावांतर भुगतान योजना भावांतर भुगतान योजना में राज्य शासन ने एक और किसान हितैषी निर्णय लेते हुए एक नवम्बर से 30 नवम्बर के दौरान बेची गई अधिसूचित फसलों के लिये नवीन औसत मॉडल दरें घोषित की और सभी कलेक्टर को नवीन दरों के अनुसार पंजीकृत किसानों से अधिसूचित मंडियों में खरीदी गई अधिसूचित फसलों के लिये भावांतर राशि के भुगतान के निर्देश दिये। इस अवधि के लिये तालिकानुसार दरें प्रभावी होंगी। राज्य शासन ने भावांतर भुगतान योजना में मण्डी प्रांगण के बाहर घोष क्रय-विक्रय कराने के लिए जिला कलेक्टर को अधिकृत किया। ऐसे स्थान, जो कृषि उपज मण्डी/उप मण्डी के लिए अधिसूचित प्रांगण नहीं हैं वहाँ पर संबंधित जिला कलेक्टर योजना की जिला-स्तरीय समिति से सत्यापन कराने के बाद विशेष प्रांगण घोषित कर सकते हैं। व्यापक कृषक हित में कृषक उपज मण्डी के प्रांगण के रूप में उपयोग करने की आवश्यकता वाले स्थानों को ही विशेष प्रांगण घोषित किया जा सकेगा। विशेष मण्डी प्रांगण घोषित करने के लिए आवश्यक होगा कि प्रांगण में न्यूनतम 5 क्रियाशील व्यापारी हों, जिनके नाम पर लायसेंस क्रमांक हो। साथ ही प्रांगण में न्यूनतम एक मण्डी निरीक्षक, चार सहायक उप निरीक्षक कार्यरत हो तथा प्रांगण में पारदर्शी घोष विक्रय, डिजिटल तौल एवं भुगतान की उचित व्यवस्था हो। कृषकों के भुगतान पर किसी भी प्रकार की कटौती जैसे तुलाई/हम्माली एवं अन्य कमीशन आदि नहीं की जा रही है। ऐसे विशेष प्रांगणों को उसकी संबंधित मूल मण्डी/उप मण्डी के अधिसूचित प्रांगण के अंतर्गत ही माना जाएगा। ऐसे विशेष प्रांगणों में होने वाली कृषि विपणन आवक, क्रय-विक्रय तथा मण्डी फीस से प्राप्त आय को बाहरी प्रांगण/साप्ताहिक हाट-बाजार के रूप में उल्लेख कर मूल मण्डी में दर्ज कर पोर्टल में गणना में लिया जाएगा। जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में है भुगतान समिति भावांतर राशि किसानों के खाते में जमा करने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में समिति का गठन किया गया है। इसमें कृषि, सहकारिता, नागरिक आपूर्ति, लीड बैंक, जिला सूचना अधिकारी एवं मंडी सचिव को शामिल किया गया है। यह समिति प्राप्त राशि को बैंक अकाउन्ट में रखकर भावांतर योजना की राशि का किसान के खाते में सीधे डिजिटल भुगतान कर रही है। योजना में शामिल होकर लाभ लेने के लिए प्रदेश के 23 लाख किसानों ने अपना पंजीयन करवाया। अधिसूचित 257 मंडियों में अब तक 7 लाख किसानों ने अपनी कृषि उपज का विक्रय किया। इन किसानों को करीब 903 करोड़ की राशि का भुगतान उनके बैंक खातों के माध्यम से किया जा चुका है। दो लाख तक के भुगतान में आयकर नियम बाधक नहीं प्रारंभ में किसानों को अपनी उपज विक्रय से नकद राशि का भुगतान प्राप्त न होना, योजना के क्रियान्वयन में बड़ी कठिनाई साबित हो रहा था। राज्य सरकार ने भावांतर भुगतान योजना की जानकारी देते हुए केन्द्रीय वित्त मंत्री से भुगतान में व्याप्त शंकाओं के समाधान का आग्रह किया। भारत सरकार के वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग के अधीन केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने अनाज व्यापारियों की शंकाओं का समाधान करते हुए स्पष्ट किया है कि आयकर नियमों के अंतर्गत अनाज व्यापारी किसान से उसकी उपज की खरीदी के विरुद्ध 2 लाख रुपये तक का भुगतान नगद कर सकते हैं। भुगतान की इस कार्यवाही में आयकर नियम बाधक नहीं होंगे। किसानों को परिवहन व्यय और गोदाम भण्डारण अनुदान भी भावांतर भुगतान योजना के लिए गठित उप समिति ने किसानों से प्रत्यक्ष सम्पर्क और योजना की संचालन प्रक्रिया के दौरान उत्पन्न आवश्यकताओं को देखते हुए इस अवधि में परिवहन व्यय, गोदाम भण्डारण अनुदान राशि और नवीन दरें जैसे निर्णय भी लिए। किसानों को अपनी कृषि उपज के भण्डारण के लिए 9 रूपये 90 पैसे प्रति क्विंटल, प्रतिमाह का अनुदान दिया जा रहा है। प्रदेश में भावांतर भुगतान योजना में पंजीकृत किसानों को खरीफ-2017 के लिये चिन्हित 8 जिन्सों को बेचने के लिये अगर खेत से 15 किलोमीटर या इससे अधिक दूरी पर स्थित कृषि उपज मण्डी/उप मण्डी तक फसल ले जाना पड़ेगा तो उसे प्रति किलोमीटर के आधार पर परिवहन व्यय मिलेगा। किसान कल्याण एवं कृषि विकास विभाग द्वारा इस आशय के विस्तृत निर्देश जारी किये गये हैं। परिवहन दर का निर्धारण जिला कलेक्टर, क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी तथा जिला स्तर की मण्डी के सचिव की समिति करती है। परिवहन व्यय की राशि का भुगतान मण्डी निधि से किया जाता है।। मध्यप्रदेश में 'भावांतर' योजना के अंतर्गत पंजीकृत लाखों किसान अपनी फसल का वाजिब मूल्य पाने के लिए निश्चिंत हैं। उन्हें अब यह भय नहीं है कि व्यापारी ओने-पोने दाम में उनकी फसल खरीदकर मेहनत का मोल प्राप्त नहीं होने देगा।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 January 2018

फ्रेण्ड्स ऑफ एम.पी. कॉन्क्लेव

  अप्रवासीय भारतीयों की समस्याओं के समाधान के लिये  एनआरआई सेल का गठन होगा :  चौहान    फ्रेण्ड्स ऑफ एम.पी. कॉन्क्लेव का समापन “इंदौर घोषणा पत्र’’ के साथ करते हुए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश सरकार प्रदेश के अप्रवासी भारतीयों की समस्याओं के समाधान के लिये एनआरआई सेल का गठन करेगी, जो सिंगल विन्डो के रूप में कार्य करेगा। उन्होंने फ्रेण्ड्स ऑफ एम.पी. से प्रदेश के ब्रान्ड एम्बेसेडर के रूप में काम करने का आव्हान किया। उन्होंने कहा कि जो लोग देश और विदेश में उल्लेखनीय कार्य कर प्रदेश को गौरवान्वित करेंगे, उन्हें मध्यप्रदेश सरकार प्रति वर्ष “मध्यप्रदेश रत्न’’ का अवार्ड प्रदान करेगी।  मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि उनकी 2015 में की गई अमेरिका यात्रा के बाद फ्रेण्ड्स ऑफ एम.पी. कान्क्लेव आयोजित करने का विचार आया था। इसी कड़ी में इस कान्क्लेव का आयोजन किया गया है। यह प्रक्रिया आगे भी जारी रखी जायेगी। अगले वर्ष 2019 में जनवरी माह की 4 एवं 5 तारीख को कान्कलेव आयोजन पुन: किये जाने की घोषणा भी की। श्री चौहान ने कहा कि इस समिट में आये 23 देशों के मित्रों द्वारा जो सुझाव और प्रस्ताव दिये गये है, उन्हें एकजाई करने का काम किया जा रहा है। राज्य सरकार द्वारा फ्रेण्ड्स ऑफ एम.पी. से सुझाव आमंत्रित करने के लिये एक पोर्टल भी बनाया जायेगा, जिसमे “टेलेंट-कूल्स’’ भी बनाया जायेगा, जिसके माध्यम से विषय विशेषज्ञ अपने सुझाव दे सकेंगे, जिनका परीक्षण कर सरकार उन पर अमल करेगी। मुख्यमंत्री ने प्रति माह मध्यप्रदेश की गतिविधियों से फ्रेण्ड्स ऑफ एम.पी. को अवगत कराने के लिये एक न्यूज लेटर जारी करने तथा सभी प्रदेश के एन.आर.आई का डाटाबेस तैयार करने की बात भी कही।   मुख्यमंत्री ने कहा कि अन्य देशों में फ्रेण्ड्स ऑफ एम.पी. चेप्टर गठित किये जायेंगे। उन्होंने चेप्टर के माध्यम से उन देशों में विभिन्न कार्यक्रम के आयोजन करने की सलाह भी दी और कहा कि अगर आप लोग हमें आमंत्रित करेगे तो वह स्वयं या प्रदेश के प्रतिनिधि उसमें अवश्य भागीदारी दर्ज करायेंगे। मुख्यमंत्री ने  फ्रेण्ड्स ऑफ एम.पी. के सदस्यों से उनके देशों में एक नवम्बर मध्यप्रदेश स्थापना दिवस के अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित करने तथा 2 जुलाई को पर्यावरण संरक्षण के लिये पौधरोपण करने की सलाह भी दी।  कार्यक्रम के प्रारंभ में मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने अपनी बात  ‘एहसान मेरे दिल पर तुम्हारा है दोस्तों ये दिल तुम्हारे प्यार का मारा है दोस्तों’’ गीत सुनाकर की। इस अवसर पर प्रदेश के उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल, सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग, महापौर इंदौर श्रीमती मालिनी लक्ष्मण सिंह गौड़, मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, प्रमुख सचिव उद्योग श्री मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री एस.के. मिश्रा, आयुक्त जनसम्पर्क श्री पी.नरहरि सहित अन्य गणमान्य अतिथिगण उपस्थित थे।   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  4 January 2018

मध्यप्रदेश में आनंद मंत्रालय

  मुख्यमंत्री श्री चौहान फ्रेन्ड्स ऑफ एमपी कॉन्क्लेव के सत्र में     एमपी के मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हमारी सरकार ने प्रदेश में विकास के साथ-साथ लोगों में खुशी की भावना को मजबूत करने के लिये आनंद मंत्रालय का गठन कर विशेष पहल की है। उन्होंने कहा कि आज के दौर में बढ़ते तनाव के बीच में लोगों के चेहरे पर खुशी देखना बड़ी चुनौती के समान है। श्री चौहान ने कहा कि 14 जनवरी से 20 जनवरी तक प्रदेश में प्रत्येक पंचायत स्तर पर आनंद उत्सव मनाया जायेगा। इस उत्सव में सभी वर्ग व सभी उम्र के व्यक्तियों को शामिल किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज इंदौर में फ्रेन्ड्स ऑफ एमपी कॉन्क्लेव के दूसरे दिन “मध्यप्रदेश विजन वर्ष 2022’’ के सत्र को सम्बोधित कर रहे थे। सत्र में कॉन्क्लेव में आये विदेशों में बसे मध्यप्रदेशवासियों ने भी अपने विचार व्यक्त किये।  मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पिछले साल प्रदेश में व्यापक जनभागीदारी से नर्मदा सेवा यात्रा निकाली गई। यह यात्रा मध्यप्रदेश की जीवन रेखा कही जाने वाली नर्मदा नदी के संरक्षण के लिये आयोजित की गई। पिछले वर्ष नर्मदा नदी के दोनों किनारों पर करीब सात करोड़ पौधारोपण किया गया। पौधारोपण में फलदार पौधों का चयन किया गया, जो आगे चलकर किसानों की आय बढ़ाने में काफी मददगार साबित होगा। नर्मदा सेवा यात्रा मध्यप्रदेश सरकार की पर्यावरण संरक्षण की प्रतिबद्धता को भी दर्शाती है। सत्र के प्रारंभ में प्रमुख सचिव नगरीय विकास श्री विवेक अग्रवाल ने वर्ष 2022 के लिये तैयार किया गया विजन डाक्यूमेंट प्रस्तुत किया। उन्होंने बताया कि भारतीय अर्थव्यवस्था में प्रदेश की कृषि का 30 प्रतिशत योगदान है। महिला साक्षरता की दर में वर्ष 2005-06 के बाद 15 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय पिछले 11 वर्षों में 200 प्रतिशत से अधिक बढ़ी है। पर्यटन के मामले में भी प्रदेश में उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल की गई है। स्वच्छ मध्यप्रदेश के संबंध में जानकारी देते हुए प्रमुख सचिव ने बताया कि वर्ष 2022 तक प्रदेश में समग्र रूप से सूखे और गीले कचरे का पूरी तरह से प्रबंधन कर लिया जायेगा। उन्होंने बताया कि जबलपुर में कचरे से बिजली उत्पन्न करने का स्मार्ट यूनिट लगाया जा चुका है।  प्रमुख सचिव ने बताया कि इंदौर-भोपाल और चंबल एक्सप्रेस-वे सड़क का कार्य किया गया है। प्रदेश में किसानों को आर्थिक रूप से सुरक्षा देने के लिये भावान्तर भुगतान योजना को प्रदेश में सबसे पहले लागू किया गया है। कृषि उपकरणों को किसानों तक पहुंचाने के लिये पीपी मोड पर हायर सेंटर शुरू किये गये हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश के शहरों को झुग्गी मुक्त बनाने के लिये ठोस योजना बनाकर काम शुरू कर दिया गया है। प्रदेश की सात स्मार्ट सिटी में आने वाले वर्षों में करीब 21 हजार करोड़ का निवेश किया जायेगा। पब्लिक ट्रांसपोर्ट को मजबूत किया जा रहा है। स्किल डवलपमेंट के लिये युवा सशक्तिकरण मिशन शुरू कर दिया गया है। उन्होंने सिंचाई, शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में तैयार की गई कार्ययोजना की भी जानकारी दी।  सत्र में लंदन के डिप्टी मेयर श्री राजेश अग्रवाल ने बताया कि समग्र विकास के लिये उन लोगों का विशेष रूप से ध्यान रखना होगा जो अभी भी विकास की पहुंच से दूर हैं। प्रदेश में सही मायनों में विकास के लिये युवाओं और महिलाओं के हितों का ध्यान रखना होगा। सत्र में विदेश में बसे प्रदेशवासी सर्वश्री सी.पी. गुरनानी, सत्येन्द्र सिंह रेखी, जी.एस. सरीन ने भी विचार रखे। सत्र का संचालन प्रमुख सचिव पर्यटन श्री हरिरंजन राव ने किया। उन्होंने कहा कि फ्रेन्ड्स ऑफ एमपी कॉन्क्लेव में आये प्रत्येक सुझाव पर गंभीरतापूर्ण विचार कर विकास को गति को देने के लिये कार्यवाही की जायेगी।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  4 January 2018

एकात्म यात्रा

केरल के श्रंगेरी मठ में "एकात्म यात्रा" कार्यक्रम में मुख्यमंत्री चौहान  मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पूरे विश्व में आदि शंकराचार्य के अद्वैत दर्शन का प्रचार-प्रसार करने के लिये प्रदेश के ओंकारेश्वर में आदि गुरु शंकराचार्य सांस्कृतिक एकता न्यास की स्थापना की जायेगी। न्याय के जरिये अद्वैत दर्शन पर शोध और अध्ययन का काम होगा। वे आज केरल में श्रंगेरी मठ में 'एकात्म यात्रा' की श्रंखला में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने शंकर संदेश वाहिनी को ध्वज दिखाकर रवाना किया। यह वाहिनी कालिडी, श्रंगेरी, काँची, द्वारका, जोशीमठ, हरिद्वार, वाराणसी से होते हुए 22 जनवरी को ओंकारेश्वर पहुँचेगी। श्री चौहान ने कहा कि अद्वैत दर्शन में विश्व की सभी समस्याओं का समाधान करने की क्षमता है। यह युग की धारा बदल देने वाला दर्शन है। आतंकवाद  और वैमनस्यता जैसी बुराइयों को समाप्त कर देगा। उन्होंने कहा कि अद्वैत दर्शन का ज्ञान होने पर ही पता चलता है कि इस जगत के सभी जीवों, अवयवों में एक ही चेतना का वास है। इसलिये सभी एक ही चेतना से आपस में जुडे हैं। इसी दर्शन के कारण भारत में प्रकृति की आराधना होती है। नदियों को पूजा जाता है। उन्हें परम चेतना से अलग नहीं मानते। उन्होंने कहा कि अद्वैत दर्शन आम लोगों के बीच जाना चाहिये। केवल मंदिरों, मठों और विद्वानों तक सीमित नहीं रहना चाहिये। इसका विस्तार ही कल्याणकारी है। आदि शंकराचार्य ने भारत की सांस्कृतिक एकता को स्थापित किया और मानवता को शांति और धर्म की राह दिखाई। मुख्यमंत्री ने कहा कि आदि शंकराचार्य की जन्म-भूमि केरल है लेकिन उनकी ज्ञान-भूमि मध्यप्रदेश है। इसलिये चार एकात्म यात्राएँ ओंकारेश्वर, रीवा, अमरकंटक और उज्जैन से निकाली गई हैं। जिन स्थानों से ये एकात्म यात्राएँ गुजरेंगी उस स्थान से धातु कलश में वहाँ की मिट्टी इकट्ठी की जा रही है। आदिगुरू की प्रतिमा की स्थापना के समय नींव में इसका उपयोग किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर उपस्थित श्रद्धालुओं को जीव, जगत और जगदीश की एकात्मकता को आत्मसात करने और एकात्मकता के माध्यम से बेहतर समाज, राष्ट्र और विश्व निर्माण करने में योगदान देने का संकल्प दिलाया।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  29 December 2017

मिठाई कलाकंद बनी ब्रांड

     इंदौर के पास पहाड़ियों से घिरे कालाकुंड गांव की महिलाओं ने मजबूरी में शुरु किये गये रोजगार को अपनी मेहनत से शहरों तक पहुंचाकर ब्रांड बना दिया। आज इंदौर के पास का यह गांव अपनी खूबसूरती से ज्यादा वहाँ के कलाकंद की वजह से प्रसिद्ध हो चुका है। यहां कलाकंद बनाने से लेकर बेचने तक की सारी कमान महिलाओं के हाथ में है। कम आबादी वाले इस गांव में पहुंचने के लिये एक ही साधन है मीटर गेज ट्रेन। ट्रेन से कालाकुंड पहुंचते ही यहां छोटे से स्टेशन पर गाड़ी रुकते ही प्लेटफॉर्म पर दो-तीन हाथ ठेलों में लोग पलास के पत्तों के ऊपर सफेद रंग की खाने की चीज बेचते दिख जाते हैं। यही हैं यहां के गिने-चुने रोजगार में से एक कालाकुंड का प्रसिद्ध कलाकंद।  कालाकुंड में आजीविका के नाम पर अगर कुछ है तो लकड़ी काटकर बेचना और कुछ दुधारु पशु। दूध बाहर भेजने के लिये ट्रेन पर ही निर्भर रहना पड़ता था। परेशानी देख गांव के पशुपालक परिवारों ने दूध का कलाकंद बनाकर स्टेशन पर बेचना शुरु किया। चुनिंदा ट्रेन गुजरने की वजह से ये रोजगार भी सिर्फ पेट भरने तक ही सीमित रहा।  मगर पिछले दो साल में जो हुआ वो चौंकाने वाला था। गले तक घूँघट करके झाड़ू-बुहारी और घर का चूल्हा चौका करने वाली गांव की कुछ महिलाओं ने अपने पुरूषों के पुश्तैनी व्यवसाय की कमान को अपने हाथों में ले लिया। दस महिलाओं का समूह बनाया और इसे संगठित व्यवसाय की शक्ल दे दी। गांव की महिलाओं ने कालाकुंड के कलाकंद को एक ब्रांड बनाया। अच्छी पैकेजिंग शुरू की, पलास के पत्तों की जगह अब सुंदर बॉक्स ने ले ली। महिला समूह ने अब ये बॉक्स बंद कलाकंद इंदौर-खंडवा रोड के कुछ खास ढाबों और होटलों पर बिक्री के लिये रखा। परिणाम यह हुआ कि महिला समूह जितना भी कलाकंद बनाता है, वह सब हाथों हाथ बिक जाता है। महिलाओं को ये राह दिखाई इलाके में जल संग्रहण का काम कर रही एक संस्था नागरथ चेरीटेबल ट्रस्ट ने। ट्रस्ट के प्रोजेक्ट प्रभारी सुरेश एमजी ने जब कलाकंद का स्वाद चखा तो महिलाओं को सलाह दी कि वे अपने इस हुनर को बड़े व्यवसाय में तब्दील करें। ट्रस्ट की मदद से जब महिलाओं का व्यवसाय चलने लगा और डिमांड बढने लगी तो इंदौर जिला प्रशासन ने महिलाओं की मदद के लिये इस व्यवसाय को आगे बढाने की रुपरेखा तैयार की। समूह को तत्काल डेढ़ लाख रुपये का लोन दिया गया। लोन की रकम हाथ आते ही मानों समूह की उडान को पंख लग गये। कलाकंद बनाने के लिये बड़े बर्तन, रसोई गैस आ गई। पैकेजिंग मटेरियल में सुधार होने लगा। विज्ञापन और प्रचार के लिये बड़े-बड़े होर्डिंग लग गये। अब महिलाएं आसपास के इलाके से भी अच्छी गुणवत्ता का दूध खरीदने लगी। जिला प्रशासन ने महिलाओं को प्रोत्साहित करने के लिये गाय एवं भैंस दी। इससे वो खुद दूध का उत्पादन करने लगी। अब पहाडों के बीच छोटे से स्टेशन पर बिकने वाला कलाकंद हाईवे पर आ चुका है। महिलाओं की बढ़ती रुचि को देखते हुऐ जिला प्रशासन ने हाईवे पर दो साल में एक के बाद एक तीन स्टोर खोल दिये। जहां बस रुकवाकर यात्री कलाकंद खरीदते हैं। हाल ही में इंदौर के दो प्रसिद्ध पुराने 'खजराना गणेश'' और 'रणजीत हनुमान'' मंदिर पर कलाकंद स्टोर्स खोले जा चुके हैं। समूह की अध्यक्षा प्रवीणा दुबे और सचिव लीलाबाई ने बताया, हमें तो एक समय यकीन करना ही मुश्किल हो रहा था कि गांव का कलाकंद चौरल के मुख्य मार्ग की दुकान पर बिक रहा है। मगर आज जब इंदौर जाकर हमारे स्टोर पर लोगों को कलाकंद खरीदते हुए देखते हैं, तो खुशी की कोई सीमा नहीं रहती।समूह के स्वादिष्ट मिठाई की माँग देखते हुऐ अभी और उत्पादन बढ़ाने की तैयारी चल रही है। एक क्विंटल मिठाई हर दिन बनकर यहां से अलग-अलग स्टोर्स पर बेची जा रही है। डिमांड लगातार बनी हुई है। आज इलाके की पहचान दूर-दूर तक होने लगी है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  20 December 2017

हनीप्रीत

  सच्चा डेर प्रमुख राम रहीम की गिरफ्तारी के बाद हरियाणा में भड़की हिंसा में आरोपी उनकी करीबी हनीप्रीत समेत करीब तीन दर्जन नामजद लोगों की तलाश में हरियाणा पुलिस ने सभी राज्यों को एडवाइजरी जारी की है। विशेष तौर पर उन राज्यों के लिए यह एडवाइजरी जारी की गई है, जहां राम रहीम के आश्रम हैं। मध्यप्रदेश में बुदनी के निकट राम रहीम का आश्रम है। मप्र पुलिस की विशेष शाखा के आईजी कानून व्यवस्था मकरंद देउस्कर ने कहा कि एडवाइजरी के सभी बिंदुओं पर मप्र पुलिस काम कर रही है। गौरतलब है कि राम रहीम के जेल जाने के तत्काल बाद से हनीप्रीत लापता है, जिसकी तलाश में हरियाणा पुलिस देश के विभिन्न् अंचलों समेत पड़ोसी देशों में भी संपर्क कर रही है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  20 September 2017

स्वच्छता ही सेवा

"स्वच्छता ही सेवा'' अभियान समारोह में मुख्यमंत्री  चौहान   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने  इंदौर में 'स्वच्छता ही सेवा'' अभियान के उपलक्ष्य में ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में आयोजित समारोह में कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण-2016 में इंदौर प्रथम स्थान पर आया है। इसके लिये इंदौर की जनता बधाई की पात्र है। मध्यप्रदेश शासन के लिये भी यह गर्व की बात है। उन्होंने कहा कि देश में स्वच्छता में नंबर वन आना आसान नहीं है। इसलिये नम्बर वन बने रहने के सतत प्रयास किये जायें। श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के आह्वान पर पूरे देश में स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है। इसके सकारात्मक परिणाम आये हैं। वर्ष 2019 तक मध्यप्रदेश के सभी ग्रामों और शहरों को खुले में शौच से मुक्त करा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि स्वच्छता एक आंदोलन है। जनता की सोच में बदलाव लाकर जनता के सहयोग से ही यह आंदोलन सफल हो सकता है।  श्री चौहान ने इंदौर शहर में स्वच्छता अभियान की सफलता पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण-2016 में देश के 100 चयनित शहरों में से 22 शहर मध्यप्रदेश के हैं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में शौचालय बन जाने से ही काम नहीं चलेगा, उसका उपयोग करना भी जरूरी है। मुख्यमंत्री ने प्रदेश में प्लास्टिक की समस्या पर ध्यान आकृष्ट करते हुए कहा कि प्लास्टिक से सर्वाधिक कचरा फैलता है और प्लास्टिक जल्दी नष्ट भी नहीं होता है। इसलिए प्लास्टिक के उपयोग पर प्रतिबंध लगाना जरूरी हो गया है। उन्होंने कहा कि इंदौर मध्यप्रदेश के विकास का इंजन है। उद्योग, व्यापार और साफ-सफाई सहित हर क्षेत्र में इंदौर नंबर वन रहा है। इंदौर में नरसीमुंजी, टीसीएस और इंफोसिस जैसी प्रतिष्ठित संस्थाएं आ गई हैं और अपना व्यापार-व्यवसाय फैला रही हैं। इस अवसर पर महापौर श्रीमती मालिनी गौड़ ने कहा कि इंदौर स्वच्छता सर्वेक्षण के सभी बिन्दुओं पर खरा उतरा है। नवंबर 2016 से डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन से इंदौर में साफ-सफाई विशेष रूप से परिलक्षित हुई है। इस अभियान में विद्यार्थियों, शिक्षकों, व्यापारियों, अधिकारियों, कर्मचारियों, समाजसेवी संगठनों आदि का भरपूर सहयोग मिल रहा है। उन्होंने बताया कि इंदौर में गीले और सूखे कचरे का अलग-अलग कलेक्शन किया जा रहा है। गीले कचरे से जैविक खाद बनाई जा रही है। औसतन रोज 50 टन कचरा इकट्ठा हो रहा है। गीले कचरे से आने वाले समय में जैविक खाद के अलावा मिथेन गैस भी इकट्ठा की जाएगी, जिससे नगरीय सेवा की बसें चलेंगी और बिजली का उत्पादन किया जाएगा। इसके अलावा परमाणु तकनीकी से स्लज कचरे से खाद बनाई जाएगी। पिछले डेढ़ वर्ष में विशेष साफ-सफाई अभियान से वायु प्रदूषण 50 प्रतिशत तक घट गया है। खान और सरस्वती नदी की सफाई का अभियान जारी है। खान नदी में गिरने वाले गंदे नालों की टेपिंग का कार्य तेजी से चल रहा है। उत्कृष्ट कार्य के लिये सम्मान मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर स्वच्छता के क्षेत्र में विशिष्ट योगदान के लिये समाजसेवियों, व्यापारी संगठनों और सरपंचों को सम्मानित किया गया। समारोह में हाउसिंग बोर्ड के अध्यक्ष श्री कृष्णमुरारी मोघे, इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री शंकर लालवानी, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती कविता पाटीदार, विधायकगण सर्वश्री महेन्द्र हार्डिया, राजेश सोनकर, सुदर्शन गुप्ता, सुश्री उषा ठाकुर तथा अपर मुख्य सचिव श्री राधेश्याम जुलानिया, गणमान्य नागरिक, समाजसेवी और सरपंच सहित वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे। 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 September 2017

आतंकवाद, भ्रष्टाचार

केवल सफल नहीं सार्थक जीवन जरूरी, शिवराज ने प्रेरणादायी संस्मरण सुनाये  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने युवाओं से आतंकवाद, भ्रष्टाचार, गरीबी, गंदगी, सम्प्रदायवाद और जातिवाद मुक्त भारत के निर्माण का संकल्प लेने का आव्हान किया है। उन्होंने कहा कि ऐसे भारत के निर्माण में ही जीवन की सार्थकता है। केवल सफल नहीं सार्थक जीवन जरूरी है। वे आज आकाशवाणी और दूरदर्शन पर “दिल से” कार्यक्रम में युवाओं से संवाद कर रहे थे। कार्यक्रम की श्रंखला की दूसरी कड़ी है। इसका शुभारंभ किसानों के साथ संवाद से हुआ था। श्री चौहान ने कहा कि युवाओं का भविष्य खराब नहीं होने देंगे क्योंकि वे प्रदेश और देश का भविष्य हैं। युवाओं को दी सीख मुख्यमंत्री ने युवाओं को कई अनमोल सीख दी। हमेशा माता-पिता का सम्मान करें। आदर करें। माता-पिता जीवन देते हैं तो गुरू जीवन बनाता है इसीलिये गुरू का सम्मान करें। भारतीय संस्कृति अद्भुत है। पूर्वजों के प्रति आदर व्यक्त करने की परम्परा है। सरकार हमेशा सहयोगी भूमिका में होती है आगे बढ़ने के लिये स्वयं कदम बढ़ायें। सरकार हमेशा साथ रहेगी। सबमें प्रतिभा है। कोई छोटा-बड़ा नहीं है। सवाल केवल प्रतिभा के प्रगटीकरण का है। जो जैसा सोचता है और करता है वह वैसा ही बन जाता है। हमारी सोच ही हमारे व्यक्तित्व को बनाती है। ब्लू व्हेल गेम के काल्पनिक संसार से बचो श्री चौहान ने ब्लू व्हेल जैसे गेम से बचने का आग्रह करते हुए कहा कि इस काल्पनिक संसार से दूर रहो। यह जिन्दगी खराब कर देते हैं। अपनी शक्ति और अपनी क्षमता पहचानो। कभी निराश मत हो। ऊर्जा से भरे रहो। जिन्दगी में उतार-चढ़ाव से घबराओ मत। सरकार से भी अपनी समस्याएँ साझा कर सकते हैं। बड़ा बनने की पाँच बातें श्री चौहान ने कहा कि बड़ा बनने के लिये सबसे जरूरी है खुद पर भरोसा रखना। आत्म-विश्वास से भरे रहना। स्वामी विवेकानंद का उदाहरण देते हुए श्री चौहान ने कहा युवाओं की क्षमता और प्रतिभा में कोई कमी नहीं है। जो चाहोगे कर गुजरोगे। दूसरी जरूरी बात है कि लक्ष्य तय करो। तीसरा लक्ष्य तय करने के बाद उसे प्राप्त करने के लिये दृढ़ संकल्प करो। चौथी बात लक्ष्य प्राप्त करने का रोडमैप बनाओ और पाँचवीं बात रोडमैप पर चलने के लिये कठिन परिश्रम करो। केवल सफल जीवन नहीं, सार्थक जीवन जरूरी है। श्री चौहान ने महात्मा गांधी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के जीवन के प्रेरक संस्मरण सुनाये। 'थ्री इडियट' फिल्म का उदाहरण श्री चौहान ने कहा कि अच्छी शिक्षा जिन्दगी बना देती है। इसलिये मन लगाकर पढ़ों। रटने का काम मत करो। उन्होंने “थ्री इडियट” फिल्म का उदाहरण देते हुए कहा कि विषय को रटना नहीं, समझना है। अपनी प्रतिभा का स्वाभाविक विकास होने देना चाहिये। उन्होंने अभिभावकों से भी आग्रह किया कि बच्चों से स्नेह से पेश आयें। केवल रटवाने से काम नहीं चलेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि पढाई को आसान बनाने के लिये कई पहल की गई है जैसे पहली से बारहवीं तक की किताबें, आठवीं कक्षा तक गणवेश, स्कूल जाने के लिये साइकिल, स्कालरशिप, बारहवीं में 85 प्रतिशत अंक लाने पर लेपटाप, कॉलेज में एडमिशन लेने पर स्मार्ट फोन। स्मार्ट फोन का उपयोग ज्ञान के लिये करें। गाँवों में जो बेटिया 60 प्रतिशत अंक लाती है वो गाँव की बेटी कहलाती है। कालेज की पढ़ाई के लिये अलग से 5 हजार रूपये सालाना मिलते हैं। श्री चौहान ने कहा हर ब्लाक में उत्कृष्ट विद्यालय खोले गये हैं। कन्या शिक्षा परिसर बन रहे हैं। ज्ञानोदय विद्यालय, उत्कृष्ट विद्यालय संचालित हैं। मजदूरों के बच्चों के लिये श्रमोदय विद्यालय अगले साल शुरू हो जायेंगे। मुख्यमंत्री मेधावी छात्र योजना की चर्चा करते हुए श्री चौहान ने कहा कि बारहवीं बोर्ड में 75 प्रतिशत से ज्यादा अंक लाने और राष्ट्रीय संस्थानों में प्रवेश लेने पर सरकार फीस भरेगी। उन्होंने कई ऐसे विदयार्थियों का उल्लेख लिया जिनकी फीस सरकार भरेगी। इनमें अनूपपुर जिले के केल्होरी के श्री सुयश नामदेव-आई.आई.टी. खड़गपुर, श्री पवन मंडलोई -श्री अरविंदो इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, इंदौर, भोपाल की कुमारी शुभांगी बागरे -स्कूल ऑफ प्लानिंग एण्ड आर्किटेक्चर, भोपाल, इंदौर की कुमारी अनुज्ञा मुकाती -एनएलआईयू, भोपाल, रीवा के गोरगांव की कुमारी जस्मिन पटेल -एमजीएम मेडिकल कॉलेज इंदौर में चयन हुआ है। बैतूल जिले के गाँव ओहर की कुमारी किरन आप्टे इंडियन इंस्टीट्यूट इनफार्मेशन टेक्नालॉजी भोपाल में है। उन्होंने कहा कि ऐसे प्रतिभाशाली युवाओं का परिश्रम व्यर्थ नहीं जायेगा। उन्होंने युवाओं से कहा कि वे लगन और मेहनत से पढ़कर इन योजनाओं का लाभ उठायें। श्री चौहान ने ऐसे बच्चों का भी उल्लेख किया जो गरीबी और अभावों में रहने के बावजूद परीक्षा में अव्वल रहे। उन्होंने बैगा जनजाति की सुश्री गीता टेकाम एकलव्य विद्यालय मंडला, दसवीं में 93.4 प्रतिशत नंबर लाने वाली माधुरी वारासिया, 92.34 प्रतिशत अंक लाने वाली कु. कुसुम कांजले हरदा, 91.01 प्रतिशत अंक लाने वाली छिंदवाड़ा की कु. प्रियाशु बारंगे का उल्लेख किया। खंडवा जिले के 94.83 प्रतिशत अंक लाने वाले श्री अभिषेक पटेल और उनके अभिभावकों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि गरीब परिवार में रहते हुए इन बच्चों ने चमत्कार कर दिया और अन्य युवाओं के लिये प्रेरणा बन गये। श्री चौहान ने सीहोर की प्रीति मैथिल का भी जिक्र किया जिन्होंने टयूशन पढ़ाकर खुद पढ़ाई की और यू.पी.एस.सी. में 92वाँ स्थान कर रीवा जिले की कलेक्टर की जिम्मेदारी सम्हाल रही हैं। उन्होंने युवाओं से कहा कि थोड़ी सी लगन और परिश्रम से आसमान छू सकते हैं। मुख्यमंत्री ने खेल अकादमियों से निकली खेल प्रतिभाओं की भी चर्चा की जिन्होंने गरीब परिवारों से आने के बावजूद राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर नाम कमाया। श्री चौहान ने प्रधानमंत्री श्री मोदी के स्किल डेवलपमेंट मिशन की चर्चा करते हुए कहा कि एक तरफ बेरोजगारों की संख्या है और दूसरी तरफ हुनरमंद लोग नहीं मिलते। यदि युवाओं को हुनर दे दें तो और रोजगार की कोई कमी नहीं है। उन्होंने मध्यप्रदेश स्किल डेवलपमेंट मिशन और आईटीआई को उन्नत बनाने के प्रयासों की चर्चा करते हुए बताया कि संभागीय मुख्यालयों पर उत्कृष्ट आईटीआई स्थापित किये जा रहे हैं। हर साल साढ़े सात लाख युवाओं को प्रशिक्षित कर रोजगार प्राप्त करने योग्य बनाया जायेगा। उन्होंने बताया कि सिंगापुर के सहयोग से ग्लोबल स्किल पार्क भोपाल में बन रहा है जिसमें हजारों युवा उच्च स्तरीय प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे। मुख्यमंत्री ने युवाओं से कहाकि नौकरी देने वाले बनें। इसके लिये मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना, मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना, मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना का लाभ उठायें। लघु और कुटीर उद्योगों का विस्तार करने में युवाओं की मुख्य भूमिका है। लोन की गारंटी सरकार लेगी। उन्होंने ऐसे कई युवा उदयमियों का उल्लेख किया जो आज सफल उद्यमी हैं और कई लोगों को रोजगार दे रहे हैं। इनमें सिवनी के श्री रजत ताम्रकार, सीहोर के श्री अनुराग सोडानी, जबलपुर की श्रीमती मधुराज, ग्वालियर के श्री राजीव भिलवारे, जबलपुर के श्री दुर्गेश धुर्वे और नीमच के श्री शैलेन्द्र धाकड़ प्रमुख हैं। समाज के लिये भी काम करें श्री चौहान ने युवाओं से कहा कि उनका जीवन देश और समाज के लिए भी है। उन्होंने आव्हान किया कि हर युवा कोई न कोई काम समाज के लिये जरूर करे। उन्होंने भोपाल की 11 वर्षीय मुस्कान का उल्लेख किया जो झुग्गी बस्ती में लायब्रेरी चला रही है। गरीब बच्चों के लिये खिलौने इकट्ठे कर सकते हैं। पेड़ लगाने, पर्यावरण बचाने के काम में योगदान दे सकते हैं। नर्मदा बचाने, नदियाँ बचाने का काम कर सकते हैं। नर्मदा सेवक बन सकते हैं। उन्होंने सदगुरू जग्गी वासुदेव द्वारा शुरू किये गये नदियों को बचाने के अभियान की चर्चा करते हुए कहा कि ऐसे अभियान से जुड़ सकते हैं। समाज को नशा मुक्त बनाने का अभियान चला सकते हैं। मुख्यमंत्री ने 17 सितम्बर को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के जन्म-दिन की चर्चा करते हुए कहा कि स्वच्छता को समर्पित कर हम उनका जन्म-दिन मना सकते हैं। नये भारत के लिये नया मध्यप्रदेश बनाना सबका काम है। सब मिलकर मध्यप्रदेश बनायें। कार्यक्रम, नीतियाँ बनाने में सहयोग करें। श्री चौहान ने युवाओं से एमपी माय गव एमपी एप पर सुझाव माँगे। अच्छे सुझाव देने वाले युवाओं का भी उल्लेख किया। इनमें राजगढ़ (ब्यावरा) के श्री अनिल सिरिया ने सुझाव दिया कि बी-1 खसरा की नकल एमपी ऑनलाईन से निकालना चाहिए। भोपाल के मिलिन नामदेव ने सुझाव दिया कि दूरदराज के स्कूलों में स्मार्ट क्लास के माध्यम से अध्यापन होना चाहिये। विदिशा के ग्राम कुल्हार के श्री अजीत ओझा ने सुझाव दिया कि कुल्हार में पर्यावरण और जल सुधार में अच्छा कार्य हुआ है इसे ईको टूरिज्म की दृष्टि से प्रचारित करना चाहिये। उदयपुरा (रायसेन) के श्री आशीष बिलथिरिया ने सुझाव दिया कि सम्पत्ति की ऑनलाईन रजिस्ट्री को देखते हुए सॉफ्टवेयर में ऐसी व्यवस्था करें कि नामांतरण, सीमांकन करना है या नहीं इसकी पुष्टि समय पर हितग्राही से हो जाये। इससे समय और धन बचेगा। विदिशा के श्री योगेश राठौर ने बरसाती नदियों और मुख्य नदियों को एक किलोमीटर तक 40 फीट गहरा करने सुझाव दिया। गायक पलक मुछाल की मानवीय पहल का उल्लेख करते हुए श्री चौहान ने कहा कि उन्होंने ‘‘पलक मुछाल हार्ट फाउण्डेशन’’ के माध्यम से पिछले 16 वर्षों में लगभग 1000 गरीब बच्चों को हृदय के इलाज के लिए तीन करोड़ से अधिक की राशि दान में दी है। इस उदाहरण से प्रेरणा लेना चाहिये। उन्होंने युवाओं को समाज के लिए जीने का संकल्प दिलाया। मुख्यमंत्री आई टी कौशल केन्द्र मुख्यमंत्री ने बताया कि जिला मुख्यालयों पर आईटीआई, पॉलिटेक्निक और उत्कृष्ट स्कूल में मुख्यमंत्री आई टी कौशल केन्द्र की स्थापना की जायेगी। इन केन्द्रों से बच्चे कौशल भी प्राप्त कर सकेंगे और इन केन्द्रों का उपयोग ऑनलाईन परीक्षा के लिए भी किया जा सकेगा। उत्कृष्ट विज्ञान संस्थानों के भ्रमण की योजना मुख्यमंत्री ने कहा कि युवाओं में वैज्ञानिक दृष्टिकोण विकसित करने और विज्ञान में रूचि जाग्रत करने के लिये उत्कृष्ट विज्ञान संस्थानों जैसे इसरो, भाभा एटामिक सेंटर, हिन्दुस्तान एयरोनाटिक, विभिन्न एम्स, आईआईटी का शैक्षणिक भ्रमण करने की योजना प्रारंभ की जायेगी। राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं में प्रदेश के लिये पदक जीतने वाले दिव्यांग खिलाडियों को सीधे शासकीय नौकरी में नियुक्ति दी जायेगी। उन्होंने युवाओं से प्रदेश की योजनाओं में सुधार करने, नई योजनाएँ बनाने, प्रशासनिक व्यवस्थाओं में सुधार के लिये सुझाव मांगे। उन्होंने कहा कि ट्वीटर, फेसबुक, शिवराज सिंह चौहान एप्प, एम.पी.माय गव.इन पर सुझाव दिये जा सकते हैं।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  11 September 2017

कुसुम महदेले

मप्र की पीएचई मंत्री कुसुम महदेले ने रेलवे की बदइंतजामी की पोल खोल कर रख दी है। 28 अगस्त को रेवांचल एक्सप्रेस से सफर करने के बाद कुसुम महदेले ने रेल मंत्री को ट्वीट कर ट्रेन की खराब हालत के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि रेवांचल एक्सप्रेस की फर्स्ट एसी में कंबल बदबूदार बांटा जा रहा है। टॉयलेट पेपर नहीं है। तकिए किसी काम के नहीं हैं। क्या रेलवे विभाग मुसाफिरों की चिंता नहीं करता? सिर्फ रेवांचल ही नहीं, भोपाल से खजुराहो चलने वाली महामना एक्सप्रेस में बैठने की खराब व्यवस्था को लेकर भी उन्होंने रेल मंत्री और रेल मंत्रालय से शिकायत की। महदेले के इस ट्वीट पर रेल मंत्रालय की तरफ से उनके पीएनआर की जानकारी भी मांगी गई। सड़कें चलने लायक नहीं महदेले ने रेल की खराब व्यवस्थाओं को लेकर ही नहीं, बल्कि सतना के आसपास की खराब सड़कों को लेकर नितिन गडकरी को भी ट्वीट किया। दरअसल, केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने ट्वीट किया था कि केंद्र सरकार वर्ल्ड क्लास स्तर का इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करने के लिए प्रतिबद्ध है। इस पर कुसुम महदेले ने जवाब देते हुए कहा कि सतना के आसपास के हाइवे की हालत बहुत खराब है। सड़कें चलने लायक नहीं हैं। उन्होंने हाइवे के नाम भी गिना दिए। महदेले ने कहा कि सतना से पन्ना, पन्ना से छतरपुर, रीवा से सतना हाइवे और खजुराहो से लवकुशनगर की सड़क की हालत बहुत खराब है। महामना एक्सप्रेस के नाम पर भी सवाल? महदेले ने भोपाल-खजुराहो महामना एक्सप्रेस ट्रेन के नाम पर भी आपत्ति जता दी। उन्होंने कहा कि महामना एक्सप्रेस का नाम खजुराहो या चंदेल एक्सप्रेस होना चाहिए। बुंदेलखंड के साथ हमेशा भेदभाव होता है। गडकरी से बोलीं- सड़कें चलने लायक नहीं, जल्दी ठीक कराएं महदेले ने सतना के आसपास की खराब सड़कों को लेकर नितिन गडकरी को भी ट्वीट किया। महदेले ने लिखा कि सतना के आसपास के हाइवे की हालत बहुत खराब है। सड़कें चलने लायक नहीं हैं। कुसुम मेहदेले ने कहा ये मेरा निजी मामला है निजी मामलों में दखल न दें ,मैंने ट्वीट किए तो आपको क्या आपत्ति है? ये मेरा निजी मामला है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  1 September 2017

दिल्ली में MP का नया भवन

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राजधानी दिल्ली में प्रदेश के नये भवन का निर्माण कार्य निश्चित समय में हो जाये। इस बात का निर्माण एजेंसी चयन में विशेष ध्यान दिया जाये। उन्होंने डिजाईनिंग और कार्य की उत्कृष्ट गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने निर्देश दिये। श्री चौहान आज मंत्रालय में केन्द्र सरकार द्वारा राजधानी दिल्ली में आवंटित भूखण्ड पर भवन निर्माण की समीक्षा कर रहे थे। इस अवसर पर वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान को बैठक में बताया गया कि केन्द्र सरकार द्वारा राज्य को 1.5 एकड़ भूखण्ड का आवंटन किया गया है। शीघ्र ही भूमि का आधिपत्य राज्य को मिल जायेगा। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव वित्त श्री ए.पी. श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन श्री प्रभांशु कमल, प्रमुख सचिव लोक निर्माण श्री प्रमोद अग्रवाल, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिवद्वय श्री अशोक बर्णवाल और श्री एस.के. मिश्रा, सड़क विकास निगम के प्रबंध संचालक श्री मनीष रस्तोगी, मध्यप्रदेश भवन के आवासीय आयुक्त श्री आशीष श्रीवास्तव भी मौजूद थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  29 August 2017

एमपी रियल एस्टेट रेगयूलेटरी एक्ट (रेरा)

एमपी रियल एस्टेट रेगयूलेटरी एक्ट (रेरा) के अध्यक्ष  एन्टोनी डिसा ने कहा है कि एक मई, 2017 के बाद नई परियोजनाओं को और नये होम लोन आवेदनों में रेरा पंजीयन की माँग बैंक द्वारा आवश्यक की जाये। श्री डिसा ने बताया कि रेरा अधिनियम की धारा-3 के प्रभावशील होने की तिथि एक मई, 2017 के पूर्व स्वीकृत ऋणों में सिर्फ यह सुनिश्चित करें कि रेरा पंजीयन क्रमांक के लिए प्रमोटर द्वारा आवेदन प्रस्तुत किया है या नहीं। यह स्पष्टीकरण रेरा ने बैंकों को इसलिए जारी किया है ताकि प्रचलित रियल एस्टेट परियोजनाओं की निर्माण प्रगति में अनावश्यक रूप से वित्तीय संसाधनों की कमी के कारण बाधा न आये। उल्लेखनीय है कि रेरा द्वारा लीड बैंक समन्वयक श्री अजय व्यास को पत्र लिखकर इस संबंध में अवगत कराया है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  23 August 2017

गणेश प्रतिमा प्रशिक्षण

    पर्यावरण नियोजन एवं समन्वय संगठन (एप्को) द्वारा 20 से 23 अगस्त तक मध्यप्रदेश के 5 संभागीय मुख्यालयों पर आम लोगों और छात्र-छात्राओं को मिट्टी से गणेश बनाने का प्रशिक्षण दिया जायेगा। इंदौर, उज्जैन, भोपाल, जबलपुर और रीवा के 2 सार्वजनिक स्थलों एवं 4 विद्यालयों में ग्रीन गणेश-2017 के तहत प्रशिक्षित मूर्तिकार प्रशिक्षण देंगे। विद्यार्थी और लोग मूर्ति बनाने के बाद अपनी-अपनी मूर्ति अपने घर भी ले जा सकेंगे। एप्को टीम विद्यार्थियों को जहाँ प्रात: 9 बजे से प्रशिक्षण देगी, वहीं सार्वजनिक स्थलों पर आम लोगों के लिये प्रशिक्षण कार्यक्रम अपरान्ह 3 से 6 बजे तक होगा। इंदौर प्रशिक्षण-20 एवं 21 अगस्त इंदौर में 20 अगस्त को प्रात: 11 से 2 बजे तक पलासिया चौराहा, अपरान्ह 3 से 6 बजे तक अन्नपूर्णा परिसर महू नाका, 21 अगस्त को प्रात: 9 से 10 बजे तक अहिल्या आश्रम उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बाणगंगा, प्रात: 10.30 से 11.30 बजे तक शासकीय अत्रीदेवी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय महू नाका, 12 से 1 बजे तक शासकीय मालव कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मोती तबेला और दोपहर 2.30 बजे से 3.30 बजे तक रेलवे स्टेशन के पास शासकीय बाल विनय मंदिर में मूर्ति प्रशिक्षण होगा। उज्जैन प्रशिक्षण-22 एवं 23 अगस्त उज्जैन में 22 अगस्त को प्रात: 9 से 10 बजे तक शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सराफा, 10.30 से 11.30 बजे मॉडल उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सांवेर रोड और अपरान्ह 3 से 6 बजे तक लोकमान्य तिलक स्मृति मंदिर क्षीरसागर में मिट्टी से गणेश बनाने का प्रशिक्षण होगा। दूसरे दिन 23 अगस्त को प्रात: 9 से 10 बजे तक शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय फ्रीगंज, 10.30 से 11.30 बजे शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय दशहरा मैदान और आम लोगों के लिये अपरान्ह 3 से 6 बजे तक पीपली नाका चौराहा में गणेश की मूर्ति बनाना सिखाया जायेगा। भोपाल प्रशिक्षण-21 से 23 अगस्त भोपाल में 21 अगस्त को प्रात: 10 से 11 बजे तक शासकीय राजा भोज उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, 1100 क्वाटर्स, अपरान्ह 3 से 6 बजे तक बिट्टन मार्केट में मूर्ति प्रशिक्षण होगा। 22 अगस्त को प्रात: 9 से 10 बजे तक शासकीय माध्यमिक शाला बोर्ड कॉलोनी और अपरान्ह 3 से 6 बजे तक कोलार रोड के मंदाकिनी मैदान में आम लोगों के लिये प्रतिमा प्रशिक्षण होगा। 23 अगस्त को प्रात: 9 से 10 बजे तक शासकीय नवीन उच्चतर माध्यमिक विद्यालय अरेरा कॉलोनी, 10 से 1 बजे तक शासकीय बालक उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बैरागढ़ और अपरान्ह 3 से 6 बजे तक गणेश मंदिर पिपलानी में मूर्ति प्रशिक्षण होगा। जबलपुर प्रशिक्षण-22-23 अगस्त जबलपुर में 22 अगस्त को प्रात: 9 से 11 बजे तक शासकीय तमराई स्कूल मिलौनीगंज और दोपहर 3 से 6 बजे तक शहीद स्मारक गोल बाजार में गणेश प्रतिमा प्रशिक्षण होगा। 23 अगस्त को प्रात: 9 से 11 बजे तक पंडित लज्जाशंकर झा मॉडल हाई स्कूल और दोपहर 3 से 6 बजे तक कल्चरल स्ट्रीट भंवरताल में प्रशिक्षण होगा। रीवा प्रशिक्षण-22-23 अगस्त रीवा में प्रात: 9 से 10 बजे तक केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक-1 में प्रात: 10.30 से 11.30 बजे तक शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मार्तण्ड क्रमांक-2, दोपहर 3 से 6 बजे तक महिला समिति कला मंदिर अस्पताल चौराहा में प्रशिक्षण होगा। इसी तरह 23 अगस्त को सुबह 9 से 10 बजे तक शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय किला रोड, 10.30 से 11.30 बजे तक शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मार्तण्ड क्रमांक-3 और दोपहर 3 से 6 बजे तक व्यंकट भवन पुरातत्व संग्रहालय कोठी कम्पाउण्ड में मिट्टी से गणेश बनाना सिखाया जायेगा।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  19 August 2017

नगरीय निकायों में मतदान

    मध्यप्रदेश शासन ने 11 अगस्त को नगरीय निकायों में होने वाले मतदान के दिन संबंधित नगरीय निकायों में सामान्य अवकाश घोषित किया है। इन नगरीय निकायों में निगो‍शिएबल इन्स्ट्रूमेंट एक्ट के तहत भी सार्वजनिक अवकाश रहेगा। जिन नगरीय निकायों में 11 अगस्त को मतदान होगा, उनमें खंडवा जिले की नगर परिषद् छनेरा, रतलाम जिले की नगर परिषद् सैलाना, बैतूल जिले की नगरपालिका परिषद् सारनी, नगर परिषद आठनेर और चिचोली, झाबुआ जिले की नगरपालिका परिषद झाबुआ, नगर परिषद् रानापुर, थांदला और पेटलावद, अलीराजपुर जिले का नगर परिषद् भांभरा और जोबट, नगर पालिका परिषद् अलीराजपुर, खरगोन जिले की नगर परिषद् भींकनगाँव, महेश्वर और मण्डलेश्वर, बुरहानपुर जिले की नगर पालिका परिषद् नेपानगर, छिन्दवाड़ा जिले की नगरपालिका परिषद् जुन्नारदेव, दमुआ, पाण्ढ़ुर्ना, सौंसर, नगर परिषद् मोहगाँव और हर्रई शामिल हैं। सिवनी जिले की नगर परिषद् लखनादौन, मण्डला जिले की नगर परिषद निवास, बम्हनीबंजर, बिछिया, नगर पालिका परिषद् नैनपुर और नगर पालिका परिषद् मंडला शामिल हैं। डिण्डोरी जिले की नगर परिषद् डिण्डोरी, शहपुरा, बालाघाट जिले की नगर परिषद् बैहर, शहडोल जिले की नगर परिषद जयसिंह नगर, बुढ़ार और नगर पालिका परिषद् शहडोल, अनूपपुर जिले की नगर पालिका परिषद् कोतमा, नगर पालिका परिषद् बिजुरी और उमरिया जिले की नगर पालिका परिषद् पाली शामिल है। इस संबंध में जिला कलेक्टर को निर्देश जारी किये किये गये है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  9 August 2017

पुलिस और एम.आई.टी. के मध्य हुआ एम.ओ.यू

मुख्यमंत्री चौहान के समक्ष पुलिस और एम.आई.टी. के मध्य हुआ एम.ओ.यू. मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के समक्ष मध्यप्रदेश पुलिस और विश्व के उत्कृष्टतम विश्वविद्यालयों में से एक मैसाच्यूसेट इस्टीट्यूट ऑफ टैक्नॉलाजी के मध्य समझौता आज मुख्यमंत्री निवास में हस्ताक्षरित हुआ। प्रदेश पुलिस को और अधिक जनोन्मुखी बनाने के लिये संस्थान द्वारा शोध कार्य किया जायेगा। इस अवसर पर पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला और मैसाच्यूसेट इस्टीट्यूट ऑफ टैक्नॉलाजी शोध संस्थान के श्री अब्दुल लतीफ ज़मील, गरीबी उन्मूलन एक्शन लैब की दक्षिण एशियाई प्रमुख सुश्री शोभनी मुखर्जी ने समझौते पर हस्ताक्षर किये। इस मौके पर पुलिस अधिकारी, संस्थान के प्राध्यापक और शोधकर्ता उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में सामुदायिक पुलिसिंग को और अधिक प्रभावी बनाने के निरंतर प्रयास हो रहे हैं। इस दिशा में वर्ष 2009 से जनसुनवाई शुरू की गई। प्रदेश में महिलाओं के सशक्तिकरण की प्रभावी पहल के लिए पुलिस बल में उनके लिए 30 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया गया है। मुख्यमंत्री ने संस्थान के साथ हुये एम.ओ.यू. पर प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि शोध कार्य निष्पक्ष और निरपेक्ष रूप से किया जाये। अध्ययन के निष्कर्ष पुलिस व्यवस्था को अधिक बेहतर और मजबूत बनाने में सहयोगी हों। पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला ने बताया कि प्रदेश की पुलिस व्यवस्था को और अधिक बेहतर तथा मज़बूत बनाने के लिये शोध का कार्य-क्षेत्र जनता एवं पुलिस के मध्य संवाद, पुलिस प्रतिक्रिया-प्रक्रिया और पुलिस बल में महिलाओं के एकीकरण पर केन्द्रित होगा। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव गृह श्री के. के. सिंह, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक बर्णवाल, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री राजीव टंडन और श्रीमती अनुराधा शंकर सिंह, प्रोफेसर वर्जीनिया विश्वविद्यालय श्री संदीप सूथांकर, प्रोफेसर हावर्ड विश्वविद्यालय श्री अक्षय मंगला, प्रोफेसर विज़नर वर्जीनिया सुश्री ग्रैब्रीला क्रूक्स, प्रोजेक्ट ऑफीसर जे.पी.ए.लैब दक्षिण एशिया श्री विष्णु पदमाभन, शोध सहायक श्री अंशुमान भार्गव उपस्थित थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 July 2017

 शिवराज और नंदकुमार सिंह का पुतला जलाया

  ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान द्वारा की गई टिप्पणी के विरोध में प्रदेशभर में प्रदर्शन हुआ। भोपाल में प्रदेश कांग्रेस कमेटी दफ्तर के सामने कार्यकार्ताओं ने सीएम शिवराजसिंह चौहान और नंदकुमार सिंह चौहान का पुतला जलाया। इस दौरान वहां बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात था। इंदौर में राजवाड़ा पर कांग्रेसियों ने सीएम और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष का पुतला फूंका और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। दतिया में कांग्रेसियों ने किला चौक से पहले तांगा स्टैंड पर पुतलों में आग लगा दी। इस दौरान पुलिस ने पुतला छीनने की भी कोशिश की। जबलपुर में कांग्रेस के प्रदर्शन में एक युवक बंदूक लेकर पहुंचा था, पुलिस उसे पकड़कर ले गई।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 July 2017

दिव्यांगजन अधिनियम

भारत सरकार, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय द्वारा दिव्यांगजनों के लिए दिव्यांगजन अधिनियम प्रकाशित किया गया है। अधिनियम के तहत राज्य सरकारों से नियम बनाने की अपेक्षा की गई है। यह जानकारी दिव्यांगजन अधिनियम पर हुई कार्यशाला में दी गयी। कार्यशाला में राज्य सरकार द्वारा बनाये जाने वाले दिव्यांगजन अधिनियम के नियमों में जिन विभागों को शामिल किया गया है। उन्हें उनकी भूमिका से अवगत कराया गया। कार्यशाला में मुख्य रूप से स्वास्थ्य, उच्च शिक्षा, स्कूल शिक्षा, तकनीकी शिक्षा, गृह, पुलिस, महिला एवं बाल विकास, राजस्व एवं अन्य उत्तरदायी विभाग के अधिकारी उपस्थित हुए। सामाजिक न्याय एवं निःशक्तजन कल्याण विभाग की प्रमुख सचिव श्रीमती नीलम शमी राव द्वारा कार्यशाला के उद्देश्य पर प्रकाश डाला गया। कार्यशाला में विशेषज्ञ के रूप में सेवा निवृत्त अपर मुख्य सचिव श्री एम.एम. उपाध्याय एवं सेवा निवृत्त प्रमुख सचिव श्री व्ही.के. बाथम ने दिव्यांगजन अधिनियम के नियम बनाने की दिशा में आवश्यक मार्गदर्शन दिया।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 July 2017

सलीना सिंह

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्रीमती सलीना सिंह ने कहा है कि लोकतंत्र की सफलता में निर्वाचकों की भूमिका को देखते हुए निर्वाचन नामावली का शुद्ध और पारदर्शी होना जरूरी है। इसके लिये निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों, जिला निर्वाचन अधिकारियों और प्रोग्रामर को विशेष ध्यान देना होगा। श्रीमती सिंह आज निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों के ईआरओ नेट प्रशिक्षण कार्यक्रम को संबोधित कर रही थीं। कार्यक्रम में सभी 51 जिलों के अधिकारी उपस्थित थे। श्रीमती सलीना सिंह ने कहा कि ईआरओ नेट के माध्यम से अब सभी निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी बेहतर समन्वय से कार्य कर सकेंगे। इससे कार्य निष्पादन में और तत्परता आयेगी। इस अवसर पर संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री एस.एस. बंसल सहित अन्य अधिकारी भी मौजूद थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  23 July 2017

खनिज मंत्री राजेन्द्र शुक्ल

खनिज मंत्री राजेन्द्र शुक्ल रेत खनिज विपणन प्रक्रिया निर्धारण बैठक में  खनिज साधन मंत्री  राजेन्द्र शुक्ल ने कहा है कि मध्यप्रदेश में नदियों से रेत के वैज्ञानिक उत्खनन तथा विपणन की प्रभावी पारदर्शी व्यवस्था के लिये हुई कार्यशाला की अनुशंसाओं को शीघ्र अंतिम रूप दिया जाये। नीति को बेहतर से बेहतर बनाने के लिये 15 दिवस में प्रस्ताव तैयार किया जाये। श्री शुक्ल आज मंत्रालय में प्रदेश में रेत खनिज के उत्खनन और विपणन के संबंध में गठित समिति की अध्यक्षता कर रहे थे। श्री शुक्ल ने कहा कि नर्मदा तथा अन्य नदियों से खनिज के उत्खनन के संबंध में स्थायी समाधान होना चाहिये। उन्होंने कहा कि कार्यशाला के सभी निष्कर्षों को ध्यान में रखते हुए रेत खनिज की उत्खनन और विपणन की पारदर्शी व्यवस्था की नीति तैयार की जाये। खनिज मंत्री ने कहा कि नर्मदा नदी से रेत के उत्खनन के लिये सभी प्रभावी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए समग्र प्रतिवेदन शीघ्र तैयार किया जाये। श्री शुक्ल ने कहा कि कार्यशाला के निष्कर्षों के आधार पर प्रदेश में आदर्श रेत खनिज नीति बनेगी। उन्होंने कहा कि इससे देश के अन्य राज्यों को भी लाभ मिलेगा। बैठक में सचिव खनिज साधन श्री मनोहर दुबे ने कार्यशाला में विभिन्न सत्र में हुई चर्चा के निष्कर्षों की जानकारी दी। बैठक में प्रमुख सचिव नगरीय विकास श्री मलय श्रीवास्तव, उप सचिव खनिज श्री राकेश श्रीवास्तव, आई.आई.टी. खड़गपुर, (पश्चिम बंगाल) के प्रोफेसर श्री के.पाठक तथा प्रोफेसर श्री अभिजीत मुखर्जी, विभागाध्यक्ष पर्यावरण विज्ञान, बरकतउल्ला विश्वविद्यालय, भोपाल श्री प्रदीप श्रीवास्तव, संचालक भौमिकी तथा खनिकर्म श्री व्ही.के. ऑस्टिन सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 July 2017

रक्षाबंधन पर्व

मुख्यमंत्री  चौहान ने रक्षा रथ को किया रवाना  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि रक्षाबंधन पर्व के अवसर पर बहनों की राखियां और शुभकामना संदेश जब सरहद पर तैनात जवानों को मिलेगे, तब उनका मनोबल और आत्मबल कई गुना बढ़ जायेगा। इस भावनात्मक प्रयास के लिये नव दुनिया परिवार बधाई का पात्र है। श्री चौहान ने यह बात आज मुख्यमंत्री निवास में नवदुनिया की पहल पर भारत रक्षा पर्व के अंतर्गत रक्षा रथ की फ्लैग ऑफ सेरेमनी में कही। इस अवसर मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह भी मौजूद थीं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हम अपने घरों में चैन से सोते हैं क्योंकि देश की सीमाओं पर हमारे जवान मुस्तैद रहते हैं। हमारे जवान सीमाओं की रक्षा के लिये होली, दीपावली और रक्षा बंधन आदि त्यौहार भी घर पर नहीं मनाते हैं। सदैव जान हथेली पर लेकर देश भक्ति के जज्बे के साथ सरहद की सुरक्षा करते हैं। उन्होंने कहा कि रक्षा बंधन पर्व पर जब मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ की हजारों बहनों की राखियां और शुभकामना संदेश लेकर नवदुनिया का रक्षा रथ उनके पास पहुंचेगा, तब जवानों को अपार हर्ष होगा, भावनात्मक प्रसन्नता की अनुभूति होगी। मुख्यमंत्री ने पारंपरिक विधि विधान से रक्षा रथ को रवाना किया। इस अवसर पर बताया गया कि नवदुनिया द्वारा भारत रक्षा पर्व के अंतर्गत रक्षा रथ के माध्यम से मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में भ्रमण कर बहनों से राखियां, ग्रीटिंग कार्ड और मैसेज का संकलन किया जा रहा है। संकलित सामग्री सेना के माध्यम से सीमा पर तैनात जवानों को उपलब्ध करवाई जायेगी। इस अवसर नवदुनिया के संपादक श्री सुनील शुक्ला, स्टेट ब्यूरो हेड श्री धनंजय प्रताप सिंह, श्री राजीव सोनी, हेड श्री विनित कौशिक सहित मॉडल स्कूल के एन.सी.सी.के छात्र एवं नव दुनिया के प्रतिनिधिगण मौजूद थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 July 2017

 मध्यप्रदेश बदनामी

मुझे लगता है मध्यप्रदेश को किसी की नजर लग गई है। कुछ अच्छा घटित नहीं हो रहा है। कृषि बेहतर उत्पादन के बाद भी बेहाल, अन्नदाता आत्महत्या कर रहा है। नौकरशाही की नाफरमानियां और भ्रष्टाचार तो यहां पहले से ही खूंटा गाड़ के बैठे हुए हैैं। बदनामी के व्यापमं और गड़बडियों के सिहंस्थ की स्याही सूख नहीं पा रही है। ऐसे में नर्मदा माई समेत नदियों में रेत के डाकों ने प्रायश्चित स्वरूप मुख्यमंत्री से नर्मदा परिक्रमा करा डाली। मगर बदनामी है कि पीछा ही नहीं छोड़ रही है। प्रदेश के पराक्रमी किसानों ने प्याज की बंपर पैदावार की तो उसकी खरीदी में शिवराज सरकार के भी आंसू निकल पड़े। खुश हैं तो अफसर और व्यापारी। प्याज खरीदी में घाटालों की आशंकाओं का घटाटोप है। भ्रष्टाचार के बादल छाये हुए हैैं। मैदान में कप्तान के स्वरूप में शिवराज सिंह चौहान तो हैैं मगर मंत्रियों की गैरहाजिरी सियासी हालात को संजीदा बना रही है। ब्यूरोकेसी पर निर्भर सरकार उसी के सेबोटेज की शिकार है और अपनी बिगड़ती छवि से सदमें  में है। एक जून से शुरू हुए किसान आंदोलन के बाद एक महीना बीत चुका है, लेकिन खेती-किसानी को लेकर हर दिन कोई नई समस्या लेकर आ रही है। औसतन हर दो दिन में एक किसान कर्ज और उससे पैदा परेशानी के कारण आत्महत्या कर रहा है। कृषि मंत्री, कृषि अधिकारी इन मुसीबतों भरे दिन दिनों में गायब है। सीएम अकेले पड़ गए लगते हैं । उनकी कृषि हिमायती छवि पर बट्टा लग गया है। घबराहट में उन्होंने टॉप करने वाले विद्यार्थियों से कह दिया कि वे खेती ना करें क्योंकि वह किसानों को मरते और खेती को बर्बाद होते नहीं देख सकते। ग्यारह बरस से कृषि को लाभ का धंधा बनाने का वादा करने वाले शिवराज सिंह की खेती ना करें कि सलाह अपनी असफलता की स्वीकारोक्ति है। वे शायद जीवन में पहली बार इस कदर असहाय महसूस कर रहे हैं। जनता से संवाद कर समर्थन पाने में जितने वे कुशल हैं शायद प्रशासनिक पकड़ में उतने ही लचर, कमजोर। उनके खाटी शुभचिंतक भी थोड़ी अगर-मगर के साथ इसे स्वीकार करते हैं। भाजपा नेतृत्व इससे परेशान हैं। मगर इसका हल खुद मुख्यमंत्री को ही लगातार ईमानदार, तर्कसंगत, उच्च कोटि के कठोर निर्णय से खोजना होगा। अभी तो पूरा प्रदेश इससे जूझ रहा है। विरोधियों के लिए यह बड़ा हथियार है। राज्य की हालत यह है कि मुख्यमंत्री जब प्याज 8 रुपए प्रति किलो की दर से खरीदी का एलान करते हैं तो उसी क्षण कृषि, सहकारिता और नागरिक आपूर्ति विभाग को एक साथ सक्रिय हो जाना चाहिए था। खरीदी के साथ-साथ प्याज के बारिश से सुरक्षित भंडारण के लिए। उदाहरण के लिये जब आंख में धूल कंकड़ जाता है तो पलक झपकने और हाथ बचाव के लिए किसी के आदेश की प्रतीक्षा नहीं करते। उसी तरह प्याज के लिए गोदाम, वेयरहाउस और मंडी में शेड के नीचे- ऊपर तिरपाल, पालिथिन का प्रबंध युद्धस्तर पर करना चाहिए था। यदि अधिकारियों ने ऐसा नहीं किया है तो यह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के साथ सेबाटेज भी है। नौकरशाही की नाफरमानियों के बाद यह भीतरघात गंभीर है। यह सब वह अफसरशाही कर रही है जो कृषि उत्पाद का अनुमान लगाने में बुरी तरह फ्लॉप रही। इस वजह से सरकार को पता ही नहीं है कि कितनी प्याज खरीदनी है। स्थिति यह है कि गत वर्ष की तुलना में खरीदी के लिए दोगुनी राशि याने 200 करोड़ रुपए तय हुए थे। अब कहा जा रहा है कि 800 करोड़ रुपए की खरीदी होगी। यह हैरतअंगेज है। यहीं से बड़े घोटाले के साफ  संकेत मिलते हैं। कागज़ पर खरीदी और भुगतान हो जाएगा, जितनी खरीदी हुई है उससे अधिक प्याज सडऩा बता दिया जाएगा। यह सडऩा ही घोटाले के सबूतों को नष्ट करने के प्रबंध के रूप में देखा जा रहा है। मंत्री-अधिकारी कोई मैदान में नहीं है। किसी की जिम्मेदारी तय नहीं होना सरकार की प्रशासनिक कमजोरी का भयावह पक्ष माना जा रहा है। इसी तरह प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाएं बिगड़ी हुई हैं। अफसरों की रुचि नहीं है। मंत्री अस्पतालों में सुधार के लिए सक्रिय नहीं हैं। इंदौर के एमवाय अस्पताल में 24 घंटे में 17 लोगों की ऑक्सीजन के अभाव में मौत हो जाती है। हिला देने वाली इस घटना पर मंत्री जी का पता नहीं है। स्कूल खुल गए हैं, 60 हजार मास्टरों की कमी है। पच्चीस हजार प्रतिनियक्ति पर होने से और 35 हजार पहले से ही कम है। नई भर्ती के लिए वित्त विभाग ने धन की तंगी के कारण रोक लगा दी है, लेकिन जून में शिक्षा मंत्री गप्प हांकते हुए करीब 35 हजार  से अधिक शिक्षकों की भर्ती कराने की बात करते हैं, जबकि जून में घोषणा नहीं नियुक्ति हो जानी चाहिए थी। विभाग में अफसर लापरवाह हैं और ऐसे में मंत्री की नींद जून में शिक्षण सत्र के दौरान खुल रही है।  पढ़ाई के बाद नगरीय प्रशासन को ही देखें। बारिश के समय शहर के नाले-नालियां साफ नहीं हुए। मगर मंत्री स्तर पर न तो कठोरता से वर्षा पूर्व तैयारियां कराईं और ना अब सजगता दिख रही है। हालात चिंताजनक हैं। चल रहे हैं गप्पों के तीर... राज्य की राजनीतिक परिस्थितियों में सत्ता और प्रतिपक्ष गप्पों के तीर चला रहे हैं। मुख्यमंत्री के ऐलान पर सरकार व भाजपा जनता के साथ मिलकर दो दौर में प्रदेश में 12 करोड़ से अधिक पेड़ पौधे लगाने जा रही है। करीब 7 करोड़ की आबादी वाले प्रदेश में पहले दौर में दो जुलाई को छह करोड़ पौधे 24 जिलों में लगाने का दावा किया गया। एक अनुमान के अनुसार नर्मदा घाटी के दो दर्जन जिलों में साढ़े तीन करोड़ की आबादी है। इनमें बच्चे,बुजुर्ग और महिलाएं भी हैं। सभी आ जाएं तो भी एक-एक, दो-दो पेड़ लगाने पड़ेंगे,  जो कि संभव नहीं है। फिर पौधे, स्थान और लगाने के लिए गड्ढा खोदना जरूरी है, लेकिन व्यवहारिक पक्ष पर किसी का ध्यान नहीं है। पूरी सरकार इवेंट के रूप में चल रही है। मसलन कृषि कर्मण अवार्ड ले लो भले ही, जमीनी हकीकत में किसान आत्महत्या कर रहा है। वैसे ही दावा होगा पेड़ लगाने का रिकॉर्ड पूरा करने का। भले ही पेड़ नजर नहीं आए। अगला वर्ष चुनावी है 2018 में पेड़ लगाने की राशि पौधारोपण के हिसाब से ग्रामीणों को अदा की जाएगी। इसके बदले में पेड़ भले ना दिखें, मगर वोटों की फसल तो काटी ही जा सकती है। गप्पों और योजनाओं के ख्याली पुलाव के बीच इस तरह के इवेंट आगे भी देखने को मिलेंगे। जवाब में आलस-प्रमाद और गुटबाजी में डूबी कांग्रेस आरोपों की झड़ी लगा सकती है। मगर अभी तो उसके हाथ से भी समय की रेत की तरह से फिसल रहा है। नेतृत्व परिवर्तन की बातें कांग्रेस कैंप में गप्पों की तरह तारीख और महीने के साथ आती हैं। मगर होता कुछ नहीं है। हालात यह है कि कांग्रेस कुछ नहीं करने के लिए बदनाम है और भाजपा कार्यकर्ता आधारित संगठन होने के बाबजूद इवेंट आधारित कामों के लिए मशहूर हो गई है। ऐसे में पार्टियों के कार्यकर्ताओं और जनता का भगवान भला करे... सब उल्टा-पुल्टा कहां तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पांव -पांव वाले भैया थे, किसान पुत्र और नर्मदा पुत्र थे, लेकिन अब किसान भी परेशान है और मां नर्मदा समेत प्रदेश की नदियां रेत चोरों की वजह से संकट में है। नैतिकवादी पार्टी भाजपा में अनुशासन और नैतिक मूल्यों की गिरावट आ रही है। कर्ज में डूबे किसान ज्यादा उत्पादन करने के बाद भी मौत को गले लगा रहे हैैं। शांति का टापू मध्यप्रदेश अशांत हो रहा है। आजादी के लिये संघर्ष करने वाली कांग्रेस मध्यप्रदेश में शिथिल पड़ी हुई है। जनसेवक कहे जाने वाले सरकारी कर्मचारी मनमानी कर रहे हैैं। ऐसा लगता है मध्यप्रदेश को किसी की नजर लग गई है। जितनी ठीक करने कोशिश हो रही है उतनी ही उल्टा-पुल्टा हो रहा है...

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  7 July 2017

शहला मसूद हत्याकांड

आरटीआई एक्टविस्ट शहला मसूद हत्याकांड की दोषी जाहिदा परवेज और सबा फारूकी को हाईकोर्ट की इंदौर खंडपीठ ने सशर्त जमानत दी है। सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने जनवरी में इन दोनों सहित चार लोगों को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। सजा के बाद दोनों को एक ही जेल में रखा गया था, जहां दोनों का बाकी कैदियों के साथ झगड़ा होता था। इसके बाद ही दोनों को अलग-अलग जेलों में शिफ्ट कर दिया गया था। आरटीआई कार्यकर्ता शहला मसूद की हत्या के मामले में पांच साल, पांच महीने 13 दिन तक जाँच चली थी, पेशी, गवाही के बाद सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया था। यह उन चंद मामलों में शामिल है, जो घटना के महज 17 दिन बाद ही सीबीआई को सौंप दिया गया था। फिर भी अफसरों के हाथ इसका एक भी ऐसा सिरा हाथ नहीं लगा था, जिससे वे हत्यारे और साजिश रचने वालों तक पहुंच जाएं। बाद में एक-एक सबूत और गवाह जोड़े गए तो इश्क, ईर्ष्या, इंतकाम, जुनून और जज्बातों से भरे रिश्तों के रहस्यों भरी कत्ल की यह कहानी कदम-कदम पर अंत तक उलझती रही। इसी कसमकश के बीच चार्जशीट के अध्ययन, पांच साल तक कोर्ट में बहस चली।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 July 2017

सुशासन शिवराज सिंह चौहान

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने समाधान ऑन लाईन में कलेक्टरों को दिये निर्देश   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सुशासन से आमजनों को सेवाओं का लाभ समय से मिले, यह प्रशासन की प्राथमिक जिम्मेदारी है। आमजनों को अपनी समस्याओं के निराकरण के लिये परेशान नहीं होना पड़े। उन्हें लोक सेवा प्रदाय गारंटी अधिनियम के तहत निर्धारित समय सीमा में सेवाओं का प्रदाय हो, यह सुनिश्चित किया जाये। इसमें किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज यहां समाधान ऑनलाइन कार्यक्रम के तहत कलेक्टरों को यह निर्देश दिये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि समय पर आम जनता के काम होना चाहिए। राजस्व प्रकरण के निराकरण पर विशेष ध्यान दें। खसरे की नकलें किसानों तक पहुंचाने का अभियान सभी जिलों में पारदर्शी तरीके से चलायें। समर्थन मूल्य पर मूंग, उड़द, मसूर की खरीदी पूरी संवेदना के साथ हो। विभिन्न योजनाओं में हितग्राहियों के बैंक खाते में भुगतान करने की सूचना समय से मिले, इसकी व्यवस्था बनायें। शासकीय मंदिरों के पुजारियों को मानदेय का भुगतान समय से हो, यह सुनिश्चित किया जाये। आकाश और बादल को पच्चीस-पच्चीस हजार रुपये की स्वीकृति मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज समाधान ऑन लाईन के दौरान हरदा जिले ग्राम बड़झिरी नेत्रहीन दंपत्ति श्री जयराम और ललिता के बेटों आकाश और बादल के लिये मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान से पच्चीस-पच्चीस हजार रुपये की राशि स्वीकृत की। हरदा जिले के जयराम ने शिकायत की थी कि उन्होंने सामूहिक विवाह में शादी की है परन्तु उन्हें मुख्यमंत्री विवाह सहायता और विकलांग विवाह प्रोत्साहन योजना की राशि नहीं मिली है। इस पर कलेक्टर हरदा ने जानकारी दी कि इनकी शिकायत पर कार्रवाई करते हुये उन्हें 63 हजार रुपये की राशि दी जा चुकी है। जब जयराम ने बताया कि उनके दो बेटे बादल और आकाश हो गये हैं। तब मुख्यमंत्री ने इन दोनों बच्चों के लिये सहायता राशि स्वीकृत की। समाधान ऑनलाइन के तहत आज ग्यारह हितग्राहियों की शिकायतों का निराकरण किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई के निर्देश दिये। कटनी जिले के ग्राम कटौह के श्री दर्शनलाल चौधरी द्वारा इन्दिरा आवास योजना की प्रथम किश्त देर से मिलने और दूसरी किश्त का भुगतान नहीं होने के प्रकरण में मुख्यमंत्री ने संबंधित जनपद पंचायत रीठी के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को निलंबित करने तथा पूरे प्रकरण की जांच करने के निर्देश दिये। रतलाम जिले की ग्राम पंचायत बिरमावल के सरपंच श्री कन्हैयालाल द्वारा कराये गये कार्यों का भुगतान नहीं मिलने की शिकायत पर मुख्यमंत्री ने जनपद पंचायत रतलाम के संबंधित सहायक यंत्री, उपयंत्री, सहायक लेखाधिकारी और मुख्य कार्यपालन अधिकारी को निलंबित करने और जांच करने के निर्देश दिये। सागर जिले के ग्राम इटवा में वन विभाग द्वारा तालाब निर्माण, पिचिंग और कूप निर्माण का कार्य होने के बाद भी आवेदकों को भुगतान नहीं मिलने की शिकायत पर संबंधित रेंजर और वनरक्षक को निलम्बित करने के निर्देश दिये। समाधान ऑनलाइन में आज शिवपुरी जिले के ग्राम सिलपुरा के श्री विश्वनाथ पाल की पत्नी को दुर्घटना में विकलांग होने पर सहायता राशि प्राप्त नहीं होने, दमोह जिले के ग्राम सासा के श्री रामसेवक घोषी की भूमि शासकीय अभिलेख में अंकित होने संबंधी, सीहोर जिले के ग्राम नजरगंज की श्रीमती कमला भूतिया के पति की मृत्यु के बाद मीसाबंदी पेंशन नहीं मिलने, हरदा जिले के ग्राम बड़झिरी के श्री जयराम को विकलांग विवाह प्रोत्साहन की राशि नहीं मिलने, सतना जिले के ग्राम मउहट श्रीमती गुलबसिया पटेल को प्रधानमंत्री आवास योजना की स्वीकृत राशि नहीं मिलने, देवास जिले के ग्राम बेडगांव के श्री गबू मनसौरे की पत्नी की मृत्यु के बाद बीमा राशि नहीं मिलने, इन्दौर जिले के ग्राम भालौदा के श्री संतोष शर्मा और ग्राम बलधारा के श्री सोहन उपाध्याय के पुजारी का मानदेय नहीं मिलने की और बालाघाट जिले ग्राम कारंजा के श्री झामसिंह नाईक को नलकूप खनन योजना की राशि दूसरे खाते में जाने की शिकायत का निराकरण किया गया। बेहतर प्रदर्शन करने वाले जिलों को बधाई इस दौरान सीएम हेल्प लाईन की संशोधित ग्रेडिंग प्रणाली के संबंध में प्रस्तुतिकरण दिया गया। सीएम हेल्प लाईन की शिकायतों के निराकरण में बेहतर प्रदर्शन करने वाले जिलों, जिला पंचायतों और नगर निगमों को मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बधाई दी। बताया गया कि सीएम हेल्प लाईन की शिकायतों के निराकरण में नरसिंहपुर, इन्दौर, होशंगाबाद, मंदसौर और बालाघाट जिलों ने बेहतर प्रदर्शन किया है। झाबुआ, बुरहानपुर, नरसिंहपुर, जबलपुर और होशंगाबाद जिला पंचायतों ने बेहतर प्रदर्शन किया है। रीवा, भोपाल, छिंदवाड़ा, इन्दौर और उज्जैन नगर निगमों ने बेहतर प्रदर्शन किया है। समाधान ऑनलाइन के तहत संबंधित विभागों के अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  5 July 2017

शिवराज सिंह चौहान

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में दो जुलाई को वृहद वृक्षारोपण का इतिहास रचा जायेगा। इस दिन नर्मदा बेसिन में जन-सहभागिता से 6 करोड़ से ज्यादा पौधे लगाये जायेंगे। इसकी तैयारियाँ युद्ध स्तर पर चल रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस महत्वाकांक्षी जन-अभियान की तैयारियों की आज वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने नर्मदा बेसिन से संबंधित जिलों में वृक्षारोपण की तैयारियों की समीक्षा करते हुए कहा कि इस जन-अभियान को जन-महोत्सव का रूप दिया जाये। इसमें सामाजिक, धार्मिक, सांस्कृतिक, राजनैतिक एवं सभी संगठनों तथा किसान, व्यापारी, विद्यार्थी, सरकारी कर्मचारी आदि सभी वर्गों की सहभागिता सुनिश्चित की जाये। पौधों, गड्डे एवं लोगों की पर्याप्त व्यवस्था रखी जाये। श्री चौहान ने कहा कि इस महाभियान से नर्मदा सेवा मिशन का सबसे बड़ा संकल्प पूरा होगा। यह पर्यावरण बचाने का महायज्ञ है। इससे जन-संगठनों और जनता को जोड़ने के लिये अभिनव प्रयोग किये जाये। प्रत्येक जिला अपना लक्ष्य पूरा करेगा। उन्होंने वृक्षारोपण के बाद पौधों की सुरक्षा और देखभाल की व्यवस्था भी सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि पौधे निर्धारित स्थान पर पहुँच जाये तथा इसमें सहयोग के लिये लोगों का पंजीयन भी बढ़ाया जाये। मुख्यमंत्री ने जनता की सहभागिता बढ़ाने के लिये जिलों में किये गये नवाचारों पर प्रसन्नता व्यक्त की। साथ ही तैयारियों पर संतोष व्यक्त किया। श्री चौहान ने कहा कि वे स्वयं अमरकंटक, जबलपुर एवं खंडवा जिलों में वृक्षारोपण कार्यक्रम में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि वृक्षारोपण महाअभियान का शुभारंभ मॉ नर्मदा के चित्र पर माल्यार्पण कर एवं नर्मदा गीत से किया जाये। इसमें जन-संगठनों, जनता और जन-प्रतिनिधियों की भागीदारी हो। उन्होंने प्रत्येक जिले के कलेकटर से लक्ष्य पौधों की उपलब्धता, गड्डों की स्थिति और जन-सहभागिता की जानकारी ली। समीक्षा के दौरान वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, मुख्य सचिव श्री बी.पी.सिंह एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे। साथ ही जिलों में सांसद, विधायक एवं अन्य जन-प्रतिनिधि मौजूद थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  29 June 2017

दीपक जोशी

पूर्व क्रिकेटर श्रीकांत और  चेतन चौहान भी होंगे शामिल मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान भोपाल में बनने वाले देश के सबसे बड़े ग्लोबल स्किल पार्क का शिलान्यास 3 जुलाई को करेंगे। कार्यक्रम में केन्द्रीय कौशल विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री राजीव प्रताप रुड़ी, भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान श्री के.श्रीकांत और पूर्व क्रिकेटर तथा उत्तर प्रदेश के कौशल विकास राज्य मंत्री (स्वतंत प्रभार) श्री चेतन चौहान भी शामिल होंगे। प्रदेश के कौशल विकास एवं तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री दीपक जोशी ने आज कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा की। स्किल पार्क का निर्माण 645 करोड़ की लागत से 37 एकड़ में किया जायेगा। पार्क में हर साल एक हजार विद्यार्थियों को प्रशिक्षित किया जायेगा। प्रशिक्षक विश्व स्तर के होंगे। प्रशिक्षित विद्यार्थियों का प्लेसमेंट भारत एवं भारत के बाहर इंटरनेशनल स्तर पर किया जायेगा। 'इंडस्ट्री के साथ एवं इंडस्ट्री के लिये' की भावना पर पार्क संचालित होगा। अन्तर्राष्ट्रीय संयुक्त प्रमाणीकरण का प्रावधान भी होगा। समीक्षा के दौरान प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव, संचालक कौशल विकास श्री संजीव सिंह एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 June 2017

shivraj singh

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का भाषण हो या अफसरों की फाइलें किसानों से संबंधित योजनाओं की फेहरिस्त खासी लंबी होती है। लेकिन ये योजनाएं किसान के खेत-खलियान तक क्यों नहीं पहुंच पाती ये शायद वही सवाल है जिसका जवाब जानने मध्यप्रदेश का किसान सड़कों उतर आया है। मध्यप्रदेश में किसानों के नाम पर करीब 30 से ज्यादा योजनाएं चल रही हैं। इसमें केंद्र और राज्य सरकार दोनों की योजनाएं शामिल है लेकिन जमीन पर इनका लाभ बहुत कम किसानों को मिल पाता है। यदि ढूंढा जाए तो पूरी तहसील में सिर्फ 5 या 10 ही प्रगतिशील किसान मिलते हैं। मध्यप्रदेश सरकार का इस साल का कृषि बजट 33 हजार 564 करोड़ रुपए है। सरकार अगर कृषि पर करोड़ों रुपए फूंक रही है तो भी किसान आगे क्यों नहीं बढ़ रहा है। किसानों को जानकारी देने की जिम्मेदारी ग्राम सेवकों की है लेकिन कई जगह ग्राम सेवक गांव में जाते ही नहीं हैं। इनके बहुत कम किसानों से संपर्क होते है। इनके जरिए ही बीज, खाद या दवा किसानों तक पहुंचती है जिसकी कीमत बाजार से आधी होती है। कई किसान शिकायत भी करते हैं कि ग्राम सेवकों से मिलने वाली कीटनाशक या दूसरी तरह की दवाईयां बहुत कम प्रभावी होती हैं। इस कारण किसान मजबूरी में बाजार से ही कीटनाशक दवा लेता है जिससे उसकी लागत बढ़ जाती है। योजनाएं  राज्य सरकार कृषि उपकरण,खेत में पाइपलाइन,पंपसेट स्प्रिंकलर, ट्रेक्टर के लिए कीमत में 25 से 50 फीसदी तक की सबसिडी देती है। उद्यानिकी विभाग भी पॉलीहाउस,फल-फूल की खेती, मधुमक्खी पालन, सरंक्षित खेती और सूक्ष्म सिंचाई के लिए सबसिडी देता है।सबसिडी का लाभ लेने के लिए किसानों को ऑनलाइन अपने बैंक खाते की जानकारी के साथ एमपीएफटीएस (मध्यप्रदेश फार्मर सबसिडी ट्रेकिंग सिस्टम) पर रजिस्ट्रेशन करवाना होता है। ज्यादातर योजनाओं में सबसिडी का पैसा सालभर तक नहीं मिलता है। लिहाजा किसान इसका फायदा नहीं उठा पाता।यदि किसान कुआं खुदवाता है बोरिंग करवाता है तो उसे पंप पर 50 फीसदी की सबसिडी मिलती है। लेकिन यह सबसिडी आवेदन के एक साल बाद मिलती है। सरकार पॉलीहाऊस लगाने के लिए भी 50 फीसदी सबसिडी देती है। लेकिन यहां भी सबसिडी काफी देर से मिलती है और किसान साहूकार से कर्ज लेकर उसके चंगुल में फंस जाता है  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  14 June 2017

kisan andolan

 मध्यप्रदेश में जिसका डर था वही होने लगा। जान देता किसान जान लेने पर उतारू हो गया। किसान पुत्र मुख्यमंत्री होने के बावजूद सीआरपीएफ या पुलिस की गोली से सात किसानों की मौत चौतरफा सवाल करती है। सरकार उत्तर देने के बजाए अनशन कर पॉलिटिकल इवेंट का हथकंडा अपनाती है। फौरी तौर पर असंतोष और आंदोलन की आग पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के अनशन से ठंडक के छींटे पड़े हैं। अगर सरकार संभली नहीं तो ये आंदोलनों का आरम्भ  है अंत कैसा होगा पता नहीं। लेकिन अच्छा तो नहीं ही होगा। असल में यह असंतोष की आग बरास्ते मंत्री, विधायक, संगठन से होती हुई किसानों से आगे कर्मचारियों और जनता के बीच दावानल बनने के संकेत दे रही है। प्रदेशों में किसान आंदोलन की वजह राज्यों की सरकारें कम केंद्र की किसान हितैषी नीति नहीं होना भी है। उद्याेगों की प्रति समपर्ण और किसानों की उपेक्षा ने भी शिवराज सिंह चौहान, रमन सिंह, देवेन्द्र फडनवीस, वसुंधरा राजे और विजय रूपाणी जैसे मुख्यमंत्रियों के लिए मुसीबत पैदा कर दी है। किसानों की खुशहाली के बिना देश कैसे मुस्कुरा सकता है। किसानों की अंसतोष्ा की बड़ी वजह कृषि उत्पादों के लागत मूल्य तय नहीं होना और वादे के मुताबिक लागत मूल्य में 50 फीसदी मुनाफा जोड़कर बाजार मूल्य घोषित नहीं होना भी खास है। अन्नदाता का गुस्सा प्रदेश भाजपा के गढ़ मालवा के मंदसौर-नीमच से शुरू होकर भेापाल तक पहुंच गया। राजस्थान की सीमा से लगा यह इलाका मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के लिए भी आने वाले समय में दिक्कतें पैदाकर सकता है। मंदसौर किसानों की छाती में गोली मार पहले ही दिन छह को मार दिया। उस पर प्रशासन ने सरकार को गुमराह कर कह दिया कि गोली पुलिस ने नहीं चलाई। पूरे एक दिन सरकार की फजीहत हुई और बाद में गृह मंत्री ने स्वीकार किया कि किसानों की मौत पुलिस की गोली से हुई। यहं खास बात यह है कि गृहमंत्री को पुलिस अधीक्षक ने गलत जानकारी दी। जिससे सरकार की किरकिरी हुई। और हैरत की बात यह है कि गृहमंत्री गुमराह करने वाले अधिकारी का कुछ नहीं बिगड़ा। जबकि गलत जानकारी ने सरकार की किसान हितैषी छबि का पूरा गणित ही गड़बड़ा दिया। पूरी सरकार उसकी संवेदना दांव पर लग गई। मीडिया मेनेजर चाहे जितनी सांत्वना दे मगर हालात को काबू पाने के सीएम को मंत्रालय छोड़कर दशहरा मैदान में दो दिन का अनशन करना पड़ा। ऐसा पहली बार हुआ। सियासत में इमेज का बड़ा महत्व होता है इस घटना ने शिवराज सिंह की किसान पुत्र की छबि को दागदार कर दिया है। प्रशासन ने इतना नुकसान किया जो कि उनके विरोधी भी नहीं कर पाये। असल में यह अफसरों के उपर निर्भर रहने के नतीजे है। अफसर चाहते है कि वे प्रशासन के साथ-साथ सियासी सलाह भी दे। और अपने मुताबिक फैसले भी कराये। इससे में उनकी पांचों उंगलियां घी में और सिर कढ़ाई में होता है। सरकार नहीं समझी तो यह दौर आगे भी जारी रहने वाला है। अफसरों के चश्मे से देखने और उनके कानों से सुनने की वजह से अकसर मंत्री, विधायक और कार्यकर्ता बेईमान और आम जनता गलत काम कराने वाली दिखने लगती है। ऐसे में जो काम सरकारी स्तर पर होते है वे जन हित में कम अहसान के तौर पर ज्यादा किये जाते हैं।  नौकरशाही का हावी होना इस बात का प्रमाण है कि सात किसानों की मौत्ा के बाद भी एक भी अधिकारी न तो निलंबित हुआ और न किसी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। इतनी बड़ी घटना के बाद भी कठोर निर्णय तो दूर की बात एस.पी. कलेक्टर को हटाने जैसे शब्दों से भी परहेज कर उन्हंे विड्रा करने जैसे शब्दों का इस्तेमान किया गया। ऐसा इसलिए कि हटाये गये अफसर आहत न हो जाये। ये एक और सबूत है कि नौकरशाही सरकार पर किस कदर हाव्ाी है। सरकार और प्रशासन कि स्थिति पर पत्रकार अमिताम बुधौलिया के फेसबुक वाल से ली गई चंद लाईने पेश है .... “ घोड़े हैं स्वतंत्र और सवारों पे लगाम है। आपके राज्य का बढि़या इंतजाम है, मरती है तो मरे पब्लिक, इनकी बला से  जश्न से फुरसत नहीं, घूमना ही बस काम है। इससे अच्छे दिन और क्यों आएंगे दोस्ताें  स्वच्छ भारत में नेताओं पे थूकना भी अब हराम है।।” असल में अफसरों के जरिये मंत्रियों पर नकेल कसने का यह खालिस नुस्खा है जिसे कुछ सालों के बाद हर मुख्यमंत्री अपना ही लेता है। अफसर मुखिया को हर पाकञसाफ और भाग्य विधाता बना देते है। छोटे बड़े अफसर सीधे सीएम के मुह लग जाते हैं। गिरोह बना कर बाकायदा खुसामत करते हैं। हर असफलता का ठीकरा दूसरों के सर फोड़ते हैं। मंदसौर गोली कांड भी इसी का प्रमाण है। ऐसे में मुख्यमंत्री को बिन मांगी सलाह कि वे आत्म चिंतन करें। और जिन तरीकों और संगठन की मदद् से सरकार में आये हैं उसे फिर से जीवंत करें। चंपू नेता, पालतू मीडिया और चापलुस नौकरशाहों से बचें। दोषियों पर कठोर कार्रवाई जैसा कि वे कहते हैं उसे कर डाले। नही तो जनता उन्हें कमजोर मुख्यमंत्री के तौर पर देखेगी। अनशन के जरिये एक बार फिर इवेंट मैनेजरी जन नेता शिवराज सिंह चौहान को लगता है डेमेज कंट्रोल करने के लिए अवेंट कराने का चस्का लग गया है। नर्मदा माई से लेकर नदियों से रेत लूटने का मामला हो तो डेमेज कंट्रोल के नर्मदा सेवा यात्रा निकालों अलग बात है इसका नतीजा उल्टा पड़ा। इस विश्वव्यापी अभियान में देशव्यापी थू-थू हुई। अभी इससे उन्हें निजात भी नहीं मिली थी कि मंदसौर कांड ने उनसे मंत्रालय छुड़वा कर दशहरा मैदान में अनशन करवा दिया। इवेंट के लिए जम्बूरी मैदान के बाद दशहरा मैदान एक नई खोज है। वास्कोडीगामा बने मैनेजरों को इसके लिए बधाई। कुछ करोड़ ही खर्च आएगा 2018 के चुनाव तक जिसमें कुछ मैनेजर करोड़पति और कुछ दर्जन सहायक लखपति तो हो ही जायेंगे। अभी से उनके लिए बधाई और भविष्य के लिए शुभकामनाएं। क्योंकि नर्मदा यात्रा से लेकर मुख्यमंत्री के अनशन तक हुए खर्च का लोग अनुमान भ्ाी लगा रहे हैं और हिसाब भी मांग रहे हैं। जानकारों के मुताबिक यह आंकड़ा अरबों में है। दो दिन के अनशन के प्रबंधन का खर्च ही करोड़ों का बताया जा रहा हैं।  बहरहाल, इससे अलग भाजपा में सत्ता संगठन को लेकर हो रही गुटबाजी मुख्यमंत्री के अनशन से एकता का मेगा-शो करती दिखाई दी। पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर, प्रभात झा, कैलाश विजयवर्गीय से लेकर केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर सब एक मंच पर दिखाई दिये। पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी ने श्री चौहान को नारियल पानी पिलाकर अनशन तुड़वाया। इसी तरह कांग्रेस एकता टाॅनिक मंदसौर कांड दे गया। उसके युवराज राहुल बाबा से लेकर महाराजा ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह, नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, पीसीसी चीफ अरूण यादव और  सबके बड़े भाई कमनलाथ सब एकजुट नजर आये।  अगले साल चुनाव के पहले यह घटनाक्रम कांग्रेस को संजीवनी से कम नहीं हैं।  प्रदेश के सियासी-नौकारशाही के हालात पर सच के आस-पास लिखने और बोलने वालों के लिए दो लाईनें खास है... मैं दीया हूँ... मेरी दुश्मनी तो सिर्फ अंधेरे से है  हवा ताे बेवजह ही मेरे खिलाफ है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  12 June 2017

इंदौर -बारिश और तूफान

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान  इंदौर में भारी बारिश और तूफान के कारण कार्यक्रम स्थल के क्षतिग्रस्त होने से घायल लोगों को देखने यूनिक अस्पताल पहुँचे। मुख्यमंत्री ने सभी घायलों से बातचीत की और उन्हें बताया कि घटना स्थल पर उपस्थित सभी लोग सकुशल हैं। घायलों का पूरा इलाज मध्यप्रदेश सरकार द्वारा करवाया जायेगा। श्री सिंह ने चिकित्सकों को सभी घायलों का तुरंत समुचित इलाज सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री श्री चौहान के आज इंदौर में प्रस्तावित कार्यक्रम स्थल पर अचानक तूफान बारिश के कारण जब अफरा-तफरी मची, तब मुख्यमंत्री घटना स्थल पर ही डटे रहे और स्वयं ने वहाँ सभी लोगों को पंडाल से बाहर निकलवाकर अस्पताल पहुँचवाया। सबसे आखिर में मुख्यमंत्री श्री चौहान तुरंत अस्पताल पहुँचे और घायलों के उपचार की व्यवस्थाएँ सुनिश्चित की।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 June 2017

खिलाड़ियों का सम्मान

  इंदौर में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि खिलाड़ियों का सम्मान करने से प्रोत्साहन मिलता है। राज्य शासन खेलों के विकास के लिये कृत-संकल्पित है। भारत में पिछले एक दशक में खेलों का तेजी से विकास हुआ है। क्रिकेट और अन्य क्षेत्रों में हमने अंतर्राष्ट्रीय स्तर की उपलब्धियाँ हासिल की हैं। प्रदेश सरकार खेल और खिलाड़ियों के साथ है। समय-समय पर खिलाड़ियों का सम्मान जरूरी है। सम्मान से खिलाड़ियों को प्रेरणा मिलती है। श्री चौहान ने आज मध्यप्रदेश ओलम्पिक संघ द्वारा आयोजित सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए यह बात कही। समारोह में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा खेल प्रशासकों, खेल संगठनों के पदाधिकारियों और प्रतिभाशाली खिलाड़ियों का सम्मान किया गया। इस अवसर पर श्री अभय छजलानी, श्री अनिल थूपर, श्री बलवीर सिंह चौहान, श्री ओम सोनी और श्री आलोक खरे का मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शॉल-श्रीफल और प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित किया। समारोह में प्रतिभाशाली खिलाड़ी श्री प्रकाश मिश्रा, गणेशवरी धुर्वे, नमिता चन्देल, अंजुल नामदेव, लतिका भण्डारी, प्रिंस परमार, कुलदीप सिंह कोर, शालू रायकवार, आरती खकाल, सतीश को सम्मानित किया गया। समारोह में श्री के.एस. गिल, श्री वीरेन्द्र सिंह, श्री बी.एस. राजपूत, श्री ओम सोनी, श्री संतोष त्रिपाठी, श्री के.बी. अग्रवाल, श्री बी.डी. विद्यार्थी, श्री एस.एन. मुखर्जी, श्री सुमेर सिंह गढ़ा, श्री अर्जुन सिंह धूपर, श्री जी.के. श्रीवास्तव, श्री अभय राहुल, श्री प्रीतपाल सिंह, श्री लोक बहादुर, श्री मदन यादव, श्री संजय यादव, श्री विनोद पोतदार, श्री चन्दूराव शिंदे, श्री प्रशांत वैशाली, श्री महेश आदि को शॉल-श्रीफल और प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री श्री कैलाश विजयवर्गीय, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री नंदकुमार सिंह चौहान, आईडीए अध्यक्ष श्री शंकर लालवानी, विधायक श्री रमेश मेंदोला, सुश्री उषा ठाकुर, श्री सुदर्शन गुप्ता, श्री राजेश सोनकर, श्री कैलाश शर्मा, श्री दिग्विजय सिंह और श्री ओम सोनी आदि मौजूद थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 June 2017

kisan hadtal

किसान हड़ताल का असर ,दूध-सब्जी की सप्लाई रुकी  मध्यप्रदेश में किसानों की हड़ताल के तीसरे दिन शनिवार को एक बार फिर आम लोगों को दूध और सब्जी की किल्लत का सामना करना पड़ा। कई इलाकों में पुलिस की सुरक्षा में दूध और सब्जी की दुकानें खुलीं, लेकिन इन्हें बहुत ज्यादा कीमत पर बेचा गया। उधर कई जगह आंदोलन कर रहे किसानों ने दूध और सब्जी की सप्लाई रोकने के लिए निजी वाहनों और बसों में भी चेकिंग शुरू कर दी है। भारतीय किसान संघ भी अब इस हड़ताल में शामिल होगा। किसान के आंदोलन पर सरकार हरकत में आ गई है। शनिवार दोपहर मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह ने इंदौर, उज्जैन और भोपाल संभाग के अधिकारियों से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा की। इस दौरान तीनों संभागों के आईजी, कलेक्टर, एसपी और दुग्ध संघ के अधिकारी भी उपस्थित थे। देवास के पास कन्नौद में खेत से 2 लीटर दूध लेकर घर आ रहे किसान को आंदोलनकारियों ने सुबह 8.15 बजे सरकारी अस्पताल के सामने रोक लिया, उन्होंने पहले दूध बहाया इसके बाद किसान के साथ मारपीट की। मामले में रिपोर्ट लिखाई गई। राजोदा में कैलोद चौराहे पर निजी वाहनों को रोक कर किसानों ने चेकिंग की, सुबह से खुली दूध डेयरियां भी बंद करवा दी गईं। खंडवा में बसों की चेकिंग में मिली सब्जी किसानों ने सड़क पर फेंकी। महाराष्ट्र से आया दूध का वाहन भी रोका, जिसके बाद ड्राइवर वाहन को थाने ले गया। वहां पुलिस के संरक्षण में दूध ज्यादा कीमत में बिका। शाजापुर में सांची दूध की सप्लाई होने से स्थिति कुछ सामान्य हुई, लेकिन खुला दूध अब भी नहीं मिला। यहां सब्जी की सप्लाई बंद रही। शाजापुर में करीब बड़ी संख्या में किसान सड़क पर उतर आए और सरकार विरोधी नारे लगाते हुए जमकर प्रदर्शन किया। मंदसौर में 300 लीटर दूध एक कार से जब्त हुआ, जिसके बाद जिला अस्पताल में इसे बांट दिया गया। कई जगह किसानों का विरोध जारी रहा उन्होंने रोक-रोकर वाहनों की चेकिंग की। दूध और सब्जी की किल्लत के चलते कई जगह आम लोगों ने किसानों का विरोध किया। लोगों का कहना है कि यह तरीका बिल्कुल गलत है। झाबुआ और आलीराजपुर में हड़ताल का कोई असर नहीं दिखा, यहां सामान्य रूप से मंडी खुली और दूध की सप्लाई भी सामान्य रही। हालांकि मंड़ि‍यों में सब्जी की आवक पहले की अपेक्षा कम रही। खरगोन सब्जी मंडी में हालत सामान्य रहे लेकिन सब्जियों के भाव आसमान पर रहे। इंदौर और धार में किसानों आंदोलन के चलते व्यापारी खरगोन नहीं पहुंचे। यहां दूध की सप्लाई भी सामान्य रही। रविवार को सब्जी मंडी बंद रह सकती है। जिले के भीकनगांव में सब्जी का व्यापार जारी। यहां सांची के दूध की सप्लाई भी हुई, गड़बड़ी की आशंका के चलते अमूल का दूध नहीं मंगवाया गया। जानकारी के मुता‍बिक सांची का 10 हजार लीटर दूध यहां सप्लाई हुआ। बड़वानी में किसान आंदोलन का असर नहीं रहा।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  3 June 2017

 डॉ.बाबा साहब अम्बेडकर

हमारा सौभाग्य कि डॉ. अम्बेडकर जैसे महापुरूष ने प्रदेश की धरती पर जन्म लिया    मुख्यमंत्री  शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि हम सबका सौभाग्य है कि भारत रत्न बाबा साहब डॉ.भीमराव अम्बेडकर जैसे महापुरूष ने प्रदेश की धरती पर जन्म लिया। बाबा साहब प्रखर बुद्धिमान और प्रतिभा के धनी थे। वे व्यक्ति नहीं पूरी संस्था थे। अभाव और कठिनाइयों में भी उन्होंने उच्च शिक्षा प्राप्त की और आगे बढ़े। उनका जीवन हम सबके लिये प्रेरणादायी है। मुख्यमंत्री श्री चौहान अम्बेडकर नगर (महू) में डॉ. अम्बेडकर की जयंती महाकुंभ में राष्ट्रीय एकता और सामाजिक समरसता सम्मेलन को सम्बोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने 'ग्रामोदय से भारत उदय अभियान'' की शुरूआत भी की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि महाकुंभ में देश और प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों से पधारे श्रद्धालु सरकार के मेहमान हैं। सरकार आज मेजबान की भूमिका में है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री बनने के बाद जब वे पहली बार महू आये थे, तो देखा कि कुंभ की तरह बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहाँ बाबा साहब के प्रति अपनी श्रद्धा प्रकट करने आते हैं, किंतु उनके रुकने, खाने-पीने के कोई प्रबंध नहीं हैं। तभी तय किया कि डॉ.अम्बेडकर की जयंती के अवसर पर 14 अप्रैल को हर साल महाकुंभ होगा और सरकार महाकुंभ में आने वाले श्रद्धालुओं के ठहरने और खाने-पीने की व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करेगी।  मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें बाबा साहब की जन्म-स्थली पर स्मारक बनवाने का सौभाग्य मिला। महाराष्ट्र सरकार ने भी इन्दु मिल की जमीन को बाबा साहब की भव्य प्रतिमा स्थापित करने के लिये सौंप दी है। इसके अलावा महाराष्ट्र और भारत सरकार ने लंदन में उस भवन को भी स्मारक बनाने के लिये खरीद लिया है, जिसमें रहकर बाबा साहब ने पढ़ाई की। उन्होंने बताया कि बाबा साहब के जीवन से जुड़े पाँच स्थान पंच तीर्थ के रूप में बनेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमारी सरकार सभी वर्गों की सरकार है, किंतु पहले उनकी है जो सबसे गरीब हैं, जो सबसे नीचे हैं। उन्होंने कहा कि बाबा साहब ने गरीबों के उत्थान के लिये सतत् प्रयास किये। वे हमेशा शिक्षित बनने की बात कहते थे। सरकार ने अनुसूचित जाति-जनजाति वर्ग के बच्चों में शिक्षा को  बढ़ावा देने के लिये नि:शुल्क गणवेश, किताबें, साइकिल जैसी सुविधाओं के साथ छात्रवृत्ति, छात्रावास, विदेश में अध्ययन की व्यवस्था और शहरों में किराये से कमरा लेकर पढ़ने की सुविधा की योजना लागू की है। साथ ही प्रायवेट मेडिकल/इंजीनियरिंग/ प्रबंधन संस्थानों में प्रवेश मिलने पर सरकार की ओर से फीस दिये जाने दिये की भी योजना संचालित है। रोजगार के लिये  मुख्यमंत्री युवा उद्यमी और स्व-रोजगार जैसी योजनाएँ विशेषकर अनुसूचित जाति-जनजाति के युवकों के लिये शुरू की गई हैं। इन योजनाओं में बैंक ऋण की गारंटी राज्य शासन द्वारा दी जाती है। वन, योजना, आर्थिक और सांख्यिकी मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान के कार्यकाल में अनुसूचित जाति-जनजाति वर्ग के लोगों को सबसे ज्यादा लाभ मिला है। सामाजिक समरसता के क्षेत्र में भी सर्वाधिक प्रयास हुए हैं। उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति-जनजाति के बच्चों को मिलने वाली छात्रवृत्ति की दरों में खासी बढ़ोत्तरी की गयी है। प्रदेश में छात्रावासों की संख्या भी दोगुनी हो गयी है।    महाराष्ट्र की सांसद और भाजपा युवा मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुश्री पूनम महाजन ने कहा कि बाबा साहब बड़े दूरदृष्टा थे। उन्होंने हमें ऐसा संविधान दिया जो हर परिस्थिति में समीचीन है। उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र सरकार ने इन्दु मिल की जमीन को बाबा साहब अम्बेडकर की प्रतिमा स्थापना के लिये दे दी है और यह प्रतिमा जल्द ही बनकर तैयार होगी। सम्मेलन को बौद्ध संत भंते श्री संघशीलजी ने भी संबोधित किया। स्वागत भाषण नर्मदा घाटी विकास, सामान्य प्रशासन और विमानन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री लालसिंह आर्य ने दिया। जिला पंचायत की अध्यक्ष सुश्री कविता पाटीदार ने आभार माना। प्रारंभ में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बौद्ध संत भंते श्री संघशीलजी का पुष्प-गुच्छ भेंट कर अभिवादन किया। सम्मेलन में सांसद श्रीमती सावित्री ठाकुर, विधायक सुश्री उषा ठाकुर सहित अन्य जन-प्रतिनिधि मौजूद थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  14 April 2017

 पुलिस हाउसिंग बोर्ड

मुख्यमंत्री  द्वारा इंदौर में पुलिस हाउसिंग बोर्ड की 15 मंजिला इमारतों का भूमि-पूजन  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश पुलिस की सजगता के कारण आज पूरा प्रदेश शांति का टापू बना हुआ है। माताएँ-बहनें निर्भीक रूप से कहीं भी आ-जा सकती हैं। पुलिस के जवान प्रदेश में शांति, कानून और व्यवस्था बनाये रखने में अपना योगदान दे रहे हैं। उनके परिवार के लिये आवास और अन्य सुविधाओं को उपलब्ध करवाने का कार्य प्रदेश सरकार का है। पुलिस जवानों के लिये 25 हजार मकान स्वीकृत किये गये हैं। दो वर्ष में ही यह 15 मंजिला इमारतें तैयार की जायेंगी। आधुनिक तरीके से इन इमारतों का निर्माण किया जा रहा है। इसमें सर्व-सुविधायुक्त व्यवस्था भी उपलब्ध रहेगी। यह बात मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने पुलिस हाउसिंग बोर्ड कार्पोरेशन के  महेश गार्ड लाइन इंदौर स्थित 15वीं बटालियन में भूमि-पूजन कार्यक्रम में कही। वन मंत्री श्री गौरीशंकर शेजवार, महापौर श्रीमती मालिनी लक्ष्मणसिंह गौड़, मध्यप्रदेश हाउसिंग बोर्ड के चेयरमेन श्री कृष्णमुरारी मोघे, विधायक श्री सुदर्शन गुप्ता, सुश्री उषा ठाकुर, श्री राजेश सोनकर उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि 'यह भवन पुलिस के जवानों के लिये ही नहीं वरन उन भाँजे-भाँजियों के लिये बना रहे हैं जो अपने पिता-पुत्र,भाई-बहन आदि को पुलिस की नौकरी के जरिये समाज-सेवा के लिये क्रियाशील और उर्जावान रखते हैं। मध्यप्रदेश की पुलिस ने अभूतपूर्व कार्य किये हैं। इनमें सबसे प्रमुख कार्य चम्बल के बीहड़ों को डाकूविहीन कर विकास के नये मार्ग तैयार करना है। अब चम्बल में डाकू नहीं विकास का रोडमैप तैयार हो रहा है। मध्यप्रदेश पुलिस ने प्रदेश में नक्सलवाद को फैलने नहीं दिया। नक्सलियों को प्रदेश की सीमा के बाहर ही रोक दिया है। सिमी जैसे आंतकवादी संगठनों के नेटवर्क को ध्वस्त किया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पुलिस जवानों के बेटा-बेटी की उच्च-स्तरीय पढ़ाई के लिये आवश्यकता होने पर सरकार संसाधन के साथ राशि भी उपलब्ध करवाने के प्रयास करेगी। पुलिस का जवान अपने कर्म से समाज-सेवा के लिये 24 घण्टे क्रियाशील रहता है। परिवार और बच्चे-बच्चियों को पूरा समय नहीं दे पाता है। पुलिस की नौकरी वास्तव में समाज-सेवा का सबसे बड़ा उदाहरण है। पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि शुक्ला ने पुलिस परिवार के लिये 25 हजार मकान स्वीकृत करवाने के लिये मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि इस वर्ष 12 हजार से अधिक पुलिस जवानों की भर्ती की जा रही है। कानून-व्यवस्था बनाये रखना एक महती जिम्मेदारी है, जिसे पुलिस जवानों ने बेहतर तरीके से निभाया है। पुलिस हाउसिंग बोर्ड के महानिदेशक श्री सरबजीतसिंह ने कहा कि प्रदेश में पहली बार 15 माले की बहुमंजिला इमारत का निर्माण इंदौर में किया जा रहा है। इस प्रोजेक्ट से 944 मकान पुलिस को उपलब्ध करवाये जायेंगे। यह प्रोजेक्ट पूरी तरह ईको-फ्रेण्डली है, जिसमें सौर उर्जा के माध्यम से विद्युत सप्लाई की व्यवस्था की जायेगी। यह दो वर्ष में पूर्ण होगा। इससे पुलिस जवानों की आवासीय समस्या को हल करने में मदद मिलेगी। इंदौर में मुख्यमंत्री पुलिस आवास योजना में मोनोलेथिक शियर वॉल टेक्नालॉजी का प्रयोग प्रथम बार किया जा रहा है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  14 April 2017

प्रधानमंत्री आवास योजना

गृह प्रवेश में मुख्यमंत्री  चौहान हुए शामिल  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान आज इंदौर जिले के महू-अम्बेडकर नगर के नजदीक ग्राम गवली पलासिया निवासी उदयराज पिता सीताराम द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) में बनाये गये आवास के गृह प्रवेश में शामिल हुए। गृह प्रवेश कार्यक्रम में मुख्यमंत्री को पाकर उदयराज की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। मुख्यमंत्री ने उदयराज को शुभकामनाएँ दी। उदयराज का नया पक्का मकान 45 दिनों में बनकर तैयार हुआ है। इसके लिए उन्हें एक लाख 35 हजार रूपये तीन किस्त में दिये गये। वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, नर्मदा घाटी विकास (स्वतंत्र प्रभार) सामान्य प्रशासन और विमानन राज्य मंत्री श्री लालसिंह आर्य, जिला पंचायत अध्यक्ष सुश्री कविता पाटीदार एवं अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।  लगभग 45 दिन पहले गवली पलासिया के उदयराज मात्र दो चारपाई लगने वाले अपने कच्चे घर में रहते थे। वे गाँव के ही किशन पटेल के घर ट्रेक्टर चालक के रूप में काम करते रहे। बढ़ती उम्र में उनकी पीठ और हाथ के जोड़ों में एठन होने लगी। उन्होंने बताया कि हर बारिश में उन्हें मकान की चिंता सताती रहती थी। प्रधानमंत्री आवास मिशन में पहला मकान उनका बना, इसलिए उन्हें और भी खुशी है।  मुख्यमंत्री श्री चौहान गृह प्रवेश कार्यक्रम में हवन वेदिका पर बैठे। इसके पहले मुख्यमंत्री ने व्हील-चेयर पर बैठे उदयराज को फूलमाला पहनाई।    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  14 April 2017

बाबा साहेब की 126वीं जयंती

संविधान निर्माता बाबा साहेब अम्बेडकर की 126वीं  जयंती पर आगामी 14 अप्रैल को अम्बेडकर नगर महू में भव्य कार्यक्रम होगा। बाबा साहब अम्बेडकर की जन्म-स्थली महू में हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी राज्य शासन द्वारा अम्बेडकर महाकुंभ आयोजित किया जायेगा। इसी कार्यक्रम में 'ग्रामोदय से भारत उदय'' अभियान का शुभारंभ किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा की। बैठक में मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह भी उपस्थित थे।  मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आयोजन की सभी तैयारियाँ समय से पूरी की जाये। बाबा साहेब अम्बेडकर के जन्म-दिवस पर महू आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधाओं का ध्यान रखा जाये। श्रद्धालुओं के भोजन तथा आवास की व्यवस्था की जाये। श्रद्धालुओं के लिये खण्डवा से महू तक आने के लिये अतिरिक्त बसों की व्यवस्था की जाये। खण्डवा रेलवे स्टेशन पर श्रद्धालुओं की मदद के लिये स्वागत केन्द्र बनाया जाये। अम्बेडकर स्मारक पर सभी आवश्यक व्यवस्थाएँ की जाये। आयोजन के दौरान सुरक्षा तथा अन्य व्यवस्थाएँ चाक-चौबन्द रहे। व्यवस्थाओं में अशासकीय संगठनों और नागरिकों का सहयोग लिया जाये। मुख्य कार्यक्रम के बाद समरसता भोज का आयोजन किया जायेगा। इस भव्य समारोह में अन्य स्थानों के अलावा बड़ी संख्या में प्रदेश भर के श्रद्धालु शामिल होंगे। बैठक में अपर मुख्य सचिव श्री प्रभांशु कमल, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल, प्रमुख सचिव अनुसूचित जाति विकास श्रीमती दीपाली रस्तोगी, डॉ. अम्बेडकर मेमोरियल सोसायटी के अध्यक्ष श्री भंते संघशील, संभागायुक्त इंदौर श्री संजय दुबे, मुख्यमंत्री के सचिव श्री विवेक अग्रवाल, कलेक्टर इंदौर श्री पी. नरहरि और स्थानीय समिति के पदाधिकारी उपस्थित थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  10 April 2017

दीपक जोशी

हर साल ढाई लाख युवा होंगे प्रशिक्षित  मुख्यमंत्री कौशल संवर्धन योजना में हर साल 2 लाख 50 हजार युवा को प्रशिक्षित किया जायेगा। योजना में ऐसे प्रशिक्षण दिये जायेंगे, जिनकी पूर्ति परम्परागत आईटीआई पाठ्यक्रमों से संभव नहीं है। तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)  दीपक जोशी ने बताया कि योजना में औपचारिक शिक्षा प्रणाली को छोड़ चुके युवा कामगार, जो अपने अनौपचारिक कौशल का प्रमाणीकरण करवाना चाहते हैं और ऐसे व्यक्ति जो अपने कौशल को बढ़ाकर स्व-रोजगार करना चाहते हैं, को प्राथमिकता दी जायेगी। नक्सलवाद प्रभावित क्षेत्र के युवाओं को आवासीय प्रशिक्षण दिया जायेगा। विमुक्त, घुमक्कड़ और अर्द्ध-घुमक्कड़ वर्ग के युवाओं को भी प्रशिक्षित किया जायेगा। युवाओं को परिधान एवं गृह सज्जा, आटोमोबाइल्स, केपिटल गुड्स, वुडवर्क, टेक्नीशियन, निर्माण, घरेलू काम-काज, इलेक्ट्रॉनिक्स और हार्डवेयर, कृषि, ग्रीन जॉब, प्लंबर, फूड प्रोसेसिंग, रिटेल, आई.टी. सुरक्षा, टेलीकॉम, टूरिज्म एण्ड हा‍स्पिटेलिटी एवं वित्त सेवा से संबंधित प्रशिक्षण दिलवाया जायेगा। नेशनल स्किल क्वालीफिकेशन फ्रेमवर्क (एनएसक्यूएफ) के आधार पर कौशल दक्षता के स्तर निर्धारित किए गए हैं। ऐसे कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम भी संचालित किये जायेंगे, जिनके लिए रोजगार देने वाले सुनिश्चित रोजगार देने के लिए अनुबंध करेंगे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  7 April 2017

अमित शाह पर दिग्विजय सिंह के गंभीर अाराेप

    इंदौर में कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि केंद्र सरकार आयकर विभाग के माध्यम से व्यापारियों से वसूली कर रही है।  कोंग्रेस नेता सिंह ने आज यहां संवाददाताओं से चर्चा करते हुए कहा कि आयकर विभाग के अधिकारियों को वसूली का लक्ष्य दिया गया है, यही वजह है कि आयकर विभाग लगातार व्यापारियों को नोटिस जारी कर रहा है। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह पर आरोप लगाते हुए सिंह ने कहा कि गुजरात में शाह की को-ऑपरेटिव बैंक में सबसे ज्यादा नोट बदले गए हैं, नोटबंदी के बाद सबसे बड़ा काला कारोबार शाह ने ही किया है। सिंह ने कहा कि शाह ने उत्तरप्रदेश में किसानों को कर्ज माफ करने का सपना दिखाया। पहली केबिनेट में कर्ज माफ करने की बात कही, लेकिन अब बहाने बना रहे हैं। उन्होंने मध्यप्रदेश सरकार पर भी आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश में भ्रटाचार चरम पर है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नर्मदा यात्रा शुरू की है, लेकिन उनका परिवार नर्मदा किनारे रेत कारोबार में लगा है।    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  25 March 2017

इंदौर में पासपोर्ट सेवा

 इंदौर तथा उज्जैन संभाग के 15 जिलों के लिये आज इंदौर में पासपोर्ट सेवा लघु केन्द्र के रूप में बड़ी सौगात मिली। लोकसभा अध्यक्ष श्रीमती सुमित्रा महाजन ने केन्द्र का उदघाटन किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने की। विदेश राज्य मंत्री डॉ. व्ही.के. सिंह विशेष अतिथि थे। उदघाटन के साथ ही केन्द्र ने अपना काम शुरू कर दिया है। केन्द्र का लाभ 15 जिलों के पासपोर्ट आवेदकों को मिलेगा। शुरू में प्रतिदिन 100 एप्वाइंटमेंट जारी किये जायेंगे। इसके बाद माँग अनुसार इसे लगातार बढ़ाया जायेगा। केन्द्र को 600 से 700 आवेदन प्रोसेसिंग क्षमता का बनाया गया है। यह लघु केन्द्र पासपोर्ट सेवा केन्द्र की तरह ही कार्य करेगा। आवेदन की जाँच के साथ ही स्वीकृति की प्रक्रिया भी एक कार्य दिवस में पूरी हो जायेगी। लोकसभा अध्यक्ष श्रीमती सुमित्रा महाजन ने कहा कि केन्द्र की स्थापना सतत प्रयासों का सुपरिणाम है। उन्होंने कहा कि केन्द्र की स्थापना में विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज का अहम योगदान रहा है। उन्होंने कहा कि इंदौर एयरपोर्ट को अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट बनाने के लिये भी पहल की जा रही है। नागरिकों की लंबे समय की माँग केन्द्र के शुरू होने से आज पूरी हो गयी है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने केन्द्र की स्थापना के लिये लोकसभा अध्यक्ष सहित केन्द्र शासन का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि केन्द्र के प्रयासों से मध्यप्रदेश को नित नई सुविधाएँ मिल रही हैं। उन्होंने कहा कि वर्ष 1978 में जब श्री अटलबिहारी बाजपेयी विदेश मंत्री थे, उनके प्रयासों से भोपाल में पासपोर्ट सेवा केन्द्र की स्थापना की गयी। लंबे अंतराल के बाद इंदौर में लघु पासपोर्ट सेवा केन्द्र केन्द्र शासन के प्रयासों से खुला है। मुख्यमंत्री ने बताया कि केन्द्र शासन ने निर्णय लिया है कि मध्यप्रदेश के जबलपुर, ग्वालियर, सतना तथा विदिशा में भी पासपोर्ट सेवा केन्द्र खोले जायेंगे। हमारा प्रयास रहेगा कि इस तरह के केन्द्र प्रदेश के अन्य शहरों में भी खोले जायें। इन केन्द्रों की स्थापना के लिये राज्य शासन द्वारा हर संभव मदद दी जायेगी। उन्होंने कहा कि पासपोर्ट सेवा केन्द्रों का विस्तार समय की माँग है। केन्द्रीय विदेश राज्य मंत्री डॉ. व्ही.के. सिंह ने कहा कि पासपोर्ट सेवा अब आम नागरिकों के लिये बड़ी जरूरत बनती जा रही है। प्रयास है कि इन जरूरतों को पूरा करने के लिये पासपोर्ट सेवा केन्द्रों का विस्तार किया जाये। बड़ी संख्या में नये पासपोर्ट सेवा केन्द्र खोले जा रहे हैं। मध्यप्रदेश में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में जबलपुर, ग्वालियर, विदिशा और सतना में पासपोर्ट सेवा केन्द्र खोले जायेंगे। जिलों के मुख्य डाक घरों में भी पासपोर्ट सेवाएँ शुरू करने का प्रयास है। पासपोर्ट सेवा के कार्यों में पारदर्शिता लाकर सेवा को जन-हितैषी बनाया गया है। पासपोर्ट बनवाने का कार्य पूरी तरह ऑनलाइन किया जा रहा है। इसमें लगने वाले समय को बेहद कम कर दिया गया है। विदेश सचिव श्री ज्ञानेश्वर मूले ने बताया कि वर्तमान में पूरे देश में मात्र 6 से 7 करोड़ लोगों के पास ही पासपोर्ट हैं। प्रतिवर्ष एक करोड़ से सवा करोड़ पासपोर्ट बनाये जा रहे हैं। सप्ताहांत के शनिवार और रविवार को भी पासपोर्ट बनाने का कार्य किया जा रहा है। श्रीमती सुमित्रा महाजन और अन्य अतिथियों ने शहीद स्वर्गीय श्री ज्ञानेश्वर नागर की धर्मपत्नी और परिजनों को इंदौर विकास प्राधिकरण द्वारा निर्मित भवन के सांकेतिक कब्जे के रूप में प्रतीक चाबी दी गयी। अतिथियों ने फीता काटकर केन्द्र का उदघाटन किया। भवन का अवलोकन किया और नागरिकों के लिये उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी ली। इस मौके पर महापौर श्रीमती मालिनी गौड़, जिला पंचायत अध्यक्ष सुश्री कविता पाटीदार, इंदौर विकास प्राधिकरण अध्यक्ष श्री शंकर लालवानी, विधायक सर्वश्री सुदर्शन गुप्ता, महेन्द्र हार्डिया, मनोज पटेल विशेष रूप से उपस्थित थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  23 February 2017

मध्यप्रदेश पर्यटन के टीवीसी  एफी अवार्ड

सुरुचिपूर्ण एवं लोकप्रिय एड केम्पेन के लिये देशभर में अपनी अलग ख्याति और पहचान बनाने वाले मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम के 'एम.पी. में दिल हुआ बच्चे सा' टीवीसी को प्रतिष्ठित एफी अवार्ड घोषित किया गया है। यह अवार्ड मध्यप्रदेश पर्यटन को बेस्ट ऑन गोइंग केम्पेन के लिये प्रदान किया गया है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने जून 2016 में मध्यप्रदेश पर्यटन के इस एड केम्पेन को लॉन्च किया था। अवसर था- मिंटो हॉल के जीर्णोद्धार एवं कन्वेंशन सेंटर के कार्य की शुरूआत का। मध्यप्रदेश पर्यटन के अन्य टीवीसी की तरह 'एमपी में दिल हुआ बच्चे सा' टीवीसी को भी शुरूआत से ही खासी लोकप्रियता हासिल हुई। यह एड लोगों की जुबान पर चढ़ गया था। इस एड में कहा गया है कि बचपन में कुछ नई अनोखी चीजों को देखकर जो खुशी मिलती है, दिल को कुछ ऐसी ही खुशी मिलती है मध्यप्रदेश आकर। जो भी मध्यप्रदेश आता है, उसका दिल बच्चों सा बन जाता है। मध्यप्रदेश के जंगलों में, उसके महलों में, उसकी कला-कृतियों में...। मध्यप्रदेश आने पर दिल करता है कि उसका चप्पा-चप्पा छान मारें। कुछ ऐसा ही दिखता है मध्यप्रदेश। एड में बच्चों के रंग-बिरंगे खिलौने से बने मध्यप्रदेश के पर्यटन-स्थल यह दशाते हैं कि यहाँ आकर दिल बच्चे सा हो जाता है। उल्लेखनीय है कि एफी अवार्ड न्यूयार्क अमेरिकन मार्केटिंग एसोसिएशन द्वारा अत्यधिक प्रभावी एडवर्टाइजिंग प्रोग्राम के लिय वर्ष 1968 में स्थापित किया गया था। यह अवार्ड प्रभावी मार्केटिंग कम्यूनिकेशन के लिये संचालित कैम्पेन एवं रचनात्मक प्रभावी कार्यों के लिये व्यक्तिगत श्रेणी में भी दिया जाता है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 February 2017

श्रमोदय विद्यालय

श्रमिकों के बच्चों को मिलेगी पब्लिक स्कूल जैसी शिक्षा सुविधा मध्यप्रदेश के श्रमिकों के बच्चों को पब्लिक स्कूल जैसी शैक्षणिक सुविधा को नि:शुल्क उपलब्ध कराने के लिये चार श्रमोदय विद्यालय अगले शिक्षण सत्र से शुरू किये जा रहे हैं। यह विद्यालय आवासीय सुविधा के साथ नि:शुल्क भोजन, पुस्तकों सहित नि:शुल्क शिक्षा श्रमिकों के बच्चों को देंगे। भोपाल, ग्वालियर, इंदौर और जबलपुर में तैयार हो रहे इन विद्यालयों में 4480 बच्चों के शिक्षण, आवास और खेलकूद की वैसी ही व्यवस्थाएँ की जा रही हैं, जैसी प्राइवेट पब्लिक स्कूल में रहती है। श्रमोदय विद्यालय भोपाल का भवन परिसर 61 करोड़ 59 लाख, इन्दौर का 49 करोड़ 96 लाख, जबलपुर का 49 करोड़ 84 लाख और इतनी ही लागत से ग्वालियर श्रमोदय विद्यालय भवन परिसर का निर्माण किया जा रहा है। निर्माण कार्य लगभग 80 प्रतिशत हो चुका है और जल्दी ही इसे पूरा कराया जा रहा है। सभी श्रमोदय विद्यालय केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा मंडल(सीबीएसई) से संबद्ध होंगे। इनमें प्रत्येक में 1120 श्रमिकों के बच्चों को हिन्दी और अंग्रेजी माध्यम से कक्षा 6वीं से 12वीं तक की सभी संकाय की शिक्षा दी जायेगी। श्रमोदय विद्यालय में प्रवेश के लिए लिखित परीक्षा होगी जिसमें पंजीकृत श्रमिक के बच्चे शामिल हो सकेंगे। प्रवेश कक्षा 6वीं में दिया जायेगा और कक्षा 6वीं में प्रवेश के पूर्व छात्र को 5वीं परीक्षा पास होना अनिवार्य होगा। श्रमोदय विद्यालय भोपाल से होशंगाबाद और सागर, इंदौर विद्यालय से इन्दौर और उज्जैन, जबलपुर विद्यालय से जबलपुर, रीवा, शहडोल और ग्वालियर श्रमोदय विद्यालय से ग्वालियर और चम्बल में आने वाले जिले संबद्ध रहेंगे। प्रदेश के सभी क्षेत्रों के श्रमिकों के बच्चों को आधुनिक सुविधाओं के साथ बेहतर शिक्षा का अवसर उपलब्ध कराने को ध्यान में रख चार अलग-अलग क्षेत्र के महानगर में श्रमोदय विद्यालय शुरू किये जा रहे हैं। श्रमोदय विद्यालय का प्रशासनिक, शैक्षणिक और अन्य व्यवस्थाओं का संचालन श्रमोदय विद्यालय समिति से नियंत्रित होगा। समिति का सोसायटी रजिस्ट्रीकरण एक्ट में पंजीयन कराया जायेगा। मध्यप्रदेश भवन एवं संन्निर्माण कर्मकार मंडल के अनुसार विद्यालय भवनों का निर्माण 2017-18 में पूरा हो जायेगा। इसके साथ ही अन्य व्यवस्थाएँ, फर्नीचर, छात्रावास, प्रयोगशाला के उपकरण, शैक्षणिक और प्रशासनिक स्टाफ आदि को पूरा कर शैक्षणिक सत्र 2018-19 से यह विद्यालय प्रारंभ होंगे। यह पहला अवसर होगा जब नि:शुल्क और पूरी तरह से आधुनिक सुविधाओं के साथ पब्लिक स्कूल की सुविधा राज्य के श्रमिकों के बच्चों को मिलेगी।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  20 February 2017

 भजन गायक  अनूप जलोटा

प्रसिद्ध भजन गायक  अनूप जलोटा ने कहा है कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने माँ नर्मदा को श्रंगारित करने का जो बीड़ा उठाया है, वह पूरे देश के लिये मार्गदर्शन के रूप में स्थापित हो रहा है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक प्रदेश में नदियों को संरक्षित और संवर्धित करने के लिये ऐसी यात्राएँ की जानी चाहिये। इससे आम जनमानस के साथ बच्चे और युवा नदियों के महत्व को समझेंगे। श्री जलोटा आज इंदौर में पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। वे 'नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा में शामिल होने आये हैं। श्री जलोटा ने कहा कि नदियों को माँ के समान माना जाता है, फिर भी देश की नदियों की हालत चिन्ताजनक है। नर्मदा नदी के संरक्षण के लिये मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा किये जा रहे प्रयासों को पूरे देश में क्रियान्वित किया जाना चाहिये। हम सबके लिये यह प्रश्न है कि भौतिकवादिता के बाद भी टेम्स नदी (लंदन) स्वच्छ है और हम अपनी धार्मिक मान्यताओं और पौराणिक कथाओं के बाद भी नदियों की संरक्षित नहीं रख पाये हैं। श्री जलोटा ने कहा कि माँ नर्मदा मध्यप्रदेश की जीवन-रेखा है। मध्यप्रेदश के 16 जिलों से यह नदी निकलती है। सीधे तौर पर प्रदेश की 30 प्रतिशत से अधिक आबादी इसके आस-पास निवास करती है, नर्मदा जल पीती है एवं कृषि कार्य में उपयोग करती है। माँ नर्मदा का पर्यावरण संरक्षण, जीव-जन्तु के पालन-पोषण और विद्युत उत्पादन में भी महत्वपूर्ण योगदान है। नर्मदा जल के उपयोग से मध्यप्रदेश ने कृषि उत्पादन में भी अभूतपूर्व योगदान दिया है। लगातार 4 वर्षों से मध्यप्रदेश को कृषि कर्मण अवार्ड मिलना माँ नर्मदा के आशीर्वाद से ही संभव हुआ है। श्री अनूप जलोटा ने कहा कि गंगा में स्नान करने से पाप मुक्ति होती है पर माँ नर्मदा के दर्शन और स्मरण मात्र से ही कई जन्मों के पापों से मुक्ति मिल जाती है। माँ नर्मदा के जल में औषधीय गुण है। नर्मदा जल पीने से ही कई बीमारी दूर हो जाती है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री चौहान किसान पुत्र है। उनकी प्रगतिशील सोच से आज पूरे भारत के पर्यावरण प्रेमी और विशिष्ट व्यक्ति 'नमामि देवी नर्मदे''-यात्रा से जुड़ने आगे आ रहे हैं। श्री अनूप जलोटा ने कहा कि वे स्वच्छ गंगा मुहिम से भी जुड़े हुए हैं। श्री नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद पूरे देश में नदी संरक्षण अभियान बहुत तेजी से आगे बढ़ा है। श्री जलोटा ने कहा कि नर्मदा-क्षिप्रा लिंक परियोजना के बनने से इस बार सिंहस्थ निर्विवाद सम्पन्न हुआ। कहीं भी पानी की कमी नहीं आई। मुख्यमंत्री की भागीदारी, प्रयास और भविष्य की सोच से निश्चय ही माँ नर्मदा श्रंगारित होगी और प्रदेश को सम्पन्न बनायेंगी।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  15 February 2017

मुख्य सचिव श्रम श्री बी.आर. नायडू

  कैशलेस और डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा देने के सिलसिले में श्रम विभाग द्वारा भवन एवं अन्य संन्निर्माण कर्मकार कल्याण उपकर के भुगतान की प्रक्रिया ऑनलाइन पेमेंट गेटवे के माध्यम से करने की सुविधा उपलब्ध करवायी गयी है। ऑनलाइन गेटवे के माध्यम से शुरू की गयी भुगतान प्रक्रिया को पायलेट रूप में भोपाल जिले से शुरू किया गया है। अपर मुख्य सचिव श्रम श्री बी.आर. नायडू ने बताया कि गेटवे के माध्यम से फरवरी माह से भोपाल जिले में उपकर का भुगतान ऑनलाइन किया गया है। एक माह बाद मार्च माह से पूरे प्रदेश में उपकर भुगतान की सुविधा ऑनलाइन दी जायेगी। विशेष परिस्थितियों में, जिनमें ऑफलाइन भुगतान किया जाना जरूरी हो, 31 मार्च, 2017 तक ऑफलाइन उपकर संग्रहण भी मान्य किया जायेगा। एक अप्रैल, 2017 से उपकर का संग्रहण ऑनलाइन ही होगा। मध्यप्रदेश भवन एवं संन्निर्माण कर्मकार मण्डल द्वारा निर्माण कार्यों की कुल लागत का एक प्रतिशत उपकर लिया जाता है। वर्तमान में उपकर की राशि चेक, डी.डी. के माध्यम से दी जा रही है। इस प्रक्रिया को विभाग द्वारा अब डिजिटल बनाया गया है। उपभोक्ता, श्रम विभाग के पोर्टल www.labour.mp.gov.in पर प्रदर्शित लिंक से पोर्टल पर जाकर उपकर जमा कर सकते हैं। उपकर जमा करने की ऑनलाइन पूरी प्रक्रिया को आसान तरीके से समझने का विवरण हेल्प-डेस्क पर दिया गया है। उपभोक्ता इसकी भी मदद ले सकते हैं।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  14 February 2017

 सिंचाई

अधिकतम बिजली की माँग के बावजूद प्रदेश के कृषि क्षेत्र को सिंचाई के लिये 10 घंटे और घरेलू व्यावसायिक व औद्योगिक उपभोक्ताओं को 24 घंटे बिजली सप्लाई सुनिश्चित की गई है। प्रदेश में वर्तमान रबी सीजन में 33 दिन बिजली की माँग 11 हजार मेगावाट से ऊपर बनी रही। सर्वोच्च स्तर से कम होने के बाद भी पिछले एक पखवाड़े से बिजली की माँग अभी भी 10 हजार 500 मेगावाट से ऊपर चल रही हैं जिसकी पूर्ति बराबर की जा रही है। रबी सीजन में अभी तक कुल 51 दिन 10 हजार मेगावाट एवं 33 दिन 11 हजार मेगावाट के ऊपर बिजली की माँग बनी रही और इस माँग की सफलतापूर्वक सप्लाई की जा रही है। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में 33 दिनों में से 20 दिनों तक लगातार 11 हजार मेगावाट या इससे ऊपर बिजली की माँग बनी रही।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  11 February 2017

कैथोलिक बिशप सम्मेलन

कैथोलिक बिशप सम्मेलन में मुख्यमंत्री चौहान मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि स्नेह और प्रेम मानवता के मूल हैं। एक दूसरे को सुखी बनाने का प्रयास करते हुए, प्रेम का साम्राज्य कायम करें। श्री चौहान यहाँ कैथौलिक बिशप सम्मेलन को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आनंद की अनुभूति जीवन का आधार है। धन-दौलत, पद-प्रतिष्ठा आनंद के आधार नहीं है। दूसरे का दु:ख दूर कर, प्यासे को पानी पिलाकर और निरक्षर को साक्षर बनाकर आनंद मिलता है। इसलिये राज्य सरकार ने आनंदम कार्यक्रम शुरू किया है। आवश्यकता से अधिक जो वस्तुएँ हैं, उन्हें वहाँ रखा जा सकता है। जरूरतमंद उसे वहाँ से प्राप्त कर लेते हैं। इससे दान देने और जरूरत पूरी होने का पारस्परिक आनंद मिलता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि परिवार का क्षेत्र चेतना के विस्तार पर आधारित है। भारतीय संस्कृति में समस्त प्राणियों को एक परिवार माना गया है। नदियाँ, पर्वत भी हमारा परिवार है। नदियाँ रहेंगी, तो संस्कृति रहेगी। इसी भाव से नर्मदा नदी संरक्षण का जन अभियान प्रदेश में संचालित है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की धरती पर पैदा होने वाले प्रत्येक व्यक्ति को भूमि-स्वामी कानून बनाया जा रहा है। धन के अभाव में प्रतिभा की प्रगति रूके नहीं, इसके लिए प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थाओं में प्रवेश पाने वाले मेधावी विद्यार्थियों की फीस राज्य सरकार भरवायेगी, ऐसी योजना बनाई है। गरीबों को एक रूपये किलो गेहूँ, चावल और नमक भी उपलब्ध करवाया गया है। आर्क बिशप मुम्बई, श्री ओसवाल्ड ग्रेसियस ने सम्मेलन की रूपरेखा बताई। 29वें सम्मेलन में 130 बिशप शामिल हुए हैं। सम्मेलन में परिवारों में आनंद का विस्तार पर चिंतन किया जा रहा है। यह चिंतन कैथोलिक परिवारों के साथ ही संपूर्ण समाज की उन्नति में सहायक होगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान के नेतृत्व में मध्यप्रदेश देश का शांतिपूर्ण प्रदेश बना है। प्रदेश में बहुत विकास हुआ है। उन्होंने प्रदेश के तेजी से शांति और विकास पथ पर अग्रसर होने की शुभकामनाएँ दी। भोपाल के आर्क बिशप श्री लियो कार्नेलियो ने स्वागत उदबोधन दिया। उन्होंने राज्य सरकार द्वारा मानव सेवा धर्म के बखूबी पालन करने की सराहना की। गरीब कल्याण की विभिन्न योजनाओं का सफलता संचालन के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि वे नर्मदा नदी संरक्षण के लिए शुरू की गई यात्रा में शामिल हुए थे। यात्रा के स्वरूप और सरोकारों से वे अत्यधिक प्रभावित हुए हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भोपाल आर्कडियोसिस की कॉफी टेबल बुक का विमोचन भी किया। मुख्यमंत्री का शॉल एवं स्मृति-चिन्ह भेंट कर अभिनंदन किया गया। सेंट जोसफ कान्वेंट की छात्राओं ने प्रार्थना नृत्य की प्रस्तुति दी।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 February 2017

मिल बाँचे म.प्र.

मुख्यमंत्री  चौहान ने वीडियो कान्फ्रेंस में दिए निर्देश  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कड़े स्पष्ट में कहा है कि अवैध उत्खनन और परिवहन के मामलों में कठोरतम कार्रवाई करें। उन्होंने विगत दिनों अवैध गतिविधियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई करने वाले जिला अधिकारियों को बधाई दी और अन्य जिलों को आगाह किया कि वे भी पूरी ताकत से अवैध उत्खनन और परिवहन के विरूद्ध कड़ी और निर्णायक कार्रवाई करें। माफिया पनपने नहीं पायें। श्री चौहान आज यहाँ मंत्रालय में वीडियो कान्फ्रेंस में प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों से चर्चा कर रहे थे। बैठक में मिल बाँचे मध्यप्रदेश और नर्मदा सेवा यात्रा की भी समीक्षा की। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह और मंत्रि-परिषद के सदस्य उपस्थित थे। टास्कफोर्स सुनियोजित कार्रवाई करें मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अवैध उत्खनन और परिवहन की रोकथाम के लिए हर जिले में माईनिंग टास्क फोर्स गठित है। फोर्स द्वारा सुनियोजित रणनीति बनाकर विधि-सम्मत कठोरतम कार्रवाई हर स्तर पर की जाये। अवैध उत्खनन एवं परिवहन में लिप्त वाहनों को राजसात किया जाये। उन्होंने कहा कि माइनिंग विकास कार्यों के लिए वित्तीय संसाधन और रोजगार का स्त्रोत है। इसलिये यह भी जरूरी है कि वैध उत्खनन और परिवहन कार्य में बाधा भी नहीं आये। वैधानिक उत्खनन करने वाले परेशान नहीं हो। उन्होंने प्रदेश में गुंडा विरोधी अभियान चलाने के भी निर्देश दिए। विद्यालयवार पंजीयन कार्य 10 फरवरी तक पूर्ण हों मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शिक्षा के लोक व्यापीकरण प्रयासों को जन-आंदोलन बनाने की जरूरत बताई है। उन्होंने कहा कि आठवीं तक के छात्र-छात्राओं के भाषाज्ञान को बेहतर बनाने के लिए मिल बाँचे म.प्र. कार्यक्रम 18 फरवरी को किया जा रहा है। इस दिन प्रदेश के सभी एक लाख 18 हजार विद्यालयों में समाज के सभी वर्गों के प्रतिनिधि जायें। उन्होंने विद्यालयवार व्यक्तियों का पंजीयन कार्य 10 फरवरी तक पूर्ण करने के निर्देश दिए। पंजीयन कार्य 95 प्रतिशत पूर्ण करने पर मंडला जिले को बधाई दी। उन्होंने प्रदेश अखिल भारतीय सेवाओं के अधिकारियों को कार्यक्रम में शामिल होने के निर्देश दिये। नर्मदा जयंती का प्रभावी आयोजन हो मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा जयंती, नमामि देवी नर्मदे यात्रा के संकल्प पालन की परीक्षा है। जयंती के आयोजन नदी संरक्षण और प्रदूषणमुक्त बनाने का प्रभावी माध्यम बने। नर्मदा महिमा, संरक्षण, बेटी बचाओ, वृक्षारोपण और नशामुक्ति पर भजन, निबंध, भाषण और चित्रकला प्रतियोगिताओं का नर्मदा तट पर आयोजन किया जाये। भजन प्रतियोगिता में प्रथम आने वाली मंडली को 50, द्वितीय को 30 और तृतीय को 20 हजार रूपये के पुरस्कार दिये जायें। भाषण, निबंध, चित्रकला आदि प्रतियोगिता के प्रथम को 5, द्वितीय को 3 और तृतीय को 2 हजार रूपए के पुरस्कार दिये जायेंगे। उन्होंने नर्मदा नदी से लाभान्वित होने वाले जिलों को भी उप यात्राएँ निकलवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जयंती के आयोजनों में स्वच्छता और प्रदूषणरहित व्यवस्थाओं का विशेष ध्यान रखा जाये। पूजन सामग्री कुंड में विसर्जित की जाये। आवश्यकता अनुसार कुंड बन जाये। पूजन सामग्री में प्रदूषण करने वाली वस्तुएँ शामिल नहीं हो। घाट स्वच्छ रहें। प्लास्टिक के दियों का उपयोग नहीं होना चाहिये। कचरा पेटी और शौचालयों की समुचित व्यवस्था हो। उन्होंने यात्रा के संकल्पों के सतत् अनुपालन के निर्देश दिए।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  31 January 2017

green builiding

    मध्यप्रदेश गृह निर्माण मण्डल की योजनाओं में पर्यावरणीय संवेदनशीलता और नैसर्गिक वातावरण को समाहित करने के लिये मण्डल और ग्रीन रेटिंग फॉर इंटीग्रेटेड हेबिटेट एसेसमेंट (ग्रीहा) के मध्य करारनामा हुआ। इस मौके पर अध्यक्ष श्री कृष्ण मुरारी मोघे और आयुक्त श्री नीतेश व्यास उपस्थित थे। अध्यक्ष  कृष्ण मुरारी मोघे ने कहा कि मण्डल की योजनाओं में ग्रीन बिल्डिंग कांसेप्ट को अपनाने से आम उपभोक्ताओं को इस करारनामे से लाभ पहुँचेगा। ग्रीहा (GRIHA) काउंसिल के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री संजय सेठ ने योजना का प्रेजेंटेशन दिया। उल्लेखनीय है कि ग्रीहा GRIHA काउंसिल भारत सरकार के नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्रालय तथा TERI द्वारा प्रवर्तित संस्थान है। ग्रीन बिल्डिंग कांसेप्ट को मण्डल की योजनाओं में अपनाने के लिये संचालक मण्डल की पिछली बैठक में संकल्प पारित किया गया था। करारनामे के बाद अब मण्डल की महत्वपूर्ण आवासीय परियोजनाओं और राज्य शासन के लिये बनायी जाने वाली योजनाओं में ग्रीन बिल्डिंग कांसेप्ट को अपनाया जायेगा।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  14 January 2017

rajmarg

मुख्यमंत्री ने औपचारिकताएँ पूरी करने के दिये निर्देश   मध्यप्रदेश में 2021 किलोमीटर लंबे सात नए मार्ग को राष्ट्रीय राजमार्ग बनाने के लिए केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा जाएगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ मंत्रालय में नए राष्ट्रीय राजमार्गों को शामिल करने के लिये बुलाई गई उच्च-स्तरीय बैठक में नये प्रस्तावों पर केन्द्र से अपेक्षित औपचारिकताएँ पूरी करने के निर्देश दिये। श्री चौहान ने कहा कि नए राष्ट्रीय राजमार्गों के जुड़ने से विकास में गति आयेगी। प्रस्तावित राष्ट्रीय राजमार्गों में 264 किमी चापड़ा से निमडी (देवास से झाबुआ), 376 किमी छिंदवाड़ा से खिमलासा, 529 किमी सागर से बरगवाँ, 289 किमी जबलपुर से कालिंजर – (उप्र सीमा,) 249 किमी कुक्षी से जावरा, 205 किमी चाबी से जयसिंहनगर और 195 किमी डबरा से गोरस शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में 20 पुराने राष्ट्रीय राजमार्ग हैं जिनकी कुल लंबाई 4771 किलोमीटर है। राष्ट्रीय राजमार्गों के सुदृढ़ीकरण के लिए 1640 करोड़ रुपए मिल चुके हैं। मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह,  प्रमुख सचिव लोक निर्माण श्री प्रमोद अग्रवाल,  प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री अशोक वर्णवाल, मध्य प्रदेश सड़क विकास निगम के प्रबंध संचालक श्री मनीष रस्तोगी, सचिव मुख्यमंत्री श्री हरिरंजन राव और वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  14 January 2017

  इंदौर मुख्य द्वार

राजेन्द्र  शुक्ल ने कहा है कि मध्यप्रदेश का निवेश के मामले में इंदौर मुख्य द्वार है। उद्योगपति इंदौर और उसके आसपास उद्योग लगाने के इच्छुक रहते हैं। मध्यप्रदेश के अन्य स्थानों पर भी औद्योगिक निवेश के लिये अनुकूल माहौल है। राज्य सरकार ने प्राथमिकता के साथ निवेशकों के लिये अनेक सुविधाएँ दी हुई हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के ''मेक इन इंडिया'' मिशन को पूरा करने के लिये ही 'मेड इन एमपी'' भी प्रारंभ किया गया है। उद्योग मंत्री श्री शुक्ल आज इन्दौर में औद्योगिक इंजीनियरिंग एक्सपो-2017 का शुभारंभ कर रहे थे। महापौर श्रीमती मालिनी गौड़ भी मौजूद थी। श्री शुक्ल ने कहा कि जीआईएस-2016 में भी 5 लाख करोड़ के प्रस्ताव प्राप्त हुए थे, जिनके जरिये 2500 से अधिक उद्योगपति ने मध्यप्रदेश में निवेश करने की इच्छा जतायी है। उद्योग मंत्री श्री शुक्ल ने कहा कि मध्यप्रदेश में एक लाख बीस हजार हेक्टेयर का लैण्ड बैंक है। इसमें से 40 हजार हेक्टेयर विकसित लैण्ड बैंक है। प्रदेश में औद्योगीकरण को बढ़ावा देने के लिये आकर्षक छूट एवं पर्याप्त सुविधाएँ दी जा रही हैं। प्रारंभिक तौर पर उद्योग निवेश होने पर विद्युत, करों एवं आधारभूत संरचना के लिए विशेष छूट का प्रावधान किया गया है। इंदौर के आसपास और औद्योगिक क्षेत्र विकसित करने के लिये निरंतर प्रयास जारी है। अहमदाबाद-मुंबई रोड पर 350 करोड़ की लागत से 1200 एकड़ जमीन औद्योगिक क्षेत्र के लिये विकसित की जा रही है। उद्योग मंत्री श्री शुक्ल ने कहा कि किसी भी देश, प्रदेश और समाज की उन्नति के लिये तीन क्रांति महत्वपूर्ण स्थान रखती है, जिनमें कृषि, पर्यटन और उद्योग हैं। मध्यप्रदेश में कृषि के क्षेत्र में विशेष ध्यान दिया गया है। इसके परिणामस्वरूप लगातार चार वर्ष से प्रदेश को कृषि कर्मण अवार्ड मिल रहा है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के लगातार प्रयासों से कृषि सिंचाई रकबा 7 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 40 लाख हेक्टेयर तक हो गया है। घरों एवं उद्योगों के साथ-साथ कृषि क्षेत्र में भी 24 घंटे बिजली उपलब्ध करवायी जा रही है। प्रदेश में पर्यटन के क्षेत्र में भी बेहतर कार्य किया गया है। रीवा में देश की पहली टाइगर सफारी, खण्डवा में पर्यटन स्थल हनुवंतिया टापू का विकास, खजुराहो, ग्वालियर, माण्डू जैसी प्रदेश की हमारी ऐतिहासिक धरोहर से पर्यटन में विगत 10 वर्ष में कई गुना वृद्धि हुई है। देश में पर्यटन के क्षेत्र में लगातार पुरस्कार मिलना इसका प्रमाण है।    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 January 2017

शिवराज सिंह चौहान  नरेन्द्र मोदी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी द्वारा किसान, गरीब, छोटे कारोबारियों, गर्भवती माताओं और वरिष्ठ नागरिकों के कल्याण के लिये की गई घोषणाओं का स्वागत करते हुए इन्हें परिवर्तनकारी बताया है। श्री चौहान ने प्रधानमंत्री के राष्ट्र के नाम दिये संदेश पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने इन वर्गों को राहत देकर संवेदनशीलता और प्रगतिशील सोच का परिचय दिया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना में घर बनाने के लिये 9 लाख रुपये तक के कर्ज पर ब्याज में 4 प्रतिशत तथा 12 लाख के कर्ज पर 3 प्रतिशत की छूट देने से आवासहीन परिवारों को मदद मिलेगी। छोटे कारोबारियों की क्रेडिट गारंटी एक से बढ़ाकर दो करोड़ करने से सूक्ष्म और लघु उद्योग क्षेत्र में आशातीत विस्तार होगा। श्री चौहान ने कहा कि किसानों द्वारा लिये गये खरीफ और रबी के कर्ज पर 60 दिन का ब्याज केन्द्र सरकार द्वारा वहन करने का फैसला किसानों के व्यापक हित में है। इसी प्रकार गर्भवती माताओं को 6 हजार रुपये की सहायता राशि देने से उनमें आत्मविश्वास आयेगा। वरिष्ठ नागरिकों द्वारा बैंक डिपॉजिट करने पर 8 प्रतिशत ब्याज देने की घोषणा भविष्योन्मुखी है। उन्होंने कहा कि ये घोषणाएँ देश का कायाकल्प करने के मिशन को आगे बढ़ायेंगी। श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री ने भारत के नव-निर्माण का संकल्प लिया है। इस संकल्प को राज्य सरकार अन्य राज्यों के सहयोग से सफल बनायेगी।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  1 January 2017

shivraj singh pitai

  मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने इमरजेंसी के दौरान अपने साथ हुई पुलिस मारपीट का खुलासा किया तो जमकर ठहाके लगे । इंदौर में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय अधिवेशन में बोलते हुए शिवराज सिंह ने अपनी पुलिस पिटाई का खुलासा किया।  मुख्यमंत्री ने खुलासा किया कि इमरजेंसी के दौरान भोपाल की हबीबगंज पुलिस ने उन्हें लॉकअप में बंद करके रातभर पीटा था। हालांकि उस पिटाई और जेल जाने के बाद वे ऐसे मामलों में पूरी तरह ट्रेंड हो गए। मुख्यमंत्री ने कहा कि, हम लोग विद्यार्थी परिषद के चुनाव में कॉलेज में लड़वाने के लिए पहलवान लेकर जाते थे। तब जाकर कांग्रेस से मुकाबला कर पाए। शिवराज ने खुलासा किया कि ABVP का काम करते हुए संगठन मंत्री के नाते स्वयंसेवकों के घर जाकर भोजन करना पड़ता था। ऐसे में मराठी परिवारों में रोटी मांगने में बड़ा संकोच होता था। मुख्यमंत्री ने युवाओं का आह़्वान किया है कि वे जल एवं पर्यावरण संरक्षण के लिये आगे आएं और समाज और सरकार के कार्य में सहयोग करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए देश का सबसे बड़ा महा-अभियान 'नमामि देवी नर्मदे''-सेवा यात्रा राज्य सरकार ने शुरू किया है। उन्होंने कहा कि इसके जरिए प्रदेश की जीवन-रेखा नर्मदा नदी के पानी को न केवल शुद्ध बनाया जाएगा, बल्कि इसके संरक्षण के लिए तटों के दोनों ओर पौधे भी लगाए जाएंगे। उन्होंने युवाओं से कहा कि वे इस यात्रा में सक्रिय भागीदारी निभाएं। चौहान ने कहा कि यह अभियान धार्मिक, सांस्कृतिक, सामाजिक और आर्थिक अभियान है। इसके सफल होने से प्राकृतिक आपदाओं से बचने के साथ ही लोगों के जीवन और पर्यावरण में सुधार आएगा। चौहान ने कहा कि अच्छे संगठन में काम करने से नेतृत्व क्षमता विकसित होती है। साथ ही जीवन में नियोजन, शुचिता और अनुशासन सीखने को मिलता है। उन्होंने अपने छात्र जीवन के अनुभव साझा करते हुए कहा कि संघर्ष से जीवन में बहुत कुछ सीखा जा सकता है। कार्यक्रम के अध्यक्ष राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सर कार्यवाह सुरेश सोनी ने कहा कि सामाजिक क्षेत्र की अनुभूति से समस्याओं का समाधान आसानी से किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि आज जो नेतृत्व देश को मिला है, उससे विश्व में मान-सम्मान और आदर बढ़ा है। कार्यक्रम को सुनील आम्बेकर और शशिरंजन अकेला ने भी संबोधित किया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 December 2016

opration

      जनसंख्या स्थिरीकरण के लिए कई अभियान चलाने के बाद भी प्रदेश के 25 जिलों में प्रजनर दर 3 से ज्यादा है। यानी, एक दपंती औसतन 3 से ज्यादा बच्चे पैदा कर रहा है। लिहाजा अब इन जिलों में बढ़ती आबादी पर रोक लगाने के लिए केन्द्र व राज्य सरकार ने मिलकर विशेष रणनीति बनाई है। परिवार कल्याण कार्यक्रम को बढ़ाने के लिए पुरुष नसंबदी पर प्रोत्साहन राशि 2 हजार रुपए से बढ़ाकर 3 हजार रुपए दी जाएगी। प्रसव के तुरंत बाद महिला नसबंदी कराने पर अभी 2200 रुपए मिलते हैं, इसे बढ़ाकर 3000 रुपए किया जा रहा है। इसी तरह से प्रसव के सात दिन के बाद महिला नसबंदी कराने पर पहले 1400 रुपए मिलते थे अब 2000 रुपए मिलेंगे। निजी संस्थाओं में पुरुष नसबंदी पर 2500, महिला नसबंदी पर 2500 और प्रसव के तुरंत बाद महिला नसबंदी पर 3000 रुपए मिलेंगें। इसके अलावा प्रेरक, सर्जन आदि की प्रोत्साहन राशि भी बढ़ाई गई है। नसबंदी ऑपरेशन में सास अड़ंगा न लगा सकें, इसलिए स्वास्थ्य विभाग सास-बहू सम्मेलन कराएगा। इसमें महिला की सास को बुलाकर काउंसलिंग की जाएगी। प्रचार के लिए सारथी रथ पूरे प्रदेश में चलेगा। पन्ना, शिवपुरी, बड़वानी, विदिशा, छतरपुर, सतना, दमोह, सीहोर, डिंडौरी, गुना, रायसेन, रीवा, सीधी, उमरिया, सागर कटनी, शाजापुर, टीकमगढ़, नरसिंहपुर, राजगढ़, रतलाम, खरगौन, खंडवा, मुरैना और शिवनी। स्वास्थ्य विभाग ने इस साल पूरे प्रदेश में साढ़े 5 लाख नसबंदी का लक्ष्य रखा है, लेकिन अप्रैल से अभी तक सिर्फ डेढ़ लाख नसबंदी हो पाई हैं। पिछले साल इस अविधि में 10 ऑपरेशन ज्यादा हो गए थे। 3 से अधिक सकल प्रजनन दर वाले 25 जिलों को हाई फोकस घोषित किया गया है। यहां आबादी रोकने के लिए विशेष प्रयास किए जाएंगे। इससे मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में भी कमी आएगी। डॉ. बीएस ओहरी, संचालक परिवार कल्याण  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  16 December 2016

anand prakesh rane

    लोकायुक्त पुलिस इंदौर की टीम ने शनिवार अल सुबह लोक निर्माण विभाग, पीआईयू इंदौर में कार्यपालन यंत्री आनंद प्रकाश राणे के घर सहित अन्य ठिकानों पर कार्रवाई की है। राणे के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति जमा करने की शिकायत मिली थी।लोकायुक्त पुलिस की अलग-अलग टीमों ने अधिकारी के एबी रोड स्थित शहनाई रेसीडेंसी के फ्लैट और उनके भाई विजय प्रकाश राणे के बालाजी हाईट्स महालक्ष्मी नगर स्थित मकान पर कार्रवाई की। जांच के दौरान अधिकारी के पास करोड़ों रुपए की संपत्ति होने का खुलासा हुआ है। कार्रवाई के दौरान राणे और उनके भाई के घर से ग्वालियर में आदित्य प्लाजा और मोहननगर में दो मकान। भोपाल के चूनाभट्टी सीआई इनक्लेव और कोलार  के कम्फर्ट कॉलोनी में दो मकान। इंदौर की शहनाई रेसीडेंसी में दो फ्लैट, वहीं विजयनगर की स्कीम 114 में मां विमला राणे और पत्नी अनिता राणे के नाम एक-एक प्लाट। भाई के नाम लक्जरी कार, बेटे के नाम एक बाइक। इसके साथ ही बीसीएम हाईट्स इंदौर में एक फ्लैट के कागजात भी मिले हैं। जानकारी के मुताबिक आनंद प्रकाश राणे 21 जुलाई 1992 को सहायक यंत्री के पद पर पदस्थ हुए थे। इस दौरान उनकी पोस्टिंग ग्वालियर, देवास, धार और इंदौर में हुई। इनके पिता जनवेद सिंह वन विभाग से वनपाल के पद से करीब वर्ष 1999 में सेवानिवृत्त हुए हैं, जो कि ग्वालियर के रहने वाले थे। अनावेदक की पत्नी का नाम अनीता राणे है, जो गृहणी हैं। राणे का एक पुत्र अमित राणे है, जो इंदौर में देवी अहिल्या विश्वविद्यालय से बी.कॉम फस्ट ईयर में पढ़ रहा है और दूसरा पुत्र रोहित राणे है, जो इंदौर के ग्रीन पब्लिक स्कूल में कक्षा 12वीं का छात्र है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  3 December 2016

ramnaresh yadav

  मध्य प्रदेश के पूर्व राज्यपाल रामनरेश यादव का मंगलवार को गृह राज्य उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के एक अस्पताल में निधन हो गया। राजभवन सूत्रों ने बताया कि यादव का लखनऊ के एक अस्पताल में इलाज चल रहा था। सुबह लगभग नौ बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। वे 89 वर्ष के थे। उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री पद समेत अनेक महत्वपूर्ण दायित्व संभाल चुके यादव कुछ समय पहले ही मध्य प्रदेश के राज्यपाल के तौर पर पांच वर्ष का कार्यकाल पूर्ण करके यहां से लखनऊ के लिए रवाना हुए थे। मध्य प्रदेश के राज्यपाल ओपी कोहली ,मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने यादव के निधन पर शोक जताते हुए उनके प्रति श्रद्धांजलि अर्पित की है। कोहली ने अपने शोक संदेश में यादव के सुदीर्घ राजनैतिक जीवन के अनुभव का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने जन और समाज सेवा में अपना जीवन व्यतीत किया। ये था।  जुलाई 1928 में यूपी के आजमगढ़ में जन्मे राम नरेश को पॉलिटिक्‍स का बड़ा खिलाड़ी माना जाता था। राम नरेश पहली बार चौधरी चरण सिंह की मदद से 1977 में जनता पार्टी के सीएम बने थे। वे किसानों की आवाज उठाने के लिए जाने जाते थे।उनको राजनीतिक माहौल घर से ही मिला था,क्योंकि उनके पिता गया प्रसाद महात्मा गांधी,पंडित जवाहरलाल नेहरू और डॉ.राममनोहर लोहिया के अनुयायी थे। उन्‍होंने बीएचयू से बीए,एमए और एलएलबी की पढ़ाई की और यहीं छात्र संघ की राजनीति से भी जुड़े रहे। इसके बाद कुछ समय के लिए वे जौनपुर के पट्टी स्थित नरेंंद्रपुर इंटर कॉलेज में प्रवक्ता भी रहे। 1953 में उन्‍होंने आजमगढ़ में वकालत की शुरुआत की।रामनरेश ने समाजवादी विचारधारा के तहत विशेष रूप से जाति तोड़ो,विशेष अवसर के सिद्धांत,बढ़े नहर रेट,किसानों की लगान माफी,समान शिक्षा,आमदनी और खर्च की सीमा बांधने,वास्तविक रूप से जमीन जोतने वालों को उनका अधिकार दिलाने,अंग्रेजी हटाओ आदि आंदोलनों को लेकर कई बार गिरफ्तारियां दीं।  इमरजेंसी के दौरान वे मीसा और डीआईआर के अधीन जून 1975 से फरवरी 1977 तक आजमगढ़ जेल और केंद्रीय कारागार नैनी,इलाहाबाद में बंद रहे।रामनरेश 1988 में राज्यसभा सदस्य बने और 12 अप्रैल 1989 को राज्यसभा के अंदर डिप्टी लीडरशिप,पार्टी के महामंत्री और अन्य पदों से त्यागपत्र देकर तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस की सदस्यता ली।लखनऊ स्थित अंबेडकर यूनिवर्सिटी को सेंट्रल यूनि‍वर्सिटी का दर्जा दिलाने में भी उनका अहम योगदान था। इसी साल अगस्‍त महीने में रामनरेश यादव की पहली किताब'मेरी कहानी'सामने आई थी।इस किताब में उन्‍होंने कांग्रेस में आने,सीएम बनने और यूपी में उनके सीएम रहते समय हुए सांप्रदायिक दंगों को सुलझाने के घटनाक्रम के बारे में बताया था। हालांकि,इसमें उन्‍होंने मप्र के गवर्नर रहते हुए उनके दामन पर आए व्यापमं के छींटों का किताब में कोई जिक्र नहीं किया था। रामनरेश यादव 23 जून 1977 से 28 फरवरी 1979 तक यूपी के सीएम रहे।जून 2014 से 19 जुलाई 2014 तक छतीसगढ़ के गवर्नर रहे 26 अगस्‍त 2011 से 7 सितंबर 2016 तक मध्‍य प्रदेश के गवर्नर रहे।  पिछले साल बेटे की भी हुई थी मौत पिछले साल व्यापमं घोटाले में आरोपी रामनरेश के बेटे शैलेष(52)की संदिग्ध हालत में मौत हो गई थी। पोस्टमार्टम करने वाली टीम ने उनकी मौत का कारण जहर बताया था। वहीं,परिवार का कहना था कि शैलेष को ब्रेन हेमरेज हुआ था। बताया जाता है कि शैलेष इस बात से डरे थे कि उनकी प्रॉपर्टी कुर्क की जा सकती है।शैलेष को आरोपी बनाने के बाद एसटीएफ की टीमें डेढ़ महीने में तीन बार यूपी आई थीं। दो बार लखनऊ और एक बार आजमगढ़। शैलेष के बड़े भाई कमलेश का कहना था कि शैलेष व्यापमं मामले में आरोपी बनाए जाने से मानसिक दबाव में थे।  1977 में यूपी के सीएम रहे रामनरेश यादव आजमगढ़ के रहने वाले थे। बड़े बेटे कमलेश ने विधानसभा चुनाव लड़ा था,लेकिन हार गए थे। शैलेष पिता की राजनीतिक गतिविधियों से दूर थे। उनका अपना बिजनेस था। सबसे छोटा बेटा अजय कांग्रेस की सक्रिय राजनीति में है।            

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 November 2016

कानपुर ट्रेन हादसा : मध्यप्रदेश के कई लोग हैं मृतकों और घायलों में

उत्‍तर प्रदेश के कानपुर में पुखरायं में इंदौर-पटना ट्रेन के पटरी से उतर जाने के बाद इस भीषण हादसे में अब तक 91 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है वहीं 150 से ज्‍यादा लोग घायल हैं। घायलों को पास के अस्‍पतालों में इलाज जारी है। इंदौर से रवाना हुई इस ट्रेन में बड़ी संख्‍या में मध्‍य प्रदेश के यात्री सवार थे।मारने वालों की संख्या में और इजाफा होने से इंकार नहीं किया जा सकता।    हादसे के बाद राहत और बचाव कार्य जारी है वहीं इस बीच दुर्घटना में मारे गए और घायल लोगों की पहली लिस्‍ट सामने आई है। इस लिस्‍ट में इंदौर और उज्‍जैन के लोग भी शामिल हैं। जिला अस्‍पताल द्वारा जारी की गई इस लिस्‍ट में देवास के चंदेल परिवार के अलावा इंदौर के मिश्रा और गुजराती परिवार के लोग शामिल हैं जो घायल हैं। वहीं मृतकों में से फिलहाल 7 की पहचान हो पाई है।   मृतकों के नाम   पातीराम पिता महिपाल 19 वर्ष निवासी महानंदा नगर उज्जैन,बृजमोहन पिता मनोहर लाल 40 वर्ष निवासी स्‍नेहलता गंज इंदौर, भन्‍ती देवी शिवपूजन सिंह निवासी सेंट्रल कोतवाली इंदौर,जिवितेश कुमार निवासी अवधपुरी भोपाल,रामेश्‍वर प्रजापति निवासी तोपेवाला मोहल्‍ला ग्‍वालियर, असलम पिता रफीक खान निवासी शाजापुर,उमाशंकर पिता कल्‍लू चंदौली,रत्निका पति सुबोध सिंह निवासी गौतमबुद्धनगर, सिवान, घायल धर्मेंद्र श्‍यामसिंह चंदेल 45 साल देवास,रेखा चंदेल 45 साल देवास,मीरा चंदेल 45 साल- देवास,आकांक्षा धर्मेंद्र चंदेल 9 वर्ष - देवास,अनिकेत धर्मेंद्र सिंह 8 साल - देवास,प्रतिभा रितेश सोनी - इंदौर,नीता जगमोहन गुजराती 50 साल- इंदौर,मालती गुजरात 62 साल - इंदौर,महेश गंगाराम कुशवाह 36- इंदौर,नेहा सतेंद्र सिंह 25 साल - इंदौर,एपी शाह पिता पुरषोत्‍तम शाह 58 साल उज्‍जैन,कुसुमसिंह संजय‍ सिंह 40 साल- भोपाल,पूजा अनिल 36 साल- इंदौर,बबीता सं‍दीप मिश्रा 28 साल- इंदौर ,सोनम संदीप मिश्रा 13 साल- इंदौर,प्‍यारेलाल महाराज सिंह 52 साल इंदौर,ज्योति पुत्री सती प्रसाद (21) कानपुर,राजू पुत्र मेवालाल (31) अंबेडकरनगर,बजरंगी प्रताप राजा पुत्र रामदेव आजमगढ़,आकिब पिता असलम (24) फिरोजाबाद,राजकुमार पुत्र दयापाल (55) फतेहपुर यूपी,नवीन कुमार तिवारी पुत्र नागेंद्र कुमार तिवारी (55) निवासी पालामऊ झारखंड,प्रकाश कुमार पुत्र वीरेंद्र प्रकाश (22) निवासी पटना,रेखा देवी पत्नी प्रमोद कुमार (45) निवासी पटना,परशुराम पुत्र मोहनराम (42) बलिया,मुकेश कुमार पुत्र मुन्ना लाल (45) बलिया, यूपी।रितिका श्रीवास्तव पुत्री एसके श्रीवास्तव (19) लाखनऊ,मदन राम पुत्र अजीत राम (62) पटना, बिहार,मोनू विश्वकर्मा पुत्र जयराम विश्वकर्मा (25) अंबेडकरनगर,वजीर आलम पुत्र वसीर अंसारी (35) मोतिहारी,दीपक पुत्र मार्केंडेय (20) आजमगढ़ किरवा,रजत सिंह पुत्र तेजप्रताप (23) फैजाबाद,प्रमोद पुत्र शिवशंकर (45) महाराजगंज पटना,राजकुमार पुत्र गोविंद सिंह (37) मुज्जफरनगर,प्रवीण चंद्र पुत्र रूद्र नाथ (32) संतकबीरनगर,अभय श्रीवास्तव पुत्र संजय श्रीवास्तव (3) फूलपुर इलाहाबाद,फूलादेवी पत्नी हरीलाल (70) पटना, बिहार,प्रेमकुमार पुत्र कालूराम (54) झांसी,ज्योति यादव पत्नी लालन सिंह (24) झांसी,जयप्रकाश पुत्र भुलनराम (30) मैनपुरी,सुनील पुत्र बीएल दाम (46) पटना बिहार,मालती शर्मा पत्नी दयाराम शर्मा (45) बिहार,रामपुजारी पुत्र जयराम (36) सुल्तानपुर,अशि पुत्री कुमार आनंद (13) पटना,संजय यादव (09) जितेंद्र सिंह पुत्र हरीनारायण (60) आजमगढ़,रविंद्र पंडित पुत्र उपलाल पंडित (35) पटना,ज्ञान प्रकाश पंडित पुत्र श्यामलाल (36) इलाहाबाद,अनुराग पुत्र भुवनेश्वर (30) लखनऊ,आदि पुत्र वाशुनाथ नंदी वाराणसी (23),उत्तम कुमार पुत्र सतीश कुमार (24) बिहार,जीवन लाल पुत्र रामदत्त (71) देवकला बहराइच,अशोक कुमार पुत्र यदुवेंद्र (48) पटना,रामू पुत्र दामू चकर (40) पटना बिहार,अरूण शर्मा पुत्र डीसी (40) गोपालनगर,अहिरनाक सिंह पुत्र शारदा (60) रायबरेली,प्रीति सिंह पत्नी कुमार आनंद (64),मो.इस्लाम अंसारी पुत्र मो.जमील (19) अदलपुर,श्याम दत्त पुत्र अच्छे लाल (74) आलमपुर,मलवा रिंकी पत्नी रामेश्वर प्रजापति (30) ग्वालियर,संजीत कुमार पुत्र सत्यनारायण (26) पटना।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  20 November 2016

kaelash vijayvargiy

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और महू विधायक कैलाश विजयवर्गीय को  हाई कोर्ट में उपस्थित होकर चुनाव याचिका में बयान देना थे, लेकिन वे नहीं आए। उनकी ओर से आवेदन देकर कहा गया कि उन्हें संसद सत्र में शामिल होना है इसलिए एक महीने का समय दिया जाए। आवेदन खारिज करते हुए कोर्ट ने आदेश दिया कि वे 25 नवंबर को अनिवार्य रूप से कोर्ट के समक्ष उपस्थित होकर बयान दर्ज कराएं। ऐसा नहीं किया तो कोर्ट उनका सुनवाई का अधिकार समाप्त कर सकती है। विजयवर्गीय के खिलाफ यह चुनाव याचिका अंतरसिंह दरबार ने दायर की है। उनकी ओर से पैरवी एडवोकेट रविंद्रसिंह छाबड़ा और विभोर खंडेलवाल कर रहे हैं। याचिका में याचिकाकर्ता की ओर से गवाही पूरी हो चुकी है। अब विजयवर्गीय के बयान होना है। पिछली सुनवाई पर भी वे अनुपस्थित रहे थे। याचिका में विजयवर्गीय पर आरोप लगाए हैं कि उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान आचार संहिता का उलंघन किया है। उनका निर्वाचन शून्य घोषित किया जाए। याचिकाकर्ता ने अपने समर्थन में दो दर्जन से ज्यादा गवाहों के बयान दर्ज कराए हैं। पिछली सुनवाई पर विजयवर्गीय ने आवेदन देकर दो महीने का समय मांगा था। कहा था कि यूपी चुनाव में व्यस्त रहेंगे कि वजह से वे कोर्ट में उपस्थित नहीं हो सकेंगे। कोर्ट ने आवेदन खारिज करते हुए गुरुवार की सुनवाई तय की थी। विजयवर्गीय ने गुरुवार आवेदन देकर संसद सत्र में शामिल होने के नाम पर एक महीने का समय मांगा था। याचिकाकर्ता के वकील ने इसका विरोध किया और कहा कि दोनों आवेदन में विरोधाभासी बातें हैं। कभी चुनाव में व्यस्तता के नाम पर तो कभी संसद सत्र में शामिल होने के नाम पर समय मांगा जा रहा है। कोर्ट ने विजयवर्गीय को 25 नवंबर को अनिवार्य रूप से उपस्थित होने के आदेश दिए। विजयवर्गीय के अनुपस्थिति रहने की वजह से कोर्ट अगली सुनवाई पर उनकी ओर से साक्ष्य समाप्त कर सकती है। ऐसा होता है तो विजयवर्गीय इस आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जा सकते हैं। ऐसी स्थिति में चुनाव याचिका की सुनवाई लंबित होगी और इसका फायदा विजयवर्गीय को मिलेगा।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 November 2016

डॉलर सा लगा 2000 का नोट

   500 और 1000 रुपए के नोटों पर बैन के बाद गुरुवार से नए नोट मिलने शुरू हो गए। सभी को दो हजार के नए नोट को लेकर उत्सुकता था। जिस-जिस शख्स को नोट मिला, सबसे पहले उसने नोट का निहारा। 2000 रुपए का नोट जिसके भी हाथ में आया तो कइयों मुंह से यही निकला कि यह नोट तो डॉलर जैसा दिखता है। वहीं कुछ लोगों को यह लॉटरी टिकट जैसा लग रहा है। मध्‍यप्रदेश के इंदौर में बैंको में लोग सुबह से ही 500 व 1000 के नोट लेकर पहुंचे। इंदौर के मालव स्थित आईसीआईसीआई बैंक में तो सेकड़ो लोग बैंक के खुलने के पहले ही पहुंच गए थे। लेकिन यहां जब प्रबंधन ने जब लोगो को 500 व 1000 के नोट बदलने के लिये दिए तो उन्हें 50 व 100 के कटे फटे पुराने नोट दिए गए।विजय नगर क्षेत्र में रहने वाले तनवीर पटेल ने विरोध किया। इसके बाद बैंक प्रबंधन से लोगों ने 2000 के नए नोट देने की मांग की। विरोध बढ़ते देख तनवीर पटेल की बात मान ली गई। उसे 2 हजार के 2 नोट दिए गए। तनवीर ने अपनी इस खुशी को सोशल मीडिया में यह शेयर भी किया है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  10 November 2016

madhyprdesh shivraj singh

इंदौर में दो दिवसी ग्लोबल इन्वेस्टर समिट का समापन होने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और मुख्य सचिव अंटोनी डिसा आज अधिकारियों से चर्चा कर इन निवेश प्रस्तावों को धरातल पर लाने के लिए रणनीति को लेकर अधिकारियों से चर्चा की । समिट में आए प्रस्तावों का विश्लेषण कर यह तय किया जाएगा कि कौन से गंभीर निवेश प्रस्ताव है और इन प्रस्तावों के लिए रिलेशनशिप मैनेजर के रूप में अधिकारियों की तैनाती करने से लेकर इसके फालोअप की रणनीति पर मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव चर्चा करेंगे। इन्वेस्टर समिट में 2630 निवेशकों ने 5 लाख 62 हजार 847 करोड़ रुपए के प्रस्ताव  दिए है। इनमें से विभिन्न सेक्टरों में आए निवेश और बड़े उद्योगपतियों द्वारा दिए गए निवेश प्रस्तावों को लेकर मुख्य सचिव अंटोनी डिसा पहले उद्योग विभाग के प्रमुख सचिव मोहम्मद सुलेमान, एमएसएमई के प्रमुख सचिव वीएल कांताराव, नगरीय प्रशासन, राजस्व सहित अन्य विभागों के अधिकारियों के साथ चर्चा करेंगे। इसके बाद शाम पांच बजे मुख्यमंत्री निवेश प्रस्तावों को लेकर इन सभी विभागों के अधिकारियों और मुख्यसचिव के साथ चर्चा करेंगे। मुख्यमंत्री पहले बड़े निवेशकों आदित्य बिड़ला, अंबानी समूह, बाबा रामदेव सहित अन्य देशी-विदेशी निवेशकों द्वारा दिए गए निवेश प्रस्तावों का विश्लेषण अधिकारियों के साथ करेंगे। इसमें से बड़े निवेश प्रस्तावों पर पहले बात होगी। इन प्रस्तावों को धरातल पर लाने, निवेशकों को सिंगल विंडो पर सारी सुविधाएं उपलब्ध कराने, जमीन, पानी, बिजली, इन्फ्रास्ट्रक्चर उपलब्ध कराने को लेकर क्या रणनीति हो यह तय किया जाएगा। हर निवेशक के साथ एक-एक आईएएस अधिकारी की जिम्मेदारी तय की जाएगी। रिलेशनशिप मैनेजर बनाए जाएंगे। निवेश प्रस्तावों को शुरु करने तक उनके अलग-अलग फालोअप किस तरह किया जाए, अधिकारियों की क्या भूमिका हो, विभिन्न विभागों से जुड़ी अनुमतियां देने के लिए विभागवार अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की जाएगी। निवेशक को एक स्थान पर आवेदन करने पर सारी सुविधाएं कैसे मिले यह तय किया जाए। इस बार मुख्यमंत्री का फोकस जल्द से जल्द समयसीमा के भीतर इन निवेश प्रस्तावों को धरातल पर उतारने में होगा। इंदौर में दो दिन चली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में प्रदेश में आए निवेश के प्रस्तावों को अमल में लाने के लिए मुख्यमंत्री चाहते है कि अगले साल मिशन मोड पर काम करना है। प्रदेश में रोजगार के अवसर बढ़े, निवेश ज्यादा हो ताकि प्रदेश का औद्योगिक विकास तेजी से हो इसलिए इन निवेश प्रस्तावों को जल्द से जल्द पूरा कराने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया जाएगा।   डिसिप्लीन & कॉर्डिनेशन का पाठ पढ़ेंगे मंत्री, IAS-IPS एमपी  के 46 जिलों के कलेक्टर, एसपी, सीईओ जिला पंचायत,नौ संभागों के कमिश्नर और पंद्रह नगर निगम आयुक्तों की दो दिवसीय कलेक्टर-कमिश्नर कांफे्रंस मंगलवार को सुबह साढ़े दस बजे से नर्मदा भवन में शुरु होगी। इसमें सभी मंत्रियों को भी बुलाया गया है। मंत्रियों के साथ अफसरों से मुख्यमंत्री कई सत्रों में चर्चा करेंगे। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान और मुख्य सचिव अंटोनी डिसा उद्घाटन सत्र के बाद सबसे पहले अफसरों से से पूछेंगे कि आम जनता को नागरिक सेवाएं समय पर दी जा रही है या नहीं, इसमें क्या कठिनाई आ रही है और इसे और बेहतर बनाने के लिए क्या किया जा सकता है। कलेक्टर-कमिश्नर कांफ्रेंस की शुरुआत सुबह दस बजे उद्घाटन सत्र से होगी। सबसे पहले मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान कलेक्टर-कमिश्नरों से गुड गर्वनेंस को लेकर बात करेंगे। राज्य सरकार की प्राथमिकताएं, आमजनता की समस्याओं के निराकरण में अधिकारियों की क्या भूमिका हो, किस तरह से सरकारी योजनाओं का लाभ जमीनी स्तर पर आम लोगों तक पहुंचाना सुनिश्चित किया जाए। 2018 के चुनावों को ध्यान में रखते हुए मिशन मोड पर डेढ़ साल तक क्या करना है और कैसे करना है इसकी रुपरेखा मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव रखेंगे। इसके बाद सुबह साढ़े दस बजे नगरीय कल्याण विभाग के तहत नागरिक केन्द्रित सेवाओं का समय पर प्रदाय किस तरह किया जाए, शहरी आवास योजनाएं कैसे बने और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का ड्रीम प्रोजक्ट स्वच्छ भारत मिशन, शहरी स्वच्छता मिशन को लेकर मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव अफसरों से वन-टू वन चर्चा करेंगे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  24 October 2016

sushma swaraj

समिट में 5 लाख 62 हजार 847 करोड़ रूपये के 2630 इन्टेंशन टू इन्वेस्ट  विदेश मंत्री  सुषमा स्वराज ने कहा है कि सतत प्रयासों के फलस्वरूप मध्यप्रदेश आज निवेश के लिये सबसे अधिक पसंदीदा राज्य बन गया है। श्रीमती स्वराज  इंदौर में ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 2016 के समापन समारोह को संबोधित कर रही थी। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने बताया कि इस समिट में 5 लाख 62 हजार 847 करोड़ रूपये के 2630 इन्टेंशन टू इन्वेस्ट मिले हैं। समिट में 42 देश के लगभग 4 हजार निवेशक ने भाग लिया। उन्होंने कहा कि अगली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट इंदौर में 16 और 17 फरवरी 2019 को होगी। श्रीमती स्वराज ने कहा कि मध्यप्रदेश में बेहतर नेतृत्व और जन-केन्द्रित नीतियों से विकास हुआ है। प्रदेश की विकास दर लगातार 10 प्रतिशत से अधिक रही है। भारत को 21वीं सदी की चुनौतियों का सामना करने के लिये मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया, क्लीन इंडिया, स्टार्टअप इंडिया, स्टेण्डअप इंडिया और स्मार्ट सिटी जैसे कार्यक्रम शुरू किये गये हैं। विश्व बैंक ने भारत को सबसे अधिक खुली अर्थ-व्यवस्था बताया है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष ने भारत को वर्ष 2016-17 के लिये विश्व की सबसे तेजी से विकसित हो रही अर्थ-व्यवस्था बताया है। जीएसटी को 23 राज्य ने पारित किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनने के बाद 55.5 मिलियन डॉलर का विदेशी प्रत्यक्ष निवेश आया है, जो पिछले वर्ष की तुलना मे 53 प्रतिशत अधिक है। विदेश मंत्रालय ने ई-वीजा योजना लागू की है। राज्यों में विदेशी पूँजी निवेश को बढ़ावा देने के लिये अलग से स्टेट डिवीजन बनाया है। मध्यप्रदेश में विदेशी पूँजी निवेश में केन्द्रीय विदेश मंत्रालय पूरी मदद करेगा। उन्होंने कहा कि 25 मिलियन अप्रवासी भारतीय भारत के विकास में योगदान दे रहे हैं। उन्हें संवाद का मंच उपलब्ध कराने के लिये प्रवासी भारतीय दिवस 7 जनवरी 2017 को बैंगलुरु में आयोजित किया जायेगा। मध्यप्रदेश बन गया है 'मुख्य प्रदेश' – श्री नायडू केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री  वैंकैया नायडू ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को समर्पित, डायनामिक और अनुशासित मुख्यमंत्री बताते हुए कहा कि उनके नेतृत्व में मध्यप्रदेश तेजी से आगे बढ रहा है। श्री नायडू ने कहा कि मध्यप्रदेश के लिये इस्तेमाल होने वाला बीमारू शब्द अब अतीत की बात हो गई। पिछले दस साल में मध्यप्रदेश, मुख्यप्रदेश बन गया है। उन्होंने कहा कि 18 हजार 900 मेगावाट बिजली उपलब्ध होना एक रिकार्ड है। अब सभी क्षेत्रों के लिये बिजली की उपलब्धता सुनिश्चित है। कृषि के क्षेत्र में मध्यप्रदेश सबसे आगे है। कृषि क्षेत्र में प्रगति का नया कीर्तिमान बना है। श्री नायडू ने कहा कि मध्यप्रदेश निवेशक के लिये अब आदर्श स्थल बन गया है। उन्होंने कहा कि शहरी अधोसंरचना अभूतपूर्व रूप से मजबूत हुई है। इसमें मुख्यमंत्री का नेतृत्व सराहनीय है।  श्री चौहान ने कहा कि निवेशकों के उत्साह और निवेश करने के सकारात्मक दृष्टिकोण को देखते हुए मध्यप्रदेश का औद्योगिक विकास अवश्यंभावी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में देश का विकास हो रहा है। मध्यपदेश इसमें प्रमुख भूमिका निभाने के लिये तैयार है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के सबके लिये आवास की सोच को मध्यप्रदेश पूरा करेगा। उन्होंने प्रतिभावान विद्यार्थियों की पढाई की फीस सरकार द्वारा भरने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि कौशल सम्पन्न जनशक्ति तैयार कर रहे हैं। स्वस्थ मध्यप्रदेश बनाने के लिये संकल्पित हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय ने 20 हजार करोड रूपये के निवेश के एमओयू किये हैं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश की पहचान केवल भोपाल गैस त्रासदी से होती थी अब बेहतर निवेश परिवेश के लिये होती है। श्री चौहान ने कहा कि निवेश का यह कारवां बढ़ता रहेगा। निवेशकों का भरोसा टूटने नहीं देंगे। मुख्यमंत्री ने उद्योगों और निवेशकों के हित में कई घोषणाएँ की। केन्द्रीय सामाजिक न्याय मंत्री श्री गेहलोत केन्द्रीय सामाजिक न्याय मंत्री  थावरचंद गेहलोत ने कहा कि मध्यप्रदेश ने तेज गति से विकास किया है। मध्यप्रदेश में निवेश के लिये बेहतर वातावरण उपलब्ध है। निवेशक निर्यात बढ़ाने के लिये उत्पादक उद्योगों में निवेश करें। उन्होंने कहा कि दिव्यांगों के लिये आवश्यक उपकरण जैसे मोटराईज्ड ट्रायसायकल, कृत्रिम हाथ-पैर, श्रवण यंत्र अभी विदेशों से बुलाये जाते हैं। इन उपकरणों के निर्माण के उद्योग देश में ही शुरू किये गये हैं। केन्द्रीय पेट्रोलियम राज्य मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान केन्द्रीय पेट्रोलियम राज्य मंत्री  धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि मध्यप्रदेश में पिछले दस वर्षों में अभूतपूर्व विकास हुआ है। प्रदेश में 20 प्रतिशत से अधिक की कृषि विकास दर का प्रभाव अर्थ-व्यवस्था पर भी हुआ है। ग्रामीणों की क्रय शक्ति बढ़ी है, जिसका प्रमाण पेट्रोलियम उत्पादों की खपत बढ़ना है। उन्होंने कहा कि जीएसटी लागू होने से पेट्रोलियम उत्पादों पर करों से होने वाली आय में राज्यों को कोई नुकसान नहीं होगा। विश्व में हर वर्ष पेट्रोल की खपत दस प्रतिशत की दर से बढ़ रही है। प्रदेश में पिछले दो वर्ष में 30 लाख घरेलू एलपीजी कनेक्शन बढ़े हैं। अगले दो वर्ष में 50 लाख घरेलू एलपीजी कनेक्शन बढ़ेंगे। इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन, ऑयल इंडिया, एनटीपीसी मिलकर प्रदेश में 500 मेगावॉट का सोलर पॉवर प्लांट स्थापित करेंगे। पेट्रोलियम मंत्रालय द्वारा पेट्रो क्षेत्र में अधोसंरचना विकास के लिये 1700 करोड़ रूपये निवेश किये जायेंगे। बीना में 500 करोड़ रूपये के निवेश से ग्रीन रिफायनरी स्थापित की जायेगी। पर्यावरण मंत्रालय से उद्योगों को मिलेगी अविलम्ब स्वीकृति – श्री दवे केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण राज्य मंत्री  अनिल माधव दवे ने कहा कि जंगल को भी उद्योग की नजरिये से देखने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश की वन संपदा अद्भुत और विशाल है। यहाँ घास और बाँस ऐसी उपज है जिनका औद्योगिक मूल्य है। उन्होंने कहा कि उद्योग को अनुसंधान पर भी ध्यान देना चाहिये ताकि देशज परिस्थितियों के हिसाब से पेटेंट उपलब्ध हो सके। श्री दवे ने कहा कि वन, पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय उद्योगों को 120 दिन में स्वीकृति दे रहा है। इससे भी कम दिनों में स्वीकृतियाँ देने के प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि उद्योगों को वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन पर भी ध्यान देने की जरूरत है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  24 October 2016

ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट-2016

ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट-2016  ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के दूसरे और समापन दिवस पर भी मध्यप्रदेश में बीते ग्यारह वर्ष में हुए विकास की प्रशंसा के स्वर सुनाई दिये। केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री श्री वैंकेया नायडू ने कहा कि विद्युत, पेयजल और अच्छी सड़कों की उपलब्धि मध्यप्रदेश की विशेषता बन गई है। इससे शहरों के व्यवस्थित विकास का कार्य भी आसान हो गया है। श्री नायडू ने कहा कि इन्दौर नगर में हुए विकास और कायाकल्प के नये कार्यक्रम देखकर प्रसन्नता होती है। जहाँ मध्यप्रदेश सरकार की विकास की तीव्र चाह प्रशंसनीय है, वहीं इन्दौर के नागरिकों के सकारात्मक और सहयोगी रवैये की भी तारीफ करनी होगी। प्रगति हासिल करने और अच्छे वातावरण में रहने की जनता की यह मानसिकता सुखद संकेत है। नायडू ने कहा किन्दौर आगमन से विशेष खुशी मिलती है। जब मुख्यमंत्री ने स्वागत से किया इंकार शहरी विकास मंत्री श्री वैंकेया नायडू की उपस्थिति में आज समानान्तर सत्र में पहुँचे मुख्यमंत्री  चौहान ने स्वयं का स्वागत करवाने से इंकार कर एक उदाहरण प्रस्तुत किया। समिट के समापन दिवस पर शहरी विकास पर केन्द्रित सत्र में जब मुख्यमंत्री, केन्द्रीय मंत्री श्री नायडू को लेकर पहुँचे तब उनका पुष्प गुच्छ से स्वागत करने आए अधिकारियों से अपना स्वागत करवाने से इंकार किया। मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री  नायडू के स्वागत के बाद सत्र की कार्यवाही जारी रखने के निर्देश दिये।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  23 October 2016

mp टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज

टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज के लिये उद्योग नीति में विशेष प्रावधान   मध्यप्रदेश पाँच सबसे बड़े कपास उत्पादक राज्यों में से एक है। औद्योगिक क्षेत्र में टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज ऐसी इंडस्ट्री है जिसके माध्यम से अधिक से अधिक लोगों को रोजगार दिया जा सकता है। इस वजह से टेक्सटाइल इंडस्ट्री को प्रोत्साहन दिया जाना राज्य सरकार की प्राथमिकताओं में है। टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज के लिये प्रदेश में अनुकूल माहौल है। पिछले एक दशक में टेक्सटाइल इंडस्ट्री में मध्यप्रदेश में अच्छी ग्रोथ हुई है। यह विचार आज इंदौर में ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के समानान्तर सत्र में टेक्टाइल इंडस्ट्रीज से जुड़े वक्ताओं ने व्यक्त किये। सत्र के प्रारम्भ में एम.पी. ट्राइफेक के प्रबंध संचालक  डी.पी. आहूजा ने मध्यप्रदेश में टेक्सटाइल इंडस्ट्री के परिदृश्य की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वर्ष 2014 में तैयार की गई उद्योग संवर्धन नीति में कपड़ा उद्योग को बढ़ावा देने के कई प्रावधान किये गये हैं। उन्होंने प्रदेश में टेक्सटाइल इंडस्ट्री के लिये उपलब्ध जमीन के बारे में जानकारी दी। श्री आहूजा ने बताया कि कपड़ा उद्योग के लिये प्रदेश में पर्याप्त कपास उपलब्ध है। वर्तमान में प्रदेश में 65 बड़ी कपड़ा मिलें सफलतापूर्वक काम कर रही हैं। इंदौर, उज्जैन, धार, देवास, खरगोन, खण्डवा, बुरहानपुर, ग्वालियर, छिन्दवाड़ा, जबलपुर और भोपाल टेक्सटाइल सेंटर के रूप में उभर कर सामने आये हैं। उद्योग आयुक्त  वी.एल. कान्ताराव ने बताया कि 4203 लूम्स, 53 हजार के करीब पावर लूम्स, 17 हजार 500 पावर लूम्स यूनिट और 49 स्पिनिंग यूनिट सफलता से काम कर रही हैं। उन्होंने बताया कि चंदेरी साड़ी बनाने वाले बुनकरों को आधुनिक सयंत्र उपलब्ध करवाये गये हैं। वर्धमान टेक्सटाइल के ज्वाइंट मेनेजिंग डायरेक्टर  सचिन जैन ने 'टेक्सटाइल सेक्टर में चुनौती' पर विचार रखे। उन्होंने बताया कि टेक्सटाइल इंडस्ट्री में लगातार मॉर्डनाइजेशन से बदलाव आ रहे हैं। इस उद्योग में सिस्टम, स्टाइल, स्किल स्टाफ और शेयर वेल्यू में लगातार ध्यान देने की जरूरत होती है। ट्राइडेंट लिमिटेड के चेयरमेन  राजीन्दर गुप्ता ने 'मध्यप्रदेश में टेक्सटाइल इंडस्ट्री के लाभ' पर विचार रखे। उन्होंने बताया कि इस उद्योग में महिलाओं को ज्यादा रोजगार मिलता है। मध्यप्रदेश में पर्याप्त संख्या में कुशल श्रमिक हैं। उन्होंने स्पिनिंग, प्रोसेसिंग, स्टिचिंग और कच्चे माल की उपलब्धता पर निवेश करने वाले प्रतिनिधियों को जानकारी दी। श्री गुप्ता ने बताया कि मध्यप्रदेश में टेक्सटाइल इंडस्ट्री का गौरवशाली इतिहास रहा है। इंदौर की मिलें सारे देश में जानी जाती थीं। ट्राइडेंट के चेयरमेन ने बताया कि कपड़ा उद्योग से बड़ी संख्या में किसानों को रोजगार दिया जा सकता है। टेक्सटाइल सेक्टर स्किल कॉउसिंल के सी.ई.ओ. श्री जे.वी. राव ने कपड़ा उद्योग में लगने वाले कुशल और अकुशल श्रमिकों के प्रशिक्षण के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि भारत सरकार ने कपड़ा उद्योग को बढ़ावा देने के लिये श्रमिकों के प्रशिक्षण का कार्यक्रम तैयार किया है। उन्होंने देश और मध्यप्रदेश में ट्रेनिंग सेंटर और फैशन डिजाइनिंग इंस्टीट्यूट के बारे में जानकारी दी।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  23 October 2016

एमपी में 600  होटल

मध्यप्रदेश का पर्यटन सेक्टर निरंतर विकास कर रहा है। प्रदेश में वर्ष 2008 के मुकाबले 2015 में 14 करोड़ पर्यटक आये। पिछले साल के लिये देश के 12 पुरस्कार में से अकेले 6 पुरस्कार मध्यप्रदेश को ही मिले। पिछले 5 साल से प्रदेश पर्यटन में अग्रणी स्थान पा रहा है। संस्कृति एवं पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सुरेन्द्र पटवा ने यह बात आज इंदौर में ग्लोबल इनवेस्टर्स समिट 2016 के पर्यटन सत्र में कही। पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष  तपन भौमिक ने कहा कि प्रदेश को देश में पर्यटन के क्षेत्र में प्रथम स्थान मिल रहा है, जिसे हम विश्व-स्तरीय बनाने का प्रयास कर रहे हैं। प्रदेश में वाटर और हेरिटेज पर्यटन को प्रोत्साहित किया जा रहा है। दिनांक 15 दिसम्बर 2016 से 15 जनवरी 2017 तक एक माह का जल महोत्सव बनाया जायेगा। नई पर्यटन नीति-2016 में बहुत सारी सुविधाएँ दी जा रही हैं। अपर प्रबंध संचालक पर्यटन विकास निगम  तन्वी सुन्द्रियाल ने निवेशकों को आमंत्रित करते हुए बताया कि प्रदेश में 600 से अधिक नये होटल खोले जायेंगे, जिसमें औसतन 25 कमरे होंगे। प्रदेश में 3 विश्व धरोहर, 8 एडवेंचर साइटस, 27 प्रसिद्ध मंदिर-मस्जिद, किले-महल, 25 वन्य प्राणी अभयारण्य और 7 टाईगर रिजर्व पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित कर रहे हैं। पर्यटकों को असुविधा न हो, इसके लिये शासन हरसंभव प्रयास कर रहा है। मुख्य महाप्रबंधक एयर इंडिया अश्विनी लोहानी ने कहा कि मध्यप्रदेश पर्यटन के लिहाज से देश का सबसे समृद्ध राज्य है। यहाँ पिछले 10 साल में सड़कों की गुणवत्ता बढ़ने से पर्यटन का तेजी से विकास हुआ है। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये नेशनल और स्टेट हाईवे पर हर 40-50 किलोमीटर की दूरी पर कुल 3000 वे-साइड एमेनिटीज उपलब्ध हैं और 23 लगभग खुलने को तैयार हैं। डब्ल्यूएसए के लिये बिजनेस मॉडल तैयार किया गया है। मध्यप्रदेश पहला राज्य है जहाँ पर्यटन केबिनेट आरंभ की गई है। निवेशकों के लिये वित्तीय स्थिरता, शांत मानव संसाधन, मित्रवत नीति आदि उपलब्ध है। पाँच हेरिटेज होटल बनाये जा रहे हैं और 15 की कार्रवाई जारी है। मिन्टो हॉल 1909-हेरिटेज का भी जीर्णोद्धार किया जा रहा है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  23 October 2016

arun jetly gis 2016

  मध्यप्रदेश बनेगा देश का सप्लाई हब - केन्द्रीय वित्त मंत्री श्री जेटली विकास और समृद्धि के लिये निवेशक और सरकार मिलकर साथ चलें - मुख्यमंत्री श्री चौहान    केन्द्रीय वित्त मंत्री  अरूण जेटली ने कहा है कि जीएसटी लागू होने के बाद देश की अर्थ-व्यवस्था में सप्लाय चेन का महत्व होगा, जिसमें मध्यप्रदेश अपनी बेहतर भौगोलिक स्थिति के कारण देश का सप्लाय हब बनेगा। इस बात को ध्यान में रखकर निवेशक मध्यप्रदेश में निवेश करें। केन्द्रीय मंत्री श्री जेटली आज इंदौर में ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 2016 के शुभारंभ सत्र को सम्बोधित कर रहे थे। इस समिट में 42 देश के लगभग 4000 निवेशक और उनके प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं। समिट में यूके, साऊथ कोरिया, जापान, यूएई, सिंगापुर के राजदूत और निवेशक प्रतिनिधि भी भाग ले रहे हैं। केन्द्रीय मंत्री  जेटली ने कहा कि इन दिनों देश में निवेश का बेहतर वातावरण बना है। सार्वजनिक क्षेत्र में निवेश की गति बढ़ी है। उसी गति के अनुरूप निजी क्षेत्र भी निवेश करे। मध्यप्रदेश में निवेश करने वाले को बेहतर अनुभव होगा। मध्यप्रदेश अपने ऐतिहासिक भौगोलिक नुकसान को लाभ में बदलकर उभरने वाले राज्य की मिसाल बना है। तेरह वर्ष पहले मध्यप्रदेश सड़क, बिजली और पानी के क्षेत्र में पिछड़े राज्यों में था और बीमारू माना जाता था। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के वर्तमान नेतृत्व और राज्य सरकार ने अधोसंरचना के क्षेत्र में बेहतर काम किया है। आज मध्यप्रदेश की सड़कें बेहतर हैं और बिजली के क्षेत्र में राज्य पावर सरप्लस है। किसानों को सिंचाई के लिये पानी की बेहतर सुविधाएँ हैं। राज्य सरकार ने संसाधनों का उपयोग लोगों को आर्थिक रूप से सुदृढ़ करने के लिये किया है। इससे प्रदेश की कृषि विकास दर लगातार 20 प्रतिशत से अधिक रही तथा लोगों की क्रय शक्ति बढ़ी। कृषि अर्थ-व्यवस्था में सुधार तथा लोगों की क्रय शक्ति बढ़ने का समग्र प्रभाव राज्य की अर्थ-व्यवस्था पर भी पड़ा। मध्यप्रदेश देश की अर्थ-व्यवस्था में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की स्थिति में आ गया है। उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र की वृद्धि दर उन्हीं राज्यों में ज्यादा रही जहाँ नेतृत्व में स्थायित्व है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में अधोसंरचना है। शैक्षणिक हब बन रहा है। नेतृत्व में स्पष्टता है। बड़ा कंज्यूमर बेस है। अभी मध्यप्रदेश का सर्वश्रेष्ठ सामने आना शेष है। केन्द्रीय मंत्री  जेटली ने कहा कि अब राज्य सरकार का जोर शहरी अधोसंरचना, कौशल विकास, शिक्षा और स्वास्थ्य क्षेत्र में निवेश पर है। इन दिनों देश में भी अनुकुल परिस्थितियाँ बनी हैं। केन्द्र में राजनीतिक परिवर्तन के बाद बेहतर वातावरण बना है। वैश्विक स्तर पर क्रूड आइल की कीमतें गिरने का फायदा देश को हुआ है। आर्थिक संसाधनों की बचत से अधोसंरचना और ग्रामीण अर्थ-व्यवस्था के लिये ज्यादा राशि उपलब्ध हुई है। देश में अच्छी वर्षा से खाद्य उत्पादन बढ़ेगा। मुद्रास्फीति कम होगी। विश्व के कई देशों में मंदी का असर हुआ है। देश के लिये यह अवसर एक चुनौती के रूप में सामने आया है। मध्यप्रदेश ऐसा राज्य बनकर उभरा है, जिसमें नेतृत्व ने सफलतापूर्वक आगे बढ़ने की तीव्र आकांक्षा को साकार किया है। उन्होंने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री चौहान को बधाई देते हुए कहा कि स्पष्ट रोडमेप और इच्छाशक्ति से उन्होंने प्रदेश को सफलता की ऊँचाइयों तक पहुँचाया है। मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट का अर्थ सिर्फ बिजनेस मीट नहीं है। जीआईएस में 4जी है। गुडविल यानि भरोसा, ग्रोथ यानि समावेशी विकास, गारंटी और गुड गवर्नेंस। उन्होंने कहा कि पिछले दो साल में खाद्य प्र-संस्करण के क्षेत्र में 175 इकाइयों ने काम करना शुरू कर दिया है। नवकरणीय ऊर्जा में 92 इकाइयों ने काम करना शुरू कर दिया है। पिछले दो साल में दो लाख 75 हजार करोड़ रूपए की उद्योग इकाइयाँ स्थापित हो गई हैं। मध्यप्रदेश की विशिष्टताएँ गिनाते हुए उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सर्वाधिक औद्योगिक मित्र प्रदेश बन गया है। हर क्षेत्र में निवेश की नीतियाँ बनाई गई हैं और प्रभावी रूप से समस्याओं का समाधान करने का तंत्र स्थापित किया गया है। उन्होंने कहा कि सवा लाख एकड़ का भूमि बैंक उद्योगों के लिये बनाया गया है। मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश में निवेश करने की अनुकूल परिस्थितियों को रेखांकित करते हुए कहा कि यहाँ औद्योगिक शांति है, मानव दिवसों का नुकसान नहीं होता। प्रशिक्षित मानव संसाधन उपलब्ध है। सिंगल विण्डों के बजाय अब सिंगल टेबल व्यवस्था है। श्री चौहान ने कहा कि उद्योगों के लिये जितनी भी जरूरी शासकीय सेवाएँ हैं उन्हें लोक सेवा प्रदाय गारंटी नियम में लाया गया है। करीब 300 सेवाएँ इसके अंतर्गत लायी गयी हैं। श्री चौहान ने कहा कि व्यापार को आसान बनाने में मध्यप्रदेश देश के सर्वोच्च पाँच राज्य में शामिल है। उन्होंने कहा कि निवेशकों को विकास और समृद्धि में भागीदार के रूप में सम्मान दिया जाता है। उन्होंने कहा कि जितने भी निवेश प्रस्ताव पिछले दो साल में मिले हैं उन्होंने एक साल के अंदर ही उत्पादन शुरू कर दिया है। ऑनलाईन निवेश प्रस्ताव भी हमने स्वीकृत किये हैं। श्री चौहान ने सफलता का श्रेय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व को देते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में निवेशकों को किसी भी प्रकार की समस्याएँ नहीं आयेंगी। निवेशक और सरकार साथ मिलकर काम करेगी तो विकास और समृद्धि के नये रास्ते भी खुलेंगे। श्री चौहान ने कहा कि विकास का लाभ प्रत्येक नागरिक तक पहुँचाने के लिये सभी कदम उठाये गये हैं। आनंद मंत्रालय का गठन किया गया है। मंत्रालय के जरिये नागरिकों को अर्थपूर्ण जीवन जीने के लिये प्रेरित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि आर्थिक विकास के साथ आध्यात्मिक उन्नति और शांति भी जरूरी है। उन्होंने निवेशकों का आव्हान किया कि वे अपने निवेश प्रस्ताव बनाते समय मध्यप्रदेश का विशेष ध्यान रखें। उन्होंने कहा कि इस इन्वेस्टर्स समिट में दो हजार से ज्यादा निवेशकों ने 10 हजार करोड़ रूपये से ज्यादा के निवेश के प्रस्तावदिये हैं। मध्यप्रदेश अब निवेशक मित्र राज्य : तोमर केन्द्रीय पंचायत राज एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने समिट को सफल बताते हुए कहा कि इसका श्रेय मुख्यमंत्री श्री चौहान के करिश्माई नेतृत्व को जाता है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2003 के पहले कोई भी निवेशक मध्यप्रदेश में निवेश के बारे में सोचता भी नहीं था। आज मध्यप्रदेश निवेश मित्र राज्य बन गया है। इसके पीछे श्री चौहान की कड़ी मेहनत है जो अब साफ दिख रही है। उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र में अभूतपूर्व प्रगति हुई है। ग्रामीण विकास का पूरा परिदृश्य बदल गया है। उन्होंने कहा कि श्री चौहान अपने सफल कार्यकाल के 11 वर्ष पूरे कर रहे हैं। मध्यप्रदेश उनके नेतृत्व में और आगे बढ़ेगा। एक देश और एक कर से मध्यप्रदेश को फायदा होगा। मध्यप्रदेश बना गुड गवर्नेंस का मानक :  प्रसाद केन्द्रीय संचार और सूचना प्रौद्योगिकी, विधि एवं न्याय मंत्री श्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में टीम इंडिया के प्रयासों से भारत विभिन्न क्षेत्रों में आगे बढ़ रहा है। इसमें औद्योगिक निवेश के क्षेत्र में टीम इंडिया के कैप्टन प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी हैं, तो मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ओपनिंग बेट्समेन हैं। श्री चौहान के नेतृत्व में पिछले ग्यारह वर्षों में मध्यप्रदेश का समग्र विकास हुआ है। श्री प्रसाद ने कहा कि मध्यप्रदेश में न केवल सिंचाई, कृषि, बिजली, उद्यानिकी एवं अधोसंरचना विकास के क्षेत्र में काम हुआ है बल्कि सूचना एवं तकनीकी विकास के क्षेत्र में व्यापक काम हुए हैं। मध्यप्रदेश ने गुड गवर्नेंस का मानक स्थापित किया। श्री प्रसाद ने कहा कि देश में डिजिटल इंडिया, स्टार्टअप इंडिया, स्टेण्डअप इंडिया, मेक इन इंडिया, जन-धन योजना आदि कार्यक्रमों से प्रगति के नये मानदण्ड स्थापित किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि बैंक खाते आधार से जुड़ने के बाद सब्सिडी सीधे बैंक खातों में जमा हो रही है, जिससे 36 हजार करोड़ रूपये की बचत हुई है। देश से इस वर्ष 8 लाख करोड़ रूपये के सूचना प्रौद्योगिकी उत्पाद निर्यात किये गये हैं। इलेक्ट्रानिक निर्माण के क्षेत्र में 40 मोबाईल निर्माण इकाइयाँ खुली हैं। मध्यप्रदेश में भी भोपाल और जबलपुर में इलेक्ट्रानिक मेन्यूफ्रेक्चरिंग क्लस्टर बनाया जा रहा है। मध्यप्रदेश इस क्षेत्र में ऐतिहासिक भूमिका निभा रहा है। टेक्सटाईल क्षेत्र में होगा पतंजलि का निवेश -किसानों को 10 हजार करोड़ की आय होगी पतंजलि प्रायवेट लिमिटेड के प्रमुख योगगुरू  बाबा रामदेव ने कहा है कि भारत और मध्यप्रदेश की आर्थिक विकास दर संतोषजनक बनी हुई है जबकि यूके और यूएस जैसी बड़ी अर्थ-व्यवस्थाओं में मंदी है। उन्होंने कहा कि पतंजलि ग्रोथ की रेट अगले दो सालों में 200 प्रतिशत तक बढ़ जायेगी। हम चाहते हैं कि मध्यप्रदेश को भी इससे लाभ हो। उन्होंने खुद को वैश्विक नागरिक बताते हुए कहा कि अब पतंजलि लोगों की दवाइयों पर लगने वाला खर्च को बचाएगा। उन्होंने बताया कि टेक्सटाईल के क्षेत्र में पतंजलि बड़ा निवेश करने जा रहा है। अगले दो साल में पतंजलि के निवेश से किसानों की 10 हजार करोड़ रूपये की आय बढ़ेगी। दस हजार किसानों को लाभ होगा। उन्होंने कहा कि पतंजलि का आर्थिक निवेश सेवा के लिये है लाभ के लिये नहीं। भारत में चार लाख करोड़ रूपये के चीनी सामानों की बिक्री होने का संदर्भ देते हुए उन्होंने कहा कि भारत में 25 लाख करोड़ रूपये के उत्पाद निर्यात करने की क्षमता है। श्री रामदेव ने मुख्यमंत्री  चौहान को फकीर स्वभाव का मुख्यमंत्री बताते हुए कहा कि वे बड़ा सोचते हैं। सीधी बात करते हैं, मेहनती हैं। वे स्वभाव से फक्कड़ है और काम करने में अक्कड़ हैं। उन्होंने कहा कि श्री चौहान के नेतृत्व में मध्यप्रदेश में आर्थिक और वैचारिक समृ‍द्धि दोनों हैं। मध्यप्रदेश शांतिपूर्ण और सुरक्षित प्रदेश है और सभी दिशाओं में आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया अब प्रकृति की ओर लौट रही है और इसमें जड़ी-बूटियों की खेती और प्र-संस्करण करने के क्षेत्र में मध्यप्रदेश बड़ा केन्द्र बन सकता है। मुख्य सचिव अंटोनी डिसा ने मध्यप्रदेश के औद्योगिक परिदृश्य पर प्रस्तुतिकरण दिया। उन्होंने बताया कि बीते दो वर्ष में प्रदेश में 2 लाख 71 हजार करोड़ अर्थात् 41 बिलियन डॉलर का वास्तविक निवेश आ चुका है। लघु, मध्यम और सूक्ष्म उद्योगों का निवेश इसके अतिरिक्त है। वर्ष 2015 में ईज ऑफ डूईंग बिजनेस में प्रदेश पाँचवें स्थान पर आ चुका है। प्रदेश को लगातार कृषि कर्मण सम्मान मिला है। आरंभ में स्वागत भाषण प्रमुख सचिव वाणिज्य एवं उद्योग  मोहम्मद सुलेमान ने दिया। 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 October 2016

 सीईओ कॉन्क्लेव

इंदौर में सीईओ कॉन्क्लेव में शिवराज सिंह  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जीएसटी लागू होने के बाद भी उद्योगपतियों को करों में वर्तमान में दी जा रही छूट जारी रखी जायेगी। श्री चौहान  इंदौर में ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट सीईओ कॉन्क्लेव को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने सी.ई.ओ. कान्क्लेव में कहा कि मध्यप्रदेश शांति का द्वीप है। प्रदेश सरकार द्वारा सिटीजन चार्टर लागू कर शासन की सभी प्रक्रियाओं को समय सीमा में पूरा करने की व्यवस्था की गयी है। औद्योगिक निवेश के लिए प्रदेश में एकल खिड़की प्रणाली लागू की गई है। प्रदेश में निवेश की व्यापक संभावनाएँ हैं। मध्यप्रदेश की औद्योगिक विकास दर 10 प्रतिशत और कृषि विकास दर 20 प्रतिशत से भी अधिक है। प्रदेश सरकार की इन्वेस्टमेंट फ्रेंडली इण्डस्ट्रियल पॉलिसी है। प्रदेश सरकार और वह स्वयं निवेशकों के स्वागत के लिये दिल खोलकर तैयार है। उन्होंने उद्योगपतियों को विश्वास दिलाया कि वह स्वामी विवेकानन्द जी के शिष्य है, जो कहते हैं वह करते हैं। आप विश्वास के साथ मध्यप्रदेश आये, सरकार आपके स्वागत के लिए तैयार खड़ी है। उन्होंने कहा कि समिट का उद्देश्य भी निवेशकों की जिज्ञासाओं का समाधान करना है।  मुख्यमंत्री ने चर्चा के दौरान कहा कि प्रदेश में सवा लाख हेक्टेयर का लेण्ड बैंक है, जिसमें 50 हजार हेक्टेयर विकसित भूमि है। उन्होंने बताया कि किसान अपनी जमीन उद्योग को लीज पर दे सकें, इसके लिये केन्द्र सरकार से कानून में संशोधन करने का आग्रह किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि फूड प्रोसेसिंग के क्षेत्र में काम करने वाली कम्पनियों को वेट का 100 प्रतिशत रियम्बर्स किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने बताया कि सरकार पीपीपी मोड पर स्किल डेव्हलपमेंट करने को तैयार है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार सूक्ष्म और लघु औद्योगिक इकाइयों को भी भरपूर मदद करने को तैयार है।  उद्योग मंत्री  राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि आज देश में निवेश की बात होती है तो मध्यप्रदेश का नाम सबसे पहले लिया जाता है। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की इच्छाशक्ति के कारण प्रदेश सरकार निवेशकों को हर तरह की सुविधा देने के लिये तैयार है। प्रदेश में सुदृढ़ अधोसंरचना तैयार की गई है, जिसमें सड़क, पानी, बिजली जैसी सभी सुविधाएँ सरकार द्वारा तत्परता के साथ औद्योगिक इकाइयों को उपलब्ध करवाई जाएंगी।  इस अवसर पर प्रदेश के वित्त मंत्री  जयंत मलैया,  मुख्य सचिव अन्टोनी डिसा, औद्योगिक समूह हिन्दूजा ग्रुप के चेयरमेन जी.पी. हिन्दूजा, आदित्य बिरला ग्रुप के कुमार मंगलम बिरला, वीडियोकॉन ग्रुप के  वेणूगोपाल एन. धूत, सीमेंस लिमिटेड के  सुनील माथुर, इन्फोसिस ग्रुप के  गोपालकृष्णन, अपोलो ग्रुप की सुश्री शोभना सहित विभिन्न औद्योगिक इकाइयों के सीईओ और सहआयोजक देशों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 October 2016

मध्यप्रदेश में निवेश

ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट – 2016   मध्यप्रदेश के उद्योग मंत्री  राजेन्द्र शुक्ल ने 22-23 अक्टूबर 2016 को इंदौर में होने वाले ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट-2016 में शामिल होने वाले देश - दुनिया के औद्योगिक और व्यवसायिक घरानों के प्रतिनिधियों का आत्मीय स्वागत करते हुए उनके प्रति ह्रदय से अपनी कृतज्ञता प्रकट की है। श्री शुक्ल ने उद्योगपतियों को आश्वस्त करते हुए कहा कि देश के हृदय प्रदेश में निवेश के लिए सबसे अनुकूल माहौल है। मंत्री श्री शुक्ल ने कहा कि प्रदेश की लगातार बढ़ती विकास दर निवेश की संभावनाओं को प्रबल करती है। प्रदेश में अब न सिर्फ सिंगल टेबल के कॉन्सेप्ट के आधार पर उद्योग लगाने की सभी कार्रवाई मौके पर की जा रही है, बल्कि राज्य सरकार ने प्रदेश लघु-कुटीर उद्योग को बढ़ावा देने के लिये एक अलग विभाग भी बनाया है। साल 2014 में हुई जीआईएस में लगभग 6 लाख करोड़ रुपये के प्रदेश में निवेश की सकारात्मक संभावनाओं को प्रबल करते हुए रूचि दिखाई। मुझे पूरा विश्वास है कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की मंशा के अनुरूप इस समिट में निवेश की पहल से प्रदेश के युवाओं को न केवल बेहतर रोजगार के अवसर मिलेंगे बल्कि उन्हें अपने कौशल के प्रदर्शन के लिये नया मंच भी मिलेगा। उद्योग मंत्री  शुक्ल ने कहा कि प्रदेश में भूमि अधिग्रहण की भी आवश्यकता नहीं है। उद्योग लगाने के लिये राज्य सरकार ने लेण्ड-बैंक बनाया है। इसमें 26 हजार हेक्टेयर भूमि उपलब्ध है। इतना ही नहीं, निवेशक प्रदेश में किसी भी स्थान से ऑनलाइन उद्योग लगाने के लिये भूमि ले सकते हैं। साथ ही राज्य सरकार द्वारा निवेशकों को पूरी स्वतंत्रता है कि वे अपनी पसंद के मुताबिक किसी भी सेक्टर में निवेश कर सकते हैं। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में यकीनन, हमारा प्रदेश विकास के गगन में नित नई ऊँचाइयों को छू रहा है। श्री शुक्ल ने उद्योगपतियों को यह भरोसा दिलाते हुए कहा कि प्रदेश में निवेश के लिये संचालित आकर्षक उदार नीति, उद्योगों के लिए बुनियादी सुविधाओं के साथ ही प्रदेश की बेहतर और संतुलित अर्थ-व्यवस्था कई मायनों में अहम है। राज्य सरकार की कोशिशों का ही प्रतिफल है कि शांति के टापू के रूप से पहचाना जाने वाला प्रदेश अब 'औद्योगिक शांति टापू' के नाम से देश- दुनिया में पहचाना जाने लगा है।   उद्योग मंत्री ने कहा कि कृषि के क्षेत्र में देश का सबसे प्रतिष्ठित सम्मान 'कृषि कर्मण अवार्ड' लगातार चार बार मध्यप्रदेश की झोली में आना, राज्य सरकार की सफल नीतियों और योजनाओं का सुफल ही नहीं, बल्कि प्रदेश में हरित क्रांति की सफलता का परिचायक है। श्री शुक्ल ने कहा कि मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान का औद्योगिक क्रांति का सपना अब सच में तब्दील हो रहा है। इसके लिए राज्य सरकार ने कई सराहनीय कदम भी उठाये हैं। प्रदेश के हर संभागीय मुख्यालय को फोरलेन सड़क मार्ग से जोड़ना हो, उद्योगों की बेहतर ब्रांडिंग करना हो, प्रदेश में बिजली की भरपूर व्यवस्था हो, उद्योगों को सभी बुनियादी सुविधाएँ और सुदृढ़ अधोसंरचना मुहैया करने में राज्य सरकार अग्रणी है। राज्य सरकार द्वारा मध्यप्रदेश को विकसित राज्यों की श्रेणी में लाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने देश और दुनिया को मध्यप्रदेश की खूबियों से परिचित कराने के लिये देश में न केवल रोड शो किये बल्कि दुनिया के सभी प्रमुख देशों में स्वंय जाकर प्रदेश की विकास गाथा से उन्हें परिचित कराया। इसी का नतीजा है कि आज विश्व के फलक पर मध्यप्रदेश जाना-पहचाना नाम बन गया है। श्री शुक्ल ने कहा कि प्रदेश के विकास के लिए हर क्षेत्र को प्राथमिकता दी गई हैं। इसके परिणाम भी अब जमीनी स्तर पर दिखने लगे हैं। इतना ही नहीं प्रदेश में निवेश की संभावनाओं को देखते हुए देशभर से ही नहीं, बल्कि दुनियाभर के शीर्षस्थ उद्योगपतियों और व्यवसायिक घरानों के प्रतिनिधियों ने मध्यप्रदेश की ओर रूख किया है। निश्चित रूप से औद्योगिक क्षेत्र में हिन्दुस्तान का दिल दुनियाभर में अपना कीर्तिमान स्थापित करने को तैयार है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 October 2016

ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट

23 देशों के राजदूत आयेंगे ,मुख्यमंत्री  चौहान ने की  तैयारियों की समीक्षा  इंदौर में 22 और 23 अक्टूबर को होने वाली ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट में पाँच देश जापान, दक्षिण कोरिया, यू.ए.ई., सिंगापुर और यू.के. पार्टनर कंट्री होंगे। ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट में 23 देश के राजदूत शामिल होंगे। साथ ही 37 देश के 260 निवेशकों सहित करीब साढ़े तीन हजार प्रतिनिधि शामिल होंगे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट की तैयारियों की समीक्षा की। बैठक में वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल और मुख्य सचिव  अंटोनी डि सा भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री  चौहान ने बैठक में निर्देश दिये कि समिट की सभी तैयारियाँ समय से पूरी की जायें। समिट के दौरान होने वाले सेक्टोरल सेमिनार में संबंधित विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहें। बताया गया कि पार्टनर कंट्री के राजदूतों के साथ उनके देश के प्रतिनिधि मंडल भी शामिल होंगे। सम्मेलन स्थल पर करीब पॉच हजार 600 वर्ग मीटर क्षेत्र में प्रदर्शनी लगायी जायेगी। इसमें 80 कंपनियाँ अपने उत्पाद का प्रदर्शन करेगी। मध्यप्रदेश के विकास पर केन्द्रित मध्यप्रदेश पेवेलियन भी लगाया जायेगा। सम्मेलन के दौरान ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट-2014 के बाद प्रदेश में आये निवेश पर रिपोर्ट कार्ड प्रस्तुत किया जायेगा। सम्मेलन के दौरान 13 सेक्टोरल सेमिनार किये जायेंगे। बैठक में अपर मुख्य सचिव वित्त  ए.पी.श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास आर.एस.जुलानिया, अपर मुख्य सचिव ऊर्जा  इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव वाणिज्य एवं उद्योग  मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन एवं विकास  मलय श्रीवास्तव, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव  अशोक वर्णवाल सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  14 October 2016

एमपी में डेंटल कॉलेजों की 722 सीटें खाली

  मध्यप्रदेश के निजी डेंटल कॉलेजों में इस साल 722 सीटें खाली रह गई हैं। अब इन सीटों के भरने के आसार नहीं हैं। पहली बार इतनी सीटें खाली बचीं हैं। अनरिजर्व कैटेगरी सीटें भी खाली रह गई हैं। पिछले साल तक निजी कॉलेजों में बीडीएस की करीब 400 सीटें ही बचती थीं। प्रदेश के 14 डेंटल कॉलेजों में बीडीएस की 1340 सीटें हैं। चिकित्सा शिक्षा संचालनालय के अधिकारियों ने बताया कि इस साल पांच नए डेंटल कॉलेजों को मान्यता मिल गई। इसके अलावा दाखिले के लिए न्यूनतम अंक भी इस साल कम कर दिए गए थे। पिछले साल तक रिजर्व कैटेगरी के लिए 40 फीसदी व अनरिजर्व कैटेगरी के लिए 50 फीसदी अंक जरूरी होते थे। इसका असर यह हुआ कि बीडीएस में दाखिला लेने वाले उम्मीदवारों ने एमबीबीएस में प्रवेश ले लिया। शनिवार को दो छात्रों ने निजी कॉलेजों में ज्यादा फीस लेने की शिकायत भी की है। भोपाल के जीएमसी में सरकारी और निजी मेडिकल/डेंटल कॉलेजों के लिए चल रही काउंसलिंग खत्म हो गई है, लेकिन विवाद अभी ठंडा नहीं पड़ा है। 35 उम्मीदवारों ने अलग-अलग दिन शिकायत कर काउंसलिंग में गड़बड़ी की बात कही है। कोहेफिजा पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। सबसे पहले 30 सितंबर को उम्मीदवारों ने एमपी ऑनलाइन के खिलाफ शिकायतें की। तीन अलग-अलग शिकायतें में कहा गया है कि एमपी ऑनलाइन के सर्वर में कोई खराबी नहीं आई थी। जानबूझकर साफ्टवेयर में गड़बड़ी की गई थी। इस वजह से काउंसलिंग नहीं हो पाई थी। तीन दिन तक उम्मीदवार कॉलेज परिसर में पड़े रहे। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने एक निर्णय में इन सीटों को ऑल इंडिया के उम्मीदवारों से भरने के लिए कह दिया था।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  9 October 2016

मेट्रो रेल bhopal

मेट्रो रेल कंपनी के अध्यक्ष होंगे मुख्यमंत्री  चौहान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने  भोपाल और इंदौर में संचालित होने वाली मेट्रो रेल परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने परियोजनाओं को चरणबद्ध तरीके से पूरा करने और आर्थिक रूप से लाभकारी बनाने के निर्देश दिये। परियोजनाओं का संचालन और प्रबंधन मध्यप्रदेश मेट्रो रेल कंपनी प्रायवेट लिमिटेड करेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान इसके अध्यक्ष होंगे। नगरीय प्रशासन मंत्री, भोपाल और इंदौर के महापौर इसके सदस्य होंगे। कंपनी के प्रशासनिक ढाँचे का अनुमोदन राज्य की केबिनेट द्वारा किया जायेगा। बैठक में मेट्रो रेल के प्रथम चरणों में शामिल किये जाने वाले रूट और वित्तीय प्रबंधन पर विचार-विमर्श किया गया। मुख्यमंत्री के सचिव श्री विवेक अग्रवाल ने बताया कि भोपाल मेट्रो रेल परियोजना की कुल लागत 22504.25 करोड़ होगी। इसमें 7 रूट को शामिल किया जायेगा। भोपाल में 95.03 किलो मीटर में मेट्रो रेल लाइन बिछाई जायेगी। इसमें से 84.83 किलो मीटर ऐलिवेटेड होगी। प्रथम चरण में दो रूट होंगे – करोंद से एम्स तक 14.99 किलो मीटर और भदभदा से रत्नागिरी तक 12.88 किलो मीटर शामिल किया जायेगा। प्रथम चरण की लागत 6962 करोड़ रूपये होगी। परियोजना के लिये अंतर्राष्ट्रीय सहयोग एजेंसी जापान और एशियाई विकास बैंक से वित्तीय सहायता लेने के विकल्पों पर विचार-विमर्श हुआ। इंदौर मेट्रो रेल 104 किलो मीटर में चलेगी। इस पर 26762.21 करोड़ की लागत आयेगी। पहले चरण में पलासिया-एयरपोर्ट-विजयनगर-भवरकुंआ-पलासिया रूट पर काम शुरू होगा। इंदौर मेट्रो रेल परियोजना के नक्शे में किसी प्रकार का कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं से सहयोग के लिये सभी विकल्प पर विचार किया जायेगा। नवगठित मेट्रो रेल कंपनी के संचालक मंडल की बैठक में प्रशासनिक एवं प्रबंधन संबंधी प्रस्तावों का अनुमोदन किया गया।बैठक में मेयर भोपाल  आलोक शर्मा, इंदौर मेयर ती मालिनी गौड़, मुख्य सचिव  अंटोनी डि सा, मुख्यमंत्री प्रमुख सचिव अशोक वर्णवाल एवं संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  8 October 2016

स्मार्ट सिटी निवेशकों के लिये बेहतर मौका

मध्यप्रदेश में भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर और उज्जैन को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये जो नागरिक सुविधाएँ और अधोसंरचना विकसित होगी उसमें निवेश के लिये निवेशकों को बेहतर अवसर उपलब्ध होंगे। प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी की 100 शहर को स्मार्ट सिटी बनाने की घोषणा को लेकर देशभर में अपार उत्साह का वातावरण है, निवेशकों को इसका लाभ उठाना चाहिए। यह जानकारी प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन एवं विकास  एस.एन. मिश्रा ने  दी।   एस.एन. मिश्रा ने बताया कि शहरों में बढ़ती आबादी से स्मार्ट सिटी की अवधारणा को महत्व मिल रहा है। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी ऐसी हो जिसकी अधोसंरचना मजबूत और वहाँ सभी नागरिक सुविधाएँ बेहतर हों। उस क्षेत्र की विद्युत, जल, स्वास्थ्य, शिक्षा, परिवहन आदि बुनियादी सुविधाओं का प्रबंधन भी अच्छा हो। स्मार्ट शहर की कनेक्टिविटी अन्य क्षेत्र से सुलभ हो, जिससे आम आदमी एक स्थान से दूसरे स्थान सुगमता से पहुँच सके। श्री मिश्रा ने बताया कि अभी इंदौर और भोपाल में लाईट मेट्रो सेवा शुरू करने की योजना शुरू की गई है। सेमीनार में दोनों शहर की मेट्रो परियोजना को फिल्म के जरिये दिखाया गया। गृह निर्माण मण्डल के आयुक्त  नीतेश व्यास ने कहा कि प्रधानमंत्री की मंशा के अनुरूप स्मार्ट सिटी की प्रभावी पहल में मध्यप्रदेश सरकार पूरा सहयोग करेगी। सेमीनार में भोपाल के नार्थ टी.टी. नगर की पुनर्घत्वीकरण योजना का प्रस्तुतिकरण भी हुआ।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  26 September 2016

शिवराज लन्दन में समझेंगे स्मार्ट सिटी की अवधारणा

स्मार्ट सिटी प्रबंधन विशेषज्ञों और संभावित निवेशकों से चर्चा करेंगे  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान 26 और 27 सितम्बर को युनाइटेड किंगडम के दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे। वे युनाइटेड किंगडम की सेक्रेटरी ऑफ स्टेट फॉर इंटरनेशनल डेव्हलेपमेंट  प्रीति पटेल के आमंत्रण पर स्मार्ट सिटी की अवधारणा और प्रबंधन के तरीकों और स्किल डेव्हलपमेन्ट कार्यों का अवलोकन करने जा रहे हैं। श्री चौहान स्मार्ट सिटी प्रबंधन के विशेषज्ञों से चर्चा करेंगे। मुख्यमंत्री लंदन प्रवास के दौरान मध्यप्रदेश में निवेश में रूचि रखने वाली निवेशक कंपनियों के प्रमुखों से भी मुलाकात करेंगे। श्री चौहान 25 सितम्बर, रविवार को लंदन पहुँचेंगे। वे 26 सितम्बर, सोमवार को श्रीमती प्रीति पटेल से मुलाकात करेंगे और लंदन के शहर प्रबंधक विशेषज्ञों से चर्चा करेंगे। इसी दिन दोपहर में वे विभिन्न निवेश कंपनियों के प्रमुखों से भेंट करेंगे। श्री चौहान प्यूरीको ग्रुप के संस्थापक श्री नाथूराम पुरी से मुलाकात कर मध्यप्रदेश में निवेश संबंधी अवसरों पर चर्चा करेंगे। प्यूरीको समूह पेपर, पॉलीमर और प्लास्टिक निर्माण से जुड़ा है। यह समूह स्वागत और रियल स्टेट व्यवसाय में भी सक्रिय हैं। मुख्यमंत्री डी ला रू पिक ग्रुप के प्रमुख से मुलाकात करेंगे। यह समूह करेंसी रखरखाव के उपकरण और सुरक्षा उत्पादों के प्रदाय से जुड़ा है। श्री चौहान रोल्स रॉयस के उपाध्यक्ष श्री मघिन तमिलारासन से भी मुलाकात करेंगे। वे प्रदेश में रक्षा क्षेत्र के लिये आवश्यक उपकरण निर्माण की इकाइयों की स्थापना की संभावनाओं पर चर्चा करेंगे। उल्लेखनीय है कि रोल्स रॉयस इंटीग्रेटेड पॉवर और प्रोपल्सन सॉल्यूशन के क्षेत्र में सक्रिय है। यह उच्च तकनीकी से समृद्ध कारों का भी निर्माण करती है। श्री चौहान हारग्रिव्स इंडस्ट्रियल सर्विसेज के व्यापार विकास संचालक श्री केविन साबिन से भेंट करेंगे। यह कंपनी पॉवर, पोर्ट, स्टील और अन्य औद्योगिक क्षेत्रों को मटेरियल प्रबंधन सुविधा उपलब्ध करवाती है। मुख्यमंत्री के प्रवास के दौरान स्कॉच व्हिस्की एसोसियेशन के संचालक श्री मार्टिन हेटफुल भी उनसे मुलाकात करेंगे और प्रदेश में बेवरेज इकाई लगाने की संभावना पर चर्चा करेंगे। यह एसोसियेशन स्कॉटलैंड और पूरी दुनिया में व्हिस्की इंडस्ट्री के हितों का संरक्षण करता है। श्री चौहान अन्य निवेशकों से भी चर्चा करेंगे जिनमें जेसीबी के श्री फिलिप बाउवेरट शामिल हैं। यह कंपनी बहुराष्ट्रीय कार्पोरेशन हैं जो निर्माण उपकरण बनाती है। श्री चौहान हिन्दूजा समूह के सह अध्यक्ष  गोपीचंद हिन्दूजा के भोज में शामिल होंगे और उनसे ऑटोमोबाइल, एग्री बिजनेस, खाद्य प्र-संस्करण, नवकरणीय ऊर्जा, स्मार्ट सिटी प्रबंधन और एकीकृत औद्योगिक टाउनशिप निर्माण जैसे विषयों पर चर्चा करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान 27 सितम्बर, मंगलवार को भारत- यू.के. स्वास्थ्य संस्थान के चेयरमेन प्रोफेसर माइक पार्कर और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार विभाग यू.के.के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. अजय गुप्ता और माइक निथाक्रियांकिस से मुलाकात करेंगे। श्री चौहान लंदन के डिप्टी मेयर श्री राजेश अग्रवाल से मुलाकात करेंगे और भारतीय उद्योग परिसंघ एवं यू.के.-इंडिया बिजनेस काउंसिल द्वारा आयोजित सेमीनार – 'मध्यप्रदेश में निवेश संभावनाएँ' को संबोधित करेंगे। श्री चौहान 28 सितम्बर, बुधवार को नई दिल्ली वापस आयेंगे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  24 September 2016

ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट इन्दौर

कंपनियों को ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट इन्दौर के लिये किया आमंत्रित  मुख्यमंत्री  शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में निवेश की व्यापक संभावनाएँ हैं। यहाँ निवेशकों के लिये सर्वाधिक उपयुक्त वातावरण है।  चौहान प्रदेश में निवेश की संभावनाओं पर आज हैदराबाद में सेमीनार को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने उद्योगपतियों एवं कंपनियों के पदाधिकारियों को इन्दौर में आगामी 22-23 अक्टूबर को होने वाले ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के लिये आमंत्रित किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्य प्रदेश अब बीमारू स्टेट नहीं रहा। यह तेजी से विकास करने वाला राज्य बन गया है। मध्यप्रदेश कई क्षेत्र में अब देश में अग्रणी राज्य बन गया है। प्रदेश की विकास दर लगातार कई वर्ष से दो अंकों में तथा कृषि विकास दर 20 प्रतिशत से ऊपर है। पिछले वर्षों में एक लाख किलोमीटर सड़कें बनायी गयी तथा सिंचाई रकबे में भारी वृद्धि की गयी। प्रदेश अब पावर सरप्लस स्टेट बन गया है। यहाँ अच्छी अधोसंरचना है। प्रदेश में कानून-व्यवस्था की स्थिति बेहतर है। स्किल्ड मेन पॉवर उपलब्ध है। देश की सबसे बड़ी वाटर बाडी इंदिरा सागर एवं तमाम पर्यटक स्थल राज्य में स्थित हैं। प्रदेश में पर्यटन के क्षेत्र में भी अपार संभावनाएँ हैं। श्री चौहान ने बताया कि पर्यटन की संभावनाओं के दोहन के लिये पर्यटन केबिनेट बनायी गयी है। श्री चौहान ने कहा कि केवल खेती ही सबका पेट नहीं भर सकती। इसलिये राज्य सरकार उद्योगों पर ज्यादा ध्यान दे रही है ताकि ज्यादा से ज्यादा युवाओं को रोजगार मुहैया करवाया जा सके। इसके लिये राज्य शासन द्वारा युवाओं को सभी जरूरी सुविधाएँ भी मुहैया करवायी जा रही हैं। साथ ही निवेशकों की सुविधा के लिये नीतियों में परिवर्तन किया गया है तथा सिंगल विंडो प्रणाली शुरू की गयी है। लोक सेवा प्रदाय गारंटी कानून बनाया गया है इसमें विभिन्न सेवाओं के प्रदान करने की समय-सीमा तय की गयी है। इसमें देरी होने पर दण्ड का भी प्रावधान किया गया है। मुख्यमंत्री  चौहान ने उद्योगपतियों एवं कंपनियों के पदाधिकारियों से प्रदेश में निवेश करने और उद्योग लगाने का आव्हान किया। उन्होंने निवेशकों को हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया। आगामी 22 एवं 23 अक्टूबर को इन्दौर में होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में आने का निमंत्रण दिया। श्री चौहान ने विभिन्न उद्योगपतियों और कंपनियों के पदाधिकारियों से वन-टू-वन चर्चा भी की। उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री  राजेन्द्र शुक्ल, मुख्‍य सचिव  अंटोनी डिंसा, प्रमुख सचिव वाणिज्य एवं उद्योग श्री मोहम्मद सुलेमान ने प्रदेश की औद्योगिक नीति और निवेशकों को दी जाने वाली सहूलियतों की जानकारी दी। सेमीनार में सीआईआई के चेयरमेन भी शामिल हुए। टाटा एडवांस सिस्‍टम के एयरो स्पेस हेड  मसूद हुसैन ने बताया कि उनकी टीम जल्द ही प्रदेश का भ्रमण करेगी। मेघा इंजीनियरिंग के व्ही.श्रीनिवास रेड्डी से प्रदेश में वाटरपाइप और पम्प निर्माण की संभावनाओं पर चर्चा की। मुख्यमंत्री से फर्मामेक्सिल कम्पनी के प्रतिनिधियों के साथ कम्पनी के महानिदेशक  पी.व्ही. अप्पाजी, नवयुग कंस्ट्रक्शन के  रवि राजू, हास्पिटल डिवीजन एट अपोलो हास्पिटल इंटरप्राइजेस के प्रेसीडेंट डॉ. के. हरि प्रसाद और मायलान लेबोटरीज लिमिटेड के डॉ. हरिबाबू बोडेपुडी ने मुलाकात की।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 September 2016

sumitra mahajan

  आर्थिक तौर पर सक्षम लोगों से रसोई गैस की सब्सिडी छोड़ने की अपील करते हुए लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने इंदौर में  कहा कि उन्होंने भी बचपन में लकड़ी का चूल्हा फूंकने से होने वाली तकलीफें झेली हैं।   लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन  ने ‘प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना’ के एक कार्यक्रम में कहा, ‘आज मैं लोकसभा अध्यक्ष हूं। लेकिन मैंने भी बचपन में खाना बनाने के लिये लकड़ी का चूल्हा फूंका है। मुझे अच्छी तरह पता है कि चूल्हा फूंकने से किस तरह पूरे घर में धुआं भर जाता है और महिलाएं कई तकलीफें झेलती हैं। लिहाजा आर्थिक रूप से सक्षम लोगों को रसोई गैस की सब्सिडी छोड़नी चाहिये, ताकि गरीब तबके के लोगों को इसका फायदा मिल सके।’   लोकसभा अध्यक्ष ने ‘प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना’ की शुरुआत के लिये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि इस योजना से गरीबों के कई घरों में लकड़ी के चूल्हे की जगह एलपीजी का चूल्हा पहुंच रहा है। नतीजतन पर्यावरण का भी भला हो रहा है। उन्होंने हालांकि कहा कि देश के आम लोगों को यह प्रवृत्ति छोड़नी होगी कि सरकार उनके लिये हर चीज की पूरी तरह नि:शुल्क व्यवस्था करेगी।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  17 August 2016

shivraj singh svatntrta divs

  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वतंत्रता दिवस पर राज्य के मुख्य कार्यक्रम में आयोजित ध्वजारोहण समारोह में राज्य के सरकारी कर्मचारियों को सातवें वेतनमान की घोषणा की। रोजगार की संभावनाओं को तलाशने के लिए रोजगार कैबिनेट का गठन किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर पुलिस, जेल, नगर सेना के अधिकारियों व कर्मचारियों को विभिन्न राष्ट्रपति पदकों से सम्मानित भी किया।   मुख्यमंत्री ने लालपरेड मैदान स्थित मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में ध्वजा रोहण कर प्रदेश की जनता को संबोधित किया। आसमान में तीन रंगों के गुब्बारों को छोड़ा। उन्होंने कहा कि रोजगार की संभावनाओं को तलाशने के लिए रोजगार कैबिनेट गठन के साथ ही इसके लिए अभियान भी चलाया जाएगा।   दैनिक वेतन भोगियों को स्थायी कर्मियों की तरह किया जाएगा और उन्हें नियमित कर्मचारियों की तरह वेतन-भत्ते, अनुकंपा नियुक्ति आदि मिलने लगे, यह किया जा रहा है। योग्य दैनिक वेतन भोगियों को दूसरे विभागों में समायोजित करने के लिए भी प्रयास किए जाएंगे।   मुख्यमंत्री चौहान ने राज्य के सरकारी कर्मचारियों को जहां सातवें वेतनमान की सौगात दी वहीं अध्यापक संवर्ग के कर्मचारियों को छठवें वेतनमान देने का भी ऐलान किया। कार्यभारित कर्मचारियों को उनकी मृत्यु के बाद आश्रित को अनुकंपा नियुक्ति देने की भी घोषणा की। मुख्यमंत्री ने पिछले दिनों खरीदी गई प्याज के भंडार को अब गरीबों में मुफ्त में बंटने की भी स्वतंत्रता दिवस समारोह कार्यक्रम में ऐलान किया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  15 August 2016

votar id

    इंदौर में साढ़े चार लाख मतदाता एक जैसे    इंदौर जिले में साढ़े चार लाख मतदाता एक जैसे चेहरे वाले हैं,लेकिन इनमें कोई फर्जी नहीं। निर्वाचन आयोग ने साॅफ्टवेयर की मदद से देशभर में एक जैसे चेहरे वाले लोगों के वोटर कार्ड स्कैन कर चिह्नित किए हैं।   मध्यप्रदेश में इसकी संख्या एक करोड़ है। इसका मतलब नहीं कि ये सभी फर्जी बने हैं। साॅफ्टवेयर थोड़ा भी एक जैसा दिखने वाला चेहरा चिह्नित कर लेता है। ये बातें मंगलवार को कलेक्टर पी.नरहरि ने मीडिया से कही। उन्होंने कहा-आयोग ने एक जैसे चेहरे वाले लोगों का भौतिक सत्यापन करने के लिए कहा है। प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि इनमें मुश्किल से एक फीसदी मतदाता एेसे होंगे,जिनके दो जगह वोटर कार्ड होंगे। ये भी वह लोग हैं,जिनके ट्रांसफर होते रहते हैं और वे अन्य जगह नाम जुड़वा लेते हैं। इनका भौतिक सत्यापन कर नाम हटा दिया जाएगा।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 July 2016

kailash vijayvargiye

        पहली बार कैबिनेट में इंदौर का प्रतिनिधित्व न होने की गूंज सोशल मीडिया पर सुनाई देने लगी है। सोशल मीडिया पर लोग जमकर अपनी भड़ास निकाल रहे हैं। वे लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन (ताई) और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय (भाई) को यह समझाइश भी दे रहे हैं कि उनके आपसी झगड़े में इंदौर शहर का नुकसान हो रहा है।  व्हाट्सएप और फेसबुक पर तरह-तरह के कमेंट किए जा रहे हैं। एक यूजर ने लिखा है कि ‘आज सिद्ध हो गया कि इंदौर से मुख्यमंत्री को वाकई कितना प्रेम है’। इस तीखे तंज के साथ कुछ यूजर्स ने यह भी लिखा ‘मंत्रिमंडल गठन में यह भी साफ है कि योग्यता की कद्र नहीं की गई है, इंदौर के सुदर्शन गुप्ता, महेंद्र हार्डिया, रमेश मैंदोला किसी भी कसौटी पर कमतर नहीं थे लेकिन फिर भी उनकी अनदेखी की गई। इसके जवाब में कई लोगों ने यह भी लिखा कि अगर योग्यता की बात करें तो दादा (बाबूलाल गौर) से ज्यादा मध्यप्रदेश में कौन योग्य था। फिर भी उन्हें जिस तरह से बाहर निकाला और इंदौर की उपेक्षा हुई इससे यह लग रहा है कि भाजपा को मालवा बेल्ट की अब कोई फिक्र नहीं रह गई है। वहीं यह भी कहा गया कि बड़े-बड़े की लड़ाई में नुकसान हमेशा आम आदमी का होता है और अब इंदौर की जनता को बड़े बुर्जुगों की यह बात अच्छी तरह समझ आ गई होगी।   पूर्व केंद्रीय मंत्री विक्रम वर्मा ने कहा कि जिस तरह से बाबूलाल गौर को हटाया गया है, यह तरीका ठीक नहीं है। यदि उम्र का कोई क्राइट एरिया है तो पहले बताना चाहिए था। पार्टी को इस पर पुनर्विचार करना चाहिए। यह बात उन्होंने बाबूलाल गौर से मुलाकात के बाद कही। जब उनसे मीडिया ने पूछा कि क्या वे उनकी पत्नी नीना वर्मा को मंत्री न बनाए जाने से नाराज हैं तो उनका कहना था कि यह मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार है कि वे किसे मंत्री बनाएं और किसे नहीं। गौर से मिलने के लिए विधानसभा अध्यक्ष सीतासरन शर्मा और इंदौर के पूर्व महापौर कृष्णमुरारी मोघे भी पहुंचे। मोघे ने गौर से करीब 45 मिनट चर्चा की।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  2 July 2016

mgm

      इंदौर शहर की स्वास्थ्य सुविधाओं में बड़ी उपलब्धि जुड़ने वाली है। महात्मा गांधी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज (एमजीएम) में बोनमैरो ट्रांसप्लांट का सेंटर खुलने जा रहा है।   दिल्ली (एम्स) के बाद इंदौर देश में दूसरा ऐसा शहर होगा, जहां सरकारी स्तर पर यह सुविधा मिलेगी। पहले यह केंद्र भोपाल में बनने वाला था, पर तैयारियों और अनुकूल स्थितियों को देखते हुए यह इंदौर के खाते में आ रहा है।   बोनमैरो ट्रांसप्लांट सेंटर (बीएमटी) खोलने के लिए 15 करोड़ रुपए का प्रोजेक्ट केंद्र सरकार को भेजा गया है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत इस प्रोजेक्ट को मंजूरी मिलने की पूरी संभावना है।   ये होंगे फायदे   ब्लड कैंसर, ए प्लास्टिक एनीमिया, थैलीसिमिया जैसी गंभीर बीमारियों के मरीजों को बोनमैरो ट्रांसप्लांट की जरूरत होती है। निजी अस्पतालों में एक बीएमटी पर 15 लाख से लेकर 40 लाख रुपए तक का खर्च आता है। सेंटर शुरू होने पर मात्र 5 लाख रुपए में बीएमटी हो सकेगी। मेडिकल कॉलेज के पीजी और अंडर ग्रेजुएट स्टूडेंट को सीखने का मौका मिलेगा। प्रदेश के आदिवासी जिलों में कई बच्चे थैलीसिमिया से पीड़ित हैं। उनको रियायती दर पर सुविधा मिल जाएगी।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 June 2016

indore

  इंदौर में अतिक्रमण विरोधी अभियान    इंदौर में सड़क चौड़ीकरण की बाधाएं हटाने के लिए नगर निगम ने  एक बार फिर शुरुआत की। मालगंज से टोरी कॉर्नर के बीच नीमा धर्मशाला के पास कार्रवाई के पहले ही सही-गलत निशान को लेकर मकान मालिक परिवार और अफसरों में विवाद हुआ। इसके बाद नौबत धक्कामुक्की और मारपीट तक पहुंच गई।   परिवार के सदस्यों, निगम अधिकारियों, बाउंसरों के बीच देर तक चली नोकझोंक के बीच पुलिस को हस्तक्षेप करना पड़ा। शुरुआत में 40 मिनट तक कार्रवाई रुकी रही। फिर शाम तक सभी 12 चिन्हित निर्माण तोड़ दिए गए। चार अन्य निर्माण लोगों ने खुद हटाए।   सुबह नौ बजे एसडीएम संदीप सोनी, एनएन पांडे सहित निगम अधिकारी पुलिस और निगम की रिमूवल टीम के साथ मौके पर पहुंचे। अमला मालगंज स्थित गौतम जैन के चार मंजिला मकान पर कार्रवाई के लिए बढ़ा जहां पहले से परिवार खड़ा था। शुरुआत में काफी देर तक दोनों पक्षों में बात होती रही। परिवार के लोग कोई और निशान बता रहे थे जबकि निगम अधिकारी अपने निशान को सही बता रहे थे।   इसी बीच जैन परिवार के 20-25 लोग अमले के सामने आ गए और धक्कामुक्की-हाथापाई शुरू हो गई। निगम उपायुक्त महेंद्रसिंह चौहान और अमले के साथ झड़प होते देख अपर आयुक्त देवेंद्रसिंह आए और उन्होंने एक व्यक्ति को पीटकर भगा दिया। कार्रवाई शुरू हुई तो परिवार के सदस्य पोकलेन के आगे लेट गए। जैसे-तैसे सहायक यंत्री रजनीश पंचोलिया, सहायक रिमूवल अधिकारी वीरेंद्र उपाध्याय और दल प्रभारी बबलू कल्याणे ने उन्हें हटाया और कार्रवाई शुरू कराई।   अफसरों के होश तब उड़ गए जब उन्होंने जैन परिवार की एक महिला को बिल्डिंग की ऊपरी मंजिल पर पोकलेन के पंजे के सामने देखा। उसका कहना था मकान तोड़ा तो वह बच्चे के साथ कूद जाएगी। मौका देख निगम की महिला बाउंसर और महिला पुलिस ने पहुंचकर महिला को नीचे उतारा।   कार्रवाई के विरोध में परिवार ने हाई कोर्ट में याचिका लगा रखी है, जिसकी सुनवाई सोमवार को होना थी। आधिकारिक सूत्रों का कहना है परिवार चाहता था कि कार्रवाई में देरी हो ताकि तब तक कोर्ट स्टे दे दे जबकि निगम इससे पहले करना चाहता था।   तीन मंजिल तोड़ने के बाद चौथी मंजिल तक पोकलेन का पंजा नहीं पहुंचा तो मजदूर भेजना पड़े। अपर आयुक्त ने बताया परिवार के लोगों ने मजदूरों से मारपीट की। बाद में पुलिस चौथी मंजिल पर गई और बाधक हिस्सा तुड़वाया। इसके बाद मकान का बचा हिस्सा गिरा दिया गया। इस दौरान परिवार के सदस्य छत पर खड़े होकर 'प्रशासन हाय-हाय' के नारे लगाते रहे। अकेले जैन परिवार का मकान तोड़ने में निगम को शाम हो गई। इधर, गौतम जैन के बेटे प्रीतेश ने कहा निगम अफसरों ने नोटिस नहीं दिए और अचानक कार्रवाई के लिए आ गए। वहीं पंचनामा फाड़ दिया और बाउंसरों ने मारपीट की।   इस कार्रवाई में 225  निगमकर्मी, 100 पुलिसकर्मी, पोकलेन मशीन, बुलडोजर, डंपर लगे लेकिन  अब ये कार्यवाही अगले माह की जाएगी।    निगम के सिटी इंजीनियर महेश शर्मा ने बताया रोड में अब 12 ऐसे निर्माण बाकी हैं जिनकी अवधि तीन जुलाई को पूरी होगी। उन्हें जुलाई में हटाया जाएगा। अपर आयुक्त ने बताया निगम ने हाथोहाथ मकानों का मलबा उठाना भी शुरू करवा दिया है। रोड पर हेलोजन लगाए जा रहे हैं। जिन घरों के नल कनेक्शन टूट गए हैं, उन्हें जोड़ना शुरू करवा दिया है। कार्रवाई के दौरान नागरिक समिति के तपन भट्टाचार्य, एसके दुबे, कैलाश लिंबोदिया और सुधीर लाड़ मौजूद थे। उन्होंने कहा अतिक्रमण हटाने के नाम पर अपर आयुक्त, उपायुक्त दादागीरी करते रहे। उन्हें कम से कम कोर्ट सुनवाई तक रुकना था। ऐसा लग रहा था जैसे निगम एकतरफा कार्रवाई कर दुश्मनी निकाल रहा है। एक ओर के निर्माण नहीं टूट रहे जबकि दूसरी ओर 15-20 निर्माण तोड़े जा रहे हैं।     Attachments area          

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  14 June 2016

नर्मदा के तट पर अमृत का मेला  सरकारी इंतजाम अली खा पी गए सिंहस्थ को

मध्यप्रदेश सरकार का जुमला ''क्षिप्रा के तट पर अमृत का मेला '' भी सिर्फ जुमला बन कर रह गया । सरकारी कारिंदे कई बार गलतियां करते हैं इस बार भी जुमला गढ़ने में गड़बड़ हो गई ।क्योंकि जब पानी के लिए क्षिप्रा से नर्मदा को जोड़ा गया तो क्षिप्रा का अस्तित्व ख़त्म हो गया और वह नर्मदा में तब्दील हो गई । ठीक वैसे ही जैसे गंगा से मिलकर सब कुछ गंगा हो जाता है । लेकिन मध्यप्रदेश के सरकारी अफसर तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को गुमराह करने में लगे थे सो नर्मदा और क्षिप्रा में हुए झोलझाल को दबा दिया गया । साधुओं ,संत महात्माओं और शिवराज सिंह के आकर्षक विज्ञापनों की चकाचौंध में सिंहस्थ को आस्था का केंद्र बनाए जाने की बजाए बाजार में तब्दील करने की कोशिश अफसरों ने की । लेकिन हुअत वही जो राम रची राख । पहले दिन से ही सिंहस्थ पर मुख्यमंत्री की अफसरी भारी पड़ गयी और उज्जैन उन नज़रों से वंचित रह गया जो उसे बारह बारस बाद यहाँ देखने थे । कड़वा सत्य पहले दिन कुम्भ की जो छटा होती है ,वह इस बार नदारत रही । सरकारी कारिंदों ने कुम्भ के पहले दिन लोगों की संख्या को लेकर कुतर्क किये। कहा गया पचास लाख लोग आये हैं। लेकिन संख्या बमुश्किल पांच लाख के आसपास रही । जिन लोगों ने पिछले उज्जैन कुम्भ को देखा था उनका कहना था इस बार श्रद्धालु कम और सरकारी इंतजाम अली ज्यादा हैं । जिस कारण यह मेला श्रद्धा का केंद्र होने की बजाये बड़े बाजार में तब्दील सा हो गया । महंत चतुरानंद ने तो यह तक कहा कि सरकार ने धर्म के मामले में जो अति उत्साह दिखाकर सरकारीकरण कर दिया है । वह न तो उज्जैन के लिए न ही सिंहस्थ के लिए हितकर है । स्वामी पुष्करनंद का कहना है धर्म अपना काम अपने आप करता है वह किसी का मोहताज नहीं है खासकर सरकार का तो कतई नहीं है । सरकार ने जहाँ जहाँ टांग अड़ाई वहां वहां बंटाधार ही होता है। कुम्भ के पहले दिन पहले शाही स्नान का दिन इतना सामान्य रहा कि उज्जैन वाले सरकारी इंतजामात को कोस्ते नजर आये। श्रद्धालु कम और पुलिस और शासकीय कर्मचारी इस सिंहस्थ की शोभा बढ़ाते नजर आये। नर्मदा के टत पर अमृत का मेला ऋषि अजयदास की माने तो सरकार ने क्षिप्रा को ख़त्म कर दिया है। जैसे ही नर्मदा जल से क्षिप्रा को भरा गया क्षिप्रा का अस्तित्व ही ख़त्म हो गया। अब इसका प्रचार ''क्षिप्रा के तट पर अमृत का मेला '' नहीं ''नर्मदा के तट पर अमृत का मेला होना चाहिए। ऋषि अजय दास कहते हैं संत समुदाय ने इस बार खासकर नागा साधुओं ने काफी सयंम से काम लिया नहीं तो सरकार की इस गलती के लिए उसे लेने के देने पड़ जाते। सिंहस्थ का आकर्षण साधू सन्यासी होते हैं अगर नर्मदा के मसले पर वे बेरुखी अख्तियार कर लेते तो सिंहस्थ प्रारम्भ ही नहीं हो पाता। इस कारण वैसे भी उज्जैन सिंहस्थ कुछ नीरस सा है। बुद्धू बनाया बुद्धूबक्से ने मध्यप्रदेश के रीजनल चैनल के रिपोर्टर ऐसे भागा दौड़ी कर के रिपोर्ट दे रहे थे कि पांव रखने की जगह नहीं है। लेकिन हाल वहां आगे पाट पीछे सपाट वाला था। चंद सिक्कों में गिरवी रखे यह न्यूज़ चैनल आम लोगों को बुद्धू बनाने में लगे थे । जिन लोगों ने इनका झूठ देखा उसे लगा भोपाल से उज्जैन तक के सारे रास्ते श्रद्धालुओं से अटे पड़े हैं। मजे की बात यह है कि सिंहस्थ को लेकर जनसम्पर्क विभाग ने अँधा बांटे रेवड़ी की तर्ज पर विज्ञापन बांटे और समझ लिया कि कुम्भ सफल हो गया। सरकार के पिट्ठू न्यूज़ चैनल को जनसम्पर्क विभाग के भूतल पर बैठने वाले एक अधिकारी कमांड दे रहे थे की अब तक 10 लाख लोग पहुंचे हैं और अब 30 लाख पहुँच गए हैं यह चलाएं। एक चैनल प्रमुख ने यह सब रिकॉर्ड कर लिया है। जाहिर है झूठ के हाथ पैर नहीं होते। अभी तो सिंहस्थ शुरू हुआ है और घपलों घोटालों की बू आने लगी है। सामाजिक कार्यकर्ता सक्रीय हो गए हैं। धीरे धीरे rti के जरिये दूध का दूध और पानी का पानी होगा कि कितने कितने का घपला किस किस ने किया है। सरकारी कारिंदों ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को गुमराह कर के 500 करोड़ के ऊपर की राशि सिर्फ प्रचार-प्रसार में खर्च कर दी,140 करोड़ के टूटे-फूटे शौचालय बनवा दिए। सरकारी माल का दुरूपयोग कैसे किया जाता है उज्जैन सिंहस्थ इसकी भी मिसाल बनेगा। चांडाल योग चांडाल योग और कुम्भ की जब बात होती तो यह नोट खाऊ अफसर कह देते कि कहे का चांडाल योग , क्या बिगाड़ लेगा ... हमारा कुछ बिगड़ा क्या ? जितने मालखाने वाले हैं उनके लिए चांडाल योग और सिंहस्थ लाभ का सौदा रहा है ,लेकिन महाकाल इनकी ऐसी कुगत करेंगे कि इनकी शक्लें इतिहास के चांडालों में दर्ज हो जाएंगी ।वैसे भी इस बार मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के सिपहसलारों ने सिंहस्थ का सरकारीकरण कर उसका सत्यानाश कर दिया हैं ऐसे में भाड़े का मीडिया है जिसे सिर्फ हरा ही हरा दिख रहा है ,ऐसा लगता है मीडिया कि जवाबदेही जनता के प्रति न होके भ्रस्ट सिस्टम के प्रति हो । मुख़्यमंत्री शिवराज सिंह ने जब सिंहस्थ शुरू होने से पहले मीडिया को चाय पर बुलाया तो एक पत्रकार ने कहा साब माल [विज्ञापन ] दे कर गले तक तर कर दिया है। जाहिर है जो गले तक तर हैं वह पत्रकारिता क्या करेंगे और सच क्या लिखेंगे और क्या सच दिखाएंगे। फिलहाल चांडाल योग का असर अभी ब्रम्हांड पर है। उज्जैन , सिंहस्थ और इसके इंतजाम अली इससे बचे रहें हम सिर्फ इसकी प्रार्थना कर सकते हैं।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  23 April 2016

हर एंगल से मुस्कराती है शालभंजिका

दसवीं सदी की नायिका के पथरीले चेहरे पर जो जीवंत मुस्कुराहट आज भी है उसका मुकाबला आज की नायिकाएं शायद ही कर पाएं । यहां बात हो रही है शालभंजिका की 10 वीं सदी में एक कलाकार द्वारा पत्थर की मूर्ती बनाई गई जो निष्प्राण होकर भी सजीव व सभी भावों से युक्त नजर आती है। ग्वालियर के पुरातत्व विभाग के ऐतिहासिक भाग गूजरी महल में रखी हुईं अनेकों ऐसी ऐतिहासिक महत्व की प्रतिमाएं हैं जो अपने आप में युगों का इतिहास बयां करती प्रतीत होती हैं।शालभंजिका10 वीं सदी की इस मूर्ती की खासीयत है हर कोण से इसके चेहरे पर मुस्कुराहट दिखाई देती है। यह एक ऐसी नायिका है जिसको अपने लंबे अंतराल के बाद अपने प्रियतम के आने का समाचार मिलता है और इसको लेकर उसके संपूर्ण अस्तित्व पर एक अनन्तहीन मोहक मादक मुस्कुराहट छाजाती है। जिस कक्ष में यह मूर्ती रखी गई है उसमें पंखे व लाइट की विशेष व्यवस्था है। सुरक्षा:विभागीय कर्मचारियों के अलावा पुलिस से भी इन प्रतिमाओं की सुरक्षा में सहयोग लिया जाता है। यहां पर भी हैं ऐतिहासिक धरोहरेंप्रदेश के विदिशा, सिहोनिया, बटेश्वर, पड़ावली, नरेश्वर, कदवा, थूगौन, कोटा, ग्वालियर किला आदि ऐतिहासिक स्थलों से विभागीय सर्वेक्षण में पुरातन महत्व की वस्तुएं मिलती हैं।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

एबीएल शालाओं की सघन मॉनीटरिंग के लिए बनी कार्य-योजना

राज्य शासन ने प्रदेश की 16,000 से अधिक एबीएल (गतिविधि आधारित शिक्षण) शालाओं की सघन मॉनीटरिंग के लिए विस्तृत कार्य-योजना बनाई है। शासन ने सभी जिला कलेक्टर से एक सप्ताह में एबीएल शालाओं की मॉनीटरिंग का कार्य प्रारंभ करवाने के निर्देश दिये हैं। कलेक्टर्स से कहा गया है कि वे अकादमिक गुणवत्ता के उन्नयन की दृष्टि से प्रत्येक शाला में मॉनीटरिंग का कार्य तत्काल प्रारंभ करवायें। कलेक्टर जिले में कार्य-योजना संबंधी आदेश जारी करने के लिए जिला शिक्षा अधिकारी, प्राचार्य, डाइट/ डीआरसी तथा जिला परियोजना समन्वयक को उत्तरदायी अधिकारी नियुक्त करेंगे। एबीएल शालाओं के अकादमिक उन्नयन के लिए प्रत्येक स्तर पर उत्तरदायित्व का निर्धारण किया गया है। जन-शिक्षा केन्द्र स्तर पर जनशिक्षक एवं जन-शिक्षा केन्द्र प्रभारी मॉनीटरिंग करेंगे। जन-शिक्षक अधीनस्थ शाला की प्रत्येक माह कम से कम एक बार आवश्यक रूप से मॉनीटरिंग करेंगें। वे माह प्रारंभ होने के पहले अपना कार्यक्रम जन-शिक्षा केन्द्र प्रभारी एवं डीआरसी को देंगे। मॉनीटरिंग के दौरान सुनिश्चित किया जायेगा कि एबीएल का संचालन सुचारू रूप से हो रहा है या नहीं। अकादमिक कमियाँ पाये जाने पर उसे दूर करने के प्रयास होंगे। वरिष्ठ स्तर से मदद की आवश्यकता होने पर संबंधित को अवगत करवाया जायेगा। अकादमिक प्रतिवेदन प्रत्येक माह भेजना होगा। जन-शिक्षा केन्द्र प्रभारी प्रत्येक माह जन-शिक्षकों के अकादमिक प्रतिवेदन के आधार पर कमजोर अथवा समस्या वाली शालाओं का भ्रमण करेंगे। प्रतिवेदन की समीक्षा में वरिष्ठ स्तर से सहयोग की अपेक्षा होने पर उसे अग्रेषित किया जायेगा।विकास-खण्ड स्तर पर पदस्थ बीएसी एवं बीआरसी के मध्य एबीएल चयनित जन-शिक्षा केन्द्रों को विभाजित करते हुए आदेश जारी होंगे। माह के पहले एवं दूसरे सप्ताह में बीएसी एवं बीआरसी द्वारा न्यूनतम 5-5 शाला का दौरा किया जायेगा। बीएसी एक शाला में आधे दिन रुककर कार्य देखेंगे। जिला-स्तरीय मॉनीटरिंग में जिला शिक्षा केन्द्रों तथा डाइट/ डीआरसी में पदस्थ समस्त डीपीसी और व्याख्याताओं के बीच विकास-खण्डों के चयनित जन-शिक्षा केन्द्रों का विभाजन किया जायेगा। उनके द्वारा जिले में प्रत्येक माह कम से कम 50-50 शाला का भ्रमण तीसरे एवं चौथे सप्ताह में अनिवार्य रूप से किया जायेगा। भ्रमण के दौरान आधे दिन शाला में रुककर गतिविधियों का अवलोकन किया जायेगा। शाला के अकादमिक उन्नयन के लिए कार्य-योजना तैयार करवाई जायेगी तथा उसका प्रतिमाह फॉलोअप होगा। भ्रमण करने वाले अधिकारी अपने कार्यक्रम की सूचना वरिष्ठ कार्यालय/ अधिकारी को देंगे। प्रत्येक त्रैमास में एबीएल शालाओं के उपलब्धि स्तर का परीक्षण कर प्राप्त परिणामों का विश्लेषण होगा तथा शालावार अकादमिक उन्नयन के लिए कार्य-योजना तैयार की जायेगी।राज्य स्तर से जिला प्रभारी के रूप में नियुक्त अधिकारी माह के चौथे सप्ताह में जिले की न्यूनतम 3 शाला का भ्रमण करेंगे। वे अकादमिक उन्नयन के प्रयासों की समीक्षा कर मार्गदर्शन देंगे। राज्य-स्तरीय मॉनीटरिंग के बाद अपर मिशन संचालक, राज्य शिक्षा केन्द्र को शालावार प्रतिवेदन प्रस्तुत किया जायेगा। प्रतिवेदन के आधार पर आयुक्त, राज्य शिक्षा केन्द्र से प्राप्त निर्देशों को जिला-स्तर पर भेजकर अकादमिक उन्नयन के लिए आवश्यक कार्यवाही की जायेगी। यूनीसेफ के सलाहकारों द्वारा भी उनके कार्य-क्षेत्र में शालाओं की मॉनीटरिंग की जायेगी। प्रत्येक स्तर पर एबीएल शाला की समीक्षा बैठक कर कार्य-योजना तैयार की जायेगी। सभी स्तर पर कार्य की प्रगति का रिकार्ड रखा जायेगा। मॉनीटरिंग के आधार पर शालावार कार्य-योजना तैयार होगी।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

मैली नर्मदा ,मैले विभाग

मां रेवा (नर्मदा) को सभी नदियों में सबसे पवित्र माना गया है, लेकिन अब ये भी गंदगी की चादर ओढ़ रही है। विभागीय उत्तरदायित्व नहीं होने के कारण नर्मदा नदी की न तो सफाई हो पा रही है और न ही इसकी तरफ किसी का ध्यान है। कुछ वर्षों पूर्व नर्मदा विकास प्राधिकरण (एनव्हीडीए) ने नर्मदा की सफाई के लिए पहल की थी, लेकिन अब यह भी ठंडे बस्ते में है। अमरकंटक से निकलकर 1321 किलोमीटर तक बहने वाली नर्मदा नदी अपने साथ कई शहरों की गंदगी को भी बहाकर ले जा रही है। इसकी गंदगी को खत्म करने और सफाई के लिए कई बार प्रयास किए गए, लेकिन अब तक इसकी शुरुआत नहीं हो पाई। दो वर्ष पूर्व एनव्हीडीए ने नर्मदा बायो हेल्थ मॉनीटरिंग के जरिये इसकी सफाई की पहल की थी। इसके लिए टेंडर भी बुला लिए गए, लेकिन इस पहल को यह कहते हुए ठंडे बस्ते में डाल दिया गया कि यह एनव्हीडीए का विभागीय उत्तरदायित्व नहीं है। इसी तरह नगरीय प्रशासन विभाग ने भी नर्मदा नदी के किनारे बसे शहरों और गांवों की गंदगी से बचाने के लिए प्रयास किए, लेकिन अब तक इसके भी सार्थक नतीजे सामने नहीं आए हैं।फायदे ले रहे, लेकिन जिम्मेदारी नहींनर्मदा नदी से फायदा तो कई विभाग ले रहे हैं, लेकिन इसकी सफाई की जिम्मेदारी लेने को कोई तैयार नहीं। खनिज विकास विभाग नर्मदा नदी से रेत का उत्खनन करके करोड़ों रुपए सालाना कमाई कर रहा है।इसी तरह नगरीय प्रशासन विभाग भी नर्मदा के पानी का भरपूर उपयोग कर रहा है। एनव्हीडीए भी नर्मदा नदी पर बांधों का निर्माण करा है, लेकिन नदी की सफाई की जिम्मेदारी लेने को कोई तैयार नहीं है। इधर नर्मदा नदी के लिए बजट में करोड़ों रुपए की राशि सरकार द्वारा हर साल निर्धारित की जा रही है लेकिन नर्मदा नदी की सफाई के लिए इसमें से एक भी पैसा खर्च नहीं किया जा रहा है।मास्टर प्लान की दरकारविशेषज्ञों के अनुसार नर्मदा नदी की सफाई के लिए एक मास्टर प्लान तैयार किया जाना चाहिए। नर्मदा नदी मध्यप्रदेश की जीवनदायिनी नदी है और इससे लाखों लोगों की प्यास बुझ रही है, वहीं बड़ी तादाद में किसानों को खेती के लिए पानी भी मिल रहा है। लेकिन सरकार का ध्यान इस तरफ नहीं है। यदि सरकार एक योजना के अनुसार इस पर अमल करे तो निश्चित रूप से नदी की सफाई का बीड़ा उठाया जा सकता है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

खान नदी पुनर्जीवन परियोजना दो चरण में पूरी होगी

मुख्यमंत्री चौहान ने प्रस्तुत की 2719 करोड़ की परियोजनालोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने गंगा बेसिन में शामिल इंदौर की सरस्वती-चंद्रभागा (खान) नदियों के शुद्धिकरण के बारे में नई दिल्ली में एक महत्वपूर्ण बैठक ली। बैठक में परियोजना की विस्तृत रिपोर्ट दो भाग में तैयार करने पर चर्चा हुई। प्रथम भाग सिंहस्थ के पूर्व पूर्ण किया जा सकता है। दूसरे भाग में परियोजना को पूर्णत: लागू करने के बारे में कार्य होगा।मुख्यमंत्री चौहान ने राज्य सरकार की ओर से दोनों नदी को जीवंत करने की 2719 करोड़ रुपये की योजना रखी। उन्होंने बताया कि वर्ष 2016 में होने वाले सिंहस्थ के दौरान श्रद्धालुओं को स्वच्छ जल में स्नान करने का अवसर मिले, इसके लिये शासन कटिबद्ध है। दिसम्बर, 2015 तक पहले चरण का कार्य पूरा करने की बात भी श्री चौहान ने कही। मुख्यमंत्री ने कहाकि दो हिस्सों में यह कार्य-योजना पूरी हो सकेगी। पहले चरण में सीवरेज ट्रीटमेंट का कार्य होगा। दूसरे चरण में अगले पाँच साल की प्लानिंग की जायेगी।बैठक में, केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री वैंकेया नायडू, जल-संसाधन, नदी विकास एवं गंगा पुनरुद्धार मंत्री उमा भारती, राज्य मंत्री संतोष कुमार गंगवार, ग्रामीण विकास मंत्री श्री नितिन गडकरी तथा वन एवं पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और मध्यप्रदेश के नगरीय प्रशासन और विकास मंत्री कैलाश विजयवर्गीय वरिष्ठ अधिकारियों सहित शामिल हुए।बैठक में जल प्रवाह में जल-मल की रोकथाम, सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट का पूर्ण क्षमता से संचालन, जल प्रवाह के किनारों पर बसी आबादी के विस्थापन, जल प्रवाह के शुद्ध जल का निरंतर प्रवाह सुनिश्चित करना आदि बिन्दु पर चर्चा हुई। इंदौर-उज्जैन को स्थाई रूप से बेहतर पर्यावरण और स्वच्छ जल की उपलब्धता और सिंहस्थ-2016 में आने वाले लाखों श्रद्धालुओं की सुविधा पर भी चर्चा हुई।श्रीमती महाजन ने कहा कि प्रोजेक्ट को पायलट प्रोजेक्ट के रूप में लिया जाए। उन्होंने कहा कि गंगा बेसिन में आने वाली इंदौर की इन नदियों को स्वच्छ और जीवंत करने से क्षिप्रा सहित अन्य नदियाँ भी स्वच्छ रह सकेंगी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाकर प्रोजेक्ट का क्रियान्वयन किया जाये।केन्द्रीय मंत्री श्री गडकरी ने सलाह दी कि धनराशि की व्यवस्था के लिये पीपीपी पद्धति का भी उपयोग किया जाये। उन्होंने कहा कि इंदौर के अधिकारी नागपुर जाकर वहाँ गंदे पानी का ट्रीटमेंट कर उद्योगों में उपयोग की जानकारी लें। साथ ही सुझाव दिया कि खान नदी का जल मार्ग के रूप में उपयोग करने की संभावना भी तलाशी जाना चाहिये। केन्द्रीय मंत्री श्री वैंकेया नायडू ने भी विविध पक्ष पर अपनी राय रखी।केन्द्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा कि तकनीकी सलाह के अनुसार उनका मंत्रालय गंगा बेसिन की इन नदियों के लिये कार्य करेगा। उन्होंने नदियों को पुनर्जीवित करने की अपनी प्रतिबद्धता दोहरायी। केन्द्रीय मंत्री श्री जावड़ेकर ने भी सुझाव दिये। इंदौर के महापौर श्री मोघे ने निगम द्वारा किये जा रहे सीवरेज लाइन के कार्यों की जानकारी दी।बैठक में संभागायुक्त दुबे ने बताया कि नदी की लम्बाई 78 किलोमीटर है, जो नगरीय क्षेत्रों में 33 किलोमीटर है। स्थाई एवं अस्थाई अतिक्रमणें के कारण भी ये नदियाँ प्रदूषित हुई हैं। उन्होंने बताया कि नदी क्षेत्रों में 33 स्लम्स हैं। प्रोजेक्ट के लिये लगभग 10 हजार परिवार को विस्थापित करना होगा। नदी तक आने-जाने के रास्ते, फुटपाथ और हरित क्षेत्र विकसित करने होंगे। नर्मदा-शिप्रा लिंक से चार-पाँच साल तक पानी छोड़ना होगा और फिर यहाँ जल-ग्रहण क्षेत्र विकसित हो जाएगा। प्रोजेक्ट के लिए एसपीवी का गठन करना प्रस्तावित है। सीवरेज सहित छह उपयोजनाएँ बनाना होगी। कुल 6 माह में डीपीआर बनाई जाएगी।आईआईटी, कानपुर के प्रो. विनोद तारे ने दोनों नदी को बारहमासी बनाने संबंधी प्रेजेंटेशन दिया। तय हुआ कि प्रो. तारे और संभागायुक्त श्री दुबे नेशनल रिवर मिशन के अंतर्गत कार्य-योजना प्रस्तुत करेंगे। प्रथम चरण में इंदौर की सीवरेज प्रणाली को सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट तक जोड़ा जाएगा। इसके बाद उपचारित जल को उज्जैन के पूर्व डायवर्ट कर उज्जैन के आगे कालियादेह महल के पश्चात जोड़ा जाएगा। इंदौर के प्रस्तावित कार्य वर्तमान में लगभग 400 करोड़ रुपये के होंगे, जिसके लिये केन्द्र की विभिन्न योजनाओं में राशि स्वीकृत की जायेगी। दूसरे चरण में किनारों की बसाहट का विस्थापन और रिवर फ्रंट डेवलपमेंट का कार्य किया जाएगा। दोनों चरण की योजना के लिए शीघ्र ही विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत की जाकर स्वीकृति ली जाएगी।बैठक में मुख्य सचिव अंटोनी डिसा, कलेक्टर इंदौर और उज्जैन भी शामिल हुए।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

तुम्हीं सो गए दास्तां कहते कहते.....!

जुलैख़ा जबीं''हमारा संघर्ष यही होना चाहिए कि दुनिया में सामाजिक न्याय हो, भेदभाव खत्म हो, सबके साथ इंसाफ हो, सबकी जरूरतें पूरी हों. और हमें इस लड़ाई को लड़ते रहना है, सभी के साथ मिलकर, लगातार. ऐसा नहीं कि मैं सिर्फ इस्लाम के नाम पर लडूं, आप सिर्फ हिंदू धर्म के नाम पर लडें, कोई बौद्ध धर्म के नाम पर लड़े- नही हम सबको साथ आना चाहिए. क्योंकि हम, आप और बाक़ी बहुत सारे यही कह रहे हैं कि सामाजिक न्याय हो, बराबरी हो, गैर बराबरी खत्म हो, जो इस गैर बराबरी को बढ़ावा देने वाले हैं उन सभी के खिलाफ हमें एकजुट होकर लड़ना होगा. यही देश भक्ति है और सबसे बड़ी इबादत भी.’’ (डा इंजीनियर)दुनिया में कट्टरपन के खिलाफ सदभावना के लिए, मजहबी नफरत के खिलाफ अमन के लिए, सांप्रदायिक हिंसा के खिलाफ बहनापे और भाइचारे के लिए, सामाजिक अन्याय के खिलाफ इंसाफ के लिए आजीवन संघर्षरत डा असगर अली इंजीनियर पिछले एक बरस से हमारे बीच नहीं रहे. मगर इंसानी समाज में इंसानियत की स्थापना के लिए, मोहब्बत की जो मशाल उन्होंने जलाई है वो रहती दुनिया तक क़ायम और रौशन रहेगी. हर तरह के कटटरपन और सामंतवाद के खिलाफ डा. इंजीनियर ने अपनी आवाज बुलंद की है. अपनी कलम के जरिए, शिक्षण और प्रशिक्षण के जरिए, सभाओं, गोष्ठियों, सेमीनार, कार्यशालाओं के जरिए, आम जनता के नजदीक पहुंचने के हर संभव तरीकों और माध्यमों का इस्तेमाल वे अपने आखिरी दम तक करते रहे हैं. जातिवादी नफरत के खिलाफ उनकी कलम की धार पीड़ितों के पक्ष में हमेशा तेज रही. डा इंजीनियर हिंदोस्तानी गंगा-जमनी तहज़ीब, संप्रभुता और विविधता में एकता के जबरदस्त हामी रहे हैं. वे हमेशा कहा करते थे “बेशक आस्था जरूरी है मगर जब आस्था अंध विश्वास की शक्ल ओढ़ लेती है तब वह इंसानी समाज के लिए खतरनाक हो जाती है.” और यहीं से शुरू होती है वो जंग जिसका रास्ता और तरीक़ा डा असगर अली इंजीनियर ने हम सबको दिखाया है.सेंटर फार स्टडी आफ सोसायटी एंड सेक्युलरिज्म के अध्यक्ष और इस्लामिक विषयों के प्रख्यात विदवान डा असगर अली इंजीनियर की पहचान मजहबी कटटरवाद के खिलाफ लगातार लड़ने वाले योद्धा के तौर पे मानी जाती रहेगी. डा इंजीनियर मानना था कि दुनियां में जहां पर भी इस्लाम के मानने वालों पर जुल्म हुआ है, वहां के लोग लड़ाई के लिए उठ खडे हुए हैं. वे मानते हैं कि ’’कट्टरपंथ मजहब से नहीं सोसायटी से पैदा होता है’’ उनकी राय में ’’भारतीय मुसलमान इसीलिए अतीतजीवी हैंे क्योंकि यहां के 90 फीसदी से ज्यादा मुसलमान पिछड़े हुए हैं और उनका सारा संघर्ष दो जून की रोटी के लिए है इसलिए उनके भीतर भविष्य को लेकर कोई ललक नहीं है’’. यही नहीं, हिंदू कट्टरपंथ की वजह बताते हुए वे कहते है कि ’’जब दलितों, पिछड़ों व आदिवासियों ने अपने हक मांगने शुरू किए तो ब्राहमणों को अपना पावर खतरे में नजर आया और उन्होंने मजहब का सहारा लिया, ताकि धर्म के नाम पर सबको साथ जोड़ लें, लेकिन ये सोच कामयाब होती नजर नहीं आ रही है इसलिए उनका कटटरपंथ और तेजी से बढता जा रहा है. ताकि वह जरूरी मुददों से लोगों का ध्यान हटाएं और हिंदू धर्म के नाम पर सबको एक करने की कोशिश करें. और यही इसकी बुनियादी वजह है’’. जब दुनिया में इस्लामी आतंकवाद का प्रोपेगंडा अपने चरम पे था, हमारे मुल्क के अंदर भी मुसलमानों को लेकर शक-ओ-शुबहा बढ़ने से बेगुनाहों पर सरकारी जुल्म बढने लगे और सांप्रदायिक दंगों में जानो माल का इकतरफा नुकसान, बेकुसूर नौजवानों की गिरफतारी, झूठे मुकदमे, फर्जी एनकाउंटर बढ़ने लगे, समाज में आपसी नफरत बढ़ने लगी और मुस्लिम समाज दहशत की वजह से खुद अपने में सिमटने लगा, और कुछ स्वार्थी राजनैतिक तत्वों के जरिए, सुनियोजित तरीके से फैलाई जा रही नफरत से निपटने के लिए, शिक्षण प्रशिक्षण के ज़रिए, समाज मेें समरसता, बहनापा, भाईचारा क़ायम करने डा. इंजीनियर ने आल इंडिया सेक्युलर फोरम की शुरूआत की. जिसमें उनके अलावा देश की कई जानी पहचानी सेक्यूलर हस्तियां शामिल हुईं. इसके साथ ही देश में किए जा रहे सांप्रदायिक दंगों के पीछे की असलियत जानने के लिए उन्होंने खुद ही जांच दल गठित कर, घटनास्थलों में जाकर तफतीश की, रिपोर्ट तैयार की और संबंधित विभागों, राज्यपालों व केंद्र और राज्य सरकारों को सौंपी. मुल्क में बढ़ती जा रही मजहबी कटटरता पे उनका स्पष्ट मानना रहा है कि कटटरपंथ मजहब से पैदा नहीं होता वह मौजूदा समाज से पैदा होता है. बडी बेतकल्लुफ़ी से वे बताते हैं, आज से क़़रीब 70 बरस पहले देश में मुस्लिम लीग की मज़़बूती के पीछे भी यही वजहें थीं. क्योंकि उस वक्त जो मुस्लिम एलीट वर्ग यूपी, बिहार वगैरह का था, उसको लगा कि आजाद हिंदोस्तान में उसके हाथ से सत्ता पावर निकल जाएगा. इसलिए वे मुस्लिम लीग में गए उन्हें लगा कि लीग उन्हें और उनके प्रभुत्व को बचा लेगी. और लीग ने पाकिस्तान बनवा डाला और यहां का एलीट क्लास ये सोचकर पाकिस्तान चला गया कि वहां उनका भविष्य महफूज़़ रहेगा. मगर वहां की हकीक़़त आज हमारे सामने है कि धार्मिक कटटरपंथ के एवज़ बने किसी देश का भविष्य कितना अंधकारमय होता है. यही हिंदू कटटरपंथियों के साथ हो रहा है. वे सोचते हैं कि अगर वे हिंदू धर्म का सहारा नहीं लेंगे तो ये दलित, पिछड़े, आदिवासी सब सत्ता में आ जाएंगे और इसीलिए इन सबको सत्ता के पावर से दूर रखने के लिए हिंदू धर्म की बात करते हैं. वे कटटरपंथ की बात मजहब का नाम लेकर करते हैं ताकि बहुसंख्यक जन उनके साथ जुड़ जाए.डा इंजीनियर लोकतंत्र में अटूट विश्वास रखने वालों में रहे हैं. वे कहते हैं “चूंकि यहां लोकतंत्र है और दलित, पिछड़े भी इसे समझ रहे हैं कि वे लोकतांत्रिक तरीके से ही इसका मुकाबला कर सकते हैं. अगर आज लोकतंत्र न रहे और इस तरह की राजनीति बेखौफ बढती रहे तो वे सबको जेल में डाल देंगे, फांसी चढा देंगे, गोली मार देंगे, और फिर सब चुप हो जाएंगे तब तक के लिए, जबतक फिर से लोकतंत्र नहीं आ जाता..“डा इंजीनियर ने औरतों खासकर मुस्लिम औरतों के आर्थिक सामाजिक हालात सुधारने के लिए बहुत काम किया है. उन्होंने अपनी क़लम से मजहब के उन स्वयंभू ठेकेदारों के खिलाफ आवाज बुलंद की है जिन्होंने मुस्लिम औरतों के कुदरती, इंसानी हक़ मजहब के नाम पर दबा रखे हैं. इसके लिए उन्होंने ’’ क़ुरआन में औरतों के हक़’’ नाम से एक किताब भी लिखी साथ ही इस विषय पे बाकायदा प्रशिक्षण शिविरों का भी आयोजन पूरे मुल्क में किया. डा. साहब चाहते थे कि मुस्लिम समुदाय में से ही उच्च शिक्षित खातून आगे बढ़ें और अरबी का ज्ञान हासिल करें ताकि क़ुरआन में दिए गए अपने हक़ूक़ मर्दवादी समाज से हासिल कर सकें. बतौर भाषा अरबी सीखने और सिखाने के लिए अंग्रेजी, उर्दूू और हिंदी का प्राइमर भी तैयार कर चुके थे और इसका इंतेजाम उन्होंने बांबे स्थित अपने आफिस में कर भी रखा था. ताकि बाहर से आई हुई कुछ चुनिंदा खातून इसमें महारत हासिल कर सकें. लेखिका को भी आपने अपनी मंशा से न सिर्फ अवगत कराया था बल्कि उनके पास रहकर अरबी की पढ़ाई पूरी करने का आफर भी दिया था. उनका खाब था कि कुछ हिंदोस्तानी ख्वातीन सामाजिक न्याय, बराबरी और औरतों के हक़ुक़ से संबंधित कुरआन के रौशन पहलू को तर्जुमे के साथ आमजन तक पहुंचाने का जिम्मा उठाएं.. वे कहते हैं कि ’’जब समाज हमेशा एक सा नहीं रह सकता बदल जाता है, तो उसके क़वानीन (क़ानून) एक से कैसे रहेंगे ? उन्हें भी समाज में होने वाले बदलाव के साथ बदलना ही होगा’’. बेशक डा. इंजीनियर आज हमारे बीच नहीं रहे मगर इंसानी दुनिया से नफरत, गैर बराबरी और बेइंसाफी मिटाने के लिए, किए गए उनके तमाम काम और काविशों का बोलबाला कायम रखने के लिए, उनके छेडे़ गए जेहाद के बिगुल को सांस देेने की जरूरत है. यही डा़ असग़र अली इंजीनियर को सच्ची ख़िराजे अक़ीदत (श्रद्धांजली)होगी

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

नर्मदा शुद्धिकरण के लिये 1300 करोड़ की योजना पर अमल शीघ्र

बान्द्राभान में तृतीय अंतर्राष्ट्रीय नदी महोत्सव मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में नर्मदा नदी के जल को शुद्ध रखने के लिए 1300 करोड़ रूपए लागत की कार्य योजना तैयार की गई है। कार्य योजना की शुरूआत उद्गम स्थल अमरकंटक से की जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज बांद्राभान में तृतीय अंतर्राष्ट्रीय नदी महोत्सव- के द्वितीय सत्र को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर गंगा समग्र अभियान की सूत्रधार और पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री उमा भारती, नर्मदा समग्र के अध्यक्ष श्री अमृतलाल वेगड़, संयोजक श्री अनिल माधव दवे और श्री अतुल जैन विशेष रूप से उपस्थित थे।मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे देश में नदियों को पूजा जाता है। उन्होंने कहा कि समाज की सहभागिता के बगैर नदियों का संरक्षण संभव नहीं है। किनारों पर अवस्थित गाँवों में रहने वाले लोग संकल्प लें कि वे नदियों के जल को प्रदूषित नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य शासन अपने स्तर पर तो नर्मदा सहित राज्य की सभी नदियों को प्रदूषण मुक्त रखने के लिए प्रयत्नशील है। इसी दिशा में राज्य के सभी गाँवों में मर्यादा अभियान के तहत 15 लाख शौचालय के निर्माण का कार्यक्रम हाथ में लिया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि नदियों के किनारों पर पेड़ कट जाने के कारण वृक्षों से रिसने वाला पानी अब नदियों में नहीं आ रहा है। इसी प्रकार नदियों के किनारों पर व्यवसायिक गतिविधियाँ बढ़ जाने से नदियों के जीवतंत्र को क्षति पहुँची है। मुख्यमंत्री ने ग्रामवासियों को नदियों के किनारों पर बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण करने का संकल्प लेने की सलाह दी।सुश्री उमा भारती ने कहा कि हमारी संस्कृति सर्व-समावेशी है। नदियाँ हमारी जीवनदायिनी हैं लेकिन हम नदियों को कुछ लौटाते नहीं हैं। सुश्री भारती ने गंगा समग्र अभियान का उल्लेख करते हुए कहा कि नदी किनारों पर सीवेज के गंदे पानी को नदियों में मिलने से रोकने के लिए जल उपचार संयंत्र स्थापित किये जाने चाहिए। सुश्री उमा भारती ने कहा कि नदियों के जल के अविरल प्रवाह को बनाए रखने के लिए वहाँ होने वाले खनन का रूकना भी जरूरी है।श्री अमृतलाल वेगड़ ने कहा कि प्राकृतिक संतुलन बनाए रखने के लिए सामाजिक चेतना जाग्रत करना भी नर्मदा समग्र अभियान का उद्देश्य है। श्री वेगड़ ने कार्यक्रम के अंत में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को तथा अनिल माधव दवे ने सुश्री उमा भारती को स्मृति-चिन्ह भेंट किये।श्री अनिल माधव दवे ने कहा कि इस वर्ष नदी महोत्सव की थीम ‘‘हमारी नदियाँ, नीति एवं नेतृत्व’’ रखी गई है। श्री दवे ने कहा कि नर्मदा समग्र अभियान के अंतर्गत राज्य में आगामी 10 वर्ष में जैविक और प्राकृतिक कृषि को बढ़ावा देने के प्रयत्न किये जायेंगे। महोत्सव में जन-प्रतिनिधि, प्रचार माध्यमों के प्रतिनिधि तथा देश-विदेश के विभिन्न भागों से आए प्रतिभागी बड़ी संख्या में शामिल थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

नर्मदा शुद्धिकरण के साथ वृक्ष लगाएँ

नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री श्री बाबूलाल गौर ने कहा है कि समग्र नर्मदा शुद्धिकरण योजना के अंतर्गत वृक्षारोपण कार्यक्रम को प्राथमिकता से किया जाये। उन्होंने उद्योग एवं पर्यावरण विभाग के अधिकारियों को वृक्षारोपण के लिये आरक्षित भूमि के प्रस्ताव शीघ्र कलेक्टर को भेजने के निर्देश दिये। श्री गौर आज मंत्रालय में समग्र नर्मदा शुद्धिकरण योजना की बैठक ले रहे थे। बैठक में जल-संसाधन एवं पर्यावरण मंत्री श्री जयंत मलैया, राजस्व मंत्री श्री करण सिंह वर्मा एवं नगरीय प्रशासन राज्य मंत्री श्री मनोहर ऊँटवाल भी मौजूद थे।मंत्री गौर ने नर्मदा नदी से लगे शहरों के मास्टर प्लॉन शीघ्र तैयार किये जाने के लिये भी कहा। बैठक में बताया गया कि चित्रकूट का मास्टर प्लॉन शीघ्र बनकर तैयार हो रहा है। प्रदूषण निवारण मण्डल के अधिकारियों ने बताया कि नर्मदा नदी से लगे 12 उद्योग को प्रदूषण की दृष्टि से चिन्हित किया गया था, उनकी जाँच में यह पाया गया है कि इन उद्योग का अपशिष्ट नर्मदा नदी में नहीं मिल रहा है। शहडोल जिले की अमलाई पेपर मिल से होने वाले जल प्रदूषण में 30 प्रतिशत की कमी कर ली गई है। आने वाले 6 माह में उपचार संयंत्र के जरिये प्रदूषण में शत-प्रतिशत कमी को पूरा किया जायेगा। उद्योग विभाग ने बताया कि नर्मदा नदी से लगे जिलों में पहले चरण में 20 लाख पौधे लगाये जाने हैं। समग्र योजना में पौने तीन करोड़ से अधिक पौधे लगाये जाने की कार्य-योजना तैयार की गई है। इस कार्य में औद्योगिक संगठनों की मदद ली जा रही है।नर्मदा शुद्धिकरण योजना के लिये 53 शहरों की जल-प्रदाय, ठोस कचरे के निपटान एवं सेनीटेशन की योजनाएँ बना ली गई हैं। अमरकंटक में गायत्री तथा सावित्री नदियों में मिल रहे प्रदूषित जल को रोकने के लिये शोधन-यंत्र की भी स्थापना की गई है। नर्मदा नदी से लगे शेष शहर में साइकिल बॉयो-टेक्नालॉजी के माध्यम से जल-शोधन की कार्य-योजना मार्च, 2013 तक तैयार कर ली जायेगी। अमरकंटक में घर-घर जाकर कचरा एकत्रित करने की योजना को लागू किया गया है। पवित्र नगरी अमरकंटक में बाहर से आने वाले निर्धन वर्ग के यात्रियों के ठहरने के लिये रैन-बसेरा का भी निर्माण किया जा रहा है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

शक्ति और ज्ञान के साधक राजा भोज

लक्ष्मीकांत शर्माहम कई अवसरों पर एक लम्बे अंतराल के बाद घटनाओं के दोहराए जाने की बातें सुनते, देखते आए हैं । ऐसा लेकिन क्यों होता है, इसके मूल में जाकर स्थितियों-परिस्थितियों के ज्ञान और विश्लेषण के आधार पर सब कुछ साफ पता चल सकता है । शक्ति की उपासना और इसे साध कर एक श्रेष्ठ शासन संचालित करने की पहचान वाले महान राजा भोज का सहस्त्राब्दी समारोह मध्यप्रदेश में करना मध्यप्रदेश सरकार की एक वैसे ही इतिहास को दोहराने की बानगी है । किसी अच्छाई को आदर्श मानकर उसका अनुकरण किसी की भी प्रगति का मूल मंत्र होता है । परन्तु यदि कोई सरकार इस आदर्श के साथ जनता के व्यापक हित में आगे आती है तो यह निश्चित ही अत्यंत महत्वपूर्ण बात हो सकती है । इसके लिए दृढ़ इच्छाशक्ति और संकल्प की आवश्यकता होती है तथा यही इस दिशा में निरंतर प्रगति का मार्ग प्रशस्त करने के परिचायक बनते हैं । बीते एक हजार वर्षो में परिस्थितियों और स्थितियों में भारी बदलाव आए हैं । ऐसे में आज महान शासक राजा भोज के विचारों, सिद्धांतों एवं शासन की रीति-नीतियों के अनुसरण की मंशा सिर्फ प्रासंगिक ही नहीं, नितांत आवश्यक भी है । राजा भोज की नगरी यानि आज के भोपाल में शक्ति और ज्ञान के इस महान साधक की याद को ताजा करने के उपक्रम में मध्यप्रदेश सरकार ने उनकी प्रतिमा स्थापित करने के अपने निर्णय को साकार कर लिया है । इससे भोपाल ताल के करीब वीआईपी मार्ग पर गुजरने वाले हर एक व्यक्ति और विशेषकर शासक, प्रशासकों के मस्तिष्क में जहाँ राजा भोज की स्मृतियां उभरेंगी वहीं उनके मन को एक स्वस्थ, स्वच्छ और पुरूषार्थी शासक के आदर्शो को आत्मसात करने के लिए प्रेरित भी करेंगी ।राजा भोज की स्पष्ट और दृढ़ मान्यता थी कि किसी भी सुशासन की परिकल्पना शक्ति और ज्ञान के बगैर संभव नहीं है । इतिहास में ऐसे एकाधिक अवसर आए हैं इन दोनों में से किसी एक की भी रिक्तता ने सारी सामाजिक-आर्थिक व्यवस्थाएँ चरमरा दीं । प्रजातांत्रिक देश में शासन को शक्ति जनता से प्राप्त होती है । पर्याप्त ज्ञान के बगैर इस शक्ति के दुरूपयोग की आशंकाएं कोरी भी नहीं हैं । इन आशंकाओं को समूल नष्ट करने का दायित्व सरकारों का ही तो है जिसे निभाने के लिए उनक सदैव सजग, सक्रिय और तत्पर रहना तथा जनआकांक्षाओं को पूरा करना आज सबसे बड़ी आवश्यकता है । इस दिशा में राजा भोज आदर्श प्रस्तुत करते हैं । राजा भोज का चिन्तन व्यापक था । इसमें किसी भी संकीर्णता का कोई स्थान नहीं था । उनकी यही सोच सुशासन का आधार हो सकती है । लोगों की कठिनाईयों और पीड़ाओं की अनुभूति कर उनके समाधान की राहें खोजना और उन्हें भी यह अनुभव कराना कि उस मुश्किल दौर में कोई उनके साथ खड़ा है, यही सच्चे-अच्छे शासन की पहचान है । महान विभूतियों के आदर्शो और जीवन मूल्यों को अपनी रीति-नीतियों में पुर्नस्थापित करने के लिए आज निश्चित ही साहस की जरूरत है । मध्यप्रदेश में सरकार के लोग इसके लिए हर चुनौती उठाने के लिए तैयार है । भोज नगरी में मकान शासक की प्रतिमा स्थापित करने के लिए जो नैतिक बल चाहिए था, उसे सरकार ने पिछले सात सालों में अपनी रीति-नीतियों के माध्यम से अर्जित करने के ईमानदार प्रयास किये हैं । आज भी जनकल्याण के नए-नए प्रयोगों को सच्चा बनाने के लिए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान निरंतर प्रयासरत हैं । राजा भोज के सिद्धान्तों पर यहाँ की सरकार भी लोगों को शक्तिशाली बनाना चाहती है ं संकटकाल में संस्कृति ही किसी राष्ट्र को एकजुट होकर उससे जूझने में समर्थ बनाती है । राजा भोज ने भारतीय संस्कृति की जड़ों को मजबूत किया । योद्धाओं और कुशल शासकों से विश्व का इतिहास भरा पड़ा है । भारत में भी एक से एक बढ़कर महान प्रतापी और पराक्रमी शासक हुये हैं, लेकिन ज्ञान, साहित्यानुराग, कला संगीत प्रेम तथा सहृदयता के महान गुणों से विभूषित ऐसे राजा कम होते हैं, जिनके नाम सुनते ही मन श्रद्धा से भर जाए । सम्राट अशोक, सम्राट विक्रमादित्य, सम्राट समुद्रगुप्त, सम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य आदि ऐसे ही शासक हुये हैं, जिनके राज कौशल के साथ-साथ मानवीय गुणों तथा कला प्रेम को विश्व भर में मुक्त कंठ से सहारा जाना है । परमार वंश के महान दार्शनिक शासक महाराजा भोज इसी श्रृंखला के ऐसे ही गौरव पुरूष हैं। मध्यप्रदेश के लिए गर्व की बात है कि भारत के इन महान राजाओं में सम्राट विक्रमादित्य और राजा भोज इसी भू-भाग के शासक रहे । महाराजा भोज ने जहाँ अधर्म और अन्याय से जमकर लोहा लिया और अनाचारी क्रूर आतताइयों का मानमर्दन किया, वहीं अपने प्रजा वात्सल्य और साहित्य-कला अनुराग से वह पूरी मानवता के आभूषण बन गये । मध्यप्रदेश के सांस्कृतिक गौरव के जो स्मारक हमारे पास हैं, उनमें से अधिकांश राजा भोज की देन हैं । चाहे विश्व प्रसिद्ध भोजपुर मंदिर हो या विश्व भर के शिव भक्तों के श्रद्धा के केन्द्र उज्जैन स्थित महाकालेश्वर मंदिर, धार की भोजशाला हो या भोपाल का विशाल तालाब, ये सभी राजा भोज के सृजनशील व्यक्तित्व की देन है । उन्होंने जहाँ भोज नगरी (वर्तमान भोपाल) की स्थापना की वहीं धार, उज्जैन और विदिशा जैसी प्रसिद्ध नगरियों को नया स्वरूप दिया । उन्होंने केदारनाथ, रामेश्वरम, सोमनाथ, मुण्डीर आदि मंदिर भी बनवाए, जो हमारी समृद्ध सांस्कृतिक धरोहर है । इन सभी मंदिरों तथा स्मारकों की स्थापत्य कला बेजोड़ है । इसे देखकर सहज ही अनुमान लगाया जा सकता है कि एक हजार साल पहले हम इस क्षेत्र में कितने समुन्नत थे । राजा भोज की गौरव गाथा के बिना मध्यप्रदेश की पहचान नहीं हो सकती । राजा भोज की प्रतिमा की भोपाल में स्थापना उनके व्यक्तित्व और कृतित्व से नयी पीढ़ी को अवगत कराने के लिए हमारी सरकार का एक विनम्र प्रयास है । शहरों और राज्यों के नाम कलान्तर में विभिन्न कारणों से बदल जाते हैं । भोपाल के साथ भी ऐसा ही हुआ है । राजा भोज द्वारा निर्मित इस नगरी का मूल नाम देवल भोज नगरी है । इसके ऐतिहासिक प्रमाण मौजूद हैं । कालान्तर में इस नगर का नाम बिगड़कर भोजपाल, भूपाल और इसके बाद भोपाल हो गया । भोपाल के मूल नाम को वापस करने के लिए हर स्तर पर प्रयास किए जाने चाहिए । इसमें किसी को एतराज नहीं होना चाहिए क्योंकि ऐसे अनेक उदाहरण हैं जहाँ भारत के नगरों और राज्यों का नाम बदलकर मूल नाम रखा गया । मुम्बई, बंगलूरू, चेन्नई, तिरूवनंतपुरम, पुदुचैरी, कोलकाता आदि इसके उदाहरण हैं । हमने राजा भोज सहस्त्राब्दी समारोह को पूरे वर्ष मनाने का निर्णय लिया है । महाराजा भोज की गरिमा के अनुरूप आयोजित इस शुभारंभ समारोह पर ही भोपाल के इतिहास में पहली बार विश्व स्तरीय उपकरणों से सुसज्जित विशाल मंच पर एक भव्य समारोह आयोजित हो रहा है । भोपालवासियों के लिए आज का दिन निश्चिम ही अविस्मरणीय रहेगा । श्री शिवमणि, प्रिंस ग्रुप, श्री सुखविन्दर सिंह तथा अन्य कालाकारों की प्रस्तुतियों को कला रसिक हमेशा याद रखेंगे । कामनवेल्थ खेलों में जैसी आतिशबाजी हुई थी, उसी प्रकार की आतिशबाजी २८ फरवरी को लाल परेड पर होगी । मुझे आशा है कि समाज के सभी वर्गो के लोग शासन के इस प्रयास में सहभागी बनेंगे । इससे हमारा सांस्कृतिक गौरव पुनः प्रतिष्ठा होगा । अपने गौरवशाली राजा की अगवानी में भोपालवासियों से उल्लास के साथ उत्सव में शामिल होकर इतिहास के साथी बनने की अपेक्षा है ।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

सिर्फ नर्मदा स्नान से नहीं बदलेंगे आदिवासियों के सूरते हाल

आजादी के इतने लंबे समय बाद यदि हम भारत के विकास का आंकलन करे तो ,तस्वीर उजली दिखती है |अंग्रेजों ने देश को आर्थिक रूप से क्षतिग्रस्त कर हमें रेलवे लाइन के जाल के साथ छोड़ दिया था |उसके बाद देश ने अनेक क्षेत्रों में बहुत प्रगति करी है ,लेकिन भारत के एक बड़े भू-भाग में निवासरत आदिवासी समुदाय का विकास और उन्नति उस गति और तीव्रता से नहीं हो सकी, जैसी की देश ने अन्यों क्षेत्रों में करी है |आदिवासी विकास के क्षेत्र में अब तक लगाए गए संसाधन अपेक्षित परिणाम नहीं दे सके है |इस कड़वी सच्चाई को हमें स्वीकार करना ही होगा |गुजरात के डांग जिले में शबरी स्थान से लेकर पांच साल बाद नर्मदा स्नान तक कि अवधी में इस समुदाय की दशा और दिशा दोनों ही अपरिवर्तनीय रही है |इस का एक बड़ा कारण इस समुदाय को सिर्फ वोट बैंक के तौर पर देखना है |ये आज भी देश के अनेक दुर्गम और अनसुचित क्षेत्रों में निवासरत है |यह समुदाय वर्तमान में भी स्वयं को प्रकृति की संतान और रक्षक मानकर उसके समीप रहने में ही विश्वास करता है |ये लोग शहरी सभ्यता के सामान प्रकृती का अंधधुंध दोहन नहीं करते, अपितु प्रकृति से उतना ही लेते जितना जीवन यापन को अवशक है|इसी विचार धारा के चलते यह समुदाय समाज के अन्य वर्गों की तुलना में हर क्षेत्र में पीछे छूट गया है ,जहाँ इनका वास्ता सिर्फ गरीबी और दुखों से पड़ रहा है| परंपरागत जीवन शैली का आदी ये आदिवासी समुदाय इन सब कारणों से बर्बाद और बेहाल है |इन परम्परों के फेर में कर्ज ,फिर कर्ज का जाल व बंधुआ मजदूरी जैसी चीजे अब इनके लिए आम है और इन्होंने परिस्थितियों से हताश होकर इस समुदाय ने अब इस सब को अपनी नियति और जीवन मान लिया हैं|ये सब स्तिथियाँ बदल सकती है लेकिन सिर्फ राजनितिक बयानबाजी के चलते इस दिशा में कुछ विशेष प्रगति नहीं हो पा रही |शिक्षा और जागरूकता का अभाव भी अड़े आ रहा है |अलग –अलग प्रजातियों कि बोली और भाषा भिन्न होने के कारण इन्हें जागरूक और शिक्षित करना भी एक कठिन कार्य है |जहाँ पूरे देश में साक्षरता पैसठ प्रतिशत के लगभग है ,तो आदिवासी साक्षरता का अनुपात सिर्फ सेंतालिस प्रतिशत के आसपास ही है |बिहार और झारखण्ड जैसे विशाल आदिवासी क्षेत्र में तो यह अनुपात लगभग अठरह प्रतिशत के नजदीक है, जो अत्यंत शर्मनाक और शोचनीय है ,विशेष रूप से उनके लिए जो महज गाल बजाकर आदिवासी उत्थान की बात करते है |बड़ी –बड़ी विकास की योजनाओ ने आदिवासी क्षेत्र और क्षेत्रफल दोनों को सीधे –सीधे प्रभावित किया है |भारी तादाद में विस्थापन ,फिर विस्थापन के मामूली मुआवजा के साथ पुनर्वास की निशक्त प्रक्रिया ने इन्हें विकास के पथ पर अग्रसर होने के बजाय पीछे ही धकेला है |देशभर में फैला यह समाज इतनी विविधता लिए है ,और यही विविधता इनकी एकता में बड़ी बाधा है इसलिए हमेशा ही इनकी आवाज क्षेत्रीय स्तर तक ही सिमित रहा जाती है ,उसकी गूंज राष्ट्रीय स्तर पर यदा-कदा ही सुनायी देती है |और इस कमजोर प्रतिनिधित्व के वजह से कोई बेहतर नतीजे सामने नहीं आ पाते |इस दुर्दशा का जिम्मा सिर्फ सरकारों का नहीं है |आदिवासियों के जनप्रतिनिधि और इस समुदाय के वे लोग जो आरक्षण का लाभ लेकर सत्ता और सरकारी पदों की मलाई खा रहें है ,ज्यादा दोषी है |जिसने अपना परिवार उन्नत कर लिया पर उन्हें अपने शेष समुदाय की उन्नति में कोई रूचि नहीं है|ये नकारात्मक सोच ही वृहद स्तर पर इस समुदाय की तरक्की के अड़े आ रही है|सरकार की नीतियों के अनुरूप इस समुदाय की शिक्षा उन्नयन के प्रयास भी जोरों पर है |लेकिन सवाल यह है कि ये समुदाय सही मायनो में शिक्षित भी हो रहा है या महज खानापूर्ति ही हो रही है|एकीकृत आदिवासी विकास योजना के तहत गरीब आदिवासियों को रोजगार प्रशिक्षण और कर्ज देने के सरकारी प्रयास भी जारी है |देश भर में इस तरह के लगभग दो सौ योजनाये अलग-अलग क्षेत्रों में संचालित हो रही है |इस प्रक्रिया से लगभग अडतालीस लाख आदिवासी परिवार लाभान्वित हुए है |सहकारिता के प्रसार से भी इन्हें मजबूत किया जा रहा है ,आदिवासी सहकारी विपणन विकास के अंतर्गत इनके कला –कौशल के साथ इनकी कृषि और वन-उपज को उचित एवं अधिकतम मूल्य दिलाने के प्रयास हो रहे हैं|समाज के अन्य वर्गों का इनके प्रति नजरिया भी कोई बहुत अच्छा नहीं है ,इस सोच और नजरिये को बदल कर ही आदिवासी कल्याण की मुहिम को बल दिया जा सकता है |आदिवासी और गैर –आदिवासी के मध्य सदभावना का वातावरण निर्मित किया जाना बहुत अवशक है, जहा समाज के अन्य वर्ग इन्हें मान-सम्मान देते हुए संरक्षण और समर्थन प्रदान करें |नहीं तो सिर्फ सरकारी नीतियों के बल पर सुधार कठिन है| इसके साथ ही उचित पुनर्वास की व्यवस्था भी जरूरी है ,क्योकि खनन एवं कल –कारखानों के कारण लाखों आदिवासी परिवार आज बेघर है |कोयला खनन ने भारी तादाद में इन्हें बेघर किया हैं |और तो और स्वस्थ और स्वच्छ पेयजल भी इनके लिए दिव्य स्वपन के सामान है |पवित्र नदियों में स्नान और कोरी भाषणबाज़ी इन्हें आज इस दशा में ले आयी है |जहाँ से आगे का सफर मुश्किल जरूर है लेकिन मुमकिन है

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

सिंहस्थ के कामों की क्वालिटी सुधारी जाये

डिसा ने उज्जैन में निर्माण कार्यों का लिया जायजा मुख्य सचिव अंटोनी डिसा एवं डीजीपी सुरेन्द्र सिंह ने उज्जैन में चल रहे सिंहस्थ निर्माण कार्यों का निरीक्षण कर अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये। मुख्य सचिव एवं डीजीपी ने सबसे पहले होमगार्ड परिसर में नव-निर्मित बेरक का निरीक्षण किया। इस दौरान बेरक में कम संख्या में बनाये गये शौचालयों पर नाराजगी प्रकट की। उन्होंने शौचालयों की संख्या बढ़ाते हुए उनकी गुणवत्ता में सुधार के निर्देश दिये।मुख्य सचिव श्री डिसा ने इंजीनियरिंग कॉलेज रोड, हरीफाटक ओवरब्रिज की चौथी भुजा का निरीक्षण किया। उन्होंने गऊघाट पर 565 लाख की लागत से निर्माणाधीन जल-शोधन संयंत्र का भी अवलोकन किया। श्री डिसा ने सिंहस्थ के दौरान शुद्ध पेयजल की समुचित व्यवस्था के लिए संयंत्र की शोधन क्षमता बढ़ाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जहाँ अभी इस जलशोधन संयंत्र की क्षमता 127 एमएलडी प्रतिदिन की है, उसे 167 एमएलडी प्रतिदिन बढ़ाने के लिये आवश्यक कार्यवाही करें।मुख्य सचिव ने हरीफाटक ब्रिज के नजदीक निर्माणाधीन इंटरप्रिटेशन सेन्टर (व्याख्यालय) का भी निरीक्षण किया। मुख्य सचिव ने महाकाल मंदिर में चल रहे टनल निर्माण कार्य का निरीक्षण कर मंदिर में आने वाले दर्शनार्थियों के आने-जाने की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने मंदिर के आसपास पैदल निरीक्षण कर वहाँ की व्यवस्थाओं का जायजा लिया। श्री डिसा ने रूद्र सागर एवं विक्रमादित्य टीले पर चल रहे निर्माण कार्य, राणोजी की छत्री का विकास कार्य एवं रामघाट का निरीक्षण किया। इस दौरान वॉच टॉवर, कंट्रोल रूम के बारे में पुलिस अधीक्षक ने जानकारी दी। उन्होंने रामघाट पर प्याऊ आदि को हटाने और उसकी सुन्दरता बढ़ाने के लिए विभिन्न रंगों की लाइटिंग करने के भी निर्देश दिये।प्रमुख सचिव विवेक अग्रवाल, प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं पर्यावरण मलय श्रीवास्तव, संभागायुक्त डॉ.रवीन्द्र पस्तौर, उज्जैन रेंज के आईजी वी.मधुकुमार, डीआईजी राकेश गुप्ता, कलेक्टर कवीन्द्र कियावत, पुलिस अधीक्षक एम.एस.वर्मा, मेला अधिकारी अविनाश लवानिया सहित अन्य विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

एमपी में मिशन इन्द्रधनुष शुरू

23 हजार दल करेंगे भ्रमण मध्यप्रदेश में 7 अप्रैल से मिशन इंद्रधनुष की शुरूआत हुई है। इसके साथ ही पूर्व से प्रदेश में माताओं और बच्चों के लिए मदर एण्ड चाइल्ड ट्रेकिंग सिस्टम के माध्यम से एएनएम को विशेष दायित्व दिया गया है। प्रति मंगलवार और शुक्रवार को ग्राम आरोग्य केन्द्र स्तर पर टीके लगाने का कार्य भी होता है। इसके बावजूद विभिन्न कारण से अनेक बच्चे टीकाकरण से छूट जाते हैं। इन छूटे हुए बच्चों की जिन्दगी की रक्षा का महत्वपूर्ण माध्यम मिशन इन्द्रधनुष है। प्रदेश में 23 हजार दल कार्य कर रहे हैं। अनेक ऐसे स्थान तक स्वास्थ्य कार्यकर्ता पहुँच रहे हैं, जहाँ आम तौर पर शासकीय सेवक नहीं पहुँचते। घर-घर जाकर छूटे हुए बच्चों और घुमक्कड़ और बन्जारा समुदाय तक टीकाकरण करने वाले दल पहुँच रहे हैं।उल्लेखनीय है कि विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर बच्चों का टीकाकरण कर उनका जीवन बचाने के मिशन इन्द्रधनुष की प्रदेशव्यापी शुरूआत विदिशा जिले से की गई थी। राज्य में विभिन्न जिलों में यह मिशन एक-एक सप्ताह के चरण में संचालित किया जा रहा है। इसमें दो वर्ष तक के बच्चों और गर्भवती महिलाओं को जानलेवा बीमारियों से बचाने के लिए टीके लगाए जा रहे हैं। दूसरा चरण सात मई, तीसरा चरण सात जून और चौथा चरण सात जुलाई से प्रारंभ होकर अगले सात दिन तक चलेगा। डिप्थीरिया, काली खाँसी, टेटनस, पोलियो, टीबी, खसरा और हेपेटाइटिस बी जैसे रोगों से जीवन को बचाने वाले इन टीकों के संबंध में भ्रांतियों को दूर करने का कार्य भी प्रदेश में अभियान के स्तर पर चलेगा। मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव इस मिशन के बेहतर क्रियान्वयन के लिए बैठकें लेकर निर्देश दे चुके हैं।प्रदेश में टीकाकरण के राष्ट्रीय औसत 65 प्रतिशत के मुकाबले में टीकाकरण का प्रतिशत कहीं ज्यादा 66.4 प्रतिशत है। अब इस मिशन में मध्य प्रदेश में 100 प्रतिशत लक्ष्य हासिल करने की रणनीति बनाई गई है। जन-प्रतिनिधियों के सहयोग से इस लक्ष्य को हासिल करने का प्रयास भी किया जा रहा है।मिशन इन्द्रधनुष के लिए भारत सरकार ने पूरे देश में जो 201 जिले चुने हैं इनमें मध्यप्रदेश के उच्च प्राथमिकता वाले 15 जिले- अलीराजपुर, अनूपपुर, छतरपुर, दमोह, झाबुआ, मंडला, पन्ना, रायसेन, सागर, रीवा, सतना, टीकमगढ़, शहडोल, उमरिया और विदिशा शामिल हैं। हालाँकि राज्य सरकार शेष जिलों में भी टीकाकरण पर जोर दे रही है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

पीथमपुर में  बनेगी जापानी  टाउनशिप

जापानी निवेशकों के सेमीनार में मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में औद्योगिक निवेश के लिये अनुकूल वातावरण है। जापानी निवेशक आएँ और निवेश करें। उनके लिये पीथमपुर में विश्वस्तरीय सुविधाओं से युक्त औद्योगिक टाउनशिप बनायी जाएगी। इसमें जापान की संस्कृति, भाषा, शिक्षा, स्वास्थ्य, रेस्टोरेंट, बाजार, मनोरंजन के साधन आदि मूलभूत सुविधाओं की व्यवस्था की जाएगी।मुख्यमंत्री इंदौर के पीथमपुर में जापानी निवेशकों के साथ जापानीज इंडस्ट्रियल टाउनशिप इन्वेस्टमेंट प्रमोशन सेमीनार को संबोधित कर रहे थे। उद्योग मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया, मुख्य सचिव अंटोनी डिसा, जापान से आए उद्योगपति सेजी तकाजी, नायशु नागोची और सी.पी.शर्मा मौजूद थे।मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत एवं जापान के सदियों पुराने मैत्रीपूर्ण संबंध हैं। व्यापारिक एवं सांस्कृतिक मित्रता भी है। इन संबंधों को और अधिक प्रगाढ़ और मजबूत बनाया जाये। प्रदेश में निवेश के लिये सभी संसाधन और सुविधाएँ मौजूद हैं। मध्यप्रदेश शांति का टापू है। यहाँ बिजली, सड़क, पानी सहित सभी आधारभूत सुविधाएँ हैं। शिक्षा की भी बेहतर व्यवस्थाएँ हैं। कुशल मानव संसाधन है। उद्योग मित्र नीति है। श्री चौहान ने कहा कि निवेशकों के लिये सिंगल विण्डो की नहीं बल्कि सिंगल टेबल की व्यवस्था की है। इससे एक ही जगह बैठक कर निवेशकों की समस्या का समाधान हो रहा है। उन्होंने कहा कि उद्योग स्थापना के लिये 25 हजार हेक्टेयर भूमि का लैण्ड बैंक बनाया गया है। निवेशक ऑनलाइन भूमि पसंद करें। तुरन्त आवंटन कर देंगे।मुख्यमंत्री ने कहा कि पीथमपुर में जापानी उद्यमियों के लिये एकीकृत औद्योगिक टाउनशिप में सभी सुविधाएँ दी जायेंगी। उनके लिये गोल्फ कोर्स भी बनाया जाएगा। उन्होंने जापानी निवेशकों को आगामी अक्टूबर में होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में पार्टनर बनने और अप्रैल-मई में होने वाले सिंहस्थ में आने का भी न्यौता दिया। उन्होंने जापानी भाषा में कविता पढ़कर अपने उदबोधन का समापन किया।उद्योग मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने कहा कि प्रदेश में पिछले कई वर्ष से राजनीतिक स्थिरता है। स्थिरता के कारण विकास को नयी दिशा मिली है। उन्होंने कहा कि भारत एवं जापान के बीच विश्वास के अनूठे रिश्ते हैं।मुख्य सचिव अंटोनी डिसा ने औद्योगिक नीति में उपलब्ध बिजली, सड़क, पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य सहित अन्य आधारभूत सुविधाओं की जानकारी दी। उन्होंने जापानी कम्पनियों को दी जाने वाली रियायतों एवं सुविधाओं की भी जानकारी दी।जापान के भारत में राजदूत श्री केनजी हीरामत्सु ने कहा कि जापान की कई कम्पनियों ने भारत के कई राज्य चेन्नई, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र आदि राज्य में निवेश किया है। आज मध्यप्रदेश भारत के सबसे मजबूत आर्थिक क्षेत्र के रूप में उभर रहा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने गत अक्टूबर में जापान की यात्रा की और वहाँ प्रधानमंत्री, वित्त मंत्री, उद्योग मंत्री से भेंट की और एमओयू हस्ताक्षर किये थे। यात्रा के दौरान कई उद्योगपति से मुलाकात कर उन्हें निवेश के लिये आमंत्रित किया था। इससे जापान के उद्योगपति मध्यप्रदेश में निवेश के लिये आकर्षित हुए हैं। जापानी राजदूत ने कहा मजबूत नेतृत्व से हमारे अंदर आत्म-विश्वास पैदा हो गया है। इंदौर के मेडिकल हास्पिटल और शिक्षा संस्थान का अवलोकन किया है। यहाँ ट्रान्सपोर्ट की सुविधा भी विश्व-स्तरीय है। जापानी कम्पनियों के लिये यहाँ अनुकूल परिस्थितियाँ हैं। उन्होंने कहा कि इंदौर और मध्यप्रदेश के अन्य शहरों में मिल-जुलकर एक-दूसरे के साथ कार्य करने के लिये तैयार हैं। उन्होंने कहा कि जापानी आपके प्रेम और स्वागत से अभिभूत हुए हैं। मुख्यमंत्री और यहाँ के लोगों ने उन्हें काफी प्रभावित किया है। उन्होंने कहा कि ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में इंदौर आयेंगे और कई कम्पनियाँ इसमें भाग लेंगी।पीथमपुर में भारत शासन के उद्योग मंत्रालय द्वारा विकसित किए जा रहे नेशनल ऑटो टेस्टिंग ट्रेक्स (नेट्रेक्स) के समीप लगभग 450 हेक्टेयर भूमि पर एक अत्याधुनिक एकीकृत इण्डस्ट्रियल टाऊनशिप ए.के.व्ही.एन., इन्दौर द्वारा विकसित की जा रही है ।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

धान किसानों को नुकसान नहीं होने देगी सरकार

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने धान उत्पादक किसानों के हित में महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए धान खरीदी पर कर दायित्व की सीमा 10 करोड़ से बढ़ाकर 50 करोड़ कर दिया है। उन्होंने तत्काल अधिसूचना जारी करने के निर्देश दिये। इससे ज्यादा से ज्यादा व्यवसायी धान खरीदी प्रक्रिया में भाग लेंगे और किसानों को उनकी उपज की सही कीमत मिलेगी।धान खरीदी के सम्बन्ध में मंत्रालय में धान व्यापारियों के साथ उच्च-स्तरीय बैठक को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को किसी प्रकार का नुकसान नहीं होने दिया जायेगा। उन्होंने व्यापारियों से सहयोग देने का आग्रह करते हुए कहा किसानों के कल्याण के लिये सरकार हर कदम उठाने को तैयार है।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि निजी व्यापारिक हितों के चलते मध्यप्रदेश की धान को बासमती का दर्जा मिलने में जो बाधाएँ थीं, वे अब दूर हो जायेंगी। प्रदेश के धान को बासमती का दर्जा दिलाने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी से हस्तक्षेप करने का भी आग्रह किया गया है। व्यापारियों ने मुख्यमंत्री के विचारों का सम्मान करते हुए धान खरीदी में हर प्रकार से सहयोग का आश्वासन दिया।मुख्यमंत्री ने सभी किसानों को खरीदी दर के संबंध में जानकारी देने की व्यवस्था करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि मंडियों की जिम्मेदारी है कि वे किसानों की धान की खरीदी करवायें और इसके लिये पूरी व्यवस्था रखें।बैठक में कृषि उत्पादन आयुक्त आर.के. स्वाई, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर मनोज श्रीवास्तव, आयुक्त मंडी बोर्ड अरूण पांडे एवं मंडी अधिकारी उपस्थित थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

इटली-जर्मनी से लौटे किसान मिले शिवराज से

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से विधानसभा में मुख्यमंत्री कृषक विदेश अध्ययन यात्रा के जरिये इटली और जर्मनी का भ्रमण कर लौटे प्रदेश के किसानों के समूह ने मुलाकात की। मुख्यमंत्री श्री चौहान को किसानों ने अपनी अध्ययन यात्रा के अनुभव बताये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह समूह अपने अनुभव जिलों के किसानों से बाँटे तथा उन्हें आधुनिक खेती के लिये प्रेरित करे।मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसान विदेश यात्रा के दौरान सीखी गई आधुनिक तकनीकों का क्रियान्वयन खेती में करें। राज्य सरकार खेती की नई तकनीकों को प्रोत्साहित कर रही है। किसानों ने बताया कि इटली और जर्मनी में सभी कृषक खेती में मशीनों के उपयोग के साथ मार्केटिंग भी स्वयं करते हैं। खेती में सौर ऊर्जा का भी बड़ा उपयोग किया जाता है। अध्ययन यात्रा पर गये किसानों ने सहकारिता और डेयरी फार्मिंग का अध्ययन भी किया। मुलाकात के दौरान प्रमुख सचिव कृषि डॉ. राजेश राजौरा भी उपस्थित थे।उल्लेखनीय है कि प्रदेश के विभिन्न जिलों के चयनित बीस किसान के इस दल ने जर्मनी और इटली का गत 25 नवम्बर से 6 दिसम्बर तक भ्रमण किया। किसानों ने जर्मनी और इटली के उन्नत कृषकों से भेंट भी की। मुख्यमंत्री किसान विदेश अध्ययन यात्रा योजना में प्रदेश के किसान खेती, पशुपालन तथा कृषि से जुड़े व्यवसायों की उच्च तकनीक देखने-समझने के लिये विदेश भेजे जाते हैं।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

गौर ने कहा ,फोन जरूर उठाएं

गृह एवं जेल मंत्री बाबूलाल गौर ने पानी एवं बिजली आदि मूलभूत जरूरतों से जुड़े मैदानी अमले से कहा कि नागरिक जब किसी समस्या के संबंध में फोन करें तो समाधानकारक जवाब देना उनकी जिम्मेदारी है। उन्होंने खेजड़ा ग्राम के नागरिकों द्वारा बिजली विभाग के संबंधित कर्मचारी द्वारा फोन नहीं उठाने की जानकारी देने पर संबंधित को हिदायत दी कि आइंदा ऐसा नहीं हो। श्री गौर भोपाल के वार्ड 67 की बस्तियों का भ्रमण कर रहे थे।श्री गौर ने खेजड़ा और मालीपुरा ग्रामों के बीच रेलवे लाइन से होकर जाने वाले रास्ते पर ऐसा वैकल्पिक मार्ग बनाने के लिए रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा की बात कही जिसे ब्रिज के स्थान पर उपयोग किया जा सके। खेजड़ा से छात्र-छात्राएँ मालीपुरा स्कूल जाते हैं। वर्षाकाल में उन्हें दिक्कत होती है। श्री गौर ने कहा कि इसके लिए वह रेल मंत्री से भी अनुरोध करेंगे।श्री गौर ने खेजड़ा और शबरी नगर में 8-8 लाख लागत की दो सड़क और कैलाश नगर में 15 लाख की नाली निर्माण का भूमि-पूजन किया। आशा जैन, लीला किशन माली, सुश्री तुलसा वर्मा, राजू राठौर, राजू लोधी, सुरेश यादव, राजू साहू आदि मौजूद थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

सड़कों के लिए भू-अर्जन समय-सीमा में  करें

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राष्ट्रीय राजमार्ग अभिकरण में स्वीकृत परियोजनाओं में भू-अर्जन तथा मुआवजा वितरण का कार्य समय-सीमा में पूरा करें। इसकी लगातार मॉनीटरिंग की जाये। मुख्यमंत्री चौहान ने भोपाल में राष्ट्रीय राजमार्ग अभिकरण के कार्यों की प्रगति की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में लोक निर्माण मंत्री श्री सरताज सिंह और मुख्य सचिव श्री अंटोनी डि सा भी उपस्थित थे।मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सड़क परियोजनाओं की कार्यवार समीक्षा की। उन्होंने कार्यों को समय-सीमा में पूर्ण करने और गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिये। इन सड़कों की मरम्मत का कार्य प्राथमिकता से करें। पर्यटकों की दृष्टि से झाँसी से खजुराहो पहुँचने के लिये बमेठा-खजुराहो मार्ग के फोर लेन का कार्य प्राथमिकता से करें। वैकल्पिक मार्ग के रूप में राज्य सड़क विकास प्राधिकरण द्वारा झाँसी से पृथ्वीपुर-जतारा-टीकमगढ़ होकर खजुराहो मार्ग का निर्माण करवाया जा रहा है।बैठक में बताया गया कि राष्ट्रीय राजमार्ग अभिकरण के अंतर्गत प्रदेश में विभिन्न चरण में 2597 किलोमीटर सड़कों का कार्य चल रहा है। अब तक विभिन्न चरणों में 1460 किलोमीटर सड़कों के कार्य पूरे हो चुके हैं। बैठक में मुख्यमंत्री के सचिव श्री विवेक अग्रवाल, मुख्यमंत्री के सचिव हरिरंजन राव, सचिव ऊर्जा आई.पी.सी. केशरी सहित लोक निर्माण विभाग और राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के कार्यकारी उपस्थित थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

सरकार जमीन लेगी तो विक्रेता को मिलेगी दोगुनी राशि

मंत्रि-परिषद् के निर्णय एमपी के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता मेंसंपन्न मंत्रि-परिषद् की बैठक में सार्वजनिक हित की परियोजनाओं के लिये आवश्यक होने पर निजी भूमिधारकों की भूमि आपसी सहमति से क्रय की जायेगी। इसके लिये मंत्रि-परिषद् ने नीति का अनुमोदन किया।नीति के अनुसार राज्य शासन के विभागों और उपक्रमों की अधोसंरचना और विकास परियोजनाओं के लिये भूमि की आवश्यकता होने पर सबसे पहले कलेक्टर उपलब्ध शासकीय भूमि में से उपयुक्त भूमि प्रशासकीय विभाग को नियमानुसार हस्तांतरित करेंगे। उपयुक्त शासकीय भूमि उपलब्ध न होने पर प्रशासकीय विभाग/उपक्रम के आवेदन पर परियोजना अथवा उसके अंशभाग के लिये निजी भूमिधारकों से आपसी सहमति के आधार पर न्यूनतम आवश्यक भूमि क्रय की जा सकेगी। भूमिधारक की निजी भूमि क्रय किये जाने के दिनांक को कलेक्टर द्वारा जारी की गई गाइडलाइन की तत्समय प्रभावशाली दर के अनुसार संगणित भूमि के मूल्य और भूमि पर स्थित स्थावर परिसम्पत्तियों के मूल्य के बराबर राशि प्रतिफल के रूप में देकर क्रय की जायेगी। उपरोक्त के अलावा प्रतिफल के समतुल्य राशि विक्रेता को एकमुश्त पुनर्वास अनुदान के रूप में दी जायेगी। इस प्रकार विक्रेता को निजी भूमि और उस पर स्थित स्थावर परिसम्पत्तियों के लिए दोगुनी राशि प्राप्त होगी।विभाग/उपक्रम की परियोजना के लिये क्रय की जाने वाली भूमि उस पर स्थित स्थावर परिसम्पत्तियों के मूल्य और पुनर्वास अनुदान पर देय राशि का वहन संबंधित शासकीय विभाग/उपक्रम द्वारा किया जायेगा। नीति के अनुसार भूमि क्रय के बाद यदि परियोजना वापस ली जाती है या असफल हो जाती है और इसके परिणामस्वरूप भूमि की आवश्यकता नहीं रह जाती है, तो क्रय की गई भूमि संबंधित विभाग/उपक्रम द्वारा राजस्व विभाग को समर्पित कर दी जायेगी। समर्पित भूमि राजस्व विभाग भविष्य में किसी अन्य शासकीय प्रयोजन अथवा विकास परियोजना के लिये आवंटित कर सकेगा।शासन द्वारा कृषि के लिये पट्टे पर दी गई शासकीय भूमि की किसी परियोजना के लिये आवश्यकता होने पर कलेक्टर इस नीति के अंतर्गत पट्टे की नितांत आवश्यकता का परीक्षण करेंगे। वे स्वत्व की भाँति मूल्य तथा अनुदान की राशि की गणना कर पट्टेदार को उसके द्वारा स्वेच्छा से पट्टा समर्पित करने पर समतुल्य राशि अनुदान के रूप में स्वीकृत कर सकेंगे।सौर ऊर्जा रूफटॉप परियोजनामंत्रि-परिषद् ने प्रदेश में सौर ऊर्जा को और अधिक बढ़ावा देने के मकसद से मध्यप्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी द्वारा पायलट प्रोजेक्ट के रूप में 5 मेगावॉट क्षमता की ग्रिड संयोजित सौर ऊर्जा रूफटॉप परियोजना इंदौर, भोपाल और जबलपुर में शुरू किये जाने का निर्णय लिया। परियोजना के लिये विकासक का चयन प्रतिस्पर्धात्मक निविदा के आधार पर किया जायेगा। परियोजना की स्थापना के लिये राज्य शासन और अन्य शासकीय उपक्रमों के भवनों को चिन्हित कर उनकी छतें विकासक को नि:शुल्क लीज पर दी जायेंगी। परियोजना की स्थापना से प्रदेश में नवकरणीय ऊर्जा स्त्रोतों से विद्युत की उपलब्धता बढ़ेगी।अधिकार प्रत्यायोजनप्रदेश में प्राप्त निवेश प्रस्तावों के तेजी से क्रियान्वयन के लिये सही मायने में सिंगल विंडो उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से मंत्रि-परिषद् ने नगरीय विकास एवं पर्यावरण के अधिकारों तथा सेवाओं का प्रत्यायोजन उद्योग और रोजगार विभाग की अधीनस्थ एजेंसियों को करने का निर्णय लिया। इससे निवेश प्रस्तावों के लिये आवश्यक वैधानिक अनुमतियाँ और सम्मतियाँ एक ही जगह पर मिल सकेंगी। इन सुविधाओं में भवन निर्माण की अनुमति, औद्योगिक परियोजना के लिये चयनित भूमि के परिप्रेक्ष्य में विकास अनुज्ञा एवं पर्यावरण संबंधी स्वीकृति शामिल हैं। इससे ईज ऑफ डूइंग बिजनेस यानि कारोबार में सुगमता बढ़ सकेगी।रक्षा संयंत्र उत्पाद नीतिमंत्रि-परिषद् ने राज्य सरकार द्वारा तैयार की गई रक्षा संयंत्र उत्पाद निवेश नीति का अनुमोदन किया। इसमें ग्वालियर को भी शामिल करने का फैसला किया गया। उल्लेखनीय है कि कटनी, इटारसी और जबलपुर में स्थित रक्षा उत्पाद निर्माता सरकारी क्षेत्र के सार्वजनिक कम्पनी के संयुक्त उपक्रम/सहायक/विनिर्माण इकाइयों की स्थापना की प्रबल संभावनाओं को देखते हुए इस क्षेत्र को प्रोत्साहन देने के लिये 500 करोड़ या अधिक निवेश करने वाली रक्षा निर्माण उत्पाद इकाइयों को सुविधा देने के लिये यह नीति बनाई गई है।नीति में इकाइयों को 50 एकड़ तक शासकीय अविकसित भूमि उपलब्ध करवायी जायेगी। बंद/बीमार इकाइयों का क्रय कर रक्षा उत्पाद निर्माण इकाइयाँ स्थापित करने पर स्टाम्प ड्यूटी की प्रतिपूर्ति की जायेगी। इकाई विशेष के लिये पृथक एस्कार्ट ऑफिसर की सुविधा दी जायेगी। अविकसित भूमि पर मूलभूत अधोसंरचना पर अनुदान दिया जायेगा। रक्षा उत्पादन क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी पूँजी निवेश को आकर्षित करने के लिये न्यूनतम 500 करोड़ स्थाई पूँजी निवेश करने वाली रक्षा उत्पाद परियोजनाओं को विशेष पेकेज स्वीकृत किया जायेगा। आयतित सामग्री के बंदरगाह से उद्योग स्थल पर परिवहन के आय-व्यय पर नियम अनुसार अनुदान दिया जायेगा।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

प्रदेश को समृद्ध बनाने में सर्वश्रेष्ठ योगदान दें :शिवराज

परमाणु वैज्ञानिक डॉ. काकोदकर मध्यप्रदेश गौरव सम्मान से विभूषित मध्यप्रदेश स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित भव्य एवं गरिमामय समारोह में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बड़वानी में जन्मे मध्यप्रदेश के माटी पुत्र विश्व प्रसिद्ध परमाणु वैज्ञानिक डॉ. अनिल काकोदकर को उनकी अभूतपूर्व सेवाओं, उपलब्धियों, अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर मध्यप्रदेश का गौरव बढ़ाने के लिये मध्यप्रदेश गौरव सम्मान से अंलकृत किया। मुख्यमंत्री ने राज्य में उत्कृष्ट कार्यों के लिये अधिकारी-कर्मचारियों को भी मुख्यमंत्री उत्कृष्टता पुरस्कार से सम्मानित किया।स्थापना दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने उत्साह से भरपूर संबोधन में नागरिकों का आव्हान किया कि वे अपने नागरिक कर्त्तव्यों का पालन करते हुए मध्यप्रदेश को शक्तिशाली और समृद्ध प्रदेश बनाने में अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान दें। परिश्रम की पराकाष्ठा तथा प्रयत्नों की परिसीमा के जरिये मध्यप्रदेश को देश का ही नहीं विश्व का सर्वश्रेष्ठ राज्य बनायें।वर्ष 2015 पर्यटन वर्ष के रूप में मनेगाश्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश को हर क्षेत्र में आगे बढ़ाना है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में पर्यटन की असीम संभावनाओं को देखते हुए और पर्यटन के माध्यम से रोजगार निर्माण करने के लिये वर्ष 2015 को मध्यप्रदेश पर्यटन वर्ष के रूप में मनाया जायेगा। इस दौरान पूरे विश्व का ध्यान प्रदेश के पर्यटन की ओर आकृष्ट किया जायेगा।श्री चौहान ने कहा कि कभी पिछड़ा कहलाने वाला मध्यप्रदेश अब तेजी से आगे बढ़ रहा है। निवेशकों के लिये आदर्श राज्य बन गया है। आज प्रदेश की आर्थिक वृद्धि दर सबसे ज्यादा 11.08 प्रतिशत है। कृषि विकास में देश सर्वाधिक 24.99 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि कई महत्वपूर्ण क्षेत्रों जैसे सोयाबीन उत्पादन, पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप से विकास का काम करने, जैविक खेती, दलहन उत्पादन, किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज पर कर्ज देने, देश में सबसे बड़े सोलर संयत्र लगाने में मध्यप्रदेश देश में सबसे आगे है।मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश की प्रगति पर आज हर नागरिक को गर्व होता है। आज प्रदेश दिल्ली को भी बिजली देने में सक्षम है। बिजली, पानी, सड़क के मामले में देश में प्रदेश का नाम है।श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री के 'मेक इन इंडिया' की सोच से प्रेरित होकर 'मेक इन मध्यप्रदेश' का आव्हान किया है। उन्होंने निवेशकों और निर्माण उद्योग का आव्हान किया कि वे मध्यप्रदेश आयें और यहाँ निर्माण करें। प्रदेश में हर प्रकार की जरूरी अधोसंरचनात्मक व्यवस्था और सुविधाएँ उपलब्ध हैं।हाल ही में संपन्न ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के संदर्भ में कहा कि मध्यप्रदेश में निवेश के 6.89 हजार करोड़ के निवेश प्रस्ताव मिले हैं। इन प्रस्तावों के क्रियान्वयन से प्रदेश में 17 लाख युवा को नौकरी मिलेंगीमुख्यमंत्री चौहान ने युवाओं का आव्हान किया कि वे आगे आयें और अपना खुद का उद्योग लगायें। अपनी स्वयं की कंपनी बनायें। रोजगार मांगने वाले नहीं रोजगार देने वाले बनें। इसमें राज्य सरकार पूरा सहयोग करेगी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना में प्रतिभाशाली युवा उद्यमियों को बैंक लोन सहित मार्केटिंग, ब्रांडिंग, तकनीकी सहयोग और मार्गदर्शन देने जैसी अन्य सुविधाएँ भी दी जायेंगी।उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश के मूल निवासी जो विदेशों में रह रहे हैं, ऐसे प्रतिभाशाली युवाओं और नागरिकों का टेलेंट पूल बनाकर प्रदेश के विकास में उनका सहयोग लिया जायेगा। युवाओं को राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में सफलता दिलाने के लिये नि:शुल्क कोचिंग की व्यवस्था की जायेगी। उन्होंने बताया कि श्रमिक समुदाय के प्रतिभाशाली बच्चों के लिये विशेष स्कूल की स्थापना की जा रही है।मुख्यमंत्री उत्कृष्टता पुरस्कारपाँच लाख रुपये का राज्य स्तरीय शासकीय कार्यालय/संस्था का पुरस्कार संचालक, उत्थान परियोजना, संचालनालय नगरीय प्रशासन एवं विकास, भोपाल को दिया गया।राज्य स्तरीय व्यक्तिगत पुरस्कार में एक लाख रुपये राशि के प्रथम पुरस्कार से डॉ. साकेत व्यास, जिला लोक अभियोजन अधिकारी विशेष लोक स्थापना, लोकायुक्त कार्यालय, इंदौर, रुपए 75000 के द्वितीय पुरस्कार से श्री अनिल गौड़ उप संचालक, नगरीय प्रशासन, भोपाल और 50000 रुपये के तृतीय पुरस्कार से डॉ. अशोक भार्गव, कलेक्टर, जिला शहडोल को पुरस्कृत किया गया। पुरस्कार राशि के साथ प्रशस्ति-पत्र भी प्रदान किये गये।राज्य स्तरीय अधिकारी एवं कर्मचारी के समूह पुरस्कार कुल राशि तीन लाख रुपए जिन अधिकारी में समान रूप से वितरित किये गये, उनमें श्री एस.एन. रूपला कलेक्टर रीवा, डॉ. रामप्रकाश जोशी, वरिष्ठ वैज्ञानिक, पादक प्रजनन एवं अनुवांशिकी, शासकीय कृषि महाविद्यालय, रीवा, श्री रमेन्द्र कुमार सिंह सहायक मिट्टी परीक्षण अधिकारी किसान-कल्याण तथा कृषि विकास रीवा, श्री शंभू पटेल कृषि विकास अधिकारी, किसान-कल्याण तथा कृषि विकास, रीवा, श्री निशांत वरवड़े कलेक्टर भोपाल, डॉ. अरूण सिंह, सलाहकार, भारत सरकार, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, डॉ. एस. जसानी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, होशंगाबाद, डॉ. विनय दुबे, नोडल आफीसर एवं सिविल सर्जन होशंगाबाद, डॉ. नीतेश बैंस एसएनसीयू, होशंगाबाद, डॉ. अमिता चंद स्टेट प्रोग्राम आफीसर, नीपि और मनोज द्विवेदी डीपीएम होशंगाबाद हैं। इन सभी को प्रशस्ति-पत्र भी दिये गये।जिला स्तरीय 25 हजार रुपये के व्यक्तिगत प्रथम पुरस्कार डॉ