Since: 23-09-2009

  Latest News :
मणिपुर में 3.5 तीव्रता का भूकंप.   दार्जिलिंग में लिकुवीर के पास एनएच-10 बंद.   जम्मू-कश्मीर से आतंकवाद के सफाये के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी सरकार: केन्द्रीय गृह मंत्री शाह .   बाबा के जयकारों से गूंज उठा कैंची धाम.   नार्काे-आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़.   गाजियाबाद के लोनी स्थित पॉलिथीन बनाने की फैक्टरी में भीषण आग.   पिता परिवार की नींव, हमारी बुनियाद हैं .   जल गंगा संवर्धन अभियान को मिला अपार जनसहयोग : मुख्यमंत्री डॉ यादव.   दाऊदी बोहरा समाज ने मनाया ईद का पर्व, मस्जिदों में हुई विशेष नमाज.   एक साथ कॉम्बिंग पर निकले 15 हजार से अधिक पुलिसकर्मी.   कांग्रेस आउट सोर्स प्रकोष्ट का सरकार के खिलाफ हल्लाबोल आंदोलन.   ऐतिहासिक भोजशाला में 85वें दिन भी जारी रहा एएसआई का सर्वे.   भीम रेजीमेंट के रायपुर संभाग का अध्यक्ष जीवराखन बांधे गिरफ्तार.   कांग्रेस व भाजपा ने सतनामियों को सिर्फ प्रताड़ित किया : अमित जोगी.   संघर्ष के दिनों की यादें साथ लेकर मुख्यमंत्री से मिलने आए जशपुर के अनेर सिंह.   नक्सल मुठभेड़ में घायल जवान ने कहा ठीक होते ही और मारूंगा.   मुख्यमंत्री साय ने तीसरे दिन भी ली विभिन्न विभागों की समीक्षा बैठक.   बलौदाबाजार हिंसा पर जस्टिस गौतम भादुड़ी ने लिया स्वतः संज्ञान.  
ज्योतिष का ज्ञान पूर्वजों की साधना और अनुसंधान की सौगात
bhopal, Knowledge of astrology , practice and research.

भोपाल। केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय भोपाल परिसर में 9 एवं 10 सितंबर 2023 को प्रथम महर्षि पाराशर अंतर्राष्ट्रीय ज्योतिष सम्मेलन संपन्न हुआ। सम्मेलन का उदघाटन महामहिम राज्यपाल मंगू भाई पटेल द्वारा किया गया। भोपाल की प्रख्यात अंक ज्योतिषी श्वेता विजयवर्गीय दवारा अंक ज्योतिष का अध्यात्म से संबंध विषय पर वक्त्व्य प्रस्तुत किया गया। इस सम्मेलन की आयोजक संस्था एस्ट्रोवर्स के अध्यक्ष ऋषि शुक्ला (पूर्व डीजीपी ) एवम अनुराधा शंकर सिंहजी, ए डी जी द्वारा उन्हें ज्योतिष भूषण के अलंकार से सम्मानित किया गया। सम्मेलन में देश-विदेश से लगभग 150 ज्योतिषियों ने भाग लिया गया।

 

राज्यपाल पटेल सम्मेलन के पहले दिन केन्द्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय के ऑडिटोरियम में प्रथम महर्षि पाराशर अंतरराष्ट्रीय ज्योतिष सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि सत्यवान-सावित्री के परंपरागत दृष्टांत का उल्लेख करते हुए कहा कि परिश्रम से प्रारब्ध बनता है। सत्यवान की मृत्यु की नियति को उनकी पत्नी ने अपनी बुद्धिमत्ता और प्रखरता से पति की प्राण रक्षा के साथ ही पूरे परिवार के सुखी जीवन में बदल लिया था। उन्होंने कहा कि धैर्य के साथ नीति के पथ पर चलते हुए कल्याणकारी कार्य करते रहने में जीवन की सार्थकता है।

 

उन्होंने एक अन्य दृष्टांत के माध्यम से बताया कि ज्योतिष फल की इच्छा के बिना सत्कर्म करने और आत्मसंतोष का मार्ग प्रशस्त करता है। सम्मेलन के दौरान ज्योतिष के द्वारा सांस्कृतिक मूल्यों के संवर्धन पर विचार किया जाना चाहिए। रोजगार और व्यवसाय के विकल्प के रूप में ज्योतिष को उसकी वैज्ञानिकता और रचनात्मकता के साथ प्रस्तुत किया जाना चाहिए।

 

उन्होंने बताया कि ज्योतिष में 12 राशि, 9 ग्रह और 27 नक्षत्र होते हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे तो उन्होंने गुजरात विधानसभा के सामने पुनीत वन, अंबाजी में मांगलिक वनों की आयोजना ज्योतिष के आधार पर की थी। राज्यपाल ने वन मंत्री के रूप में परियोजना से जुड़े प्रसंगों के उल्लेख में बताया कि पुनीत वन में बेल पत्र के पौधों के समूह से शिवलिंग की रचना की गई है। मांगलिक वन में ऊँ का आकार वृक्षों के द्वारा बनाया गया है।

 

उन्होंने सम्मेलन आयोजन की सराहना करते हुए भारतीय ज्ञान परंपराओं को वैश्विकता प्रदान करने की सराहनीय पहल बताया। उन्होंने उम्मीद की कि सम्मेलन का चितंन भारतीय सांस्कृतिक परंपराओं, नैतिक जीवन मूल्यों और प्राचीन भारतीय ज्ञान की वैज्ञानिकता से युवाओं को प्रेरणा लेने के लिए प्रेरित करेगा।

 

राज्यपाल का कार्यक्रम के प्रारम्भ में पुष्प गुच्छ से स्वागत, शाल श्रीफल से अभिनंदन किया गया। श्री पटेल ने दीप प्रज्जवलन कर, सम्मेलन का उद्घाटन किया। कार्यक्रम में राज्यपाल को जीवन वैभव ग्रुप की स्मारिका विशेषांक की प्रथम प्रति, स्मृति चिन्ह और प्रतीक चिन्ह भेंट किए गए।

 

उद्घाटन सत्र में ऑनलाइन संबोधन में अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ वैदिक स्टडीज के डेविड ट्राले ने ज्योतिष के महत्वपूर्ण आयामों पर प्रकाश डाला। ज्योतिष को विज्ञान के साथ ही कला बताते हुए वर्तमान समय की सामाजिक, राजनैतिक, तकनीकी, आध्यात्मिक स्थितियों और संवाद के परिदृश्य में ज्योतिष के नवाकार और नवाख्यान की जरूरत बताई। तकनीकी सुविधाओं और पर्यावरणीय परिवर्तनों के समावेशन की सम्भावनाओं पर विचार के लिए कहा है।

 

सम्मेलन की रूप-रेखा पर पूर्व पुलिस महानिदेशक ऋषि कुमार शुक्ला ने प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि ज्योतिष सनातन परंपरा का अंग है। दो दिवसीय सम्मेलन के छह सत्रों में ज्योतिष के विभिन्न विषयों पर ज्योतिष की महत्ता और वैश्विक परिवर्तन एवं चुनौतियों के शास्त्रीय समाधान की प्रासंगिकता पर विचार किया जाएगा। सम्मेलन 150 विद्वान और युवा प्रतिभागी शामिल है।

 

स्वागत उद्बोधन केन्द्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डा. रमाकांत पाण्डेय ने दिया। उन्होंने बताया कि केन्द्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय दिल्ली की बहु परिसर संस्था है। भोपाल परिसर उसी का अंग है। आभार प्रदर्शन जीवन वैभव ग्रुप के हेमचंद पाण्डेय ने किया।

 

 

MadhyaBharat 14 September 2023

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2024 MadhyaBharat News.