Since: 23-09-2009

 Latest News :
ईरानी यात्री जेट विमान में बम की धमकी के बाद भारतीय वायु सेना अलर्ट .   सरकार देशभर में 5जी प्रौद्योगिकी के लिए सौ प्रयोगशालाएं स्‍थापित करेगी.   स्‍वदेश में निर्मित हल्‍के लड़ाकू हेलीकॉप्‍टर औपचारिक रूप से भारतीय वायु सेना में शामिल.   घरेलू आवश्‍यकताओं को पूरा करने के लिए देश में अनाज का पर्याप्‍त भण्‍डार.   इंडोनेशिया में फुटबॉल मैच के दौरान भगदड़ में 174 लोगों की मौत.   राष्‍ट्रपति ने 2022 के स्‍वच्‍छ ग्रामीण सर्वेक्षण पुरस्‍कार प्रदान किये.   मध्यप्रदेश में हुक्का लाउंज बंद होंगे .   मध्यप्रदेश में हुक्का लाउंज बंद होंगे .   शराब बंदी को लेकर सजग सरकार .   1.91 लाख से अधिक प्रभावित कृषकों के खातों में 202.64 करोड़ रू.   बुरहानपुर को हर घर जल प्रमाणित जिला घोषित करने के लिए सम्मान.   मध्यप्रदेश बना देश का सबसे स्वच्छ राज्य, इंदौर छठवीं बार देश का स्वच्छतम शहर.   मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना से हो रहा मुफ्त इलाज.   राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल.   बिलासपुर- इंदौर विमान सेवा फ्लाइट को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया.   \'महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क योजना\' का शुभारंभ .   आईसीआईसीआई बैंक सामाजिक क्षेत्र में भी कर रहा है सराहनीय काम.   ‘गांधी, युवा और नये भारत की चुनौतियां’ विषय पर कार्यक्रम .  

देश की खबरें

  दिल्ली में सरकार ने विमान उतारने से मना किया ,विमान चीन की ओर बढ़ा    भारतीय हवाई क्षेत्र से जा रहे ईरानी यात्री जेट विमान में बम की धमकी के बाद भारतीय वायु सेना अलर्ट मोड  पर है। ईरान से आ रहे विमान ने दिल्ली में उतरने की अनुमति मांगी जिसे सरकार ने नामंजूर कर दिया।  इस विमान को दूसरी जगह उतरने की अनुमति दी गई।  लेकिन विमान के पायलट ने वहां जाने से मना कर दिया।  इसके साथ ही सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गई है। इस बीच लगातार विमान की निगरानी कर रही है। तेहरान से चीन के ग्वांगझू जा रहे महान एयर ने दिल्ली हवाई अड्डे के ATC से संपर्क किया।  दिल्ली में तत्काल लैंडिंग के लिए अनुमति मांगी। दिल्ली ATC ने विमान को जयपुर जाने का सुझाव दिया लेकिन विमान के पायलट ने मना कर भारतीय हवाई क्षेत्र छोड़ दिया। ईरान का विमान जब भारतीय हवाई क्षेत्र में था, तब विमान में बम की खबर मिलने से हड़कंप मच गया। भारत ने विमान को दिल्ली में उतरने नहीं दिया। बम की खबर मिलते ही भारतीय वायुसेना भी अलर्ट पर आ गई है। वायु सेना ने पंजाब और जोधपुर एयरबेस से उड़ान के पीछे दो सुखोई विमान लगाए। वायुसेना ने दो सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमानों को तैनात किया और उन्हें अपने पीछे रख लिया। ईरानी विमान ने दिल्ली एयरबेस पर उतरने की इजाजत मांगी गई थी, लेकिन अनुमति से इनकार कर दिया गया था। विमान की निगरानी के लिए उसके पीछे दो सुखोई विमान तैनात किए गए। हालांकि बाद में विमान में किसी तरह का कोई बम नहीं मिलने पर इसे चीन की ओर जाने दिया गया। बाद में सुरक्षा एजेंसियां ​​लगातार चीन की ओर जाने वाले रास्ते पर कड़ी नजर रही हैं।   

Madhya Bharat Madhya Bharat 3 October 2022

देश की खबरें

  गेंहू तथा चावल के मामले में निर्यात संबंधी विनियम लागू किये गये हैं   केन्‍द्र ने बल देकर कहा है कि घरेलू आवश्‍यकताओं को पूरा करने के लिए देश में अनाज का पर्याप्‍त भण्‍डार है। उपभोक्‍ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय ने बताया है कि वह गेंहू और चावल सहित आवश्‍यक वस्‍तुओं के मूल्‍य परिदृश्‍य पर नियमित रूप से नजर रख रहा है और जहां भी आवश्‍यकता होती है, सुधारात्‍मक उपाय किये जाते हैं। एक बयान में मंत्रालय ने बताया कि गेंहू और चावल के खुदरा और थोक मूल्‍यों में कमी आई है तथा गेंहू के आटे की कीमत पिछले सप्‍ताह के दौरान स्थिर रही। केन्‍द्र ने किसी भी तरह की मूल्‍य वृद्धि से बचने के लिए सक्रिय कदम उठाये हैं और गेंहू तथा चावल के मामले में निर्यात संबंधी विनियम लागू किये गये हैं। कीमतों पर काबू पाने और समाज के कमजोर वर्गों को किसी भी कठिनाई से बचाने के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्‍याण अन्‍न योजना तीन महीने के लिए आगे बढ़ा दी है। इससे आगामी त्‍यौहारों के मौसम के दौरान देश में गरीबों और जरूरतमंद लोगों को किसी तरह की कठिनाई नहीं होगी। 

Madhya Bharat Madhya Bharat 2 October 2022

मध्यप्रदेश की खबरें

    मध्य प्रदेश नशा मुक्ति अभियान की ओर अग्रसर  गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा सीएम शिवराज ने मध्यप्रदेश में हुक्का लाउंज बंद करने का निर्देश दिया है।  जिसका शत प्रतिशत पालन किया जायेगा।  मध्य प्रदेश में नशा मुक्ति अभियान की शुरुआत हो गई है।  सीएम शिवराज ने राजधानी भोपाल के लाल परेड ग्राउंड से नशा मुक्ति अभियान की शुरुआत की. इस दौरान सीएम शिवराज ने बड़ा ऐलान किया, अब मध्य प्रदेश में भी हुक्का लाउंज बंद होंगे. बताया जा रहा है कि नशा मुक्ति अभियान के तहत प्रदेश में हुक्का लाउंज पर सरकार सख्त कदम उठाएगी. बता दें कि इससे पहले छत्तीसगढ़ में हुक्का लाउंज बंद हो चुके हैं।  शिवराज ने कहा कि ''मध्य प्रदेश अब नशा मुक्ति की दिशा में बढ़ सकता है, इसलिए अब हुक्का लाउंज मध्य प्रदेश की धरती पर नहीं चलेंगे, जरूरत पड़ी तो बुलडोजर भी चलेगा, मप्र सरकार यह संकल्प लेती है कि जो लोग अवैध कारोबार करते है, उन पर चौतरफा प्रहार होगा. अब प्रदेश में हुक्का लाउंच भी नहीं रहेंगे.'' शिवराज ने कहा कि ''आज हम सब संकल्प लें नशा मुक्त मध्यप्रदेश बनाने का, मैं जानता हूं कि संकल्प बहुत बड़ा है, काम आसान नहीं है, लेकिन हम प्रयास करेंगे तो निश्चित तौर पर सफलता मिलना शुरू होगी, नशे के शिकार लोगों से घृणा नहीं करनी है, यह भी हमारे अपने हैं. इनको नशे से मुक्ति दिलाने के लिए भी सरकार प्रभावी प्रयास करेगी. हुक्का लाउंज जैसी चीज मध्यप्रदेश की धरती पर नहीं चलेंगे, आवश्यकता पड़ी तो बुलडोजर चलाकर इन्हें ध्वस्त कर दिया जायेगा.'' मुख्यमंत्री ने कहा कि ''बच्चे खेलकूद, पढ़ाई और योग जैसे कार्यों में व्यस्त रहेंगे, तो नशे की ओर उन्मुख नहीं होंगे, इसलिए हम प्रदेश में पढ़ाई के साथ-साथ खेलकूद एवं योग जैसे कार्यों को भी बढ़ायेंगे. हम सभी संकल्प लें कि मध्यप्रदेश को भी हम नशा मुक्ति में नंबर एक का राज्य बनाकर ही दम लेंगे, तो हम सब इसे नशा मुक्त प्रदेश बनाने में अवश्य सफल होंगे. उमा दीदी, आप प्रेरणा हैं. आपने इस अभियान को शुरू किया. आपने समाज को जगाने का संकल्प लिया. आज आपके भाई के रूप में मैं आपको आश्वस्त करना चाहता हूं कि हम सरकार की तरफ से समाज को नशा मुक्त बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे. हम जी जान लगा देंगे.''सीएम ने कहा कि ''मुझे कहते हुए गर्व है कि माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रेरणा और प्रदेश के नागरिकों के प्रयासों से मध्यप्रदेश को स्वच्छतम प्रदेश का सम्मान प्राप्त हुआ है. नशा एक बार शुरू होता है तो इंसान को बर्बाद कर देता है। सरकार का काम सड़क, पुल पुलिया, स्कूल, बांध, अस्पताल बनाना भी है लेकिन इंसान की जिंदगी बनाना और बचाना भी सरकार के कामों में से एक है. नशा करने से शरीर, मन, बुद्धि, परिवार किसी को लाभ नहीं होता है, तो इसको करने की क्या आवश्यकता है!. हर नशा ही बर्बादी की जड़ है, इसलिए इससे दूरी आवश्यक है.'' 

Madhya Bharat Madhya Bharat 3 October 2022

मध्यप्रदेश की खबरें

  सीएम ने राहत राशि सिंगल क्लिक के माध्यम से अंतरित की मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बाढ़ और अतिवर्षा से प्रभावित किसानों के नुकसान की भरपाई करते हुए राहत राशि का वितरण किया। सीएम शिवराज ने   1.91 लाख से अधिक प्रभावित कृषकों के खातों में 202.64 करोड़ रू की राहत राशि सिंगल क्लिक के माध्यम से अंतरित की। इस दौरान वे प्रभावित किसानों के साथ वर्चुअली जुड़े और उनसे संवाद किया। मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह ने  किसानों से कहा कि मैं हमेशा यही कहना रहा कि मध्यप्रदेश मेरा मंदिर है।  यहां रहने वाली जनता मेरी भगवान है और इस जनता का पुजारी शिवराज सिंह चौहान है। सभी सरकारी अधिकारी कर्मचारी जनता की सेवा के लिए ही हैं। हमने मानसून से पहले ही आपदा प्रबंधन एवं राहत की योजना बना ली थी। हमने पूरे प्रबंधन तंत्र को तैयारी करके चुस्त-दुरुस्त रहने के निर्देश दिए थे, इसलिए जब संकट आया तो शासन ने भी देर नहीं की। मैं हमारे जनप्रतिनिधियों को भी बधाई देना चाहूंगा कि जब संकट आया तो वह तत्काल पहुंच गए और तत्काल पहुंचकर उन्होंने राहत एवं बचाव कार्यों में भी मदद की। शिवराज ने  प्रभावित क्षेत्रों में शासकीय अमले द्वारा किए गए सर्वे के तौर-तरीकों पर भी संतुष्‍टि जताई और कहा कि सर्वे के विषय में पहले शिकायतें आती रहती थीं कि पटवारी ने गड़बड़ की। इसलिए हमने इस बार तय किया कि तीन विभागों की टीम रहेगी। मुझे खुशी है कि आप सभी किसान बंधुओं ने इस बार सर्वे पर पूर्णत: संतोष जताया है। एक संतोष इस बात का है कि 19 जिलों में अतिवृष्टि के कारण भारी दिक्कतें आईं लेकिन हमने कोशिश यह की कि किसी की जिंदगी ना जाए, जान ना जाए। जनता के साथ हर परिस्थिति में सरकार खड़ी है। भगवान ना करे कभी कोई संकट आए, लेकिन आ भी जाए तो उससे हम निपट लेंगे। आज बाढ़ और अतिवृष्टि प्रभावित 1.91 लाख से अधिक किसानों के खातों में 202.64 करोड़ से अधिक की राहत राशि अंतरित की गई है। इससे पूर्व हम पशु हानि,क्षतिग्रस्त मकान व घरेलू सामग्री समेत अन्य चीजों पर 43.87 करोड़ खर्च कर चुके हैं।

Madhya Bharat Madhya Bharat 3 October 2022

छतीसगढ़ की खबरें

न लंबी लाइन की चिंता न टेस्ट के लिए इंतजार    बेहतर और गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सुविधा का सभी को अधिकार है। लेकिन रोजी-मजदूरी करने वाले श्रमिकों को काम से समय नहीं मिल पाने की वजह से वे स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ नहीं ले पाते थे। छत्तीसगढ़ राज्य सरकार के द्वारा अस्पताल और गरीब तबके के लोगों के बीच की इसी खाई को पाटने के लिए मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना की शुरूआत की गई। जिसके तहत मोबाइल मेडिकल यूनिट से शहरी क्षेत्र के स्लम या झुग्गी बस्तियों में रहने वाले श्रमिकों और गरीब लोगों को निरूशुल्क इलाज मुहैया कराई जा रही है। इस योजना से रोजाना सुबह 8 से 3 बजे तक स्लम क्षेत्रों में मोबाइल मोडिकल यूनिट के द्वारा कैंप लगाया जाता है। जहां पर निरूशुल्क स्वास्थ्य परामर्श, इलाज और सभी तरह के प्राथमिक स्वास्थ्य जांच की सुविधाएं दी जाती है। इन मोबाइल मेडिकल यूनिट में लोगों की सुविधा के लिए एक डॉक्टर, लैब टैक्निशियन और नर्स की सुविधा होती है। यह सरकार की दूरदर्शिता ही परिणाम है कि आज गरीब वर्ग का हर व्यक्ति इस सुविधा का लाभ ले पा रहा है। सरकार की मंशा है कि स्वास्थ्य की सुविधाएं हर व्यक्ति की पहुंच तक हो और इन्हीं उद्देश्यों की पूर्ति के लिए नगरीय क्षेत्र के झुग्गी बस्तियों में स्वास्थ्य सुविधा का लाभ रहवासी ले रहे हैं। गुणवत्तापूर्ण इलाज पहुंचाने के लिए नगर पालिक निगम जगदलपुर में कुल 4 पंजीकृत मोबाइल मेडिकल यूनिट चल रहे हैं जहां सितंबर 2022 की स्थिति में अब तक कुल 2 हजार 135 शिविर लगाए जा चुके हैं, जिसके अंतर्गत कुल 1 लाख 24 हजार 194 मरीजों का इलाज हो चुका है। दवा वितरण की बात करें तो कुल 1 लाख 2 हजार 925 दवाएं वितरित की जा चुकी है। 24 हजार 333 मरीजों को टेस्ट का लाभ भी मिला है और ये आंकड़े निरंतर तेजी से बढ़ रहे हैं।    इसके अलावा नगर पंचायत बस्तर में 2 मोबाइल मेडिकल यूनिट चलाई जा रही है। आंकड़े बताते हैं कि सितंबर 2022 तक नगर पंचायत बस्तर में कुल 31 शिविर लगाए जा चुके हैं जिसमें कुल 1 हजार 524 मरीजों का इलाज, 1 हजार 392 दवाईयों का वितरण और 189 लैब टेस्ट का लाभ यहां के स्थानीय निवासियों को मिला है। इन मोबाइल मेडिकल यूनिट्स के माध्यम से आज हर गरीब तबके की पहुंच स्वास्थ्य सुविधाओं तक है, स्लम क्षेत्र में रहने वाली महिलाएं इसका सटिक उदाहरण हैं। महिलाओं को ए.एन.सी., पी.एन.सी. जांच की सुविधा निरूशुल्क मिल रही है। वहीं परिक्षण के दौरान गंभीर बीमारियों का पता चलने पर मरीज को उचित परामर्श के साथ उच्च स्वास्थ्य केंद्रों में रेफर भी किया जाता है। साथ ही इन मोबाइल मेडिकल यूनिट में बेहतर साफ-सफाई, पीने योग्य पानी, सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरा की भी सुविधाएं हैं। मोबाइल मेडिकल युनिट में  श्रम विभाग के द्वारा श्रमिकों का पंजीयन भी किया जाता है।    मिशन स्कूल पारा, जगदलपुर की रहने वाली बिंदा नाग सरकार को धन्यवाद देते हुए कहती हैं, कि सरकार की गाड़ी आती है, हमें निरू शुल्क दवाई और इलाज मिलता है। यहां पर शुगर, डेंगु और मलेरिया की जांच का फायदा मिल रहा है। छोटी-छोटी परेशानियों का भी इलाज डॉक्टर लोग कर देते हैं। हम अच्छे हैं, स्वस्थ्य हैं इसके लिए मैं सरकार का धन्यवाद करना चाहती हूं कि उन्होंने हमें यह सुविधा दी है।    पनारापारा निवासी अजय पाल सिंह बताते हैं कि पहले समय निकालकर अस्पताल जाना पड़ता था। फिर लंबी लाइन और इंतजार। अब तो ये मेडिकल यूनिट आती है यहां पर घर के पास, मैं अपना बीपी, शुगर टेस्ट करवाता हूं। कोई परेशानी होने पर दवाई भी लेता हूं। अच्छा है हमारा समय बच रहा है और इलाज भी घर के समीप मिल रहा है।

Madhya Bharat Madhya Bharat 3 October 2022

छतीसगढ़ की खबरें

 मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गांधी जयंती के अवसर पर किया शुभारंभ  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज गांधी जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ शासन की महत्वकांक्षी योजना 'महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क योजना' के शुभारंभ और विभिन्न जिलों में रूरल इंडस्ट्रियल पार्क के शिलान्यास कार्यक्रम में शामिल हो रहे हैं। मुख्यमंत्री बघेल ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री लाल बहादुर शास्त्री और छत्तीसगढ़ महतारी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आयोजित कार्यक्रम में गृहमंत्री  ताम्रध्वज साहू, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री रविंद्र चौबे, वनमंत्री  मोहम्मद अकबर, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिल भेंड़िया, संसदीय सचिव चंद्रदेव प्रसाद राय ,राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष महंत राजे रामसुंदर दास, राज्य नागरिक आपूर्ति निगम अध्यक्ष  राम गोपाल अग्रवाल,मुख्यमंत्री के सलाहकार  प्रदीप शर्मा उपस्थित हैं। राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों के चयनित गौठानों को आजीविका के केन्द्र के रूप में विकसित करने के लिए वहां महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रीयल पार्क बनाए जा रहे हैं। इन पार्कों को ग्रामीण उत्पादन एवं सेवा केन्द्र के रूप में विकसित किया जा रहा है। छत्तीसगढ़ के प्रत्येक विकासखण्ड में दो रूरल इंडस्ट्रियल पार्क बनेंगे। चालू वित्तीय वर्ष के बजट में महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रीयल पार्क के लिए 600 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। प्रदेश में गौठनों को रूरल इंडस्ट्रियल पार्क के रूप में विकसित किया जा रहा है। प्रथम चरण में 300 रूरल इंडस्ट्रियल पार्क विकसित किए जा रहे हैं। गौठनों में वर्मीकम्पोस्ट, मुर्गी पालन, बकरी पालन, कृषि उत्पादों और वनोपजों के प्रसंस्करण के कार्य किया जा रहे हैं। इन गतिविधियों में बड़ी संख्या में स्वसहायता समूह की महिलाओं और युवाओं को रोजगार और आय के अवसर मिल रहे हैं। प्रथम चरण में प्रत्येक विकासखण्ड में 2 रीपा स्थापित किये जायेंगे।

Madhya Bharat Madhya Bharat 2 October 2022

Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212
Advertisement
x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2022 MadhyaBharat News.