Since: 23-09-2009

  Latest News :
मणिपुर में 3.5 तीव्रता का भूकंप.   दार्जिलिंग में लिकुवीर के पास एनएच-10 बंद.   जम्मू-कश्मीर से आतंकवाद के सफाये के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी सरकार: केन्द्रीय गृह मंत्री शाह .   बाबा के जयकारों से गूंज उठा कैंची धाम.   नार्काे-आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़.   गाजियाबाद के लोनी स्थित पॉलिथीन बनाने की फैक्टरी में भीषण आग.   पिता परिवार की नींव, हमारी बुनियाद हैं .   जल गंगा संवर्धन अभियान को मिला अपार जनसहयोग : मुख्यमंत्री डॉ यादव.   दाऊदी बोहरा समाज ने मनाया ईद का पर्व, मस्जिदों में हुई विशेष नमाज.   एक साथ कॉम्बिंग पर निकले 15 हजार से अधिक पुलिसकर्मी.   कांग्रेस आउट सोर्स प्रकोष्ट का सरकार के खिलाफ हल्लाबोल आंदोलन.   ऐतिहासिक भोजशाला में 85वें दिन भी जारी रहा एएसआई का सर्वे.   भीम रेजीमेंट के रायपुर संभाग का अध्यक्ष जीवराखन बांधे गिरफ्तार.   कांग्रेस व भाजपा ने सतनामियों को सिर्फ प्रताड़ित किया : अमित जोगी.   संघर्ष के दिनों की यादें साथ लेकर मुख्यमंत्री से मिलने आए जशपुर के अनेर सिंह.   नक्सल मुठभेड़ में घायल जवान ने कहा ठीक होते ही और मारूंगा.   मुख्यमंत्री साय ने तीसरे दिन भी ली विभिन्न विभागों की समीक्षा बैठक.   बलौदाबाजार हिंसा पर जस्टिस गौतम भादुड़ी ने लिया स्वतः संज्ञान.  
चंद्रमा का भी होता है नामकरण, बुद्ध पूर्णिमा का चांद ‘फ्लावर मून’ कहलाएगा
bhopal,  moon, flower moon

भोपाल। वैशाख माह की पूर्णिमा 23 मई को ‘गुरु पूर्णिमा’ के रूप में मनाई जाएगी। इस अवसर पर आसमान में दिखने वाला चंद्रमा ‘फ्लावर मून’ कहलाएगा। ऐसे में खगोलविज्ञान में रुचि रखने वाले लोगों के मन में यह जिज्ञासा होगी है कि आखिर क्यों गुरु पूर्णिमा का चांद फ्लावर मून होगा।

नेशनल अवार्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने बुधवार को बताया कि हिन्दू मान्यता में चंद्रमा जिस नक्षत्र में होता है, उस आधार पर किसी बच्चे का नामकरण किया जाता है। इसी तरह चंद्रमा का भी नामकरण होता है। बुद्ध पूर्णिमा के चंद्रमा को ‘फ्लावर मून’ का नाम दिया गया है। कुछ भागों में इसे प्लांटिंग मून और मिल्क मून भी कहा जा रहा है।

उन्होंने बताया कि गुरुवार शाम लगभग 7 बजे के आसपास चंद्रमा फ्लावर मून की स्थिति में पूर्व दिशा में उदित होता दिखेगा और रातभर आकाश में रहकर सुबह सबेरे पश्चिम दिशा में अस्त होगा। सारिका ने बताया कि पश्चिमी देशों में मई में कई जंगली फूल खिलते हैं। संभवत: रंग-बिरंगे फूलों ने वहां के निवासियों को चंद्रमा के इस नामकरण के लिए प्रेरित किया है।

उन्होंने बताया कि आकाश में विभिन्न ग्रह एवं पूर्णिमा का चंद्रमा एक आकाशीय घड़ी के रूप में कार्य करते हैं, जिनसे दिन, महीने, साल का अनुमान लगाया जाता रहा है। चूंकि, गुरुवार को पूर्णिमा का चंद्रमा विशाखा नक्षत्र में है, तो इस महीने का नाम वैशाख था तथा इस पूर्णिमा को वैशाखी पूर्णिमा नाम दिया गया है। इस प्रकार चंद्रमा भी हर माह अपना नाम बदलता है। उन्होंने बताया कि इसके बाद अगला फ्लावर मून 12 मई, 2025 को होगा।

MadhyaBharat 22 May 2024

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2024 MadhyaBharat News.