Since: 23-09-2009

  Latest News :
बांग्लादेशः कर्फ्यू के बावजूद थम नहीं रही हिंसा.   केंद्र में नहीं टिकेगी एनडीए सरकार - अखिलेश यादव.   सर्वदलीय बैठक में उठी मांग विपक्ष का हो लोकसभा उपाध्यक्ष.   अरविंद केजरीवाल की सेहत से किया जा रहा खिलवाड़ : संजय सिंह.   हिंसा ग्रस्त बांग्लादेश से वापस लौट रहे छात्रों से रास्ते में हो रही है वसूली.   तमिलनाडु के फिश प्रोसेसिंग प्लांट में अमोनिया गैस का रिसाव.   जीतू पटवारी के समक्ष आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने ली कांग्रेस की सदस्यता.   जीतू पटवारी के समक्ष आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने ली कांग्रेस की सदस्यता.   लिफ्टिंग के दौरान वायर टूटने से नीचे गिरा मालगाड़ी का डिब्‍बा.   पंडित धीरेन्द्र शास्त्री की नसीहत.   अवैध कॉलोनी बनाने वालों पर शिकंजा .   केले से भरा ट्रक पुलिया से नीचे गिरा.   उप मुख्यमंत्री ने गुरूपूर्णिमा पर गजराज बांध में लगाया पीपल का पौधा.   तालाब में नहाने गए बच्चे की डूबने से मौत.   अनियंत्रित कार नाले में गिर कर डूबने से डाॅक्टर की माैत.   मुख्यमंत्री विष्णु देव साय गुरू पूर्णिमा महोत्सव में शामिल हुए.   मुख्यमंत्री साय ने मलेरिया से निपटने हरसंभव उपाय करने दिए निर्देश.   भाजपा राज में स्वास्थ्य सुविधाएं लचर और कानून व्यवस्था बदहाल : दीपक बैज.  
दबंगों ने गांव के 10 परिवारों का किया हुक्का पानी बंद
kondagaon, bullies stopped , hookah water

कोण्डागांव। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित कोंडागांव जिला से एक बड़ी खबर सामने आ रही है जहां कुछ दबंगों द्वारा एक ही समाज के 10 परिवार के 55 लोगों का गांव में हुक्का पानी बंद कर रखा है, हैरान करने वाली बात यह भी है कि दबंगों ने उन्हें शासकीय योजनाओं का लाभ लेने भी नहीं दे रहे हैं।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक यह मामला कोण्डागांव जिला के उपतहसील धनोरा के ग्राम सवाला का है, जहां तकरीबन तीन वर्ष पहले गांव के ही कुछ दबंगों के द्वारा पीड़ित ग्रामीणों को भरी पंचायत के बीच में यह फरमान सुनाया था इसके बाद से ये लोग गांव में आश्रितों की तरह रह रहे हैं। जबकि इनकी पूरी पीढ़ी इसी गांव में वर्षों से निवास करती आ रही है। यहां तक कि, अब तो इनकी जमीन पर भी कब्जा होने लगा है, जिससे परेशान होकर अब अपनी समस्या कलेक्टर को बताने पहुंचे हैं। पीड़ित ग्रामीण घासीराम ने मंगलवार को बताया कि, उनके परिवार के द्वारा गांव में जिस जमीन पर खेती बाड़ी वर्षों से किया जा रहा है उसे अधिकारियों ने शासकीय जमीन घोषित कर दिया जो हमारे जीवन का सहारा था। अपनी इस समस्या को कलेक्टर से अवगत कराते हुए हमारी जमीन हमें वापस कराने की मांग करेंगे और जब तक मांग पूरी नहीं होगी तब तक हम अपने पूरे परिवार के साथ कलेक्टर परिसर में ही बैठे रहेंगे। हम लोग इसके लिए पूरी तरह से सजग होकर आ गए हैं।

MadhyaBharat 18 April 2023

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2024 MadhyaBharat News.