Since: 23-09-2009

  Latest News :
विकसित भारत के लिए विकसित तमिलनाडु का दृष्टिकोण भाजपा का संकल्पः मोदी.   इस साल भारत में \'सामान्य से अधिक\' मानसून रहने की संभावना.   समाजवादी पार्टी का मुसलमानों से कोई सरोकार नहीं : मायावती.   80 बनेगा आधार, एनडीए करेगा 400 पार : योगी आदित्यनाथ.   केजरीवाल की गिरफ्तारी को चुनौती वाली याचिका पर ईडी को ‘सुप्रीम’ नोटिस.   बाबा साहब के सपनों को साकार करने वाली सरकार चुनें : मायावती.   मैडम सोनिया- राहुल गांधी ने मैदान छोड़ दिया : शिवराज.   खजुराहो में इंडिया गठबंधन ने फारवर्ड ब्लाक के प्रत्याशी आरबी प्रजापति को दिया समर्थन.   इस बार का चुनाव रामद्रोहियों और राम के पक्षधरों का चुनाव है: मुख्यमंत्री डॉ. यादव.   जीतू ने कसा तंज भाजपा ने चंदे को धंधा बनाया.   भाजपा प्रत्याशी की शिकायत पर कमलनाथ के पीए पर केस दर्ज.   प्रदेश में सबसे ज्यादा अपराध आदिवासी वर्ग पर हो रहे हैं: जीतू पटवारी.   छत्तीसगढ़ के शराब घोटाले मामले में ईडी फिर एक्शन की तैयारी में.   मवेशियों का सड़क में डेरा बढ़ी दुर्घटना की आशंका.   राज्यपाल हरिचंदन उड़िया नव वर्ष उत्सव में शामिल हुए.   एक लाख के इनामी नक्सली के साथ सात नक्सली गिरफ्तार.   सड़क दुर्घटना में दो सगे भाइयों समेत तीन युवकों की मौत.   मैनपाट में घर में लगी आग की चपेट में आकर तीन बच्चे जिंदा जले.  
खरगोन में पुल की रेलिंग तोड़कर नदी में गिरी बस 22 की मौत
khargon, Breaking railing , bus fell river

खरगोन। मध्य प्रदेश के खरगोन जिले में मंगलवार सुबह एक यात्री बस बोराड़ नदी के पुल की रेलिंग तोड़कर 50 फीट नीचे नदी में जा गिरी। इस हादसे में बस सवार 22 यात्रियों की मौत हो गई। मृतकों में तीन बच्चे, नौ महिलाएं और 10 पुरुष शामिल हैं। अन्य 30 यात्री घायल हुए हैं, जिन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इनमें सात यात्री गंभीर रूप से घायल हुए हैं, जिन्हें प्राथमिक उपचार के बाद इंदौर रैफर किया गया है। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए गए हैं।

 

जानकारी के अनुसार खरगोन जिले के ग्राम टांडा बरुड़ के पास श्रीखंडी गांव से इंदौर की जा रही मां शारदा ट्रेवल्स की बस में 50 से 60 लोग सवार थे। बस मंगलवार सुबह करीब 8.30 बजे डोंगरगांव व दंसगा के बीच बोराड़ नदी के पुल से नीचे गिर गई। बताया जा रहा है कि बस पुल की रांग साइड की रेलिंग तोड़ते हुए करीब 50 फीट नीचे जा गिरी। हादसे में 22 लोगों की मौत होने की पुष्टि हो चुकी है, जबकि 30 से ज्यादा लोग घायल बताए जा रहे हैं। घायलों को डोंगरगांव प्राथमिक उपचार के बाद खरगोन जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मृतकों में तीन बच्चे और छह महिलाएं और अन्य पुरुष शामिल हैं।

हादसे के बाद घटनास्थल पर लोगों को भीड़ जमा हो गई। लोगों ने बस के कांच तोड़कर घायलों को बाहर निकाला। सूचना मिलते ही कलेक्टर शिवराज सिंह वर्मा, आईजी, एसपी, एसडीओपी और प्रतिनिधि मौके पर पहुंच गए। कलेक्टर शिवराज सिंह वर्मा ने बताया कि 22 लोगों की मौत हुई है। आईजी राकेश गुप्ता ने बताया कि बस खरगोन के बेजापुर से इंदौर की ओर जा रही थी। रफ्तार तेज होने के कारण अनियंत्रित होकर रेलिंग तोड़ते हुए पुल से नीचे जा गिरी। नदी सूखी होने के कारण अधिकतर यात्रियों को चोट लगी है। इनमें से 15 यात्रियों की मौके पर ही मौत हो गई थी।

विधायक रवि जोशी से बातचीत में ग्रामीणों ने कहा कि यहां से रोजाना बसें ओवरलोड होकर तेज रफ्तार में गुजरती हैं, ग्रामीणों के रोकने-टोकने पर बस वाले विवाद करने पर उतारू हो जाते हैं। ग्रामीणों ने कहा कि बस वाले टाइम कवर करने के चक्कर में यात्रियों की जान जोखिम में डालते हैं। आरटीओ का इस ओर ध्यान नहीं है। ग्रामीणों ने बताया कि रोड तो अच्छा है, लेकिन घुमावदार है और पुल, पुलिया भी घुमावदार और अंधे मोड़ों के पास है।

 

राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने बस हादसे पर जताया दुख

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने ट्वीट कर बस हादसे पर दुख जताया है। उन्होंने लिखा कि खरगोन, मध्यप्रदेश में हुए बस हादसे में कई लोगों के हताहत होने की खबर से मुझे अत्यंत दुख हुआ है। इस दुर्घटना में अपने प्रियजनों को खोने वाले परिवारों के प्रति मैं गहन शोक-संवेदनाएं व्यक्त करती हूं और घायल हुए लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करती हूं। वहीं, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट कर लिखा कि खरगोन में हुआ सड़क हादसा अत्यंत दुखद है। इसमें जिन लोगों ने अपने प्रियजनों को खोया है, उनके प्रति मेरी शोक-संवेदनाएं। इसके साथ ही मैं सभी घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं। राज्य सरकार की देखरेख में स्थानीय प्रशासन मौके पर हरसंभव मदद में जुटा है।

मृतकों के परिजनों को 6 लाख की मदद का ऐलान

मध्य प्रदेश सरकार खरगोन बस हादसे में मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देगी। गंभीर घायलों को 50 हजार और अन्य घायलों को 25 हजार रुपये की मदद दी जाएगी। सभी घायलों का इलाज सरकार करवाएगी। सरकार ने बस हादसे की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं। वहीं, प्रधानमंत्री राहत कोष से मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख और घायलों को 50-50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी।

खरगोन हादसे पर परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत का कहना है कि शुरुआती जांच में सामने आया है कि संकरा पुल होने की वजह से हादसा हुआ। बस की स्पीड तेज नहीं थी। जांच में बस का फिटनेस सही पाया गया है। बस में क्षमता से ज्यादा यात्री नहीं थे। हादसे की वजह ड्राइवर को नींद लगना हो सकती है। जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा, कार्रवाई की जाएगी।

मृतकों के नाम

दुर्घटना में मारे गए लोगों की पहचान विवेक (23) पुत्र प्रेमचंद पाटीदार निवासी गंधावड थाना ऊन खरगोन, सोम (11 माह) पुत्र दिनेश निवासी घेगांवा थाना ऊन खरगोन, दुर्गेश (20) पुत्र साजन सिंह निवासी मोटापुरा बाना ऊन खरगोन, मुस्कान (14) पुत्री कालू निवासी देवगुराडिया इंदौर, संजय (30) पुत्र पंडरी निवासी सुरपान बनाउन, देवकी पत्नी रमेशचंद्र वर्मा निवासी धरमपुरी धार, धनालाल गुर्जर निवासी लोनारा थाना मेनगांव खरगोन, संतोष (45) पुत्र गंगाधर बारचे निवासी छालपा मेनगांव खरगोन, सविता बाई पत्नी भगवान वर्मा, मद्राणीया बाना ठीकरी बड़वानी, रामकुंवर (60) पत्नी दुलीचंद मानकर निवासी लोनारा थाना ऊन खरगोन, प्रियांशु (1 वर्ष) पुत्र लखन निवासी अतरसम्भा थाना बेड़िया खरगोन, आंचल (18) पुत्री सुंदरलाल वास्कले निवासी घटवा थाना ठीकरी बड़वानी, लक्ष्मीबाई (32) पत्नी महेश वास्कले निवासी घटवा थाना ठीकरी बड़वानी, मांगती बाई (75) पत्नी मंशाराम वास्कले निवासी घटवा थाना ठीकरी बड़वानी, सुखदेव पाटीदार निवासी पिपरी थाना ऊन खरगोन, मलु बाई पत्नी भगवान निवासी लोनारा थाना ऊन खरगोन, कान्हा पुत्र संतोष पाटीदार निवासी पिपरी थाना ऊन खरगोन, कल्लू बाई पत्नी जोगीलाल पाटीदार निवासी पिपरी थाना ऊन खरगोन, पिंकी पत्नी कालू वास्कले निवासी जरवाहा थाना ठीकरी बड़वानी, सुमित पुत्र कमल निवासी बोरखड़ थाना मनावर धार और अर्जुन निवासी जोटपुर थाना मनावर के रूप में हुई है।

MadhyaBharat 9 May 2023

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2024 MadhyaBharat News.